Patrika : Leading Hindi News Portal - MP Business #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Patrika : Leading Hindi News Portal - MP Business

http://api.patrika.com/rss/mp-business-news 👁 798

नोट की चोट से 'डब्बा कारोबार' ध्वस्त, गैरकानूनी है ये धंधा


लखन शर्मा@इंदौर। नोटबंदी का सबसे ज्यादा असर इन दिनों शहर के डब्बा कारोबार पर दिखाई दे रहा है। यहां होने वाले सौदे 80 प्रतिशत तक कम हो गए हैं। जो लोग चोरी छिपे इस कारोबार में लगे थे, वे अब इन दिनों हाथ पर हाथ रखकर बैठे हुए हैं। 

इन कारोबारियों का हर दिन लाखों रुपए का लेनदेन होता था, लेकिन नोटबंदी के बाद यह करोबार प्रभावित हुआ है क्योंकि कारोबार करने वाले और सौदे करने वाले दोनों ही पक्ष 500-1000 के नोट स्वीकार नहीं कर रहे हैं। बाजार में 100-50 के नोटों की कमी है और 2 हजार के नोट भी अब तक लाखों रुपए में लोगों के पास नहीं पहुंचे हैं। ऐसे में शहर में डब्बे के सौदे बंद हो गए हैं। 

note ban effects on illegal dabba business

इसका एक असर लीगल तरीके से चलने वाले वायदा बाजार पर देखा जा रहा है जहां सौदे बढ़ गए हैं, यहां ऑनलाइन ट्रांजेक्शन होते हैं इसलिए जिन लोगों की इसमें रुचि है वह अब भी वैध तरीके से सौदे कर रहे हैं। 

यह होता है डब्बा कारोबार
डब्बा ट्रेडिंग में भी शेयर और कमोडिटीज का कारोबार होता है। फर्क इतना है कि जहां रजिस्टर्ड ब्रोकर अपने निवेशक और कमोडिटी या स्टॉक एक्सचेंजों के बीच एजेंट का काम करता है, वहीं डब्बा चलाने वाला अपने आप में एक पूरी संस्था होता है।

वह अपने ग्राहकों द्वारा किए जाने वाले सौदों को केवल अपने रजिस्टर में दर्ज करता है, उसके आगे ये सौदे एक्सचेंज या बाजार तक नहीं पहुंचते। उसी के स्तर से इन सौदों का निबटारा हो जाता है। इसमें मुनाफे का आकर्षण इतना अधिक होता है कि लालच के चलते लोग इस गैरकानूनी कारोबार के प्रति आकर्षित हो जाते हैं। 

शहर में 200 से अधिक बड़े कारोबारी हैं शामिल
शहर में डब्बे का कारोबार बड़े पैमाने पर संचालित किया जाता था। यहां 200 से ज्यादा ऐसे बड़े डब्बे कारोबारी हैं जो घरों, फ्लेटों और बंगलो में बैठकर यह कारोबार संचालित करते हैं। अब तक शहर में डब्बे में पैसे हार जाने के बाद कई लोग आत्महत्या तक कर चुके हैं। शहर के एक डब्बा कारोबारी ने तो एमसीएक्स की तर्ज पर फर्जी एक्सचेंज तक खड़ा कर दिया था, जिसके बाद उसकी गिरफ्तारी हुई थी।

कर्मचारियों को दिया अवकाश
खास बात है कि शहर के डब्बा कारोबारियों ने इन दिनों अपने कर्मचारियों को अवकाश पर भेज दिया है। डब्बा कारोबार से जुड़े जानकारों का कहना है कि नए नोटों की कमी और पुरानों का चलन बंद हो जाने के बाद डब्बा करोबार एक बार फिर सुचारू रूप से चलने में 6 महीने से 1 साल का समय लग जाएगा, क्योंकि अधिकांश लोग यहां लाखों रुपए कमाते और गंवाते हैं जो बेहिसाब होता है। 

एक महिला का बड़ा गिरोह 
शहर में डब्बा कारोबार में एक महिला का बड़ा गिरोह काम करता है। शहर के साथ ही प्रदेश के कई स्थानों पर उक्त महिला ने ऑफिस खोल रखे हैं। नए सौदे जब इन दिनों बंद हंै तो इन डब्बा कारोबारियों द्वारा पूर्व में हुए सौदों के लिए वसूली चल रही है, इसके लिए लोगों को डराया धमकाया जा रहा है। 

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/note-ban-effects-on-illegal-dabba-business-in-indore-1443480/

#IMPACT: कालाधन बाहर आने से मिलेगा उद्योग जगत को फायदा


इंदौर. 'केंद्र सरकार द्वारा 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने के फैसले से उद्योग जगत को कोई नुकसान नहीं होगा। देश में जमा कालाधन बाहर आने से देश का उद्योग जगत उन्नत होगा। जो परिस्थितियां आज बनी है उससे उद्योग और कारोबार में 70 प्रतिशत की कमी जरूर आई हैं, लेकिन जल्द ही यह परिस्थिति नियंत्रण में आएगी। नए नोट पर्याप्त मात्रा में आते ही अर्थव्यवस्था स्थिर और मजबूत होगी।

उक्त बातें शहर के ख्यात अर्थशास्त्री डॉ. जयंतीलाल भंडारी ने गुरुवार को एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्रीज मप्र (एआईएमपी) में केंद्र सरकार के हालिया फेैसले से उद्योग जगत पर होने वाले प्रभाव विषय पर आधारित परिचर्चा में कहीं। उन्होने कहा, उद्योग जगत को घबराने की जरूरत नहीं है, आने वाले समय में उद्योग जगत को लाभ होगा।

भ्रष्टाचार पर कसेगा शिकंजा
सरकार के फैसले से नकली नोट अर्थव्यवस्था से बाहर होंगे, भ्रष्टाचार पर शिकंजा कसेगा। कार्यक्रम में मौजूद विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स के हेड डॉ. गणेश कावडिय़ा ने भी सरकार के इस फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि उद्योग जगत के साथ कृषि के क्षेत्र में भी फायदा होगा। 

उन्होंने उम्मीद जताई कि देश की जीडीपी के विकास में यह कदम कारगर साबित होगा। सीए अभय शर्मा ने कहा इस निर्णय से बैंकों में पैसों की आवक बढ़ेगी और लोन की ब्याज दरों में भी काफी कमी आएगी। इससे पहले अतिथियों का स्वागत एआईएमपी के अध्यक्ष ओम धूत किया। कार्यक्रम का संचालन सचिव योगेश मेहता ने किया एवं आभार प्रमोद डफरिया ने माना। गणपत गोयल, स्वदेश शर्मा, मनोहर नागपाल और हरीश सुरेका भी विशेष रुप से मौजूद थे।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/industry-don-t-affraid-this-policy-is-profitable-for-them-1439093/

आपके पास WHITE करेंसी है तो PM मोदी के फैसले से बच सकते हैं आप


भोपाल। यदि किसी के घर में जिन्यून करेंसी रखी है तो उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है। वह अपना परिचय पत्र दिखाकर बैंक में यह राशि जमा कर सकते हैं या एक्सचेंज करा सकते हैं। बस उन्हें यह पैसा कहां से आया यह बताना होगा। इससे दस्तावेज या कागज संभाल कर रखें। अचानक नोट बंद कर देने से कम से कम एक हफ्ते तक अफरा-तफरी का माहौल रहेगा। क्योंकि, लोगों ने छोटे नोट रखना लगभग बंद कर दिया था। पांच सौ का नोट प्रचलन में ज्यादा था, लेकिन इस फैसले से भारत की इकोनोमी को बूस्ट मिलेगा।

भोपाल में कालाधन
सरकार की मंशा कालाधन खत्म करने की है। सरकार ने इसी मंशा से इनकम डिक्लीयरेशन स्कीम (आईडीएस) लागू की थी। इस स्कीम में 30 सितंबर तक मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में 2800 करोड़ रुपए कालाधन बाहर आया था। भोपाल में 900 करोड़, इंदौर में 600 करोड़ एवं रायपुर में यह आंकड़ा 1300 करोड़ रुपए का था। जानकारों का मानना है कि भोपाल में अभी भी 1000 करोड़ रुपए से ज्यादा कालाधन हो सकता है। क्योंकि, ज्यादातर लोगों ने स्कीम लागू होने के पहले ही रुपए ठिकाने लगा दिए थे। स्कीम बंद होने के बाद कुछ महत्वपूर्ण सेक्टरों में एकाएक मांग निकली है। यह पैसा फेस्टिव सीजन में ऑटो, प्रॉपर्टी, इलेक्ट्रॉनिक्स गुड्स में लगता दिखाई दिया। 


MUST READ: मेरे पास बैंक बैंलेस है, तेरे पास क्या है?...मेरे पास 100 का नोट है


अनुमानित
- 500 करोड़ रुपए प्रॉपटी सेक्टर में
- 300 करोड़ रुपए ऑटो सेक्टर में
- 200 करोड़ कीमती धातु एवं अन्य कारोबार में  



0 कालेधन पर सरकार ने एक और अंकुश लगाया है। हालांकि, बड़े नोट बंद होने से लोग सोने की खरीदी करेंगे। बड़े नोटों की तरह सोने की बड़ी खरीदी पर भी अंकुश लगना चाहिए।
सीपी शर्मा, चैयरमेन, दौलतराम इंजीनियरिंग


0 बहुत अच्छा कदम है। बैंक की तरफ से सरकार को धन्यवाद देेना चाहिए। निश्चित रूप से कालेधन पर रोक लगेगी। जो लाखों रुपए लेकर बैंक में आएगा उसे प्रूफ देना होगा। 
एसके महापात्रा, जीएम, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया


0 बहुत अच्छा कदम उठाया है। मार्केट पर कोई असर नहीं होगा। बड़े नोट को लेकर हमेशा लोग पहचान (असली-नकली) को लेकर परेशान होते थे। अब बिना भय के नोटों का आदान-प्रदान हो सकेगा। 
कमल पंजवानी, बिजनेसमैन


0 सरकार का यह साहसिक फैसला है।  इससे देश का फायदा होगा। जो लोग धन छुपाकर रखते हैं उनके लिए यह फैसले की घड़ी है कि वो या तो अपने धन को सफेद करा लें या फिर बर्बाद करें। 
निर्मला बुच, पूर्व मुख्य सचिव 


0 इस फैसले से तमाम माफिया और भ्रष्टाचारियों का चेहरा सामने आ जाएगा। देश के खजाने में करोड़ों रुपए टैक्स के रूप में पहुंचेगे। हर हाल में फायदा देश का ही होगा। 
डॉ. पीएन अग्रवाल, श्वास रोग विशेषज्ञ

500

0 बैड मनी चलन से बाहर हो जाएगी। गुड मनी बढऩे से हिन्दुस्तान की ग्रोथ अ'छी होगी। जाली नोट बंद होने से आतंकियों के हौसले भी पस्त होंगे। 
विजय कुमार सक्सेना, प्रदेश महासचिव, उपभोक्ता संरक्षण कल्याण सेवा समिति 


पुलिस भी हुई सतर्क
बैंक कियोस्क पर अचानक भीड़ से संबंधित थाना क्षेत्रों की पुलिस भी सतर्क  हो गई। लोग नोट जमा करने में अफरा-तफरी न करें इसको ध्यान में रखते हुए कियोस्क के बाहर पुलिस बल तैनात कर दिया है। जिन लोगों के रुपए जमा नहीं हो पा रहे हैं उन्हें सुरक्षित घर पहुंचने की हिदायत दे रहे हैं। ताकि रास्ते में लूट न हो जाए। सी-21 मॉल के पास थोड़ा सुनसान क्षेत्र हो जाता है। इस वजह से सीएसपी स्तर के अधिकारी वहां आकर खड़े हो गए। 

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/why-india-banned-rs-500-1000rs-notes-from-today-1437874/

नोट बैन: एक्सपर्ट बोले रियल एस्टेट, खुदरा और हवाला होंगे प्रभावित


इंदौर। एक्सपर्ट का कहना है कि सरकार के इस कदम से ट्रेड, रियल एस्टेट सेक्टर, खुदरा कारोबार में कुछ समय दिक्कत रहेगी। हुंडी कारोबारियों और चिट्ठी पर उधारी चलाने वालों की जान सांसत में आ जाएगी। हालांकि, बैंकिंग और टैक्स कंसलटेंट ने कहा कि जिनके पास व्हाइट मनी है, उन्हें परेशान होने की जरूरत नहीं है।

कैश के रैंडम मैनेजमेंट के लिए सरकार 9 व 10 नवंबर को बैंकें बंद रखेगी। चूंकि, अभी तक अधिकांश लोग 500 या 1000 के नोट एटीएम से निकाल रहे थे। नए फैसले में सरकार ने अभी एक दिन में सिर्फ 2000 रुपए निकालने की छूट दी है। चूंकि, एक एटीएम में औसतन 10 लाख रुपए का नकद होता है। इसलिए एक दिन में एक एटीएम से सिर्फ 500 लोग ही नकद निकाल सकेंगे।

यह भी पढ़ें: बंद हो गए 500 और 1 हजार के नोट, जानिए आपके पास क्या हैं ऑप्शन

स्वागत होना चाहिए

सरकार ने कालाधन रखने वालों पर शिकंजा कसा है। इसका स्वागत होना चाहिए। किसी भी देश की सरकार झटके से करेंसी बदलती है, ताकि बड़े नोटों को कहीं बदला ना जा सके।
मोहन कृष्ण शुक्ला, अध्यक्ष मप्र बैंक इम्पलाइज एसोसिएशन

बैंकों में बढ़ेगी भीड़

नोट बदलने के लिए बैंकों में भीड़ बढ़ेगी। बैंकों को महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग-अलग विंडो बनानी चाहिए। यदि शॉर्टेड नोट आते हैं तो लोगों को आसानी से रुपए  मिल जाएंगे।
जीएस ठाकुर, रिटायर्ड मैनेजर एसबीआई

hawala

यह भी पढ़ें: लेमन ट्री होटल में शिल्पू की हुई थी हत्या, पुलिस ने चालान में किया खुलासा

जाली नोट नेटवर्क ध्वस्त

संभवत: सरकार के पास खुफिया रिपोर्ट थी कि 1000-500 के जाली नोटों का बड़ी मात्रा में उपयोग हो रहा है। उसे तुरंत समाप्त करने के लिए सरकार को यह कदम उठाना पड़ा। सरकार के इस कदम से एकाएक घबराहट पैदा हो सकती है। 100 रुपए का चलन कम 500 का ज्यादा है। सरलता से मार्केट में लिक्विडिटी नहीं मिलेगी। ट्रेड में भी परेशानी होगी। बैंक, एटीएम के बंद होने के कारण परेशानी हो सकती है, लेकिन अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा कदम है।
प्रो. गणेश कावडि़या, अर्थशास्त्री

काली कमाई पर विराम

बैन होने के बाद 500-1000 के नोट बैंक में जमा कराने के लिए परिचय पत्र देना अनिवार्य होगा, इससे काली कमाई पर विराम लगेगा। जिन देशों में एेसा प्रयोग हुआ, वहां कालाधन के नियंत्रण के अच्छे परिणाम आए हैं।
जयंतीलाल भंडारी, अर्थशास्त्री

जल्दबाजी का निर्णय

सरकार का यह निर्णय जल्दबाजी का है। बाजार में घबराहट है। व्यापारी वर्ग में झगड़ा बढ़ेगा। सरकार के फैसले के साथ ही एटीएम और पेट्रोल पंप मेंं विवाद शुरू हो गया है।
हुकुम सोनी, अध्यक्ष इंदौर सराफा एसोसिएशन

home

फैसले का सभी स्वागत करें

सरकार का यह कदम कालेधन पर नियंत्रण के लिए है। बहुत ज्यादा घबराहट न हो। व्यावहारिक दिक्कतों के आरबीआई समाधान लाएगी। सभी इसका स्वागत करें। इससे पूरा फंड एक नंबर में आएगा। बैंकिंग चैनल का अधिकतम यूज होगा। इससे निवेश बढ़ेगा और शेयर मार्केट व अर्थव्यवस्था मजबूत होगी।
सीए केमिशा सोनी, सेंट्रल काउंसिल मेंबर

उद्यमी वेलकम करेंगे

सरकार के इस कदम से ट्रेड सेगमेंट, रियल एस्टेट, खुदरा कारोबार करने वालों को दिक्कत आएगी। इंडस्ट्री के लिए यह अच्छा है। चूंकि, इंडस्ट्री में अधिकांश कारोबार एक नंबर में होता है। उद्यमी इसका वेलकम करते हैं।
ओम धूत, अध्यक्ष एआईएमपी

लांग टर्म में अच्छा

लांग टर्म के लिए अच्छा कदम है। हालांकि, एक माह के लिए समस्या खड़ी हो गई है। सरकार के इस कदम से भ्रष्टाचार, ब्लैकमनी, जाली नोट पर विराम लगेगा। 
रमेश खंडेलवाल, अध्यक्ष सियागंज किराना मर्चेंट एसोसिएशन

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/real-estate-retail-trade-and-hawala-will-be-affected-after-noteban-said-experts-1437848/

बंद हो गए 500 और 1 हजार के नोट, जानिए आपके पास क्या हैं ऑप्शन


इंदौर। पीएम मोदी देश को संबोधित करते हुए भारत में चल रहे 500 और 1 हजार के नोट बंद करने की बात कही। मंगलवार रात 12 बजे से ही इन नोटों को बैन किया गया है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी घोषणा की कि जिनके पास 500 और 1000 रुपए के नोट हैं वो 10 नवंबर से 30 दिसंबर तक बैंक और प्रमुख डाकघरों में जमा कराकर उसके बदले में वैध रमक ले सकते हैं।

यह खबर सुनते ही इंदौर शहर में सभी लोग एटीएम और पेट्रोल पंपों की तरफ रुख करने लगे। एटीएम के बाहर लंबी लंबी लाइन्स लग गई। सभी लोग पहले कल और परसों के खर्चे लायक पैसे निकालने की जुगत में दिखे। वहीं एटीएम मशीनों से केवल 100 के नोट ही लोग निकाल रहे हैं। इंदौर में भी नोट बैन की खबरों का असर देखने मिला। शाम से ही व्यापारी वर्ग 500 और 100 के नोटों को लेने में हिचकते दिखाई दिए। 

500 और 2000 हजार रुपए के नए नोट बाजार में लाने की भी तैयारी की जा चुकी है। नए नोट भी सरकार ने जारी कर दिए हैं। इसके साथ ही 9 और 10 नवंबर को एटीएम भी काम नहीं करेंगे। 11 नवंबर की रात 12 बजे तक नागरिकों के लिए कुछ विशेष व्यवस्था की गई है। पीएम ने कहा कि 11 नवंबर की रात्रि 12 बजे तक रेलवे के टिकट बुकिंग काउंटर सरकारी बसों के टिकट और एयरपोर्ट्स पर भी टिकट खरीदने की छूट रहेगी। 

क्या हैं नए ऑप्शन

1. 500 और 1 हजार के पुराने नोट पोस्ट ऑफिस और बैंक में जमा करें। इसके बदले आपको नए नोट या बराबर की करंसी दी जाएगी।
2. नोट बदलने बैंक और पोस्ट ऑफिस जा रहे हैं तो अपनी आईडी प्रूफ के साथ जाएं।
3. फिलहाल यह बैंक में प्रतिदिन के हिसाब से 10,000 रुपए और 20,000 रुपए प्रति हफ्ते के हिसाब से डिपॉजिट किए जा सकेंगे। 
4. प्रतिदिन और प्रति हफ्ते जमा करने की लिमिट कुछ दिनों बाद बढ़ाई जाएगी।
5. चेक, डिमांड ड्राफ्ट, डेबिट अथवा क्रेडिट कार्ड, इलेक्ट्रॉनिक या नॉन कैश पेमेंट पर किसी तरह की रोक नहीं है।
6. 9 नवंबर और कुछ जगह पर 10 नवंबर को भी एटीएम बंद रहेंगे।

जानिए क्या रहा लोगों का रिएक्शन

नोट बंद होने की वजह से हमें परेशानी होगी। हम रातभर सफर करेंगे। ऐसे में अगर किसी ने नोट नहीं लिया तो हम क्या करेंगे। मेरे पास सभी नोट केवल पांच सौ रूपए के ही हैं। सरकार का फैसला सही है लेकिन राहत कैंसे मिलेगी यह समझ नहीं आ रहा है। मुझे केवल एसएमएस मिला है अब मैं क्या करूं समझ नहीं आ रहा है।
- सुदीप, छात्र इंदौर

- अच्छी बात है कालाधन बाहर आएगा। जिनके पास कालाधन भरा पडा है घर में वो बेकार हो जाएगा। जो अच्छा कदम है। इसका तात्कालिक कदम अच्छा है।
-जितेन्द्र, नौकरीपेशा, कोल्हापुर

जिसने पैसा जमाकर कर रखा हुआ है उसके लिए परेशानी है। गरीबों को फायदा मिलेगा। अच्छा कदम है। लेकिन अभी जरूर परेशानी बढने वाली है।
- गायत्री गृहणी

- हम फिलहाल पांच सौ रूपए के नोट ले रहे हैं लेकिन रात बारह बजे के बाद नहीं लेंगे। जो लोग सफर में हैं केवल उनसे ही पांच सौ रूपए के नोट ले रहे हैं। हमारे पास फिलहाल कन्फर्मेशन नहीं आया है। लेकिन सरकार का कदम सराहनीय है।
- उमाशंकर, ट्रेवल संचालक

- सरकार ने काम अच्छा किया है लेकिन जिनके पास अभी पांच सौ रूपए हैं उनकी परेशानी बढ चुकी है। क्योंकि उनके पास सिर्फ पांच सौ रूपए के नोट ही हैं। कालाधन रूकेगा जो अच्छा कदम है।
- आयुष द्विवेदी, बस ऑपरेटर

- हम फिलहाल 500 और 1000 के नोट ले रहे हैं। लेकिन बुधवार से नहीं लेंगे। अभी रात तक नोट लेंगे। ताकि लोगों को परेशानी ना हो। क्योंकि लोग यहां भोजन करने आते हैँ और ऐसे में जबकि नोट नहीं लिए जाएंगे तो उनकी परेशानी बढ सकती है।
- राजेश त्रिवेदी, रेस्टोरेंट संचालक

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/500-rs-1000-notes-scrapped-what-you-have-to-need-to-do-in-next-one-month-1437630/

फैक्ट्रियों का सरकारी ऑडिट होगा खत्म!


इंदौर. 10 से 20 कर्मचारियों की गैर खतरनाक फैक्ट्रियां भविष्य में सरकारी ऑडिट (निरीक्षण) से बच जाएंगी। औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग मध्यप्रदेश ने थर्ड पार्टी से इनका ऑडिट कराने का खाका तैयार किया है। थर्ड पार्टी टीम के नाम फैक्ट्री एडवाइस सर्विस एंड लेबर इंस्टिट्यूट (फासली) के महानिदेशक तय करेंगे।

औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग के अधिकृत सूत्रों का कहना है, गैर खतरनाक फैक्ट्रियों के सालाना ऑडिट एनजीओ या निजी लोगों से कराने की तैयारी है। प्रस्ताव है कि यदि थर्ड पार्टी ने एक बार निरीक्षण कर उसकी रिपोर्ट संबंधित जिले के श्रम पदाधिकारी को सौंप दी तो उस साल में दोबारा उस फैक्ट्री का निरीक्षण नहीं हो सकेगा।

125 घंटे का ओवरटाइम
कारखाना अधिनियम 1948 में संशोधन करते हुए श्रमिकों को भी कुछ छूट दी गई हैं। फैक्ट्रियों में कोई भी कर्मचारी एक तिमाही में 125 घंटे काम कर सकेगा। कारखाना अधिनियम में संशोधन से पहले 75 घंटे ओवरटाइम करने की छूट थी। इसके अतिरिक्त अर्न लीव के नियमों में भी संशोधन किया गया है। पहले 240 दिन में अर्न लीव का प्रावधान था। अब 180 दिन में अर्न लीव का प्रावधान है। 20 दिन में एक दिन अर्न लीव मिलेगी।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/small-factory-will-be-exepmt-from-government-audit-1434248/

बाबा रामदेव की पतंजलि को माचल में जमीन देने का प्रस्ताव


इंदौर. ग्लोबल इन्वेस्टर समिट में मिले संकेत के बाद प्रशासन बाबा रामदेव के पतंजलि ब्रांड को और जमीन देने की तैयारी में है। बाबा पीथमपुर में जमीन चाहते हैं, लेकिन एकेवीएन के पास माचल में जमीन है, वहां 100 एकड़ जमीन देने का प्रस्ताव दिया है।

बाबा ने समिट के दौरान जमीन की मांग रखी थी, जिस पर मुख्यमंंत्री शिवराजसिंह चौहान ने अफसरों को निर्देशित किया था। एकेवीएन एमडी कुमार पुरुषोत्तम के मुताबिक, माचल में 150 एकड़ जमीन पर औद्योगिक क्षेत्र विकसित हो रहा है, यहां पतंजलि को जमीन दे सकते हैं। उधर, ऑटोमोटिव टेस्टिंग ट्र्रैक के लिए नैट्रिप से मिली 1200 एकड़ जमीन में से 300 एकड़ पर अंतरराष्ट्रीय टाउनशिप का प्लान है।

यह भी पढ़ें:-#Diwali के बाद देश की पहली 'हिंगोट युद्ध' अजब परंपरा देखने जज भी पहुंचे, आखिर क्यों



वहीं, यहां एशिया का सबसे बड़ा ऑटोमेटिव टेस्टिंग ट्रेक शुरू होने से अब ऑटोमोबाइल सेक्टर के विकास पर जोर दिया जा रहा है। प्रमुख ऑटोमोबाइल कंपनी अशोक लीलैंड ने यहां प्लांट लगाने की इच्छा जाहिर करते हुए 300-400 एकड़ जमीन की जरूरत बताई है। नैट्रिप से वापस मिली जमीन में सरकार अशोक लीलैंड को जमीन देने के लिए तैयार है।

उम्मीद है जल्द ही इसका फैसला होगा। प्लास्टिक टंकी निर्माता कंपनी सिंटेक्स भी पीथमपुर में 2 हजार करोड़ रुपए का निवेश ऑटोमोबाइल सेक्टर में करेगी। आदित्य बिड़ला ग्रुप ने 20 हजार करोड़ रुपए के निवेश का प्रस्ताव दिया है। दावा है कि अगले छह महीने में पीथमपुर में कई बड़े प्रोजेक्ट शुरू हो जाएंगे।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/baba-ramdev-s-patanjali-offered-land-in-machal-village-indore-1434328/

ऑल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन ने की मांग, खत्म हो दाल स्टॉक सीमा


इंदौर. ऑल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन ने मध्यप्रदेश में दाल की स्टॉक सीमा तत्काल प्रभाव से समाप्त करने की मांग की है। एसोसिएशन चेयरमैन सुरेश अग्रवाल ने सीएम शिवराज सिंह चौहान, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे व विभाग के पीएस से मुलाकात कर समाधान की मांग की है।

अग्रवाल ने बताया, एक वर्ष पहले सरकार ने अति छोटे व्यापारियों की स्टॉक सीमा 500 क्विंटल, अ वर्ग श्रेणी की मंडियों में 1000 क्विंटल और बड़े शहरों में 4000 क्विंटल की स्टॉक लिमिट का जो कानून लागू किया है। उससे प्रदेश में व्यापार बहुत कठिन हो रहा है। प्रत्येक 15 दिन में दाल मिलर्स, थोक व्यापारियों को खाद्य विभाग में प्रत्येक माह की एक तारीख से 15 तारीख तक और 16 तारीख से माह की अंतिम तारीख तक खरीदी बिक्री का ब्योरा देना पड़ता है।

यह भी पढ़ें: ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट : किआ से करार को बेकरार सरकार

इससे व्यापारी कागजी कार्यवाही में उलझा रहता है। सरकार ने पूर्व में यह आश्वासन दिया था कि दालों की कीमतों में कमी आने पर प्रदेश में लागू स्टॉक लिमिट को समाप्त कर दिया जाएगा। चना दाल को छोड़कर पिछले वर्ष की तुलना में इस बार सभी प्रकार की दालों की कीमतों में निरंतर गिरावट आ रही है। पिछले साल अक्टूबर में चना दाल के थोक भाव 56 से 61 रुपए प्रति किलो थे, जबकि इस बार थोक भाव 129 से 139 रुपए प्रति किलो हैं।


फसल बीमा के लिए किसान 31 तक करें आवेदन
मौसम आधारित फसल बीमा के लिए जिले में रबी मौसम में प्याज, लहसुन, धनिया, आलू, हरी मटर, आम इत्यादि उद्यानिकी फसलों का चयन किया गया है। फसल बीमा के लिए किसान 31 अक्टूबर तक आवेदन कर सकेंगे।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/all-india-dal-mill-association-meeting-with-chief-minister-shivraj-singh-chouhan-expires-to-limit-stocks-of-pulses-1428493/

गारमेंट कारोबारियों के यहां चल रहा बिना बिल का कारोबार


जबलपुर। वाणिज्यिक कर विभाग के एंटी इवेजन ब्यूरो ने नरघैया में रेडीमेड गारमेंट कारोबारियों के यहां छापे की कार्रवाई की। दोनों कारोबारियों के प्रतिष्ठानों में बड़ी मात्रा में बिना बिल की खरीदी-बिक्री के दस्तावेज टीम को मिले हैं। इसी तरह स्टॉक में भी अनिमितताएं मिली हैं। 

एंटी इवेजन ब्यूरो के डिप्टी कमिश्नर प्रदीप दुबे के मार्गदर्शन में रविवार को नरघैया स्थित राकेश गारमेंट और राजेश गारमेंट पर कार्रवाई की गई। जैसे ही अधिकारी पहुंचे हड़कंप मच गया। दोनों जगह करीब 15 अधिकारियों की टीम देर रात तक दस्तावेजों की जांच-पड़ताल करती रही।

दस्तावेज और स्टॉक में भी गड़बड़ी मिली 
कारोबारियों द्वारा व्यापार में बिल संबंधी अनियमितताएं की जा रही थीं। डिप्टी कमिश्नर दुबे ने बताया कि इसकी शिकायत लंबे समय से मिल रही थी। जांच में भी टीम को बिना बिल के दस्तावेज और स्टॉक में भी गड़बड़ी मिली है। अभी किसी भी संचालक द्वारा विभाग को कर के रूप में राशि सरेंडर नहीं की गई। कार्रवाई में सहायक आयुक्त धर्मेन्द्र सिंह, सुधीर श्रीवास्तव, संदीप परिहार, एसपी रावत और अनुपम शर्मा सहित अन्य अधिकारी शामिल हैं। 

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/without-bill-business-running-in-jabalpur-1427436/

DIWALI: CHINA के माल को टक्कर देंगे ये देशी आइटम!


जबलपुर। त्योहारी सीजन में अक्सर चाइनीज आइटम्स का बोलबाला होता है। होम डेकोरेशन से लेकर अन्य घरेलू सामान तक की वैरायटीज भी चाइनीज ही होती है। सिर्फ डेकोरेशन ही नहीं, बल्कि पटाखों का बड़ा बाजार भी चाइना से आए माल से ही सजता है।

सस्ता होने के चक्कर में भी कुछ समय पहले तक लोग इन्हें खरीदना पसंद कर रहे थे, लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से समस्त देशवासियों से चीन से सामानों को बायकॉट करने का मन बना लिया है। देखा जाए तो त्योहारी सीजन में भी चाइनीज के डेकोरेटिव आइटम्स की खरीदारी सबसे ज्यादा बढ़ जाती थी, लेकिन इस बार लोगों ने चाइनीज आइटम्स का देसी विकल्प खोज लिया है। मार्केट में भी चाइनीज आइटम्स की जगह देसी सजावटी सामान काफी बेहतर मिल रहे हैं।

हमारा टेराकोटा उनका केमिकल खोटा 
बंगाल और राजस्थान की पारम्परिक कला से संजोया हुआ टेराकोटा हर मामले से चाइनीज सजावटी समान से आगे है। पक्की मिट्टी बने होने के कारण यह  फ्रैंडली भी होते हैं। इसके इतर चाइनीज आइटम्स को केमिकल से और हार्मफुल रंगों से तैयार किया जाता है। 

देसी झालर के आगे फीकी एलईडी 'कॉलर'
दीवाली में एलईडी लाइट्स का डेकोरेशन सभी को पसंद आता है, लेकिन मार्केट में इस बार जो देसी खूबसूरत झालरें मिल रही हैं, वह चाइनीज प्रोडक्ट को भी मात दे रही हैं। हैंडमेड होने के कारण यह काफी सुंदर है और कीमत भी 70 रुपए से शुरू है।

हमारे खिलौनों के आगे चीनी लगेंगे रोने 
दिवाली में खिलौने सिर्फ पूजन के लिए ही नहीं, बल्कि बच्चों के एंटरटेंमेंट के लिए भी होते हैं। चाइनीज खिलौनों में कलर और चमकीले सजावटी केमिकल का उपयोग होता था, जो बच्चों के लिए नुकसानदायक है। देसी खिलौने सेफ होते हैं, क्योंकि इन्हें  पूरी तरह से मिट्टी से बनाया जाता है।

यहां नेचुरल सजावट,  वहां बस दिखावट 
त्योहारी सीजन में जितनी खूबसूरत नेचुरल सजावट होती है, वह दिखावटी प्रोडक्ट से नहीं मिलती। एेसे में इस मार्केट में होम डेकोरेशन के लिए एेसे फ्लावर्स का यूज किया जा रहा है, जो कि दो दिन तक घर को महका सकता है। इन्हें कंदिल, बंदनवार की तरह उपयोग किया जा सकता है।

देसी की गारंटी, चीनी प्रोडक्ट नो वारंटी 
इलेक्ट्रिॉनिक आइटम्स की खरीदारी भी तेज हो जाती है। देसी गैजेट्स में जहां गारंटी मिल रही है, वहीं चीनी प्रोडक्ट नो वारंटी के साथ कम कीमतों में दिए जाते हैं। चीनी आइटम्स के बहिष्कार के  बाद अब लोग देसी चीजों को ही खरीदना पसंद कर रहे हैं। 

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/chinese-product-boycott-this-diwali-use-only-indian-product-1427644/

#GIS_2016: सरप्राइज निवेश से निवेशकों को चौंका देगी सरकार



इंदौर. ग्लोबल इनवेस्टर्स समिट (जीआईएस) में इस बार सरकार कुछ सरप्राइज निवेश की तैयारी में है। अफसरों की तैयारी है कि समिट के मुख्य आयोजन के दौरान कुछ बड़े निवेशक तत्काल निवेश की घोषणा करें और करार हो सकें।
ग्लोबल समिट के दौरान हर बार एमओयू साइन होते रहे लेकिन उनमें से करीब 14 प्रतिशत ही पूरे हो पाए।
इसे ध्यान में रख समिट में अब रुचि (इनटेंट ऑफ इंटरेस्ट) बुलाए जाते, इस बार एग्रो बिजनेस, फूड प्रोसेसिंग यूनिट के साथ ही सीमेंट प्लांट, टेक्सटाइल व डिफेंस सेक्टर में बड़े-बड़े प्लांट की रुचि के ऑफर मिले हैं। इंदौर को लेकर कई प्रस्ताव आए हैं। इनमे से कुछ प्रस्ताव पर करार किया जा सकता है।

उद्योग विभाग व ट्राइफेक के वरिष्ठ अफसर इस बार अलग तरह की तैयारी में हंै। चूंकि किसी तरह के निवेश प्रस्ताव का दावा नहीं है इसलिए अफसर समिट में सरप्राइज की पॉलिसी पर काम कर रहे हैं। मुख्यमंत्री की उपस्थिति में कई उद्योगपति अचानक निवेश का प्रस्ताव रखेंगे। इसके बाद मुख्यमंत्री के निर्देश पर तुरंत करार कर सभी को चौंकाया जाएगा। कुछ उद्योगपतियों से भी इस तरह की चर्चा हो चुकी है।

55 लाख के 200 कैमरों से होगी निगरानी
तीन दिनों तक शहर में होने वाली वीवीआईपी की आवाजाही को लेकर पुलिस और खुफिया विभाग कोई चूक करना नहीं चाह रहा है। सुरक्षा के लिए समिट स्थल ब्रिलियंट कनवेशन सेंटर (बीसीसी) के आसपास, प्रदर्शनी स्थल पर विशेष हाई डेफिनेशन कैमरे लगाए जा रहे हैं। बीसीसी में पहले से कैमरे लगे थे लेकिन पुलिस ने उन्हें हटाकर हाई डेफिनेशन कैमरे लगाए हैं। 22 और 23 अक्टूबर तक इस क्षेत्र में होने वाली हर हरकत को कैद करने के लिए 200 आईपी और 7 डोम कैमरे लगाए जा रहे हैं। कुछ कैमरे बापट चौराहे पर भी लगाए गए हैं।

baba ramdev and  Ruia with 370 VIP guests will com

प्रदर्शनी का शुभारंभ करेंगे उद्योग मंत्री
सीएम शुक्रवार से तीन दिन इंदौर में रहेंगे। इंदौर आकर एयरपोर्ट से सीआईआई की नेशनल काउंसिल की बैठक में जाएंगे। आवास योजना की आधारशीला व प्रदर्शनी व विजयश्री प्रिंटर्स की यूनिट का शुभारंभ निरस्त किया। प्रदर्शनी का शुभारंभ उद्योग मंत्री शुक्ल और प्रभारी मंत्री जयंत मलैया करेंगे।

यह भी पढ़ें: ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट : किआ से करार को बेकरार सरकार

मेहमानों को पायनेपल रबड़ी संग चॉकलेट कुल्फी
22 और 23 अक्टूबर को होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट (जीआईएस) से एक दिन पहले बायपास पर अंबर गार्डन में होने वाले सीईओ कॉनक्लेव में शामिल होने वाले मेहमानों को मालवी और राजस्थानी व्यंजनों के अलावा कांटिनेंटल और इटेलियन फूड भी परोसे जाएंगे। इस कॉनक्लेव में देश-विदेश की बड़ी कंपनियों के 110 सीईओ शामिल होंगे। शनिवार को शुरू होने वाली समिट से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उद्योगमंत्री राजेंद्र शुक्ल सभी के मुलाकात कर उनके मन टटोलेंगे। अंबर गार्डन में होने जा रहे इस अहम डिनर को समिट का सबसे अहम हिस्सा माना जा रहा है। इस डिनर में ही तय हो जाएगा कि इस बार समिट में कितने निवेश की घोषणा होगी। इस डिनर में मेहमानों को लजीज भोजन कराने की जिम्मेदारी सयाजी होटल को सौंपी गई है।

जानकारी अनुसार देशी-विदेशी मेहमानों को खाने में ड्राय फ्रूट पंजीरी, पायनेपल रबड़ी और गुजराती आलू, आठ तरह की बाटी के साथ-साथ मालवा की प्रसिद्ध व्यंजन परोसे जाएंगे। चॉकलेट कुल्फी और आम पाक सहित आठ तरह की मिठाई के अलावा 4 तरह के जूस भी विशेष रूप से तैयार किए जाएंगे। विदेश से आने वाले मेहमानों की सुविधा को ध्यान में रखकर कांटिनेंटल, मेक्सिकन और इटेलियन फूड भी होंगे।
brilliant convention centre



Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/global-investor-summit-2016-surprise-investment-of-agreement-on-offer-at-brilliant-convention-centre-in-indore-1425438/

#GIS_2016:गाइड लाइन से तीन गुना कीमत की जमीन पर बना मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क



इंदौर. ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के दौरान रेलवे उपक्रम कॉनकोर मप्र को बड़ी सौगात देने जा रहा है। वह पीथमपुर से लगे टीही में मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क शुरू कर रहा है।
ऐनवक्त पर योजना बनने से मुख्यमंत्री से समय नहीं मिल पाया, लेकिन रेलवे अधिकारी कंटेनर वाली ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे। पीथमपुर के उद्योगों को राहत देने के लिए रेलवे का भारतीय कंटेनर निगम लिमिटेड (कॉनकोर) टीही में 500 करोड़ की लागत से मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क के लिए तीन साल से लगा हुआ था। डेढ़ साल पहले गाइड लाइन से तीन गुना कीमत चुकाकर उसने 90 एकड़ निजी जमीन खरीदी। इधर, रेलवे ने भी इंदौर-दाहोद लाइन का काम तेज कर दिया।

यह भी पढ़ें: टीही तैयार, जल्द पटरियों पर दौड़ेगा निर्यात का इंजन

टीही तक की लाइन लगभग तैयार हो गई है, जिसका फायदा अब कॉनकोर उठाने जा रहा है। इंदौर में 22 व 23 अक्टूबर को ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट है, जिसमें देश-विदेश के बड़े उद्योगपति आ रहे हैं। इस मौके पर कॉनकोर 22 अक्टूबर को अपनी कार्गो सेवा की औपचारिक शुरुआत करने जा रहा है। प्रयास था कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इसमें शिरकत करें, लेकिन समय नहीं मिल पाया। वहीं रेल मंत्री सुरेश प्रभु के कार्यक्रम तय हैं तो लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन विदेश दौरे पर हैं। ऐसे में रेलवे अधिकारी हरी झंडी दिखाएंगे।

train


उद्योगपतियों को फायदा
कॉनकोर के पार्क शुरू करने के बाद पीथमपुर के  उद्योगपतियों को खासा फायदा होगा। वर्तमान में उनका माल रतलाम रेलवे पर आता-जाता है। वहां से उन्हें भार वाहनों से लाना-ले जाना पड़ता है। इसकी वजह से लागत में काफी फर्क पड़ता है। अब कॉनकोर टीही से ही सेवा शुरू कर देगा तो उनका बड़ा खर्च बचेगा।

यह भी पढ़ें: ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट : तीन देशों के ही होंगे सेशन

पार्क का काम है बाकी
गौरतलब है कि रेलवे ने टीही तक ट्रैक तैयार कर दिया तो कॉनकोर ने भी अपने पार्क तक रैक पहुंचाने के लिए एक ट्रैक का निर्माण कर लिया है। वैसे तीन ट्रैक बनाए जाना हैं। शेड व अन्य काम शुरू हो गया है, जिसे पूरा होने में समय लगेगा।


train

70 करोड़ रुपए खर्च किए रेलवे ने
13 कमरों की स्टेशन बिल्डिंग तैयार, पटरियां भी बिछीं
200 करोड़ रुपए निवेश कंटेनर कॉर्पोरेशन का 
500 इंडस्ट्री लाभान्वित होंगी पीथमपुर की

ऐसे होगा फायदा

टीही में स्टेशन बन जाने से कंटेनर कार्पोरेशन डिपो पीथमपुर के उद्योगों का माल सीधे रेलवे की माल गाड़ी में लोड कर वाया 
रतलाम मुंबई या अन्य पोर्ट पहुंचाया जा सकेगा। भविष्य में दाहोद तक लाइन पूरी होने पर गुजरात पोर्ट पर भी सीधे परिवहन की सुविधा मिल जाएगी। एक मालगाड़ी में 100-200 कंटनेर भेजे जा सकेंगे, जबकि अभी एक ट्राले में 2 कंटेनर ही जापाते हैं।

यह भी पढ़ें: ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट : किआ से करार को बेकरार सरकार

नवंबर 2014 में रेल मंत्री सदानंद गौड़ा से चर्चा में टीही स्टेशन की बात हुई। उन्हें प्रस्ताव अच्छा लगा और काम शुरू हो गया। इससे रेलवे को किराए के रूप में बड़ा फायदा होगा और पीथमपुर का नाम पूरे देश में अव्वल होगा। 
नागेश नामजोशी, रेलवे विशेषज्ञ

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/central-india-s-first-multi-modal-logistics-park-start-on-global-investors-summit-2016-at-pithampur-and-tehi-1425179/

आईटी पार्क में 200 सीट का इनक्यूबेशन सेंटर, कंपनियों ने दिखाई रुचि



प्रमोद मिश्रा @ इंदौर. परदेशीपुरा स्थित इलेक्ट्रॉनिक कॉम्प्लेक्स के आईटी पार्क में प्रदेश का सबसे बड़ा 200 सीटर इनक्यूबेशन सेंटर तैयार है। यहां 23 आईटी कंपनियों को ब्लॉक देने का काम शुरू हो गया है। दिसंबर- जनवरी से इनक्यूबेशन सेंटर में  आवंटन शुरू हो जाएगा।
भोपाल में एमएसएमआई मीट के दौरान शासन ने इनक्यूबेशन पॉलिसी लांच की। इसी आधार पर आईटी विभाग इलेक्ट्रॉनिक कॉम्प्लेक्स के आईटी पार्क को लेकर काम कर रहा है। आईटी विभाग के सीजीएम एलके तिवारी के मुताबिक, शासन ने पॉलिसी में स्टार्ट अप के प्रोत्साहन के लिए जो प्रावधान किए हैं, उसके तहत विभाग काम कर रहा है। इसके तहत इंदौर व जबलपुर में 200-200 सीटर इनक्यूबेशन सेंटर की सौगात देंगे। इलेक्ट्रॉनिक कॉम्प्लेक्स स्थित आईटी पार्क के इनक्यूबेशन सेंटर के अलावा  शहर में एकेवीएन के क्रिस्टल आईटी पार्क में 32 सीटर इनक्यूबेशन सेंटर है।

यह भी पढ़ें:
ग्लोबल इंवेस्टर समिट : हर महीने इंदौर आ रही 100 करोड़ से ज्यादा की निवेश योजना

ग्लोबल इन्वेस्टर समिट के दौरान इंदौर के इलेक्ट्रॉनिक्स कॉम्प्लेक्स में तैयार आईटी पार्क की ब्रांडिंग होगी। यहां आईटी कंपनियों के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट जारी किया जा चुका है। करीब एक लाख 40 हजार वर्गफीट में जी प्लस 5 भवन बना है। यहां 23 कंपनियों के लिए जगह उपलब्ध है। 4 कंपनियों ने जगह मांगी है, जो संभवत: दिसंबर से काम शुरू कर देंगी। एक सीट का किराया 2000-3000 के बीच रहेगा।  पॉर्किंग  की व्यवस्था आईटी विभाग कर रहा है।

यह भी पढ़ें: मैदान में उतरे खिलाड़ी, फैंस के उत्साह ने कुछ यूं बढ़ाया हौसला

23 आईटी कंपनियों को ब्लॉक देने का काम शुरू
40 हजार वर्ग फीट में बना सेंटर
02 से 3 हजार के बीच रहेगा किराया

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/200-seats-of-incubation-center-in-it-park-at-indore-1422329/

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट : तीन देशों के ही होंगे सेशन



इंदौर. ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में अब केवल छह दिन बाकी हैं। अगले शनिवार को इसका उद्घाटन ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में है। इस बार जीआईएस में पांच देश पार्टनर कंट्री बनकर आ रहे हैं। पार्टनर कंट्री के टेक्निकल सेशन में तीन को ही मौका मिलेगा, अपनी बात निवेशकों के सामने रखने के लिए। दो देशों का नाम शेड्यूल में ही नहीं है।
जीआईएस का जो शेड्यूल जारी किया गया है, उसके अनुसार सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक उद्घाटन सत्र के बाद दोपहर 2 बजे से अलग-अलग तकनीकी सेशन चलेंगे। इसमें पहले दिन पार्टनर कंट्री के रूप में यूएई और जापान को मौका मिलेगा। दूसरे दिन लंच के पहले ही समिट का समापन हो जाएगा। इसलिए सुबह के सत्र में 10 बजे से तकनीकी सेशन होंगे। इसमें दक्षिण कोरिया को ही भाग लेने का मौका मिला है। शेष दोनों पार्टनर कंट्री सिंगापुर और यूनाइटेड किंगडम का सेशन नहीं रखा गया है। हालांकि इन पांच देशों के अलावा भी कई अन्य देशों के एंबेसेडर और राजनीतिक प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे।


एक सत्र में तीन फोकस सेक्टर

समिट के दोनों दिन प्रदेश के नौ ऐसे फोकस सेक्टर पर सेमिनार रखे गए हैं, जिनमें प्रदेश सरकार निवेश चाहती है। पहले दिन सेमिनार के लिए दो सत्र रखे गए हैं और दूसरे दिन केवल एक। पहले दिन पहले सत्र में टेक्सटाइल, ईएसडीएम और टूरिज्म पर और दूसरे सत्र में ऑटोमोबाइल एंड इंजीनियरिंग, एग्री बिजनेस एंड फूड प्रोसेसिंग और फार्मास्यूटिकल्स पर सेमिनार हैं। दूसरे दिन नवीकरण ऊर्जा, शहरी विकास और प्रदेश की निर्यात नीति पर सेमिनार के साथ मेक इन इंडिया पर  विशेष सेमिनार रखा गया है। ये सारे ही सेशन एक ही समय पर अलग-अलग हॉल में चलेंगे। निवेशक अपनी रुचि के अनुसार सेक्शन सेमिनार में हिस्सा ले सकेंगे।

यह भी पढ़ें:ग्लोबल इंवेस्टर समिट : हर महीने इंदौर आ रही 100 करोड़ से ज्यादा की निवेश योजना

इन्वेस्टर्स समिट के बाद होगी बोर्ड बैठक
पहले संचालक मंडल का कार्यकाल खत्म होने के कारण आईडीए बोर्ड बैठक टली और अब ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के कारण बोर्ड बैठक टलती जा रही है। नगर निगम और आईडीए दोनों को ही तैयारियों के लिए कई कामों का जिम्मा मिला हुआ है, इसके चलते बैठक का समय नहीं निकल पा रहा है। संचालक मंडल की विदाई के साथ चेयरमैन के रूप में शंकर लालवानी की वापसी हुई, लेकिन संचालक मंडल का गठन नहीं हुआ। माना जा रहा था कि दूसरी पारी संभालते ही बोर्ड बैठक ले लेंगे, लेकिन इन्वेस्टर्स समिट की तैयारियों के चलते न तो कलेक्टर समय दे पाए और ना ही निगम कमिश्नर। वे खुद भी समय नहीं निकाल पाए। चूंकि राजनीतिक संचालक मंडल है नहीं इसलिए शासकीय सदस्य ही मुख्य रूप से बैठक का हिस्सा होंगे। अगले शनिवार तक तो पूरी तरह इन्वेस्टर्स समिट की तैयारियों में ही सारे स्थानीय निकाय जुटे रहेंगे। ऐसे में समिट के बाद ही बैठक होना संभव लग रहा है।

 mukesh ambani and anil ambani 4g not coming in global investors summit 2016 at indore



यह भी पढ़ें: मैदान में उतरे खिलाड़ी, फैंस के उत्साह ने कुछ यूं बढ़ाया हौसला

हालांकि बैठक में मुख्य रूप से सयाजी होटल का मुद्दा रखने की चर्चा है, लेकिन असल में पिछली बैठक के कई महत्वपूर्ण निर्णयों की पुष्टि करवाना है, जिसके कारण कई काम अटके हैं। गैरयोजना मद के कामों को लेकर भी फैसला लिया जाना है। इसके अलावा योजना 171 में बिल्डरों की जमीनें मुक्त करने को लेकर लिए गए फैसले की पुष्टि भी करवाना है, जिसके खिलाफ पिछला संचालक मंडल लिखित में आपत्ति दे गया है।

baba ramdev and  Ruia with 370 VIP guests will com

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/three-countries-session-s-will-be-held-in-global-investors-summit-at-indore-1422499/

सराफा बाजार में सोने में आई तेजी, चांदी हुई नरम


इंदौर। स्थानीय सराफा बाजार में सोने में सुधार रहा, जबकि चांदी के भाव नरम रहे। सोना (आरटीजीएस) 31995 रुपए प्रति दस ग्राम बिका।

बाजार में केडबरी सोना गत बंद भाव 31340 रुपए प्रति दस ग्राम के मुकाबले 50 रुपए तेज होकर 31390 रुपए प्रति दस ग्राम बंद हुआ। चांदी गत बंद भाव 45500 रुपए प्रति किलो के मुकाबले 25 रुपए घटकर 45475 रुपए प्रति किलो बंद हुई।

gold2


> उज्जैन सराफा: सोना कैडबरी 31400, सोना रवा 31300 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी पाट 45800, चांदी टंच 45700 रुपए प्रति किलो नग।

> रतलाम सराफा: सोना कैडबरी 31450, स्टैंडर्ड 31600 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी पाट 45450, टंच 45600 रुपए प्रति किलो।

> मंदसौर सराफा: सोना कैडबरी 31375 स्टैंडर्ड 31425 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी पाट 45450, टंच 45550 रुपए प्रति किलो।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/know-the-market-price-bullion-market-indore-1408328/

500 करोड़ के निवेश का 'योग', गुपचुप आए रामदेव दे गए भूमिपूजन को हरी झंडी



इंदौर.
पीथमपुर में पतंजलि की इकाई स्थापित करने के लिए योग गुरु बाबा रामदेव तन्मयता से जुटे हैं। इसके चलते ही पतंजलि के प्रमुख बाबा रामदेव तीन दिन पूर्व 20 सितंबर को गुपचुप इंदौर आए और इकाई के भूमिपूजन के निर्देश देकर रवाना हो गए। संभावना जताई जा रही है सरकार की मंशानुसार ग्लोबल इंवेस्टर समिट के दौरान ही इकाई का भूमिपूजन कराया जाएगा।
इंदौर आने के बाद बाबा रामदेव चुपचाप पीथमपुर स्थित प्लांट की जमीन देखने पहुंचे। वहां उद्योग विभाग के अफसरों ने विस्तार से जानकारी दी। हालांकि इसकी खबर नहीं लगने दी गई। पीथमपुर से लौटकर उन्होंने पतंजलि के उत्पादों की मार्केटिंग के लिए स्कीम नं. 78 के ऑडिटोरियम में कंपनी के अफसरों से बैठक की और नई इकाई के भूमिपूजन की तैयारी का आदेश दे गए। हालांकि इंदौर से जाने के पूर्व दो-तीन लोगों के निवास पर भी गए। उनके साथ पूरे समय अफसर व सुरक्षा बल मौजूद रहा।

यह भी पढ़ें:- पीथमपुर में अंबानी से पहले आएंगे बाबा रामदेव, हजारों को मिलेगी जॉब

गौरतलब है पतंजलि की इकाई पीथमपुर में स्थापित होना है। शासन ने रियायत पर 40 एकड़ जमीन देने की घोषणा की है। प्रथम चरण में पतंजलि 500 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। शासन चाहता है कि ग्लोबल इंवेस्टर समिट में बाबा रामदेव की उपस्थिति में इकाई का भूमिपूजन हो।

यह भी पढ़ें:-कैलाश ने मचाई MP की भाजपा में हलचल, दिल्ली चुप

बताया जा रहा है गुपचुप यात्रा के दौरान ही इकाई को लेकर सभी बातों को अंतिम रूप दिया गया। हालंकि बाबा की यात्रा की अधिकारिक पुष्टि नहीं की जा रही है। यह तय हो गया कि समिट में पतंजलि का भूमिपूजन होगा।

baba ramdev

इधर, माइक्रोमैक्स को 10 एकड़ जमीन 
मोबाइल कंपनी माइक्रोमैक्स भी पीथमपुर (इंदौर) की ओर रुख कर रही है। कंपनी के आवेदन पर सरकार ने पीथमपुर में दस एकड़ जमीन आवंटन को मंजूरी दे दी है। कुछ समय पहले ही कंपनी के प्रतिनिधि पीथमपुर में जमीन देख गए थे। तब उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात कर निवेश की इच्छा जाहिर की थी। कंपनी हैदराबाद और राजस्थान में भी यूनिट खोलना चाहती है। पहले उन्होंने भोपाल या आसपास जमीन मांगी थी, लेकिन बाद में पीथमपुर चुना। कंपनी पीथमपुर में प्रोडक्शन यूनिट खोलेगी, जबकि सुपर कॉरिडोर पर योजना एक प्रशासनिक ब्लॉक बनाने की है। 

baba ramdev

500 करोड़ की छूट : बाबा की फूड प्रोसेसिंग यूनिट के लिए सीएसटी और वैट में राहत का रास्ता निकाला। चंद दिनों में रामदेव की कंपनी को करीब 500 करोड़ की छूट मिल भी गई। निवेश संवर्धन नीति का दायरा बढ़ाकर पतंजलि को जोड़ा गया। पहले केवल 10 करोड़ तक निवेश वालों को छूट थी।




Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/baba-ramdev-had-secretly-started-his-patanjali-production-unit-in-madhya-pradesh-1405649/

चांदी हुई 250 रुपए महंगी, जानिए सोने के बढ़े दाम



इंदौर। स्थानीय सराफा बाजार में दोनों कीमती धातुओं में तेजी का रुख बना रहा। सोना (आरटीजीएस) 31954 रुपए प्रति दस ग्राम बिका। बाजार में केडबरी सोना गत बंद भाव 31260 रुपए प्रति दस ग्राम के मुकाबले 60 रुपए तेज होकर 31320 रुपए प्रति दस ग्राम बंद हुआ। चांदी गत बंद भाव 45575 रुपए प्रति किलो के मुकाबले 250 रुपए बढ़कर 45825 रुपए प्रति किलो बंद हुई।

बताया गया कि अमेरिका में ब्याज दरें नहीं बढ़ीं और फेड के इस फैसले के बाद सोने की चमक बढ़ गई है। साथ ही पूरे कमोडिटी और करेंसी बाजार पर इसका असर पड़ा है। कच्चे तेल में जोरदार तेजी आई है। साथ ही बेस मेटल भी उछल गए हैं। येन के मुकाबले डॉलर जहां एक महीने के निचले स्तर पर आ गया है। वहीं डॉलर के मुकाबले रुपया मजबूत हो गया है। दरअसल फेडरल रिजर्व ने अमेरिका में ब्याज दर 0.5 फीसदी पर बरकरार रखा है। हालांकि फेड ने कहा है कि अमेरिकी इकोनॉमी तेजी से सुधर रही है और रोजगार के बेहतर आंकड़ों से इस साल के अंत में ब्याज दर बढऩे की संभावना बढ़ गई है। अगले साल फेड ने दो बार और उसके बाद से दो सालों में 3.3 बार दरें बढ़ाने का संकेत दिया है।

> इंदौर सराफा शाम तक के भाव : सोना  कैडबरी (99.50) 31310 रवा 31300, कच्चा 31280 रुपए प्रति दस ग्राम, चांदी (फोरनाइन) 46025, चौरसा (एसए) 45675 व टंच 45650 रुपए प्रति किलो तथा चांदी सिक्का 700 रुपए नग।

> उज्जैन सराफा : सोना कैडबरी 31300, सोना रवा 31200 रुपए प्रति दस ग्राम, चांदी पाट 45700, चांदी टंच 45600 रुपए प्रति किलो व चांदी  सिक्का 700 रु.।

> रतलाम सराफा : सोना कैडबरी 31300, स्टैंडर्ड 31,450 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी चौरसा 45,700, टंच 45,800 रुपए प्रति किलो। चांदी सिक्का 690 रुपए प्रति नग।

> मंदसौर सराफा : सोना कैडबरी 31250 स्टैंडर्ड 31300, रवा 31200 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी पाट 45600, टंच 45750 रुपए प्रति किलो।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/know-the-market-price-bullion-market-indore-1405350/

चांदी हुई 125 रुपए सस्ती, जानिए सराफा में क्या हैं सोने के भाव



इंदौर। स्थानीय सराफा बाजार में दोनों कीमती धातुओं में गिरावट रही। सोना (आरटीजीएस) 31707 रुपए प्रति दस ग्राम बिका। बाजार में केडबरी सोना गत बंद भाव 31050 रुपए प्रति दस ग्राम के मुकाबले 30 रुपए नरम होकर 31020 रुपए प्रति दस ग्राम बंद हुआ। चांदी गत बंद भाव 44950 रुपए प्रति किलो के मुकाबले 125 रुपए घटकर 44825 रुपए प्रति किलो बंद हुई।

> इंदौर सराफा शाम तक के भाव: सोना  कैडबरी (99.50) 31020 रवा 31010, कच्चा 31000 रुपए प्रति दस ग्राम, चांदी (फोरनाइन) 45275, चौरसा (एसए) 44975 व टंच 44950 रुपए प्रति किलो तथा चांदी सिक्का 700 रुपए नग।

gold5

> उज्जैन सराफा: सोना कैडबरी 31100, सोना रवा 31000 रुपए प्रति दस ग्राम, चांदी पाट- 45000, चांदी टंच 44800 रुपए प्रति किलो, सिक्का 700 रुपए प्रति नग।

> रतलाम सराफा: सोना कैडबरी 31100, स्टैंडर्ड 31250 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी पाट 44900, टंच 45100 रुपए प्रति किलो। चांदी सिक्का 690 रुपए प्रति नग।

> मंदसौर सराफा: सोना कैडबरी 31025, स्टैंडर्ड 31075, रवा 30975 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी पाट 44950, टंच 45000 रुपए प्रति किलो। चांदी सिक्का 700 रुपए प्रति नग।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/know-the-market-price-bullion-market-indore-1399111/

इंदौर मंडी में आया 1000 बोरी नया सोयाबीन, 4001 रुपए क्विंटल तक बिका



इंदौर। मध्य प्रदेश की मंडियों में करीब 800 से 1000 बोरी नए सोयाबीन की आवक हुई। बताया गया कि देवास में 100, उज्जैन में 70, महू में 30, धार में 22 और इंदौर में 125 बोरी नए सोयाबीन की आवक हुई। इंदौर में नया सोयाबीन 3451 से 4001 रुपए क्विंटल तक बिका। छावनी व्यापारी मंडी में 16 बोरी नया सोयाबीन लखन इंटरप्राजेस पर आया जो दलाल दीपल मंगल के माध्यम से पारस उद्योग नें 4001 रुपए में खरीदा।

> लूज तेल (प्रति दस किलो) : इंदौर मूंगफली तेल 1190 से 1200, मुंबई मूंगफली तेल 1220, इंदौर सोयाबीन रिफाइंड 637 से 640, इंदौर सोयाबीन साल्वेंट 605 से 610, मुंबई सोया रिफाइंड 650, मुंबई पाम तेल 620 से 625, इंदौर पाम 677 डिगम 603 से 605, राजकोट तेलिया 1780 से 1800, गुजरात लूज 1145 से 1150, कपास्या तेल इंदौर 660, महाराष्ट्र 670 व गुजरात 665 रुपए।

> तिलहन : सरसों 4100 से 4200,  रायडा 4100 से 4200, सोयाबीन नया 3451 से 3851, सोयाबीन प्लांट 3300 से 3380 रुपए क्विंटल। सोयाबीन डीओसी स्पॉट 29000 से 29100 रुपए टन।

> कपास्या खली (60 किलो भरती) : इंदौर 1825, देवास 1825, उज्जैन 1825, खंडवा 1815, बुरहानपुर 1815, अकोला 2775 रुपए।

किसानी मंडी भाव
सोयाबीन 3400 से 3841
सरसों 2700 से 3971
तिल्ली 5500 से 5555
डॉलर 4000 से 12970
देशी चना 2100 से 9205
मसूर 3151 से 5175
मटर 2600 से 2605
मूंग 2400 से 4525
उड़द 2500 से 6125
धनिया 5280 से 6160
लालमिर्च 7000 से 9500
गेहूं 1442 से 2022
मक्का 1271 से 1551
(कुल आवक 7835 बोरी)

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/1000-sack-of-new-soybean-came-in-indore-mandi-1399127/

जानिए मार्केट की हलचल, क्यों बढ़े सोना-चांदी के भाव



इंदौर. स्थानीय सराफा बाजार में दोनों कीमती धातुओं में तेजी रही। सोना (आरटीजीएस) 31742 रुपए प्रति दस ग्राम बिका। बाजार में केडबरी सोना गत बंद भाव 31020 रुपए प्रति दस ग्राम के मुकाबले 30 रुपए तेज होकर 31050 रुपए प्रति दस ग्राम बंद हुआ। चांदी गत बंद भाव 44675 रुपए प्रति किलो के मुकाबले 275 रुपए बढ़कर44950 रुपए प्रति किलो बंद हुई।
इंदौर सराफा शाम तक के भाव : सोना  कैडबरी (99.50) 31070 रवा 31050, कच्चा 31040 रुपए प्रति दस ग्राम, चांदी (फोरनाइन) 45250, चौरसा (एसए) 44925 व टंच 44900 रुपए प्रति किलो तथा चांदी सिक्का 700 रुपए नग।

किसानी मंडी भाव
 सोयाबीन    2500 से 3390
 सरसों    3790 से 3950
 तिल्ली    5200 से 5252
 डॉलर    7000 से 12000
 देशी चना     6700 से 6721
 मूंग    3199 से 4415
 मटर    2400 से 2422
 धनिया    5900 से 6000
 लालमिर्च    8000 से 8800
  गेहंू    1500 से 1966
 ज्वार    1600 से 1793
       कुल आवक 2690 बोरी    



आपूर्ति में कमी से चना उछलकर 8450 रुपए क्विंटल बिका
आपूर्ति में कमी से दालों की कीमतों में तेजी आई है। मंगलवार को चना दाल में 700, तुवर दाल में 200 व मूंग दाल में 300 रुपए क्विंटल भाव तेज रहे। व्यापारियों का कहना है कि कच्चे मालों में आई रही तेजी से दालों की कीमतें बढ़ी है। स्थानीय छावनी अनाज मंडी में चना उछलकर 8400 से 8450 रुपए बोला गया। तुवर लेमन 7000 रुपए बताई गई।

दालें : चना दाल 10200 से 10300, मीडियम 10300 से 10500, बोल्ड 10800 से 11400, मसूर दाल मीडियम 6200 से 6300, बोल्ड 6400 से 6500, तुवर दाल सवा नंबर 8900 से 9200, फूल 9500 से 10700, मूïïंग दाल मीडियम 5200 से 5400, बोल्ड 5500 से 5900, मूंग मोगर 5500 से 5800, बोल्ड 6000 से 6400, उड़द दाल मीडियम 8200 से 8300, बोल्ड 8700 से 9000, उड़द मोगर 9700 से 10000, बोल्ड 10200 से 11000 रुपए।

दलहन : चना काïंटा 8400 से 8450,  देशी 8300, डॉलर चना 10500 से 11000, मसूर 5400, काला मसरा 5450, मीडियम 4800 से 5000, मूंग 5000 से 5100, बोल्ड 4500 से 4600, तुवर निमाड़ी 5500 से 5600, महाराष्ट्र सफेद 6800 से 7000, उड़द 6200 से 6500, मीडियम 5500 रुपए क्विंटल।

market

मावा बाजार
इंदौर 260, रतलाम मावा : सफेद (बर्फी) 240, सफेद (दानेदार) 240 व पीला 230 रुपए किलो।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/mp-business-news/today-s-market-buzz-in-indore-1398322/

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
Assam Jobs / Opportunities / Career
Bihar Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Study Material
Bihar
State Government Schemes
Technology
DATA
Exam Result
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Employment News
Scholorship
Business
Astrology
Syllabus
Festival
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com