हनुमान चालीसा | HANUMAN CHALISA IN HINDI EDUCRATSWEB

  • Home
  • Jobs
  • Q&A
  • Register
  • Login
  • Search Business Directory
  • List Your Business for Free - Join Us & bring more customers

  • हनुमान जी सम्पूर्ण भारत के सर्वाधिक लोकप्रिय देव हैं। शायद ही कोई गांव हो जहाँ हनुमान जी का मंदिर न हो। उनकी युवाओं में महती लोकप्रियता उनके बल, बुद्धि और विद्या के निधान होने से है और वे इन सब के दाता हैं। जो युवाओं के लिए सर्वाधिक आवश्यक है, इन सभी के पाने का सबसे सहज उपाय तुलसीदास जी के द्वारा रचित हनुमान चालीसा का पाठ है। हनुमान चालीसा की एक एक चौपाई मन्त्र रूप है जो विभिन्न स्थितिओं में हमें लाभ पहुंचाती है। हनुमान जी प्राण के देव माने जाते हैं जिनकी उपासना से प्राणशक्ति बढ़ती है। बढ़ी हुई प्राणशक्ति हमारे भीतर से भय, अविश्वास, संदेह दूर कर कुछ भी कर सकने का आत्मबल देती है। इसलिए सभी को हनुमान चालीसा का गान करना चाहिए।

    श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि ।
    बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि ।।

    गुरुदेव के श्री चरण कमलों की पराग रुपी रज के द्वारा अपने मन रुपी दर्पण को स्वच्छ कर (विकार रहित कर) रघुकुल शिरोमणि श्री राम जी के निर्मल यश का वर्णन करता हूँ जो हमें चारों पुरुषार्थ का फल देने वाला है।

    बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार ।
    बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार ।।

    स्वयं को बुद्धि और बल में कमजोर जानकर मैं पवनसुत हनुमान जी का स्मरण करता हूँ जो मुझे बल, बुद्धि और सभी विद्याएं देकर हमारे सभी क्लेश और विकार दूर करते हैं।

    चौपाई
    जय हनुमान ज्ञान गुन सागर । जय कपीस तिहुं लोक उजागर ।।
    रामदूत अतुलित बलधामा । अंजनि-पुत्र पवनसुतनामा ।।

    श्री हनुमान जी आपकी जय हो आप ज्ञान के भंडार और सभी गुणों के सागर हैं, वानरों में श्रेष्ट! आपकी ख्याति तीनो लोकों में व्याप्त है। आप राम जी के दूत हैं, अप्रमेय बलवान हैं, माता अंजनी के पुत्र हैं और पवन पुत्र नाम से भी प्रसिद्द हैं।

    महाबीर बिक्रम बजरंगी । कुमति निवार सुमति के संगी ।।
    कंचन बरन बिराज सुबेसा । कानन कुंडल कुंचित केसा ।।

    हे बजरंग बली! आप महावीर हैं और आपका पराक्रम अद्भुत है आप हमारी दुष्ट बुद्धि को दूरकर देते हैं और अच्छी बुद्धि (सुमति) वालों के साथ सदा रहते हैं। आपकी त्वचा सुनहरी है और आपने सुन्दर वस्त्र धारण किये हैं, आपके कानों में कुण्डल हैं और आपके बाल घुंघराले हैं।

    हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै । कांधे मूंज जनेऊ साजै ।।
    संकर सुवन केसरीनंदन । तेज प्रताप महा जग बन्दन ।।

    आपके हाथों में बज्र(गदा) और (धर्म की) ध्वजा है और दाहिने कंधे पर मूँज का जनेऊ शोभित है। आप शंकर जी के अवतार और वानर-राज केसरी के पुत्र हैं और आपके प्रताप की कोई सीमा नहीं है आपकी वंदना सम्पूर्ण जगत करता है।

    विद्यावान गुनी अति चातुर । राम काज करिबे को आतुर ।।
    प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया । राम लखन सीता मन बसिया ।।

    आप सभी विद्याओं के आधार हो, गुणवान हो और सभी कार्य बड़ी चतुराई से करने वाले हो, भगवान् राम के काम को करने के लिए आप सदैव तत्पर रहते हो। आप भगवान की लीला कथाओं का प्रेम से सुनते हैं और आपके ह्रदय में राम, लक्ष्मण और सीता जी सदैव रहते हैं।

    सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा । बिकट रूप धरि लंक जरावा ।।
    भीम रूप धरि असुर संहारे । रामचंद्र के काज संवारे ।।

    आप सीता जी के सम्मुख छोटे रूप में प्रकट हुए और आपने भयानक रूप लेकर लंका को जला दिया। भयंकर बलशाली रूप लेकर आपने असुरों का संहार किया और इस प्रकार भगवान राम के कार्य संपन्न किये।

    लाय सजीवन लखन जियाये । श्रीरघुबीर हरषि उर लाये ।।
    रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई । तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई ।।

    आपने संजीवनी बूटी लाकर लक्ष्मण जी की जान बचाई जिस पर भगवान श्री राम ने प्रसन्न होकर आपको ह्रदय से लगा लिया। भगवान श्री राम ने आपको भरत के समान प्रिय भाई बताकर आपकी बहुत प्रशंसा की।

    सहस बदन तुम्हरो जस गावैं । अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं ।।
    सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा । नारद सारद सहित अहीसा ।।

    हजारों मुख वाले शेषनाग तुम्हारे यश का गान करेंगे ऐसा कहकर भगवान श्री राम ने आपको ह्रदय से लगाया। सनक, सनन्दन, सनातन, और सनत्कुमार आदि ऋषि, मुनि, ब्रह्मा जी, नारद जी, माँ शारदा और शेषनाग आपका गुणगान करते हैं।

    जम कुबेर दिगपाल जहां ते । कबि कोबिद कहि सके कहां ते ।।
    तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा । राम मिलाय राज पद दीन्हा ।।

    यम, कुबेर, सभी दिग्पाल, कवि, पंडित, विद्वान ये कोई भी आपके यश का गान पूरी तरह नहीं कर सकते हैं। आपने सुग्रीव पर उपकार किया उनको श्री राम से मिलाया और उन्हें राज्य दिलाया।

    तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना । लंकेस्वर भए सब जग जाना ।।
    जुग सहस्र जोजन पर भानू । लील्यो ताहि मधुर फल जानू ।।

    इसी प्रकार आपके दिए हुए मन्त्र/ उपदेश का पालन कर बिभीषन भी लंका के राजा हो गए। सूर्य के युग के हजार योजन पर स्थित होने पर भी आप बालपन में ही उसे एक मीठा लाल फल समझ कर निगल गये।

    प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं । जलधि लांघि गये अचरज नाहीं ।।
    दुर्गम काज जगत के जेते । सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते ।।

    आप प्रभु श्री राम के द्वारा दी हुई अंगूठी को मुँह में रखकर समुद्र को पार कर गए इसमें कोई आश्चर्य नहीं है। सम्पूर्ण जगत के लिए जो दुस्कर कार्य हैं वे आपकी कृपा से सहजता से हो जाने वाले हैं।

    राम दुआरे तुम रखवारे । होत न आज्ञा बिनु पैसारे ।।
    सब सुख लहै तुम्हारी सरना । तुम रक्षक काहू को डर ना ।।

    श्री राम जी के द्वार के आप रखवाले हैं आपकी आज्ञा के बिना कोई आगे नहीं जा सकता अर्थात प्रभु श्री राम के दर्शन आपकी आज्ञा/ आशीष से ही सुलभ हैं। आपकी शरण में आते ही सभी सुख प्राप्त होजाते हैं जब आप जैसा रक्षक साथ हो तो हमें किसी से भी डरने की कोई आवश्यकता नहीं है।

    आपन तेज सम्हारो आपै । तीनों लोक हांक तें कांपै ।।
    भूत पिसाच निकट नहिं आवै । महाबीर जब नाम सुनावै ।।

    आपकी शक्ति का पारावार आपके ही पास है आपकी एक हुंकार से तीनों लोक काँप उठाते हैं। हे महावीर! आपके नाम स्मरण मात्र से भूत पिसाच पास नहीं आते हैं।

    नासै रोग हरै सब पीरा । जपत निरंतर हनुमत बीरा ।।
    संकट तें हनुमान छुड़ावै । मन क्रम बचन ध्यान जो लावै ।।

    हे हनुमान जी आपके निरंतर जप की शक्ति से सभी प्रकार के रोग नष्ट हो जाते हैं और सभी प्रकार की पीड़ा दूर हो जाती है। जो भी आपका मन वचन और कर्म से ध्यान करता है उसे आप सभी प्रकार के संकट से मुक्त कराते हैं।

    सब पर राम तपस्वी राजा । तिन के काज सकल तुम साजा ।।
    और मनोरथ जो कोई लावै । सोइ अमित जीवन फल पावै ।।

    सभी राजाओं में सबसे बड़े तपस्वी श्री राम हैं और आपने ही उन प्रभु श्री राम के सभी कार्य संपन्न किये। जब आपके पास कोई इच्छा लेकर भक्त आता है वो जीवन भर न मिटने वाला फल प्राप्त करता है।

    चारों जुग परताप तुम्हारा । है परसिद्ध जगत उजियारा ।।
    साधु-संत के तुम रखवारे । असुर निकंदन राम दुलारे ।।

    आपके प्रताप का यश चारों युगो में व्याप्त है और सम्पूर्ण जगत में आपकी ख्याति का प्रकाश व्याप्त है। आप सभी साधु और संतों के रक्षक हो असुरों का संहार करने वाले और श्री राम के प्रिय हो।

    अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता । अस बर दीन जानकी माता ।।
    राम रसायन तुम्हरे पासा । सदा रहो रघुपति के दासा ।।

    आपको माता जानकी ने ये वरदान दिया है कि आप अष्ट सिद्धि और नव निधि का वरदान दे सकते हैं। आप के पास राम जी के प्रेम का भंडार है इसलिए आप सदा श्री राम जी के दास बने रहते हैं।

    तुम्हरे भजन राम को पावै । जनम-जनम के दुख बिसरावै ।।
    अन्तकाल रघुबर पुर जाई । जहां जन्म हरि-भक्त कहाई ।।

    आपके भजन से राम जी कि प्राप्ति होती है और जन्म जन्मांतर के दुखों कि विस्मृति हो जाती है। इस जन्म के बाद रघुनाथ जी के धाम में जायेंगे और अगने जन्म में भक्ति का प्रसाद पाकर राम जी के भक्त कहलायेंगे।

    और देवता चित्त न धरई । हनुमत सेइ सर्ब सुख करई ।।
    संकट कटै मिटै सब पीरा । जो सुमिरै हनुमत बलबीरा ।।

    किसी और देवता की सेवा की कोई आवश्यकता नहीं हनुमान जी की सेवा सभी सुख देने वाली है। महाबली हनुमान जी का स्मरण करने वाले के सभी संकट समाप्त हो जाते हैं, और उसकी सभी पीड़ा दूर हो जाती है।

    जै जै जै हनुमान गोसाईं । कृपा करहु गुरुदेव की नाईं ।।
    जो सत बार पाठ कर कोई । छूटहि बंदि महा सुख होई ।।

    हे हनुमान जी आपकी जय हो, आप मुझ पर गुरुदेव के समानकृपा बनाये रखे। जो सौ बार इस चालीसा का पाठ करलेता है वो सभी बंधनो से मुक्त हो जाता है और महान सुख को प्राप्त करता है।

    जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा । होय सिद्धि साखी गौरीसा ।।
    तुलसीदास सदा हरि चेरा । कीजै नाथ हृदय मंह डेरा ।।

    जो इस हनुमान चालीसा का पाठ करता है उसके हर काम सिद्ध होते हैं इस बात के साक्षी स्वयं शंकर भगवान् हैं। हे हनुमान जी, (मैं) तुलसीदास सदा प्रभु श्री राम का दास रहूँ और आप मेरे ह्रदय में निवास करें।

    दोहा
    पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप ।
    राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप ।।

    हे पवन पुत्र हनुमान जी आप सभी संकटो को दूर करने वाले हैं, आप मंगल की मूर्ति है। आप प्रभु श्री राम, माता जानकी और लक्ष्मण जी के साथ मेरे ह्रदय में निवास कीजिये।

    हनुमान चालीसा | Hanuman Chalisa in Hindi
    if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
    For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com
    We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! email us at educratsweb@gmail.com and submit your valuable feedback.
    Save this page as PDF | Recommend to your Friends
    April 10 - Historical Events - On This Day
    World Homeopathy Day - 10 April  IMAGES, GIF, ANIMATED GIF, WALLPAPER, STICKER FOR WHATSAPP & FACEBOOK
    World Homeopathy Day - 10 April
    #10April

    Recent Posts

    1. Free Resource to learn SEO in hindi
    अगर आप ब्लॉग लिखते है या कोई website बनाने जा रहे है तो आपको अपनी रिसर्च के दौरान SEO जैसे शब्दों का ज़िक्र ज़रूर मिला होगा और आपको इसके बारे में सब कुछ जानने की जिज्ञासा भी होगी की  SEO k
    2. Funny Status in Hindi for Whatsapp , facebook , Instagram
    Funny Status in Hindi for Whatsapp , facebook , Instagram
    3. Indian NGO, Aid, UN jobs on devnetjobsindia - Educratsweb
    Indian NGO, Aid, UN jobs on devnetjobsindia - Educratsweb PREMIUM JOBS Chief of Programmes Shakti Sustainable Energy Foundation Location: Delhi Apply by: 22 Dec 2020 http://www.devnetjobsindia.org/jobdescription.aspx?job_id=154756 Director / Associate Director – Clean Power Programme Shakti Sustainable Energy Foundation Location: Delhi Apply b
    4. गिलोय के औषधीय गुण, फायदे और नुकसान : Giloy Ayurvedic Uses, Benefits And Side Effects In Hindi
    गिलोय (Tinospora Cordifolia) एक प्रकार की बेल है जो आमतौर पर जगंलों-झाड़ियों में पाई जाती है। प्राचीन काल से ही गिलोय को एक आयुर्वेदिक औषधि के रुप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। गिलोय के फायदों (
    5. PF Advance Form 31 Rules In Hindi – Online PF Kaise Nikale
      बहुत से EPF मेंबर को शायद यह पता ना हो कि जरूरत पड़ने पर आप अपने जमा पीएफ में से एडवांस के तौर पर कुछ पैसे निकाल सकते हैं और वह भी नौकरी जा
    6. Union Minister of Education virtually inaugurates the newly constructed building of the Hyderabad regional centre of the Central Institute of Hindi, Agra
    Union Minister of Education Shri Ramesh Pokhriyal 'Nishank' virtually inaugurated the newly constructed building of the Hyderabad regional centre of the Central Institute of Hindi, Agra. Shri C.H. Malla Reddy, Minister of Labour, Employment, Women and Child Development, Government of Telangana was the Chairman of the program. Shri Anil Sharma 'Joshi',  Vice President, Union Hindi Shikshan Mandal, Agra, Shri G. Sainana, MLA, Secunderabad Cantonment, Shri N. Ramchandra R
    7. Tourist Attractions in Hanumangarh, Rajasthan
    Tourist Attractions in Hanumangarh, Rajasthan Tourist Attractions in Hanumangarh District Due to its rich history, the district is home to some of the major tourist attractions in Rajasthan. The places that one can visit include: Bhatner Fort, Kalibangan( Pilibanga), Bhadrakali Mata Temple, Amarpura Thedi Village Pallu, Brahmani Temple, Gurudwara Shree, Kabootar Sahib, Nohar Bhatner Fort
    8. Films Division to stream films on Rajbhasha on Hindi Diwas -2020
    Films Division to stream films on Rajbhasha on Hindi Diwas -2020 Streaming of well-researched documentaries leading to the historic occasion of adoption of Hindi as an official language of the Union of India on 14th September, 1949, mock enactment of the meeting of the Constituent Assembly by children and  travelogues showing growth and popularity of Hindi in different States will mark the celebration of  ‘Hindi Diwas’  by Films Division on 14th Sep
    9. Films Division to stream films on Rajbhasha on Hindi Diwas -2020
    Films Division to stream films on Rajbhasha on Hindi Diwas -2020 Streaming of well-researched documentaries leading to the historic occasion of adoption of Hindi as an official language of the Union of India on 14th September, 1949, mock enactment of the meeting of the Constituent Assembly by children and  travelogues showing growth and popularity of Hindi in different States will mark the celebration of  ‘Hindi Diwas’  by Films Division on 14th Sep
    10. Shri Vishnu Aarti in Hindi - श्री विष्णु आरती
    Shri Vishnu Aarti in Hindi - श्री विष्णु आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3823-contents.jpgॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट,
    Flipkart Deals of the Day  IMAGES, GIF, ANIMATED GIF, WALLPAPER, STICKER FOR WHATSAPP & FACEBOOK Flipkart Deals of the Day

    Jobs & Career Engineering Faculty & Teaching Defense & Police UPSC Scholorship Railway IT & Computer SSC Clerk & Steno UGC NET
    Contents News Education General Awareness Government Schemes Admit Card Study Material Exam Result Scholorship DATA Syllabus Contact us
    Explore more Archives Web Archive Register / Login Rss feed Posts Free Online Practice Set Useful Links / Sitemap Photo / Video Search Pincode Best Deal Greetings Recent Jobs Guest Contributor educratsweb Latest Jobs Notification sarkariniyukti.blogspot.com Bharatpages - BUSINESS DIRECTORY IN INDIA - FREE ONLINE BUSINESS LISTING
    Our Blog Educratsweb Blog Bhakti Sangam chitragupta ji maharaj shri shirdi sai baba sansthan


    Guest Post | Submit   Job information   Contents   Link   Youtube Video   Photo   Practice Set   Affiliated Link   Register with us Register login Login
    Bengali English Gujarati Hindi Kannada Punjabi Tamil Telugu Urdu or Any other Language Google's cache Page
    educratsweb logo
    educratsweb provide the educational contents, Job, Online Practice set for students.
    if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
    For Advertisment email us at educratsweb@gmail.com
    #Search | http://www.educratsweb.com/content.php?id=776