Danik Bhaskar Health News #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Danik Bhaskar Health News

https://www.bhaskar.com/rss-feed/1532/ 👁 9393

मारुति स्विफ्ट, डिजायर या बलेनो नहीं... बल्कि ये बनी इंडिया की सबसे ज्यादा बिकने वाली कार; कीमत 2.63 लाख रुपए और माइलेज 33km से ज्यादा


ऑटो डेस्क। फरवरी 2019 में एक बार फिर मारुति सुजुकी की कारें बेस्ट सेलिंग लिस्ट में टॉप पर रहीं। 'Cumulative Sales Report February 2019' के मुताबिक टॉप-10 की लिस्ट मारुति के 6 मॉडल शामिल हैं। सभी मॉडल पहली 6 पोजिशन पर मारुति की गाड़ियां हैं। इस पर आल्टो पहली पोजिशन पर है। वहीं, स्विफ्ट सेकंड नंबर पर पहुंच गई। रिपोर्ट के मुताबिक फरवरी में आल्टो की कुल 24751 यूनिट सेल हुई हैं।

फरवरी टॉप-10 सेलिंग लिस्ट

1. Maruti Alto 24751 यूनिट सेल
4. Maruti Swift 17944 यूनिट सेल
2. Maruti Baleno 17944 यूनिट सेल
3. Maruti Dzire 15915 यूनिट सेल
9. Maruti WagonR 15661 यूनिट सेल
5. Maruti Brezza 11613 यूनिट सेल
6. Hyundai i20 Elite 11547 यूनिट सेल
8. Hyundai Creta 10206 यूनिट सेल
7. Hyundai i10 Grand 9065 यूनिट सेल
10. Tata Tiago 8286 यूनिट सेल

2 इंजन में आती है आल्टो

मारुति सुजुकी इंडिया की बेस्ट सेलिंग कार कंपनी है। इस कंपनी की कार न सिर्फ मिडिल क्लास फैमिली के बजट में होती हैं, बल्कि मेंटेनेंस के नाम पर कोई पैसे खर्च नहीं करन पड़ते। यही वजह है कि टॉप-10 लिस्ट में मारुति की 7 कार शामिल हैं। मारुति की आल्टो 800cc और 1000cc वाले इंजन में आती है।

कीमत कम, ज्यादा माइलेज

Alto 800 दो मॉडल में आती है। जिसमें एक LXI और दूसरा VXI है। ये दोनों मॉडल पेट्रोल और CNG के साथ भी अलग-अलग आते हैं। इसके STD मॉडल की दिल्ली एक्स-शोरूम प्राइस 2.63 लाख रुपए और LXI CNG की एक्स-शोरूम प्राइस 3.87 लाख है। कंपनी का ऐसा दावा है कि पेट्रोल वेरिएंट का माइलेज 24.70kmpl और LXI CNG का माइलेज 33.44 किलोमीटर है। दिल्ली में CNG की कीमत 41 रुपए प्रति किलो है। इस तरह आल्टो CNG का माइलेज 1.22 रुपए प्रति किलोमीटर हो जाता है। ALTO 800 LXI CNG की एक्स-शोरूम कीमत 3.71 लाख रुपए है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Maruti suzuki alto top selling car in india for february 2019, alto price and specification

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/maruti-suzuki-alto-top-selling-cars-in-india-for-february-2019-6039136.html

अमेरिकी कंपनी ने बनाया एक हाथ से स्मूदी बनाने वाला रोबोट, 2 मिनट में बनाता है ड्रिंक


लाइफस्टाइल डेस्क. कैलिफोर्निया की स्टार्टअप कंपनी ब्लेंडिड ने एक हाथ वाला ऐसा रोबोट बनाया है जो 2 मिनट में स्मूदी बनाता है। यह दर्जनों तरह की स्मूदी बनाने में सक्षम है और कीमत 48 लाख रुपए है। इसका नाम ब्लेंडिड रखा गया है जिसे पिछले साल पेश किया गया था। हाल ही में इसे सेन फ्रांसिस्को यूनिवर्सिटी कैंपस में इस्तेमाल के लिए रखा गया है।

  1. ब्लेंडिड कंपनी के कस्टमर मोबाइल और टेबलेट पर मौजूद एप की मदद से स्मूदी बनाने का ऑर्डर दे सकते हैं। ड्रिंक में कौन सी चीज कम या ज्यादा लेनी है इसकी जानकारी भी कस्टमर रोबोट को दे सकता है। कंपनी का लक्ष्य कस्टमर को कम दामों पर सुविधाएं उपलब्ध कराना है। एक स्मूदी ड्रिंक के लिए 413 रुपए चार्ज किया जाता है।

    ''

  2. अमेरिका सहित कई देशों के कॉलेज कैंपस में रोबोटिक फूड डिलीवर का ट्रेंड तेजी से बढ़ रहा है। स्टार टेक्नोलॉजी और फेडएक्स जैसी टेक कंपनी दुनियाभर में ऑटोमेटेड फूड डिलीवरी के क्षेत्र में बड़ा बदलाव ला रही हैं। अमेरिका में पहले से कैफे-एक्स नाम की ऑटोमेटेड मशीन है जो कई तरह की काॅफी बनाकर सर्व करती है।

  3. हाल ही में अमेरिका की जॉर्ज मेंसन यूनिवर्सिटी कैंपस में 25 फोर-व्हीलकर रोबोट लगाए गए हैं। ये रोबोट कैंपस में 40 हजार छात्रों के लिए खाना वितरित करने का काम करेंगे। ऐसे ही रोबोट जल्द ही नाॅदर्न एरिजोना यूनिवर्सिर्टी में भी लगाए जाएंगे। छात्रों को 15 मिनट के अंदर फूड डिलीवरी की जाएगी। जिसके लिए खाने के अलावा 137 रुपए डिलीवरी फीस भी चुकानी होगी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      California startup Blendid smoothie making ROBOT can blend drinks in 2 minutes

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/california-startup-blendid-smoothie-making-robot-can-blend-drinks-in-2-minutes-01505783.html

टाटा स्काई हो एयरटेल या फिर दूसरी DTH सर्विस, सिर्फ 22.42 रुपए है महीनेभर IPL देखने का खर्च


न्यूज डेस्क। इंडिया की सबसे पड़ी क्रिकेट लीग इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) शुरू हो चुकी है। क्रिकेट के रोमांच से भरपूर इस लीग को देशभर में सभी जगह देखा जाता है। हालांकि, कई लोगों के टीवी पर IPL नहीं आ रही है। ऐसे यूजर्स सिर्फ 44.84 रुपए खर्च करके पूरा टूर्नामेंट देख सकते हैं। बस इसके लिए उन्हें स्टार स्पोर्ट्स का सिंगल पैक लेना होगा।

22.42 रुपए महीना है खर्च

IPL का लाइव टेलिकास्ट स्टार्स स्पोर्ट्स चैनल पर हो रहा है। इस चैनल की मंथली प्राइस 22.42 रुपए है। यानी दो महीने तक चलने वाली इस लीग के लिए आपको सिर्फ 44.84 रुपए खर्च करने होंगे। यानी इतने रुपए में आप पूरा टूर्नामेंट देख सकते हैं। स्टार स्पोर्ट्स के चैनल की प्राइस सभी DTH ऑपरेटर्स के लिए समान है। इस चैनल की प्राइस 19 रुपए है, लेकिन 18% GST के साथ इसकी कीमत 22.42 रुपए महीना हो जाती है।

ऐसे करें रिचार्ज

आपके घर जो भी DTH सर्विस है, उसकी ऑफिशियल वेबसाइट को ओपन करें या फिर उसका ऐप इन्स्टॉल करें। अब लॉइन ऑप्शन में DTH का ID नंबर या फिर रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर डालें। अब सिंगल चैनल सिलेक्शन के ऑप्शन को सिलेक्ट करें। यहां स्पोर्ट्स कैटेगरी में जाकर स्टार स्पोर्ट 1 को सिलेक्ट कर लें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Watch IPL 2019 all match on tv just rs. 19 per month

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/watch-ipl-2019-all-match-on-tv-just-rs-19-6039105.html

मन में ठान लो तो दुनिया की कोई ताकत लक्ष्य पाने से रोक नहीं सकती, 23 साल के अर्शदीप ने महज 6 माह में कम कर लिया 54Kg वजन, वो भी पूरे नेचुरल तरीके से, खुद ने बताया कैसे किया ऐसा


हेल्थ डेस्क। एक बार मन में कुछ करने का ठान लिया जाए तो आपको अपना लक्ष्य पाने से कोई ताकत नहीं रोक सकती। दिल्ली के अर्शदीप वालिया ने कुछ ऐसा ही करके दिखाना है। महज 6 माह में उन्होंने 54Kg वजन किया। अब वे विनस फिटनेस सेंटर के नाम से दिल्ली में खुद का Gym चला रहे हैं। दैनिक भास्कर डॉटकॉम से बातचीत करते हुए उन्होंने खोला वो राज, जिसके जरिए इतनी तेजी से हुआ वजन कम।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Secrets to Successful Weight Loss

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/secrets-to-successful-weight-loss-6039107.html

गांधीजी के हेल्थ को लेकर पहली बार जानकारी आई सामने : इस एक ही बीमारी का तीन बार हुए शिकार, लंदन में रहने के दौरान इस रोग से हो गए थे पीड़ित, सिर्फ इतना रह गया था वजन


हेल्थ डेस्क। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हेल्थ फाइल पहली बार सामने आई है। इसमें गांधी जी की हेल्थ को लेकर कई खुलासे हुए हैं। इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च (IJMR) के स्पेशल एडिशन में इससे जुड़े फैक्ट्स पहली बार प्रकाशित किए गए हैं। जानिए उनकी हेल्थ से जुड़े फैक्ट्स।

कौन सी बीमारियों से पीड़ित थे
- गांधीजी हाई ब्लड प्रेशर का शिकार थे। 1939 में उनका वजन 46.7Kg और हाइट 5 फिट 5 इंच दर्ज की गई थी।
- वह तीन बार 1925,1936 और 1944 में मलेरिया का शिकार हुए।
- उन्होंने 1919 में पाइल्स और 1924 में अपेन्डिसाइटिस का ट्रीटमेंट लिया।
- लंदन में रहने के दौरान वह प्लूरिसी के रोग से भी पीड़ित रहे।

रोजाना कितना चलते थे
- रिपोर्ट के मुताबिक, गांधी जी रोजाना 18 किमी पैदल चला करते थे। 1913 से लेकर 1948 तक की कैंपेनिंग के दौरान वे करीब 79 हजार किमी पैदल चले।
- यह दो बार धरती को नापने के बराबर है।
- गांधीजी खुद को नेचुरल तरीकों से स्वस्थ रखते थे। नेचुरोपैथी में उनका यकीन था।
- उनका मानना था कि एक स्वस्थ्य दिमाग से स्वस्थ शरीर बनता है।
- वे संतुलित आहार, प्राकृतिक इलाज और फिजिकल फिटनेस की महत्ता को समझते थे।

हार्ट में कोई समस्या नहीं रही
- इतने तनाव के बाद भी गांधीजी के हार्ट में कभी कोई समस्या नहीं आई। 1937 में उनकी ईसीजी जांच से यह तथ्य स्पष्ट होता है।
- उनका मानना था कि प्रकृति के विरोध में जाने से जो गड़बड़ी हुई है, वह प्रकृति के साथ रहने से ही ठीक होगी।
- वे यह भी कहते थे कि जो मानसिक परिश्रम करते हैं, उनके लिए भी शारीरिक परिश्रम करना बेहद जरूरी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Mahatma gandhi health records are published

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/mahatma-gandhi-health-records-are-published-6039019.html

Maruti Suzuki Baleno Sport: स्पोर्टी लुक वाली है सुजुकी की न्यू बलेनो, लॉन्चिंग से पहले फोटो आए सामने; ब्लैक थीम में कुछ ऐसी आ रही नजर


ऑटो डेस्क। मारुति सुजुकी ने हाल ही में इंडोनेशिया में अर्टिगा का स्पोर्ट वेरिएंट लॉन्च किया है। ऐसे में अब कंपनी जल्द ही अपनी प्रीमियम हैचबैक बलेनो का भी स्पोर्ट वेरिएंट लॉन्च कर सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कंपनी इस वेरिएंट पर काम कर रही है। बता दें कि बलेनो को स्पोर्ट वेरिएंट को GIIAS 2018 ऑटो शो में शोकेस किया गया था।

ब्लैक थीम वाला बलेनो का स्पोर्ट वेरिएंट

GIIAS 2018 ऑटो शो में बलेनो के स्पोर्ट वेरिएंट की पहली झलक दिखाई दी थी। इवेंट में ये कार ब्लैक थीम में दिखाई थी। वहीं, इसके चारों तरफ रेड लेयर दी ही, जिससे इसका लुक स्टाइलिश नजर आ रहा है। कार में न्यू ग्रिल और डुअल कटिंग अलॉय व्हील्ज दिए हैं। कार को अंदर से भी ब्लैक थीम दी गई है। इसमें 7 इंच टचस्क्रीन इन्फोटेनमेंट सिस्टम दिया है। हालांकि, इसके इंजन के बारे में कोई डिटेल नहीं है।

बलेनो के न्यू सेफ्टी फीचर्स

मारुति ने इसी साल बलेनो में कई सेफ्टी फीचर्स ऐड किए हैं। इसमें डुअल एयरबैग्स, ABS (एंटीलॉक ब्रेकिंग सिस्टम) के साथ EBD (इलेक्ट्रॉनिक ब्रेक फोर्स डिस्ट्रिब्यूशन), ब्रेक असिस्टेंट, प्री-टेनसिनर, फोर्स लिमिटर सीट बैल्ट रिमायंडर के साथ, ISOFIX चाइल्ड रेसिस्टेंट सिस्टम, स्पीड अलर्ट सिस्टम और रियर पार्किंग सेंसर को एड किया है। यानी न्यू बलेनो फेसलिफ्ट सेफ्टी के सभी नोर्म्स को पूरा करती है।

बलेनो का इंजन

इंडियन मार्केट में अभी जो बलेनो आ रही है उसमें 1.2 लीटर पेट्रोल और 1.3 लीटर मल्टीजेट डीजल इंजन दिया गया है। दोनों इंजन में 5 स्पीड गियरबॉक्स दिया है। 1.2 लीटर K-सीरीज पेट्रोल इंजन 6,000 rpm पर 83bhp और 4,000 rpm पर 115Nm का टॉर्क प्रोड्यूस करता है। जबकि 1.3 लीटर का DDiS इंजन 4,000 rpm पर 74bhp और 2,000 rpm पर 190Nm का टॉर्क प्रोड्यूस करता है। पेट्रोल इंजन से 21km/l और डीजल इंजन 27km/l का माइलेज मिलता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
maruti suzuki baleno sport in the works launch soon, here in all details

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/maruti-suzuki-baleno-sport-in-the-works-launch-soon-6038988.html

कोर्ट ने कहा- शादीशुदा जोड़े एक सरनेम ही रखें, अगर कोई बदलना चाहे तो उन्हें पहले तलाक लेना होगा


लाइफस्टाइल डेस्क. जापान में शादीशुदा जोड़े को एक ही सरनेम रखना होगा। सोमवार को टोक्यो की कोर्ट ने अलग सरनेम रखने की मांग करने वाली याचिका को यह कहकर खारिज कर दिया कि शादीशुदा जोड़े का एक सरनेम होने का कानून संवैधानिक है। कोर्ट ने यह भी कहा कि अगर कोई दंपती अलग सरनेम रखना भी चाहे तो उन्हें पहले तलाक लेना होगा।

  1. सॉफ्टवेयर फर्म साइबोझू के सीईओ योशिहिशा ओनो समेत 3 अन्य लोगों ने पिछले साल पति या पत्नी के सरनेम का उपयोग करने के लिए मजबूर करने पर मुकदमा दायर किया था। उनका कहना था कि सरनेम बदलने के लिए दस्तावेजों पर नाम बदलने की प्रक्रिया काफी पेचीदा है। केवल विदेशियों से शादी के मामले में इसमें छूट दी गई है। शेष सभी के लिए यह कानून भेदभावपूर्ण और असंवैधानिक हैं।

  2. ओनो का कहना है कि शादी के बाद वह पत्नी के सरनेम निशिहाता को बनाए रखना चाहता है, लेकिन बिजनेस में वह अपने सरनेम को जारी रखना चाहता है। लेकिन कानून इसकी मंजूरी नहीं देता। इसलिए उन्हें 15 लाख रुपए की मानसिक क्षतिपूर्ति दी जाए।

  3. देश की महिलाओं को शादी के बाद अपने पति का सरनेम ही लगाना होगा। इस मामले में संविधान विशेषज्ञ मासाओमी तकानोरी का कहना है कि 'पति-पत्नी को अलग-अलग सरनेम रखने की अनुमति देने से सामाजिक व्यवस्था बिगड़ सकती है।' वहीं पक्ष में खड़ी महिलाओं का कहना है कि पिछली सदी के कानून में बदलाव का वक्त आ गया है।

  4. जापान में बड़ी संख्या में महिलाएं भी एक सरनेम रखे जाने के खिलाफ हैं। वे शादी के बाद अपना सरनेम नहीं बदलना चाहती हैं। उनका मानना है कि इससे समाज में उनका सम्मान घटता है। वे अपनी पहचान खो देती हैं। कानून बदलने की मांग को लेकर यहां की 5 महिलाएं 2015 में सुप्रीम कोर्ट में भी गई थीं। कोर्ट ने कहा था कि देश का संविधान लैंगिक समानता को लेकर प्रतिबद्ध है।

  5. जापान में 1896 से लागू कानून कहता है कि शादी के बाद पति-पत्नी एक ही सरनेम रखेंगे, जो मैरिज रजिस्टर में दर्ज होगा। लेकिन इस बात का उल्लेख नहीं है कि यह किसका होगा। जापान में 96% महिलाएं पति का सरनेम लगाती हैं। वर्तमान कानून के चलते यहां नौकरी-पेशा करने वाली महिलाओं को खासी परेशानी होती है। जापान में नौकरी और कानूनी उपयोग के लिए बचपन का सरनेम काम आता है, जबकि सरकारी दस्तावेजों में शादी के बाद वाला नाम।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      court of japan said if couple want to change surname they have to first get divorced

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/court-of-japan-said-if-couple-want-to-change-surname-they-have-to-first-get-divorced-01505645.html

महंगे टूर और छुट्टियां मनाने में भारतीय सबसे आगे, अमेरिका व चीन को पीछे छोड़ा


लाइफस्टाइल डेस्क. महंगे टूर और छुट्टियों पर जाने के मामले में भारतीय दुनिया में सबसे आगे हैं। भारत ने महंगी ट्रिप के मामले में अमेरिका और चीन को पीछे छोड़ दिया है। वर्ल्ड ट्रैवल एंड टूरिज्म काउंसिल की हाल ही में जारी रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ।

रिपोर्ट के मुताबिक, 2018 में 17 लाख कराेड़ रुपए के साथ ट्रैवल एंड टूरिज्म ने देश की जीडीपी में 9.2% का योगदान किया। रिपोर्ट में इसका भी खुलासा हुआ कि अन्य देशों की अपेक्षा भारत के लोग बिजनेस ट्रैवल पर 5% ज्यादा खर्च करते हैं। वर्ल्ड ट्रैवल एंड टूरिज्म काउंसिल दुनियाभर के निजी क्षेत्रों के पर्यटन पर निगाह रखती है। यह संस्था हर देश के ट्रैवल और टूरिज्म के जीडीपी में योगदान का पता लगाती है।

  1. भारत में 2018 में सबसे ज्यादा 87% महंगी छुट्टियां घरेलू ट्रैवल के दौरान बिताई गईं, जबकि 13% योगदान अंतरराष्ट्रीय पर्यटन का रहा। पिछले साल के मुकाबले भारतीय पर्यटन क्षेत्र ने राष्ट्रीय स्तर पर 6.7% और वैश्विक स्तर पर 3.9% की दर से ग्रोथ दर्ज की।

  2. काउंसिल के अध्यक्ष और सीईओ ग्लोरिया ग्वेरा ने कहा कि पिछले 10 सालों में भारतीय पर्यटन क्षेत्र में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है। 2008 की तुलना में जीडीपी में होने वाला योगदान अब करीब दोगुना हो गया है। इस लिहाज से भारत महंगी ट्रिप पर जाने वाले देशों में ग्लोबल लीडर बनकर उभरा है।

  3. पर्यटन की वजह से रोजगार की संख्या भी 8.1% बढ़कर 2 करोड़ से ज्यादा हो गई है। भारत ने अपनी कुल जीडीपी का 94.8% पर्यटन पर खर्च किया। वहीं अमेरिका और चीन क्रमशः इस मामले में 71.3% और 81.4% के साथ दूसरे व तीसरे नंबर पर रहे।

  4. वर्ल्ड ट्रैवल एंड टूरिज्म की रिपोर्ट के मुताबिक भारत एशिया में चीन और जापान के बाद तीसरी सबसे बड़ी ट्रैवल इकोनाॅमी है। दक्षिण एशिया में भारत का पहला नंबर आता है। भारत के सबसे बड़े इंटरनेशनल मार्केट अमेरिका और बांग्लादेश थे, जिन्होंने देश के टूरिज्म में 9% योगदान किया। वहीं, ब्रिटेन ने 7% और कनाडा व श्रीलंका ने 2% का योगदान दिया है।

    • देश : जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, केरल
    • विदेश : स्विट्जरलैंड, नॉर्वे, स्वीडन, अमेरिका, बेल्जियम


    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      world travel and tourism council survey says Indian fond of expensive tours and holidays

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/world-travel-and-tourism-council-survey-says-indian-fond-of-expensive-tours-and-holidays-01505611.html

मैं से मां तक : एक अनुभव यात्रा, जो किसी भी मां की आपबीती हो सकती है...


मां बनने का अहसास हर लड़की के लिए दुनिया में सबसे अनमोल है। उसके जीवन का एक नया पड़ाव इस भूमिका के साथ शुरू होता है, जिसे वह अपने बच्चे के साथ तब तक निभाती है, जब तक वह बच्चा बड़ा न हो जाए और उसे संभालने वाला कोई और न जाए। लेकिन उससे भी पहले शुरूआती 9 महीने इस पूरे उपक्रम से कहीं अलग हैं। हर दिन नया अहसास, नई सीख उसे मिलती है, नए कष्ट उसकी परीक्षा लेते हैं। जितनी शरीर में अंदरूनी हलचल होती है उससे कहीं ज्यादा दिमाग में चलता रहता है। इन तमाम अहसासों को एक किताब की शक्ल दी है अंकिता जैन ने। अंकिता की नई किताब 'मैं से मां तक' एक अनुभव यात्रा है, जो एक मां के पूरे मातृत्व-काल को बयां करती है। इस किताब में वे तमाम अहसास हैं जो गर्भावस्था के पहले दिन से लेकर बच्चे के जन्म तक एक मां महसूस करती है। मां बनने पर औरत के पूरे व्यक्तित्व, सोच और जीवन-मूल्यों में परिवर्तन आ जाता है, एक तरह से उसका अस्तित्व ही बदल जाता है और मां का रूप उसके अन्य सभी अस्तित्वों पर कैसे हावी हो जाता है, अंकिता की किताब बखूबी बयां करती है।

साधारण शब्दों में कहें, तो यह किताब पढ़कर एक मां की उन तमाम दिमागी उलझनों को समझा जा सकता है, जो उसके साथ पूरे समय चलती हैं। घर, पति, सास-ससुर, परिवार, दोस्त, नाते-रिश्तेदार, आस-पड़ोस और खुद मां बनने जा रही उस औरत की आपबीती है यह किताब। दूसरी ओर, अंकिता की इस अनुभव यात्रा का श्रेय उनके बेटे को दिया जाना चाहिए, जिसके आने से जुड़े तमाम अच्छे-बुरे अहसासों को अंकिता ने किताब की शक्ल दी।

अंकिता का एक कहानी संग्रह 'ऐसी-वैसी औरत' आ चुका है और निश्चित ही, नई किताब में उनका लेखन परिपक्व हुआ है। किताब की सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें 'मां बनूं या नहीं' की उलझन से लेकर गर्भावस्था से जुड़े अंधविश्वासों, डॉक्टरों की अनकही बातें, गर्भपात, सी-सेक्शन जैसे विषयों पर गंभीर चिंतन तो है ही, मन की बात भी है जो किताब को अंत देती है। पढ़ने पर आपको यह काफी हद तक स्वयं की आपबीती लगेगी। हालांकि किताब का कवर निराश करता है। इसे और बेहतर और आकर्षक बनाया जा सकता था।

क्यों पढ़ें- मां बनना सिर्फ 9 महीने का शारीरिक श्रम नहीं है, मातृत्व से जुड़ाअहसास भी हैं, जो किताब पढ़कर बेहद आसानी से समझाजा सकताहै। मां बनने से पहले पढ़ लें तो मददगार है, बाद में पढ़ें तो वो सहेली, जो सब जानती समझती है।

क्यों न पढ़ें- किताब उनके लिए मददगार है जो या तो मां बनने वाली हैं या फिर मां बन चुकी हैं। अगर आप दोनों में से ही नहीं है, तो ये किताब भी आपके लिए नहीं है।

किताब के बारे में
शीर्षक- मैं से मां तक
लेखिका- अंकिता जैन
प्रकाशन- राजपाल एंड संस
पृष्ठ-126
कीमत- 175 रुपए मात्र
- सभी बुकस्टोर्स व ऑनलाइन उपलब्ध



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Book review: Main se Maa tak by Ankita Jain

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/book-review-main-se-maa-tak-by-ankita-jain-6038586.html

युवक के जेब में रखा था मोबाइल, अचानक निकलने लगा धुआं, यह देखते ही उसने बाहर फेंका लेकिन इतनी देर में हो चुका था हादसा, ऐसे हादसे से बचना है तो आप कभी न करें ये 9 गलतियां


गैजेट डेस्क। इन दिनों मोबाइल की बैटरी ब्लास्ट होने के मामले अक्सर सामने आ रहे हैं। कुछ ही दिनों पहले मुंबई में हुई एक ऐसी ही घटना का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ था। इसमें युवक की जेब में रखे मोबाइल से पहले धुआं निकलता है और जैसे ही युवक जेब से धुआं निकलता देख मोबाइल बाहर फेंकता है,
तब तक वो हादसे का शिकार हो जाता है। चिंगारी के चलते युवक की जांघ का कुछ हिस्सा बुरी तरह से झुलस गया था। यह पूरा वाकया सीसीटीवी में कैद हुआ। इस तरह के कई मामले इन दिनों सामने आ रहे हैं। ऐसे में जरूरी है कि कुछ सावधानियां रखकर आप ऐसे हादसे का शिकार होने से बच सकते हैं।


ये गलतियां कभी न करें

1. फेक चार्जर, फेक बैटरी का यूज कभी न करें। जिस ब्रांड का फोन यूज कर रहे हैं, उसी का चार्जर यूज करें। पूरा की बैटरी यदि बार-बार गरम हो रही है तो उसे तुरंत टेक्नीशियन को दिखाएं।
2. पीन में भीगे फोन को चार्जिंग पर न लगाएं। फोन चार्ज करते वक्त उसका यूज न करें।
3. बैटरी डैमेज हो गई है तो उसे तुरंत फ्रेश बैटरी से एक्सचेंज कर दें।
4. एक्स्ट्रीम टेम्प्रेचर में फोन को न रखें।
5. मोबाइल को 100% चार्ज न करें। अगर आप 100% चार्ज करते हैं तो इससे बैटरी खराब होने का खतरा बढ़ जाता है। मोबाइल की बैटरी 80 से 85% तक चार्ज करना सही माना जाता है।
6. पूरी रात मोबाइल चार्जिंग पर लगाकर छोड़ देने से बैटरी जल्दी खराब होने लगती है। इसका पूरे मोबाइल की परफॉर्मेंस पर भी बुरा असर पड़ सकता है।
7. मोबाइल को ओरिजिनल चार्जर से चार्ज न करने से मोबाइल की बैटरी धीरे-धीरे खराब होने लगती है। साथ ही चार्जिंग स्पीड भी काफी स्लो होती है।
8. मोबाइल की बैटरी 20% से कम होने के पहले ही बार-बार चार्जिंग पर लगा देने से बैटरी जल्दी खराब होने का खतरा बढ़ जाता है। कोशिश करें कि मोबाइल की बैटरी 20% से कम होने पर ही चार्जिंग पर लगाएं।
9. मोबाइल को किसी भी गर्म जगह पर रखकर चार्ज करने से बैटरी तेजी से गर्म होने लगती है। ऐसा बार-बार करने से बैटरी और मोबाइल जल्दी खराब होने की आशंका बढ़ जाती है।


खराब बैटरी को कैसे चेक करें
1. बैटरी को एक टेबल पर रखें। फिर घुमाकर देखें। यदि बैटरी फूली हुई है तो तेज घूमेगी। इसे यूज न करें।
2. वहीं जिन स्मार्टफोन में इनबिल्ट बैटरी होती है, उन्हें हीट से ही पहचाना जा सकता है। फोन गरम हो रहा है तो चेक करवाएं।
3. कभी भी बैटरी को पूरा खत्म न होने दें। पूरी बैटरी खत्म होने पर चार्जिंग में ज्यादा पावर लगता है। इससे भी ब्लास्ट हो सकता है। 20 परसेंट बैटरी रहते हुए ही फोन को चार्ज करना सही होता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Maharashtra News In Hindi : Man critically injured after phone explodes in pocket, 10 phone safety tips: Latest news in Hindi: Dainik Bhaskar

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/phone-battery-safety-tips-6038556.html

बीमारी के चलते इस लड़की के लिए मोटापा घटाना हो गया था बहुत मुश्किल, सर्जरी भी हो चुकी थी लेकिन नहीं मानी हार और इस तरीके से कम कर लिया 24 किलो वजन, अब खुद ने खोल दिया अपने दुबले होने का राज


हेल्थ डेस्क। मोटापा कम करना किसी चुनौती से कम नहीं। कोई पीसीओडी का शिकार हो और सर्जरी हो चुकी हो तो फिर मोटापा घटाना और भी बड़ा चैलेंज हो जाता है लेकिन 24 साल की लड़की ने ऐसा कर दिखाया है। मीडिया को दिए इंटरव्यू में उन्होंने खुद खुलासा किया कि आखिर कैसे 2 साल में 24 किलो वजन घटा लिया। देखिए वीडियो।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
inspiring Weight loss story

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/inspiring-weight-loss-story-6038361.html

क्या आप भी हटाना चाहते हैं डार्क सर्कल ? आजमाकर देखें दो स्टेप वाला ये तरीका, डॉ बोले, 7 दिनों के अंदर दिख जाएगा असर, चेहरा होने लगेगा साफ


हेल्थ डेस्क। डार्क सर्कल कई लोगों के लिए एक बड़ी समस्या हैं। तमाम पैसा खर्च करने और उपायों के बावजूद कई बार ये नहीं जाते। हालांकि डार्क सर्कल को कुछ घरेलू उपायों से भी दूर किया जा सकता है। जानिए दो स्टेप वाला एक ऐसा उपाय जिससे आपके डार्क सर्कल हट सकते हैं। देखिए वीडियो।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
How to remove dark circles

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/how-to-remove-dark-circles-6038351.html

जो पापड़ आप बड़े स्वाद से खाते हैं जानिए वो क्यों बॉडी के लिए होता है खतरनाक, डॉ बोले, इस कारण बाजार के बजाए घर में बना पापड़ ही खाना सही


हेल्थ डेस्क। दिखने में हल्का लगने वाला पापड़ आपकी सेहत को नुकसान पहुंचाने वाला होता है। मैक्स हॉस्पिटल नईदिल्ली की न्यूट्रीशनिस्ट मंजरी चंद्रा ने बताया कि एक पापड़ को पचने में तीन से पांच दिन लगते हैं। जबकि हम जो सामान्य आहार खाते हैं वो 4 घंटे में ही पच जाता है। दिल, किडनी और हाई ब्लड प्रेशर वाले
मरीजों को खासतौर पर पापड़ को अवॉइड करना चाहिए। हालांकि घर में बने पापड़ को खाने में दिक्कत नहीं होती।


हल्का होने के बावजूद जल्दी क्यों डाइजेस्ट नहीं हो पाता पापड़
दरअसल पापड़ रिफाइंड चीजों जैसे बारीक बेसन, नमक आदि से बना होता है। इसमें फाइबर जैसी कोई चीज नहीं होती। इसलिए इसे खाने के बाद आंतों पर भारी दबाव पड़ता है। यह बारीक चीजों से बना होता है इसलिए आंतों में जाने के बाद पाचक रसों के साथ मिलता है और आंतों में पेस्ट के रूप में बन जाता है। इसी कारण आंतों की पाचन क्षमता घट जाती है।

सेहत को नुकसान कैसे पहुंचाता है?
पापड़ बनाते समय इसमें प्रिजर्वेटिव डाले जाते हैं। प्रिजर्वेटिव में सोडियम मिलाया जाता है। इससे पापड़ का स्वाद तो बढ़ जाता है लेकिन यह सेहत से जुड़ी समस्याएं पैदा करता है। पापड़ को तलने पर इसमें खासी मात्रा में तेल आ जाता है। सेंक लिया जाए तो इसमें आर्किलेमाइड बनता है जो कि न्यूरोटॉक्सिन है, और इसे कार्सिनोजेन भी कहते हैं। इसमें सोडियम बेंजाइट का प्रयोग इसलिए करते हैं ताकि यह लंबे समय तक खराब न हो। इसी कारण से इसे सेंकने पर कैंसर पैदा करने वाले तत्व बनते हैं।

एक चपाती के बराबर कैलोरी होती है दो पापड़ में
- दो पापड़ में एक चपाती के बराबर कैलोरी होती है।
- जो खाना लंबे समय तक आंतों में रहता है वह सड़ने लगता है जिससे पेट में गैर-जरूरी बैक्टीरिया बनने लगता है।
- आंतों की भीतरी परतों को नुकसान होता है। आंतों की बीमारी और एसिड रिफ्लक्स की शिकायत हो सकती है।
- आंतों की पाचन व सोखन क्षमता को घटा सकता है।
- ऐसा आहार आंतों में विटामिन और मिनरल कम कर देता है।
- जिन्हें शुगर की तकलीफ है और पाचन ठीक नहीं है, उनके लिए यह और परेशानी भरा हो सकता है।

एक्सपर्ट Tip
डॉ. चंद्रा के अनुसार, घर में साबुदाना, दाल, आलू के जो पापड़ पहले बनते थे वो हानिकारक नहीं होते थे क्योंकि इनमें किसी तरह का प्रिजर्वेटिव नहीं मिलाया जाता था। सभी घरेलु शुद्ध पदार्थों से इन्हें तैयार किया जाता था। आप कभी-कभी पापड़ खाते भी हैं तो घर में बने पापड़ खाने में कोई दिक्कत नहीं है। बाजार में मिलने वाले पापड़ मैदा से तैयार किए जाते हैं। मैदा पानी के साथ फूलता है। घर में बने पापड़ को भी अच्छी तरह से भूनकर खाना चाहिए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Health hazards of papad

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/health-hazards-of-papad-6038378.html

कांग्रेस में शामिल होने सपना चौधरी का इंकार : महज 28 साल की उम्र में यूं ही सपना ने नहीं बना ली इतनी बड़ी फैन फॉलोइंग, सिर्फ लुक ही नहीं बदला बल्कि खुद का वजन भी कर लिया इतना कम, ठंडा पानी तो पीना ही छोड़ दिया


हेल्थ डेस्क। सपना चौधरी इन दिनों चर्चा में हैं। एक दिन पहले खबरें आईं थी कि वे कांग्रेस में शामिल हो गईं लेकिन रविवार को उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर यह स्पष्ट किया कि वह कांग्रेस में शामिल नहीं हुई हैं और उनके कांग्रेस ज्वॉइन करने की खबरें झूठी हैं। सपना चौधरी अक्सर मीडिया की सुर्खिंयों में बनी रहती हैं।

अपने डांस से हर किसी को दीवाना बनाने वाली सपना अपने लुक को लेकर भी चर्चा में रही हैं। उन्होंने अपने लुक ही नहीं बल्कि पूरी बॉडी में जबर्दस्त ट्रांसफॉर्मेशन किया है। उन्होंने पहले से अपना वजन काफी कम किया है। वे प्यास लगने पर गुनगुना पानी ही पीती हैं। जानिए उनके फिटनेस टिप्स।

ऐसी डाइट फॉलो कर रहीं सपना चौधरी (Sapna Choudhary)

- सपना ने बहुत स्ट्रिक्ट डाइट को फॉलो किया साथ ही वजन कम करने के लिए जमकर एक्सरसाइज की।
- उन्होंने जिम में पहले से दोगुना टाइम बिताना शुरू कर दिया। साथ ही अपने सबसे फेवरेट काम डांस को भी बढ़ा दिया।
- बता दें कि डांसिंग के जरिए वजन तेजी से कम होता है।
- वजन कम करने के लिए सपना ने ठंडा पानी पीना लगभग छोड़ दिया।

ब्रेकफास्ट से लेकर डिनर तक में ये खाती हैं सपना चौधरी
- दिन की शुरुआत नींबू मिले हुए पानी से करती हैं। कभी-कभी गर्म हर्बल टी लेती हैं।
- इससे बॉडी के टॉक्सिंस दूर होते हैं और डाइजेशन अच्छा होता है।
- ब्रेकफास्ट में मल्टीग्रेन ब्रेड और स्प्राउट्स लेना शुरू किया।
- हर दूसरे दिन एग व्हाईट खाना शुरू किया।
- ब्रेकफास्ट हैवी लेती हैं ताकि पूरी दिन एनर्जी बनी रहे।
- लंच में ग्रीन वेजिटेबल्स और फलीदार सब्जियां खाती हैं।
- डिनर भी लंच जैसा ही होता है। सब्जियों से प्रोटीन भरपूर मात्रा में मिलता है।
- दिन में खाने के बीच में चाय की जगह नारियल पानी और फ्रूट्स लेती हैं।
- शाम को किसी भी हाल में 7.30 बजे के पहले डिनर कर लेती हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
how sapna choudhary lost weight

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/how-sapna-choudhary-lost-weight-6038171.html

अगर आप टाटा की गाड़ी खरीदने की तैयारी में हैं तो आपके लिए है ये खबर, इस महीने से कंपनी बढ़ाने जा रही गाड़ियों की कीमत, इसके पहले ही कर लें बुक


ऑटो डेस्क। यदि आप टाटा मोटर्स की कोई गाड़ी खरीदने की प्लानिंग में हैं तो अभी खरीद लीजिए क्योंकि कंपनी ने अपने यात्री वाहनों की कीमत में इजाफा करने की घोषणा की है। अप्रैल-2019 से टाटा अपने पैसेंजर व्हीकल की कीमत में 25 हजार रुपए तक की बढ़ोत्तरी कर देगी। कीमतें इनपुट कास्ट और एक्स्टरनल इकोनॉमिक कंडीशन बदलने के चलते बढ़ाई जा रही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, टाटा व्हीकल बिजनेस यूनिट के प्रेसीडेंट मयंक परीक ने बाजार की बदलती स्थितियों को भी दाम में बढ़ोत्तरी की वजह बताया है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Tata motors to hike car prices

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/tata-motors-to-hike-car-prices-6038138.html

40 साल के इमरान हाशमी के खाने को लेकर हैं ये 7 नियम, इन्हीं के चलते इतने फिट और बीमारियों से हैं दूर, एक्स्ट्रा कैलोरी बॉडी में जमा न हो इसलिए ये तरीका आजमाते हैं


हेल्थ डेस्क। बॉलीवुड एक्टर इमरान हाशमी आज 40 साल के हो गए हैं। इमरान फिटनेस फ्रीक हैं। वे वर्कआउट के साथ ही अपनी डाइट पर बहुत ज्यादा ध्यान देते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्होंने सालों से पिज्जा की एक स्लाइस तक नहीं खाई। जानिए ऐसी 7 बातें, जिन्हें फालो करके इमरान इतने फिट हैं। दूसरों को भी वह इन बातों को फॉलो करने की सलाह देते हैं।


ये हैं इमरान की 7 काम की Tips

1. जंक फूड से दूर रहते हैं। शुरुआत में ऐसा करना कठिन लगता है लेकिन आदत में आने के बाद फिर दिक्कत नहीं होती।

2. एल्कोहलिक ड्रिंक से एक सेफ डिस्टेंस बनाकर रखते हैं, इसे हेल्थ को नुकसान नहीं पहुंचता।

3. मीठा खाने से बचते हैं। मीठा खाने का मन होता है ताजे फल खाते हैं।

4. एक साथ खाने के बजाए गेप बनाकर खाते हैं। फूड ऐसा लेते हैं जो न्यूट्रिशंस से भरपूर हो। इससे बॉडी में दिनभर एनर्जी बनी रहती है और एक्स्ट्रा कैलोरी भी बॉडी में जमा नहीं होतीं।

5. चिकन, ओट्स, फ्रूट्स, चपाती, दाल, एग व्हाइट, ब्रेड, बटर और फिश उनके डेली की डाइट में शामिल होता है।

6. मसालेदार खाने से बचते हैं, क्योंकि यह आसानी से डाइजेस्ट नहीं होता।

7. ट्रैवल करते वक्त साथ में कुछ फ्रूट्स, दही, जूस जैसी चीजें रखते हैं। इससे भूख लगने पर अच्छी चीजें खा सकते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
emraan hashmi diet plan

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/emraan-hashmi-diet-plan-6038127.html

न बैटरी की जरूरत, न ब्लूटूथ की... फोन से इस तरह कनेक्ट हो जाता है ये हेलमेट, फिर हैंड्सफ्री कॉलिंग और म्यूजिक का ले सकते हैं मजा; पानी में डूब जाए तब भी कुछ नहीं होगा


यूटिलिटी डेस्क। स्टीलबर्ड (Steelbird) कंपनी ने एक ऐसा हेलमेट बनाया है, जिससे हैंड्सफ्री कॉलिंग की जा सकती है। इस हेलमेट के अंदर 2 स्पीकर्स और माइक दिया है। खास बात है कि ये स्पीकर फोन की बैटरी से ही ऑपरेट होते हैं। यानी इसमें किसी तरह की बैटरी नहीं दी है। ये बिना ब्लूटूथ कनेक्टिविटी के काम करता है। इसमें जो माइक दिया है वो सिर्फ राइडर की आवाज पकड़ता है, ट्रैफिक या हेलमेट के बाहर की आवाज इसमें नहीं जाती। यदि आप हेलमेट में म्यूजिक सुन रहे हैं तब आपको बाहर की आवाज या हॉर्न अंदर सुनाई देगा। ये पूरी तरह वाटर और डस्टप्रूफ है। कंपनी का कहना है कि यदि ये 6 घंटे भी पानी में रहेगा तब भी इसके स्पीकर और माइक को कुछ नहीं होगा। यानी गर्मी के साथ बारिश के मौसम में भी ये बेस्ट ऑप्शन है। इसकी कीमत 2589 रुपए है। ये कैसे काम करता है वीडियो में देखें...

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Steelbird SBA-1 7wings HF with smoke visor and detachable waterproof handsfree helmet

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/steelbird-sba-1-hf-handsfree-helmet-6037436.html

सेकंड हैंड कार का सस्ता मार्केट : 5 लाख रुपए से ज्यादा कीमत वाली कार यहां मिल जाएगी 60 हजार में, मारुति से लेकर हुंडई तक कई कंपनियों की कार मौजूद


ऑटो डेस्क। आप सेकंड हैंड कार खरीदना चाहते हैं तब इंडिया के कई शहरों में इसका बड़ा मार्केट है। खासकर, मुंबई, अहमदाबाद, कोलकाता जैसे बड़े शहरों में कार कई गुना सस्ती मिल जाती है। ऐसी कार का एक मार्केट दिल्ली में भी है। करोल बाग स्थित इस मार्केट से सिर्फ 60 हजार रुपए में अच्छी कंडीशन वाली कार खरीदी जा सकती है। जैसे यहां पर सेकंड हैंड मारुति वैगनआर को सिर्फ 60 हजार में खरीद सकते हैं। शोरूम पर वैगनआर के टॉप मॉडल की ओनरोड प्राइस 5.69 लाख रुपए है।

यहां है ये मार्केट

ये मार्केट करोल बाग स्थित जल बोर्ड के पास है। यहां पर मारुति से लेकर महिंद्रा, फोर्ड, हुंडई, वोक्सवैगन समेत कई ब्रांड की कार मौजूद हैं। देखने में इन कार की कंडीशन बेहतर होती है। यानी इन पर किसी तरह का डेंट नहीं होता और ये चमचमाती नजर आती हैं। कार का मॉडल जितना पुराना होता है प्राइस उतनी कम हो जाती है।

फाइनेंस की सुविधा भी मौजूद

इस मार्केट में सेकंड हैंड कार के डीलर्स SSS Ji Car Bike & Properties ने बताया कि यहां पर सेकंड हैंड कार 60 हजार से मिलना शुरू हो जाती हैं। वहीं, इस अमाउंट को फाइनेंस भी कराया जा सकता है। कार के साथ उसका रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट भी दिया जाता है। यानी इन कार में किसी तरह के फ्रॉड होने की संभावना नहीं होती। वैसे, कार की प्राइस पर आप बारगेनिंग भी कर सकते हैं।

इन बातों का रखें ध्यान

यदि आप इस मार्केट में कार खरीदने जाने वाले हैं तब इस बात का ध्यान रखें की आपको कार के सभी पार्ट्स की नॉलेज हो। खासकर, कार के इंजन में खराबी हो सकती है। कार के पार्ट्स डुप्लिकेट भी हो सकते हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप किसी कार एक्सपर्ट या मैकेनिक को साथ लेकर जाएं।

सेकंड हैंड कार की कीमतें

मारुति वैगनआर : 60 हजार रुपए
टाटा नैनो : 60 हजार रुपए
हुंडई सेंट्रो : 60 हजार रुपए
मारुति सुजुकी आल्टो : 1 लाख रुपए
शेवरले बीट : 1.9 लाख रुपए

नोट : खबर में दिखाई जा रही कार की कीमत इस मार्केट में कम-ज्यादा भी हो सकती है। इतना ही नहीं, जो कीमत दिखाई जा रही है आप बारगेनिंग करके उससे भी कम कीमत पर खरीद सकते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Second hand branded cars cheapest market in delhi, starting price just rs. 60000

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/second-hand-branded-cars-cheapest-market-in-delhi-6037901.html

Datsun Redi-Go Offers: ऑफर के चलते 2.25 लाख में मिल सकती है ये कार, कंपनी अभी दे रही 3 तरह के डिस्काउंट; 22km से ज्यादा का है माइलेज


ऑटो डेस्क। जापानी कार कंपनी डैटसन ने अपनी लो बजट हैचबैक कार Datsun Redi GO पर शानदार ऑफर लेकर आई है। कंपनी इस कार पर 43000 रुपए के बेनिफिट्स दे रही है। इसकी दिल्ली एक्स शोरूम प्राइस 2,67,690 रुपए है। यानी इस ऑफर के चलते ये कार 2,24,690 रुपए में मिल सकती है। बता दें कि कंपनी ने हाल ही में इस कार में एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (ABS), थ्री-प्वाइंट सीट बेल्ट, रियर डोर चाइल्ड लॉक, रियर स्टॉप लैम्प, ड्राइवर एयरबैग, LED डेटाइम रनिंग लैम्प, रिमोट सेंट्रल लॉकिंग जैसे सेफ्टी फीचर्स ऐड किए हैं।

डैटसन रेडी-गो पर मिलने वाला पूरा ऑफर

> 25 हजार रुपए तक कैश बेनिफिट
> 15 हजार रुपए तक एडिशनल एक्सचेंज बेनिफिट अंडर NIC
> 3 हजार तक सरकारी कर्मचारियों के लिए एडिशन बेनिफिट
> टोटल बेनिफिट 43 हजार रुपए

नोट : कंपनी का कहना है कि ये ऑफर अलग-अलग लोकेशन पर कार के वेरिएंट के हिसाब से हो सकता है।

दो इंजन में आती है रेडी-गो

डैटसन रेडी-गो में 2 अलग-अलग पावर वाले इंजन दिए हैं। इसमें एक 0.8 लीटर पेट्रोल और 1.0 लीटर पेट्रोल इंजन दिया है। 1.0 लीटर में ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन गियर बॉक्स का ऑप्शन भी मौजूद है। इस मॉडल में क्लच नहीं होती है। ऑटोमैटिक होने की वजह से ये ड्राइविंग के दौरान कभी बंद नहीं होगी। ये गियर बॉक्स खुद ही स्पीड के हिसाब से गियर चेंज करता है। इसमें मैनुअल मोड भी होता है। कार का माइलेज 22.7 kmpl है।

कार के अन्य फीचर्स

कार में USB और ब्लूटूथ सपोर्ट स्टीरियो सिस्टम दिया है। इसमें FM भी है। इसमें मैनुअल AC है। सभी पावरविंडो हैं, जिनका कंट्रोल और लॉक ड्राइवर सीट के पास भी है। कार 5 कलर वेरिएंट में आती है, जिसमें रूबी, सिल्वर, लाइम, ग्रे और व्हाइट शामिल हैं। कंपनी कार के इंटीरियर को खूबसूरत बनाने के लिए स्पोर्टी किट का ऑप्शन भी देती है। जिसकी कीमत 6563 रुपए से शुरू है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Datsun redi-go exciting offers, cash and exchange total benefits upto rs. 33000

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/datsun-redi-go-exciting-offers-total-benefits-upto-rs-33000-6037877.html

Maruti Suzuki Ertiga Sport : स्पोर्टी लुक के साथ लॉन्च हुई न्यू अर्टिगा, ग्रिल से लेकर इंटीरियर तक ब्लैक थीम आएगी नजर


ऑटो डेस्क। मारुति सुजुकी ने अपनी 7 सीटर कार अर्टिगा का स्पोर्ट्स (Ertiga Sport) वेरिएंट इंडोनेशिया में लॉन्च कर दिया है। इस कार को ब्लैक कलर एडिशन में लॉन्च किया गया है। कार के अंदर भी ब्लैक केबिन मिलेगा। कार के इस वेरिएंट में ज्यादा अट्रैक्टिव किट दी गई है। इसमें सिल्वर कलर की बड़ी ग्रिल, नए फॉग लैम्स और चिन स्पॉयलर दिए हैं। साथ ही, डुअल-टोन अलॉय व्हील्ज दिए हैं।

इसे मैनुअल और ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन दोनों वेरिएंट में लॉन्च किया गया है। मैनुअल की कीमत IDR 187,000,000 (करीब 9.12 लाख रुपए) और ऑटोमैटिक की कीमत IDR 195,000,000 (करीब 9.51 लाख रुपए) है। बता दें कि कंपनी ने इस कार को बीते साल इंडोनेशिया मोटर शो में शोकेस किया था। ये इंडिया में 7 सीटर कैटेगरी में टॉप सेलिंग कार भी है।

Ertiga Sport का इंजन

कार में 1.5 लीटर 4 सिलेंडर पेट्रोल इंजन दिया है। ये 104.7 PS पर 6,000 rpm पावर और 138 Nm पर 4,400 rpm टॉर्क जनरेट करता है। इसके मैनुअल मॉडल में 5 स्पीड गियरबॉक्स और ऑटोमैटिक मॉडल में 4 स्पीड गियरबॉक्स दिया है। इसका इंजन इंडिया में आ रहे मॉडल के बराबर है।

Ertiga Sport का इंटीरियर

कार के अंदर ब्लैक लेजर कवर सीट्स दी हैं। प्रीमियम लुक के लिए डैशबोर्ड और डोर में फॉल्स पॉलिश्ड वुड एक्सेंट दिए हैं। कार में टचस्क्रीन इन्फोटेनमेंट सिस्टम दिया है, जो एंड्रॉइड और एपल कारप्ले सपोर्ट के साथ आता है।

दमदार माइलेज

इसके पेट्रोल मैनुअल वेरिएंट का माइलेज 19.34 km/l, पेट्रोल ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन 18.69 km/l और डीजल मैनुअल ट्रांसमिशन का माइलेज 25.47 km/l है। कंपनी ने इस कार में K15 इंजन दिया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
New Maruti Suzuki Ertiga Sport revealed in Indonesia, MPV gets a sporty body kit, new alloys, tweaked interiors and manual and automatic options

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/new-maruti-suzuki-ertiga-sport-revealed-in-indonesia-6037801.html

इस बाइक के फ्यूल टैंक में नहीं डालना पड़ता पेट्रोल, फिर भी देती है 160KM का दमदार माइलेज; इसके साथ आती है कार के जैसी स्मार्ट Key


ऑटो डेस्क। इंडियन मार्केट में इलेक्ट्रिक व्हीकल की शुरुआत हो चुकी है। होंडा से लेकर ओकिनावा, अथर, जीएम मोटर्स जैसी कई कंपनियां इंडिया में अपने इलेक्ट्रिक व्हीकल लॉन्च कर चुकी हैं। रिपोर्ट्स की मानें तो अब जर्मन की कंपनी अपनी इलेक्ट्रिक बाइक सुपर सोको (Super Soco) को यहां लॉन्च करने का प्लान कर रही है। वैसे कंपनी बीते साल अपनी इस बाइक को नेपाल में लॉन्च कर चुकी है। सुपर सोको स्टाइलिश होने के साथ दमदार भी है।

160KM का माइलेज

कंपनी का दावा है कि ये बाइक 60V 26Ah की दो पावरफुल बैटरी से लैस है। वहीं, इसमें 2400-Watt की मोटर दी है। ये बैटरी 5 घंटे में फुल चार्ज हो जाती हैं, जिसके बाद बाइक को 160 किलोमीटर तक चलाया जा सकता है। बाइक पर 2 पैसेंजर्स का स्पेस दिया है। वहीं, इसका ग्राउंड क्लियरेंस 198mm है। बाइक की मैक्सिमम स्पीड 45KM प्रति घंटा है।

पेट्रोल टैंक के नीचे लगेज बॉक्स

सुपर सोको इलेक्ट्रिक बाइक है, यानी ये बिना पेट्रोल के चलती है। ऐसे में बाइक में जो पेट्रोल टैंक दिया है उसके नीचे लगेज बॉक्स है। यानी पेट्रोल टैंक के नीचे आप सामान रख सकते हैं। ये एक तरह की डिग्गी है, जिसे सीट के नीचे से ओपन किया जाता है। बाइक में कार की तरह स्मार्ट Key दी गई है। इसकी मदद से बाइक को लॉक-अनलॉक भी कर सकते हैं।

बाइक के दूसरे फीचर्स

बाइक में फ्रंट, रियर और फ्लैशिंग LED लाइट्स दी हैं। इसमें डिस्प्ले स्क्रीन यानी स्पीडोमीटर LCD के साथ दिया है। बाइक के साथ 2 पीस रिमोट की (Key) दी गई है। बाइक को राइडर अपने स्मार्टफोन से कनेक्ट कर सकता है। कंपनी ने इसे चार कलर वेरिएंट डीप ब्लैक, फ्रॉस्ट सिल्वर, स्नो व्हाइट, रेस रेड और एड्रेनालाइन ऑरेंज में लॉन्च किया है। बाइक के दोनों टायर ट्यूबलेस और अलॉय व्हील्स के साथ आते हैं।

बाइक की प्राइस

कंपनी ने नेपाल में इस बाइक को दो अलग वेरिएंट में लॉन्च किया है। इसमें Super SOCO TS (2400-Watt) की कीमत Rs. 2.49 लाख रुपए है। तो दूसरी तरफ, Super SOCO TC (3000-Watt) की कीमत 2.74 लाख रुपए है।

सुपर बाइक मॉडल की कीमत (एक्स-शोरूम)

Suzuki Hayabusa : 15 लाख से शुरू
Kawasaki Ninja ZX 10R : 14 लाख से शुरू
Honda CBR1000RR: 18 लाख से शुरू
Yamaha YZF R1 : 20 लाख से शुरू
Aprilia RSV4 : 28 लाख से शुरू



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Super soco powerful electric motorcycles price starts at 2.49 lakhs, top speed, mileage and specification

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/super-soco-electric-motorcycles-price-starts-at-2-49-lakhs-6037582.html

घर की दीवार पर ऐसे बनाएं TV से भी बड़ी स्क्रीन, फिर इस पर IPL मैच से लेकर मूवी तक सबकुछ देखें; सिर्फ 100 रुपए होंगे खर्च


गैजेट डेस्क। आज से इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) शुरू हो रही है। क्रिकेट का असली मजा तभी आता है जब उसे बड़ी स्क्रीन पर देखा जाए। ऐसे में यदि आपके घर में बड़ी स्क्रीन वाली टीवी नहीं है तब मजा फीका रह जाएगा। हालांकि, आप सिर्फ 100 रुपए खर्च करके बड़ी स्क्रीन तैयार कर सकते हैं। इतना ही नहीं, इस पर क्रिकेट के साथ दूसरी वीडियो भी देख सकते हैं। बस इसके लिए आपको एक प्रोजेक्टर बनाना पड़ेगा। इसे आप जूते के डिब्बे और मैग्नीफाइंग लेंस की मदद से घर पर ही तैयार कर सकते हैं।

इस सामान की होगी जरूरत

1. एक खाली जूते का डिब्बा (शू बॉक्स)
2. मैग्नीफाइंग लेंस
3. पेपर कटर
4. चिपकाने के लिए ग्लू और टेप
5. थर्माकॉल का टुकड़ा

नोट : ये प्रोजेक्टर आपके स्मार्टफोन पर काम करेगा। आपको मार्केट से एक मैग्नीफाइंग लेंस खरीदना होगा। 100 रुपए में अच्छा मैग्नीफाइंग लेंस मिल जाता है। लेंस जितना बड़ा होगा स्क्रीन उतनी बड़ी बनेगी। ये प्रोजेक्टर 15 मिनट में तैयार हो जाता है।

आगे की स्लाइड्स पर जानिए मोबाइल मूवी प्रोजेक्टर बनाने की पूरी प्रॉसेस...



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Make Shoe Box Smartphone Projector and watch ipl match on big screen, follow these steps
Make Shoe Box Smartphone Projector and watch ipl match on big screen, follow these steps
Make Shoe Box Smartphone Projector and watch ipl match on big screen, follow these steps
Make Shoe Box Smartphone Projector and watch ipl match on big screen, follow these steps
Make Shoe Box Smartphone Projector and watch ipl match on big screen, follow these steps

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/make-shoe-box-smartphone-projector-and-watch-ipl-match-on-big-screen-6037768.html

जिन मोमोज को आप स्वाद लेकर लाल तीखी चटनी के साथ खाते हैं, ऐसी है उसकी 4 लेवल की सच्चाई; डॉक्टर ने भी किया Alert


हेल्थ डेस्क। केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय के अधीन आने वाले इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट कैटरिंग एंड न्यूट्रिशन (पूसा- दिल्ली) ने कुछ महीने पहले अपनी रिसर्च में मोमोज को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया था। रिसर्च में सामने आया कि स्ट्रीट फूड में मोमोज सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाले होते हैं। इसकी क्वालिटी और साथ में मिलने वाली लाल तीखी चटनी इंसान को बीमार कर सकती है। इसमें जरूरत से ज्यादा फीकल मैटर (अनहाइजैनिक तरीके से पानी या फूड के जरिए शरीर में जाने वाली गंदगी) पाया जाता है। जो शरीर को नुकसान पहुंचाता है। यह रिसर्च दिल्ली में बिकने वाले स्ट्रीट फूड को लेकर की गई थी। मोमोज के अलावा इन स्ट्रीट फूड में पानी पूरी, समोसा, कचोरी भी शामिल है।

हमने इस बारे में गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज विदिशा के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर नीरज जैन (MS और लेप्रोस्कोपिक सर्जन) से बात की। स्ट्रीट फूड से जुड़ी सभी बातों पर उन्होंने बारीकी से बताया। साथ ही, इस तरह के फूड से होने वाली बीमारियों के बारे में और इसे खाते समय रखी जाने वाली सावधानियों के बारे में भी चर्चा की, जो स्ट्रीट फूड खाने वालों की सेहत को दुरुस्त रखने में मददगार है। साथ ही इससे इलाज में लगने वाले पैसे भी बचेंगे।

रिसर्च में मोमोज को लेकर क्या सामने आया

> रिपोर्ट में बताया गया है कि मोमोज बनाने के लिए ब्लीचिंग मैदा का यूज किया जाता है। साथ ही, इसमें कई कैमिकल्स का भी यूज होता है।
> मोमोज में मोनोसोडियम ग्लूटामेट (MSG) होता है। ये इंसान की हड्डियों को कमजोर बनाता है। इससे नर्वस डिसऑर्डर की प्रॉब्लम भी हो सकती है।
> इसे बनाने में यूज होने वाली पत्तागोभी को ठीक से नहीं पकाया जाता। वहीं, इसकी चटनी इतनी ज्यादा तीखी होती है कि पाइल्स की बीमारी भी हो सकती है।
> ऐसे में इनमें बैसिलस सेरस, क्लॉस्ट्रिडियम परफ्रिंगेंस, स्टेफिलोकोकस ऑरियस और साल्मोनेला कीटाणु आ जाते हैं।
> ये सब मिलकर मोमोज खाने वाले इंसान के शरीर में कई बीमारियां पैदा करते हैं।

एक्सपर्ट ने बताया स्ट्रीट फूड कब हो सकते हैं खतरनाक

> डॉ. नीरज के मुताबिक स्ट्रीट फूड ( फ्राइड मोमोज, समोसा, कचौड़ी) या दूसरे फ्राइड फिलिंग आइटम एक ड्यूरेशन के बाद डिग्रेड होना शुरू हो जाते हैं। जिसके बाद उसमें बैक्टीरिया बनने लगते हैं।
> तेलीय पदार्थ अधिकतम 6 से 8 घंटे के बाद खराब होना शुरू हो जाते हैं। यदि उसे फ्रिज में रखा गया है तब ये ड्यूरेशन 12 घंटे तक हो सकती है।
> ऐसे में जब ये खाना इस ड्यूरेशन के बाद खाया जाएगा तब पेट में ऐंठन, टाइफाइड, उल्टी, दस्त, एसिडिटी, डिसेंट्री जैसी बीमारियां हो सकती हैं।

ऐसी चीजें खाने से हो सकती हैं बीमारियां

> स्ट्रीट फूड में कई बार खराब पानी का इस्तेमाल किया जाता है। खराब पानी बॉडी में जाने से टाइफाइड जैसी खतरनाक बीमारी आपको हो सकती है।
> इससे डिसेंट्री (शौच में खून आने लगता है) आने की प्रॉब्लम भी खाने वालों को कई बार हो जाती है। इसके अलावा भी फूड इंफेक्शन से जुड़ी प्रॉब्लम का आप शिकार हो सकते हैं।
> इन सबके अलावा ये फास्ट फूड पीलिया, आंत से जुड़ी बीमारी सहित कई बीमारियों का कारण भी बनते हैं।

बचने के लिए क्या जरूरी

> जब भी स्ट्रीट फूड खाएं, उसके बाद घर आकर हल्का गर्म पानी जरूर पीएं।
> साफ पानी, साफ-सुथरी प्लेट और खाने की चीजें ढंक कर रखी गई हैं कि नहीं, ये देखने के बाद ही ऑर्डर करें।
> पानी-पूरी या मोमोज खा रहे हैं तो विक्रेता के हाथों में ग्लव्स भी होना होना चाहिए। या साफ-सुथरे होने चाहिए।
> खाने की दुकान के आसपास गंदगी, मक्खियां हों तो ऐसी जगह भी खाना अवॉइड करें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Research : Why momos are the worst street food ever, here's truth and it will make you sad

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/momos-are-the-worst-street-food-ever-research-6037598.html

Datsun Redi-go: इंडिया की सस्ती कारों में शामिल है इसका नाम... अब कंपनी कम कीमत में देगी कई सेफ्टी फीचर्स, बेस मॉडल में मिलेगा ABS; 22km से ज्यादा है माइलेज


ऑटो डेस्क। जापानी कार कंपनी डैटसन ने अपनी लो बजट हैचबैक कार Datsun Redi GO का नए सेफ्टी फीचर्स के साथ अपडेट किया है। अब इस कार के सभी वेरिएंट में एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (ABS) जैसा एडवांस फीचर मिलेगा। इसके साथ, थ्री-प्वाइंट सीट बेल्ट, रियर डोर चाइल्ड लॉक, रियर स्टॉप लैम्प, ड्राइवर एयरबैग, LED डेटाइम रनिंग लैम्प, रिमोट सेंट्रल लॉकिंग जैसे फीचर्स भी मिलेंगे। बता दें कि 1 अप्रैल, 2019 से सभी कार के नए मॉडल में ABS होना अनिवार्य है। इस कार की शुरुआती कीमत 2,67,690 रुपए (दिल्ली एक्स-शोरूम) है। ये इंडिया की सबसे सस्ती कार की लिस्ट में शामिल है।

दो इंजन में आती है रेडी-गो

डैटसन रेडी-गो में 2 अलग-अलग पावर वाले इंजन दिए हैं। इसमें एक 0.8 लीटर पेट्रोल और 1.0 लीटर पेट्रोल इंजन दिया है। 1.0 लीटर में ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन गियर बॉक्स का ऑप्शन भी मौजूद है। इस मॉडल में क्लच नहीं होती है। ऑटोमैटिक होने की वजह से ये ड्राइविंग के दौरान कभी बंद नहीं होगी। ये गियर बॉक्स खुद ही स्पीड के हिसाब से गियर चेंज करता है। इसमें मैनुअल मोड भी होता है। कार का माइलेज 22.7 kmpl है।

कार के अन्य फीचर्स

कार में USB और ब्लूटूथ सपोर्ट स्टीरियो सिस्टम दिया है। इसमें FM भी है। इसमें मैनुअल AC है। सभी पावरविंडो हैं, जिनका कंट्रोल और लॉक ड्राइवर सीट के पास भी है। कार 5 कलर वेरिएंट में आती है, जिसमें रूबी, सिल्वर, लाइम, ग्रे और व्हाइट शामिल हैं। कंपनी कार के इंटीरियर को खूबसूरत बनाने के लिए स्पोर्टी किट का ऑप्शन भी देती है। जिसकी कीमत 6563 रुपए से शुरू है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Datsun Redi go gets safety upgrades price starting from rs. 2.67 lakhs

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/datsun-redi-go-gets-new-safety-upgrades-6037392.html

आप भी किचन में यूज करते हैं नॉनस्टिक पॉट, तो जान लें ये 5 खतरे


यूटिलिटी डेस्क। ज्यादातर लोग खाना बनाने और तेल की बचत करने के लिए नॉनस्टिक पॉट का यूज करते हैं। लेकिन इसका लंबे समय तक यूज करने से हेल्थ को नुकसान भी पहुंच सकता है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/LIF-HNB-UTLT-non-stick-cookware-health-benefits-5796342-NOR.html

बिना पेट्रोल के चलने वाला स्कूटर... 7 इंच की टच स्क्रीन वाला मीटर और रिवर्स गियर भी दिया, कहीं जाने का रास्ता भी स्कूटर ही बताएगा; 75km है माइलेज


ऑटो डेस्क। इंडिया में अब ई-स्कूटर की बड़ी रेंज है। आने वाले दिनों में कई ऑटोमोबाइल कंपनियां इलेक्ट्रिक व्हीकल लॉन्च करेंगी। इस साल बेंगलुरु की ऑटोमोबाइल स्टार्टअप कंपनी अथर एनर्जी (Ather Energy) ने भी अपना पहला ई-स्कूटर Ather S340 लॉन्च कर दिया था। इसकी ऑनरोड प्राइस (बेंगलुरु) 1,09,750 रुपए है। इसमें रजिस्‍ट्रेशन, इंश्योरेंस और स्मार्ट कार्ड शामि‍ल है। इसमें एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम सपोर्ट करने वाला टच-स्क्रीन इन्फोटेनमेंट सिस्टम दिया है।

अथर एनर्जी स्कूटर के फीचर्स

> इस स्कूटर में एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम वाला इन्फोटेनमेंट सिस्टम मिलेगा। ये टच-स्क्रीन के साथ आएगा, जो पूरी तरह वाटरप्रूफ और डस्टप्रूफ होगा।
> इसमें पुश नेविगेशन, पार्किंग असिस्ट सिस्टम, वाटरप्रूफ चार्जर, मल्टीपल राइडिंग मोड्स जैसे फीचर्स भी होंगे।
> इन्फोटेनमेंट सिस्टम में आप ड्राइविंग लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट जैसे डॉक्युमेंट अपलोड कर सकते हैं।
> स्कूटर में S340 में लिथियम-आयन बैटरी है। इस फुल चार्ज करके 75km का सफर तय कर सकते हैं।
> इसे 50 मिनट में 80% तक चार्ज किया जा सकेगा। स्कूटर की टॉप स्पीड 80kmph है।
> कंपनी का दावा है कि‍ यह 3.9 सेकंड में 0 से 40 Kmph की स्‍पीड पकड़ सकता है।
> रि‍मोट डायग्‍नोस्‍टि‍क्‍स, स्‍टैलाइट नेवि‍गेशन के साथ-साथ फ्रंट और रियर डि‍स्‍क ब्रेक और टेलि‍स्‍कॉपि‍क फ्रंट सस्‍पेंशन है।
> आसानी से बैक करने के लिए स्कूटर में रिवर्स गियर भी दिया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Ather Electric Scooter With Touchscreen Instrument Console And Document Upload Features

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/ather-electric-scooter-with-document-upload-features-6037185.html

Bajaj Qute Launched: बजाज ने लॉन्च की इतनी सस्ती कार, 3 लाख भी नहीं है कीमत; 45km का देगी माइलेज


ऑटो डेस्क। बजाज ने इंडियन मार्केट में अपनी क्यूट क्वार्डरसाइकिल (Qute quadricycle) लॉन्च कर दी है। इसके पेट्रोल और CNG दोनों वेरिएंट में लॉन्च किया गया है। पेट्रोल वेरिएंट की दिल्ली एक्स-शोरूम प्राइस 2.63 लाख रुपए और CNG की 2.83 लाख रुपए है। दोनों वेरिएंट में 20 हजार रुपए का अंतर है। बता दें कि कंपनी ने इसे पहली बार 2015 में शोकेस किया था। इसमें ऑटो का पावर और डिजाइन कार का दिया है।

कार का इंजन और माइलेज

बजाज की इस कार में में 216cc का लिक्विड-कूल्ड, सिंगल-सिलिंडर DTS-i इंजन दिया है। पेट्रोल वेरिएंट 13.1bhp का पावर और 18.9Nm का पीक टॉर्क जेनरेट करता है। वहीं, CNG से 10.9bhp पावर और 16.1Nm टॉर्क जनरेट होता है। पेट्रोल वेरिएंट का माइलेज 36km/l और CNG वेरिएंट का माइलेज 43Km/Kg है। दोनों इंजन 5-स्पीड गियरबॉक्स से लैस हैं। वहीं, टॉप स्पीड 70km/h है।

क्यूट का इंजन ऑटो की तरह पीछे दिया है। ऐसे में बूट स्पेस आगे की तरफ मिलता है। इसमें बैग्स आसानी से कैरी कर सकते हैं। इसके अलावा बैक सीट को फोल्ड करके 400 लीटर का स्पेस तैयार कर सकते हैं। डैशबोर्ड पर दो यूटिलिटी बॉक्स लॉक के साथ मिलते हैं। इसमें 2 स्पीकर्स और USB सपोर्ट वाला FM प्लेयर रिमोट के साथ दिया है। फोन चार्जिंग के लिए 12 वोल्ट का सॉकेट मिलेगा।

कंपनी ने दी थी ये जानकारी

इस मिनी कार को लेकर बजाज के कमर्शियल व्हीकल बिजनेस के प्रेसिडेंट आर सी महेश्वरी ने कहा था कि क्यूट का कंसेप्ट ये सोचकर बनाया गया था कि एक ऐसी गाड़ी बनाई जानी चाहिए, जो शहर के अंदर ही चले। इसके इकॉनोमिक, पार्किंग और फ्यूल इफिशियंसी में अच्छे रिजल्ट आएं। इसका पेट्रोल वेरिएंट का माइलेज 36kmpl और CNG वेरिएंट का माइलेज 45kmpk है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Bajaj launched Qute quadricycle car in Indian market with Petrol and CNG variants starting price of Rs 2.63 lakh

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/bajaj-launched-qute-quadricycle-car-in-indian-market-with-petrol-and-cng-variants-6037120.html

एड शूटिंग के दौरान नजर आया इस कंपनी का नया स्कूटर, आलिया कर रही थीं एड प्रमोशन; नए डिजाइन का हेडलैम्प मिलेगा


ऑटो डेस्क। हीरो मोटोकॉर्प जल्द ही अपने पॉपुलर स्कूटर प्लेजर (Pleasure) फेसलिफ्ट का नया वेरिएंट लॉन्च कर सकती है। इस स्कूटर को नए कलर के साथ एक एड शूट के दौरान देखा गया। इस दौरान कंपनी की ब्रांड एंडोर्समेंट करने वाली एक्ट्रेस आलिया भट्ट इसे चलाती नजर आईं। इस स्कूटर में BSIV इंजन दिया है। बता दें कि फरवरी 2019 में कंपनी ने 617,215 यूनिट सेल की हैं।

ऐसे हैं इस स्कूटर के फीचर्स

प्लेजर में पहली बार न्यू ब्लू कलर मिलने वाला है। इसमें नया एलगन्ट लुकिंग हेडलैम्प दिया है। ये LED हेडलैम्प है, जो डे रनिंग फीचर के साथ दिया है। ऐसा माना जा रहा है कि हीरो इसमें एनालॉग-डिजिटल कोम्बो क्लस्टर देगी। स्कूटर के दोनों तरफ सिल्वर क्रोम की लेयर दी है, जिससे इसका लुक ज्यादा अट्रैक्टिव नजर आ रहा है।

हीरो प्लेजर के फीचर्स

हीरो प्लेजर में 102cc का सिंगल सिलेंडर एयर कूल्ड इंजन दिया है। ये 7PS पर 7000rpm पावर और 8.1Nm पर 5000rpm पीक टॉर्क जनरेट करता है। स्कूटर की टॉप स्पीड 77kmph है। इसका माइलेज 55 km/l है। कंपनी के दूसरे स्कूटर मेस्ट्रो एज और डुइट में भी इतने पावर का इंजन दिया है। इसमें 130mm ड्रम ब्रेक इंटीग्रेटेड ब्रेकिंग सिस्टम (IBS) के साथ दिए हैं। प्लेजर की दिल्ली एक्स-शोरूम प्राइस 47,100 रुपए है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Hero pleasure facelift spotted new blue colour at shoot alia bhatt, pleasure mileage and price

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/hero-pleasure-facelift-spotted-new-blue-colour-at-shoot-alia-bhatt-6037059.html

Maruti Celerio Gets ABS: मारुति ने अपनी इस कार जोड़े 4 एडवांस सेफ्टी फीचर्स, हाई स्पीड पर करेगी अलर्ट; सीट बेल्ट लगाने की दिलाएगी ध्यान


ऑटो डेस्क। मारुति सुजुकी इंडिया (MSI) अपनी हैचबैक सेगमेंट की कार सिलेरियो को सेफ्टी फीचर्स के साथ अपग्रेड किया है। कंपनी ने इस कार के सभी वेरिएंट्स में ABS (एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम), डुअल फ्रंट एयरबैग, सीट बेल्ट रिमाइंडर और स्पीड वार्निंग सिस्टम को एड किया है। यानी अब ये कार सभी सेफ्टी नोर्म्स को पूरा करती है। बता दें कि सिलेरियो मारुति के साथ इंडिया की बेस्ट सेलिंग कार की लिस्ट में शामिल है। इसकी कीमत 4.30 लाख से शुरू है। जो स्विफ्ट, डिजायर, बलेनो से काफी कम है।

मारुति सिलेरियो के फीचर्स

> सिलेरियो पेट्रोल और CNG वेरिएंट में आती है। पेट्रोल वेरिएंट का माइलेज 23.1km/l और CNG का माइलेज 31.76km/kg है।
> सिलेरियो में 998cc का K10B 3 सिलेंडर इंजन दिया है। इसका स्टैंडर्ड टाइप BS4+OBD II है।
> ये मैनुअल और ऑटो गियर शिफ्ट टेक्नोलॉजी के साथ आती है, यानी सारे गियर कार खुद ही चेंज करती है।
> ये मारुति की पहली ऑटो गियर शिफ्ट चेंज करने वाली पहली कार भी है।
> कार में 35 लीटर का फ्यूल टैंक दिया है। इसमें 5 सीटर के साथ बैक में 235 लीटर का बूट स्पेस दिया है।
> इसमें इलेक्ट्रॉनिक पावर स्टीयरिंग दी है। वहीं टायर साइज 165/70R14 है।
> इंट्रीग्रेटेड ऑडियो सिस्टम दिया है, जो ब्लूटूथ कनेक्टिविटी के साथ आता है। वहीं, स्टीयरिंग से ऑडियो कंट्रोल कर सकते हैं।

सिलेरियो की कीमत (दिल्ली एक्स-शोरूम)

CELERIO LXI की कीमत 4,30,675
CELERIO(TOUR H2) की कीमत 4,36,468 रुपए
CELERIO LXI(O) की कीमत 4,39,046 रुपए
CELERIO VXI की कीमत 4,69,525 रुपए
CELERIO VXI(O) की कीमत 4,76,644 रुपए
CELERIO ZXI की कीमत 4,95,311 रुपए
CELERIO VXI AMT की कीमत 5,12,525 रुपए
CELERIO VXI AMT(O) की कीमत 5,19,644 रुपए
CELERIO VXI CNG की कीमत 5,34,386 रुपए
CELERIO ZXI(OPT) की कीमत 5,35,665 रुपए
CELERIO ZXI AMT की कीमत 5,38,311 रुपए
CELERIO VXI CNG(O) की कीमत 5,42,387 रुपए
CELERIO ZXI AMT(O) की कीमत 5,47,666 रुपए



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
2019 Maruti suzuki celerio gets dual front airbags & more safety features as standard equipment, celerio mileage and top speed

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/2019-maruti-suzuki-celerio-gets-dual-front-airbags-6037035.html

दुबला होने की चाह रखने वालों के लिए इंस्पायरिंग स्टोरी : बिना किसी वर्कआउट के इस लड़के ने कम कर लिया 43 किलो वजन, खुद ने बताया आखिर कैसे बिना Gym जाए घटा लिया इतना वजन


हेल्थ डेस्क। वजन घटाने तो कई लोग चाहते हैं लेकिन जल्दी नतीजे न मिलने से हार जाते हैं लेकिन यदि लगातार मेहनत की जाए तो आपको लक्ष्य पाने से कोई रोक नहीं सकता। किसी समय दिल्ली के जय खन्ना का वजन 136 किलो हो चुका था लेकिन उन्होंने महज 6 माह में 43 किलो वजन कम कर लिया। उन्होंने मीडिया के साथ अपनी वेट लॉस जर्नी भी शेयर की है। जानिए आखिर उन्होंने ऐसा कैसे किया।

ऐसी ली डाइट
ब्रेकफास्ट
: कॉफी, टोस्ट, सब्जियां
लंच : दो रोटी, सब्जी, रायता और सलाद
डिनर : दो रोटी, सब्जी और रायता। बीच-बीच में स्नैक्स भी लिया करते थे।

किसी समय 2000 कैलोरी तक लेते थे
- किसी समय डाइट इतनी थी कि दो हजार कैलोरी तक बॉडी में जाती थी।
- जब मोटापा घटाने का ठाना तो फिर कैलोरी काउंट शुरू किया।
- इससे पता चला कि जरूरत से ज्यादा कैलोरी लेने से बॉडी में चर्बी बढ़ रही है।
- इसी के बाद धीरे-धीरे कैलोरी की मात्रा घटाते गए। इससे चर्बी भी कम होना शुरू हो गई।

वर्कआउट नहीं की
- वर्कआउट नहीं की। वे कहते हैं कि डाइटिंग से ही मेरा वजन कम हुआ। जय काफी ज्यादा कैलोरी लिया करते थे। वजन कम करने के लिए इसी को उन्होंने सबसे पहले कंट्रोल किया।
- वे यूट्यूब पर फिटनेस वीडियोज देखकर लगातार मोटिवेट हुआ करते थे। खुद को किसी भी हाल में चेंज करना चाहते थे।
- वे कहते हैं कि कभी कोशिश करना छोड़ना नहीं चाहिए। अपनी गलतियों से सीखना चाहिए। खुद से प्यार करना चाहिए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Weight-loss success: Most inspiring story of a boy who reduced 43 Kg weight: weight loss tips in hindi: weight loss diet: weight loss secrets in Hindi: Latest health news and updates: Dainik Bhaskar Hindi

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/most-inspiring-weight-loss-story-2019-6036842.html

Maruti Ertiga : मारुति की 4 पैसेंजर वाली लग्जरी अर्टिगा... ऊपर लगी है आसमान जैसी लाइट, बैक पैसेंजर्स के लिए दी 10-इंच की TV; कार की सीट भी हैं इतनी कम्फर्टेबल


ऑटो डेस्क। इंडिया में ऐसी कई कंपनियां है जो कार को मॉडिफाई करती हैं। मॉडिफाई होने के बाद कार का मॉडल न सिर्फ बदल जाता है, बल्कि ये इतना लग्जरी हो जाता है जिसे ड्राइव करने में अलग मजा आता है। कोयंबटूर, तमिलनाडु की कंपनी किटअप ऑटोमोटिव ने इसी तरह मारुति की अर्टिगा को मॉडिफाई किया है। इस कंपनी ने कार को नया रोज गोल्ड क्रोम कलर और पियानो ब्लैक रूफ दी है। कार के अंदर हैवी लेदर वाली ब्राउन-ब्लैक सीट्स लगाई हैं और रूफ पर स्काई पैटर्न LED लाइट दी है। बैक पैसेंजर्स के लिए 10-इंच LCD TV दी है। इस कार में 7 नहीं बल्कि सिर्फ 4 पैसेंजर के लिए सीट हैं। कार के इंटीरियर में क्या-क्या जोड़ा गया है और इसमें कितना खर्च आया। वीडियो में देखें...

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Maruti suzuki ertiga modified by klitup automotive with rose gold chrome wrap, mileage and cost

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/maruti-suzuki-ertiga-modified-by-klitup-automotive-with-rose-gold-chrome-wrap-6036862.html

ऐसा कहा जाता है कि ये सब्जी देती है मीट से भी 50 गुना ज्यादा तक ताकत, इसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है, डॉ ने बताया इसे खाने से मिलते हैं कौन से 10 बड़े फायदे


हेल्थ डेस्क। कई सब्जियां ऐसी हैं जो बॉडी को बहुत फायदा पहुंचाने वाली होती हैं लेकिन अक्सर लोगों को इनकी जानकारी नहीं होती। ऐसी ही एक सब्जी है कंटोला। इसके ककोरा और मीठा करेला के नाम से भी जाना जाता है। आयुर्वेदक एक्सपर्ट डॉ.अबरार मुल्तानी ने बताया कि इस सब्जी में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। इसे
डेली खाने से शरीर ताकतवर बनता है। इसके बारे में यह भी कहा जाता है कि इसमें मीट से 50 गुना ज्यादा ताकत और प्रोटीन पाए जाते हैं, हालांकि इस बारे में कोई स्टेडी नहीं लेकिन कंटोल से होने वाले फायदों को डॉक्टर सर्टिफाइड करते हैं।

क्या हैं इसे खाने के फायदे
1. इसे खाने से डायबिटिक पेशेंट का ब्लड शुगर लेवल कम होता है।
2. कैंसर होने की आशंका घटती है।
3. एंटी एजिंग यानी चेहरे को जवां और झुर्रियों से मुक्त रखने का काम करती है।
4. आंखों की ज्योति बढ़ाती है।
5. बहुत ज्यादा पसीना आने से रोकती है।
6. फाइबर और एंटी-ऑक्सीडेंट्स होने से डाइजेशन में बहुत फायदेमंद है।
7. फाइटोन्यूट्रिएंट्स का अच्छा सोर्स है और कैलोरी कम मात्रा में होती है।
8. यह शरीर को साफ रखने में मदद करती है।
9. इसमें मौजूद मोमोरडीसिन तत्व वजन व हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करते हैं। इसमें फाइबर ज्यादा मात्रा में होता है जिससे यह पाचन के लिए भी काफी अच्छी होती है।

10. कंटोला में मौजूद ल्युटेन से कैंसर तक की बीमारी ठीक होती है। इसमें प्रोटीन और आयरन भरपूर मात्रा में होता है, जबकि कैलोरी कम मात्रा में होती है। इस कारण इसे खाने से वजन भी तेजी से कम होता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Health Benefits of Kantola

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/health-benefits-of-kantola-6036871.html

Baba Ramdev Weight Lose Tips: बाबा रामदेव ने बताए वजन घटाने के 5 आसान टिप्स... सिर्फ 30 दिन में 10 किलो तक वजन हो सकता है कम


हेल्थ डेस्क। योग गुरु बाबा रामदेव ने मोटापा कम करने के टिप्स शेयर किए हैं। इन टिप्स में डाइट के साथ योग भी शामिल है। खास बात है कि इन टिप्स को हर इंसान आसानी से फॉलो कर सकता है। बाबा का कहना है कि इन्हें फॉलो करके महीनेभर में 10 किलोग्राम तक वजन कम किया जा सकता है। ये टिप्स पूरी तरह नेचुरल हैं इनसे वजन घटाने के साथ बीमारियां रोकने में भी मदद मिलती है। खास बात है इन टिप्स के लिए आपको किसी जिम में जाने की जरूरत नहीं है।

टिप नंबर-1
रोजाना एक कप गर्म पानी पीएं। एक महीने तक लगातार गर्म पानी पीने से कम से कम 2 किलो वजन घटाया जा सकता है। पानी किसी भी वक्त पिया जा सकता है। यदि सुबह उठकर पीते हैं तब ज्यादा फायदा होगा।

टिप नंबर-2
रोजाना कपालभाति प्रणायाम करें। इससे 45 दिनों में लगभग 10 किलो तक वजन कम किया जा सकता है। कपालभाती प्राणायाम करने के लिए सिद्धासन, पद्मासन या वज्रासन में बैठकर सांसों को बाहर छोड़ने की क्रिया करें। सांसों को बाहर छोड़ने या फेंकते समय पेट को अंदर की तरफ धक्का देना है। ध्यान रखें कि सांस लेना नहीं है, क्योंकि उक्त क्रिया में सांस अपने आप ही अंदर चली जाती है।

कपालभाति प्रणायाम के अन्य फायदे

> शरीर से टॉक्सिन्स बाहर निकलते हैं। लिवर और किडनी को दुरुस्त बनाता है।
> थकान कम होती है और शरीर में स्फूर्ति आती है। आंखों के नीचे के काले घेरा ठीक करता है।
> ब्लड सर्कुलेशन ठीक होता है और मेटाबॉलिज्म अच्छा होता है।

टिप नंबर-3
शक्कर खाना या फिर ज्यादा नमक खाना तुरंत बंद कर देना है। इन दोनों से मोटापा तेजी से बढ़ता है।

टिप नंबर-4
खाने बाद 10 से 15 मिनट बाद वज्रासन करना चाहिए। ये मोटापा बढ़ने से रोकता है। खाना खाने के बाद चटाई पर बैठ जाएं। दोनों घुटनों को मोड़ लें और पंजों के बल नीचे बैठ जाएं। ध्यान रहे कि दोनों पैरों के अंगूठे आपस में मिल रहे हों और एड़ियों में थोड़ी दूरी होनी चाहिए। शरीर का पूरा भर आप पैरों पर डालें। वज्रासन करते समय कमर एकदम सीधी रखें।

टिप नंबर-5
सप्ताह में एक बार व्रत रखें। रिसर्च भी कहती हैं कि व्रत रखने से कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं कम हो जाती हैं। इससे मोटापा के साथ-साथ ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्राल कम होता है। हालांकि, व्रत में फल और दूध ले सकते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Baba ramdev weight lose tips for all human; 10kg weight lose just 30 days

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/baba-ramdev-weight-lose-tips-for-all-human-6036891.html

होली की पार्टी को बनाना है एट्रेक्टिव तो अपनाएं ये टिप्स


लाइफस्टाइल डेस्क.भारतीय त्योहार हो और सजावट न हो ऐसा तो हो ही नहीं सकता। हर त्योहार की अपनी पहचान है और इनकी सजावट एक-दूसरे से काफ़ी अलग भी होती है। वहीं जब होली की बात की जाए तो सजावट इस त्योहार में भी कम नहीं होती है। अगर आप घर पर होली मना रहे हैं तो रंगीन पर्दे या फूलों से घर सजा सकते हैं। अगर घर से बाहर हॉल या गार्डन में मना रहे हैं तो इन्हें कई तरीक़ों से सजा सकते हैं। ये काफ़ी आसान होने के साथ-साथ किफ़ायती भी हैं।

  1. त्योहार की सजावट में खाने का इंतज़ाम न हो ऐसा तो हो ही नहीं सकता है। कई तरह की मिठाइयां, नमकीन, मठरी और ठंडाई होली के त्योहार को पूरा करते हैं। तो क्यों न इसे भी सजावट में शामिल करें। एक ठेला लीजिए उसपर सभी पकवान रख दीजिए। इसके चारों ओर शेड तैयार कीजिए और अंदर की ओर कागज़ की चक्री या फूल लगा दीजिए।

  2. गुलाल की टेबल भी सजा सकते हैं। इन रंगों को कांच के बड़े बोल में रखें। अगर कांच नहीं रखना चाहते तो इन्हें आकर्षक बड़े और गहरे बर्तन में रखिए। पीछे की ओर रस्सी या कागज़ से बनी गेंद और झंडियां लटकाकर सजाएं।

  3. गार्डन में बैठने के हिस्से को भी आकर्षक रूप से सजा सकते हैं। ये प्रकृति यानी हरियाली के बीचों-बीच हो तो और भी अच्छा है। कई रंग के पर्दों को सोफ़ा या स्टूल के पीछे लगाएं। ऊपर की ओर अगर शेड है तो उसपर लैंप लगाएं। आप चाहें तो यहां सोफ़ा की जगह झूला भी लगा सकते हैं और इसी प्रकार सजा सकते हैं।

  4. होली खेलने के बाद अंताक्षरी या ट्रूथ-डेयर जैसे खेल का आनंद लेना चाहते हैं तो ज़ाहिर है बैठने की जगह भी बनाएंगे। तो क्यों न इसे भी आकर्षक बनाया जाए। अगर गार्डन में पेड़ है तो इसके सहारे रिबन का टेंट बनाइए। इसके नीचे कई रंग की तकिया या गद्दे रख सकते हैं। होली के रंगों में रंगकर पेड़ की छांव और खेल का मज़ा लीजिए।

  5. हॉल या गार्डन को होली का रूप देने के लिए रिबन का इस्तेमाल कीजिए। गार्डन का एक छोर चुनें और रस्सी के सहारे रंगीन रिबन पर्दे की तरह लटका दें। ऊपर की ओर कई रंग के फूल लगाएं। ये कागज़ या कपड़े, दोनों के हो सकते हैं। इसे फोटो बूथ की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      useful tips for holi party arrangement

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/home-decor/news/useful-tips-for-holi-party-arrangement-01501959.html

पारम्परिक के साथ नई होली का आनंद


लाइफस्टाइल डेस्क.होलिका दहन के बाद होली पर्व की शुरुआत होती है। पूजा होती है, लोग होलिका की परिक्रमा करते हैं, एक-दूसरे को रंग लगाते हैं। ये तो हुई पारम्परिक होली। लेकिन क्या कभी माॅर्डन होली खेली है? इसमें पूजा भी होती है और रंग भी खेला जाता है। फ़र्क सिर्फ़ इतना है कि इसे मनाने का तरीक़ा थोड़ा अलग होता है। या यूं कहें कि आज के ज़माने के कुछ नए तौर-तरीक़े इसमें घुल-मिल चुके हैं। आइए, दोनों तरह से होली मनाते हैं...

  1. हर घर में होली की तैयारी एक हफ़्ते पहले से शुरू हो जाती है। पूजा के लिए पुष्प, कच्चा सूत, गुड़, साबुत हल्दी, गेंहूं की बालियां आदि के साथ गोबर से बनी ढाल और अन्य खिलौने मुख्य सामग्री होती है। ये खिलौने घर में ही बनाए जाते हैं। घर की महिलाएं गाय का गोबर लेकर इन्हें अपने हाथों से बनाकर धूप में सुखाती हैं। इन्हें बनाने का भी अपना आनंद है।

  2. होली की परिक्रमा करते हुए गेहूं की बालियों को सेका जाता है। होली की पूजा करके, गुलाल व व्यंजन अर्पित करके, वहां मौजूद लोगों को गुलाल लगाकर... खेलने की शुरुआत की जाती है। ढोलक, झांझ, मंजीरा पर फगुआ, चैता, चौपाल, बेलवरिया गीत गाते हैं।

  3. आज भी पारम्परिक रूप से लोग होली का जश्न मनाते हैं। पूजा करते हैं और गीत भी गाते हैं। लेकिन इनके साथ कुछ नई परम्पराएं जुड़ गई हैं। क्योंकि होली बुराई ख़त्म करने का त्योहार है, तो कुछ लोग इस दिन होलिका के साथ अपने अंदर की बुराई को ख़त्म करते हैं, सिर्फ़ एक पर्ची के ज़रिए। आप भी एक पर्ची पर अपनी बुराई या कमी लिखकर होलिका के साथ दहन कर सकते हैं।

  4. पहले हर मोहल्ले में अलग-अलग होली मनाई जाती थी। लेकिन अब सभी लोग मिल-जुलकर एक ही स्थान पर होली मनाते हैं। क्योंकि होली सौहार्द का त्योहार है तो एक-दूसरे की ज़रूरतों का ख्याल भी रखते हैं। अब सबकी ज़रूरतों को ध्यान में रखकर टेबल पर गोबर के खिलौने, गुलाल, गेहूं की बालियां आदि ज़रूरी सामग्री रख दी जाती है। वहीं से लेकर पूजा कर सकते हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      special story on holi festival

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/special-story-on-holi-festival-01501954.html

Hero Destini 125 : फरवरी में इस स्कूटर की डेली 857 यूनिट हुई सेल, होंडा और TVS की पॉपुलर स्कूटर को भी छोड़ा पीछे; 51km से ज्यादा है माइलेज


ऑटो डेस्क। हीरो मोटोकॉर्प ने अपने पॉपुलर स्कूटर डेस्टिनी 125 (Destini) की फरवरी में 24018 यूनिट सेल की है। यानी 28 दिनों के दौरान कंपनी ने डेली 857 यूनिट सेल की हैं। ये कंपनी का बेस्ट सेलिंग स्कूटर भी है। भारत में ये बेस्ट सेलिंग स्कूटर की कैटेगरी में दूसरे नंबर पर भी है। इसकी दिल्ली एक्स-शोरूम प्राइस 54,650 रुपए है। खास बात ये रही कि इसने होंडा ग्राजिया, टीवीएस एनटॉर्क को भी सेलिंग पीछे छोड़ दिया।

पिछले साल लॉन्च किया था स्कूटर

हीरो ने Destini 125 को बीते साल अक्टूबर में लॉन्च किया था। हालांकि, इसकी सेलिंग नवंबर 2018 से शुरू हुई थी। ये हीरो का 125cc इंजन वाला पहला स्कूटर भी है। जनवरी में कंपनी ने इसकी 21,352 यूनिट सेल की थी। यानी लगातार दूसरे महीने इसकी सेलिंग 20 हजार यूनिट से ज्यादा रही है।

फरवरी 2019 की सेलिंग

> Hero Destini 125 की 24,018 यूनिट सेल
> TVS Ntorq की 16,370 यूनिट सेल
> Honda Grazia की 8,373 यूनिट सेल

Destini 125 का इंजन

इस स्कूटर में 125cc का सिंगल-सिलेंडर एयर कूल्ड पेट्रोल इंजन दिया है। ये 8.70 bhp पर 6,750 rpm पावर और 10.2 Nm पर 5,000 rpm टॉर्क जनरेट करता है। इसमें ऑटोमैटिक गियरबॉक्स दिया है। स्कूटर की टॉप स्पीड 85km/h है। ये स्कूटर 51.58 kmpl का माइलेज देता है। इसमें मल्टी फंग्शन की (Key), मोबाइल चार्जर के साथ पेट्रोल टैंक बाहर की तरफ दिया है। फ्यूल टैंक को आगे की तरफ से चाबी से ओपन किया जाता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Hero Destini 125 Price, Images, Colours, Mileage & Reviews: Latest Auto news and Updates in Hindi: Dainik Bhaskar Hindi

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/hero-destini-125-best-selling-scooter-in-india-24000-units-sold-in-feb-2019-6036790.html

होली में घर रहे साफ़-सुथरा इसके लिए अपनाएं ये तरीके


लाइफस्टाइल डेस्क. रंगों से खेलना किसे पसंद नहीं होता, लेकिन जब यही रंग घर की दीवारों, फर्श और अन्य सामान को ख़राब कर देते हैं तो साफ़ करना काफ़ी मुश्किल हो जाता है। एक-दूसरे पर रंग डालने के दौरान घर की दीवारें और सामान भी रंग जाते हैं। लेकिन कुछ उपायों से इन्हें बचाया जा सकता है और रंगों को निकाला भी जा सकता है।सौंदर्य विशेषज्ञरत्ना श्रीवास्तव से जानें ये उपाय...

  • जहां तक संभव हो रंग और पानी की व्यवस्था घर से बाहर ही करें और एक बार रंग या गुलाल लग जाने पर आप स्वयं भी बार-बार अंदर-बाहर न हों।
  • रंगों से सबसे ज़्यादा पौधों को हानि पहुंचती है। ऐसे में होली के एक दिन पहले बाहर रखे गमलों को किसी ऐसी जगह रख दें जहां हुरियारों की पहुंच नहीं हो। यदि घर में बाग़ीचा बना हुआ है तो इन्हें किसी पुरानी चादर से ढंक दें।
  • अगर फर्श पर रंग गिर गया है तो इसे सूखने के बाद झाड़ू से झाड़ दें। टाइल्स पर से गीला रंग निकालना थोड़ा मुश्किल होता है। इसके लिए पुराने अख़बार को हल्का गीला करके रंग साफ़ करें। बेकिंग सोडा और थोड़ा पानी मिलाकर दाग़ वाली जगह पर डालकर सूखने दें। फिर गीले कपड़े से पोंछ दें।
  • घर में मौजूद क़ीमती सामान जैसे टी.वी., फ्रिज, कांच या मार्बल की टेबल, सजावट का सामान आदि को कपड़े से ढंक दें।
  • मेहमानों को व्यंजन परोसते वक़्त बर्तन भी रंग जाते हैं। ऐसे में डिस्पोज़ल्स का उपयोग कर सकते हैं। जहां तक सम्भव हो कुल्हड़-दोने आदि का इस्तेमाल करें।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
cleaning tips for holi festival

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/home-decor/news/cleaning-tips-for-holi-festival-01501899.html

Maruti Suzuki Launched New Car: मारुति की इस 7 सीटर कार का नया वेरिएंट लॉन्च.... अब सेफ्टी के लिए मिलेंगे 5 नए फीचर्स, स्पीड ज्यादा होने पर मिलेगा अलर्ट; 20km का देती है माइलेज


ऑटो डेस्क। मारुति सुजुकी इंडिया (MSI) ने अपनी 5 और 7 सीटर में आने वाली मल्टी पर्पज कार ईको (Eeco) का अपडेट वर्जन लॉन्च कर दिया है। कंपनी का कहना है कि इसमें नए सेफ्टी फीचर्स मिलेंगे, जो सुरक्षा के सभी नोर्म्स को पूरा करते हैं। जैसे, इसमें रिवर्स पार्किंग असिस्ट, को-ड्राइवर सीट बेल्ट रिमाइंडर जैसे फीचर्स मिलेंगे। इन फीचर्स के चलते कार की नई कीमत में 23 हजार रुपए तक का इजाफा किया गया है।

कंपनी ने दी ये जानकारी

मारुति सुजुकी इंडिया ने इस कार के बारे में बताया कि न्यू ईको रिवर्स पार्किंग असिस्ट सिस्टम और को-ड्राइवर सीट बेल्ट रिमाइंडर जैसे स्टैंडर्ड फीचर्स के साथ आएगी। इसके साथ, इसमें स्पीड अलर्ट सिस्टम, ABS, एयरबैग जैसे फीचर्स वेरिएंट के हिसाब से एड किए गए हैं। बता दें कि अभी ईको की दिल्ली एक्स-शोरूम प्राइस 3.37 लाख से 6.33 लाख रुपए तक है।

5 और 7 सीटर वेरिएंट वाली कार

मारुति की ये कार 5 और 7 सीटर वेरिएंट में आती है। दोनों कारों की लंबाई-चौड़ाई एक जैसी है। साथ ही, बूट स्पेस भी बराबर दिया है। 7 सीटर वेरिएंट में थर्ड रो सीट नहीं दी है। दोनों वेरिएंट 6 कलर में आते हैं, इसमें रेड, सिल्वर, ग्रे, व्हाइट, ब्लैक, ब्लू हैं। ये सभी मेटेलिक कलर्स हैं। इसके पेट्रोल वेरिएंट का माइलेज 16 km/l और CNG का माइलेज 20km/kg है।

5 सीटर वेरिएंट की शुरुआती कीमत : 3.37 लाख रुपए
5 सीटर CNG वेरिएंट की शुरुआती कीमत : 4.10 लाख रुपए
7 सीटर वेरिएंट की शुरुआती कीमत : 3.57 लाख रुपए



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Maruti Suzuki Eeco 2019 launched - Watch Eeco Exterior, Interior, Performance, safety, Price and other features: Dainik Bhaskar Latest Auto and Gadget news in Hindi

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/maruti-suzuki-eeco-2019-launched-with-add-on-safety-features-6036666.html

रंगों से होता है शृंगार धरा का


नीलम वर्मा
पेड़ों पर नई कोपलें उग आई हैं, सरसों के पीले पुष्प लहराकर मानो फाग गा रहे हैं, मंद शीतल बयार छूकर आनंद से भर रही है, गेहूं की बालियां खिलने लगी हैं, मानो प्रकृति भी रंगों के उत्सव में झूम जाने को आतुर है। मस्ती में है सारा आलम। पेड़ों पर आई नई-नवेली पत्तियों को छेड़ती हवाएं, सरसों, गेहूं की झूमती बालियां, महकता महुआ, पीपल के पत्तों के झुनझुने, ठंड से निजात पाकर चहचहाते पंछी, बौराया आम। फिज़ाओं में रंग छींटते लाल गुलमोहर, पीला अमलतास और केसरिया टेसू देख रहे हैं आप? सुन रहे हैं प्रकृति का बुलावा? जी हां! रंग और शोख़ी का त्योहार होली, आवाज़ दे रहा है, जीने का सही सलीक़ा एक बार फिर याद दिलाता हुआ।

  1. इंसान को प्रकृति से जोड़ते हैं ये त्योहार, ये मौसम के रंग ओढ़ते भी हैं, ख़ासतौर पर होली। बंद दरवाज़े और लिहाफ़ से बाहर निकलकर ज़रा देखें तो होली के बहाने प्रकृति आपको कैसे प्रेरित कर रही है। सारे पात शाखों से गिराकर पेड़ सिखा रहे हैं कि विपरीत परिस्थितियाें को जब अपने अनुकूल करना आपके बस में न हो तब ख़ुद को बदलें। और फिर परिस्थितियों के अनुकूल होते ही, नई शुरुआत करें। ध्यान से देखें, उस नाज़ुक हरी कोपल को और अपने अंदर नई आशा का संचार होने दें।

  2. नज़र को जज़्ब करने दें प्रकृति की 'देने' की अदा। फूल हो या फल, पेड़ भरपूर बेहिसाब देते हैं। देखा कहीं और प्रकृति-सा स्वार्थरहित, बड़े दिल वाला उदारदाता? आप सीखें 'देना' बिना अपेक्षा के। खुले दिल से दूसरों के लिए कुछ करके देखिए, रूहानी सुकून महसूस होगा। प्रकृति सिखाती है सिर्फ़ अपनी इच्छाएं पूरी करने में लगे इंसान सबकुछ मिल जाने के बाद भी अंदर से ख़ाली महसूस करते हैं। देना जान जाएं, तो फूलों-सा खिल उठेंगे। फूलों के बाग़-सा मन का आंगन झूम उठेगा।

  3. यह त्योहार आपको आमंत्रित करता है। बाहर निकलें और फिर प्रकृति की तरह भरपूर जिएं, जैसे एक बच्चा जीता है। अपने अंदर के बच्चे को जी लेने दें। अपनों के बीच, हंसें खिलखिलाएं, ठहाके लगाएं, शैतानियां करें, नाचें-गाएं। यही सबकुछ तो समेेटे है होली का त्योहार। टोली बनाएं, कहीं इकट्‌ठा हो जाएं। सारे कामकाज भूलें, बस एक दूसरे का सान्निध्य आनंद लें। बोन-फायर। जी हां, यह तो शगल है आज का। हल्की ठंड में आग की गर्माहट जो आपके रिश्तों में भी गर्माहट ले आएं।

  4. रंग-गुलाल बरसाएं, गले लग जाएं। जो बात हज़ार शब्द न कह सके, एक बार गले लगकर या फिर सिर्फ़ यही कहकर जतानी हो कि आप मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं, तो इससे अच्छा मौक़ा और कब होगा? बच्चों की तरह बेपरवाह होकर गाना, नाचना इस त्योहार का रिवाज़ है। यह त्योहार न सिर्फ़ आपसी भेद मिटाता है बल्कि बड़ों को फिर से बच्चा बन जाने का मौक़ा भी देता है। तो आज जी लीजिए बिल्कुल छोटे बच्चे की तरह। ढोलक की थाप, बेसुरे दोस्तों के साथ, होली का सुरूर और आप।

  5. होली पर आप से दरकार है शरारतों की भी। जानते हैं न आप खिलंदड़पना तनाव दूर करने में कितना कारगर होता है? हल्की-फुल्की चुहल का नतीजा, सकारात्मक माहौल और बहुत-सी मुस्कराहटें भी हो सकता है। तो होली पर हो लें हल्के। सनद रहे, मज़ाक करने और मज़ाक उड़ाने में फ़र्क़ होता है। अच्छे चुटकुले, ख़ुद पर बीती मज़ेदार घटनाएं, पुरानी बातें, जो आज भी हंसाती हैं, प्यारभरी नोंक-झोंक, इस त्योहार की जान हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      special story on holi festival

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/special-story-on-holi-festival-01501831.html

IRCTC andaman tour package 2019: होली की छुटि्टयों के पहले IRCTC ने पेश किया अंडमान का टूर पैकेज, 4 दिनों तक पोर्ट ब्लेयर से लेकर हैवलॉक आइलैंड तक घूमने का मौका, देश के सबसे खूबसूरत टूरिस्ट प्लेस में से एक है ये


ट्रैवल डेस्क। IRCTC टूरिज्म ने अंडमान हॉलीडे टूर पैकेज पेश किया है। इसमें पोर्ट ब्लेयर, हैवलॉक आइलैंड जैसी जगह घुमाई जाएंगी। 31 मार्च तक हर रोज यह ट्रिप है। जानिए इसकी पूरी डिटेल।

क्या-क्या शामिल होगा
/>- पोर्ट ब्लेयर में 3 दिन का स्टे होगा।
- हैवलॉक में एक दिन का स्टे होगा।
- होटल में ठहरने की व्यवस्था होगी।
- सभी स्थलों पर घूमने के लिए गाड़ी की व्यवस्था होगी।
- सभी जगह की परमीशन, एंट्री टिकट, लग्जरी क्रूज टिकट, फॉरेस्ट एरिया में घूमने का परमीट भी दिया जाएगा।
- ब्रेकफास्ट हर रोज दिया जाएगा।
- सभी टैक्स शामिल होंगे।

क्या शामिल नहीं होगा
- ट्रेन, एयर का किराया पैकेज में शामिल नहीं।
- किसी भी तरह की व्यक्तिगत खर्चा आपको ही वहन करना होगा।
- कुल 10 सीटें।

कहां से शुरू होगा टूर
- टूर पोर्ट ब्लेयर एयरपोर्ट से शुरू होगा। यानी यहां तक आपको अपने इंतजाम से पहुंचना होगा।
- चौथे दिन सभी यात्रियों को पोर्ट ब्लेयर ही ड्रॉप किया जाएगा। यहां से जाने की व्यवस्था खुद करनी होगी।

कितना आएगा खर्चा
- स्टेंडर्ड कैटेगरी में बुकिंग 13,660 रुपए प्रति व्यक्ति से लेकर 16030 रुपए तक।
- कम्फर्ट कैटेगरी में बुकिंग 15,920 रुपए से लेकर 18875 रुपए तक।
- बुकिंग के लिए आईआरसीटीसी टूरिज्म की वेबसाइट www.irctctourism.com पर विजिट करें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
IRCTC Andaman Holiday Tour Package: Holiday Packages, Tour Packages in India: Domestic Budget Holiday Packages: Dainik Bhaskar Hindi News

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/irctc-andaman-tour-package-2019-latest-news-in-hindi-6036649.html

जीवन के रंग


पंकज सुबीर

इसमें तो समय लगेगा ही लगेगा, आप क्यों चाह रहे हैं कि बस एक दिन में ही सब कुछ ठीक हो जाए।’ रीमा ने सृजन की ओर देखते हुए कहा। सृजन उसका पेशेंट है। रीमा डेंटिस्ट है और यह उसका क्लीनिक है। ‘तीन दिन बाद होली है मैम और मैं सब कुछ छोड़ सकता हूं लेकिन होली की हुड़दंग, खाना- पीना, मौज-मस्ती नहीं छोड़ सकता।’ सृजन ने कुछ उत्साह के साथ उत्तर दिया। ‘नो नो नो, इस बार नो होली, नो खाना-पीना। आपकी रूट कैनाल थैरेपी हो रही है। अभी मैं परमीशन नहीं दूंगी इसकी।’ रीमा ने बहुत धीमे से मुस्कराते हुए कहा। ‘इसीलिए तो कह रहा हूं मैम, आप मुझे दो दिन में इतना तो कर ही दीजिए कि मैं होली पर जमकर खा-पी सकूं। दोस्तों के साथ हुड़दंग में शामिल हो सकूं’, सृजन ने कहा। रीमा ने सृजन को देखा। बाईस-तेईस साल का अच्छा-ख़ासा युवक, ख़ूबसूरत, ज़हीन और संस्कारित। मगर कैसे बच्चों की तरह बात कर रहा है। सोचते ही रीमा को हंसी आ गई। ‘अरे, आप तो हंस रही हैं, मैंने जोक थोड़े ही सुनाया है।’

सृजन ने मुस्कराते हुए कहा। ‘मैं तो इस पर हंस रही हूं कि आप कैसे बच्चों की तरह बातें कर रहे हैं। होली को लेकर कितना एक्साइट हो रहे हैं। लगता है कि आपका बचपन गया ही नहीं है। इतना एक्साइट तो आजकल के बच्चे भी नहीं होते फेस्टिवल को लेकर।’ हंसते हुए ही उत्तर दिया रीमा ने। ‘आजकल के बच्चे भी कोई बच्चे हैं मैम, वो तो एकदम से बड़े हो जाते हैं। बचपन के बाद सीधे बड़े होते हैं, बीच में कुछ नहीं। मैं तो इसे अपने लिए कॉम्प्लीमेंट समझता हूं कि आपने मुझे बच्चा कहा।’ सृजन ने मुस्कराते हुए ही उत्तर दिया। ‘आप तो शायद होली नहीं मनाती होंगी मैम।’ रीमा को चुपचाप अपने काम में जुटा देख सृजन ने कहा। ‘मैं....? अब कहां और किसके साथ मनाई जाए होली। ज़िंदगी बहुत आगे निकल आई है। अब तो बस काम, काम, काम। बस यही होली है और यही दिवाली है।’ रीमा ने उसी प्रकार अपने काम में लगे हुए उत्तर दिया।

सृजन को उसके पास आते हुए एक-डेढ़ महीना हो गया है। दो-तीन दांतों में समस्या है, इसलिए बार-बार आना पड़ता है। इसी कारण वह थोड़ा खुल गया है रीमा के साथ। सृजन आख़िरी पेशेंट के रूप में आता है, बिलकुल क्लीनिक बंद होने के समय। सृजन का स्वभाव ऐसा है कि वो किसी के साथ भी बहुत जल्दी फ्रेंडली हो जाता है। ‘ये तो आपका ग़लत सोचना है मैम, ज़िंदगी कहीं आगे नहीं निकलती। हम ही उसे छोड़कर आगे निकल जाते हैं। ज़िंदगी उसी जगह खड़ी हमारी राह देखती रहती है कि हम लौटेंगे और उसे जिएंगे मगर हम व्यस्त होते जाते हैं और फिर कभी नहीं लौटते।’

सृजन ने दार्शनिक के अंदाज़ में कहा। ‘कभी-कभी हम व्यस्त ख़ुद नहीं होते, हमें होना पड़ता है। कुछ ऐसा जिसे भूलना हो, जो बारबार याद आकर हमें परेशान करता हो, उसके कारण हमें व्यस्त होना पड़ता है। अभी आपने ज़िंदगी को बहुत कम देखा है, इसलिए आप ये किताबी बातें कर सकते हैं।’ रीमा ने कुछ ठहरे हुए स्वर में उत्तर दिया। कम से कम दस साल तो छोटा है ही सृजन उससे। रीमा के कहते ही सृजन चुप हो गया। आंखें बंद करके कुशन पर सिर टिका दिया। कुछ देर के लिए ख़ामोशी छा गई। रीमा भी चुपचाप फिलिंग मटेरियल तैयार करती रही। ‘कौन था मैम?’ सृजन ने सिर टिकाए-टिकाए ही बहुत संक्षिप्त सा प्रश्न किया। ‘कौन...?’ रीमा ने प्रश्न के उत्तर में प्रश्न किया। ‘वही जिसे आप भूलना चाहती हैं, और इतना व्यस्त हो रही हैं कि अपनी ज़िंदगी भी नहीं जी पा रही हैं।’ सृजन ने बिना आंखें खोले ही अपने प्रश्न को थोड़ा खोलकर कहा। ‘होता है... कोई न कोई तो हम सबके जीवन में होता है, जिसे हम भूलना चाहते हैं।’

रीमा ने अपने बनाए दायरे में आ रहे सृजन को जान-बूझ कर थोड़ी लिबर्टी दी। ‘भूलना चाह रही हैं तो भूल क्यों नहीं पा रही हैं, ऐसा क्या मुश्किल हो रहा है। क्या जिसे भूलना चाह रही हैं, वह भूलने लायक़ नहीं है। अगर नहीं है तो उसे बिलकुल मत भुलाइए।’ सृजन ने बिना आंखें खोले कहा। ‘नहीं वो भूलने लायक़ ही है।’ रीमा ने संक्षिप्त सा उत्तर दिया। ‘तो फिर मुश्किल क्या है, भूलिए उसे और लौट आइए अपनी ज़िंदगी में। उसके चक्कर में इसे क्यों ख़राब कर रही हैं।’ सृजन ने कहा। रीमा ने कोई उत्तर नहीं दिया। ‘आप को देखकर लगता है कि आप बहुत शरारती रही हैं और आपने बहुत हंगामे के साथ होलियां खेली हैं।’

सृजन ने रीमा को चुप देखकर कहा। ‘अरे, आपको कैसे पता चला?’ रीमा हैरत में पड़ गई। ‘आपकी उंगलियां प्रकृति प्रेमी की उंगलियों जैसी हैं। और जो प्रकृति प्रेमी होते हैं, होली तो उनका ही त्योहार होता है।’ सृजन ने उत्तर दिया। ‘मैम, जब हम किसी के कारण परेशान होकर, दुखी होकर अपने आप को एक दायरे में बांध लेते हैं, तो असल में उल्टा करते हैं। हमें तो और ज़्यादा नाचना-कूदना चाहिए। ख़ूब मौज-मस्ती करनी चाहिए कि उस मनहूस से हमें छुटकारा मिला।’ सृजन ने रीमा को चुप देखा तो कहा। ‘इन्ट्रेस्टिंग...।’ रीमा ने ड्रिल को अपनी जगह पर रखते हुए कहा। ‘और ये जो होली का त्योहार आता है न, ये आता ही इसलिए है कि छोड़ो सब मनहूसियत और जी लो ज़िंदगी। मगर देखिए न आजकल तो सब इस त्योहार से भागते हैं। घर में घुसे रहते हैं।’

सृजन ने कुछ नाराज़गी के स्वर में कहा। ‘मैं उसको भूलना तो बहुत चाहती हूं, पर भुला नहीं पाती। उसने जो कुछ किया वो...’ रीमा ने बात को बीच में ही छोड़ दिया। ‘उसका तो दो तरफ़ा ही फ़ायदा है मैम, जब तक आपके साथ था, तब भी आपको दुखी रखता था और ख़ुद मज़ेकरता था। और अब जब आपका और उसका साथ छूट गया तब भी वो तो कहीं न कहीं ख़ुश ही होगा और आप यहां सूमड़ी बनी फिर रही हैं।’ सृजन ने कहा। ‘सूमड़ी... इसका क्या मतलब होता है?’ रीमा ने पूछा। ‘इसका मतलब होता है फीमेल मनहूस, मेल मनहूस को सूमड़ा कहा जाता है।’

सृजन ने कहा। ‘छोड़िए उस एक याद को और लौट आइए अपनी ज़िंदगी में। दो दिन बाद होली का त्योहार है, कूद पड़िए रंगों में, रंग आपका इंतज़ार कर रहे हैं। ज़िंदगी आपके लिए उसी मोड़ पर रुकी इंतज़ार कर रही है।’ ‘इच्छा तो मेरी भी यही होती है, लेकिन एक याद जैसे मन के किसी कोने में जम गई है। वहां से हट ही नहीं रही है। उसने जो कुछ किया, वो उसकी फ़ितरत थी, लेकिन सच ये है कि मैंने तो उसे बहुत चाहा था, बहुत टूटकर चाहा था।’ रीमा का स्वर एकदम उदास हो गया। सृजन चुप रहा। ‘कैसे अपने आप को निकालूं उस सब से बाहर? हर बार वही सब याद आता है और मन बहुत गहरे तक उदास हो जाता है। डूब जाता है।’ रीमा के स्वर में कंपन है और उदासी-सी गहरे तक घुल गई है उसकी आवाज़ में। ‘मैम, आप रूट कैनाल थैरेपी में क्या करती हैं? पहले ड्रिल करके दांत के क्राउन के बाहर के हार्ड इनेमल को तोड़ती हैं, फिर अंदर जो सड़ चुका पल्प जमा है उसे पानी की तेज़ धार से निकाल देती हैं। फिर उसके बाद वहां पर दूसरा फिलिंग मटेरियल भर देती हैं और फिर ऊपर से क्राउन पर कैप लगाकर सील कर देती हैं।’ सृजन ने आंखें बंद किए-किए ही कहा। ‘हां यहीं करती हूं...।’ रीमा ने उत्तर दिया। ‘यही जीवन में भी कीजिए। ड्रिल कीजिए, तोड़िए और फिर तेज़ धार से जो सड़ा हुआ पल्प जमा है उसे निकाल बाहर कीजिए। जब पूरा साफ़ हो जाए तो अंदर फिलिंग मटेरियल भरकर पैक कर दीजिए। और आख़िर में कैप लगा कर बंद कर दीजिए। आप ने ख़ुद यह प्रोसीजर मुझे समझाया था पहले दिन, और आप ख़ुद ही इसे समझ नहीं पा रही हैं। आप ही ने कहा था कि जो सड़ चुका है उसे निकालना ही पड़ेगा, उसके निकले बिना दर्द ठीक नहीं होगा। सड़े हुए पल्प से दर्द और इंफेक्शन दोनों का ख़तरा होता है।’ इस बार सृजन ने आंखें खोलकर रीमा की आंखों में आंखें डालकर कहा। रीमा आश्चर्य से देख रही थी सृजन को, जो कितनी आसानी से उसके ही पेशे की फ़िलॉसफ़ी उसे ही समझा रहा था। वह फ़िलॉसफ़ी जो वह आज तक समझ ही नहीं पाई थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
special story on holi festival

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/special-story-on-holi-festival-01501814.html

Happy Holi 2019 : होली का पक्का रंग भी आसानी से निकल जाएगा; बस खेलने से पहले ये एक चीज लगाएं


यूटिलिटी डेस्क। होली के त्योहार में चेहरे पर रंग का लग जाना आम बात है। हालांकि, रंग पक्का हुआ तब इसे निकालने के लिए बहुत मेहनत करना पड़ती है। कई बार तो रंग निकलने में सप्ताहभर लग जाता है। ऐसे में इस बार की होली पर रंग से बचने के लिए आप पहले ही तैयारी कर लें। आपको इसके लिए एलोवेरा जेल की जरूरत होगी। एलोवेरा आपको कलर्स से कैसे बचाएगा, इस बारे में भोपाल की ब्यूटी एक्सपर्ट कांता सूद ने सबकुछ बताया। बता दें कि कांता सूद बीते 20 सालों से मेकअप फील्ड में काम कर रही हैं।

एक्सपर्ट के टिप्स

कांता सूद ने बताया कि होली के दिन बाहर निकलने से पहले अपनी पूरी बॉडी पर एलोवेरा जेल का अच्छी तरह लगा लें। एलोवेरा से आपकी स्किन पर एक लेयर बन जाएगी, जो कलर्स को स्किन में बैठने नहीं देगी। ऐसे में कलर्स हटाने के लिए आपको ज्यादा मेहनत की जरूरत नहीं होगी। इसे बालों में भी लगाया जा सकता है, ताकि रंग से बाल भी खराब नहीं हों। रंग हटाने के लिए डेली यूज होने वाला साबुन इस्तेमाल किया जा सकता है।

एलोवेरा जेल के 2 फायदे

1. एलोवेरा जेल का पहला फायदा तो ये है कि ये स्किन पर लेयर बना देता है, जिससे रंग डायरेक्ट स्किन को इफेक्ट नहीं पहुंचाते।
2. दूसरा फायदा ये है कि एलोवेरा आपको दूसरे तेल की तुलना में सनबर्न या सन रेज से बचाता है।

स्किन से कलर को ऐसे निकालें

कांता सूद ने बताया कि चेहरे या स्किन के दूसरे हिस्से से कलर्स निकालने के लिए कच्चे दूध का इस्तेमाल किया जा सकता है। कच्चे दूध में कोई कपड़ा या कॉटन डिप करके कलर पर लगाएं। ऐसा करने पर कलर छूटने लगता है। बाद में डेली यूज होने वाले साबुन से स्किन धो लें। कलर छुटाने के लिए स्किन को रगड़ें नहीं, ऐसा करने पर स्किन डैमेज हो जाएगी। रंग छुटाने के बाद स्किन पर एलोवेरा जेल लगा लें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Holi 2019 : How to remove holi color: Holi health tips:Holi Color 2019:Happy Holi 2019: Dainik Bhaskar Hindi Latest Utility News and Videos in Hindi

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/how-to-remove-permanent-colours-from-face-naturally-6036299.html

भारत सहित 18 देशों में जारी हुए हैं गोरैया पर डाक टिकट मकसद यही कि आमजन इसे बचाने के प्रति हो जागरूक


लाइफस्टाइल डेस्क. करीब 10 साल पहले तक हमारे घर-आंगन में गोरैया की चहक आम थी, लेकिन आज यह नन्ही चिड़िया संकट में है। अंग्रेजी में कॉमन हाउस स्पेरो के नाम से जानी जाने वाली गौरेया लगभग सभी देशों में पाई जाती है, लेकिन इसकी संख्या में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। इन्हें संरक्षित करने के लिए साल 20 मार्च, 2010 से हर साल विश्व गोरैया दिवस यानी वर्ल्ड हाउस स्पेरो डे मनाया जाता है। इस मौके पर भास्कर मिला खमेसरों का टिंबा (जगदीश चौक) निवासी 52 वर्षीय पुष्पा खमेसरा से, जो 40 साल से गोरैया सहित लुप्त होने के कगार पर पहुंचे चुके परिंदों पर देश-विदेश में जारी डाक टिकटों का कलेक्शन कर रही हैं।


उन्होंने बताया कि भारत, ब्रिटेन, चीन, अमेरिका, बांग्लादेश, स्पेन, सीरिया, बेलारूस, मार्शल आइलैंड, सेंट्रल अफ्रीका, कजाकिस्तान, युगांडा जैसे 18 देशों में गोरैया पर डाक टिकट जारी हुए हैं, जिनका कलेक्शन उनके पास है। वे अब तक 320 देशों में विभिन्न पक्षियों पर जारी किए 10 हजार से ज्यादा डाक टिकटों का संग्रह कर चुकी हैं। उद्देश्य देशभर में जगह-जगह इनकी प्रदर्शनी लगाकर लोगों में पक्षी प्रेम जगाना है। उन्होंने बताया भारतीय डाक विभाग ने भी इनके संरक्षण एवं जन जागृति के लिए 9 जुलाई 2010 को डाक टिकट जारी किया था और दिल्ली सरकार ने इसे राज्य पक्षी घोषित किया था।

  1. पक्षी विशेषज्ञ विनय दवे बताते हैं कि गोरैया के घोंसलों की जगह खत्म होती जा रही है। पेस्टिसाइड युक्त दाना खाने से भी गोरैया मरती जा रही हैं। वहीं मैना की लगातार बढ़ रही संख्या के कारण दोनों के बीच वर्ग संघर्ष की स्थिति पैदा हो गई है।

    • हालात ये हैं कि मैना गोरैया को उनके घोंसलों से खदेड़ देती है। अनाज के ज्यादा दाने खाने से गोरैया का पाचन तंत्र खराब हो जाता है। इसकी बड़ी वजह पक्षी प्रेमियों का उसे जरूरत से ज्यादा दाना खिलाना भी है।
    • असल में गोरैया का पाचन तंत्र कीट-पतंगों को खाने के लिए उपयुक्त बताया जाता है। कीट-पतंगे खाने से ही उसे प्रोटीन मिलता है। इससे एक छोर पर उसका शारीरिक विकास होता है तो दूसरी ओर कीट-पतंगों की संख्या भी नियंत्रित रहती है।
  2. अपने घरों के बाहर बॉक्स नुमा वस्तु टांग दें ताकि गोरैया उनमें अपना आशियाना बना ले

    • गोरैया को दाना कम खिलाएं
    • पानी पिलाने के लिए मिट्टी के ही पात्र रखें
    • पेस्टिसाइड जैसे रसायन के उपयोग पर लगाम लगाएं।


    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      special story for world gauraiya day

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/special-story-for-world-gauraiya-day-01501785.html

Holi 2019: फोन में चला जाए पानी, तो बिना समय गवाएं फॉलो करें ये 7 स्टेप्स; शायद बड़े नुकसान से बच जाएं


यूटिलिटी डेस्क। होली खेलने के दौरान यदि आपके स्मार्टफोन में पानी चला जाए तब घबराने की जरूरत नहीं है। फोन में पानी जाने से इसके अंदर के इलेक्ट्रॉनिक पार्ट्स खराब हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में आप घर पर ही कुछ आसान स्टेप फॉलो करके उसे रिपेयर कर सकते हैं, यानी उसका पानी निकाल सकते हैं।

पानी सुखाने में न करें ये गलतियां

1. फोन को ड्रायर से सुखाने की कोशिश ना करें। ड्रायर बहुत ज्यादा गर्म हवा फेंकता है ऐसे में फोन के सर्किट्स पिघल सकते हैं।
2. फोन भीग गया है तो उसे तुरंत ऑफ करें। किसी और बटन का इस्तेमाल करने से शॉर्ट सर्किट का खतरा काफी बढ़ जाता है।
3. हेडफोन जैक और फोन के यूएसबी पोर्ट का इस्तेमाल तब तक ना करें जब तक फोन पूरी तरह से सूख ना गया हो। इनके इस्तेमाल फोन के इंटरनल पार्ट्स में नमी पहुंचने का खतरा बढ़ जाता है।

एक्सपर्ट की राय

भोपाल के मोबाइल रिपेयरिंग एक्सपर्ट प्रशांत दिलारे बताते हैं कि मोबाइल के अंदर या बाहर का पानी सुखाने के लिए कभी भी ड्रायर या किसी अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण का यूज नहीं करना चाहिए। इससे फोन और ज्यादा खराब हो सकता है। सिलिका जेल के पैकेट या चावल से मोबाइल को सुखाया जा सकता है।

इन स्टेप्स को करें फॉलो

STEP : 1
फोन पानी में भीग गया है तो सबसे पहले उसे ऑफ कर दें। फोन के ऑन रहते हुए अगर पानी अंदर के किसी हिस्से में चला गया तो शॉट सर्किट हो सकता है। ध्यान रहे अगर फोन पानी में गिर गया है या वो भीग गया है तो ये चेक करने की कोशिश ना करें की उसका कोई बटन चल रहा है या नहीं। सबसे पहले उसे ऑफ करना ही समझदारी होगी।

STEP : 2
भीगे हुए फोन को ऑफ करने के बाद उसकी सभी एक्सेसरीज को अलग कर दें। यानी बैटरी, सिम कार्ड, मेमोरी कार्ड के साथ फोन से अटैच की हुई कॉर्ड को भी अलग करके सूखे हुए टॉवल पर रखें। इन सभी एक्सेसरीज को अलग करने से शॉर्ट सर्किट का खतरा कम हो जाएगा।

STEP : 3
अगर आपके फोन में नॉन-रिमूवेबल बैटरी है (फोन में फिक्स रहने वाली बैटरी) तो बैटरी निकालकर ऑफ करने का विकल्प खत्म हो जाएगा। ऐसे में पावर बटन को उस समय तक दबाकर रखें जब तक फोन बंद नहीं हो जाता। नॉन रिमूवेबल बैटरी के कारण शॉर्ट सर्किट हो सकता है।

STEP : 4
फोन की एक्सेसरीज को अलग करने के बाद फोन के सभी पार्ट्स को सुखाना जरूरी है। इसके लिए पेपर नैपकिन का इस्तेमाल करना सबसे अच्छा माना जाता है। इसके अलावा, फोन को पोंछने के लिए नरम तौलिए का भी यूज किया जा सकता है।

STEP : 5
टॉवल से पोंछने के बाद सबसे जरूरी काम होगा फोन के इंटरनल पार्ट्स को सुखाना। इसके लिए फोन को एक बर्तन में सूखे चावल से दबाकर रख दें। चावल तेजी से नमी सोखते हैं। ऐसे में फोन के इंटरनल पार्ट्स सूख जाएंगे।

STEP : 6
चावल के बर्तन में अगर फोन को ना रखना चाहें तो सिलिका जेल पैक (silica gel pack) का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। ये जेल पैक्स जूतों के डिब्बों में रखे जाते हैं। इनमें चावल से ज्यादा तेजी से नमी सोखने की ताकत होती है।

STEP : 7
अपने फोन को कम से कम 24 घंटों तक सिलिका पैक या फिर चावल के बर्तन में रखे रहने दें। जब तक ये पूरी तरह सूख ना जाए इसे ऑन करने के बारे में मत सोचिए। फोन के साथ-साथ बैटरी और बाकी एक्सेसरीज को भी चावल में सुखाया जा सकता है। जब तक फोन पूरी तरह से ना सूखे इसे ऑन ना करें।

नोट : इन स्टेप्स के बाद भी फोन ऑन नहीं होता या कोई दूसरी प्रॉब्लम आती हैं, तब उसे सर्विस सेंटर पर दिखाएं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Holi 2019: How to Dry Out a drenched Phone:holi 2019 mobile offers:holi 2019 mobile tips and tricks:Holi 2019 Mobile: Dainik Bhaskar latest gadget news in Hindi

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/how-to-fix-water-damaged-smartphone-in-holi-season-6036416.html

Holi offers: ब्रांडेड कंपनी की फुल साइज वॉशिंग मशीन सस्ते में खरीदने का मौका, अभी 3000 रुपए का मिल रहा डिस्काउंट; इन दो ऑफर के बाद 4750 रह जाएगी कीमत


गैजेट डेस्क। फ्लिपकार्ट पर 3 दिन की ग्रैंड होम अप्लायंस सेल 22 मार्च को शुरू होगी। इस सेल को होली फेस्टिव सीजन के चलते लाया गया है। सेल में होम अप्लायंस, किचन अप्लायंस, टेलीविजन, इलेक्ट्रॉनिक, समर अप्लायंस जैसे कई आइटम पर बड़ा डिस्काउंट मिलेगा। MarQ कंपनी की 6.5 किलोग्राम कैपेसिटी वाली सेमी ऑटोमैटिक वॉशिंग मशीन को सेल से 6,499 रुपए में खरीद सकते हैं। मशीन की MRP 9,499 रुपए है। यानी अभी 3000 रुपए का फायदा मिलेगा। इसका मॉडल नंबर MQSA65 है।

ये ऑफर्स भी मिलेंगे

> इस मशीन को 1,084 रुपए की मंथली नो कोस्ट EMI पर खरीद सकते हैं।
> पुरानी वॉशिंग मशीन एक्सचेंज करने पर 1500 रुपए का डिस्काउंट मिलेगा।
> एक्सिस बैंक बज क्रेडिट कार्ड पर 5% का एक्स्ट्रा डिस्काउंट।

यदि आप किसी पुराने वॉशिंग मशीन को एक्सचेंज करते हैं तब नई वॉशिंग मशीन 4999 रुपए में मिल जाएगी। वहीं, एक्सिस बैंक बज क्रेडिट कार्ड पर 5% का एक्स्ट्रा डिस्काउंट के बाद इसकी कीमत 4750 रुपए रह जाएगी।

MarQ सेमी ऑटोमैटिक मशीन के फीचर्स

> ये वॉशिंग मशीन एक बार में 6.5 किलोग्राम कपड़े धो सकती हैं।
> इसमें अधिकतम 35 मिनट का टाइमर लगाया जा सकता है।
> वॉशिंग मशीन में कपड़े खंगालने और सुखाने के लिए ड्रायर भी दिया है।
> इनमें कपड़े धोनी के लिए 3 मोड दिए हैं। ये सेमी ऑटोमैटिक हैं।
> इस मशीन पर कंपनी 2 साल और मोटर पर 5 साल वारंटी भी दे रही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Flipkart holi offers on marq semi automatic top load washing machine see full discount offers

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/flipkart-holi-offers-on-marq-semi-automatic-top-load-washing-machine-6036570.html

असम के एक गांव का आइडिया, गत्तों के डिब्बों में घाेंसला बनाया तो लौट आईं गौरैया


लाइफस्टाइल डेस्क. पिछले 40 सालों में भारत में गौरैया की तादाद 60% तक घटी है लेकिन देश में एक ऐसा गांव भी है जहां इनके चहचहानेकी आवाज गूंजती है। महज 65 घरों वाले असम के एक गांव बोरबली समुआ ने गौरैया को बचाने के लिए खास पहल शुरू की है। यहां के ग्रामीण कार्डबोर्ड से घोसला बनाकर इन्हें संरक्षित करने का प्रयास कर रहे हैं। इस अभियान की शुरुआत असम एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी के चीफ साइंटिस्ट प्रबल सायकिया ने की और लोगों तक इनके संरक्षण की बात पहुंचाने की जिम्मेदारी जयंत नियोग निभा रहे हैं। आज विश्व गौरैया दिवस है, इस मौके पर जानिए इस परिंदे कोबचाने की कहानी...

  1. पेशे से एक चावल मिल के मालिक जयंत नियोग गांव-गांव जाकर गौरैया बचाने के लिए लोगों को जागरूक करते हैं। इनके घर के आसपास कार्डबोर्ड, लकड़ी, जूते के डिब्बे और बांस की मदद से गौरैया के कई कृत्रिम घर बनाए गए हैं। जयंत के मुताबिक, गौरैया को संरक्षण देने की कोशिश 2013 में शुरू की गई थी। उस दौरान गांव में गौरैया की संख्या तो काफी थी लेकिन इनके लिए आशियाना नहीं था। धीरे-धीरे घरों में इनके लिए कृत्रिम घर बनाने की शुरुआत की गई। वर्तमान में मिट्टी के घोसलों की जगह इनके लिए क्रंकीट के घर बनाए जा रहे हैं।

  2. असम एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी के चीफ साइंटिस्ट प्रबल सायकिया के मुताबिक, 2009 में हुए एक सर्वे में सामने आया था कि इनकी संख्या में तेजी से कमी हो रही है। खत्म होते पेड़, बढ़ती इमारतों की संख्या, कम होते कीट और टावरों से निकलता रेडिएशन इसका कारण बताया गया। यह एक संकेत था कि हम एक गलत तरह से जीवन जी रहे हैं।

  3. गौरैया को बचाने के लिए वैज्ञानिक प्रबल सायकिया ने कार्डबोर्ड की मदद से कृत्रिम घोसले बनाने शुरू किए, जिसे बनाने में महज 10 रुपए का खर्च आता है। धीरे-धीरे यह तरीका लोगों को पसंद आने लगा और असम में इसे प्रमोट किया गया। उनके मुताबिक, इन कृत्रिम घोसलों की मदद से गौरैया को परभक्षियों से बचाया जा सकता है। सायकिया ने इस अभियान के तहत असम के कई गांवों में 20 हजार से अधिक डिब्बों का वितरण किया।

  4. सायकिया कहते हैं, हम लोगों को कचरे को बेहतर इस्तेमाल का तरीका बता रहे हैं ताकि वे बेकार डिब्बों की मदद से गौरैया के लिए घोसले तैयार कर सकें। गौरैया संरक्षणकर्ता जयंत का कहना है कि वैज्ञानिक प्रबल के द्वारा दिए गए डिब्बे वे लोगों तक पहुंचा रहे हैं। इस पहल का नतीजा यह है कि अब गौरैया की संख्या बढ़ रही है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      assam village people making cardboard nest to save house sparrow
      assam village people making cardboard nest to save house sparrow

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/assam-village-people-making-cardboard-nest-to-save-house-sparrow-01501519.html

होलिका की परिक्रमा करने से खत्म होते हैं बैक्टीरिया और रंगों को देखने से दूर होते हैं राेग


लाइफस्टाइल डेस्क. बेशक होली रंगों और मस्ती का त्योहार है लेकिन इसका उतना ही जुड़ाव सेहत से भी है। होली परंपराओं पर विज्ञान कहता है कि यह त्योहार शरीर को स्वस्थ रखने के साथ वातावरण से मच्छर, बैक्टीरिया और कीटों को खत्म करने का काम करता है। होलिका दहन के दौरान परिक्रमा करने पर शरीर में मौजूद बैक्टीरिया का दम घुटने लगता है और अधिक तापमान के संपर्क में आने से ये खत्म होने लगती हैं। होली की परंपराओं और रंगों से सेहत का सीधा जुड़ाव है। जानिए क्या है इसका विज्ञान....

  1. ''

    जीव वैज्ञानिकों के मुताबिक, प्राचीनकाल से अबीर-गुलाल को कुदरती चीजों से तैयार किया जाता रहा है। इसमें फूलों से लेकर मसालों का प्रयोग किया गया है। फूलों की प्रकृति और मसालों की एंटीसेप्टिक खूबी खासतौर पर स्किन के लिए फायदेमंद है। अबीर-गुलाल जब स्किन के रोमछिद्रों से शरीर में पहुंचता है तो त्वचा के रंग में इजाफा करने के साथ बेजान पर्त को हटाता है। नेचुरोपैथी विशेषज्ञ डॉ. किरन गुप्ता के मुताबिक, प्राकृतिक रंगों में प्रयोग हल्दी, पलास के फूल, नीम की पत्तियां, मक्के का आटा, चुकंदर का रस फेसपैक और स्क्रब की तरह काम करता है और शरीर में निखार आता है।

  2. ''

    वैज्ञानिकों के मुताबिक, होली के समय मौसम में बदलाव हो रहा होता है। धीरे-धीरे खत्म होती सर्दी और बढ़ती गर्मी के कारण वातावरण में बैक्टीरिया, कीट और मच्छरों की संख्या बढ़ती है। होलिका दहन के कारण अचानक वातावरण का तापमान तेजी से बढ़ने पर बैक्टीरिया और कीटों का दम घुटने लगता है। इनकी संख्या में तेजी से कमी आती है। होलिका दहन के दौरान परिक्रमा करने से बॉडी में मौजूद जीवाणु खत्म होने लगते हैं।

  3. ''

    वैज्ञानिकों का कहना है होली में इस्तेमाल होने वाले अलग-अलग रंग एक थैरेपी की तरह काम करते हैं। कई तरह के रंग शरीर और दिमाग को संतुलित रखते हैं। साथ ही यह आपके दिमाग को बूस्ट करते हैं। इसे देखने पर शरीर में हार्मोन और रसायन रिलीज होते हैं जो रोगों से राहत दिलाते हैं। वर्तमान में रोगों को खत्म करने वाली कलर थैरेपी भी इसी खूबी का ही हिस्सा है वहीं इजिप्ट और चीन में इसका इस्तेमाल प्राचीन समय से इलाज के तौर पर किया जा रहा है। जैसे…

    • लाल : यह रंग गर्म प्रकृति का होने के कारण दर्द के इलाज के लिए बेहतर माना गया है। यह एड्रिनेलिन हार्मोन को बढ़ावा देता है। अनिद्रा, कमजोरी और रक्त से जुड़े रोगों में राहत देता है।
    • पीला : यह रंग मानसिक उत्तेजना के साथ नर्वस सिस्टम को मजबूत बनाता है। यह पेट और स्किन के साथ मांसपेशियों को भी स्ट्रेंथ देता है। पेट खराब होने और खाज खुजली के मामलों में पीला रंग फायदा पहुंचाता है।
    • हरा : यह प्रकृति के बेहद करीब होता है और आंखों को सुकून पहुंचाता है। हार्मोन को संतुलित रखने के साथ शरीर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।
    • नीला : इसे ठंडा रंग माना जाता है और उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। कलर थैरेपी में इसका इस्तेमाल सिरदर्द, सूजन, सर्दी और खांसी के उपचार में किया जाता है।
    • नारंगी : यह रंग उत्साह को बढ़ाकर फेफड़ों को मजबूत बनाता है। इसलिए नारंगी रंग अस्थमा, ब्रॉन्काइटिस और किडनी इंफेक्शन के मामलों में उपयोगी साबित होता है।


    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      holi 2019 science behind holika dahan and parikrama and science of colors

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/holi-2019-science-behind-holika-dahan-and-parikrama-and-science-of-colors-01501483.html

Maruti Suzuki Ertiga GT: लॉन्चिंग से पहले अर्टिगा के नए मॉडल की फोटो और डिटेल लीक, कीमत भी आ गई सामने; 23 मार्च को हो रही लॉन्च


ऑटो डेस्क। मारुति सुजुकी अर्टिगा का नया मॉडल Ertiga GT इंडोनेशिया में 23 मार्च को लॉन्च करेगी। इस मॉडल को स्पोर्टी लुक दिया गया है। इसे मैनुअल और ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन दोनों वेरिएंट में लॉन्च किया जाएगा। मैनुअल की कीमत IDR 187,000,000 (करीब 9.12 लाख रुपए) और ऑटोमैटिक की कीमत IDR 195,000,000 (करीब 9.51 लाख रुपए) है। बता दें कि कंपनी ने इस कार को बीते साल इंडोनेशिया मोटर शो में शोकेस किया था। ये इंडिया में 7 सीटर कैटेगरी में टॉप सेलिंग कार भी है।

लॉन्चिंग से पहले फोटो और डिटेल लीक

> सुजुकी अर्टिगा GT को प्राइम कूल ब्लैक, रेडिएंट रेड, मेगमा ग्रे, पर्ल आर्कटिक व्हाइट और सिल्की सिल्वर कलर वेरिएंट में आएगी।
> कार में न्यू मैट ब्लैक फिनिशिंग ग्रिल दी है, जो क्रोम लिप, स्पोर्टियर फ्रंट बम्पर, फॉग लैम्प के साथ आएगी।
> इसमें प्रोजेक्टर हेडलैम्प, LED DRL दी हैं। डुअल टोन मशीन कट अलॉय व्हील्ज, क्रोम डोर हैंडल दिए हैं।
> कार के अंदर ब्लैक लेजर कवर सीट्स दी हैं। प्रीमियम लुक के लिए डैशबोर्ड और डोर में फॉल्स पॉलिश्ड वुड एक्सेंट दिए हैं।
> कार में टचस्क्रीन इन्फोटेनमेंट सिस्टम दिया है, जो एंड्रॉइड और एपल कारप्ले सपोर्ट के साथ आता है।

सुजुकी अर्टिगा GT का इंजन

कार में 1.5 लीटर 4 सिलेंडर पेट्रोल इंजन दिया है। ये 104.7 PS पर 6,000 rpm पावर और 138 Nm पर 4,400 rpm टॉर्क जनरेट करता है। इसके मैनुअल मॉडल में 5 स्पीड गियरबॉक्स और ऑटोमैटिक मॉडल में 4 स्पीड गियरबॉक्स दिया है। इसका इंजन इंडिया में आ रहे मॉडल के बराबर है।

ज्यादा स्पेस वाली है न्यू अर्टिगा

इंडिया में मारुति ने जो नई अर्टिगा लॉन्च की है, उसमें पुराने मॉडल की तुलना में ज्यादा स्पेस दिया है। पहले जहां इसमें 135 लीटर का बूट स्पेस था, जो अब 153 लीटर कर दिया गया है। यानी 18 लीटर का स्पेस ज्यादा मिलेगा। कार की सेकंड और थर्ड रो की सीट फोल्ड करने के बाद इसमें सिंगल बेड के जितना स्पेस हो जाता है। कार को मजबूती देने के लिए अलॉय व्हील का यूज किया गया है। ये मारुति की सबसे लग्जरी 7 सीटर कार भी है। इसकी दिल्ली एक्स-शोरूम प्राइस 7.44 लाख रुपए से शुरू है। वहीं, टॉप वेरिएंट की कीमत 10.90 लाख रुपए है।

दमदार माइलेज

मारुति अर्टिगा मैनुअल और ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन में आती है। इसके पेट्रोल मैनुअल वेरिएंट का माइलेज 19.34 km/l, पेट्रोल ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन 18.69 km/l और डीजल मैनुअल ट्रांसमिशन का माइलेज 25.47 km/l है। कंपनी ने इस कार में K15 इंजन दिया है।

सेफ्टी फीचर्स से लैस

अर्टिगा में सेफ्टी फीचर्स का भी पूरा ध्यान रखा गया है। कार में डुअल एयरबैग, ABS के साथ EBD, हिल होल्ड टेक्नोलॉजी और इलेक्ट्रॉनिक स्टेब्लिटी प्रोग्राम दिया है। पहली बार इस कार में टचस्क्रीन इन्फोटेनमेंट सिस्टम भी लगाया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Maruti suzuki ertiga GT exterior and interior detailed leaked with new photos, launching in Indonesia on 23rd March, 2019
Maruti suzuki ertiga GT exterior and interior detailed leaked with new photos, launching in Indonesia on 23rd March, 2019
Maruti suzuki ertiga GT exterior and interior detailed leaked with new photos, launching in Indonesia on 23rd March, 2019

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/maruri-suzuki-ertiga-gt-exterior-interior-detailed-leaked-with-new-photos-6036080.html

दो बच्चों की मां हैं 52 साल की माधुरी दीक्षित लेकिन उनकी खूबसूरती और फिटनेस हर किसी को कर रही सरप्राइज, उन्होंने खुद खोला वो राज जिसके चलते चेहरे पर है इतना ज्यादा ग्लो और बॉडी है एकदम फिट, आप भी फॉलो कर सकते हैं माधुरी के फंडे


हेल्थ डेस्क। अजय देवगन, अनिल कपूर और माधुरी दीक्षित की फिल्म टोटल धमाल का बॉक्स ऑफिस पर कमाल जारी है। 52 साल की उम्र में भी माधुरी की खूबसूरती और फिटनेस सरप्राइज करने वाली है। वीडियो में देखिए उनकी खूबसूरती का राज। यह बातें उन्होंने खुद अलग-अलग इंटरव्यू में शेयर की हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Madhuri Dixit looks stunning at age of 52

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/news/madhuri-dixit-looks-stunning-at-age-of-52-6035867.html

व्हेल के पेट से निकला 40 किलो प्लास्टिक कचरा, दुनिया का ऐसा पहला मामला


साइंस डेस्क. समुद्र में बढ़ते प्लास्टिक कचरे से मछलियों का दम घुट रहा है। हालिया उदाहरण फिलीपींस में पकड़ी गई मछली का है, जिसके पेट में 40 किलो प्लास्टिक पाया गया। मरीन बायोलॉजिस्ट डेरेल ब्लाचले और डीबोन कलेक्टर म्यूजियम की टीम ने फिलीपींस के एक आईलैंड पर मछली को मरा हुआ पाया। डेरेल के मुताबिक, दुनिया में पहली बार इतनी मात्रा में प्लास्टिक व्हेल के शरीर से मिली है।जांंच में मौत का कारण गैस्ट्रिक शॉक बताया गया है। फिलीपींस के डवाओ सिटी में ‘डीबोन कलेक्टर’ नाम का म्यूज़ियम है, जो जानवरों के स्केलेटन का शोकेस करते हैं।

  1. ‘डीबोन कलेक्टर’ म्यूजियम के फेसबुक पेज दी गई जानकारी के मुताबिक, 16 मार्च को एक कम उम्र की व्हेल मछली को रिकवर किया गया है। जिसके पेट में 40 किलो के प्लास्टिक बैग मिले हैं। इसमें 16 चावल की बोरियां समेत कई शॉपिंग बैग पाए गए हैं। प्लास्टिक सामान की पूरी लिस्ट कुछ दिनों में जारी की जाएगी। जितनी प्लास्टिक इस व्हेल मछली के पेट में मिली हैं, उतनी आज तक किसी मछली में नहीं मिली। यह बहुत ही वाहियात है। जो लाेग समुद्र को कचरादान समझते हैं उन्हें खिलाफ सरकार जल्द की कार्रवाई करेगी।

  2. अटॉप्सी के बाद सामने आई तस्वीरों में देखा जा सकता है कि किस हद तक व्हेल के शरीर में प्लास्टिक कचरे की तरह भरी हुई थी। आंतों में प्लास्टिक भरने के कारण गैस्ट्रिक शॉक से उसकी मौत हुई। म्यूजियम के बायोलॉजिस्ट का कहना है कि पहली बार इतनी मात्रा में प्लास्टिक व्हेल के शरीर से मिली है।

  3. मरीन बायोलॉजिस्ट डेरेल ब्लाचले के मुताबिक, पिछले 10 सालों में उन्होंने मर चुकी 57 ऐसी मछलियां देखा है जिनकी मौत पेट में प्लास्टिक कचरा जाने से हुई है। पिछले साल जून में दक्षिणी थाइलैंड में व्हेल की मौत हुई है। जिसके पेट में 80 प्लास्टिक बैग पाए गए थे। इनका वजन 8 किलो था।

    ''

  4. दक्षिणी-पूर्वी एशिया में सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है। 2017 में सामने आई समुद्र संरक्षण पर जारी हुई एक रिपोर्ट के मुताबिक, चीन, इंडोनेशिया, फिलीपींस, थाइलैंड और वियतनाम के समुद्र में सबसे ज्यादा प्लास्टिक कचरा फेंका जा रहा है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      dead whale had 40kg plastic bags in stomach in philippines
      dead whale had 40kg plastic bags in stomach in philippines

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/lifestyle/happy-life/news/dead-whale-had-40kg-plastic-bags-in-stomach-in-philippines-01501150.html

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Assam Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Study Material
Bihar
State Government Schemes
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Business
Astrology
Syllabus
Festival
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com