Patrika : Leading Hindi News Portal - Corporate #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Patrika : Leading Hindi News Portal - Corporate

http://api.patrika.com/rss/latest-corporate-news 👁 1160

अंबानी के बाद अब लक्ष्मी मित्तल ने दिखार्इ दरियादिली, छोटे भाई की मदद को दिए 1,600 करोड़ रुपए


नई दिल्ली। हाल ही में एरिक्सन को 580 करोड़ रुपए के भुगतान में अनिल अंबानी की मदद उनके बड़े भाई मुकेश द्वारा किए जाने के बाद अब ऐसा ही नजारा मित्तल खानदान में देखने को मिला है। अब एेसा ही कुछ मित्तल परिवार में भी देखने को मिला है। मित्तल ने तो इस मामले में मुकेश अंबानी को भी पीछे छोड़ दिया है। बड़े भार्इ ने छोटे को भार्इ को मुकेश अंबानी के मुकाबले अपने छोटे भार्इ को करीब तीन गुना ज्यादा रकम कर्ज चुकाने के लिए दी है।


सीनियर मित्तल ने की जूनियर की मदद
सूत्रों के अनुसार आर्सेलर-मित्तल के प्रवर्तक लक्ष्मीनिवास मित्तल ने अपने छोटे भाई प्रमोद मित्तल की कंपनी स्टेट ट्रेडिंग कॉरपोरेशन (एसटीसी) पर ग्लोबल स्टील होल्डिंग्स (जीएसएच) के 2,210 करोड़ रुपए के बकाया के भुगतान में मदद की है। मीडिया रिपोर्ट में मामले से जुड़ेे एक व्यक्ति के हवाले से बताया गया है कि मित्तल ने करीब 1,600 करोड़ रुपए दिए। यह भुगतान नवंबर और फरवरी में किया गया।

सभी कार्रवार्इ हुर्इ वापस
ग्लोबल स्टील होल्डिंग्स (जीएसएच) ने 20 मार्च को एक बयान में कहा कि प्रमोद मित्तल ने एसटीसी को उसके दावे का पूरा भुगतान कर दिया है। इसके बाद प्रमोद मित्तल और जीएसएच, ग्लोबल स्टील फिलीपींस (जीएसपी) और बालासोर एलॉय्स के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय द्वारा विभिन्न आपराधिक मामलों में शुरू की गई कार्यवाही और केंद्रीय जांच ब्यूरो द्वारा दायर प्राथमिकी समाप्त कर दी गई। हालांकि इस बारे में एलएन मित्तल और प्रमोद मित्तल दोनों की ही ओर से कोई टिप्पणी सामने नहीं आई है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/after-ambani-mittal-given-to-1-600-crore-for-help-of-younger-brother-4334857/

चुनाव से पहले मूडीज ने दी चेतावनी, तेल कंपनियों का मुनाफा हो सकता है प्रभावित


नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं और सभी राजनीतिक पार्टियों ने प्रचार तेज कर दिया है। मोदी सरकार सत्ता में दोबारा वापसी के लिए आम लोगों पर महंगाई का बोझ कम करने की कोशिशों के तहत पेट्रोल की कीमतों को स्थिर रखने की कोशिश कर सकती है। इस प्रकार की किसी भी कोशिश की संभावना पर वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज ने चेतावनी दी है।


मूडीज ने दी जानकारी

आपको बता दें कि मूडीज के मुताबिक अगर केंद्र सरकार लोकसभा चुनाव के दौरान पेट्रोल-डीजल की कीमतों को स्थिर रखती है तो इंडियन ऑयल समेत सरकारी तेल कंपनियों का मुनाफा प्रभावित हो सकता है। गुजरात और कर्नाटक के विधानसभा चुनाव से पहले सरकार ने Oil Companies से पेट्रोल और डीजल की कीमतों को कुछ समय तक स्थिर रखने के लिए कहा था।


सरकार बदलने से होगा ये बड़ा बदलाव

मूडीज की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा चुनाव के बाद केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी में बदलाव होने पर तेल कंपनियों के सामने नई चुनौतियां आ सकती है क्योंकि अन्य पार्टियों का तेल व गैस सेक्टर के लिए विजन अभी तक स्पष्ट नहीं है। मूडीज का मानना है कि अगर बीजेपी की अगुवाई में एनडीएए फिर से सत्ता वापसी करती है तो तेल कंपनियों चुनाव के दौरान हुए नुकसान की भरपाई कर सकती हैं जैसे कि उसने राज्य चुनावों के बीतने के बाद किया था।

( ये न्यूज एजेंसी से ली गई है। )

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/moodys-give-instruction-to-oil-comapny-before-loksabha-election-4333893/

जेट को बचाने के लिए आगे आए विजय माल्या, कहा - 'मेरा पैसा लेकर जेट एयरवेज को बचा लो'


नई दिल्ली। देश के भगोड़े कारोबारी विजय माल्या ने जेट को बचाने के लिए बैंकों से गुजारिश की है। उन्होंने बैंकों से कहा कि आप मेरा सारा पैसा ले लो, लेकिन जेट एयरवेज को बचा लो। विजय माल्या ने मंगलवार को ट्वीट करते हुए लोगों को इस बारे में जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि मैं पहले भी पीएसयू बैंकों का पैसा वापस करने का ऑफर दे चुका हूं, लेकिन बैंक मेरे से पैसा वापस क्यों नहीं ले रहे हैं।


विजय माल्या ने किया ट्वीट

आपको बता दे कि माल्या पर भारत में बैंकों से करीब 9000 करोड़ रुपये कर्ज लेकर नहीं चुकाने और फरार होने का आरोप है। माल्या फिलहाल इंग्लैंड में हैं। माल्या ने एनडीए सरकार पर दोहरा रवैया अपनाने का भी आरोप लगाया। विजय माल्या से संबंधित मामला अभी भी ब्रिटेन की अदालत में चल रहा है और माल्या के द्वारा किए गए ट्वीट पर भी बैंकों ने सवाल उठाते हुए कहा कि पब्लिक सेक्टर के बैंक जेट एयरवेज को बचाने के लिए आगे आए, लेकिन उनकी कंपनी किंगफिशर एयरलाइन के साथ ऐसा नहीं हुआ।

 

माल्या ने किया था कि 4000 करोड़ का निवेश

इसके साथ ही माल्या ने ट्वीट करते हुए कहा कि मुझे यह देखकर खुशी हो रही है कि पीएसयू बैंक जेट एयरवेज में नौकरी, कनेक्टिविटी और उद्यम को बचाने कि लए बेल आउट दिया है और यही किंगफिशर के साथ भी हुआ था। वहीं, मैंने किंगफिशर कंपनी और उनके कर्मचारियों के बारे में ध्यान रखा था और कंपनी को बचाने के लिए 4000 हजार करोड़ रुपए तक का निवेश किया था, लेकिन उसको स्वीकार नहीं किया गया था और PSU बैंकों ने देश की आगे बढ़ने वाली एयरलाइन को फेल कर दिया, जिससे कंपनी के कर्मचारियों को भी काफी नुकसान उठाना पड़ा है।

 

लंबे समय से कंपनी में था वित्तीय संकट

आपको बता दें कि नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनीता ने सोमवार को एयरलाइन के निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया है। गोयल ने इस 25 साल पुरानी एयरलाइन के चेयरमैन का पद भी छोड़ दिया है क्योंकि कंपनी लंबे समय से वित्तीय संकटों से परेशान थी। इन्हीं परेशानियों के बीच उसके निदेशक मंडल ने एसबीआई ( SBI ) की अगुवाई में ऋणदाताओं के गठजोड़ की निपटान योजना को मंजूरी दे दी है। इसके बाद कर्जदाता भी एयरलाइंस को वित्तीय मुश्किल से निकालने के लिए 1500 करोड़ रुपये देने पर राजी हो गए हैं।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/vijay-mallya-did-tweet-and-say-take-may-money-and-save-jet-airways-4332261/

मोदी राज में मुकेश अंबानी समेत इन कारोबारियों के आए अच्छे दिन, लेकिन अनिल अंबानी का निकला दिवाला


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार में रिटेल फाइनेंस व कंज्यूमर बिजनेस समूहों की बाजार पूंजीकरण में जाेरदार तेजी देखने को मिली। जबकि, पावर, मेटल और टेलिकाॅम सेक्टर जैसे मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को मोदी राज में घाटे का सामना करना पड़ा है। बीते पांच सालों में सबसे सफलतम बिजनेस समूहों की बात करें तो इस चार्ट में राहुल बजाज की नेतृत्व वाली बजाज ग्रुप सबसे शीर्ष पर रही है। वहीं, इस लिस्ट में हिंदुजा ग्रुप, मुकेश अंबानी , मुरुगप्पा और अडानी समूह शीर्ष पांच में शामिल हैं।

बीते पांच साल में इन कंपनियों का खराब रहा सीएजीआर

वहीं दूसरी तरफ, अनिल अंबानी , नवीन जिंदल और सन फार्मा इंडस्ट्रीज समूहों की कुल बाजार पूंजीकरण में बीते पांच साल के दौरान सबसे अधिक गिरावट आई है। इनके अतिरिक्त, सुनील मित्तल की भारती ग्रुप, पवन मुंजाल की हीरो मोटोकॅर्प भी इस फेहरिस्त में शामिल है। एक अंक में कंपाउंड एन्युअल ग्रोथ रेट (सीएजीआर) दर्ज करने वाली अन्य कंपनियों में टाटा, आदित्य बिड़ला, वेदांता और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियों के नाम शामिल हैं। विश्लेषकों का कहना है कि बीते पांच सालों में कंज्यूमर डिमांड बढ़ने की वजह से कुछ कंपनियों की ग्रोथ काफी तेज रही है।

Top gainers Companies

अर्थव्यवस्था में बढ़ा है कंज्यूमर कंज्म्पशन डिमांड

एमके ग्लोबल रिसर्च सर्विसेज के रिसर्च हेड धनंजय सिन्हा ने कहा, "बीत पांच सालों में, रिटेल क्रेडिट और सरकार द्वारा उच्च राजस्व खर्च की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था में कंज्म्पशन डिमांड बढ़ी है।" बजाज समूह में सबसे अधिक तेजी का कारण बजाज फाइनेंस और बजाज फिनसर्व में तेजी रही है। 22 मार्च 2019 तक इस समूह का बाजार पूंजीकरण चार गुना बढ़कर 26 मई 2014 की तुलना में 1 ट्रिलियन रुपए से बढ़कर 4.08 ट्रिलियन रुपए हो गया है। पांच सालों में कंपनी की वार्षिक ग्रोथ रेट 32.4 फीसदी रही है।

सपाट रहा इंडिया इंक का मुनाफा

समूह की एक और फ्लैगशिप कंपनी बजाज ऑटो का मार्केट कैप 50 फीसदी रह गया है जिसकी वार्षिक ग्रोथ रेट 8.8 फीसदी रही। इस प्रकार हिंदुजा ग्रुप में सबसे अधिक ग्रोथ इंडसइंड बैंक और अशोका लेलैंड में देखने को मिली। कुल मिलाकर देखें तो गत 5 सालों में इंडिया इंक का कुल मुनाफा लगभग सपाट ही रहा है। वित्त वर्ष 2013-14 और 2018-19 के बीच इंडिया इंक का सीएजीआर 2.6 फीसदी ही रही है। इस दौरान कंपनियों के राजस्व में सालाना तौर पर 4.6 फीसदी की तेजी रही।

Top Loosers In Companies

प्राइवेट सेक्टर में सबसे अधिक निवेश करने वाली इकलौती कंपनी है रिलायंस इंडस्ट्रीज

मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज ने हाल ही में टाटा कंस्लटेंसी सर्विसेज (टीसीएस) को बाजार पूंजीकरण के मामले में पीछे छोड़ा है। रिलायंस इंडस्ट्रीज बीते पांच सालों में प्राइवेट सेक्टर में सबसे अधिक निवेश करने वाली इकलौती कंपनी है। बाजार पूंजीकरण के मामले में जेएसडब्ल्यू स्टील ने टाटा स्टील को पीछे छोड़कर देश की सबसे बड़ी स्टीलमेकर कंपनी बन गई है। वहीं, प्राइवेट सेक्टर में अडानी ग्रुप देश की सबसे बड़ी पोर्ट ऑपरेटर व इलेक्ट्रिसिटी यूटिलीट ऑपरेटर बनकर उभरी है। हालांकि, कपंनी की बाजार पूंजीकरण की तुलना में मुनाफा व राज्सव कुछ खास नहीं रहा।


85 फीसदी तक कम हुआ अनिल अंबानी की कंपनियों का बाजार पूंजीकरण

स्पेक्ट्रम की बात करें तो अनिल अंबानी समूह की कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 85 फीसदी तक कम हुआ है। नवीन जिंदल की फर्म ने भी 40 फीसदी बाजार पूंजीकरण गवांया है। कुल मिलाकर एक बात तो साफ हो गई है कि बीते पांच सालों में कंज्यूमर कंपनी व रिटेल लेंडर्स ने बेहतर प्रदर्शन किया है। वहीं, कर्ज व खराब कैशफ्लो पदर्शन करने वाली कंपनियों ने निराशाजनक प्रदर्शन किया है।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/mukesh-ambani-and-these-companies-earns-most-anil-ambani-looses-4329534/

जेट एयरवेज के प्रोमोटर नरेश गोयल व उनकी पत्नी अनिता गोयल ने अपने पद से दिया इस्तीफा


नई दिल्ली। जेट एयरवेज के संस्थापक और मुख्य प्रोमोटर नरेश गोयल ने इस्तीफा दे दिया है। नरेश गोयल के साथ उनकी पत्नी अनिता गोयल ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि इसके पहले जेट एयरेवज की मौजूदा संकट को देखते हुए इस बात के कयास लगाए जा रहे थे कि नरेश गोयल व उनकी पत्नी कंपनी से इस्तीफा दे सकते हैं। जेट एयरवेज ने अपने कर्मचारियों को भुगतान तक नहीं किया है, वहीं कंपनी ने पट्टे पर प्लेन देने वाली कंपनियों को भी भुगतान नहीं किया है। नरेश गोयल के इस्तीफे के बीच ईटी नाउ ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि जेट एयरवेज में एतिहाद एयरवेज की हिस्सेदारी को 24 फीसदी से घटाकर 12 फीसदी किया जाएगा। साथ ही कंपनी में नरेश गोयल की हिस्सेदारी में को भी 51 फीसदी से घटाकर 25.5 फीसदी किया जाएगा।


कम होगी जेट एयरवेज में एतिहाद एयरवेज की हिस्सेदारी

कुछ दिन पहले की कंपनी की उड़ानों को लगातार रद्द होने के सिलसिले को देखते हुए भारतीय स्टेट बैंक ने नरेश गोयल व तीन अन्य निदेशकों को कंपनी से इस्तीफा देने को कहा था। जेट एयरवेज में एसबीआई प्रमुख उधारकर्ता है। जेट ने यह भी साफ कर दिया है कि वो एतिहाद के 24 फीसदी हिस्सेदारी का भी जारी नहीं रखेगा। कुछ दिन पहले ही एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा था कि जेट एयरवेज के कारोबार को पूरी तरह से बंद करना एक अच्छा फैसला नहीं होगा। उन्होंने कहा था कि हमारा विश्वास है कि सभी के हितों को ध्यान में रखते हुए जेट एयरवेज का परिचालन चालू रहना चाहिए।


एतिहाद एयरवेज ने खींचा था रिजॉल्युशन प्लान से हाथ

इसके पहले यूएई की विमान कंपनी और जेट एयरवेज में हिस्सेदार एतिहाद एयरवेज ने कहा था कि यदि जेट एयरवेज का रिजॉल्युशन प्रस्ताव पास नहीं होता है तो वह जेट एयरवेज में 750 करोड़ रुपए नहीं लगाएगी। बाद में एतिहाद ने यह भी कह दिया है कि बैंकों के कंसॅार्टिय द्वारा फंड जुटाने के प्लान में वह हिस्सा नहीं लेगी। इसके बाद जेट एयरवेज के पास खुद को बचाने के बहुत कम ही विकल्प रह गए थे। रिजॉल्युशन प्लान के तहत, उधारकर्ताओं द्वारा जेट एयरवेज को 750 करोड़ रुपए देने थे। वहीं, एतिहाद एयरवेज को भी इतनी ही रकम देनी थाी।

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/naresh-goyal-and-his-wife-anita-goyal-resigns-from-jet-airways-4328357/

ब्रिटेन का सबसे अमीर एशियाई हिंदुजा परिवार लगातार छठी बार एशियन रिच लिस्ट में टॉप पर, मित्तल को छोड़ा पीछे


नई दिल्ली। लंदन में रहे एनआरआई उद्योगपति हिंदुजा फैमिली लगातार छठवीं बार एशियन रिच लिस्ट के टॉप पर कब्जा जमाया है। उन्होंने अपने पीछे कई एनआरआई उद्योपतियों को पीछे छोड़ दिया है। खास बात तो ये है कि उन्होंने अपनी दौलत में इजाफा किया है। जबकि मित्तल परिवार की दौलत में कमी आई है। लंदन में शुक्रवार रात एशियन बिजनस अवाड्र्स के दौरान जारी 'एशियन रिच लिस्ट 2019' सूची जारी हुई थी। इस लिस्ट में कई नए नाम भी शामिल हुए हैं। आइए आपको भी बताते हैं कि हिंदुजा परिवार की अपार दौलत कितनी है और किस लिस्ट में कौन किस स्थान पर है?

हिंदुजा परिवार की इतनी बढ़ गई दौलत
लंदन में रहे हिंदुजा परिवार की कुल संपत्ति 25.2 अरब पाउंड है। इसमें पिछले साल के मुकाबले 3 अरब पाउंड से अधिक का इजाफा हुआ है। वहीं स्टील किंग लक्ष्मी मित्तल और उनके बेटे आदित्य मित्तल दूसरे पायदान पर हैं। इनकी कुल संपत्ति 11.2 अरब पाउंड की है, जिसमें पिछले साल की तुलना में 2.8 अरब पाउंड की गिरावट आई है। जबकि एसपी लोहिया 5.8 अरब पाउंड की संपत्ति के साथ तीसरे पायदान काबिज हुए हैं। ब्रिटेन में भारत के उच्चायुक्त यूके रुचि घनश्याम ने सूची को जारी की है। इस लिस्ट में ब्रिटेन में रहने वाले एशिया के कुल 101 अरबपतियों की रैंकिंग और पिछले 12 महीने में कारोबार के क्षेत्र में उनकी उपलब्धियों को बताया गया है।

सूची में आए नए नाम
एशियन रिच लिस्ट 2019 में शामिल होने वाले कारोबारियों की कुल संपत्ति 85.2 अरब पाउंड से अधिक है। जिनकी कुल संपत्ति में इस साल 5 अरब पाउंड की बढ़ोतरी हुई है। सूची में सात नए अरबपति शामिल हुए हैं, जिनमें होटल कारोबारी जोगिंदर सेंगर और उनके बेटे गिरीश सेंगर भी हैं, जो 40वें पायदान पर हैं। इनकी कुल संपत्ति लगभग 30 करोड़ पाउंड से अधिक है। दिग्गज एनआरआई उद्यमी लॉर्ड स्वराज पॉल एंड फैमिली 90 करोड़ पाउंड के साथ 17वें पायदान पर हैं। उनकी संपत्ति में पिछले साल की तुलना में 10 करोड़ पाउंड की बढ़ोतरी हुई है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/hindujas-sixth-time-on-top-in-asian-rich-list-mittal-left-behind-4321839/

सैमसंग के 5जी स्मार्टफोन लांच होने से पहले अमरीका में कंपनी के मार्केटिंग प्रमुख का इस्तीफा


नई दिल्ली। दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल बनाने वाली कंपनियों में से एक सैमसंग को बड़ा झटका लगा है। अमरीका में सैमसंग के मार्केटिंग प्रमुख ने इस्तीफा दे दिया है। यह इस्तीफा तब आया है जब सैमसंग अपने और दुनिया के पहले 5जी स्मार्टफोन की लांच करने की तैयारी कर रहा है। कंपनी ने घोषणा की है कि वो पांच अप्रैल को अपना फोन लांच करेगी। उससे पहले यह इस्तीफा कई तरह के सवाल भी खड़े कर रहा है।

इसलिए दिया इस्तीफा
सैमसंग द्वारा उसके कर्मचारियों और विपणन साझेदारों के बीच रिश्वत के लेन-देन के मामले की जांच शुरू करने के बाद कंपनी के चीफ मार्केटिंग आफिसर मार्क मैथ्यू ने अचानक इस्तीफा दे दिया। द वाल स्ट्रीट जर्नल की शुक्रवार की रिपोर्ट के अनुसार, सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी ने अपने अमेरिकी विपणन कार्य की लेखापरीक्षा की, जिसका मकसद यह पता लगाना था कि क्या उसके कर्मचारियों ने व्यापारिक साझेदारों से लेन-देन में कंपनी की नीतियों का उल्लंघन किया है, जिसके फलस्वरूप कई कर्मचारियों की छुट्टी हो गई।

बुरे दौर से सैमसंग को निकाला
मैथ्यू सैमसंग के लिए अच्छा काम कर रहे थे। उन्होंने सैमसंग को काफी बुरे दौर से निकाला है। उन्होंने कंपनी को कामयाब बनाने में अहम भूमिका भी निभाई है। उन्होंने 2016 में गैलक्सी नोट-7 की वापसी भी कराई। जिसके बाद यह फोन दोबारा से लाया गया। मौजूदा समय में वो यूट्यूब क्रिएटर कम्युनिटी में निवेश बढ़ाने में सक्रिय थे। फिलहाल वो क्या करेंगे उनका क्या प्लान होगा। इस बारे में उन्होंने कोई जानकारी नहीं दी है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/before-launch-5g-smartphone-samsung-s-marketing-head-resigns-in-us-4321698/

पीएनबी स्कैम: मेहुल चोकसी ने पीएमएलए कोर्ट को दी रिपोर्ट, कहा- खराब स्वास्थ्य के कारण नहीं कर सकता यात्रा


नई दिल्ली। भगैाड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के वकील ने शुक्रवार (22 मार्च 2019) को प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग (पीएमएलए) कोर्ट से कहा कि उसके खिलाफ की जा रही कानूनी कार्रवाई सही नहीं है। कोर्ट में जमा की गई मेडिकल रिपोर्ट में कहा गया है कि मेहुल चोकसी की खराब सेहत की वजह से उसे डॉक्टर्स ने यात्रा करने से मना किया है। बता दें कि पंजाब नेशनल बैंक में करीब 13 हजार करोड़ रुपए के घोटाले में मेहुल चोकसी नीरव मोदी के साथ मुख्य आरोपी हैं।

कोर्ट को सबमिट किया मेडिकल रिपोर्ट

चोकसी के वकील विजय अग्रवाल व अशुल अग्रवाल ने अपनी रिपोर्ट पीएमएलए कोर्ट को सौंपी है जिसमें उन्होंने दावा किया है कि उनके क्लाइंट (मेहुल चोकसी) को जबरदस्ती कानूनी रूप से परेशान किया जा रहा है। उन्होंने चाकेसी की मेडिकल रिपोर्ट के बारे में भी जानकारी दी है, जिसमें कहा गया है कि चोकसी को डॉक्टर्स ने फिलहाल ट्रैवल ना करने की सलाह दी है। उन्होंने कुल 38 कागजातों को कोर्ट में पेश किया जिसमें मेहुल चोकसी की दवाइयों की लिस्ट व सर्टिफिकेट्स भी शामिल हैं। इसमें 27 फरवरी का एक मेडिटकल सर्टफिकेट भी है जिसपर डॉक्टर एचए मॉर्कोस के हस्ताक्षर हैं। इस सर्टिफिकेट पर सेंट जॉन्स एंटिगुआ का पता है।


दो दिन पहले ही नीरव मोदी को किया गया था गिरफ्तार

इस मामले पर कोर्ट की अगली सुनवाई आगामी 9 अप्रैल को होगी। वर्तमान में मेहुल चोकसी एंटीगुआ में रह रहा है। गौरतलब है कि मेहुल चोकसी की तरफ से पीएमएलए कोर्ट में यह रिपोर्ट ऐसे समय पर दी गई है जब ठीक दो दिन पहले ही नीरव मोदी को लंदन से गिरफ्तार करने की खबर आई थी। लंदन के वेस्टमिन्सटर कोर्ट ने नीरव मोदी की बेल याचिका को खारिज कर दिया है। इस मामले पर अगली सुनवाई आगामी 29 मार्च को होनी है, तब तक के लिए नीरव मोदी को जेल में रखा गया है। प्रवर्तन निदेशालय दोनों भगौड़े आरोपियों को भारत में प्रत्यर्पण के प्रयास में लगा हुआ है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/mehul-choksi-sites-court-health-reason-for-not-traveling-to-pmla-4314966/

जेल में खुंखार अपराधियों के बीच मनी नीरव मोदी की बेरंग होली


नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले के मुख्य आरोनी नीरव मोदी ने अपनी जिंदगी में कभी ऐसा नहीं सोचा होगा कि उसकी 2019 की होली इतनी बेरंग होगी। वो भी लंदन के खुंखार अपराधियों के बीच। एक ऐसी जेल में जहां टायलेट की सफाई नहीं होती। जहां कैदी ड्रग्स लेते हैं। जिस जेल में करीब आधा दर्जन कैदी सुसाइड तक कर चुके हैं। आपको बता दें कि नीरव मोदी को साउथ वेस्ट लंदन के 'हर मेजेस्टीज प्रीजन' में रखा गया है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर यह जेल कैसी है और इस जेल में किस तरह के कैदी है।

महारानी विक्टोरिया के समय की है जेल
यूके की महारानी विक्टोरिया के समय की 'हर मेजेस्टीज प्रीजन' जेल में नीरव मोदी को रखा गया है। यह जेल खुंखार अपराधियों से भरी हुई है। कोर्ट ने बुधवार को नीरव मोदी की जमानत याचिका को खारिज कर दिया था। जिसके बाद उसे इस जेल में लाया गया। अब नीरव मोदी को अगली सुनवाई के लिए 29 मार्च को कोर्ट में ले जाया जाएगा। नीरव मोदी को भी इस बात की उम्मीद तक नहीं होगी कि उसे इस तरह की जेल में रखा जाएगा। उसने सोचा होगा कि उसे अलग सेल में रखा जाएगा। आपको बता दें कि जेल में 1430 कैदी हैं। उसे एक कैदी के साथ सेल को शेयर करना पड़ रहा है।

ऐसी है जेल
अगर जेल के बारे में बात करें तो ब्रिटेन के चीफ इंस्पेक्टर प्रिजन पीटर क्लार्क ने फरवरी-मार्च 2018 में जेल का निरीक्षण किया था। निरिक्षण के दौरान उन्होंने देखा था कि यह जेल देश के सबसे ज्यादा भीड़भाड़ वाली जेल है। कई कैदियों के पास ड्रग्स थे। कई कैदियों का मानसिक संतुलन तक बिगड़ा हुआ था। ना तो उन्हें बेहतर ट्रेनिंग दी जा रही थी और ना ही अच्छी शिक्षा नहीं मिल रही थी। पिछले निरीक्ष्रण के बाद से आधा दर्जन कैदी जान तक दे चुके हैं। उसके बाद भी जेल की परिस्थितियां बेहतर नहीं हुई है।

शौचालयों की भी नहीं होती ठीक से सफाई
जेल निरीक्षक के अनुसा इस सेल में जितने भी सेल हैं वो एक आदमी के लिए हैं। लेकिन कैदियों का दबाव ज्यादा होने के कारण सेल में दो कैदियों को रहना पड़ रहा है। ताज्जुब की बात तो ये है कि इस जेल में शौचालयों की ठीक से सफाई नहीं होती और कैदियों को सेल से बाहर रहने के लिए समय बहुत कम दिया जाता है। आपको बता दें कि नीरव मोदी को मंगलवार दोपहर को मेट्रो बैंक की ब्रांच से गिरफ्तार किया गया था, जब वो वहां पर अपना अकाउंट खुलवाने के निए आया था। करीब एक हफ्ता पहले लंदन की कोर्ट ने उसके खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी किया था।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/very-unhappy-holi-for-nirav-modi-in-south-west-london-jail-4313844/

इस बैंक की वजह से पकड़ा गया नीरव मोदी, खुलवाने गया था अपना अकाउंट


नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक के करीब 13 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का घोटाला कर फरार हुए नीरव मोदी की गिरफ्तारी भी एक बैंक की वजह से ही हुई है। जब वो लंदन के इस बैंक में खाता खुलवाने गया तो बैंक के एक सतर्क कर्मचारी ने नीरव मोदी को पहचान लिया। जिसकी उसने सूचना पुलिस को दी। जिसके बाद लंदन की पुलिस ने उसे दबोच लिया। आपको बता दें कि बुधवार को भारत में खबरें आई थी कि लंदन में नीरव मोदी की गिरफ्तारी हो गई है। जिसके बाद उसे कोर्ट ले जाया गया। जहां से उसे 29 मार्च तक पुलिस हिरासम में भेज दिया गया।

इस बैंक में खाता खुलवाने पहुंचा था नीरव
लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में सुनवाई के दौरान जानकारी मिली कि नीरव मोदी को लंदन स्थित मेट्रो बैंक की ब्रान्च से गिरफ्तार किया गया है। बैंक के एक चौकन्ने अधिकारी ने नीरव मोदी को पहचाना और पुलिस को जानकारी दी। जिसकी मदद से नीरव मोदी को गिरफ्तार किया जा सका। नीरव मोदी मंगलवार को बैंक में अपना अकाउंट खुलवाने पहुंचा था। नीरव मोदी को जहां से गिरफ्तार किया गया, उससे इस बात के संकेत मिलते हैं कि नीरव मोदी वेस्ट एंड के सेंटर प्वाइंट के उसी आलीशान अपार्टमेंट में रह रहा था जहां उसके होने की आशंका व्यक्त की जा रही थी।

जमानत की अर्जी खारिज
स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस ने नीरव मोदी को गिरफ्तार करने के बाद कोर्ट पेश किया गया। जहां उससे कई तरह के सवाल पूछे गए। निचली अदालत की ओर से नीरव मोदी की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। अब नीरव मोदी को 29 मार्च तक पुलिस हिरासत में रहना पड़ेगा। जहां उससे पुलिस पूछताछ करेगी। अभी तक नीरव मोदी लंदन में मीडिया के सामने पूरी तरह से चुप था। अब उसके पुलिस के सामने सभी सवालों के जवाब देने होंगे।

तीन पासपोर्ट का मालिक है नीरव
पीएनबी बैंक से 13 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का घोटाला करने वाले नीरव मोदी के पास तीन पासपोर्ट हैं। वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में पेशी के दौरान तीन पासपोर्ट होने के बारे में पता चला। भारतीय एजेंसियों नीरव के पासपोर्ट को रद्द कर दिया था। उसके पास जो पासपोर्ट हैं, उसमें एक अब मेट्रोपोलिटन पुलिस के पास है, दूसरा पासपोर्ट ब्रिटेन के गृह विभाग के पास पड़ा है। इसकी समयसीमा समाप्त हो चुकी है। तीसरा पासपोर्ट ब्रिटेन के ड्राइविंग एंड व्हीकल लाइसेंसिंग अथॉरिटी के पास है। अदालत को यह भी बताया गया कि नीरव मोदी के पास पासपोर्ट के अलावा कई रेसिडेंसी कार्ड भी हैं। इनमें से कुछ की समयसीमा खत्म हो गई है। उसके पास जिन देशों के रेसिडेंसी कार्ड हैं, उनमें संयुक्त अरब अमीरात, सिंगापुर और हॉन्ग-कॉन्ग के हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/nirav-modi-arrested-from-this-bank-branch-in-london-4312158/

डिज्नी का हुआ स्टार इंडिया, फॉक्स ने 71 अरब डॉलर में किया सौदा


नई दिल्ली। डिज्नी की मालिकाना कंपनी द वाल्ट डिज्नी कंपनी ने 71 अरब डॉलर का सौदा कर 21 सेंचुरी फॉक्स को खरीद लिया है। इस तरह स्टार इंडिया अब वाल्ट डिज्नी के अधीन हो गई है। स्टार इंडिया के दर्जनों खेल और मनोरंजन चैनल हैं। यह सौदा बुधवार सुबह प्रभावी हुआ।

इस सौदे के तहत स्टार इंडिया के अलावा रूपर्ट मडरेक की कंपनियों- 21 सेंचुरी फॉक्स फिल्म प्रोडक्शन व्यवसाय के साथ ही ट्वेंटीएथ सेंचुरी फॉक्स, फॉक्स सर्चलाइट पिक्चर्स, फॉक्स 2000 पिक्चर्स, फॉक्स फैमिली और एनिमेशन, फॉक्स टेलीविजन क्रिएटिव यूनिट्स, ट्वेंट्ीएथ सेंचुरी फॉक्स टेलीविजन, एफएक्स प्रोडक्शंस और फॉक्स21, एफएक्स नेटवक्र्‍स, नेशनल जियोग्राफिक पार्टनर्स, फॉक्स नेटवक्र्‍स ग्रुप इंटरनेशनल- का अधिग्रहण शामिल है।

सौदे के तहत डिज्नी टाटा स्काई और एंडेमोल शाइन ग्रुप की भी मालिक होगी। इस अधिग्रहण से मनोरंजन जगत की इस दिग्गज कंपनी को लाभ होगा, जिसे स्ट्रीमिंग सर्विस प्रोवाइडर नेटफ्लिक्स, हूलू और जल्द ही लांच होने वाली एप्पल की टीवी सीरीज से चुनौती मिलने वाली है।

डिज्नी के सीईओ बोल इगर ने एक बयान में कहा, "यह हमारे लिए महत्वपूर्ण ऐतिहासिक क्षण है।" अधिग्रहण के बाद भी अमेरिका में फॉक्स न्यूज और फॉक्स स्पोट्र्स मडरेक की फॉक्स कार्प के पास रहेगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/disney-bought-star-india-fox-did-71-billion-dollar-deal-4312020/

एक क्लिक में पढ़ें नीरव मोदी की गिरफ्तारी से जुड़ी 10 अहम बातें


नई दिल्ली। कुछ दिन पहले ही लंदन की सड़कों पर खुलेआम घूम रहे भगौड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी दिखाई दिया था। आज दोपहर में ही नीरव मोदी के गिरफ्तारी की खबरें आई। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, नीरव मोदी को 19 मार्च को ही गिरफ्तार कर लिया गया था, जिसके बाद 20 मार्च को उसे लंदन के वेस्टमिनिस्टर कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट में पेशी के दौरान नीरव मोदी की तरफ से बेल याचिका दाखिल की गई, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा इस मामले में अब अगली सुनवाई आगामी 29 मार्च को होनी है। ऐसे में अब नीरव मोदी को 29 मार्च तक जेल में ही रहना होगा। नीरव मोदी पर इस कार्रवाई को भारतीय कूटनीतिक लिहाज से भी ठोस कदम माना जा रहा हे। आइए जानते हैं नीरव मोदी की गिरफ्तारी से जुड़ी 10 अहम बातें।


1. महज कुछ दिन पहले ही लंदन में मीडिया के कैमरे में कैद होने के बाद लंदन के वेस्टमिनिस्टर कोर्ट ने नीरव मोदी के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी कर दिया था। गत 15 मार्च को पीएमएलए कोर्ट के न्यायधीश एमएस आजमी ने भी नीरव मोदी की पत्नी एमी मोदी के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी कर दिया था।

2. 19 मार्च को नीरव मोदी को भारतीय पक्ष की तरफ से लंदन प्रशासन ने नीरव मोदी को गिरफ्तार कर लिया था। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक नीरव मोदी को दोपहर 2:30 बजे गिरफ्तार किया गया था।

3. 20 मार्च को नीरव मोदी को गिरफ्तारी के बाद लंदन के ही वेस्टमिनिस्टर कोर्ट में पेश किया गया है।

4. कोर्ट में पेशी के दौरान, नीरव मोदी ने कोर्ट में कहा कि मैंने जांच में मदद करने का रूचि दिखाई है। मैंने अपने ट्रैवल डॉक्यूमेंट्स जमा कर दिया है और टैक्स भी भरूंगा।

5. कोर्ट ने सुनवाई के दौरान नीरव मोदी की तरफ से दायर की गई बेल याचिका को खारिज कर दिया।

6. बेल याचिका खारिज करने के बाद कोर्ट ने कहा कि इस केस की अगली सुनवाई 29 मार्च को होगी। इसका मतलब है कि 29 मार्च तक नीरव मोदी को जेल में ही रहना होगा।

7. 29 मार्च को होने वाली सुनवाई में भारत की तरफ से प्रवर्तन निदेशालय के जांच अधिकारी भी जाएंगे। हालांकि, जानकारों का मानना है कि नीरव मोदी के प्रत्यर्पण की राह अब भी आसान नहीं है। प्रत्यर्पण के लिए भारत को कई तकनीकी बाधाओं को पार पाना होगा।

8. नीरव मोदी की गिरफ्तारी के बाद भारत में राजनीतिक प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। एक तरफ केंद्र में सत्ताधारी एनडीए की प्रमुख पार्टी बीजेपी ने इसे सरकार की बड़ी कार्रवाई बताया है, वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस ने प्रतिक्रिया दी है कि यह गिरफ्तारी मोदी सरकार का चुनावी स्टंट है।

9. नीरव मोदी की गिरफ्तारी के बाद पंजाब नेशनल बैंक के शेयर्स में 4 फीसदी की उछाल देखने को मिली। बुधवार को कारोबार के अंत में 3.05 रुपए यानी 3.37 फीसदी तेजी के साथ 93.55 रुपए प्रति शेयर पर बंद हुए।

10. सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, भारत ने ब्रिटिश सरकार को गिरफ्तारी के लिए धन्यवाद दिया है। भारत ने कहा कि यह हमारे लिए महत्वपूर्ण कदम है और नीरव मोदी के खिलाफ केस मजबूत है। भारत ने यह भी कहा कि हम बैकचैनल्स के माध्यम से यूके से बात कर रहे हैं और यूके भी अब समझता है कि नीरव मोदी भगौड़ा है।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/read-top-10-points-about-nirav-modi-and-his-arrest-in-london-4311358/

नीरव मोदी गिरफ्तार: ED नीलाम करेगी 173 पेन्टिंग्स व 11 कार, जानिए वारंट में क्या लिखा गया


नई दिल्ली। लंदन के वेस्टमिनिस्टर कोर्ट द्वारा वारंट जारी होने के महज चंद दिन बाद ही भगौड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी को गिरफ्तार कर लिया गया है। आज यानी 20 मार्च को ही नीरव मोदी को वेस्टमिनिस्टर कोर्ट में पेश किया जाएगा। ईडी की सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, प्रवर्तन निदेशालय को प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग (पीएमएलए) कोर्ट से नीरव मोदी की 173 पेन्टिंग्स और 11 कारों की नीलामी करने का आदेश मिल गया है। नीरव मोदी की गिरफ्तार को भारत द्वारा एक बड़ा कूटनीतिक जीत भी माना जा रहा है। आइए जानते हैं कि नीरव मोदी के अरेस्ट वारंट में क्या-क्या जानकारी प्राप्त हुई है।


प्रत्यर्पण के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं

मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने अपने बयान में कहा है, "नीरव दीपक मोदी (जन्म की तारीख 24-02-71) को भारतीय प्रशासन की पक्ष के तरफ से गिरफ्तार कर लिया गया है। यह गिरफ्तारी गुरुवार यानी 19 मार्च हॉलबोर्न में हुई है।" उन्होंने आगे कहा कि 20 मार्च (बुधवार) को उन्हें वेस्टमिनिस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया जाएगा। हालांकि, नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को लेकर अभी कोई बात साफ नहीं हो पाई है। लंदन के वेस्टमिनिस्टर कोर्ट में पेशी के बाद ही यह बात पूरी तरह से साफ हो जाएगी कि नीरव मोदी को भारत में कब और कैसे प्रत्यर्पण किया जाएगा।


13 हजार करोड़ के घोटाले में सामने आया था नाम

गौरतलब है कि बीते 15 मार्च को नीरव मोदी की पत्नी एमी मोदी को भी गैर-जमानती वारंट जारी कर दिया गया था। नीरव मोदी के खिलाफ पीएमएलए कोर्ट के न्यायधीश एमएस आजमी ने वारंट जारी किया था। बता दें कि पिछले साल मुंबई में पंजाब नेशनल बैंक के ब्रैंडी हाउस ब्रांच से करीब 13 हजार करोड़ रुपए का घोटाला सामाने आया था। इस घोटाले में दो मुख्य आरोपी थे। एक नीरव मोदी था और साथ ही दूसरा आरोपी नीरव मोदी का मामा मेहुल चोकसी भी है। कुछ महीनों पहले ही मीडिया रिपोट्र्स में मेहुल चोकसी के एंटीगुआ की नागरिकता लेने की बात सामने आई थी।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/ed-to-auction-173-paintings-of-nirav-modi-know-what-warrant-reads-4310645/

नीरव मोदी गिरफ्तारः लंदन कोर्ट में खारिज हुई बेल याचिका, 29 मार्च तक जेल में ही रहना होगा


नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक में करीब 13 हजार करोड़ रुपए का मुख्य आरोपी और हीरा कारोबारी नीरव मोदी को लंदन में गिरफ्तार कर लिया गया है। दो दिन पहले ही नीरव मोदी के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया गया था। लंदन के वेस्टमिनिस्टर कोर्ट ने इस भगौड़े कारोबारी के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया था। गिरफ्तार होने के बाद आज वेस्टमिनिस्टर कोर्ट में नीरव मोदी की सुनवार्इ के दौरान उसकी बेल याचिका को खारिज कर दिया गया है। कोर्ट ने कहा है कि नीरव मोदी को 29 मार्च तक जेल में ही रहना होगा। नीरव मोदी की इस गिरफ्तारी को भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत माना जा रहा है। 29 मार्च को नीरव मोदी के खिलाफ अगली सुनवाई होगी। साथ ही प्रवर्तन निदेशालय का एक जांच अधिकारी भी लंदन जाएगा।


जारी हुआ था वाॅरेंट

आपको बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के प्रत्यर्पण अनुरोध पर लंदन की एक अदालत ने नीरव मोदी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था। भारतीय बैंकों का 13 हजार करोड़ रुपए लेकर फरार हुआ नीरव मोदी पिछले दिनों लंदन की सड़कों पर हुलिया बदलकर घूमता नजर आया था। जबकि, उसके खिलाफ इंटरपाेल का रेड कॉर्नर नोटिस जारी हुआ था। ब्रिटेन की वेस्टमिनिस्टर कोर्ट ने इस मामले को गंभीरता लिया और उसके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया था। जानकारों की मानें तो उसके भारत प्रत्यर्पण में बहुत लंबा वक्त लग सकता है। क्योंकि गिरफ्तारी के बाद उसके पास कोर्ट जाने का विकल्प होगा और कोर्ट से उसे कुछ शर्तो के साथ जमानत भी मिल सकती है।


नए लुक में सामने आया था नीरव मोदी

यूके के एक अखबार टेलीग्राफ ने एक वीडियो जारी किया था। इस वीडियो में बताया गया कि 48 वर्षीय नीरव मोदी लंदन की सड़कों पर लुक बदलकर घूम रहा है। भारत की पहल पर इंटरपोल ने नीरव के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया हुआ है। यही नहीं, इस वीडियो में नीरव मोदी द्वारा लंदन में हीरा कारोबार चालू करने की भी बात भी कही गई है। इस वीडियो में नीरव मोदी काफी मोटा नजर आ रहा है। साथ ही उसने अपने लुक में भी बदलाव किया है। उसने अपनी मूंछों को बड़ा कर लिया है और दाढ़ी भी बढ़ाई हुई है।


विजय माल्या की तरह ही होगी कार्रवार्इ

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के मामले में जो प्रक्रिया चल रही है, वही प्रक्रिया नीरव मोदी के मामले में भी चलेगी। 9,000 करोड़ रुपए लेकर फरार हुए माल्या के प्रत्यर्पण का मामला अब आखिरी चरण में है। लंदन की सड़कों पर नीरव मोदी के नजर आने के बाद विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को लेकर कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने कहा था कि मंत्रालय ने पिछले साल अगस्त में नीरव मोदी के प्रत्यर्पण का अनुरोध किया था। मंत्रालय को यह अच्छी तरह से पता है कि वह ब्रिटेन में है। ब्रिटेन के टेलीग्राफ अखबार ने हाल में अपनी एक रिपोर्ट में बताया था कि नीरव मोदी लंदन के पॉश सेंटर प्वाइंट इलाके के एक टॉवर ब्लॉक में तीन बेडरूप के फ्लैट में रहा है, जिसका किराया लगभग १७ लाख रुपए महीना है।


पत्नी एमी मोदी के खिलाफ भी जारी हो चुका है गैर-जमानती वारंट

आपको याद दिला दें कि बीते सप्ताह (15 मार्च) ही नीरव मोदी की पत्नी एमी मोदी के खिलाफ प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के न्यायधीश एमएस आजमी ने यह वारंट जारी किया गया था। एमएस आजमी ने यह वारंट 48 वर्षीय नीरव मोदी व अन्य आरेपियों के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दायर सप्लीमेंट्री चार्जशीट को संज्ञान में लेते हुए किया है। वित्तीय फ्रॉड मामलों की जांच करने वाली एजेेंसी ने आरोप लगाया है कि एमी मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय बैंक अकाउंट के माध्यम से ३ करोड़ रुपए ट्रांसफर किया है। एजेंसी को इस बात को आशंका है कि यह लेनदेन पीएनबी फ्रॉड से जुड़ा हुआ है। ईडी ने कहा है कि इस फंड का इस्तेमाल न्यू यॉर्क सेंट्रल पार्क में प्रॉपर्टी खरीदने के लिए किया गया है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/nirav-modi-arrested-in-london-4310089/

सेबी का मलविंदर और शिविंदर सिंह को झटका, बकाया चुकाने से पहले नहीं बेच पाएंगे एसेट्स


नई दिल्ली। फोर्टिस के पूर्व प्रमोटर्स मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह को सेबी की ओर से बड़ा झटका दिया गया है। सेबी की ओर से साफ कर दिया है जब तक दोनों भाई और उनसे संबंधित कंपनियां फोर्टिस हॉस्पिटल 403 करोड़ रुपए की बकाया रकम ब्याज के साथ नहीं चुका देते हैं, तब तक वो अपना कोई एसेट्स नहीं बेच पाएंगे। वहीं सेबी ने यह भी आदेश दिया है कि दोनों भाई हॉस्पिटल से कोई संबंध या जुड़ाव नहीं रख पाएंगे। इसके बाद सेबी सेबी ने रेलिगेयर फिनवेस्ट को आदेश दिया है कि वह सेबी के निर्देशों के बिनए कोई रकम डायवर्ट नहीं करेंगे। इस आदेश के बाद सिंह बंधुओं के लिए काफी बड़ी मुश्किलें खड़ी हो गई है।

सेबी का आदेश
सेबी मेंबर जी महालिंगम ने आदेश में कहा कि हकीकत में इन आईसीडी का निपटारा नहीं होता था। यह एक तरह की धोखाधड़ी थी। फेक तरीके से हर तिमाही के अंत में एफएचएसएल और उधार लेने वाली कंपनियों के बीच स्ट्रक्चर्ड मूवमेंट के जरिए रीपेमेंट को दिखाया जाता था। ताकि सभी के साथ कहा जा सके कि सभी आईसीडी पर बकाया रकम मिल गई है। उन्होंने यह भी कहा कि हर तिमाही के आखिर में स्ट्रक्चर्ड ट्रांजेक्शंस एफएचएसएल की असल वित्तीय स्थिति छिपाने के लिए किए जाते थे।

ऐसे होता था फंड का डायवर्जन
सेबी के अनुसार फंड एफएचएसएल से बेस्ट, फर्न और मॉडलैंड को जाता था और इस तरह प्रमोटर से जुड़ी दो इकाइयों यानी आरएचसी होल्डिंग्स और रेलिगेयर फिनवेस्ट लिमिटेड में जाता था। लेकिन इसका पूरा फायदा शिविंदर सिंह और मलविंदर सिंह को होता था। सेबी के अनुसार एक ही ग्रुप की आरएचसी होल्डिंग्स और रेलिगेयर फिनवेस्ट पर शिविंदर सिंह और मलविंदर सिंह का क्रमश: शिवी होल्डिंग्स और मालव होल्डिंग्स के जरिए संयुक्त कंट्रोल था।

सेबी ने लगाए आरोप
सेबी के अनुसार फोर्टिस हॉस्पिटल्स ने 30 जून, 2016 से 30 जून, 2017 के बीच कई स्ट्रक्चर्ड ट्रांजैक्शंस किए थे। जो फर्जीवाड़े से किए गए थे। ये सभी ट्रांजैक्शंस कई इंटर-कॉरपोरेट डिपॉजिट्स से संबंधित थे, जिन्हें फोर्टिस हॉस्पिटल्स ने बेस्ट, फर्न और मॉडलैंड को दिया था। यह दिखाया गया था कि हर तिमाही के अंत में इन आईसीडी का निपटारा कर दिया जाता था।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/sebi-said-singh-brothers-will-not-able-to-sell-assets-before-payment-4309279/

होली से पहले कॉरपोरेट के इन रिश्तों ने कहा, हम साथ-साथ हैं


नई दिल्ली। होली के मौके पर दुश्मन भी दोस्त बन जाते हैं, तो खून के रिश्तों में आई खटास कैसे दूर नहीं हो सकती। इस बार होली से पहले देश के दो बड़े कॉरपोरेट घरानों में देखने को मिला। देश के सबसे बड़े कॉरपोरेट ग्रुप रिलायंस बंधुओं के बीच की खाई पूरी तरह से खत्म हो गई। अनिल अंबानी ने साफ कर दिया है कि वो बड़े भाई मुकेश अंबानी के साथ है। दोनों के बीच क दूरियां पूरी तरह से खत्म हो चुकी है। खटास भुला चुके हैं। वहीं दूसरी ओर रियल एस्टेट फर्म हीरानंदानी ग्रुप में पिछले दस सालों से पिता-पुत्री के बीच की दुरियां भी कम हो गई हैं। हीरानंदानी ग्रुप के मुखिया निरंजन हीरानंदानी ने बेटी प्रिया वंद्रेवाला को 360 करोड़ रुपये चुकाने की बात कही है। कॉरपोरेट घरानों में होली से पहले इस मिलन को काफी जोश के साथ सेलीब्रेट भी किया जाएगा।

पिता-पुत्री के बीच की जंग खत्म
पहले बात बात करते हैं रियल एस्टेट फर्म हीरानंदानी ग्रुप में चल रहे विवाद के बारे में बात करते हैं। हीरानंदानी ग्रुप के मुखिया निरंजन हीरानंदानी ने बेटी प्रिया वंद्रेवाला को 360 करोड़ रुपए चुकाने की बात कही है। इसके साथ ही बीते 10 साल से चल रहा विवाद खत्म हो गया। अदालत की ओर से प्रिया वंद्रेवाला को देश से बाहर बड़ी रकम भेजने पर रोक को हटाने के बाद यह विवाद समाप्त हुआ है। अब परिवार में सबकुछ सामान्य होने की बात सामने आ रही है।

यह था पूरा मामला
- निरंजन हीरानंदानी, उनके बेटे दर्शन हीरानंदानी और बेटी प्रियां वंद्रेवाला के बीच 2006 में रियलटी प्रॉजेक्ट्स को डिवेलप करने को लेकर डील हुई थी।
- कुछ समय बाद प्रिया ने पिता और भाई पर इस डील के तहत तय शर्तों के उल्लंघन का आरोप लगाया था और कुछ प्रॉजेक्ट्स में उन्हें शामिल न करने की बात कही थी।
- प्रिया के कोर्ट में अपील करने के बाद 2016 में लंदन कोर्ट ऑफ इंटरनैशनल आर्बिट्रेशन ने उनके पक्ष में फैसला सुनाया।
- फैसले में निरंजन हीरानंदानी को उन्हें 360 करोड़ रुपए देने का आदेश दिया और 149 करोड़ रुपए बतौर टैक्स चुकाने को कहा।
- पिता और बेटे ने इस फैसले के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी।
- दोनों ने 360 करोड़ रुपए को तैयार थे, लेकिन टैक्स चुकाने को लेकर आपत्ति थी।

यह दिया हाईकोर्ट ने आदेश
सोमवार को बांबे हाईकोर्ट ने हीरानंदानी को आदेश दिया कि वह 180 दिनों के भीतर रकम चुकाए। वहीं प्रिया को आदेश दिया है कि टैक्स की कार्रवाई को लेकर वह पिता से सहयोग करें और यदि टैक्स रिफंड जैसा कुछ होता है तो वह रकम भी प्रिया के हिस्से में जाएगी।

मुकेश अंबानी ने छोटे भाई अनिल अंबानी की मदद
वहीं दूसरी ओर सोमवार को आरकॉम ने एरिक्सन का ब्याज सहित बकाया 580 करोड़ रुपए चुका दिया। जिसके बाद आरकॉम ने अनिल अंबानी के हवाले से कहा कि वो बड़े भाई एरिक्सन के भुगतान का निपटारा करने में मुकेश और नीता अंबानी की अहम भूमिका रही है। दोनों ने परिवार में बड़े होने का फर्ज निभाया है। जिसके बाद आरकॉम के प्रवक्ता ने अनिल के हवाले से एक बयान में कहा है कि वो अपने अपने आदरणीय बड़े भाई मुकेश और भाभी नीता के इस मुश्किल वक्त में उनके साथ खड़े रहने और मदद करने का तहेदिल से शुक्रिया करते हैं। समय पर यह मदद करके उन्होंने परिवार के मजबूत मूल्यों और परिवार के महत्व को दर्शाया है। वो और उनका परिवार बहुत आभारी हैं। अब वो और उनका परिवार पुरानी बातों को पीछे छोड़ कर आगे बढ़ चुके हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/after-ambani-brothers-hiranandanis-10-years-war-ends-4305069/

छोटे भाई को बचाने के लिए मुकेश अंबानी ने की मदद, भावुक होकर अनिल अंबानी ने कही यह बात


नई दिल्ली। अगर अनिल अंबानी एरिक्सन का बकाया नहीं चुका पाते तो उन्हें मंगलवार को जेल जाना पड़ता। लेकिन जिसका बड़ा भाई मुकेश अंबानी जैसा हो और भाभी नीता अंबानी जैसी। उस अनिल अंबानी को कैसे जेल जाना पड़ता। भाई और भाभी ने बड़ा दिल दिखाया और अनिल अंबानी की मदद की। जिसकी की वजह से एरिक्सन का 550 करोड़ रुपए का भुगतान हो सका। उसके बाद अनिल अंबानी ने भी कोई कसर नहीं छोड़ी। सही समय पर मदद करने के लिए बड़े भाई मुकेश और भाभी नीता अंबानी का धन्यवाद किया और आभार जताया। उन्होंने भावुक होकर कहा कि भाई और भाभी ने ऐसे समय में मदद कर परिवार के मजबूत मूल्यों और महत्व को दर्शाया है। आपको बता दें कि अगर एरिक्सन का बकाया नहीं चुकाया जाता तो कोर्ट की अवमानना में अनिल अंबानी के साथ आरकॉम की दो इकाइयों के चेयरमैन छाया विरानी और सतीश सेठ को भी जेल जाना पड़ता।

अनिल का भाई और भाभी को आभार
एरिक्सन के भुगतान का निपटारा करने में मुकेश और नीता अंबानी की अहम भूमिका रही है। दोनों ने परिवार में बड़े होने का फर्ज निभाया है। जिसके बाद आरकॉम के प्रवक्ता ने अनिल के हवाले से एक बयान में कहा है कि वो अपने अपने आदरणीय बड़े भाई मुकेश और भाभी नीता के इस मुश्किल वक्त में उनके साथ खड़े रहने और मदद करने का तहेदिल से शुक्रिया करते हैं। समय पर यह मदद करके उन्होंने परिवार के मजबूत मूल्यों और परिवार के महत्व को दर्शाया है। वो और उनका परिवार बहुत आभारी हैं। अब वो और उनका परिवार पुरानी बातों को पीछे छोड़ कर आगे बढ़ चुके हैं।

खत्म हुआ आरकॉम और जियो के बीच करार
कंपनी की ओर से कहा गया है कि आरकॉम और एरिक्सन विवाद खत्म होने के बाद आरकॉम और रिलायंस जियो के साथ दूरसंचार संपत्तियों की बिक्री के लिए दिसंबर 2017 में किया गया करार समाप्त होता है। करीब 15 माह पहले अनिल अंबानी ने रिलायंस कम्युनिकेशंस की संपत्तियों की बिक्री अपने बड़े भाई मुकेश अंबानी की कंपनी को करने का करार किया था। यह सौदा 17,000 करोड़ रुपए का था।

सभी याचिकाएं लेगी एरिक्सन
वहीं दूसरी ओर एरिक्सन के वकील अनिल खेर के अनुसार एरिक्सन को ब्याज सहित बकाया मिलने के बाद आरकॉम के खिलाफ इनसॉल्वेंसी की दायर याचिकाओं को वापस लिया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने एरिक्सन का पैसा चुकाने के लिए आरकॉम को 19 मार्च तक की मोहलत दी थी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/mukesh-ambani-helped-to-save-younger-brother-anil-became-emotional-4303685/

किसी भी वक्त गिरफ्तार हो सकता है नीरव मोदी, लंदन के वेस्टमिनिस्टर कोर्ट ने जारी किया वारंट


नर्इ दिल्ली। करीब 15 हजार करोड़ रुपए के पंजाब नेशनल बैंक घोटाले का मुख्य आरोपी नीरव मोदी अब बहुत जल्द ही सालाखों की पीछे होगा। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, वेस्टमिनिस्टर कोर्ट ने नीरव मोदी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक, वारंट जारी होने के बाद किसी भी नीरव मोदी को गिरफ्तार किया जा सकता है। नीरव मोदी को लंदन में गिरफ्तार किया जा सकता है। आपको बता दें कि अभी कुछ दिन पहले ही नीरव मोदी का एक वीडियो सामने आया था जिसमें वो लंदन की सड़कों पर घूम रहा था। इस दौरान, जब उससे एक रिपोर्टर ने कुछ सवाल किए था उसने केवल एक ही जवाब दिया- "नो कमेंट"


पत्नी के खिलाफ भी जारी हुआ था गैर-जमानती वारंट

आपको याद दिला दें कि बीते सप्ताह (15 मार्च) ही नीरव मोदी की पत्नी एमी मोदी के खिलाफ प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के न्यायधीश एमएस आजमी ने यह वारंट जारी किया गया था। एमएस आजमी ने यह वारंट 48 वर्षीय नीरव मोदी व अन्य आरेपियों के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दायर सप्लीमेंट्री चार्जशीट को संज्ञान में लेते हुए किया है। वित्तीय फ्रॉड मामलों की जांच करने वाली एजेेंसी ने आरोप लगाया है कि एमी मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय बैंक अकाउंट के माध्यम से 3 करोड़ रुपए ट्रांसफर किया है। एजेंसी को इस बात को आशंका है कि यह लेनदेन पीएनबी फ्रॉड से जुड़ा हुआ है। ईडी ने कहा है कि इस फंड का इस्तेमाल न्यू यॉर्क सेंट्रल पार्क में प्रॉपर्टी खरीदने के लिए किया गया है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/nirav-modi-may-arrested-soon-warran-issued-by-westminster-court-london-4301956/

अनिल अंबानी को नहीं होगी जेल, RComm ने चुकाए एरिक्सन के 580 करोड़ रुपए


नई दिल्ली। रिलायंस कम्युनिकेशंस के चेयरमैन अनिल अंबानी अब जेल जाने की नौबत से बच चुके हैं। सोमवार को अनिल अंबानी की स्वामित्व वाली आरकॉम ने स्विडिशन टेलिकॉम इक्विपमेंट मेकर को एरिक्सन को 580 करोड़ रुपए जमा कर दिया है। इसके साथ ही दोनों कंपनियों के बीच करीब साल भर पुरान मामला अब खत्म हो चुका है। एरिक्सन के वकील ने आरकॉम द्वारा रकम की रसीद मिलने की बात कही है।


19 मार्च थी अंतिम तारीख

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक ऑरकॉम द्वारा एरिक्सन को पेनाल्टी इंटरेस्ट के साथ पूरी रकम चुकाने के लिए 19 मार्च अंतिम तारीख थी। फरवरी माह में एपेक्स कोर्ट ने अनिल अंबानी पर एरिक्सन को बकाया देने को लेकर अवमानना का आरोप लगाया था। साथ ही कोर्ट ने अनिल अंबानी के साथ-साथ रिलायंस इन्फ्राटेल की चेयरमैन छाया विरानी और रिलायंस टेलिकॉम के चेयरमैन सतीश सेठी को जेल जाने के लिए तैयार रहने को कहा था।


क्या था पूरा मामला

एरिक्सन और आरकॉम के बीच यह लड़ाई तब शुरू हुई थी जब इस स्विडिश कंपनी साल 2017 में बैंकरप्सी कोर्ट में पहुंची थी। कंपनी ने ऑरकॉम पर आरोप लगाया था कि आरकॉम ने 2003 की एक डील के लिए 1,500 करोड़ रुपए का बकाया नहीं चुकाया है। बाद में यह केस एनसीएलटी से निकलकर नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्युनल गया। यहां भी सुनवाई से संतुष्टि न मिलने के बाद यह केस सुप्रीम कोर्ट गया। सुप्रीम कोर्ट ने आरकॉम को 30 सितंबर व 15 दिसंबर 2018 की दो डेडलाइन दिया। इन दोनों डेडलाइन को आरकॉम ने मिस कर दिया।


आरकॉम पर है 46 हजार करोड़ रुपए का कर्ज

इन डेडलाइन्स के मिस होने के बाद एरिक्सन ने आरकॉम पर अवमानना के तीन मामले दर्ज कराए। यह केस आरकॉम के चेयरमैन अनिल अंबानी और कंपनी की दो यूनिट्स के खिलाफ दर्ज कराया गया था। बता दें कि आरकॉम पर 46,000 करोड़ रुपए के कर्ज का बोझ है। मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो इन्फोकॉम और कनाडा की मैनेजमेंट कंपनी ब्रुकफील्ड को अपनी संपत्ति बेचकर पैसे जुटाने वाले थे। आरकॉम का प्लान था कि इससे मिलने वाले 18 हजार करोड़ रुपए वह एरिक्सन समेत अन्य उधारकर्ताओं को चुकाएगी।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/reliance-comm-pays-off-462-crore-to-ericsson-4301166/

Larsen and Toubro द्वारा अधिग्रहण से बचने के लिए शेयर बायबैक कर सकती है Mindtree, 20 मार्च को बोर्ड की बैठक


नई दिल्ली। सॉफ्टवेयर सर्विसेज मुहैया कराने वाली कंपनी माइंट्री शेयर बायबैक करने पर विचार कर रही है। इसके लिए कंपनी मौजूदा सप्ताह में बोर्ड बैठक बुलाई है। माइंट्री कपंनी ने यह फैसला इसलिए लिया है क्योंकि वह ये नहीं चाहती कि एलएंडटी उसका जबरन अधिग्रहण कर सके। इस संबंध में माइंडट्री ने शेयर बाजार नियामक को बता दिया है कि कंपनी की यह बैठक आगामी 20 मार्च को होगी। इस बैठक में बोर्ड शेयर बायबैक करने पर विचार करेगा। बता दें कि बेंगलुरु की इस कंपनी ने साल 2017 में भी बायबैक किया था।


बढ़ सकती है माइंडट्री के शेयर्स की लागत

गौरतलब है कि बीते सप्ताह कई मीडिया रिपोट्र्स में कहा गया था कि एलएंडटी इंफोटेक माइंडट्री का अधिग्रहण कर सकता है। इन रिपोट्र्स में कहा गया था कि माइंडट्री के स्ट्रैटेजिक इन्वेस्टर वीजी सिद्धार्थ के शेयर्स को एलएंडटी खरीदकर ऐसा कर सकती है। खबर यह आई थी कैफे कॉफी डे ग्रुप के फाउंडर सिद्धार्थ अपने 21 फीसदी शेयर्स एलएंडटी इंफोटेक को बेच सकते हैं। अपने आप में यह पहला ऐसा मौका होगा जब कोई कंपनी संभावित टेकओवर के बदले शेयर बायबैक करने के बारे में सोच रही है। ऐसे में माइंडट्री के इस कदम से शेयर्स की लागत बढ़ जाएगी और साथ ही शेयरों की संख्या भी कम हो जाएगी। ऐसे में निवेशकों के लिए भी यह एक तरह संकेत होगा कि आने वाले दिनों में चुनौती वाली बोली लगानी होगी।


माइंडट्री की मैनेजमेंट व शेयरधारक एक पेज पर नहीं

इस मामले में इंफोसिस के पूर्व बोर्ड मेंबर और चीफ फाइनेंशियल अधिकारी वी बालाकृष्णन ने कहा कि किसी भी बड़े निवेशक की ओर से लेनदेन पर बातचीत होने के दौरान बायबैक होना अस्वभाविक है। इससे साफ पता चलता है कि कंपनी की मैनेजमेंट और बड़े शेयरधारकों के बीच किसी एक बात पर सहमति नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि जैसे ही बायबैक की घोषण होती है, वैसे ही खरीदार के लिए ट्रांजैक्शन कॉस्ट बढ़ जाएगी। माइंडट्री के फाउंडर व प्रोमोटरर्स कृष्णकुमार नटराजन, सुब्रतो बागची, एनएस पार्थसारथी और रोस्तोव राजनन के पास कुल 13.32 फीसदी की हिस्सेदारी है।


अधिग्रहण के लिए ये हो सकता है माइंडट्री का प्लान

इन प्रोमोटर्स ने बेरिंग पीई एशिया, क्रिस कैपिटल और केकेआर से बात भी की थी ताकि वो सिद्धार्थ के शेयर्स खरीद लें। यदि ऐसा हो जाता तो कंपनी की बागडोर फाउंड व प्रोमोटरों के हाथ में ही होती। दरअसल, उन्हें इस बात का भी डर है कि यदि एलएंडटी इंफोटेक सिद्धार्थ से शेयर खरीदने में कामयाब होती है तो वह मेजॉरिटी स्टेक के करीब पहुंचने के लिए ओपेन ऑफर भी ला सकती है।
Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/latest-corporate-news/mindtree-may-opt-for-share-buyback-in-board-meeting-on-20th-march-4300623/

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Assam Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Study Material
Bihar
State Government Schemes
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Business
Astrology
Syllabus
Festival
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com