educratsweb logo


 कुंभकर्ण से जुड़ी ये बातें नहीं जानते होंगे आप

रावण का छोटा भाई कुंभकर्ण रामायण का प्रमुख पात्र माना जाता था। बचपन से ही लंबे कान होने के कारण इनका नाम कुंभकर्ण पड़ा। इसकी माता कैकसी राक्षस कुल से थी और पिता विश्वश्रवा ब्राह्मण कुल से।

रावण का छोटा भाई कुंभकर्ण रामायण का प्रमुख पात्र माना जाता था। बचपन से ही लंबे कान होने के कारण इनका नाम कुंभकर्ण पड़ा। इसकी माता कैकसी राक्षस कुल से थी और पिता विश्वश्रवा ब्राह्मण कुल से। कुंभकर्ण की मां को सत्ता का लोभ था और पिता ज्ञानी और शांत स्वभाव के थे। इसलिए कुंभकर्ण में माता और पिता दोनों के गुण थे। अधिक शक्तिशाली होने के बावजूद भी उसने कभी अपने भाई का विरोध नहीं किया था। कुंभकर्ण 6 महीने सोता था और एक बार में उठकर इतना खाना खा लेता था जितने में हजारों लोग संतुष्ट हो जाए। ये बात तो लगभग सभी लोग जानते ही हैं लेकिन आज हम आपको कुंभकर्ण से जुड़ी कुछ और एेसी बातें बताने जा रहें हैं जिसके बारे में आपने  शायद कभी सुना भी नहीं होगा।
PunjabKesari
किसने दिया कुंभकर्ण को सोने का वरदान-
जब रावण,विभीषण और कुंभकर्ण तीनों मिलकर ब्रह्मा जी की तपस्या कर रहे थे। तो ब्रह्मा जी उनकी कठोर तपस्या से बहुत प्रसन्न हो गए थे और प्रसन्न होकर तीनों को दर्शन दिए और उन्हें वरदान मांगने को कहा। ब्रह्मा जी रावण और विभीषण को उनकी इच्छा अनुसार वरदान देकर कुंभकर्ण के पास पहुंचे। लेकिन कुंभकर्ण की इच्छा सुनकर ब्रह्म जी बहुत परेशान हो गए थे और सोचने लगे कि अगर वो इतना भोजन खाता रहा तो सृष्टि खत्म हो जाएगी। इसी कारण से ब्रह्मदेव ने कुंभकर्ण के वरदान मांगने से पहले ही देवी सरस्वती के द्वारा कुंभकर्ण की बुद्धि को हर लिया। जिससे कि कुंभकर्ण जो चाहता था वह न मांग सका और उसने छह माह तक सोते रहने का वरदान ब्रह्मदेव से मांग लिया था।

PunjabKesari
रावण से भी ज्यादा बलवान था कुंभकर्ण-
कुंभकर्ण बहुत बलवान था और उससे टक्कर लेने वाला कोई भी योद्धा पूरे जगत में नहीं था। ब्रह्मा जी के वरदान के कारण वह मदिरा पीकर 6 महीने तक सोता रहता था। लेकिन जब कुंभकर्ण जागता था तो तीनों लोकों में हाहाकार मच जाता था। उसका शरीर भी बहुत ही विशाल था।


माता सीता के हरण से कुंभकर्ण को हुआ था दुख-
माता सीता के हरण के बाद जब श्री राम रावण के साथ युद्ध करने लंका पहुंचे। दोनों सेनाओं के बीच घमासान युद्ध होने लगा था। तब कुंभकर्ण सो रहा था। श्रीराम की सेना के हाथों रावण के कई योद्धा मारे गए तो रावण की सेना कुंभकर्ण को उठाने की कोशिश कर रही थी। कई प्रयत्नों के बाद जब कुंभकर्ण अपनी नींद से जागा,तो उसे पता चला कि उसके बड़े भाई रावण ने सीता का हरण कर लिया है। जब उसे यह बात पता चली तो कुंभकर्ण को बहुत ही दुख हुआ और उसने रावण को बहुत समझाया यहां तक कि सीता को कश्रीराम को लौटाकर उनसे माफी मांगने को कहा लेकिन रावण न माना।

PunjabKesari
देवर्षि नारद से मिला था कुंभकर्ण को तत्वज्ञान-
जैसे कि हमने आपके उपरोक्त में बताया है कि कुंभकर्ण  6 महीने तक सोता था। उसका पूरा एक दिन भोजन करने में और सभी का हाल-चाल जानने में ही चला जाता था। रावण जो भी पाप करता था उसमें कुंभकर्ण का कोई सहयोग नहीं होता था। इसी कारण कुंभकर्ण को पाप-पुण्य और धर्म-अधर्म से कोई लेना-देना नहीं था। इसी वजह से स्वयं देवर्षि नारद ने जाकर कुंभकर्ण को तत्वज्ञान का महान उपदेश दिया था।


रावण के मान-सम्मान के लिए किया था श्रीराम से युद्ध-
कुंभकरण के लाख समझाने पर भी रावण न माना और प्रभु श्री राम से युद्ध करने के लिए उन्हें ललकारने लगा। ये जानते हुए भी कि श्रीराम भगवान विष्णु के अवतार हैं और उनसे जीतना असंभव है लेकिन अपने भाई का मान रखते हुए कुंभकरण श्री राम से युद्ध करने के लिए तैयार हो गया। रामचरित्र मानस के अनुसार कुंभकरण श्री राम के सामने युद्ध करने गया तो था लेकिन उसके मन में श्री राम के प्रति अनन्य भक्ति थी। भगवान के बाण लगते हीं कुंभकरण में अपना शरीर त्याग दिया और उसकी मृत्यु हो गई। ऐसे उसका जीवन सफल हो गया।
PunjabKesari

Content Source https://www.punjabkesari.in/dharm/news/interesting-facts-related-to-kumbhakarna-898359

 कुंभकर्ण से जुड़ी ये बातें नहीं जानते होंगे आप
Contents shared By educratsweb.com

if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

RELATED POST
1. यूरी गगारिन (१२ अप्रैल, १९६१ को अंतरिक्ष में जाने वाले वे प्रथम मानव थे।)
2. कुंभकर्ण से जुड़ी ये बातें नहीं जानते होंगे आप
3. कुंवर सिंह (1777 - 1857) सन 1857 के प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सिपाही और महानायक
4. हिन्दू पंचांग
5. पञ्चाङ्गम्
6. हिजरी या इस्लामी पंचांग
7. मोहनजोदड़ो की खोज करने वाले प्रसिद्ध इतिहासकार राखलदास बनर्जी
8. चन्द्रवाक्य
9. 16 अप्रैल का इतिहास, बम्बई से ठाणे के बीच चली थी पहली छुक छुक गाड़ी
10. चीनी कालदर्शक
11. तात्या टोपे (1814 - 18 अप्रैल 1859) भारत के प्रथम स्वाधीनता संग्राम के एक प्रमुख सेनानायक
12. ग्रेगोरियन कैलेंडर (Gregorian calendar)
13. हिन्दी पत्रकारिता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं … May 30
14. One Nation One Ration Card Apply Online Format – Aadhar-Rashan Card Linking by Central Govt.
15. One Nation One Ration Card Apply Online Format – Aadhar-Rashan Card Linking by Central Govt.
16. भारतीय राष्ट्रीय पंचांग
17. शक सम्वत और विक्रम सम्वत में क्या अंतर हैं?
18. आयुष्मान भारत योजना लिस्ट 2019 | Search Online आयुष्मान भारत योजना लाभार्थी सूची (नाम खोजें) | Ayushman Bharat-Jan Arogya List
19. बिहार किसान सम्मान निधि ऑनलाइन आवेदन | पंजीकरण, रजिस्ट्रेशन फॉर्म 2019, स्टेटस देखें | PM Kisan Bihar
20. एक परिवार एक नौकरी योजना |ऑनलाइन आवेदन | एप्लीकेशन फॉर्म – Ek Parivar Ek Naukri Yojana
21. बिहार महादलित विकास मिशन की योजनाएँ
22. हिन्दी और इंग्लिश में जानिये 81 फलो के नाम Fruits Name in Hindi
We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://www.educratsweb.com/content.php?id=1805 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb