Patrika : Leading Hindi News Portal - Miscellenous World #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Patrika : Leading Hindi News Portal - Miscellenous World

http://api.patrika.com/rss/miscellenous-world 👁 1343

भारतीय नौसेना ने मोजाम्बिक में आए चक्रवात के बाद चलाया राहत अभियान, 192 लोगों को बचाया


मोजाम्बिक। भारतीय नौसैनिक दल ने बीते हफ्ते अफ्रीका के मोजाम्बिक में आए चक्रवात ईदई से 192 से अधिक लोगों को बचाया है। आईएनएस सुजाता, आसीजीएस सारथी और आईएनएस शार्दुल ने भारतीय उच्चायोग और स्थानीय एजेंसियों की मदद से तूफान प्रभावित देश में लोगों को मानवीय सहायता मुहैया कराई।

1,400 लोगों को चिकित्सा सहायता प्रदान की गई

भारतीय नौसेना द्वारा स्थापित चिकित्सा शिविरों में लगभग 1,400 लोगों को चिकित्सा सहायता प्रदान की गई है। हेलिकॉप्टर चेतक ने मोजाम्बिक के आपदा प्रबंधन अधिकारियों द्वारा स्थानीय अधिकारियों के साथ समन्वय में लोगों के निकासी के लिए और चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में भोजन और पानी के पैकेट को छोड़ने के लिए हवाई सर्वेक्षण करके सुविधा के उपाय किए।

ताजा पानी मुहैया करा रहे

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, भारतीय नौसेना के जहाज राहत शिविरों में ताजा पानी मुहैया करा रहे हैं, मलबे को हटाने और क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत सहित सामुदायिक सेवा का कार्य कर रहे हैं। बंदरगाह क्षेत्र में काम करने वाले लगभग 700 लोगों को खाद्य आपूर्ति भी प्रदान की गई है। गौरतलब है कि चक्रवात ईदई के कारण भारी विनाश हुआ। इसके कारण कई लोगों की जान जा चुकी है। चक्रवात की चपेट में आए दो अन्य देशों जिम्बाब्वे और मलावी को भी सहायता भेजी जा रही है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/indian-navy-rescues-192-people-after-relief-operations-mozambique-4326355/

News Of The Week: बीते सप्ताह दुनिया की वो खबरें, जिन्होंने बनाई सुर्खियों में जगह


1- पीएनबी घोटाले का मुख्य आरोपी नीरव मोदी गिरफ्तार

- पीएनबी घोटाले का मुख्य आरोपी नीरव मोदी लंदन में गिरफ्तार
- वेस्टमिनिस्टर कोर्ट द्वारा वारंट जारी होने के चंद दिन बाद हुई गिरफ्तारी
- 20 मार्च को नीरव मोदी को वेस्टमिनिस्टर कोर्ट में पेश किया गया
- भारत के लिए नीरव मोदी की गिरफ्तारी एक बड़ी कूटनीतिक जीत
- 15 मार्च को नीरव मोदी और उसकी पत्नी एमी मोदी को जारी हुआ था गैर-जमानती वारंट
- मुंबई में पीएनबी के 13 हजार करोड़ रुपए के गबन का मुख्य आरोपी है नीरव मोदी

2- इराक में नाव डूबी, 100 लोगों की मौत

- इराक की टिगरिस नदी में नाव डूबने से करीब 100 लोगों की मौत
- मरने वालों में अधिकांश महिलाएं और बच्चे शामिल
- नाव पर 200 से ज्‍यादा लोग सवार थे
- हादसे में 55 लोगों को बचाया गया
- मोसुल शहर के पास टिगरिस नदी में हुआ हादसा
- मरने वालों में कम से कम 19 बच्चे और 61 महिलाएं शामिल

3- ब्रिटेन को बड़ी राहत, ब्रेक्जिट पर 22 मई तक मिल सकती है छूट

यूरोपीय संघ के नेताओं ने यूके को अधिक समय देने की पेशकश की
बुधवार की बैठक के बाद यूरोपीय ब्लॉक ने ब्रिटेन को 22 मई तक का समय दिया
संसद ब्रेक्जिट डील को पास कर दे, तो 22 मई तक मिल सकती है राहत
यदि ब्रेक्जिट पास नहीं हुआ तो केवल 12 अप्रैल तक की छूट मिलेगी
29 मार्च तक ब्रिटेन को ब्रेक्जिट से अलग होना था
ब्रेक्सिट सौदे पर हाउस ऑफ कॉमन्स में दो बार सरकार की हार

4- चीन की केमिकल फैक्ट्री में धमाका

- पूर्वी चीन में एक रासायनिक संयंत्र में जबरदस्त विस्फोट
- विस्फोट के बाद केमिकल प्लांट में आग लग गई
- हादसे में कम से कम 64 लोगों की मौत
- हादसे के बाद आसपास की इमारतों की खिड़कियों के शीशे चकनाचूर
- शियांगशुई काउंटी के यानचेंग में केमिकल इंडस्ट्रियल पार्क में स्थित था प्लांट
- हादसे में 87अन्य लोग गंभीर रूप से घायल

5- 2016 अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में रूस की भूमिका पर जांच रिपोर्ट पेश

- 2016 में अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में कथित तौर पर रूस की भूमिका को लेकर जांच
- विशेष वकील रॉबर्ट म्यूलर ने न्यायिक विभाग को सौंपी रिपोर्ट
- म्यूलर ने अटॉर्नी जनरल विलियम बर्र को सौंपी रिपोर्ट
- फिलहाल रिपोर्ट का ब्यौरा सार्वजनिक नहीं
- अमरीकी चुनाव में रूसी दखल की आरोप पर है यह जांच रिपोर्ट
- म्यूलर पूर्व एफबीआई अधिकारी हैं, जिन्होंने इस मामले की जांच 2017 में शुरू की थी

6- धूमधाम से मनाया गया पाकिस्तान दिवस

- पाकिस्तान दिवस 2019 पारंपरिक उत्साह और हर्ष के साथ मनाया गया
- राजधानी इस्लामाबाद में भव्य परेड का आयोजन
- इस मौके पर पीएम इमरान खान और राष्ट्रपति अल्वी ने दिया संदेश
- इमरान खान के भाषण में 'भारत के आतंक' की चर्चा
- पाकिस्तानी सेनाओं ने किया हथियारों का प्रदर्शन
- पीएम मोदी ने दी पाकिस्तान के लोगों को बधाई


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/news-of-the-week-important-news-of-the-last-week-4321953/

माली के मध्य हिस्से में सबसे बड़ा जिहादी हमला, 110 लोगों की मौत


बमाको। पश्चिमी अफ्रीकी देश माली के मध्य हिस्से में बंकास शहर के करीब में शनिवार को एक बड़ा जिहादी हमले को अंजाम दिया गया। बताया जा रहा है कि पियुल समुदाय के एक गांव में पारंपरिक शिकारी समुदाय डोगोन के हमले में कम से कम 110 लोगों की मौत हो गई। इस दर्दनाक घटना की पुष्टि करते हुए बंकास शहर के मेयर गुइंदो ने बताया है कि यह एक जिहादी हमला था। उन्होंने इस हमले को इस अब तक का सबसे बड़ा जातीय और जिहादी हिंसा करार दिया है।

यहां हुए आतंकी हमले में 40 से ज्यादा की मौत, देख अखिलेश यादव ने दिया बड़ा बयान

सुबह चार बजे के करीब हमले को दिया गया अंजाम

बताया जा रहा है कि इस घटना को सुबह के चार बजे के करीब अंजाम दिया गया। इसके पीछे की एक वजह यह माना जा रहा है कि ओगोसागू गांव में हुए हमले के बाद माली में चल रही हिंसा को रोकने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रतिनिधिमंडल के माली जा रहे हैं। ओगोसागू गांव में हुए हिंसा में पिछले साल सैकड़ों लोग मारे गए थे और अब यह पश्चिमी अफ्रीका के समूचे साहेल क्षेत्र में फैल चुकी है। मेयर गुइंदो का कहना है कि इस हमले को सुबह के चार बजे अंजाम दिया गया। हमलावर पारंपरिक दोंजो शिकारी की वेशभूषा पहनकर पहुंचे थे और फिर ओगोसागू को घेरकर हमला बोल दिया। इस हमले में भारी संख्या में लोगों की मौत हो गई। जबकि पूरा गांव ध्वस्त हो गया। एक ग्रामीण का कहना है कि इस हमले को अलकायदा से जुड़े उस संगठन के खिलाफ बदले की कार्रवाई है, जिसने पिछले सप्ताह शुक्रवार को हुए हमले में 23 सैनिकों को मारने की जिम्मेदारी ली थी।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/the-biggest-jihadist-attack-in-the-central-part-of-mali-110-people-died-4321650/

क्राइस्टचर्च अटैक: सरकार ने उठाया सख्त कदम, हमलावर के घोषणापत्र पर लगाया प्रतिबंध


क्राइस्टचर्च। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर हुए आतंकी हमले के बाद अब सरकार ने कई सख्त कदम उठाए हैं। इसी कड़ी में अब एक और बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने उस घोषणापत्र को पास रखने और वितरित करने पर प्रतिबंध लगा दिया है जिसे कथित तौर पर मस्जिद पर हमला करने वाले बंदूकधारी ने लिखा था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ऑफिस ऑफ फिल्म एंड लिटरेचर क्लासीफिकेशन ने घोषणा करते हुए कहा कि कानून के अंतर्गत यह दस्तावेज आपत्तिजनक है। बता दें कि नरसंहार के आरोपी 28 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई युवक ब्रेंटन टरांट का कथित घोषणापत्र 80 से ज्यादा पन्नों का है तथा इसमें प्रवासियों और मुस्लिमों के विरोध में बातें लिखी हैं।

क्राइस्टचर्च अटैक: हमले के एक हफ्ते बाद बंद मस्जिद खुली, नमाजियों ने अदा की नमाज

हमलावर ने सोशल मीडिया पर किया था पोस्ट

न्यूजीलैंड के मुख्य सेंसर डेविड शैंक्स ने कहा, "ऐसे घृणास्पद वक्तव्य जिसे कई दक्षिणपंथी विचारधारा के लोगों द्वारा खारिज किया जा सकता है, लेकिन जिसकी अभिव्यक्ति गैर-कानूनी नहीं है, और इस प्रकार का प्रकाशन जिसे जानबूझ कर आगे हत्या और आतंकवाद के लिए प्रेरित करने के लिए तैयार किया जाता है, उनके बीच फर्क करना जरूरी है।" हमला करने से ठीक पहले घोषणापत्र सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया गया था तथा प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न के कार्यालय भेज दिया गया था।

क्राइस्टचर्च हमला: न्यूजीलैंड पुलिस का दावा, बंदूकधारी ने एक और हमला करने की बनाई थी योजना

ऑनलाइन पोस्ट या लिंक्स को डिलीट करने की अपील

बता दें कि इससे पहले गुरुवार को मुख्य सेंसर डेविड शैंक्स ने जनता से उस दस्तावेज की प्रतियों, ऑनलाइन पोस्ट या लिंक्स को डिलीट करने की अपील की थी। उन्होंने कहा था कि न्यूजीलैंड वासी हत्या, घृणा और आतंक के लिए प्रेरित करने वालों को खारिज करने में अपनी भूमिका निभा सकते हैं। इसे दोबारा प्रकाशित कर या वितरित कर आरोपी के जानलेवा उद्देश्यों में साथ न दें। साथ ही इस हमले से संबंधित सोशल मीडिया पोस्ट, लिंक या वेबसाइट की शिकायत भी करें। मालूम हो कि इसी सप्ताह, प्रशासन ने नरसंहार के वीडियो पर प्रतिबंध लगा दिया था। इस नसंहार में 50 लोगों की जान चली गई थी।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/christchurch-attacks-the-government-taking-strict-action-imposed-restriction-on-the-attacker-s-manifesto-4321598/

क्राइस्टचर्च अटैक: हमले के एक हफ्ते बाद बंद मस्जिद खुली, नमाजियों ने अदा की नमाज


क्राइस्टचर्च। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च स्थित अल नूर मस्जिद में बीते शुक्रवार को हुए आतंकी हमले के एक हफ्ते बाद यानी शनिवार को बंद मस्जिद को खोल दिया गया। नमाजियों ने मस्जिद में पहुंचकर नमाज अदा की और अमन-चैन के लिए अल्ला से दुआ मांगी। बता दें कि यह उन दो मस्जिदों में से एक है, जहां एक बंदूकधारी ने 15 मार्च को अंधाधुंध गेलीबारी कर 50 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। न्यूजीलैंड की मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, नमाज अदा करने और वहां जनसंहार के शिकार हुए लोगों को श्रद्धांजलि देने के लिए मस्जिद के सदस्यों और मुस्लिम समुदाय के लोगों को मस्जिद में जाने की इजाजत दी गई।

क्राइस्टचर्च अटैक: सरकार ने उठाया सख्त कदम, हमलावर के घोषणापत्र पर लगाया प्रतिबंध

दूसरी मस्जिद अभी भी बंद

बता दें कि पुलिस ने मस्जिद की कमान समुदाय के लोगों को फिर से सौंप दी और दोपहर के तुरंत बाद सुरक्षा घेरा हटा लिया गया। उधर, लिनवुड एवेन्यू स्थित दूसरी मस्जिद बंद रही। अल नूर मस्जिद के खुलते ही करीब 3,000 लोग शनिवार को मृतकों के सम्मान में क्राइस्टचर्च में जुलूस 'मार्च फॉर लव' निकाला। मालूम हो कि ऑस्ट्रेलिया के स्वघोषित 28 वर्षीय बेंट्रन टैरंट को हमले को लेकर हत्यारोपी ठहराया गया है। इस हमले में 50 लोगों की मौत हो गई थी, जकि करीब इतने ही लोग घायल हो गए थे। इस हमले के बाद से न्यूजीलैंड की सरकार ने सख्त कदम उठाते हुए कई कानूनों में बदलाव किया। प्रधानमंत्री जेसिंडा ने इस हमले की कड़ी आलोचना करते हुए दोषी को सख्त सजा देने की बात कही थी।

क्राइस्टचर्च हमला: एक हफ्ते बाद लाउडस्पीकर से गूंजी अजान, रेडियो और टीवी पर हुआ लाइव टेलीकास्ट

एक दिन पहले आयोजित की गई थी शोक सभा

मालूम हो कि न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर हुए हमले के एक सप्ताह बाद से पूरे देश में जगह-जगह शोक सभाएं रखी गईं थी। इस दौरान मस्जिदों के लाउडस्पीकर में अजान गूंजी, जिसका रेडियो और टीवी पर लाइव टेलीकास्ट हुआ था। शोक सभा में न्यूजीलैंड की पीएम जैंसिडा अर्डर्न भी उपस्थित थीं। पीएम ने शुक्रवार को क्राइस्टचर्च के सामने वाले पार्क में एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया। यह प्रार्थना सभा दो मिनट के मौन के बाद आयोजित की गई।

 

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/christchurch-attacks-a-week-after-the-attack-closed-mosque-open-namazis-pay-their-prayers-4321592/

सोमालिया: राजधानी मोगादिशू में श्रम मंत्रालय के बाहर आत्मघाती हमला, एक मंत्री समेत 6 की मौत


मोगादिशू। दक्षिण अफ्रीकी देश सोमालिया से शनिवार को एक दुखद घटना सामने आई। दरअसल सोमालिया की राजधानी मोगादिशू में शनिवार को श्रम मंत्रालय के पास एक आत्मघाती हमला किया गया, इस हमले में एक मंत्री समेत छह लोगों की मौत हो गई, जबकि 11 अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस अधिकारी मोहम्मद अब्दुल ने बताया है कि आत्मघाती कार बम हमला श्रम एवं लोक निर्माण मंत्री को निशाना बनाकर किया गया था।

सोमालिया के सबसे वरिष्ठ राजनेता पर अल-शबाब आतंकियों ने की गोलीबारी, हुई मौत

आत्मघाती हमले के बाद आतंकियों ने की गोलीबारी

बता दें, रिपोर्ट में बताया गया है कि आतंकियों का एक गुट कार में बम रखकर श्रम मंत्रालय में घुस गया और मंत्रालय पर हमला बोल दिया। पुलिस अधिकारी मेजर मोहम्मद हुसौन ने बताया कि पहला धमाका श्रम मंत्रालय में हुआ। इस आत्मघाती हमला करने के बाद आतंकियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन अल-शबाब ने ली है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया है कि आतंकियों ने मंत्री को निशाना बनाकर हमला किया था। हमले के स्थान से दूर तक सफेद धुंए का गुबार निकलता हुआ दिखा। यही नहीं दूर तक गोलीबारी की आवाजें भी सुनाई दी। इस हमले को लेकर सांसद मोहम्मद उमर दल्हा ने कहा कि सांसद और श्रम एवं समाज कल्याण विभाग के उपमंत्री सागर इब्राहिम अबदल्ला आतंकी हमले में मारे गए लोगों में शामिल हैं।

सोमालिया की राजधानी मोगादिशू में भयंकर विस्फोट, 11 मरे

इसी महीने आतंकी हमले में 11 लोगों की हुई थी मौत

बता दें कि इससे पहले इसी महीने एक मार्च को सोमालिया की राजधानी मोगादिशु में एक शक्तिशाली विस्फोट हुआ था जिसमें कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई थी। जबकि 35 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी एक स्थानीय आतंकी संगठन ने ली थी। आतंकी संगठन ने जिम्मेदारी लेते हुए कहा था कि उनका निशाना मोगादिशु होटल था। हालांकि इस हमले के बाद पुलिस का कहना था कि आतंकियों ने एक जज की हत्या करने के लिए यह विस्फोट किया था। पुलिस अधिकारी मोहम्मद हुसैन ने बताया था कि अपीलीय अदालत के मुख्य न्यायाधीश अब्शीर उमर के निवास के पास बम फटा।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/somalia-suicide-attack-in-capital-mogadishu-6-killed-including-a-minister-4321550/

वादे से पलटा अमरीका, INF से पीछे हटने के बाद नई मिसाइलों की तैनाती का प्रस्ताव


वाशिंगटनअमरीका ने रूस के साथ INF संधि को समाप्त करने के कुछ ही हफ्तों बाद एक और हैरान करने वाला फैसला किया है। अमरीका ने संधि तोड़ते समय प्रतिबंधित हथियारों को विकसित नहीं करने का वादा किया था, लेकिन अब अमरीका इस वादे से मुकरता नजर आ रहा है। अमरीकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने अपने 2020 के बजट में कई मिसाइल कार्यक्रमों का प्रस्ताव दिया है।

पाकिस्तान: धूमधाम से मनाया जा रहा है नेशनल डे, इमरान खान के भाषण में रही भारत की चर्चा

INF संधि के बाद नया एलान

2 फरवरी, 2019 को अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 1987 में अमरीका और सोवियत नेताओं द्वारा की गई संधि को औपचारिक रूप से निलंबित कर दिया था। उसके बाद रूस ने भी बदले में ऐसा ही किया। आपको बता दें कि इस संधि से 310 से 620 मील और 620 से 3,420 मील की दूरी की सतह से छोड़ी जाने वाली मिसाइलों पर प्रतिबंध लगाए गए थे। हालांकि यह संधि हवा से लांच होने वाली या समुद्री मिसाइलों को कवर नहीं करती थी। 7 फरवरी को अमरीका के डिफेंस अंडरसेक्रटरी जॉन रूड ने कहा कि संधि जरूर निलंबित हुई है लेकिन अमरीका ने संधि द्वारा निर्धारित सीमा सीमाओं का सम्मान करना जारी रखा है। लेकिन अब एक महीने बाद अमरीकी सेना ने ईयर 2020 के बजट अनुरोधों में कई मिसाइल कार्यक्रमों को शामिल किया है।

अमरीका: 2016 राष्ट्रपति चुनाव में रूस और ट्रंप की भूमिका पर जांच रिपोर्ट पेश

नई मिसाइलों की तैनाती का प्रस्ताव

अमरीका ने संधि के समाप्त होते ही INF संधि द्वारा प्रतिबंधित दो हथियारों के परीक्षण के अपने इरादे की घोषणा की। एक लगभग 600 मील की दूरी तक मार करने वाली क्रूज मिसाइल है और दूसरी एक मध्यम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल है। बताया जा रहा है कि इन मिसाइलों का परीक्षण अगस्त तक होने की संभावना है। इनकी रेंज 1,800 और 2,500 मील के बीच है। पेंटागन की रक्षा रिपोर्ट बताती है कि अमरीकी सेना मोबाइल मध्यम-रेंज मिसाइल विकसित करने के लिए अगले पांच बजट सत्रों में 900 मिलियन डॉलर खर्च करना चाहती है। बजट दस्तावेजों में कहा गया है कि यह हथियार वित्त वर्ष 2024 के अंत तक तैयार हो जाएगा।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/us-pitches-for-inf-banned-missiles-in-pentagon-budget-4318096/

भारतीय को मिली आठ साल की सजा, बस दुर्घटना में 16 लोगों की ली थी जान


ओटावा। कनाडा में एक 30 वर्षीय भारतीय ट्रक चालक को एक बस दुर्घटना के लिए शुक्रवार को आठ साल की जेल की सजा सुनाई गई है। इस हादसे में 16 लोगों की मौत हो गई, जिसमें ज्यादातर जूनियर हॉकी टीम के सदस्य थे। इसे देश के सबसे खराब आपदाओं में से एक माना गया। जसकीरत सिंह सिद्धू पर आरोप है कि इस साल अप्रैल में उसकी खतरनाक ड्राइविंग की वजह से कई लोगों की मौत गई। इसके साथ कई यात्रियों को शारीरिक चोटें भी आईं। 6 अप्रैल,2018 को,सिद्धू का ट्रक एक राजमार्ग चौराहे पर रुकने में विफल रहा। इसमें 16 लोग मारे गए और 13 लोग घायल हो गए। बस में हंबोल्ट ब्रोंकोस हॉकी टीम और अन्य लोग सवार थे।

इस घटना ने परिवारों को तोड़ दिया

न्यायाधीश ने पीड़ित के परिवारों के साथ सहानुभूति व्यक्त की है। उन्होंने अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि ज्यादातर दर्द असहनीय लगता है। इस घटना ने परिवारों को तोड़ दिया है। सिद्धू को प्रत्येक मृत्यु के लिए आठ साल की सजा और प्रत्येक व्यक्ति के घायल होने पर पांच साल की सजा सुनाई गई। सजा सुनाए जाने के बाद परिजन फूट-फूटकर रो पड़े और कुछ तुरंत बाहर चले गए। तथ्यों के के अनुसार, सिद्धू दुर्घटना के लिए पूरी तरह जिम्मेदार है। फोरेंसिक ने टक्कर की रिपोर्ट में पाया कि बस ने दुर्घटना से पहले राजमार्ग 335 और 35 के चौराहे पर ब्रेक नहीं लगाया। अदालत में, न्यायाधीश ने कहा कि सिद्धू का ट्रक सामान से भरा था। वह सड़क के संकेतों को नोटिस करने में विफल रहा।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/indian-truck-driver-gets-eight-years-of-jail-for-killing-16-people-4317773/

ऑस्ट्रेलिया में चक्रवात का कहर, तेज हवा और बारिश से सैकड़ों लोग बेघर


सिडनी। ऑस्ट्रेलिया में तेज हवा और बारिश की वजह से जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। सैकड़ों लोग चक्रवात की वजह से लोग बेघर हो गए हैं। सुदूर ऑस्ट्रेलियाई तट पर इस तूफान का सबसे अधिक असर देखा गया है। आबादी वाले ज्यादातर क्षेत्रों को खाली करा दिया गया है। उत्तरी क्षेत्र की राजधानी डार्विन और कैथरीन शहर में 2,000 से अधिक लोग अस्थायी आवास में हैं।

ट्रेवर चक्रवात का कहर

उत्तरी ऑस्ट्रेलियाई तट पर विशाल और शक्तिशाली चक्रवात ने शनिवार को जन जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया। इसके बाद क्षेत्र में रहने वाले निवासियों को सुरक्षा आशंकाओं के बीच वहां से हटा लिया गया। पूरे इलाके में तूफान के चलते भयंकर हवाएं चल रही हैं और भारी बारिश हो रही है। श्रेणी 4 का तूफान ट्रेवर क्वींसलैंड राज्य की सीमा के पास उत्तरी क्षेत्र के सुदूर पूर्व में कारपेंटेरिया तट की खाड़ी को पार कर गया। चक्रवात के साथ 250 किलोमीटर प्रति घंटे (155 मील प्रति घंटे) की रफ्तार से हवाएं चलीं। भारी बारिश के बाद बाढ़ और लैंड स्लाइड की आशंका के बीच अधिकारियों ने राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया है। अधिकारियों ने इस इलाके में अब भी ठहरे हुए लोगों के लिए सुरक्षा चेतावनी जारी की है।

एक और तूफान का खतरा

उत्तरी क्षेत्र आपातकालीन सेवा के प्रवक्ता जेसन कॉलिन्स ने कहा कि तूफान ट्रेवर के मार्ग में आने वाले इलाकों में तीन दिनों तक बिजली और खाद्य आपूर्ति बंद रहेगी।इस क्षेत्र में ज्यादातर किसान और खदान कर्मचारी रहते हैं। साइक्लोन ट्रेवर के शनिवार देर रात तक श्रेणी 2 के स्तर तक कमजोर होने की उम्मीद जताई जा रही है। उधर एक अन्य श्रेणी 4 प्रणाली का साइक्लोन वेरोनिका के शनिवार देर रात उत्तर पश्चिमी ऑस्ट्रेलियाई तट को पार करने की उम्मीद है। वेरोनिका के असर से पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में 220 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं।

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/cyclone-trevor-hits-australian-coast-with-heavy-winds-and-rain-4317438/

क्राइस्टचर्च हमला: एक हफ्ते बाद लाउडस्पीकर से गूंजी अजान, रेडियो और टीवी पर हुआ लाइव टेलीकास्ट


क्राइस्टचर्च। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर हुए हमले के बाद से पूरे देश में दुख की लहर है। इस हमले के बाद से देश में जगह-जगह शोक सभाएं रखी गईं। इस दौरान एक हफ्ते बाद मस्जिदों के लाउडस्पीकर में अजान गूंजी , जिसका रेडियो और टीवी पर लाइव टेलीकास्ट हुआ। इस दौरान न्यूजीलैंड की पीएम जैंसिडा अर्डर्न भी उपस्थित थीं। गौरतलब है बीते सप्ताह दो मस्जिदों पर हुए हमले में 50 लोगों की मौत हो गई थी। हमलावर ने अंधाधुंध गोलियां बरसाकर कई लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। पीएम ने शुक्रवार को क्राइस्टचर्च के सामने वाले पार्क में एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया। यह प्रार्थना सभा दो मिनट के मौन के बाद आयोजित की गई।

फ्री कार सेवा दी जा रही थी

आॅकलैंड से क्राइस्टचर्च आए 33 वर्षीय फहीम इमाम के अनुसार वह तीन साल पहले यहां पर आए थे। शुक्रवार को जब पहुंचे तो उन्हें ऐसा महसूस हुआ,जैसे वह किसी और जगह आ गए हों। उन्होंने देखा किस तरह से हर समुदाय के लोग एक-दूसरे से भाईचारे का व्यवहार कर रहे थे। जब वह आॅकलैंड से यहां लैंड हुए तो उन्होंने देखा की लोगों को प्रार्थना सभा तक पहुंचाने के लिए फ्री कार सेवा दी जा रही थी। उन्हें पहली बार मुस्लिम होने पर गर्व महसूस किया है। यह अनुभव काफी बेहतरीन था। इस दौरान प्रार्थना सभा में प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न का कहना है कि न्यूजीलैंड तुरंत क्राइस्टचर्च मस्जिदों पर हमलों में इस्तेमाल हथियारों की तरह सैन्य शैली की अर्ध-स्वचालित बंदूकों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा रहा है। अर्डर्न ने कहा कि हथियारों की तत्काल बिक्री प्रतिबंध गुरुवार से लागू हो गया और संसद के माध्यम से नए कानूनों को जल्द लागू किया जाएगा।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/christchurch-after-the-attack-pm-organized-a-prayer-for-meeting-4314757/

स्टर्लिंग बायोटेक घोटाले का आरोपी हितेश पटेल अल्बानिया में गिरफ्तार, जल्द लाया जाएगा भारत


नई दिल्ली। स्टर्लिंग बायोटेक घोटाले का मुख्य आरोपी हितेश पटेल अल्बानिया में गिरफ्तार कर लिया है। हितेश पटेल के गिरफ्तार होने की सूचना के बाद ईडी ने कहा है कि उसके जल्द ही भारत प्रत्यर्पित किए जाने की उम्मीद है। बता दें की हितेश पटेल 5000 करोड़ रुपये के स्टर्लिंग बायोटेक घोटाले में मुख्य आरोपी है । ईडी ने उस पर मनी लांडरिंग के तहत मामला दर्ज किया है।

हितेश पटेल अल्बानिया में गिरफ्तार

ईडी द्वारा विशेष पीएमएलए अदालत में अभियोजन की शिकायत दायर की गई थी। ईडी ने बताया है कि हितेश पटेल को अल्बानिया में हिरासत में लिया गया है। स्टर्लिंग बायोटेक केस में वांछित हितेश पटेल के लिए 11 मार्च को रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था। 20 मार्च को अल्बानिया में राष्ट्रीय अपराध ब्यूरो द्वारा उसे हिरासत में लिया गया था। इससे पहले दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को गुजरात की फार्मा फर्म के दो निदेशकों को 8,100 करोड़ के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रत्यर्पण अनुरोध भेजने की अनुमति दी थी।

जल्द लाया जाएगा भारत

ईडी ने एसबीएल के खिलाफ धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) की धाराओं के तहत कथित बैंक धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था। ईडी द्वारा दायर की गई आपराधिक शिकायत के एक हिस्से के रूप में वरिष्ठ आयकर विभाग के अधिकारियों को रिश्वत देने के आरोपों का भी जिक्र किया गया है। ईडी ने पहले अदालत को बताया था कि आरोपियों ने संदिग्ध परिस्थितियों में देश छोड़ दिया है और आपराधिक मुकदमे से बचने के लिए कानून की प्रक्रिया को धता बताया है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/accused-in-sterling-biotech-case-hitesh-patel-detained-in-albania-4314647/

न्यूजीलैंड में सेमी ऑटोमैटिक राइफलों की बिक्री पर बैन, क्राइस्टचर्च शूटिंग के बाद पीएम जैकिंडा अर्डर्न का एलान


आकलैंड। न्यूजीलैंड में सेमी ऑटोमैटिक राइफल की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। गुरुवार को न्यूजीलैंड के पीएम जैकिंडा अर्डर्न ने कहा कि क्राइस्टचर्च के अल नूर और लिनवुड मस्जिदों में शूटिंग की घटनाओं के बाद सभी अर्ध-स्वचालित हथियारों और असॉल्ट राइफलों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। आपको बता दें कि इस हमले में 50 लोग मारे गए।

सेमी ऑटोमैटिक राइफल की बिक्री पर प्रतिबंध

न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री जैसिंडा एडरन ने औपचारिक रूप से इस बात की घोषणा की कि राइफल और अर्ध-स्वचालित हथियारों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया। आपको बता दें कि क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर हमले के बाद पीएम जैकिंडा अर्डर्न ने घोषणा की थी कि स्वचालित हथियारों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। नई घोषणा में कहा गया है कि 11 अप्रैल को एक कानून पारित करके देश में स्ट्राइकर गन कानूनों को लागू कर दिया जाएगा। आपको बता दें कि न्यूजीलैंड ने में कुछ दिन पहले क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों में शूटिंग की घटनाओं में स्वचालित हथियारों का इस्तेमाल किया गया था। गुरुवार को पीएम अर्डर्न ने कहा कि देश अब इस तरह के कानूनों को बदल देगा जो ऐसे हथियारों के इस्तेमाल को बढ़ावा दे रहे हैं।

पीएम जैकिंडा अर्डर्न का एलान

अर्डर्न ने कहा, 'आज मैं ऐलान करती हूं कि न्यूजीलैंड में सभी मिलिट्री स्टाइल सेमी ऑटोमेटिक हथियारों पर प्रतिबंध लगाया जाएगा। इसका मतलब यह है कि अब लोग पुलिस की परमिशन के बिना हथियारों की खरीद नहीं कर सकते।" इसके अतिरिक्त पीएम ने कुछ अंतरिम उपायों की भी घोषणा की जो नए कानून आने से पहले इन हथियारों की खरीद पर नियंत्रण किया जाएगा। बता दें कि डुनेडिन में रहने वाले एक 28 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रीय ब्रेंटन टैरेंट पर मस्जिदों में हमले का आरोप लगा है। गौरतलब है कि पीएम जेसिंडा अर्डर्न ने हाई कैपिसिटी वाली मैग्जीन और अन्य डिवाइसों को भी बैन करने का एलान किया है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/new-zealand-pm-announces-immediate-ban-on-sale-of-assault-rifles-4312422/

क्राइस्टचर्च हमला: तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन के बयान पर ऑस्ट्रेलिया खफ़ा, कहा- राजदूत को तलब कर मांगेंगे जवाब


केनबरा। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में हुए हमले के बाद से अब अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मामला बिगड़ता जा रहा है। दरअसल ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मोरीसन ने बुधवार को एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने क्राइस्टचर्च हमले के बाद तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन की ओर से ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को ताबूत में वापस भेजने की धमकी देने के मामले पर आपत्ति जताई है। स्कॉट मोरीसन ने एर्दोगन की आलोचना करते हुए कहा कि उनका बयान बहुत ही अपमानजनक है। बता दें कि स्कॉट मोरीसन ने ये बात ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन (एबीसी) से बातचीत करते हुए कही।

क्राइस्टचर्च हमला: न्यूजीलैंड पुलिस का बड़ा दावा, बंदुकधारी ने एक और हमला करने की बनाई थी योजना

तुर्की के राजदूत को किया जाएगा तलब

बता दें कि स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार प्रधानमंत्री सकॉट मोरीसन ने कहा है कि वे ऑस्ट्रेलिया में तुर्की के राजदूत कको तबल करेंगे और राष्ट्रपति एर्दोगन के बयान के बारे में सफाई मांगेंगे। मोरीसन ने कहा है कि मुझे एर्दोगन की ओर से दिया गया बयान बहुत ही आपत्तिजनक लगा है और मैं तुर्की के राजदूत को बुलाऊंगा तथा इन मुद्दों पर चर्चा करूंगा।

क्राइस्टचर्च हमला: पीएम जेसिंडा का बड़ा बयान, बोलीं- दस दिन में बदलेंगे मौजूदा हथियार कानून

ऑस्ट्रेलिया नागरिक ने क्राइस्टचर्च के दो मस्जिदों में किया था हमला

बता दें कि बीते शुक्रवार, 15 मार्च को एक ऑस्ट्रेलियाई युवक ने न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों में अंधाधुंध फायरिंग की थी। इस हमले में 50 लोगों की मौत हो गई थी। इतना ही नहीं हमलावर ने इस पूरे हमले का सोशल मीडिया फेसबुक पर लाइव भी किया था। हालांकि फेसबुक ने वारदात के फौरन बाद ही इससे संबंधित वीडियो को हटा लिया था। मालूम हो कि पुलिस ने घटना के महज 21 मिनट के अंदर ही हमलावर को गिरफ्तार कर लिया था।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/christchurch-attack-australia-annoyed-on-the-statement-of-president-erdogan-of-turkey-said-calling-ambassador-and-asking-for-answer-4311932/

क्राइस्टचर्च हमला: न्यूजीलैंड पुलिस का दावा, बंदूकधारी ने एक और हमला करने की बनाई थी योजना


क्राइस्टचर्च। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में बीते शुक्रवार को दो मस्जिदों में हुए हमले को लेकर पुलिस का एक बड़ा बयान सामने आया है। पुलिस का कहना है कि क्राइस्टचर्च के दो मस्जिदों में हुए हमलों में 50 लोगों को गोलियों से भूनने वाले शख्स को जब गिरफ्तार किया गया था, उस वक्त वह एक और हमला करने के लिए निशाना बनाने वाला था। बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए कमिश्नर माइक बुश ने कहा, "हम दृढ़ता से मानते हैं कि हमने उन्हें आगे के हमले को करने से रोक दिया। हमारे कर्मचारियों की ओर से बहुतों की जान बचाई गई, जो कि हमलावर से भिड़ने के लिए बहुत ही साहसिक थे।

क्राइस्टचर्च हमला: पीएम जेसिंडा का बड़ा बयान, बोलीं- दस दिन में बदलेंगे मौजूदा हथियार कानून

शुक्रवार को हमलावर ने किया था हमला

बता दें कि शुक्रवार को हमलावर पैदल चलते हुए शहर के बीचों बीच स्थित मस्जिद तक पहुंचा और फिर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। इस फायरिंग में 50 लोगों की मौत हो गई। इसके बाद वह आगे बढ़ते हुए शहर के दूसरे मस्जिद तक पहुंचा और वहां पर भी फायरिंग जारी रखा। इसके बाद हरकत में आई पुलिस ने कार से उनका पीछा किया और धर दबौचा। पुलिस का कहना है कि जिन दो अधिकारियों ने हमलावर को पकड़ा उन्हें एक नायक यानी हिरो के रूप में सम्मानित किया गया। जांच में पुलिस ने हमलावर की गाड़ी से हथियार और देशी बम बरामद किया। बुश ने कहा कि हमले के बाद जिस तरह से पुलिस ने हमलावर के खिलाफ प्रतिक्रिया की वह बहुत ही शानदार रहा। उन्होंने आगे कहा कि पुलिस के घटनास्थल की पहचान किए जाने महज 6 मिनट बाद ही वहां पर सशस्त्र अधिकारी पहुंच गए। इसके बाद अपराधी को 21 मिनट के भीतर गिरफ्तार कर लिया गया। इस हमले के आरोपी ऑस्ट्रेलिया के रहने वाले 28 वर्षीय ब्रेंटन टेरैंट को सप्ताह के आखिर में कोर्ट में पेश किया गया था, संभवत: अब उन्हे हत्या और अन्य मामलों का सामना करना पड़ सकता है। बुश ने कहा कि पुलिस को पता है कि हमलावर कहां जा रहा था। हालांकि इसके आगे उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया, क्योंकि अभियुक्त पर कई चार्ज लगे हैं और अभियोजन की प्रक्रिया भी चल रही है।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/christchurch-attack-new-zealand-police-say-mosque-gunman-planned-further-attack-4311902/

International Day of Happiness: इन देशों के लोग हैं सबसे अधिक खुशहाल, सूची में बहुत पीछे है भारत


संयुक्त राष्ट्र। हर साल 20 मार्च को अंतरराष्ट्रीय खुशहाली दिवस मनाया जाता है। इस दिन का दुनिया में खास महत्व है। इंसान जो भी कर्म करता है, वह अच्छे जीवन और अपनी खुशी के लिए करता है। वैसे भी जीवन की आपाधापी और तमाम चुनौतियों के बीच सबसे मुश्किल काम खुश रहना है। जीवन के रोजमर्रा के तनावों के बीच हर व्यक्ति किसी न किसी वजह से उदास है। तनाव कई बीमारियों को जन्म देता है। जबकि हर हाल में खुश रहने से जिंदगी न केवल बेहतर हो जाती है बल्कि इससे स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के कई देशों में लोगों की खुशी का स्तर बेहद कम है। मतलब यह हुआ कि बहुत से देशों के लोगों को अवसाद में रहना पड़ता है। लेकिन कुछ देशों के लोग हमेशा खुश रहते हैं और उनकी खुशहाली का स्तर दुनिया के कई देशों से काफी बेहतर है। आइए जानते हैं कि वो कौन से देश हैं जहां खुशहाली का स्तर बाकी देशों से अच्छा है।

1-फिनलैंड

ग्लोबल हैप्पीनेस इंडेक्स में सबसे पहला नाम फिनलैंड का आता है। कुल 55 लाख की आबादी वाला यह देश दुनिया के सबसे खुशहाल देशों में शुमार है। इस देश में क्राइम का रेट भी बेहद कम है। वर्ष 2015 में यहां केवल 50 मर्डर हुए थे जबकि 2018 में यहां 38 केवल हत्याएं हुई हैं। यहां की पुलिस बहुत भरोसेमंद और सक्षम है। इस देश में कानून का पालन सख्ती से होता है। यहां के नागरिक अपने देश की पुलिस पर भरोसा करते हैं। यहां के नेता देश की नीतियां इस तरह बनाते हैं जिससे देश की तरक्की होती है।

2-नॉर्वे

इस सूची में नार्वे को दूसरा स्थान मिला है। नॉर्वे अपने पयर्टकों के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है। यहां का ब्रिगेन बंदरगाह विश्व भर में प्रसिद्ध है। हर साल हजारों पर्यटन यहां के लिए आते हैं। नार्वे को अर्ध रात्रि के सूर्य का देश कहा जाता है।यहां लोग बेहद खुशहाल हैं। यह देश अपनी सस्ती चीजों के लिए जाना जाता है।

3- डेनमार्क

यूरोपीय देश डेनमार्क खुश रहने की सूची में तीसरे पायदान पर आता है। डेनमार्क, आइसलैंड के बाद दुनिया का सबसे शांत देश है। यह विश्व के सबसे कम भ्रष्ट देशों में से है। न्यूज़ीलैंड और स्वीडन के साथ इसका स्थान पहला है। डेनमार्क के बारे में कहा जाता है कईलोग अब भी यहां घरों में ताले नहीं लगाते। यहां दुनिया में सबसे कम ह्रदय रोगी पाए जाते हैं।

4- आइसलैंड

खुशहाल देशों की सूची में उत्तरी अटलांटिक देश आइसलैंड चौथे नंबर पर है। आइसलैंड अपने पर्यटन के मशहूर है। हर साल लगभग 10 लाख पर्यटक आते हैं। हाल के वर्षों में आइसलैंड के पर्यटन उद्योग में तेजी आई है।यह देश अपनी आइसहॉकी के लिए जाना जाता है।

5- स्विट्ज़रलैंड

यूरोप का छोटा देश स्विट्ज़रलैंड दुनिया का 5वां सबसे खुशहाल देश माना जाता है। आल्प्स पर्वतों की ऊंचाई से ढका हुआ यह देश अपने प्राकृतिक नजारों के लिए मशहूर है। इस देश में बहुत ही खूबसूरत नजारे हैं। यहां के लोगों का जीवन स्तर दुनिया में सबसे बेहतर है। स्विट्ज़रलैंड अपनी घड़ियों और चॉकलेट के लिए बहुत मशहूर हैं।

भारत कितना खुशहाल ?

संयुक्त राष्ट्र की 2018 की रिपोर्ट के अनुसार सर्वाधिक खुशहाल देशों की वैश्विक सूची में भारत 133 वें पायदान पर है। आंकड़े बताते हैं कि भारत में खुशहाली की स्थित दुनिया के कई देशों के मुकाबले काफी नीचे है। यहां तक कि पाकिस्तान और नेपाल जैसे देश भी भारत से बेहतर स्थिति में हैं। 2017 में भारत का स्थान 122 वां था। रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत में बढ़ते भ्रष्टाचार और अपराध की वजह से 156 देशों में से इसे यह स्थान प्राप्त हुआ है। भारत में अवसाद और हृदय रोगियों की संख्या पर भी रिपोर्ट में चिंता जताई गई है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/international-day-of-happiness-these-countries-are-most-happy-4308607/

फर्जी और भड़काऊ खबरों पर पुतिन सख्त, दंडित करने के लिए दो नए कानूनों को दी मंजूरी


मॉस्को। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सोशल मीडिया और अन्य संचार माध्यमों के विस्तार के साथ सूचनाओं का प्रसार भी बढ़ गया। साथ ही इसमें गलत, फर्जी और भड़काऊ जानकारियों का भी प्रसार तेजी से हुआ है। लिहाजा इसको रोकने के लिए हर देश ने अपने स्तर पर उपाय किए हैं। इसी कड़ी में अब रूस ने भी एक बड़ा कदम उठाया है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने सुरक्षा जोखिमों को बढ़ाने वाली फर्जी खबरों व भड़काऊ जानकारी के प्रसार पर प्रतिबंध लगाने और ऐसा करने वालों को दंडित करने के लिए दो नए कानूनों को मंजूरी दे दी है। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सोमवार को रूस के आधिकारिक सूचना पोर्टल पर यह कानून प्रकाशित किए गए हैं, जिसमें राष्ट्रपति ने हस्ताक्षर किए हैं।

भारत को मिली बड़ी कामयाबी, मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित करने का विरोध नहीं करेगा पाकिस्तान!

30 हजार से 1.5 मिलियन रूबल तक का हो सकता है जुर्माना

बता दें कि नए कानून के मुताबिक इन कानूनों का उल्लंघन करने वाले शख्स पर 30 हजार से चार लाख रूबल (466-6,215 डॉलर), अधिकारियों पर 60 हजार से 9 लाख रूबल (932-13,985 डॉलर) और कानूनी संस्थाओं पर दो लाख से 1.5 मिलियन रूबल (3,108-23,309 डॉलर) तक भिन्न-भिन्न प्रकार का जुर्माना लगाया जा सकता है। नए कानून में यह बताया गया है कि कानूनों के तहत अभियोजकों के पास फर्जी समाचारों के कारण खतरे के मानदंड निर्धारित करने की शक्ति भी होगी। अभियोजकों को अगर झूठी और समाज के लिए खतरनाक जानकारी ऑनलाइन मिलती है तो वे दूरसंचार वॉचडॉग रोजकोमनादजोर से अनुरोध कर सूचना स्रोतों तक पहुंच को प्रतिबंधित कर सकते हैं। बता दें कि यह कानून उन सूचनाओं के प्रसार पर प्रतिबंध लगाएगा जो 'विश्वसनीय रिपोर्ट की आड़' में लोगों के जीवन या स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं और सार्वजनिक व्यवस्था या सार्वजनिक कामकाज के संचालन में बाधा डालती हैं।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/putin-strict-on-fake-and-inflammatory-reports-granted-two-new-laws-to-penalize-4308267/

मोजाम्बिक: चक्रवात के बाद सामने आई बर्बादी की तस्वीर, 1000 से अधिक लोगों के मरने की आशंका


मापुतो।17 मार्च, 2019 को गुजरने वाले चक्रवात से अफ्रीकी देश मोजाम्बिक बुरी तरह तबाह हो गया है।दक्षिणी अफ्रीकी देश में चक्रवात के चार दिन बाद बर्बादी की तस्वीर सामने आ रही है। मोजाम्बिक में 1,000 से अधिक लोगों के मारे जाने की आशंका है। देश के राष्ट्रपति ने भी पुष्टि की है कि चक्रवात की चपेट में आने कई गांव जलमग्न हो गए हैं। हर तरफ तबाही और बर्बादी का मंजर है। कई इलाके भीषण बाढ़ की चपेट में हैं। बाढ़ में शवों को तैरते हुए देखा जा सकता है। राष्ट्रपति फिलिप नीयुसी ने इसे राष्ट्रीय आपदा कहा है। आपको बता दें कि चक्रवात इडाई ने दक्षिण-पूर्व अफ्रीकी देशों को हिट किया जिससे 30 मिलियन लोगों के प्रभावित होने की आशंका है।

न्यूजीलैंड: क्राइस्टचर्च हमले के पीड़ितों को अनूठी श्रद्धांजलि, हाका नृत्य के जरिए लोगों ने दिया सम्मान

1,000 से अधिक लोगों के मरने की आशंका

गुरुवार देर रात तेज हवाओं और भारी बारिश के साथ आए तूफान से जिम्बाब्वे और मलावी में भी भारी तबाही हुई। लेकिन यह आपदा मोजाम्बिक में केंद्रित रही। आपको बता दें कि अफ्रीकी देश मोजाम्बिक खराब संचार व्यवस्था, परिवहन नेटवर्क और भ्रष्ट तथाअक्षम नौकरशाही की समस्या से जूझ रहा है। राज्य के रेडियो मोजाम्बिक पर बोलते हुए न्यासी ने कहा, "पहले दिन हमे लगा था कि आधिकारिक मृत्यु संख्या 84 है लकिन अब ऐसा प्रतीत होता है कि हम 1,000 से अधिक मौतें दर्ज कर सकते हैं।" उधर आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार जिम्बाब्वे के पूर्वी चिमनानी क्षेत्र में 80 से अधिक और मलावी में 50 से अधिक लोग मारे गए हैं। कई सौ अधिक लोग घायल और लापता बताए गए हैं। अकेले पूर्वी जिम्बाब्वे में लगभग 1,000 घर नष्ट हो गए।

रहस्य बनी परवेज मुशर्रफ की बीमारी, दुबई के अस्पताल में भर्ती

सामने आई बर्बादी की तस्वीर

रेड क्रॉस का कहना है कि मोजाम्बिक के केंद्रीय बंदरगाह शहर का 90 प्रतिशत उष्णकटिबंधीय चक्रवात इडाई द्वारा क्षतिग्रस्त या नष्ट हो गया है। डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स ने कहा कि नदियों में भीषण बाढ़ आ गई है, जिससे दक्षिणी मलावी में लगभग 11,000 घरों को नुकसान पहुंचा है। UN एजेंसियों और रेड क्रॉस ने पीड़ित देशों में आपातकालीन खाद्य और औषधि की मदद पहुंचाने की कोशिश की है। उधर यूनाइटेड नेशन के मानवीय कार्यालय ने कहा है कि सरकार ने बाढ़ की नई चेतावनी जारी की है। कहा जा रहा है कि अगले 24 घंटों के में देश में भारी बारिश का अनुमान है। आपको बता दें कि सन 2000 में भी मोजाम्बिक भारी बारिश और भयंकर बाढ़ की चपेट में आ गया था।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/over-1-000-feared-dead-after-cyclone-slams-into-mozambique-4303437/

दलाई लामा के समर्थन में अमरीका, कहा- सहयोगियों के साथ बातचीत शुरू करे चीन


धर्मशाला। तिब्बत के धर्मगुरु दलाई लामा के समर्थन में अमरीका ने अपनी प्रतिबद्धता दोहराई है। साथ ही चीन से अपील की है कि वे अपने सहयोगियों से बातचीत करें। दरअसल अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता मामलों के अमरीकी दूत सैम्युएल ब्राउनबैक ने कहा कि अमरीका दलाई लामा के मध्यमार्गी दृष्टिकोण का समर्थन करता रहेगा। सोमवार कॉसेंट्रल टिबिटन एडमिनिस्ट्रेशन (सीटीए) ने बताया कि ब्राउनबैक चीन से दलाई लामा या उनके प्रतिनिधियों के साथ औपचारिक वार्ता शुरू करने की अपील की।

पुलिस की ही आंखों के सामने उनकी कार लेकर फरार हो गया मुजरिम, दूसरी बार भी इस तरह से दिया चकमा

बता दें कि पिछले सप्ताह रीजनल रिलिजियस फ्रीडम फोरम 2019 के लिए ताइवान पहुंचे ब्राउनबैक ने ये बात कही। इस दौरान मंच पर प्रेसिडेंट त्साई इंग-वेन भी मौजूद थे। सीटीए के अनुसार, अमरीकी दूत ने यह कहते हुए चीन के तिब्बत पर कब्जे की निंदा की कि इससे तिब्बत की सभ्यता का केंद्र रहे बौद्ध धर्म को दानव व अपराधी बनाया गया। उन्होंने कहा, "तिब्बत के लोग उनके तिब्बत में नामौजूदगी से दुखी हैं और उस दिन के इंतजार में हैं जब उनकी वापसी होगी और वह अपना उचित स्थान ग्रहण करेंगे क्योंकि वह उनके सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक नेता हैं।" उन्होंने कहा, "हम चीन से परमादरणीय (दलाई लामा) या उनके प्रतिनिधियों के साथ शीघ्र बातचीत शुरू करने की अपील करते हैं।" आपको बता दें कि तिब्बत एक स्वतंत्र राज्य है, लेकिन चीन लगातार उसपर अपना दावा करता है।

 

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/us-in-support-of-the-dalai-lama-said-china-will-start-talks-with-colleagues-4303246/

क्राइस्टचर्च हमला: पीएम जेसिंडा का बड़ा बयान, बोलीं- दस दिन में बदलेंगे मौजूदा हथियार कानून


क्राइस्टचर्च। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में बीते शुक्रवार को दो मस्जिदों में हुए हमले के बाद सरकार बेहद गंभीर है। लिहाजा अब सरकार हथियार कानून में संसोधन करने जा रही है। इस संदर्भ में प्रधानमंत्री जेसिंडा एर्डर्न ने सोमवार को कहा कि सरकार देश के मौजूदा बंदूक कानून को बदलने जा रही है। दस दिन के अंदर हथियार कानून में संसोधन करने का वादा किया है। बता दें कि 15 मार्च को क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों पर गोलीबारी में 50 लोगों की मौत हो गई थी।

क्राइस्टचर्च हमला: पुलिस का दावा, हमलावर ने अकेले घटना को दिया था अंजाम

हथियार कानून बदलने पर मंत्रिमंडल ने जताई सहमति

बता दें कि स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एक संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए प्रधानमंत्री जेसिंडा एर्डर्न ने कहा कि उनका मंत्रिमंडल आतंकवादी हमलों के बाद देश के हथियार कानूनों को बदलने के प्रस्तावों पर सैद्धांतिक रूप से सहमत हो गया है, लेकिन उन्होंने उन संभावित बदलावों को बताने से इनकार कर दिया। एर्डर्न ने कहा कि उनके मंत्रिमंडल द्वारा सोमवार को सैद्धांतिक सहमति की कार्यवाही पूरी होने के बाद विस्तृत जानकारी दी जाएगी। एर्डर्न ने आगे कहा कि मंत्रिमंडल के तौर पर हम पूरी तरह सहमत हैं कि शुक्रवार (15 मार्च) को हुआ आतंकवादी हमला सबसे खराब कृत्य था। एर्डर्न ने आगे यह भी कहा कि अल नूर मस्जिद और लिनवुड मस्जिद पर हमले के बाद सुरक्षा एजेंसियों की कार्रवाइयों की समीक्षा भी की जाएगी।

क्राइस्टचर्च आतंकी हमला: मरने वालों की संख्या हुई 50, मृतकों में केरल की एक महिला शामिल

सरकार के सहयोगी दल ने भी फैसले का किया स्वागत

बता दें कि सरकार में सहभागी सहयोगी दल न्यूजीलैंड फर्स्ट ने भी प्रधानमंत्री जेसिंडा के फैसले का स्वागत किया है। प्रधानमंत्री की बात को दोहराते हुए न्यूजीलैंड फर्स्ट के नेता विंस्टन पीटर्स ने कहा कि यह मंत्रिमंडल का निर्णय था। वास्तविकता है कि 15 मार्च के बाद हमारी दुनिया बदल गई है और इसलिए हमारे कानून भी बदलेंगे। बता दें कि न्यूजीलैंड फर्स्ट सत्तारूढ़ गठबंधन में एर्डर्न की लेबर पार्टी की सहयोगी है।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/christchurch-attack-pm-jasinda-s-big-statement-said-we-will-change-existing-weapon-law-in-ten-days-4303197/

नीदरलैंड ट्राम शूटिंग में 3 की मौत, आरोपी पुलिस की हिरासत में


एमस्टरडम। नीदरलैंड में सोमवार को यूट्रेख़्ट शहर में एक व्यक्ति ने ट्राम के अंदर घुसकर गोलीबारी की है। इस हमले में तीन की मौत हो गई है। वहीं, कई लोग घायल बताए जा रहे हैं। पुलिस ने पूरे इलाके में नाकेबंदी कर दी है और हमलावर की तलाश तेज हो गई है। यह हमला स्थानीय समय अनुसार सुबह 10 बजकर 45 मिनट पर हुआ। ट्राम के अंदर कई लोगों पर ताबातोड़ गोलियां बरसाईं गई हैं। यह हमला न्यूजीलैंड के कराइस्टचर्च की तरह बताया जा रहा है।

तीन हेलीकॉप्टरों को घटना स्थल पर भेजा गया

हाल में न्यूजीलैंड की दो मस्जिदों पर हमलावर ने प्रार्थना कर रहे श्रद्धालुओं पर ताबातोड़ गोलियां बरसाईं थीं। इसमें करीब 50 लोगों की मौत हो गई और 40 से अधिक लोग घायल हो गए।नीदरलैंड्स में राहतकर्मी घटना की जगह पर पहुंच चुके हैं। तीन हेलिकॉप्टर को भी घटना स्थल पर भेज दिया गया है। पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वो सड़कों पर हट जाएं ताकि राहतकर्मी आसानी से आ जा सकें।

कई जगहों पर गोलीबारी की खबर

खबरों में बताया जा रहा है कि यूट्रेक्ट में कई जगहों पर गोलीबारी हुई है। एंटी-टेरर कोऑर्डिनेटर पीटर जैप एलहर्सबर्ग ने ट्विटर पर लोगों को चेताया है कि अब भी हमलावर पुलिस की पकड़ से बाहर है। पुलिस और अर्धसैनिक बलों ने एयरपोर्ट और महत्वपूर्ण रेलवे स्टेशनों पर जांच और सुरक्षा बढ़ा दी है। जर्मनी में भी पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी है। कहा जा रहा है कि नीदरलैंड से और जर्मनी की सीमा पर भी हमलावर की तलाश जारी है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/miscellenous-world/netherlands-one-person-fired-bullets-several-injured-4300773/

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Assam Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Study Material
Bihar
State Government Schemes
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Business
Astrology
Syllabus
Festival
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com