Patrika : Leading Hindi News Portal - Political #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Patrika : Leading Hindi News Portal - Political

http://api.patrika.com/rss/political-news 👁 5731

शत्रुघ्न सिन्हा पर भड़के झारखंड के मंत्री, जिस थाली में खाया, उसी में कर रहे छेद


नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में सीएम ममजा बनर्जी की रैली में शत्रुघ्न सिन्हा के शामिल होने को लेकर विवाद थमता नजर नहीं आ रहा है। एक ओर जहां मोदी सरकार ने पार्टी विरोधी गतिविधियों और तीखी बयानबाजी को लेकर भाजपा सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा पर कार्रवाई के संकेत दिए हैं, वहीं झारखंड सरकार में मंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता नेता सीपी सिंह ने शत्रुघ्‍न सिन्‍हा को गद्दार बताया गया है। सीपी सिंह ने कहा कि भाजपा ने शत्रुघ्न सिन्हा को बहुत कुछ दिया, लेकिन वह देश व पार्टी के साथ गद्दारी कर रहे हैं। यही नहीं भाजपा नेता ने इस दौरान पार्टी नेता यशवंत सिंह पर भी निशाना साधा। सीपी ने कहा कि उन्‍होंने जिस थाली में खाया, अब उसी में छेद कर रहे हैं। अब ऐसे लोगों को गद्दार नहीं पुकारा जाएगा तो क्या कहा जाएगा?

आंध्र प्रदेश भाजपा में बगावत के सुर, एक विधायक ने छोड़ी पार्टी और दूसरे को लेकर अटकलें तेज

दरअसल, शत्रुघ्‍न सिन्‍हा न केवल कोलकाता में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली महागठबंधन वाली रैली में शामिल हुए थे, बल्कि उन्होंने भरे मंच से प्रधानमंत्री को तानाशाह तथा खुद को बागी कहा था। भाजपा सांसद की इस हरकत को लेकर पार्टी में घमासान खड़ा हो गया था। यहां तक कि भाजपा प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी ने तुरंत मीडिया को बुलाकर ममता की रैली पर हमला बोला था। इस दौरान भाजपा प्रवक्ता ने शत्रुघ्न सिन्हा पर भी कार्रवाई के संकेत दिए थे। अब माना जा रहा है कि भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह के अस्‍पताल से लौटने के बाद अब भाजपा कोई बड़ा फैसला ले सकती है।

कांग्रेस से निष्‍कासित पूर्व केंद्रीय मंत्री की धमकी, ऐसा पर्दाफाश करूंगा कि मुंह नहीं दिखा पाएंगे राहुल

आपको बता दें कि ममता की रैली में भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने रफाल, नोटबंदी और जीएसटी जैसे मुद्दों को लेकर केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला था। यही नहीं उन्होंने मंच से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तारीफ भी की थी।

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/jharkhand-minister-said-traitor-to-shatrughan-sinha-over-mamata-rally-4011127/

नागरिकता बिल पर बढ़ी भाजपा की मुश्किल, असम में बढ़ते विरोध के साथ जेडीयू ने भी दिखाई आंखें


नई दिल्ली। देश के उत्तर पूर्वी राज्य असम से बीजेपी के लिए अच्छी खबरें नहीं आ रही हैं. नागरिकता संशोधन विधयेक को लेकर बीजेपी से विरोध के स्वर बढ़ने लगे हैं। उधर...सहयोगी दलों ने भी तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। भारतीय जनता पार्टी नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में शामिल जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) राज्यसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध करेगी।


जेडीयू के अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में मुख्यमंत्री आवास में रविवार को जेडीयू के वरिष्ठ पदाधिकारियों की हुई एक बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए पार्टी के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने बताया, 'समाजवादी आंदोलन की विरासत के सवाल हैं, चाहे धारा 377 हो, यूनिफार्म सिविल कोड हो या फिर रामजन्म भूमि विवाद, पार्टी अपने पुराने स्टैंड पर कायम है।' साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि जेडीयू राज्यसभा में असम नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध करेगी।

असम में बढ़ रहा विरोध
विधेयक के खिलाफ असम में विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है। अब तक सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया है। विरोध में कृषक मुक्ति संग्राम समिति (केएमएसएस) और जातियताबंदी युवा छात्र परिषद (एजेवाईसीपी) के प्रदर्शनकारी खुलकर सड़कों पर उतर आए हैं। रविवार को कार्बी आंगलांग जिले में सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने एनएच-36 को कुछ घंटे तक जाम रखा। गोलपाड़ा के दुधोनी में एनएच-37 पर जोगी और कलिता समुदाय के लोगों ने नागरिकता विधेयक की कॉपियां जलाईं।

दूसरी ओर भाजपा विधायक पद्मा हजारिका ने रविवार को कहा कि अवैध प्रवासियों की पहचान और उन्हें उनके वतन वापस भेजने के लिए असम समझौते में तय की गई 24 मार्च 1971 की समय सीमा का सम्मान किया जाना चाहिए और इसमें किसी भी कीमत पर बदलाव नहीं किया जाना चाहिए।

क्या है यह विधेयक
यह विधेयक हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी व ईसाइयों को, जो पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश से बिना वैध यात्रा दस्तावेजों के भारत आए हैं, या जिनके वैध दस्तावेजों की समय सीमा हाल के सालों में खत्म हो गई है, उन्हें भारतीय नागरिकता प्राप्त करने के लिए सक्षम बनाता है। यह विधेयक बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के छह गैर मुस्लिम अल्पसंख्यक समूहों के लोगों को भारतीय नागरिकता हासिल करने में आ रही बाधाओं को दूर करने का प्रावधान करता है।

इसलिए विधेयक पर बवाल
इस विधेयक को लेकर असम में बड़ा बबाल मचा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) की ओर से इसपर लोकसभा में रिपोर्ट पेश किए जाने के तुरंत बाद विधेयक को मंजूरी दे दी। उसके बाद लोकसभा में भी यह विधेयक पारित हो चुका है। राज्यसभा में इसे पास किया जाना बाकी है। शीत सत्र में यह पास तो नहीं हो सका लेकिन आगामी बजट सत्र में इसके पारित होने की संभावना है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/bjp-big-trouble-on-citizenship-amendment-bill-after-assam-jdu-oppose-4010801/

हार्दिक पटेल की शादी में बड़ी अड़चन, जिस मंदिर में रचाना चाहते हैं विवाह वहां पर लगा है बैन


नई दिल्ली। गुजरात में मोदी सरकार को चुनौती देने वाले पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल जल्द ही शादी के बंधन में बंधने जा रहे हैं, लेकिन उनकी शादी में एक बड़ा रोड़ा अटका हुआ है। दरअसल हार्दिक 27 जनवरी को सुरेंद्रनगर जिले में एक सादे समारोह में शादी के बंधन में बंधने जा रहे है हार्दिक के पिता और उनके करीबी ने उनके विवाह की पुष्टि भी की है। हार्दिक के पिता ने बताया हार्दिक किंजल नाम की लड़की से विवाह करने जा रहे हैं। दोनों पिछले कुछ समय से साथ ही हैं।

 

प्रेम विवाह नहीं, परिवार की पसंद
हार्दिक के पिता ने कहा है कि परिवार का मन था कि दोनों का विवाह उज्हा के उमिया धाम में किया जाए। यहां कडवा पाटीदारों के शासनकाल की देवी उमिया का मंदिर है। लेकिन इसमें एक बड़ी समस्या यह है कि कोर्ट की ओर से इस गांव में हार्दिक के प्रवेश पर रोक है। जिसकी वजह से जिस मंदिर में हार्दिक का विवाह करवाना चाहते हैं वहां करवाना मुमकिन नहीं है। हार्दिक पटेल के पिता ने खुलासा किया कि यह प्रेम विवाह नहीं है। शादी का कार्यक्रम परिवार की पसंद और रस्मों के अनुसार आयोजित किया जाएगा।

सादे समारोह में होगा विवाह

25 वर्षीय हार्दिक पटेल किंजल पटेल से विवाह करेंगे। दोनों पिछले कुछ समय से साथ हैं। किंजल जो हार्दिक से एक या दो साल छोटी है, मूल रूप से वीरमगाम निवासी है। हालांकि बाद में परिवार सूरत आ गया। खास बात यह है कि हार्दिक पटेल भी मूल रूप से चंदन नगरी गांव के निवासी है, जो अहमदाबाद जिले के वीरमगाम टाउन में ही स्थित है। मिली जानकारी के मुताबिक दो दिवसीय विवाह समारोह काफी सादा होने वाला है और दोनों परिवारों की तरफ से 50-50 लोगों के आने के संभावना है।

ऐसे आए सुर्खियों में
हार्दिक पटेल के नेतृत्व में पाटीदार समाज पिछले कई वर्षों से आरक्षण की मांग कर रहा है। डीएमडीसी मैदान में हुए एक विरोध प्रदर्शन के दौरान बैठक ने उग्र रूप ले लिया था जिसके बाद हार्दिक पटेल का नाम काफी चर्चा में रहा। उनके खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा भी दर्ज किया जा चुका है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/paas-leader-hardik-patel-can-not-married-at-temple-on-27-january-4010640/

आंध्र प्रदेश भाजपा में बगावत के सुर, एक विधायक ने छोड़ी पार्टी और दूसरे को लेकर अटकलें तेज


नई दिल्ली। 2019 लोकसभा चुनाव में अपना किला बचाने के प्रयास में जुटी भारतीय जनता पार्टी को आंध्र प्रदेश में बड़ा झटका लगा है। यहां भाजपा के चार में से एक विधायक ने पार्टी और विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। यही नहीं चर्चा तो यहां तक है कि आने वाले दिनों पार्टी का एक और विधायक भाजपा को अलविदा कह सकता है। वहीं, राजमहेन्द्रवरम की शहरी विधानसभा सीट से विधायक अकुला सत्यनारायण ने पार्टी को अपना इस्तीफा भेज दिया है। इसके साथ ही उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष कोडेला सिवप्रसाद राव को भी त्यागपत्र दिया है।

कांग्रेस से निष्‍कासित पूर्व केंद्रीय मंत्री की धमकी, ऐसा पर्दाफाश करूंगा कि मुंह नहीं दिखा पाएंगे राहुल

भाजपा के निर्वाचित चार विधायकों में एक थे अकुला

पार्टी छोड़ने के ऐलान के साथ ही अकुला सत्यनारायण ने कहा कि उन्होंने राज्य भाजपा अध्यक्ष कन्ना लक्ष्मी नारायण को भी अपना इस्तीफा सौंप दिया है। इसके बाद अकुला ने मीडिया से भी बातचीत की। हालांकि उन्होंने इस्तीफा देने के किसी कारण की जानकारी नहीं दी। आपको बता दें कि डॉक्टर सत्यनारायण पहली बार 2014 में विधानसभा के लिए चुने गए थे। पेशे से डॉक्टर सत्यनारायण ने बताया कि वह जल्द ही अभिनेता पवन कल्याण की जन सेना पार्टी में शामिल होने का ऐलान कर सकते हैं। सत्यनारायण 2014 में तेदेपा के साथ गठबंधन कर मैदान में उतरी भाजपा के निर्वाचित चार विधायकों में एक थे। अब राज्य में भाजपा के तीन विधायक ही शेष बचे हैं।

आरटीआई में खुलासा: जेल में शशिकला को दिया जा रहा वीआईपी ट्रीटमेंट, मिल रही खास सुविधााएं

सियासी गलियारों में चर्चाओं का दौर शुरू

वहीं, आंध्र प्रदेश में विधायक के इस्तीफे के बाद सियासी गलियारों में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। चर्चा तो यहां तक भी है कि विशाखापतनम उत्तर से भाजपा के एक और विधायक पी विष्णु कुमार राजू भी पार्टी से इस्तीफा दे सकते हैं।

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/andhra-pradesh-bjp-one-mla-akula-satyanarayana-resigns-from-party-4010628/

कांग्रेस से निष्‍कासित पूर्व केंद्रीय मंत्री की धमकी, ऐसा पर्दाफाश करूंगा कि मुंह नहीं दिखा पाएंगे राहुल


नई दिल्ली। ओडिशा कांग्रेस हाल ही निष्कासित किए गए पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीकांत जेन ने कांग्रेस नेतृत्व पर हमला बोला है। जेना ने रविवार को कहा है कि वह राहुल गांधी के बारे में ऐसा खुलासा करेंगे कि फिर वह जनता को अपना मुंह नहीं दिखा पाएंगे। आपको बता दें कि कांग्रेस ने जेना और कोरापुट के पूर्व विधायक कृष्णचंद्र सागरिया को पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में बाहर का रास्ता दिखा दिया था। यही नही कांग्रेस ने उनको पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया था।

आरटीआई में खुलासा: जेल में शशिकला को दिया जा रहा वीआईपी ट्रीटमेंट, मिल रही खास सुविधााएं

लोगों को अपना चेहरा नहीं दिखा पाएंगे राहुल गांधी

कांग्रेस द्वारा की गई कार्रवाई के बाद जेना ने मीडिया से कहा कहा कि उन्हे लगता है कि राहुल गांधी 25 जनवरी को ओडिशा के दौरे पर आएंगे। तभी वह कांग्रेस अध्यक्ष का ऐसा पर्दाफाश करेंगे कि वह उसके बाद लोगों को अपना चेहरा नहीं दिखा पाएंगे। कांग्रेस की कार्रवाई से खफा जेना ने यह भी कहा कि राहुल गांधी ने अब साफ कर दिया है कि वह खनन माफिया के साथ खड़े हैं।

हॉस्पिटल से छुट्टी मिलते ही अमित शाह ने किया ट्वीट, 'शुभकामनाओं के लिए आभारी हूं'

खनिजों से लूट खसोट कर संपत्ति इकट्ठा नहीं की

पूर्व कांग्रेस नेता ने यह भी आरोप लगाया कि राहुल गांधी ने यह फैसला किया था ओडिशा के मुख्यमत्री नवीन पटनायक होने चाहिएं। इसलिए उन्होंने बीजद के अध्यक्ष नवीन पटनायक के साथ ‘महागठबंधन’ का ऐलान किया। कांग्रेस के आरोपों पर बोलते हुए जेना ने कहा कि वह कभी भी पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त नहीं रहे। लेकिन कांग्रेस में वह फिट नहीं बैठते क्योंकि उन्होंने खनिजों से लूट खसोट कर संपत्ति इकट्ठा नहीं की। आपको बता दें कि एक दिन पहले ही कांग्रेस ने पार्टी विरोधी बयानबाजी और गतिविधियों में शामिल होने के चलते राज्य कांग्रेस के दो नेताओं को पार्टी से निष्कासित कर दिया था।

 

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/odisha-srikant-jena-claims-to-explosive-secret-of-rahul-gandhi-4010526/

पीएम मोदी का वार, अगड़ी जाति के आरक्षण ने उड़ाई विपक्ष की नींद


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सामान्य वर्ग में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को शिक्षा और नौकरियों में 10 प्रतिशत आरक्षण प्रदान करने पर विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए रविवार को कहा कि सरकार के इस फैसले विपक्षी दलों के लोगों की रातों की नींद उड़ गई है। विपक्ष का आरोप है कि सरकार यह फैसला राजनीति से प्रेरित है और इसका मकसद अगले लोकसभा चुनाव में अगड़ी जातियों का वोट बटोरना है।

आरटीआई में खुलासा: जेल में शशिकला को दिया जा रहा वीआईपी ट्रीटमेंट, मिल रही खास सुविधााएं

प्रधानमंत्री ने इसे अतार्किक बताते हुए महाराष्ट्र के हटकांगले, कोल्हापुर, माढ़ा, सतारा और गोवा के दक्षिण गोवा लोकसभा संसदीय क्षेत्र के बूथ स्तर के भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा कि फैसले से विपक्षी दलों की रातों की नींद उड़ गई है। उन्होंने कहा कि वे झूठ और अफवाह फैला रहे हैं। मोदी ने कहा कि अगर हमारे फैसले में ताकत कम होती तो उनकी (विपक्षी दलों) की नींद नहीं उड़ती। अब वे झूठ और अफवाह फैला रहे हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रहित में ऐतिहासिक फैसला लिया गया।

हॉस्पिटल से छुट्टी मिलते ही अमित शाह ने किया ट्वीट, 'शुभकामनाओं के लिए आभारी हूं'

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार सबका साथ, सबका विकास में विश्वास करती है। पहली बार ऐसा फैसला लिया गया। उन्होंने (विपक्षी दल) सामाजिक न्याय के लिए कुछ नहीं किया और जब मैंने किया तो वे सो रहे थे। विधेयक 48 घंटे में पास (संसद में) पास हुआ। उन्होंने जोर देकर कहा कि फैसला राजनीति से ऊपर उठकर लिया गया, जोकि संविधान में संशोधन के बिना संभव नहीं था।

गुजरात: मां से मिलने घर पहुंचे पीएम मोदी, परिवार के सदस्यों के साथ बिताया समय

प्रधानमंत्री ने कहा कि एससी/एसटी और ओबीसी के लिए मौजूदा आरक्षण को बाधित नहीं किया जाएगा। हम शैक्षणिक संस्थानों में 10 फीसदी सीटें बढ़ा रहे हैं। इससे अवसर के नए दरवाजे खुलेंगे। समाज के बड़े वर्ग को न्याय मिलेगा। उन्होंने पार्टी के काडर से विपक्ष के आरोप का प्रतिकार आक्रामक ढंग से करने की अपील की।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/pm-modi-says-reservation-of-upper-caste-disturb-opposition-s-sleep-4010383/

आरटीआई में खुलासा: जेल में शशिकला को दिया जा रहा वीआईपी ट्रीटमेंट, मिल रही खास सुविधााएं


नई दिल्ली। भ्रष्टाचार के मामले में सजा काट रही अन्नाद्रमुक नेता वी.के. शशिकला को बेंगलुरू के केंद्रीय कारा में उनकी पंसद की सुविधाएं दी जा रही हैं। इस बात का खुलासा एक जांच रिपोर्ट में हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार, शशिकला को खासतौर से तैयार भोजन और विशेष सेल की सुविधा दी जाती है। सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी विनय कुमार की अध्यक्षता वाली समिति की जांच रिपोर्ट में कहा गया कि साक्ष्यों से स्पष्ट संकेत मिला है कि शशिकला को उपलब्ध कराए गए पांच सेलों में भोजन तैयार करने के कुछ कार्यकलाप चलते हैं।

यह खबर भी पढ़ें— हॉस्पिटल से छुट्टी मिलते ही अमित शाह ने किया ट्वीट, 'शुभकामनाओं के लिए आभारी हूं'

कर्नाटक सरकार को वर्ष 2017 में सौंपी गई रिपोर्ट

रिपोर्ट हालांकि कर्नाटक सरकार को कथित तौर पर वर्ष 2017 में सौंपी गई थी, लेकिन इसे सार्वजनिक अब किया गया है। कर्नाटक की महिला आईपीएस अधिकारी डी. रूपा मुदगिल ने 2017 में एक रिपोर्ट में सबसे पहले इस बात का खुलासा किया था। वह उस समय पुलिस महानिदेश (कारा) थीं। मुदगिल ने बताया कि मेरी रिपोर्ट सरकार द्वारा स्वीकार नहीं की गई और मेरा तबादला कर दिया गया। विनय कुमार की अध्यक्ष वाली समिति की जांच रिपोर्ट मेरी रिपोर्ट के अनुरूप है।

यह खबर भी पढ़ें— गुजरात: मां से मिलने घर पहुंचे पीएम मोदी, परिवार के सदस्यों के साथ बिताया समय

फरवरी 2017 से चार साल की सजा काट रही शशिकला

शशिकला को भ्रष्टाचार के एक मामले में बेंगलुरू की एक निचली अदातल द्वारा 2015 अभियुक्त करार देने के फैसले को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा बरकरार रखे जाने के बाद फरवरी 2017 से वह चार साल की सजा काट रही हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/rti-report-says-vip-treatment-being-given-to-sasikala-in-jail-4010354/

राहुल गांधी का केंद्र पर बड़ा हमला, लोगों को 100 दिन में मोदी सरकार से मुक्ति मिल जाएगी


नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला। राहुल गांधी ने ट्वीट कर रविवार मोदी सरकार पर पर तीखा हमला बोला। राहुल ने कहा कि देश अगले 100 दिनों में उनके अत्याचार और अक्षमता से मुक्त हो जाएगा। राहुल ने कहा, "महाराज, ये चीखें हैं लाखों बेरोजगार युवाओं की, परेशान किसानों की, उत्पीड़ित दलितों और आदिवासियों की, सताए अल्पसंख्यकों की, छोटे बर्बाद हो चुके कारोबारियों की, सभी आपके अत्याचार और आपकी अक्षमता से मुक्ति की गुहार लगा रहे हैं।"राहुल ने ट्वीट किया, "100 दिनों में वे सभी मुक्त हो जाएंगे।"

मोदी ने गठबंधन पर साधा था निशाना

गौरतलब है कि मोदी ने कहा था कि महागठबंधन भ्रष्ट, नकारात्मकता और अस्थिरता का एक गठजोड़ है। इसके जवाब में राहुल ने यह ट्वीट किया है। मोदी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी द्वारा शनिवार को कोलकाता में आयोजित एक महारैली में जुटे 23 दलों का जिक्र करते हुए कहा था, "आज पूरा विपक्ष एक साथ आ गया है और बचाओ, बचाओ, बचाओ चिल्ला रहा है।"


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/rahul-gandhi-attacks-on-modi-government-over-45-years-governance-updat-4009691/

जम्मू-कश्मीर में जल्द हो सकते हैं विधानसभा चुनाव, भाजपा भी मतदान के पक्ष में


जम्मू: भारतीय जनता पार्टी भाजपा के महासचिव राम माधव ने रविवार को उन खबरों को खारिज कर दिया, जिनमें कहा गया था कि उनकी पार्टी जम्मू एवं कश्मीर में जल्द विधानसभा चुनाव कराने के खिलाफ है। माधव ने यहां मीडिया से बातचीत में कहा, "फैलाई जा रही उन अफवाहों में कोई सच्चाई नहीं है, जिनमें कहा जा रहा है कि भाजपा जल्द विधानसभा चुनाव के पक्ष में नहीं है।" उन्होंने कहा, "हमारी पार्टी ज्यादा संभावना है कि विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी, लेकिन हम बाद में कुछ मित्रों की मदद से राज्य में एक स्थिर सरकार बनाएंगे।"

भाजपा अकले लड़ेगी चुनाव

माधव ने कहा, "हम राज्य की सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारेंगे। चुनाव पूर्व किसी पार्टी के साथ गठबंधन की संभावना नहीं है।" उन्होंने कहा, "मुझे भरोसा है कि भाजपा चुनाव बाद सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरेगी।" माधव ने कहा कि राज्य में विशेष परिस्थितियों के कारण भाजपा जम्मू एवं कश्मीर में सरकार गठन के लिए दूसरे दलों से हाथ मिलाने में गुरेज नहीं करेगी।

पीएम चुनाव प्रचार की शुरुआत करेंगे

वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव बाद पीडीपी के साथ अपनी पार्टी के गठबंधन के बारे में माधव ने कहा, "2014 के चुनाव बाद हमने एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम के आधार पर पीडीपी के साथ गठबंधन बनाया था।"प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तीन फरवरी को हुए जम्मू, लद्दाख और कश्मीर घाटी के पिछले दौरे का जिक्र करते हुए भाजपा महासचिव ने कहा कि मोदी राज्य में लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के प्रचार अभियान का शुभारंभ करेंगे।उन्होंने कहा, "भाजपा राज्य में विधानसभा चुनाव के लिए तैयार है। यह निर्वाचन आयोग को तय करना है कि दोनों चुनाव एकसाथ हों, या अलग-अलग।"


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/jammu-kashmir-assembly-elections-soon-bjp-not-against-political-update-4009452/

रामविलास पासवान का दावा, सवर्णों को आरक्षण देने से 2019 में 10 फीसदी तक बढ़ेगा वोट शेयर


नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार ने जिस वक्त गरीब सवर्णों के लिए 10 फीसदी आरक्षण का ऐलान किया था, उसी वक्त तमाम राजनीतिक पंडितों ने इसे पॉलिटिकल स्टंट बताया था। ये साफ था कि मोदी सरकार ने इस ऐलान के जरिए 2019 के लोकसभा चुनाव को साधने की कोशिश की है। इस ऐलान के कुछ दिन के भीतर ही एनडीए के सहयोगी रामविलास पासवान ने ये दावा किया है कि 10 फीसदी आरक्षण के कदम से बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंधन का वोट शेयर 10 प्रतिशत तक बढ़ेगा, जिससे नरेंद्र मोदी के फिर से पीएम बनने का रास्ता साफ होगा।

10 फीसदी तक बढ़ेगा 2019 में वोट शेयर

रामविलास पासवान ने केंद्र सरकार के इस ऐलान की वजह से 2019 के लोकसभा चुनाव में एनडीए की जीत का दावा किया है। उन्होंने कहा है कि 2019 में एक बार फिर से नरेंद्र मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने का रास्ता साफ होगा। इतना ही नहीं जनता महागठबंधन को सिरे से खारिज करेगी।

मोदी जी के तरकश में अभी बहुत तीर हैं

रामविलास पासवान ने कहा कि बीजेपी ने हाल ही के विधानसभा चुनावों में हुई हार से सबक सिखा है, इसीलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के तरकश में अभी कई सारे तीरे हैं, जिन्हें छोड़ा जाएगा।

एक के बाद एक तीर चलाएंगे पीएम मोदी!

पासवान ने आगामी लोकसभा चुनाव पर कहा, 'चुनावों के लिए कुछ ही महीने बचे हैं। सरकार एक के बाद एक तीर चलाएगी। लोगों के दिमाग में सबसे ज्यादा यह चल रहा होगा कि प्रधानमंत्री के रूप में विपक्ष की पसंद कौन होगा। अगली सरकार स्थिर होगी या अस्थायी। लोग कमजोर, अस्थिर सरकार के बजाय मजबूत और स्थिर सरकार को प्राथमिकता देंगे जिससे मोदी की जीत होगी।' उन्होंने कहा, 'मैं आपको बता दूं कि यह 10 प्रतिशत कोटा हमारे वोट शेयर में 10 प्रतिशत की वृद्धि करेगा।'


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/ram-vilas-paswan-says-nda-vote-share-10-percent-hike-in-2019-election-cause-of-upper-cast-reservation-4009406/

2019 में मोदी सरकार नहीं बनी तो देश में फैल जाएगी अराजकता: प्रकाश जावड़ेकर


नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने एक बड़ा बयान दिया है। दरअसल आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि यदि 2019 में मोदी सरकार नहीं बनी तो देश में अराजकता फैल जाएगी। बता दें कि रविवार को पुणे में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान ये बातें कही। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में पीएम मोदी का कोई विकल्प नहीं है। इसलिए यदि 2019 में यदि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे तो देश में अराजकता फैल जाएगी।

भाजपा के त्रिदेव पर मंत्री पचौरी का पलटवार, इसलिए पार्टी के विपरीत दे रहे हैं बयान

विपक्ष के पास पीएम मोदी का विकल्प नहीं: जावड़ेकर

बता दें कि प्रकाश जावड़ेकर ने अपने संबोधन में विपक्षी दलों पर जमकर हमला बोला। शनिवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर से बुलाए युनाइटेड इंडिया रैली पर निशाना साधते हुए कहा कि आने वाले लोकसभा चुनाव 'लोग मजबूत या मजबूर सरकार चाहते हैं'। उन्होंने कहा कि शनिवार की रैली को देखकर ऐसा ही लगता है कि सभी विपक्षी दल मिलकर केवल पीएम मोदी को हटाना चाहते हैं, उनके पास देश के विकास का कोई विजन नहीं है। उनलोगों के पास पीएम मोदी का कोई विकल्प ही नहीं है। प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि विपक्षी दल विकल्प प्रस्तुत नहीं कर सकते हैं। ऐसे में यदि मोदी सरकार 2019 में नहीं होगी तो फिर देश में अराजकता ही फैलेगा। बता दें कि अपने संबोधन में प्रकाश जावड़ेकर ने कई उदाहरण देते हुए कहा कि इंद्रकुमार गुजराल, चंद्रशेखर और एच.डी देवगौड़ा की गठबंधन सरकारें भी बनी और देश की जनता ने उस ‘कमजोर सरकारों’ को झेला है। लेकिन जनता नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली ‘मजबूत और नीति आधारित सरकार’ के फायदे देख चुकी है। इसलिए लोग एक मजबूत सरकार चाहते हैं, मजबूर सरकार नहीं।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/if-the-modi-government-is-not-formed-in-2019-then-the-chaos-will-spread-in-the-country-prakash-javadekar-4009395/

पार्टी छोड़ने वाले नेताओं को केजरीवाल ने बताया 'गंदगी', कहा- अच्छा हुआ साफ हो गई


चंडीगढ़। आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आम आदमी पार्टी ने रविवार से चुनाव प्रचार की शुरुआत कर दी। आप संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को पंजाब के बरनाला में सभा कर चुनाव प्रचार का आगाज किया। अरविंद केजरीवाल ने सभा में ऐलान किया कि आम आदमी पार्टी सभी 13 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

पार्टी छोड़ने वाले नेताओं को केजरीवाल ने बताया 'गंदगी'

रैली में अरविंद केजरीवाल ने उन नेताओं पर भी चुप्पी तोड़ी, जिन्होंने हाल ही में पार्टी को छोड़ा है। पार्टी छोड़कर जाने वाले नेताओं को लेकर केजरीवाल ने कहा कि 'गंदे लोगों' ने पार्टी छोड़ दी है, अब पार्टी एकजुट है। बरनाला में रैली को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा, "आप को तोड़ने की कोशिशें होती रही हैं। मैं आप लोगों से कहता हूं कि आप हमेशा की तरह मजबूत है। सिर्फ गंदे लोगों ने पार्टी छोड़ी है। आप एकजुट और मजबूत है।"

केजरीवाल ने की भगवंत मान की तारीफ

इस दौरान केजरीवाल ने संगरूर से आप के सांसद भगवंत मान की तारीफ की। केजरीवाल ने कहा कि भगवंत मान व अन्य लोग पंजाब में पार्टी का परचम लहरा रहे हैं और आने वाले लोकसभा चुनाव में पार्टी मजबूती से उतरेगी।

गठबंधन से केजरीवाल का इनकार

इसके अलावा केजरीवाल ने आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस से गठबंधन पर बोलते हुए कहा कि हम किसी भी पार्टी से किसी तरह का कोई गठबंधन नहीं कर रहे हैं। आम आदमी पार्टी सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी और जीत भी हासिल करेगी।

हाल ही में इन नेताओं ने छोड़ी है AAP

पंजाब के अंदर हाल फिलाहल में आम आदमी पार्टी के कई नेताओं ने पार्टी छोड़ी है, जिसमें एचएस फुल्का एक बड़ा नाम हैं। एचएस फुल्का ने जनवरी के पहले हफ्ते में पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने आप को सिख विरोधी बताते हुए इस्तीफा दिया था। आपको बता दें कि एचएस फुल्का 1984 सिख विरोधी दंगा पीड़ितों के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं। फुल्का के अलावा पार्टी छोड़ने वाले नेताओं में विधायक सुखपाल सिंह खैहरा का भी नाम शामिल है, जिन्होंने फुल्का के बाद पार्टी से इस्तीफा दिया।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/arvind-kejriwal-first-time-react-on-which-leader-quit-party-4008868/

जम्मू एवं कश्मीर में पिछले 4 साल में सबसे ज्यादा आतंकी 2018 में मारे गए


नई दिल्ली: जम्मू एवं कश्मीर में साल 2018 में सुरक्षा बलों के हाथों 257 आतंकवादी मारे गए। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, यह संख्या बीते चार साल में सबसे ज्यादा है। साल 2017 में 213, 2016 में 150 और 2015 में 108 आतंकवादी मारे गए । आतंकरोधी अभियानों में 31 अगस्त तक कुल 142 आतंकवादी मारे गए। बाकी बाद के चार महीनों में मौत के घाट उतारे गए। एक अधिकारी ने कहा कि अगस्त के महीने में 25 आतंकवादी ढेर हुए। यह संख्या साल 2018 के किसी महीने में सर्वाधिक है। साल 2018 में 105 आतंकवादी गिरफ्तार हुए और 11 ने आत्मसमर्पण किया। 2017 में 97, 2016 में 79 और 2015 में 67 आतंकी गिरफ्तार हुए थे।

बड़ी मात्रा में हथियार जब्त

सुरक्षा बल 2018 में अधिक आतंकवादियों का आत्मसमर्पण कराने में सफल रहे। यह संख्या 2017 की तुलना में छह गुना अधिक रही। 2017 में केवल दो और 2016 में एक ने ही आत्मसमर्पण किया था। 2015 में किसी आतंकी ने आत्मसमर्पण नहीं किया था। आंकड़ों से यह भी पता चला कि साल 2018 में हिंसक घटनाएं भी चरम पर रहीं। यह साल 2017 की 279 घटनाओं की तुलना में करीब डेढ़ गुना अधिक रहीं। सुरक्षा बलों ने 2018 में 153 एके राइफलें जब्त कीं। न्यूज एजेंसी को मिले आंकड़ों के मुताबिक, 2017 में 213 एके राइफल जब्त की गईं थीं। जम्मू एवं कश्मीर में आंतरिक सुरक्षा में तैनात एक अधिकारी ने कहा कि एके-47 असॉल्ट राइफल आतंकियों का पसंदीदा हथियार है।

300 से ज्यादा आतंकी सक्रिय

एक न्यूज एजेंसी को अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि कश्मीर घाटी में अभी तीन सौ से अधिक आतंकी सक्रिय हैं जिनमें विदेशी आतंकी भी शामिल हैं। इनकी सक्रियता विशेष रूप से दक्षिण कश्मीर में है जिसे आतंकवाद का गढ़ माना जाता है। अधिकारी ने कहा कि ये आतंकी घाटी के युवाओं को गुमराह कर उन्हें हथियार उठाने के लिए प्रेरित करते रहते हैं। आतंकी सोशल मीडिया पर युवाओं के विचारों पर नजर रखते हैं और जिन युवाओं के विचारों में उन्हें अपने अनुरूप 'संभावना' नजर आती है, उनसे संपर्क साधते हैं। एक अन्य अधिकारी ने कहा कि राज्य में महबूबा मुफ्ती के नेतृत्व वाली सरकार से भाजपा द्वारा समर्थन वापस लेने के बाद 19 जून को राज्यपाल शासन लगने के बाद से सुरक्षा के हालात काफी बेहतर हुए हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/jammu-and-kashmir-maximum-terrorist-killed-in-2018-updates-4008666/

सीएम अमरिंदर पर केजरीवाल का तीखा वार, कहा- स्कूल, अस्पताल नहीं चला पाने वाले को सत्ता में रहने का हक नहीं


नई दिल्ली। आम चुनाव का समय करीब है और सियासी आरोप के साथ-साथ विपक्षी दलों पर तीखे हमलों को दौर भी शुरु हो गया है। इसी कड़ी में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर पर जमकर हमला बोला है। दरअसल सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों को कथित रूप से निजी क्षेत्र को सौंपने पर केजरीवाल पंजाब की कांग्रेस सरकार पर रविवार को जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि जो सरकार अपने स्कूल और अस्पतालों को न चला सके, उसे सत्ता में बने रहने का कोई हक नहीं है। केजरीवाल ने ट्वीट किया, "पंजाब सरकार सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों को निजी क्षेत्र को सौंप रही है? एक ऐसी सरकार, जो अपने ही स्कूल और अस्पतालों को चला न सके, उसके सत्ता में बने रहने का कोई कारण नहीं है।"

 


आपको बता दें कि केजरीवाल ने समाचार पत्रों में प्रकाशित पंजाब स्वास्थ्य विभाग के एक सार्वजनिक नोटिस को साझा किया जिसमें कहा गया है, "सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (सीएचसी) और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (पीएचसी) को सार्वजनिक-निजी साझेदारी (पीपीपी मोड) में चलाने के लिए एक्सप्रेशन आफ इंटेरेस्ट।" नोटिस में आगे कहा गया है कि राज्य सरकार ने शहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों व ग्रामीण इलाकों में सीएचसी और पीएचसी की स्थापना की है। इसमें कहा गया है, "इनके भवनों का निर्माण हो चुका है। विभाग इन स्वास्थ्य संस्थानों को पीपीपी मोड में चलाने के लिए निजी क्षेत्र को आमंत्रित कर रहा है।" बता दें कि यह कोई पहला मौका नहीं है जब केजरीवाल ने कांग्रेस पर हमला बोला है। इससे पहले दिल्ली में गठबंधन नहीं बनने को लेकर भी दोनों आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने जमकर एक-दूसरे पर आरोप लगाया है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/kejriwal-s-tardy-war-on-cm-amarinder-said-the-man-who-dont-know-how-to-run-school-and-hospital-does-not-have-the-right-to-stay-in-government-4008538/

ममता बनर्जी ने BJP को दिया दूसरा बड़ा झटका, अमित शाह के हेलीकॉप्टर को मालदा में उतरने की नहीं मिली इजाजत


कोलकाता। बीते दिनों पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने एक महारैली आयोजित कर भाजपा की नींद उड़ा दी और अब ममता सरकार ने भाजपा को एक ओर बड़ा झटका दिया है। दरअसल आगामी 22 जनवरी को मालदा में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह एक विशाल रैली करने वाले हैं। लेकिन उससे पहले ममता सरकार ने अमित शाह के हेलीकॉप्टर को उतरने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है। इसके बाद से एक बार फिर से सियासत गरमा गई है। बता दें कि भाजपा ने सुप्रीम कोर्ट से अनुमति नहीं मिलने के बाद से रथयात्रा की रणनीति को बदलते हुए राज्य में पांच रैलियों को नया खाका तैयार किया था। पहली रैली मालदा में 20 जनवरी को होने वाली थी, लेकिन पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की खराब तबीयत के कारण अब यह रैली 22 जनवरी को होने वाली है। मालूम हो कि ममता सरकार के इनकार करने के बाद से भाजपा नेताओं ने बीएसएफ को पत्र लिखकर उनके हेलिपैड को इस्तेमाल करने की अनुमति मांगी है। यह हेलिपैड भारत-बांग्लादेश सीमा पर मालदा जिले में ही है।

 

कर्नाटक जोड़-तोड़ पर बोले कुमारस्वामी, अगर चाहूं तो 48 घंटे में तोड़ सकता हूं बीजेपी विधायक

जिला प्रशासन ने कहा हवाई अड्डे पर चल रहा है काम

आपको बता दें कि भाजपा की ओर से 22 जनवरी को मालदा में एक बड़ी रैली आयोजित की गई है। इसका नेतृत्व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह करेंगे। इस संबंध में भाजपा ने जिला प्रशासन से अनुमति मांगी गई। इसके जवाब में अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट ने लिखा है कि मालदा डिवीजन के कार्यकारी अभियंता, पीडब्ल्यूडी (सिविल) की रिपोर्ट के मुताबिक मालदा हवाई अड्डे पर काम चल रहा है। इसके कारण हवाई अड्डे के पास काफी मात्रा में रेत जमा हो गई है। रनवे के आरो ओर निर्माण सामाग्री बिखरी पड़ी है। इसलिए अस्थाई तौर पर भी हेलिपैड का निर्माण संभव नहीं है। प्रशासन ने कहा कि मालदा हवाई अड्डा हेलीकॉप्टर की लैंडिंग के लिए सुरक्षित नहीं है। लिहाजा हम अनुमति नहीं दे सकते हैं। हालांकि एक मीडिया रिपोर्ट से साफ पता चलता है कि जिला प्रशासन के दावे से ठीक उलट मालदा हवाई अड्डे की स्थिति है। मौजूदा समय में मालदा हवाई अड्डा बिलकुल साफ-सुथरी है। यहां पर फिलहाल हवाई सेवाएं नियमित है। हालांकि अब यह कहना मुश्किल है कि जिला प्रशासन के अधिकारियों ने इस तरह की कहानी क्यों बनाई है।

इतिहासकार रामचंद्र गुहा बोले, गांधी के बाद नेहरू-पटेल ने मिलकर भारत का निर्माण किया

इससे पहले ममता सरकार ने भाजपा की रथ यात्रा को कहा था नो एंट्री

आपको बता दें कि इससे पहले ममता सरकार ने भाजपा की ओर से किए जाने वाले रथ यात्रा को ना कर दिया था। इसके खिलाफ जब भाजपा कोर्ट पहुंची तो निचली अदालत ने भाजपा को रथ यात्रा के लिए हरी झंड़ी दे दी थी। लेकिन ममता सरकार इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची। बता दें कि बीते दिनों ही सुप्रीम कोर्ट ने भाजपा को एक नया रोड़ मैप पेश करने के लिए कहा। कोर्ट ने कहा कि रथ यात्रा के लिए पहले एक नया रोड मैप पेश कीजिए उसके बाद इसपर निर्णय लिया जाएगा। बता दें कि ममता सरकार की ओर से भाजपा को रोकने के लिए जो तमाम उपाय किए जा रहे हैं उसको लेकर भाजपा ने नाखुशी जताई है। भाजपा ने कहा है कि ममता सरकार ने बंगाल में लोकतंत्र को मिटा दिया है। भाजपा ने आरोप लगाया कि ममता सरकार बीजेपी से डर गई है। इसलिए राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को रैली नहीं करने देना चाहती है।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/mamta-banerjee-s-second-blow-to-bjp-amit-shah-s-helicopter-not-allowed-to-land-in-malda-4008308/

VHP के आलोक कुमार का यू-टर्न, हम नहीं सोच रहे कांग्रेस को समर्थन देने की


नई दिल्ली। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार अपने बयान पर यू-टर्न लेते हुए नजर आए हैं। दरअसल, रविवार सुबह उनका बयान आया था कि अगर कांग्रेस पार्टी अपने घोषणापत्र में राम मंदिर को शामिल करे तो वीएचपी समर्थन पर विचार कर सकती है, लेकिन अब आलोक कुमार का कहना है कि मेरे बयान को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है।

आलोक कुमार का बयान से यू-टर्न

आलोक कुमार के बयान पर विवाद होने के बाद उन्होंने एक न्यूज एजेंसी से कहा है कि यह और कुछ नहीं, बल्कि मेरे बयान को खींचकर बढ़ा देना है, न तो हम कांग्रेस को समर्थन देने पर विचार कर रहे हैं और न ही भविष्य में ऐसा करेंगे। आलोक कुमार ने कहा कि विश्व हिंदू परिषद राम मंदिर मुद्दे पर एक 'व्यापक राजनैतिक सहमति' चाहती है।

'जो पार्टी राम मंदिर निर्माण का समर्थन करेगी, उसका स्वागत है'

आलोक कुमार ने कहा कि हम चाहते हैं कि राजनीतिक दल राम मंदिर मुद्दे का सियासत के लिए उपयोग ना करें, बल्कि इसका समर्थन करें और जो पार्टी राम मंदिर निर्माण का समर्थन करेगी, हम उसका स्वागत करेंगे।

पहले क्या कहा था आलोक कुमार ने ?

आपको बता दें कि रविवार सुबह आलोक कुमार ने कहा था कि कांग्रेस अगर अपने घोषणा-पत्र में राम मंदिर निर्माण को शामिल कर ले तो उनका संगठन कांग्रेस को लोकसभा चुनाव में समर्थन देने पर विचार कर सकता है, लेकिन कुछ घंटों बाद ही वो अपने बयान से पलट गए।

संसद पर कानून के आसार कम

आलोक कुमार ने कहा कि इस बात के आसार बहुत कम हैं कि मौजूदा संसद के कार्यकाल में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए कोई कानून बनाया जा सकेगा।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/vhp-executive-chairman-alok-kumar-u-turn-he-says-we-are-not-thinking-to-support-the-congress-4007853/

पीएम मोदी का तंज, ये गठबंधन अनोखा बंधन और अद्भुत संगम है


नई दिल्ली। लगातार उठते सवालों के बाद भी चुपी साधे प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को विपक्ष को करारा जवाब दिया। पीएम ने तंज कसते हुए विपक्ष पर जोदार हमला बोला। उन्होंने कहा कि विपक्ष के लोगों ने चुनाव से पहले ही हार के बहाने खोज लिए हैं। यह लोग अभी से ईवीएम पर सवाल उठाने लगे हैं। वहीं, शनिवार को कोलकाता में सीएम ममता बनर्जी के अगुवाई में आयोजित संयुक्त भारत रैली में एकजुट हुए विपक्षी दलों पर भी पीएम ने जमकर निशाना साधा।

यह भी पढ़ें-दिल्ली में बारिश व ओले के आसार, रविवार वायु प्रदूषण का सबसे खराब दिन

जनता से पूछा कौन सा गठबंधन अच्छा

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'उन्होंने ने भी गठबंधन किया था और हमने भी किया है। उन्होंने कई दलों के साथ गठबंधन किया है और हमने देश की सवा सौ करोड़ जनता से किया है। अब देश की जनता बताए की कौन सा गठबंधन ज्यादा बढ़िया है।' बता दें कि यह बातें पीएम मोदी ने मुंबई में कोल्हापुर के बूथ वर्कर्स से टेली कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत के दौरान कहीं। उन्होंने ईवीएम को लेकर कहा कि विपक्ष को चुनाव से पहले ही अपनी हार दिख रही है। यही वजह है कि वे अभी से ईवीएम को विलन बताने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव में किसी राजनीतिक दल का जीतना स्वाभाविक है, लेकिन जब जनता कुछ राजनीतिक दलों को अपनी पसंद से चुनती है तो और दल परेशान हो जाते हैं। ऐसे लोग जनता को मुर्ख समझते हैं।

उनके पास धनशक्ति है और हमारे पास जनशक्ति

वहीं, ममता का संयुक्त भारत रैली पर बोलते हुए पीएम ने कहा, 'मंच पर मौजूद नेताओं में ज्यादातर लोग किसी बड़े नेता के बेटे थे। उनमें से कुछ ऐसे भी थे जो अपने बेटे-बेटी को सेट करने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि उनके पास धनशक्ति है और हमारे पास जनशक्ति है।'महागठबंधन पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि ये गठबंधन एक अनोखा बंधन है। ये अनोखा बंधन तो नामदारों का है, ये बंधन भाई-भतीजावाद, भ्रष्टाचार, घोटालों, नकारात्मकता और असमानता का गठबंधन है। ये एक अद्भुत संगम है।'

ये गठबंधन अद्भुत संगम

इस दौरान ममता की रैली पर सवाल उठाते हुए कहा, 'वहां मंच पर मौजूद नेताओं में ज्यादातर लोग किसी बड़े नेता के बेटे थे। कुछ ऐसे भी थे जो अपने बेटे-बेटी को सेट करने में लगे हैं। उनके पास धनशक्ति है और हमारे पास जनशक्ति है।' महागठबंधन पर तंज कसते हुए मोदी ने कहा, 'ये गठबंधन एक अनोखा बंधन है। ये बंधन तो नामदारों का बंधन है। ये बंधन तो भाई-भतीजावाद, भ्रष्टाचार, घोटालों, नकारात्मकता और असमानता का गठबंधन है। ये एक अद्भुत संगम है।'


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/pm-narendra-modi-attack-on-opposition-says-this-alliance-is-unique-wonderful-confluence-4007688/

राम माधव का कांग्रेस पर बड़ा हमला, अगर ईवीएम 'चोर' थी तो तीन राज्यों में कैसे जीत हो गई


नई दिल्ली: भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने फारूक अब्दुल्ला के बयान पर सफाई देने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि वो फारूक अब्दुल्ला के बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देना चाहते। हालांकि उन्होंने कांग्रेस नेतृत्व से सवाल किया कि वो सहमत है कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में क्या ईवीएम 'चोर' थी, जहां कांग्रेस ने जीत दर्ज की है। पहला जवाब है, चलो देखते हैं। गौरतलब है कि फारूक अब्दुल्ला ने ईवीएम चोर है बताया था।

गणतंत्र दिवस का सम्मान होना जरूरी

गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में सरकारी अधिकारियों को शामिल होने के लिए राज्य सरकार द्वारा सर्कुलर जारी करने पर एक न्यूज एजेंसी की ओर से पूछे गए सवाल पर राम माधव ने कहा कि विपक्ष इसे स्वीकार नहीं कर सकता। माधव ने कहा कि अगर आप सरकार का हिस्सा हो तो आपको गणतंत्र दिवस कार्यक्रम का सम्मान करना चाहिए। यह प्रत्येक भारतीय के लिए गौरव का विषय है। उन्होंने कहा कि हम गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। अगर कुछ अधिकारी इसका विरोध करते हैं, यह गंभीर विषय है। मुझे विश्वास है कि राज्य प्रशासन इस पर कदम उठाएगा।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/if-evms-were-chor-then-congress-how-can-win-three-states-ram-madhav-4007406/

एक कांग्रेस नेता ने आलाकमान को लिखा पत्र, बोले- प्रदेश अध्यक्ष बनाओ वरना भाजपा में हो जाएंगे शामिल!


रांची। आम चुनाव का समय करीब है और सियासी दलों के साथ-साथ कई नेता अपनी दावेदारी को लेकर पार्टियों पर दबाव बनाना भी शुरु कर चुके हैं। कुछ ही ऐसा ही मामला झारखंड से आया है। दरअसल झारखंड से एक नेता ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत तमाम वरिष्ठ नेता ओं को पत्र लिखा है और मांग की है कि उन्हें प्रदेश अध्यक्ष बनाया जाए। यदि ऐसा नहीं किया गया तो वे पार्टी छोड़ भाजपा में शामिल हो जाएंगे। बता दें कि यह पत्र झारखंड विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष और कांग्रेस नेता कृष्णानंद त्रिपाठी के नाम से लिखा गया था। जब यह मामले सामने आया तो अपनी सफाई देते हैं कृष्णानंद त्रिपाठी ने कहा है कि उनके लेटर हैड का गलत इस्तेमाल किया गया है। फिलहाल इस मामले में चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

सिद्धू की पत्नी नवजोत ने दिया लोकसभा चुनाव लड़ने का संकेत, इन सीटों से टिकट मिलने की जताई इच्छा

क्या है ये पूरा मामला

आपको बता दें कि झारखंड में कांग्रेस के दिग्गज नेता और विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष कृष्णानंद त्रिपाठी ने कहा है कि उनके लेटर हैड का गलत इस्तेमाल किया गया है। उनके नाम से कांग्रेस अध्यक्ष समेत बड़े-बड़े नेताओं को पत्र भेजा गया है। जिसमें राहुल गांधी, सोनिया गांधी, कोषाध्यक्ष अहमद पटेल, महासचिव मोतीलाल बोरा, मल्लिकार्जुन खड़गे, दिगविजय सिंह, सीपी जोशी, एके एंटनी आदि नेताओं के नाम शामिल हैं। जब इस बात की जानकारी त्रिपाठी को मिली के उनके लेटर हैड का गलत इस्तेमाल करते हुए कांग्रेस के दिग्गज नेताओं को पत्र लिखा गया है। फौरन इसकी सूचना पुलिस को दी। त्रिपाठी ने अपने शिकायत में चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। जिसमें डालटनगंज के काशीनगर स्थित रेड़मा के रहने वाले विजय तिवारी, अजय तिवारी, संजय तिवारी और अशोक नगर के रहने वाले आलोक तिवारी के नाम शामिल हैं। त्रिपाठी ने बताया है कि इन चारों ने फर्जी तरीके से उनके नाम का लेटर पैड बनाकर एक पत्र लिखा। उसमें मेरा फर्जी हस्ताक्षर भी किया और कांग्रेस अध्यक्ष समेत अन्य दिग्गज नेताओं को पत्र भेजा है। अब पुलिस इस पूरे मामले की जांच कर रही है और पता लगा रही है कि आखिर सत्य किया है?

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/congress-leader-wrote-letter-to-the-high-command-say-make-the-state-president-or-else-bjp-will-join-4007297/

केजरीवाल का ऐलान, पंजाब में सभी 13 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी आप


नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता अरविंद केजरीवाल ने रविवार को घोषणा की है कि पार्टी पंजाब की सभी 13 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी। बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल रविवार को पंजाब के बरनाला शहर में है। वह यहा लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी के चुनाव अभियान की शुरुआत करने के लिए पहुंचे हैं।

यह भी पढ़ें-साउथ पोल पर पहुंचने वाली पहली महिला बनीं ITBP की डीआईजी अपर्णा कुमार, दिल्‍ली

केजरीवाल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि लोग एक बदलाव चाहते हैं। वे मोदी सरकार से तंग आ चुके हैं। लोकसभा चुनाव में भाजपा हार जाएगी। इस दौरान उन्होंने आप पंजाब इकाई के वरिष्ठ नेताओं सांसद भगवंत मान, विपक्ष के नेता हरपाल चीमा और विधायक अमन अरोड़ा से भी मुलाकात भी की।

आपको बता दें कि आप ने अक्टूबर में लोकसभा सीट के लिए पांच उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की थी। ये सीटें हैं संगरूर, फरीदकोट, होशियारपुर, अमृतसर और आनंदपुर साहिब। पंजाब से आप के दो सांसद, धरमवीरा गांधी और हरिंदर खालसा, जिन्हें अगस्त 2015 में आप से निलंबित कर दिया गया था, उन्हें अब तक पार्टी के उम्मीदवारों के रूप में नामित नहीं किया गया है। उनका निलंबन भी निरस्त नहीं किया गया है। आप ने दो मौजूदा सांसदों भगवंत मान (संगरूर) और साधु सिंह (फरीदकोट) की उम्मीदवारी बरकरार रखी है।

गौरतलब है कि 2014 के आम चुनावों में पंजाब में चार लोकसभा सीटें जीती थीं। 2014 में आप उम्मीदवारों ने अन्य निर्वाचन क्षेत्रों में भी अच्छा प्रदर्शन किया था। पार्टी उस चुनाव में देश में कहीं और एक भी लोकसभा सीट नहीं जीत सकी थी। आपको बता दें कि पंजाब में 13 लोकसभा सीटें हैं।

यह भी पढ़ें-हवा में उड़ने वाली चीजों पर आज से लगा प्रतिबंध, गणतंत्र दिवस को लेकर पुख्ता सुरक्षा की तैयारी

मार्च 2017 से राज्य में कांग्रेस सत्ता में है। आप ने पंजाब में पारंपरिक राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी गठबंधन के खिलाफ तीसरे विकल्प के रूप में बहुत सारी उम्मीदें दिखाई थीं, लेकिन पिछले दो वर्षों से पार्टी में अंदरूनी विवाद व विद्रोह की खबरें आती रही हैं। विधायक सुखपाल सिंह खैरा, एच.एस. फुल्का और बलदेव सिंह पार्टी छोड़ चुके हैं। फुल्का विधायक पद से भी इस्तीफा दे चुके हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/political-news/arvind-kejriwal-announces-to-contest-all-13-loksabha-seats-in-punjab-4007174/

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
Jobs Jobs / Opportunities / Career
Haryana Jobs / Opportunities / Career
Bank Jobs / Opportunities / Career
Delhi Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Uttar Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Himachal Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Rajasthan Jobs / Opportunities / Career
Scholorship Jobs / Opportunities / Career
Engineering Jobs / Opportunities / Career
Railway Jobs / Opportunities / Career
Defense & Police Jobs / Opportunities / Career
Gujarat Jobs / Opportunities / Career
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Bihar Jobs / Opportunities / Career
Uttarakhand Jobs / Opportunities / Career
Punjab Jobs / Opportunities / Career
Admission Jobs / Opportunities / Career
Jammu and Kashmir Jobs / Opportunities / Career
Madhya Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Bihar
State Government Schemes
Study Material
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Syllabus
Festival
Business
Wallpaper
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com