Kafal Tree #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Kafal Tree

https://www.kafaltree.com/feed/ 👁 2569

कुमाऊँ की ऐतिहासिक वीरांगना अस्कोट की रानी धना


ऐतिहासिक वीरगाथा कुमाऊँ में प्रचलित ऐतिहासिक वीरगाथाओं में से एक है अस्कोट की रानी धना (Dhana, Warrior Kumaon) की वीरगाथा. धना डोटी के रैंका शासक कालीचंद के पिता की भांजी और कुमाऊँ की अस्कोट रियासत के राजा नारसिंह की पत्नी थी. नार सिंह काली कुमाऊँ पर अधिकार प्राप्त करना चाहता था. इसी नियत से उसने काली पार के डोटी इलाके पर कब्ज़ा करने का मन बना लिया. उस समय डोटी पर धना के मामा का […]

The post कुमाऊँ की ऐतिहासिक वीरांगना अस्कोट की रानी धना appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/dhana-warrior-of-kumaon-%e0%a4%a7%e0%a4%a8%e0%a4%be/

पांगू के देवता श्यांगसै और माँ पूर्णागिरी की कथा


Read in English: Myth of Shyangse God of Pangu and Purnagiri Mata ‎ भारत के उत्तराखण्ड राज्य के पांगू नामक गांव में श्यांगसै नामक मंदिर है. वह गांव के स्थानीय लोगों के कुल देवता है. चौंदास के पास देवी पूर्णागिरी माता का मंदिर है जो कि मूल रूप से उत्तराखण्ड के दक्षिणी उष्ण मैदानी भाग में स्थित टनकपुर की रहने वाली है. श्यांगसै ब्यांस घाटी में रहने वाले रंग जाति के लोगों के एक प्राचीन […]

The post पांगू के देवता श्यांगसै और माँ पूर्णागिरी की कथा appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/myth-of-shyangse-and-purnagiri-mata/

Myth of Shyangse God of Pangu and Purnagiri Mata


हिन्दी में पढ़ें: पांगू के देवता श्यांगसै और माँ पूर्णागिरी की कथा In the village of Pangu in Uttrakhand of India is the temple of Shyangse. Nearby in Chaudans is a temple of the mother goddess. Purnagiri whose original home is in Tanakpur, in the hot plains to the south. Shyangse is an ancestor-god of the Rung people of the byans Valley. But Purnagiri is a famous Hindu goddess. How did purnagiri travel from he […]

The post Myth of Shyangse God of Pangu and Purnagiri Mata appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/myth-of-shyangse-god-of-pangu-and-purnagiri-mata/

अंग्रेज नैनीताल को सिर्फ उच्च वर्ग के लिये सुरक्षित रखना चाहते थे


ब्रिटिश राज में नैनीताल शहर को बेहद खूबसूरती के साथ बसाया गया था जिसमें हर छोटी और बड़ी बातों का विशेष ध्यान रखा गया था. शहर की बसावट में प्रशासनिक अधिकारियों की हैसियत के अनुसार जगह तय की गयी थी और सबसे बड़ी पदवी वाले अधिकारी का घर शहर की सबसे ऊंची जगह पर बसाया गया था. इन मकानों की भव्यता भी आलीशान होती थी. शहर को इस तरह से बसाने के पीछे ब्रिटिश हुकुमत […]

The post अंग्रेज नैनीताल को सिर्फ उच्च वर्ग के लिये सुरक्षित रखना चाहते थे appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/bungalow-in-nainital/

सड़क को सड़क नहीं, अपना घर समझो


वे पुलिस के बड़े अधिकारी थे और हमारे बचपन के मित्र भी. कल जब वे बहुत दिन बाद शहर आये तो हम दोनों बाइक से शहर घूमने निकले. रास्ते में एक जगह पुलिस चैकिंग हो रही थी. वे ज़ोर से चिल्लाए – ‘अबे रोको!रोको! आगे चैकिंग चल रही है. गली में घुसेड़ दो गाड़ी!’ हमने कहा- ‘अबे अपने पास पूरे कागज़ हैं, और तुम खुद पुलिस अफसर हो!’ वे बोले- ‘होन्दो ! अपने को पुलिस-वुलिस […]

The post सड़क को सड़क नहीं, अपना घर समझो appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/indians-and-traffic-satire-by-priy-abhishek/

पड़ोसन: ऑल टाइम क्लासिक रोमांटिक कॉमेडी


किंवदंतियों के मामले में पड़ोसन (1968) शायद शोले के बाद दूसरे नंबर पर पड़ती होगी. हिंदी सिनेमा के इतिहास में यह फिल्म ऑल टाइम क्लासिक रोमांटिक कॉमेडी (Padosan: All Time Classic Romantic Comedy) साबित हुई. यह महमूद की बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक थी. दरअसल महमूद का विचार था कि, सिनेमा के धुरंधर हास्य कलाकारों को लेकर एक फिल्म बनाई जाए. स्वयं महमूद ऐसे कलाकार रहे, जिन्हें कॉमेडी के स्तर को बदलने का श्रेय जाता […]

The post पड़ोसन: ऑल टाइम क्लासिक रोमांटिक कॉमेडी appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/padosan-all-time-classic-romantic-comedy/

भिटौई काफल और हिसालू


उत्तराखंड एक कृषिप्रधान राज्य है. उत्पादन की दृष्टि से भले यहां खेती बहुत कुछ न देती हो लेकिन राज्य की अधिकांश जनसंख्या का मुख्य व्यवसाय कृषि रहा है. इसी कारण यहां के तीज-त्यौहार-परम्परा फसल की बुआई-कटाई के समय के आधार पर ही होते हैं. जैसे चैत्र के माह में खेती का काम कुछ हल्का होता है तो यहां चैत के महिने में बेटी को भिटौई देने की परम्परा है. भिटौई, भिटौल, रवाट के नाम से […]

The post भिटौई काफल और हिसालू appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/bhitauli-kafal/

कथाकार पंकज बिष्ट को इस वर्ष का राजकमल चौधरी स्मृति सम्मान


कथाकार पंकज बिष्ट को इस वर्ष के राजकमल चौधरी स्मृति सम्मान (Rajkamal Chaudhari Memorial Award 2019) के लिए चुना गया है. कथा-उपन्यास के क्षेत्र में बिष्ट जी ने नए प्रयोग किए. साहित्य को उनका सबसे बड़ा अवदान यह रहा है कि उन्होंने कथ्य को नई जमीन दी. उनका बहुचर्चित उपन्यास ‘लेकिन दरवाजा’ महानगरीय जीवन और उसकी समकालीनता के परिप्रेक्ष्य में है. इस उपन्यास में महानगरीय लेखकों के जीवन का ताना-बाना, उनके आदर्श और निजी जीवन […]

The post कथाकार पंकज बिष्ट को इस वर्ष का राजकमल चौधरी स्मृति सम्मान appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/pankaj-bishts-rajkamal-chaudhari-memorial-award-2019/

सफल यात्रा का आशीर्वाद देता गुरना माता का मंदिर


टनकपुर तवाघाट राजमार्ग पर पिथौरागढ़ मुख्यालय से 13 किमी की दूरी पर स्थित है मां गुरना देवी मंदिर. गुरना गांव में मंदिर होने के कारण इसे गुरना मंदिर कहा गया है जबकि मंदिर का वास्तविक नाम पाषाण देवी मंदिर है. यह मंदिर पिथौरागढ़ जिले के प्रवेश द्वार पर स्थित है. इस मंदिर के सामने से होकर जाने वाले सभी वाहन अपनी शुभ यात्रा की कामना करते हुए आगे बढ़ते हैं. वर्तमान में गुरना माता पूरे […]

The post सफल यात्रा का आशीर्वाद देता गुरना माता का मंदिर appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/gurna-temple-pithoragarh/

शहीद भगत सिंह का लेख: अछूत का सवाल


(भगतसिह का ‘अछूत का सवाल’ नामक लिखा यह लेख जून, 1928 के ‘किरती’ में ‘विद्रोही’ के नाम से प्रकाशित हुआ था.) हमारे देश जैसे बुरे हालात किसी दूसरे देश के नहीं हुए. यहाँ अजब-अजब सवाल उठते रहते हैं. एक अहम सवाल अछूत-समस्या है. समस्या यह है कि 30 करोड़ की जनसंख्या वाले देश में जो 6 करोड़ लोग अछूत कहलाते हैं, उनके स्पर्श-मात्र से धर्मभ्रष्ट हो जायेगा! उनके मन्दिरों में प्रवेश से देवगण नाराज़़ हो […]

The post शहीद भगत सिंह का लेख: अछूत का सवाल appeared first on Kafal Tree.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.kafaltree.com/shaheed-bhagat-singhs-article-untouchables-question/

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Assam Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Study Material
Bihar
State Government Schemes
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Business
Astrology
Syllabus
Festival
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com