Danik Bhaskar Himachal+Chandigarh #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Danik Bhaskar Himachal+Chandigarh

https://www.bhaskar.com/rss-feed/11649/ 👁 4160

खुद के हाथ नहीं, पैरों से लिखकर ब्लाइंड स्टूडेंट्स की राइटर बनने की तैयारी


चंडीगढ़ (गौरव भाटिया).अगर जज्बा हो तो कुछ भी नामुमकिन नहीं और अगर किसी की मदद करने की ठान ली जाए तो फिर सब कुछ मुमकिन है। 17 साल की रहनुमा खुद डिसेबल हैं, लेकिन ब्लाइंड स्टूडेंट्स की मदद करने का उनका जज्बा काबिलेतारीफ है। गवर्नमेंट माॅडल स्कूल-8 में 11वीं की स्टूडेंट रहनुमा के दोनों हाथ नहीं हैं। बावजूद इसके वह पैरों से लिखती हैं। अब वह ब्लाइंड स्टूडेंट्स की राइटर बनने की प्रैक्टिस कर रही हैं। रहनुमा कलेक्टर बनने की इच्छा रखती है।

चॉक और कोयले से शुरू किया लिखना :रहनुमा के बचपन से ही हाथ नहीं हैं। जब वह 3 साल की हुई तो पिता शफीक अहमद और मां गुलनाज बानो की मदद से उसने पैरों से लिखना शुरू किया। शुरुआत चॉक और कोयले से हुई। पेरेंट्स ने रहनुमा के पैरों में चॉक थमाया और जमीन पर लिखना शुरू किया। क्लास में हमेशा उसने अपने पैरों से एग्जाम दिया और नॉर्मल स्टूडेंट्स के साथ कंपीट करते हुए एक्सट्रा टाइम भी नहीं मांगा।

5वीं क्लास में ड्रॉइंग, फिर पेंटिंग : 5वीं क्लास में ड्रॉइंग टीचर अमित ने रहनुमा की बेहतरीन लिखावट को देखते हुए उसे ड्रॉइंग सिखाने का फैसला किया। रहनुमा ने कहा कि टीचर अमित उन्हें कई कंपीटिशंस में लेकर गए। पिछले पांच सालों में 13 प्राइज और दो अवॉर्ड हासिल कर चुकी हैं और ट्रैफिक पुलिस तक से सम्मानित हो चुकी हैं।

ड्रॉइंग टीचर पूनम रानी ने उनके पैरों में पेंटिंग ब्रथ थमाया और अब रहनुमा ने पेंटिंग करनी शुरू कर दी है। उधर, रहनुमा ने कहा कि 10वीं क्लास में उन्होंने स्कॉलरशिप का एग्जाम दिया। इस दौरान ब्लाइंड स्टूडेंट्स भी वहां मौजूद थे और बोलकर अपने राइटर को बता रहे थे, तब अहसास हुआ कि वह भी इस तरह मदद कर सकती है।

कच्ची झुग्गी में रहने को मजबूर :रहनुमा के जज्बे का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि रहनुमा की कुल 4 बहनें और 3 भाई अपने पेरेंट्स के साथ एक ही झुग्गी में रहते हैं। यह झुग्गी मौली जागरां की राजीव कालोनी मंे है और रहनुमा के पिता मजदूरी करके बड़ी मुश्किल से कुल 9 लोगों का खर्चा उठा रहे हैं। घर की माली हालत का आलम कुछ यूं है कि रहनुमा के स्कूल की दूसरी यूनिफॉर्म लेने तक के पैसे उनके पास नहीं है। अगर आप रहनुमा की मदद करना चाहते हैं तो आप गवर्नमेंट मॉडल स्कूल-8 की प्रिंसिपल रंजना श्रीवास्तव से 0172-2700274 पर संपर्क कर सकते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Preparing to become a Writer of Blind Students Write With Feet
Preparing to become a Writer of Blind Students Write With Feet

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/preparing-to-become-a-writer-of-blind-students-write-with-feet-01479746.html

एसीआर में मुख्यमंत्री की टिप्पणी से प्रमोशन रुकने का था खतरा, हाईकोर्ट पहुंचे खेमका, नोटिस जारी


चंडीगढ़.अकसर विवादों में रहने वाले हरियाणा के सीनियर आईएएस अशोक खेमका फिर सरकार के साथ टकराव की राह चल पड़े हैं। इस बार मामला उनकी 2016-17 की वार्षिक प्रदर्शन मूल्यांकन रिपोर्ट (एसीआर) से जुड़ा है। एसीआर में सीएम मनोहर लाल ने खेमका के अंक घटाते हुए प्रतिकूल टिप्पणी की थी। इससे पदोन्नति रुकने का खतरा देख खेमका ने कैट (केंद्रीय प्रशासनिक न्यायाधिकरण) में अर्जी लगाई, लेकिन वहां से कोई राहत नहीं मिली। अब उन्होंने अपने एडवोकेट बेटे श्रीनाथ ए खेमका के जरिए पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। इस पर न्यायमूर्ति राजीव शर्मा की खंडपीठ ने मुख्य सचिव के जरिए प्रदेश सरकार को नोटिस भेजा है। मामले की सुनवाई अगले माह होगी।

मंत्री ने 9.92 अंक दिए, 9 अंक देकर सीएम ने लिखा- उन्हें बढ़ा-चढ़ाकर दर्शाया :

1991 बैच के आईएएस अशोक खेमका ने 7 जून 2017 को वर्ष 2016-17 के लिए एप्रेजल भरा था। इसमें मुख्य सचिव डीएस ढेसी ने उन्हें 10 में से 8.22 नंबर दिए। 27 जून को खेल एवं युवा मामलों के मंत्री अनिल विज ने उन्हें 10 में से 9.92 अंक देते हुए टिप्पणी की है कि कैबिनेट मंत्री के रूप में उन्होंने 3 साल में 20 से अधिक आईएएस अफसरों के साथ काम किया, लेकिन कोई भी अधिकारी खेमका के करीब नहीं था। खेमका की योग्यता, सच्चाई, ईमानदारी का कोई सानी नहीं। 31 दिसंबर 2017 को खेमका की एप्रेजल रिपोर्ट सीएम मनोहर लाल के पास पहुंची। सीएम ने खेमका के नंबर काट दिए और 10 में से 9 अंक दिए। साथ लिखा कि खेमका पर विज की रिपोर्ट में थोड़ा बढ़ा-चढ़ाकर वर्णन किया गया है।

टिप्पणी हटाने और 9.92 अंक बहाल करने की मांग :

दरअसल एसीआर में 10 में से 9 अंक होने के बावजूद सीएम की टिप्पणी से खेमका की केंद्र में अतिरिक्त सचिव के रूप में पदोन्नति प्रभावित हो सकती है। एक बैच से केवल 20 फीसदी आईएएस अफसरों को उच्च स्तर के लिए प्रमोट किया जाता है। मुख्यमंत्री की टिप्पणी खेमका के खिलाफ काम करेगी। पदोन्नति प्रभावित होती देख पहले तो खेमका ने कैट में अर्जी लगाई। वहां से कोई राहत न मिलने के बाद हाईकोर्ट में याचिका लगाते हुए अपनी मूल्यांकन रिपोर्ट से सीएम की टिप्पणी हटाने और विज द्वारा दिए 9.92 नंबर बहाल कराने की मांग की है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
हरियाणा के सीनियर आईएएस अशोक खेमका

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/senior-ias-ashok-khemka-petitioned-in-the-high-court-01479743.html

ऊंचे पहाड़ों पर शुरू हुई बर्फबारी, आज से मैदानों पर भी बारिश के बने आसार


चंडीगढ़.पहाड़ों पर वेस्टर्न डिस्टरबेंस एक्टिव होने के बाद ऊंचे पहाड़ों पर रविवार से बर्फबारी शुरू होने के बाद मौसम विभाग ने रविवार रात या सोमवार से मैदानों में भी बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग के चंडीगढ़ केंद्र के निदेशक सुरेंद्र पाल के मुताबिक इस बार वेस्टर्न डिस्टरबेंस मजबूत है। पहाड़ों पर जिस तरह बर्फबारी शुरू हो गई है, उसे देखते हुए मैदानों में रविवार रात या सोमवार सुबह से बारिश शुरू होने के आसार हैं।

इस बीच रविवार को दिन का अधिकतम तापमान 22 डिग्री दर्ज किया गया, जो सामान्य से एक डिग्री ज्यादा रहा। वीरवार रात का न्यूनतम तापमान 10.6 डिग्री दर्ज किया गया। जो इस साल जनवरी में रात का सबसे ज्यादा तापमान रहा।

मौसम विभाग के मुताबिक वेस्टर्न डिस्टरबेंस पूरे रीजन में एक्टिव है। ऐसे में दोनों राज्यों में सामान्य या सामान्य से अधिक बारिश होने के आसार हैं। मौसम विभाग ने 21 और 22 जनवरी को भारी बारिश होने की संभावना जताई है।

बारिश के बाद भी घनी धुंध के आसार नहीं :

मौसम विभाग के अनुसार इस बार चार वेस्टर्न डिस्टरबेंस आए हैं, लेकिन इनमें से लगभग 90 फीसदी कमजोर रहे हैं। ऐसे में चंडीगढ़ में इस बार बारिश कम हुई है। लिहाजा ट्राईसिटी में इस बार एक बार भी पुअर विजिबिलिटी नहीं रही। चंडीगढ़ में खराब मौसम के चलते एक बार भी फ्लाइट कैंसिल नहीं हुई। हां, दिल्ली और अन्य डेस्टिनेशंस पर घने कोहरे के चलते चंडीगढ़ में फ्लाइट देरी से आईं या रद्द हुईं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Snowfall started on high mountains

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/snowfall-started-on-high-mountains-01479748.html

गुरु नानक देव जी से संबंधित स्थानों की विरासत बरकरार रखी जाए: सिद्धू


चंडीगढ़.कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को पत्र लिखकर विनती की है कि श्री गुरु नानक देव जी की चरण स्थली करतारपुर साहिब, डेरा बाबा नानक गुरुद्वारा साहिब और इनके पास के इलाकों का विकास करते समय उनका पुरातन रूप को हू-ब-हू बरकरार रखा जाए और इन स्थानों को ‘विरासती गांव’ का दर्जा दिया जाए।

संगत या सैलानियों की सुविधा के नाम पर इन पवित्र स्थानों को संगमरमर में मढक़र कंक्रीट का जंगल न बनाया जाए। सिद्धू ने लिखा है कि जिस धरती पर बाबा नानक जी ने 18 साल बिताए और जिस धरती को बाबा नानक जी ने आप जोता,वहां कोई निर्माण न किया जाए बल्कि उस पवित्र मिट्टी में जैविक खेती की जाए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कैबिनेट मंत्री  नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो)

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/sidhu-writes-letter-to-modi-and-imran-01479738.html

सुखपाल खैहरा सुर्खियां बटोरने के लिए तिलमिला रहे: कैप्टन अमरिंदर सिंह


चंडीगढ़.सुखपाल खैहरा के केंद्र के इशारे पर चलने के आरोप को रद्द करते हुए सीएम कैप्टन ने कहा है कि नई बनी पंजाबी एकता पार्टी के नेता ऐसे झूठे आरोप लगा लोकसभा चुनाव से पहले सुर्खियां बटोरने के लिए तिलमिला रहे हैं। उन्होंने खैहरा को उनके खिलाफ जाति तौर पर और राज्य सरकार के खिलाफ लगाए आरोपों में से एक को भी सिद्ध करके दिखाने या फिर राजनीति से किनारा कर लेने की चुनौती दी है।

सीएम ने कहा, पंजाब पुलिस के बारे खैहरा के बयान से ही सिद्ध हो जाता है कि जो वह उभार रहे हैं, उससे उलट डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने अपनी एक्सटेंशन को पहले ही रद्द कर दिया है और राज्य सरकार ने नए डीजीपी के लिए अपना पैनल भेज दिया है। इससे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल के इशारे पर अरोड़ा को एक्सटेंशन दिए जाने का सवाल कहां से पैदा हो गया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/cm-captain-said-sukhpal-khaira-try-to-spotlighting-01479736.html

लुटेरों को देख शोर मचाने पर हेडग्रंथी की पत्नी को मुंह दबाकर मार डाला


पट्टी.शनिवार रात कस्बा पट्टी के गांव कोट बुड्‌ढा स्थित ऐेतिहासिक गुरुद्वारा शहीदां साहिब में घुसे 3 लुटेरों ने हेडग्रंथी गुरनाम सिंह (85) की बुजुर्ग पत्नी कुलवंत कौर (75 साल) की दम घोंटकर हत्या कर दी जबकि हेडग्रंथी को बुरी तरह जख्मी कर 5 हजार रुपए उनके कमरे से निकाल ले गए। लुटेरों ने चेहरे पर नकाब पहन रखा था और रात करीब दो बजे वारदात काे अंजाम दिया। घटनास्थल पर पहुंची थाना सदर पुलिस ने शव कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। जख्मी हेडग्रंथी को सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया गया है।

हेडग्रंथी गुरनाम ने बताया कि रात करीब 2 बजे शोर सुनकर कमरे से बाहर आया तो तीन नकाबपोशों ने हमला बोल दिया। सब-कुछ उनके हवाले करने काे कहते हुए पीटना शुरू दिया। उन्होंने कहा कि उनके पास पैसे नहीं हैं तो हमलावरों ने कमरे में दाखिल होकर उनके रखे हुए पांच हजार रुपए निकाल लिए। मारपीट का शोर सुनकर कमरे में सो रही उनकी पत्नी जाग गईं और मदद के लिए शोर मचाने लगीं तो लुटेरों ने उसका मुंह दबा दिया, जिससे दम घुटने से उनकी मौत हो गई। इसके बाद लुटेरे हेडग्रंथी को पगड़ी से बांधकर ऊपर कंबल डालकर फरार हो गए। हेडग्रंथी के जेब में मोबाइल था जिससे उन्होंने गांव के सरपंच को सूचना दी, जिन्होंने आकर उन्हें खोला और अस्पताल दाखिल कराया।

गांव कोट बुड्ढा के निवासी सरपंच शेर सिंह और इंदरजीत सिंह ने बताया कि हेडग्रंथी गुरनाम सिंह 50 सालों से इस ऐेतिहासिक गुरुद्वारा शहीदां साहिब की सेवा निभा रहे हैं। हेडग्रंथी की किसी से दुश्मनी नहीं है। जब उन्हें वारदात का पता चला तो तुरंत पहुंचे तो देख हेडग्रंथी जख्मी हालत में बंधे पड़े थे। उनकी पत्नी कुलवंत कौर की मौत हो चुकी थी। उन्होंने इस घटना की सूचना तुरंत पुलिस को दी।

जल्द होंगे दोषी गिरफ्तार :
थाना सदर के प्रभारी बलकार सिंह ने बताया कि हमलावरों ने लूट की नीयत से ही वारदात को अंजाम दिया है। फिर भी हर पहलू पर जांच की जा रही है, जल्द हमलावरों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कुलवंत कौर (मृतका)
हेडग्रंथी गुरनाम सिंह

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/elderly-woman-murdered-for-loot-01479731.html

दादा, पिता और भाई के मौत का कारण कीटनाशक को माना, इसलिए हेयर ने वकालत छोड़ शुरू की ऑर्गेनिक खेती


मुक्तसर.पिता जी की महज 53 वर्ष में हॉर्ट अटैक व छोटे भाई की महज 10 साल में ब्रेन ट्यूमर के कारण मौत हो गई थी, जबकि मेरे दादा जी 110 साल की लंबी उम्र जीए थे। पिता व भाई की मौत कुदरती नहीं थी, बल्कि जहरीली खुराक व वातावरण का परिणाम था।

इसलिए मैंने जहरीली खेती से लोगों को बचाने के लिए अपनी अच्छी तरह से चल रहे वकालत के काम को छोड़कर कुदरती खेती को अपनाने का फैसला किया। शुरू में घर वालों, लोगों और रिश्तेदारों ने मेरा मजाक उड़ाया। मेरे फैसले का विरोध भी किया लेकिन मैं पीछे नहीं हटा। आज जो लोग मेरे फैसले का मजाक उड़ाते थे अब मेरी तारीफ करते नहीं थकते हैं। हालात ऐसे हो गए हैं कि लोग मेरे ‘सोहनगढ़ नैचुरल फार्म’ कोदेखने के लिए देश-विदेश से आते हैं।

यदि लोग ऑग्रेनिक तरीके से खेती करें तो इससे न केवल उनकी आमदन बढ़ेगी बल्कि सेहतमंद समाज की स्थापना में भी उनका योगदान बढ़ेगा। यह कहना है युवा वकील से किसान बने कमलजीत सिंह हेयर का।

20 एकड़ में 60 किस्म की फसलें उगा रहे हैं :

मुक्तसर से करीब 20 किलोमीटर दूर गुरु हर सहाए रोड पर बसे गांव सोहनगढ़ रत्तेवाला का रहने वाले कमलजीत सिंह हेयर बताते हैं कि उनके पास 20 एकड़ जमीन है। यहां पर सैकड़ों तरह के वृक्ष लगे हैं। दर्जनों किस्मों की जड़ी बूटियां हैं, 60 किस्म की फसलें एक वर्ष में होती हैं। खेत में कोई केमिकल स्प्रे नहीं की जाती है। खेत में बाहर के वाहनों का आना मना है व न ही खेत में बिजली की सप्लाई होती है।

खेत में ही कंपोस्ट खाद तैयार होती है। जहां आम तौर पर जहरीले केमिकल खेती के माध्यम 50 हजार रुपए प्रति एकड़ के करीब कमाई होती है, वहीं बिना जहर प्रयोग किए दो लाख रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से कमाई करते हैं, परंतु इसके लिए उन्हें अपने खेत के एक-एक पौधे का ख्याल रखना पड़ता है व एक-एक इंच जमीन का कई तरीकों से प्रयोग करना पड़ता है।

बारिश के पानी की हर बूंद को संभालते हैं :हेयर ने बताया कि वे बारिश की हर बूंदाबांदी को भी व्यर्थ नहीं जाने देते। पूरा पानी ड्रेन सिस्टम के माध्यम से एक डिग्गी में इकट्ठा कर लिया जाता है, जिसकी क्षमता 33 लाख लीटर की है व फिर जरूरत के समय स्टोर किए गए पानी का प्रयोग किया जाता है। पशुओं का मल मूत्र भी कुदरती तरीके से खेती के लिए प्रयोग किया जाता है।

उन्होंने अपने खेत में एक-एक इंच जगह का सही प्रयोग किया है। खाल के ऊपर जगह-जगह पर घास फूस से कंपोस्ट खाद तैयार करने के लिए डिग्गी बनाई है। खेत में बने रास्ते के साथ-साथ मुर्गियों के खुड्डे व खुड्डों की छत ऊपर घास व घास के ऊपर अंगूरों की बेलें लगाई हैं।

विलुप्त हो रहे वृक्ष भी हैं फार्म में : खेत में एक जंगल तैयार किया है, जिसमें विलुप्त हो रहे किस्म के वृक्ष सिंबल, हरड़, करोदा, सिम्मी, गूगल, जकरंडा, दंदासा, ईमली, बहेड़ा, कनेर, जमालघोटा, महूआ, कढ़ी पत्ता, चंदन, गोदी, सीता अशोक, कमर्क चाइनीज अमरूद अमरूद, मिरगुंढी, कचनार, मौलसरी, पलाश, ढक्क, हार शिगार, सेब, हिंग, दालचीनी, कजीलिया, अक्क व वन जैसे पौधे शामिल हैं। एडवोकेट हेयर ने बताया कि जहर मुक्त खेती करने के लिए पहले कुदरत पक्षीय होना जरूरी है व उसके बाद पूरी सिखलाई प्राप्त करनी पड़ती है। इसी गांव में अशोक कुमार 6 एकड़ में व गुरबाज सिंह 11 एकड़ रकबे में कुदरती खेती कर रहे हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
खेत में लगे पौधों के बारे में जानकारी देते कमलजीत हेयर।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/left-advocacy-and-start-organic-farming-01479729.html

सतलुज से मिली एक दिन पहले लापता हुई महिला की लाश, आत्महत्या की आशंका


सुंदरनगर। डैहर के साथ लगती सतलुज नदी में रविवार को एक महिला का शव बरामद हुआ है। उसके द्वारा आत्महत्या किए जाने की आशंका जताई जा रही है। सूचना मिलते ही सुंदरनगर पुलिस थाना प्रभारी गुरबचन सिंह ने अपनी टीम व स्थानीय लोगों की मदद से शव को पानी से बाहर निकाला। बताया जा रहा है कि महिला शनिवार से लापता थी।

महिला के शव की सूचना मिलते ही भारी तादाद में स्थानीय लोग डैहर स्थित सतलुज किनारे पहुंच गए। शव की पहचान तारा देवी (38) पत्नी हेमराज सुंदरनगर के धवाल निवासी के रूप में हुई है। बताया जा रहा है की मृतक महिला शनिवार देर रात से ही घर से गायब हुई थी व महिला की गुमशुदगी की रिपोर्ट सलापड पुलिस चौकी में आज सुबह ही दर्ज करवाई गई थी।

कयास लगाए जा रहे हैं कि महिला ने रात के वक्त सतलुज नदी में छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली होगी। थाना प्रभारी सुंदरनगर गुरबचन सिंह ने बताया की महिला का शव पति द्वारा शिनाख्त करने के बाद सिविल अस्पताल सुंदरनगर भेजा गया है, जहां पर शव का पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। वहीं, पुलिस ने मामला दर्ज कर आत्महत्या के कारणों की छानबीन शुरू कर दी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
lady found dead into Sutlej on the second days while she got missing
lady found dead into Sutlej on the second days while she got missing

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/shimla/news/lady-found-dead-into-sutlej-on-the-second-days-while-she-got-missing-01479656.html

फंदा लगाकर लड़के ने दी जान, पोस्टमाॅर्टम में निकली लड़की


मनोज राजपूत, डेराबस्सी.जीरकपुर फ्लाईओवर के पास ओएसिस मैरिज पैलेस में काम करने वाले पीयून ने पैलेस के स्टोर में ही खुदकुशी कर ली। शव छत के पंखे पर लटका मिला। मृतक की शिनाख्त 22 साल के कबीर राय पुत्र बहादुर राय निवासी मौलीजागरां के तौर पर हुई। मैरिज पैलेस में वह करीब दो साल से पीयून था। मामला उस समय हैरानी वाला हो गया, जब शनिवार को डेराबस्सी हॉस्पिटल में पोस्टमाॅर्टम हुआ। डॉक्टर्स ने बताया कि यह लड़का नहीं, लड़की है।


यह सुनने के बाद पुलिस, पैलेस स्टाफ और घरवालों के रोंगटे खड़े हो गए। कबीर राय ने जो सुसाइड नोट लिखा, उसमें भी उसने खुद को लड़का बताया है। लिखा कि वह अपनी प्रेमिका के चले जाने के कारण खुदकुशी कर रहा है। अब सवाल यह है कि वह जेंडर छुपाकर क्यों रह रही थी। इससे भी बड़ी हैरानी है कि कबीर राय की छोटी बहन (20) भी आज तक उसे भाई ही मानती रही। पोस्टमॉर्टम के बाद शनिवार को वह मानने को तैयार ही नहीं थी कि कबीर उसकी बहन है। जांच कर रहे एएसआई नाथी राम ने बताया कि जेंडर बदलकर क्यों रह रही थी, इसके पीछे कोई मजबूरी थी या कुछ और, इसकी जांच की जाएगी। मृतक की बहन से उसकी शिनाख्त करवाने के बाद उसके बयानों के आधार पर ही धारा 174 के तह कार्रवाई अंजाम दी गई है।

सुसाइड नोट में लिखादिल्ली की प्रेमिका के सदमे में मर रहा हूं :मौके से पुलिस को मिले खुदकुशी नोट में कबीर ने लिखा कि उसकी एक लड़की दोस्त दिल्ली में रहती थी। उसने करीब 20 दिन पहले किसी कारण खुदकुशी कर ली। उसकी मौत के कारण वह सदमे में था, जिस कारण वह भी अपनी जीवन लीला समाप्त कर रहा है। उसकी अस्थियों का विसर्जन भी प्रेमिका वाले स्थान पर किया जाए।

तीन घंटे चला पोस्टमॉर्टम :शव को पोस्टमॉर्टम के लिए हॉस्पिटल में लाया गया तो वहां एंट्री रजिस्टर में मेल लिखवाया गया। लेकिन जब पोस्टमाॅर्टम के दौरान शव को निर्वस्त्र किया तो डॉक्टर्स समेत स्टाफ मृतक को फीमेल पाकर हैरान रह गया। पहले उन्हें लगा कि दस्तावेजों में गलती से फीमेल की जगह मेल लिखा गया होगा। इसके बाद डॉक्यूमेंट चेक किए और पुलिस से बात की गई। पुलिस ने बताया कि मृतक की बहन ने भी यही कहा मरने वाला उसका भाई था। मामला पेचीदा होने पर दो महिला डाॅक्टर्स पोस्टमाॅर्टम के लिए तैनात की गईं। डॉक्टर भाविका और डॉक्टर दीक्षी ने पोस्टमाॅर्टम किया। इसके बाद डॉक्टरों ने बताया कि यह कोई सेक्स चेंज का मामला नहीं है। मृतक के प्राइवेट पार्ट्स से लेकर यूटरस (बच्चेदानी) तक मौजूद रहने से स्पष्ट है कि उसका सेक्स चेंज नहीं था, बल्कि वह कुदरती फीमेल थी।

बहन कह रही- कभी पता ही नहीं चला :कबीर की छोटी बहन चंडीगढ़ के एक स्कूल की बस में कंडक्टरहै। पोस्टमार्टम कक्ष में उसे भाई की फीमेल बॉडी भी दिखाई गई। मृतक की बहन निर्मला राय के अनुसार वह लड़का ही था और आम लोगों के साथ लड़कों की तरह ही व्यवहार करता था। लड़की होने पर उसे भी विश्वास नहीं हो रहा है।

मां-बाप छोड़कर चले गए थे... कबीर औरउसकी बहन निर्मला राय को मां-बाप बहुत पहले छोड़कर चले गए थे। इसके बाद से कबीर दिल्ली में रह रही थी और निर्मला मौलीजागरां में। कबीर दो साल पहले ही यहां आई और लड़का बनकर पैलेस में नौकरी करने लगी।

हाव-भाव, चाल-ढाल सब लड़कों जैसी :पैलेस मालिक और स्टाफ ने बताया कि कबीर दो साल से यहां काम करता था। उसके हाव-भाव, बोल-चाल से कभी पता ही नहीं चला कि वह लड़की है। वे तो लड़के की तरह ही ट्रीट करते थे। वह पैलेस की पैंटरी में लड़कों की वेशभूषा व हेयरकट में रहता था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Boy gave up by hanging, girl in postmortem

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/boy-gave-up-by-hanging-girl-in-postmortem-01479492.html

कार में लगे हीटर व आग के धुएं से बेसुध हुआ माधव, इसलिए उतर भी नहीं पाया


मोहाली . पंचकूला में आइडिया कंपनी में बतौर एजीएम काम करने वाले 38 साल के माधव चतुर्वेदी की वीरवार रात कार में जलने से मौत हो गई थी। जब वे रात 11 बजे अपने घर निकले थे तो कार का हीटर ऑन कर लिया था। शीशे बंद थे, इस कारण सफोगेशन हो गई थी। इसी दौरान आई-10 कार के इंजन से आग की लपटें निकलने लगीं और माधव घबरा गए।

उन्होंने घबराहट में गाड़ी रोककर बाहर निकलने के बजाय हैंडब्रेक लगाई, जिससे कार घूम गई और िस्कड करते हुए झाड़ियों में उतर गई। तभी एक दम से आग ज्यादा भड़क गई। माधव ने सीट बेल्ट लगाई हुई थी, उसने निकलने का प्रयास किया, लेकिन इससे पहले ही वह आग की लपटों से घिर गया। राजिंदा मेडिकल हाॅस्पिटल में डॉक्टर दीपक कुमार, डॉ. गुरविंदर सिंह व एक अन्य डॉक्टर ने पोस्टमार्टम किया। इन्वेस्टिगेशन ऑफिसर सब-इंस्पेक्टर वरमा सिंह ने बताया कि शव पोस्टमाॅर्टम के बाद घरवालों को सौंप दिया है। पुलिस ने सीआरपीसी 174 के तहत अभी तक कार्रवाई की है।

यह हुआ माधव के साथ :गाड़ी स्पीड में थी। हीटर के कारण हुई सफोगेेशन और गाड़ी से निकल रहे धुंए ने माधव को बेहोशी की हालत में कर दिया। वह अचेत अवस्था में था। उसे दिखाई सब कुछ दे रहा था, लेकिन दिमाग ने काम करना बंद कर दिया था। कार में आग लगी तो माधव ने हैंडब्रेक लगा दी। इससे गाड़ी सड़क से खदान में उतर गई। इसके बाद कार में आग लग गई। सीट बेल्ट खोलने का भी समय नहीं मिला, जिस माधव अंदर ही जल गया।

कब-कब लगी कार में आग : 19 मई को सेक्टर 27 में पंचकूला के रहने वाले अंकित की होंडा सिटी कार में आग लग गई थी। कार को नुकसान हो गया था। अंकित समय रहते कार से बाहर निकल गए।

  • 12 दिसंबर को सेक्टर 24-25 लाइट प्वाइंट पर कार में आग लग गई। आग देर रात लगी। कार का मालिक समय रहते कार से बाहर निकल गया था। वहीं आग के कारण कार का नुकसान हो गया।
  • 13 जून को सेक्टर 25-38 डिवाइडिंग रोड पर कार में आग लग गई। घटना के समय कार में एक परिवार मौजूद था जो कि सेक्टर 25-38 लाइट प्वाइंट से दैनिक भास्कर चौक की तरफ जा रहा था। इसी दौरान कार के बोनट से धुआं निकला और सभी घरवाले कार से बाहर आ गए। आग लगने के कारण कार के इंजन का नुकसान हो गया।

इसलिए लगती है आग

  • कई बार परफ्यूम की बॉटल या गैस से संबंधित लिक्विड डैशबोर्ड पर रखा होता है। ब्लोअर से हीट ज्यादा होने के कारण आग लग जाती है।
  • गाड़ी में बाहर से म्यूजिक सिस्टम या अन्य कोई इलेक्ट्रिक चीज लगवाते हैं। वायरिंग ठीक न होने की वजह से शॉर्ट-सर्किट हो जाता है।
  • पेट्रोल या डीजल की पाइप लीक से भी ब्लोअर चलने पर गाड़ी गर्म हो जाती है। इससे आग लग जाती है।

क्या करें...एसेसरीज कंपनी फिटेड होनी चाहिए। डेशबोर्ड के नीचे एलईडी लाइट्स नहीं लगवानी चाहिए। लोग बाहर से ज्यादा वॉलटेज और आवाज वाले हॉर्न लगवा लेते हैं। इससे वायरिंग पर लोड पड़ने की वजह से आग लग जाती है। चलती कार में इंजन से धुआं निकलना शुरू होता तो नीचे उतर जाएं। -नरिंदर सिंह, टेक्निकल एक्सपर्ट, टाटा मोटर्स



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
There was a fire in the moving car

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/there-was-a-fire-in-the-moving-car-01479494.html

जिस जगह कचरा उठाया पार्षद बन वहीं खोला था ऑफिस, अब सिटी ब्यूटीफुल के मेयर हैं जनाब


सोनीपत। पहली बार पार्षद और फिर सिटी ब्यूटीफुल चंडीगढ़ के मेयर पद की सीढ़ी चढ़ चुके भाजपा नेता राजेश कालिया का व्यक्तित्व प्रेरणा लेने लायक है। यहां तक पहुंचने से पहले उनकी जिंदगी में कई तरह के उतार-चढ़ाव आए और आज आखिर कामयाबी उनके दामन में है। कालिया हरियाणा के सोनीपत जिले के छोटे से गांव में रहने वाले बेहद गरीब जरूरतमंद परिवार से उठकर इस मुकाम तक पहुंचे हैं। Dainik Bhaskar

आपको उन लम्हों से रू-ब-रू करा रहा है, जब कभी डंपिंग यार्ड में उन्होंने कचरा उठाया तो कभी जेल काटी।

आइए थोड़ा विस्तार से जानते हैं क्या है राजेश कालिया की जिंदगी से जुड़ी कुछ खास बातें...

राजेश कालिया मूल रूप से हरियाणा के सोनीपत जिले में स्थित गांव मदीना से ताल्लुक रखते हैं। अपनी जिंदगी के अनुभवों को बताते हुए कालिया भावुक हो गए। उनका बचपन गांव में बीता। फिर बाद में परिवार चंडीगढ़ में आकर गुजर-बसर करने लग गया। उन्हें पहली बार उस वक्त खुशी मिली थी, जब वह स्कूल मैनजेमेंट कमेटी (एसएमसी) का सदस्य चुने गए। राम मंदिर आंदोलन में राजेश कालिया 15 दिन आगरा की टुंडेला जेल में रहे। फिर एक बार जब वह मोहाली में लाॅटरी की दुकान पर काम करते थे तो उन पर 50 रुपए का जुर्माना लगा। बाद में चंडीगढ़ नगर निगम में सफाई सेवक के तौर पर काम करने लगे। पार्षद का चुनाव लड़ा तो जीत के बाद उन्हें दूसरी बार पहले वाली से भी ज्यादा खुशी मिली। जिस डंपिंग ग्राउंड में वह कूड़ा उठाते थे, वहीं पर पार्षद बनने के बाद उनका दफ्तर बना।

बेटियों के साथ मिलती है खुशी: मेयर राजेश कालिया ने कहा कि उन्हें कोई खास शौक नहीं है, लेकिन खाली समय उन्हें बेटियों के साथ बिताना अच्छा लगता है। कालिया ने कहा कि उन्होंने कभी भी अपनी पसंद बच्चों पर नहीं थोपी है, अगर उनकी बेटी भी पॉलिटिक्स में जाना चाहेंगी, तो उसके फैसले का पूरी तरह समर्थन करेंगे। कालिया ने कहा कि वह भी दूसरे माता-पिता की तरह अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देना चाहते हैं। ताकि बच्चे खुद अपने पैरों पर खड़े हो सकें और उनसे एक कदम ऊपर की ओर बढ़ें।

कोर्ट में चल रहा है चेक बाउंस का केस: जिला अदालत में चल रहे एक केस के मुताबिक चंडीगढ़ सेक्टर-38 के निवासी हरीश का कहना है कि उसने 2014 में राजेश कालिया को यूटी पुलिस के डीएसपी चरणजीत सिंह विर्क के कहने पर 10 लाख का फ्रैंडली लोन दिया था। बाद में चेक बाउंस हो जाने पर हरीश ने कालिया की शिकायत कर दी। आईपीसी की धारा 138 के तहत चल रहे केस में पहले कालिया भगोड़ा घोषित हुए और 2016 में पार्षद चुनाव के लिए नामांकन भरने से पहले उन्होंने जिला अदालत में सरेंडर कर दिया। क्लीनचिट तो मिल गई तो बाद में प्रतिवादी हरीश ने रिकवरी के लिए सिविल शूट डाल दिया। इस मामले में कोर्ट ने 1 दिसंबर को निगम के कमिश्नर को चिट्ठी लिखी कि जब तक सैलरी से 13.57 लाख रुपए नहीं पूरे होते, तब तक कालिया की सैलरी अटैच की जाए। साथ ही इस संबंध में 31 जनवरी तक जवाब भी दिया जाए। इसके जवाब में नगर निगम के लॉ ऑफिसर ने लिखा कि चूंकि कालिया सैलरी नहीं लेते, वह तो बतौर काउंसलर लिए गए अपने काम का भत्ता लेते हैं, इसलिए उनकी सैलरी अटैच की ही नहीं जा सकती।

एक हकीकत यह भी, गुटबाजी को खत्म करने का दावा: दूसरी ओर कालिया की मानें तो मेयर चुनाव से पहले भी जब भाजपा ने उन्हें कैंडिडेट के रूप में प्रस्तुत किया तो विरोधियों ने उन्हें टेरेरिस्ट की तरह पेश किया। कई तरह के गंभीर आरोप लगाए। ऐसे हालात बने कि परिवार ने मेयर चुनाव से हटने तक की सलाह दे डाली, लेकिन कालिया ने हिम्मत नहीं हारी और जीत दर्ज कर विरोधियों की बोलती बंद कर दी। चुनाव में भाजपा की आपसी गुटबाजी को लेकर कालिया ने कहा, 'मैं न तो सांसद किरण खेर और न ही भाजपा की चंडीगढ़ इकाई के अध्यक्ष संजय टंडन का हूं, बल्कि संगठन के साथ हूं। आगामी लोकसभा चुनाव में भी मेयर चुनाव जैसी गुटबाजी नहीं देखने को मिलेगी। सभी कार्यकर्ता मिलकर चुनाव में जीत के लिए पूरी ताकत लगाएंगे। मैं शहर का मेयर नहीं, बल्कि नगर सेवक के तौर पर शहर के लोगों की सेवा करूंगा। मेरा एजेंडा सभी को साथ लेकर शहर की डेवलपमेंट के लिए काम करना है।'



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
चंडीगढ़ के मेयर राजेश कालिया।
पार्षद बनने के बाद माथा चूमती कालिया की मां। फाइल फोटो
बेटियों और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ राजेश कालिया। फाइल फोटो
भाजपा की सांसद किरण खेर के चरण स्पर्श करते राजेश कालिया।
मेयर बनने के बाद चंडीगढ़ और हरियाणा के गांव मदीना में छाया है खुशी का माहौल।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/life-history-of-chandigarh-mayor-rajesh-kalia-01479378.html

एचसीएस पेपर लीक मामले में हाईकोर्ट ने एसआईटी से फाइनल चालान पेश करने को कहा


चंडीगढ़ (ललित कुमार ).हरियाणा सिविल सर्विसिस ज्युडीशियल ब्रांच के पेपर लीक मामले में शुक्रवार को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम को मामले की अगली सुनवाई तक ट्रायल कोर्ट में फाइनल चालान देने के निर्देश दिए हैं। कोर्ट ने कहा कि फोरेंसिक रिपोर्ट के बाद एसआईटी जांच को कंप्लीट कर कोर्ट में चालान दे।

मामले में तीन आरोपियों सुभाष गोदारा, सुशील भादू और तजिंदर बिश्नोई की जमानत याचिका भी हाईकोर्ट ने मंजूर कर ली। साथ ही अब इस मामले में सभी आरोपी फिलहाल अंतरिम जमानत पर हैं। कोर्ट में चंडीगढ़ के पब्लिक प्रोसीक्यूटर आरएस राय और गौतम दत्त ने कहा कि एसआईटी ने कुल 18 अलग-अलग मामलों में फोरेंसिक रिपोर्ट मांगी थी। इसमें से 16 मामलों में रिपोर्ट मिल गई है। दो मामलों में रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है।

चीफ जस्टिस कृष्ण मुरारी, जस्टिस राजन गुप्ता, जस्टिस जीएस संधावालिया, जस्टिस अरुण पल्ली और जस्टिस दीपक सिब्बल की बेंच ने मामले की अगली सुनवाई पर कंप्लीट रिपोर्ट तलब करते हुए एसआईटी को फाइनल चालान देने को कहा है। मामले पर 15 फरवरी के लिए अगली सुनवाई तय की गई है।

बेवजह देरी क्यों हो रही है :फोरेंसिक रिपोर्ट में देरी पर हाईकोर्ट ने कहा था कि बेवजह देरी क्यों हो रही है। आरोपियों के लैपटॉप मोबाइल्स से डाटा खंगालने को लेकर पुलिस ने सीएफएसएल को रिपोर्ट भेजी थी। इससे पहले मामले में आरोपी हाईकोर्ट के पूर्व रजिस्ट्रार (रिक्रूटमेंट) बलविंदर शर्मा, सुनीता, सुशीला और सुनील चोपड़ा उर्फ टीटू, कुलदीप और आयुषि की अंतरिम जमानत याचिका हाईकोर्ट मंजूर कर चुका है। ज्यूडिशियल पदों के लिए आवेदन मांगे गए थे। 16 जुलाई 2017 को लिखित परीक्षा का आयोजन किया गया था, लेकिन इसका पेपर लीक हो गया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
High court asks SIT to submit final challan

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/high-court-asks-sit-to-submit-final-challan-01479151.html

बलबीर सिंह सीनियर 108 दिन बाद पहुंचे घर


चंडीगढ़.तीन बार के ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट बलबीर सिंह सीनियर ने जिंदगी का एक और बड़ा मुकाबला जीत लिया है। 108 दिन तक खराब तबीयत से लड़ने के बाद वर्ल्ड के बेस्ट सेंट्रल फॉरवर्ड बलबीर सिंह सीनियर घर लौट आए। उन्हें दो अक्टूबर को पीजीआई में भर्ती कराया गया था। उन्हें सांस लेने में परेशानी आ रही थी और इसके बाद उन्हें डॉक्टर्स ने ब्रॉनिकल निमोनिया बताया था। अब उनकीतबीयत बेहतर है और डॉक्टर्स ने उन्हें घर भेज दिया है। सेक्टर-36 स्थित अपने घर में बलबीर सिंह सीनियर का परिवार उनकी तबीयत का ख्याल रखरहा है।

पूरी जिंदगी तिरंगे की शान के लिए खेले :बलबीर सिंह सीनियर के ग्रैंडसन कबीर ने कहा कि वे कभी हार नहीं मानने वाले खिलाड़ी रहे हैं, तो अब कैसे वो हार मान सकते थे। उन्होंने पूरी जिंदगी तिरंगे की शान के लिए खेला है और अभी भी उनकी रिकवरी के लिए उनकी नजरों के सामने तिरंगे को लगाया गया है। वे काफी अच्छी तरह से रिकवरी कर रहे हैं और जल्द ही वे पूरी तरह से स्वस्थ हो जाएंगे।

मेरे हौसले भी तो जिद‌्दी हैं :हॉकी स्टार बलबीर सिंह सीनियर ने अपने जन्म दिन पर कुछ लाइनें फेसबुक पर पोस्ट की थी। उन्होंने लिखा “ मंजिलें भी जिद्दी हैं, रास्ते भी जिद्दी हैं.. पर क्या करूं मैं, हौसले भी तो मेरे जिद्दी हैं”। उन्होंने उनके लिए दुआएं मांगने वाले फैंस और सपोर्टर्स को भी शुक्रिया कहा। दुनिया के बेस्ट स्पोर्ट्स पर्सन में से एक बलबीर सिंह सीनियर को पीजीआई के डॉक्टर्स ने 45 दिन तक आरआईसीयू में ही एडमिट रखा। उनकी तबीयत काफी खराब थी और
डॉक्टर्स कोई रिस्क नहीं लेना चाहते थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Improvement of Olympics Gold Medalist Balbir Singh Sr.

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/improvement-of-olympics-gold-medalist-balbir-singh-sr-01479150.html

लिव इन में रह रही 15 साल की लड़की हुई प्रेग्नेंट, केस दर्ज


चंडीगढ़.15 साल की नाबालिग 8 महीने की गर्भवती हो गई है। सेक्टर-11 थाना पुलिस ने डॉक्टरों के बयानों पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। अभी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। नाबालिग चंडीगढ़ की ही है और वह 19 साल के लड़के के साथ रहती थी। दोनों ने पुलिस को बताया है कि उन्होंने मंदिर में शादी कर ली थी।

शुक्रवार को जब लड़की को इलाज के लिए रात के समय जीएमएसएच-16 लेकर जाया गया तो पता चला कि लड़की की उम्र कम है। इसके बाद डॉक्टरों ने जानकारी पुलिस को दी। इसके बाद पुलिस ने केस दर्ज कर लिया। पुलिस उसके साथ रहने वाले लड़के को गिरफ्तार कर सकती है। लड़की इस मामले में अपनी रजामंदी से लड़के के साथ रहने की बात कर रही है। दोनों ने घरवालों की मर्जी के बगैर शादी की थी। शादी का कोई भी प्रूफ पुलिस को नहीं मिला है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
A 15-year-old girl pregnant who living in Live Inn

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/a-15-year-old-girl-pregnant-who-living-in-live-inn-01479148.html

सुल्तानपुर लोधी में डोमेस्टिक एयरपोर्ट बनाने की मांग को पीएमओ ने टाला


कपूरथला.श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव समागम 12 नवंबर को सुल्तानपुर लोधी में नेशनल स्तर पर मनाने की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। समागम में देश विदेश से 35 लाख से अधिक श्रद्धालु पहुंचने की संभावना है। समागम में देश के पीएम व कई राज्यों के सीएम भी आने हैं। इसी को देखते हुए विधायक नवतेज चीमा ने 27 मार्च 2018 को सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह को पत्र लिख कर सुल्तानपुर लोधी में डोमेस्टिक एयरपोर्ट बनाने की मांग की थी। इसी पत्र पर सीएम ने पीएम नरिंदर मोदी को इसकी सिफारिश भी की थी। लेकिन पंजाब सरकार को 9 महीने बाद इस मामले में निराशा ही मिली है।

पीएमओ हाउस ने कपूरथला से मात्र कुछ ही दूरी पर जालंधर में आदमपुर स्थित घरेलू हवाई अड्‌डा (डोमेस्टिक एयरपोर्ट) होने से सुल्तानपुर लोधी में डोमेस्टिक एयरपोर्ट बनाने से मना कर दिया है। खुशी की बात यह है कि विधायक चीमा की मांग पर भारत सरकार ने शताब्दी समागम मौके तीन दिन तक दिल्ली से सुल्तानपुर लोधी तक विशेष ट्रेन चलाने की मांग को मान लिया है। इसी को लेकर अब सुल्तानपुर लोधी का रेलवे स्टेशन अपग्रेड होगा।

भारत सरकार ने विशेष ट्रेन की बात मानी : नवतेज

विधायक नवतेज चीमा ने कहा कि भारत सरकार ने कहा है कि जालंधर में आदमपुर के पास घरेलू हवाई अड्‌डा पहले से ही है। इसलिए इतने पास में जहां पर एयरपोर्ट बनाया नहीं जा सकता।भारत सरकार ने उनकी दूसरी मांग को मान लिया है। वह मांग दिल्ली से सुल्तानपुर लोधी विशेष ट्रेन चलाने की थी। अब यह ट्रेन समागम मौके तीन दिन तक चलेगी। इसे देखते जहां का रेलवे स्टेशन अपग्रेड हो रहा है। देश विदेश से आ रहे श्रद्धालु अब दिल्ली से इस ट्रेन में आ सकते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Demand for making a domestic airport at Sultanpur Lodhi

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/demand-for-making-a-domestic-airport-at-sultanpur-lodhi-01479145.html

लुधियाना साइकिल वैली; हीरो साईकल्ज़ को 100 एकड़ ज़मीन अलॉट, एमओयू साइन


चंडीगढ़.पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गांव धनानसू में बनने वाली हाईटेक साइकिल वैली के तहत औद्योगिक पार्क स्थापित करने के लिए हीरो साइकिल्स लिमटिड को 100 एकड़ ज़मीन अलॉट करने का समझौता किया गया। इससे लुधियाना के हाईटेक साइकिल, ई-बाइक, ई-व्हीकल और लाईट इंजीनियरिंग इंडस्ट्री को बड़ा प्रोत्साहन मिलेगा।

शुक्रवार को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और उद्योग मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा की मौजूदगी में पंजाब स्मॉल इंडस्ट्रीज एंड एक्सपोर्ट कार्पोरेशन (पीएसआईईसी) के एमडी राहुल भंडारी और हीरो साईकल्ज़ लिमटिड के चेयरमैन पंकज मुंजाल ने इस संबंधी एक समझौते पर हस्ताक्षर किए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रोजेक्ट हीरो साइकिल लिमटिड और इसके साथ जुड़े सप्लायरों व सहायक औद्योगिक ईकाइयों के द्वारा 400 करोड़ रुपए का निवेश लाएगा और प्रत्यक्ष रोजगार के 1000 मौके पैदा होंगे। उन्होंने कहा कि इस औद्योगिक पार्क की क्षमता सालाना 4 मिलियन साइकिल तैयार करने की होगी और यह प्रोजेक्ट 36 महीनों में अमल में आएगा।

मेन्युफेक्चरिंग कंपनियों यूनिट लगाने के लिए न्योता :
हीरो साईकल्ज़ 50 एकड़ क्षेत्रफल को एंकर यूनिट के तौर पर विकसित करेगा, जबकि बाकी 50 एकड़ के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मेनुफेक्चरिंग कंपनियों को सहायक यूनिट लगाने का न्योता दिया जाएगा। मुख्यमंत्री का धन्यवाद करते हुए हीरो साईकल्ज़ के चेयरमैन पंकज मुंजाल ने बताया कि इस प्रोजेक्ट को तेज़ी से मंजूरी देने के लिए वह निजी तौर पर राज्य सरकार के ऋणी हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, उद्योग मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा, पीएसआईईसी के एमडी राहुल भंडारी, हीरो साईकल्ज़ लिमटिड के चेयरमैन पंकज मुंजाल

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/100-acres-of-land-allot-for-hero-cycles-limitid-to-set-industrial-park-01479137.html

सुरेश अरोड़ा के इस्तीफे की अटकलों को खुद डीजीपी ने बताया अफवाह


चंडीगढ़.पंजाब पुलिस के डीजीपी सुरेश अरोड़ा को एक्सटेंशन मिले अभी कुछ ही समय हुआ है, कि शुक्रवार को उनके इस्तीफे की पेशकश की चर्चा पुलिस महकमे में होने लगी। दिनभर पुलिल अधिकारी और नेता इसकी पुष्टि करने में लगे रहे लेकिन शाम होते होते खुद डीजीपी ने इस पर विराम लगा दिया।

डीजीपी अरोड़ा ने कहा कि उन्होंने न तो इस्तीफा दिया है और न ही राज्य सरकार से किसी विशेष समयावधि तक पद पर बने रहने का आग्रह किया है। शुक्रवार दिन भर यह चर्चा रही कि डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने सेवा विस्तार मिलने के दो दिन बाद ही खुद को जल्द से जल्द सेवामुक्त करने की पेशकश कर दी है। अटकलें यह भी रहीं कि डीजीपी ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर कहा है कि सरकार नए डीजीपी का चयन करने के लिए पैनल का गठन करे। जब तक नए डीजीपी की नियुक्ति नहीं हो जाती, तब तक वे सेवाएं देते रहेंगे।

हाल ही में केंद्र ने कार्यकाल में की है 9 महीने की वृद्धि :
बता दें कि डीजीपी सुरेश अरोड़ा को दो दिन पहले ही केंद्र सरकार द्वारा 9 महीने की और कार्यकाल वृद्धि प्रदान की है। अभी डीजीपी कार्यालय में बधाइयां देने वालों का दौर चल रहा था कि इसी बीच मीडिया के एक हिस्से में यह सूचना साझा की गई कि डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने मुख्यमंत्री को इस्तीफा भेज दिया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
डीजीपी सुरेश अरोड़ा

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/dgp-arora-tells-rumors-about-resignation-01479134.html

मजदूर ने सरकारी ग्रांट से बनाया एक कमरे का घर, बिजली बिल आया 10 लाख


फरीदकोट.पावरकॉम द्वारा भेजे गए दस लाख के बिजली बिल ने गांव दीप सिंह वाला के कच्चे मकान में रहते एक मजदूर के होश फाख्ता कर दिए। गांव दीप सिंह वाला के रहने वाले अंग्रेज सिंह ने बताया कि सरकार द्वारा आबंटित सहायता राशि से उसने कुछ महीने पहले ही एक कच्चे कमरे का निर्माण कर अपना सिर ढकने का जुगाड़ किया। उसके मकान में कोई फ्रिज, टीवी, गीजर, वाशिंग मशीन या प्रेस इत्यादि नहीं है। मात्र रोशनी के लिए उसने एक बल्ब लगा रखा है जो सिर्फ रात को जलता है। लेकिन पावरकाॅम ने उसे 10 लाख 63 हजार 940 रुपए का बिल भेज दिया।

गांव के दलित नेता निहाल सिंह ने बताया कि पावरकॉम ने गांव के 25 दलित परिवारों के कनेक्शन पहले ही बिल अदा न करने के चलते काट दिए हैं। निगरान इंजीनियर जसबीर सिंह भुल्लर ने कहा कि इस मामले की जांच के एसडीओ को आदेश दिए हैं। कनेक्शन काटने की बात पर उन्होंने कहा कि डिफाल्टरों के कनेक्शन काटे गए हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
दस लाख का बिल दिखाता मजदूर।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/rs-10-lakh-electricity-bill-of-one-room-house-01479133.html

चलती कार में लगी आग, जिंदा जला 38 साल का इंजीनियर


मोहाली.शुक्रवाररात सेक्टर-79/80 से बनूड़-लांडरां रोड को जोड़ने वाली सड़क पर गांव संभालकी के पास एक चलती कार में आग लग गई। कार सवार इंजीनियर माधव चतुर्वेदी (38) इसमें जिंदा जल गया। सेक्टर-108 में रहने वाले माधव आइडिया हरियाणा में एजीएम की पोस्ट पर तैनात थे।

वे मोहाली के सेक्टर-108 में रहते थे। वीरवार रात 11 बजे माधव अपने घर से निकले। करीब ढाई किलोमीटर दूर उनकी आई-10 कार आग की लपटों में घिर गई। मामला संदिग्ध लग रहा है। मौके पर पहुंचे फोरेंसिक साइंटिस्ट ने करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद 13 नमूने लिए।

इसमें खून के सैंपल, एक जली हुई हड्डी, मांस के कुछ टुकड़े व अन्य नमूने इकट्ठे कर सील किए हैं। टीम हेड का कहना है कि डीएनए से साफ होगा कि यह जला शव माधव का ही है या किसी और का। इसलिए पहले डीएनए टेस्ट करवाया जाएगा।

कार से ऐसी लपटें निकल रही थीं कि करीब 30 फुट ऊंचे सफेदे के पेड़ भी जल गए। घटनास्थल के आसपास की झाड़ियां भी जल गई थीं। गाड़ी एचआर 03यू-9250 माधव चतुर्वेदी के नाम पर थी, जिसका पता पंचकूला की आईटी कंपनी के नाम पर रजिस्टर्ड था। पुलिस ने कंपनी कर्मचारियों को मैसेज करवाया तो शुक्रवार सुबह सेक्टर-108 माधव का ही एक पड़ोसी अमित अपने बच्चे को स्कूल छोड़ने के लिए जा रहा था। वहां से गुजर समय भीड़ देखी तो रुक गया और उसने माधव की गाड़ी की पहचान की। इसके बाद एसएचओ त्रिलोचन को बताया और माधव के घर लेकर गया।

रिश्तेदार बोले-कत्ल किया गया
माधव की पत्नी, बेटा-बेटी कोटा गए हुए थे। रिश्तेदार सुबोध चतुर्वेदी ने कहा कि यह कोई हादसा नहीं है, मर्डर है। किसी ने गाड़ी को आग लगाकर उसको जलाया है। ऐसा कभी होता नहीं कि गाड़ी को आग लगे और चालक सुरक्षित बाहर न निकल सके।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
माधव चतुर्वेदी (मृतक)
दोनों पैर बाहर लटके थे, मतलब-निकलने का प्रयास तो किया लेकिन सीट बेल्ट लगे हाेने के कारण फंस गया

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/engineer-burned-alive-due-to-fire-in-car-01479132.html

भाजपा के राजेश कालिया बने मेयर, रोचक मुकाबले में पार्टी के बागी कैंडिडेट को दी शिकस्त


चंडीगढ़. चंडीगढ़ नगर निगम के सदस्यों ने शुक्रवार को अपना प्रतिनिधि यानि मेयर चुन लिया है। भारतीय जनता पार्टी से मैदान में उतरने वालेसतीश कालिया का मुकाबला पार्टी सेबागी हुए सतीश कैंथ से था, जिसके चलते यह टक्कर काफी रोचक रही। हालांकि सतीश इतिहास दोहराने में कामयाब नहीं हो सके।20 साल पहले भाजपाके बागी केवल कृष्ण आदिवाल ने पार्टीकैंडिडेट राजिंद्र का हरा दिया था।

इलेक्शन प्रोसेस पहली बार 3 बजे हुआशुरू :मेयर इलेक्शन शुक्रवार को दोपहर 3 बजे निगम हाउस में शुरू हुआ। बीजेपी के बागी मेयर सतीश कैंथ, बीजेपी कैंडिडेट राजेश कालिया का इलेक्शन प्रोसेस प्रिजाइडिंग ऑफिसर नॉमिनेटेड काउंसलर अजय दत्ता की देख-रेख में हुआ। इनमें से 16 वोट हासिल करके राजेश कालिया सिटी ब्यूटीफुल के मेयर बनने में कामयाब रहे।

पार्टी ने राजेश कालिया पर क्यों जताया भरोसा:राजेश कालिया भले ही पहली बार पार्षद बने हो, लेकिन पार्टी में वे काफी अनुभवी हैं। वे आरएसएस में द्वितीय वर्ष शिक्षित स्वयंसेवक हैं। एससी-एसटी मोर्चा चंडीगढ़ के दो बार अध्यक्ष रह चुके हैं। पार्टी के अनुसूचित जाति वर्ग की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य रहे हैं। पार्टी से जुड़े आंदोलनों में भी उनकी सक्रिय भूमिका रही है। राम जन्मभूमि आंदोलन के वक्त पर भी उन्होंने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था।

वाल्मीकि समुदाय में उनकी पकड़ भी काफी मजबूत है। पार्टी का मानना है कि शहर में इस समुदाय का करीब एक लाख वोट है, जो आगामी लोकसभा चुनाव के लिए काफी मायने रखता है। ये सब बातें राजेश कालिया के पक्ष में गईऔर उनके नाम पर मुहर लगाई गई। आखिर जीत का परचम लहराकर पार्टी हाईकमान की सोच को कालिया ने सही साबित कर भी दिया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Rajesh Kalia won Chandigarh Mayor seat for BJP obtaining 16 Votes

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/rajesh-kalia-won-chandigarh-mayor-seat-for-bjp-obtaining-16-votes-01478987.html

बेटी बोली- पापा के साथी पत्रकार से मदद के लिए कहा तो बोले- छोड़ो ये सब, हमें भी बच्चे पालने


चंडीगढ़. पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की बेटी श्रेयसि पंचकूला के एक कॉलेज में जर्नलिज्म पढ़ाती हैं। उनके पिता के हत्यारे को उम्र कैद की सजा होने पर बातचीत के दौरान उनसे पूछा- पत्रकारिता पढ़ाना महज इत्तेफाक है या फिर पहले से तय था? वे बोलीं- मैं बचपन से ही लिखने में दिलचस्पी लेती थी। पापा मुझे अपने साथ राइटर्स की मीटिंग्स में लेकर जाया करते थे। मैं भी कविताएं लिखने लगी। बाद में जब पापा ने अखबार शुरू किया तो कभी-कभी मेरा छोटा लेख भी वे लगाया करते थे। मैंने तब तय किया था कि बड़े होकर जर्नलिस्ट ही बनूंगी।

  1. मैं पापा जैसी ही बनना चाहती थी। लेकिन उनकी हत्या के बाद मुझे लगा कि मेरी जिम्मेदारी पत्रकार बनने से कहीं ज्यादा है। मैंने तब चुना कि मैं पत्रकारिता पढ़ाऊंगी। शायद पापा को मुझ पर इस तरह गर्व होगा। एक बेटी जो अपने पत्रकार पिता की तरह पत्रकार बनना चाहती थी लेकिन उनकी हत्या के बाद इरादा बदलकर पत्रकारिता पढ़ाने का फैसला करती है।

  2. अपने स्टूडेंट्स से कभी ये नहीं बता पाई कि वे रामचंद्र छत्रपति की बेटी हैं। ऐसा क्यों ? वे बोलीं- मैं किसी तरह का व्यक्तिगत कनेक्ट देकर विषय को बदलना नहीं चाहती थी। मेरा मानना था कि बच्चे पत्रकारिता सीखें। वे उन उदारहणों के बारे में जानें जहां लोग सच और एथिक्स के लिए अपनी जान की परवाह तक नहीं करते। सच्ची पत्रकारिता करते हैं। अब जबकि सबको पता चल गया है तो बात अलग है। मैं तो अपने नाम के आगे छत्रपति भी तभी लगाना चाहती थी जब पापा के हत्यारों को सजा हो जाए और मैं इस लायक बन जाऊं कि पापा मुझ पर गर्व कर सकें।

  3. मेन स्ट्रीम मीडिया ने तो चुप्पी साध ली थी... पिता के हत्यारे को सजा मिली दूसरी तरफ उनके दिल में कुछ शिकायतें भी हैं। उन्होंने कहा- पिता के जाने के बाद हम पर बुरा समय आया। लोग बदल गए। नेताओं ने अपने रवैये रखे ही। हमारा साथ देने वाले कम थे। मुझे सबसे बुरा लगा मेनस्ट्रीम मीडिया का इस बारे में चुप्पी साध लेना। अगर ऐसा न हुआ होता तो इस केस को अंजाम तक पहुंचने में सोलह साल तो न लगते।

  4. मुझे याद है जब मैं सिरसा में पत्रकारिता पढ़ रही थी तो एक प्रोग्राम में कुछ ऐसे पत्रकारों के साथ हमारा संवाद कराया गया जो मेरे पिता के सहयोगी रहे थे। उस प्रोग्राम के मुख्यअतिथि के तौर पर आए हुए वरिष्ठ पत्रकार से मैंने कहा कि आप लोग तो उनका साथ देने की कसम खाते थे। उनके लिए अब कुछ क्यों नहीं कर रहे ? तब वे नाराज होकर मुझपर लगभग बरस पड़े ये कहते हुए कि छोड़ो ये सब, हमें भी तो अपने बच्चे पालने हैं। तो ये आलम था लोगों का हमारे बुरे समय में। हम तो तरस जाते थे कि पापा के बारे में कहीं कोई खबर आ जाए। अगर कभी डेरा प्रमुख के खिलाफ कोई खबर छपी देख लें तो बहुत खुश होते थ।

  5. आज की तारीख में छत्रपति का अखबार पूरा सच बंद है। उसके रिवाइल को लेकर वे और उनका परिवार क्या सोच रहा है? श्रेयसि ने बताया- पिछले दिनों मेरे पिता की डेथ एनिवर्सिरी पर से संकल्प लिया गया था कि उसे दोबारा शुरू किया जाएगा। चार भाई बहनों में श्रेयसि तीसरे नंबर पर हैं।

  6. पिता के जाने के बाद परिवार पर जो वक्त आया में किस तरह की परेशानियां रहीं और कैसे जीवन आगे बढ़ा? वे कहती हैं- पापा ने अखबार पैसा कमाने के लिए शुरू नहीं किया था। वे तो इसे सच की आवाज बनाकर जिंदा रखना चाहते थे। परिवार का गुजारा पहले भी खेती-बाड़ी से ही चलता था और बाद में भी उसी से चलता रहा। हां, दिक्कतें आईं क्योंकि सब भाई बहन छोटे थे। मैं भी साेलह साल की ही थी। मां ने बहुत हिम्मत से सारी जिम्मेदारियां निभाईं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      श्रेयसि छत्रपति। (फाइल)

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/ram-chander-chhatrapati-daughter-shreyasi-chhatrapati-interview-01478889.html

सिद्धू फिर चर्चा में; अबकी बार शेर के जोड़े को लिया गोद, इनके खान-पान पर सालाना 4 लाख का खर्चा


चंडीगढ़.पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू एक बार फिर चर्चा में हैं। अब खबर आई है कि उन्होंने शेर के एक जोड़े को गोद लिया है। यह ऐलान सिद्धू नेजीरकपुर के छतबीड़ स्थित चिड़ियाघर में पर्यटन विभाग की तरफ से करवाए जा रहे 8 करोड़ के नवीनीकरण कार्य का जायजा लेने के दौरान किया।यहां उन्होंने विभाग की तरफ से एक खास बस का उद्घाटन भी किया, जो आने वाले वक्त में पंजाब के लगभग हर बड़े मेले की पार्किंग में खड़ी देखी जा सकेगी। यहां चिड़ियाघर में शेर अमन और शेरनी दीया को देखते ही पर्यटन मंत्री सिद्धू उन पर मोहित हो गए।

बाघों के जोड़े से जुड़ी कुछ खास बातें :सिद्धू ने चिड़ियाघर में जीव-जंतुओं के प्रवासस्थलों का दौरा भी किया। वह बाघों के जोड़े (शेर अमन और शेरनी दीया) पर इस कदर फिदा हुए कि उन्होंने इस जोड़े गोद लेने का फैसला कर लिया। रेंज अफसर हरपाल सिंह का कहना है चिड़ियाघर के इतिहास में पहली बार किसी ने दो बाघों (नर व मादा जोड़ी) को गोद लिया है।बंगाली टाइगर अमन की उम्र छह साल और दीया की पांच साल है।

अमन का रंग गोल्डन और दीया का रंग सफेद है। इनके खाने-पीने, रहन-सहन पर सालाना चार लाख रुपये खर्च आता है। गोद लेने के बाद सारा खर्च संबंधित व्यक्ति को देना पड़ता है। चिड़ियाघर प्रशासन की तरफ से स्पाॅन्सर राशि के साथ जानवर गोद लेने की स्कीम के बारे में भी सिद्धू को बताया गया। इसके तुरंत बाद सिद्धू ने दोनों को गोद लेने की घोषणा कर दी। बता दें कि नवंबर में पाकिस्तान से काले तितर की खाल से बनी एक ट्रॉफी लाने के बाद सिद्धूविवादाें में घिर गए थे।

कई लोगों की मदद कर चुके हैं सिद्धू : इससे पहले सिद्धू की तरफ से पिछले साल दशहरे के दिन अमृतसर में हुए रेल हादसे के पीड़ित सात परिवारों को सात हजार रुपए प्रति माह देने की घोषणा की थी। अमृतसर में ही आग से गेहूं की फसल बर्बाद होने पर किसान की लाखों रुपए की सहायता की थी। पिछले वर्ष पंजाबी नाटककार अजमेर सिंह औलख के इलाज के लिए आठ लाख रुपए दिए थे।

सिद्धू नेजीरकपुर में चिड़ियाघर के नवीनीकरण कार्य का निरीक्षण किया

दरअसल, जीरकपुर के छतबीड़ स्थित चिड़ियाघर में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए प्रदेश के पर्यटन विभाग ने यहां कई सारे बदलाव करने का फैसला लिया है। प्रदेश सरकार ने 8 करोड़ रुपए से यहां नवीनीकरण का काम शुरू करवाया। काम निर्धारित गति से पूरा होने की दिशा में बढ़ रहा है। 26 जनवरी को यहां मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह नवीनीकरण का काम पूरा होने पर इसे पर्यटकों को समर्पित करने की औपचारिकता पूरी करेंगे।

इससे पहले गुरुवार को पर्यटन मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू यहां कराए जा रहे काम का जायजा लेने पहुंचे। उन्होंने टिकट घर, वेटिंग रूम, कैफेटेरिया, आगमन और निकास के नए गेटों के अलावा इंटरपर्सन सेंटर और आर्टिफिशियल लेक का जायजा लिया। इसके बाद चिड़ियाघर के अफसरों-कर्मचारियों, खासकर यहां तैनात रेंज हरपाल सिंह की खासी तारीफ की।

रेंज अफसर हरपाल सिंह ने बताया कि इसी महीने आने-जाने के लिए एक मेन गेट शुरू हो जाएगा। इस दौरान सिद्धू ने कहा कि कांग्रेस की सरकार को आए 2 साल ही हुए हैं और सरकार के प्रयासों के चलते यहां पर्यटकों की आवक 5 से बढ़कर 8 लाख हो गई है। सरकार का लक्ष्य है कि यह आंकड़ा हर साल 10 लाख तक पहुंचाया जाए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
जीरकपुर के छतबीड़ जू में पक्षियों को देखते पर्यटन मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू।
बाघों का जोड़ा, जिसे सिद्धू ने देखते गोद लेने का फैसला कर दिया।
पर्यटन विभाग की तरफ से चलाई गई बस, जो पंजाब की विरासत के बारे में जानकारी बढ़ाएगी।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/cabinet-minister-punjab-navjot-singh-sidhu-adopted-a-couple-of-lion-and-lioness-01478909.html

डेरे की गाड़ी से बच्चे की मौत की शिकायत के बाद राम रहीम की निगाह में आ गए थे रामचंद्र छत्रपति


चंडीगढ़ (संजीव महाजन/अमित शर्मा).पत्रकार रामचंद्र छत्र‍पति की 2002 में हुई हत्या के 16 साल बाद सीबीआई कोर्ट नेगुरुवार कोडेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह समेत चार दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई। आमतौर पर ऐसा कहा जाता है कि डेरा के साथ छत्रपति की दुश्मनी साध्वियों के यौन शोषण का मामला सामने लाने के बाद से हुई थी, पर ऐसा नहीं है।


दरअसल,1998 मेंडेरे की ओर से लोगों को सिरसाबस स्टैंड से डेरा लेकर आने के लिए अपने व्हीकल चलाए जाते थे। डेरे के साथ लगते गांव बेगू का एक बच्चा एक गाड़ी से एक्सीडेंट में मारा गया। इस पर बेगू गांव के लोगों ने सड़क जाम कर दी। लोगों की डिमांड थी कि डेरे पर मामला दर्ज हो। बात मीडिया में आई। इस पर डेरे के लोग भी जमा हो गए। पत्रकारों को धमकाया गया तो पुलिस में इस बारे में शिकायत दी गई। शिकायत देने वालों में रामचंद्र छत्रपति पहले नंबर पर थे।

गुरमीत सिंह के खिलाफ आवाज उठाने वालों में थे सबसे आगे

  • इस मामले में प्रशासन के दखल के बाद समझौता हुआ तो डेरा कमेटी ने माफी मांगी। इस पर पांच पत्रकारों की कमेटी ने साइन किए, जिसमें सबसे पहले छत्रपति थे। इस पर वे डेरे की निगाह में आ गए।
  • 2001 में कुछ लोगों ने डेरे के खिलाफ उस समय के सीएम बंसीलाल को ज्ञापन दिया। इसमें छत्रपति ने ही लोगों की मांग को आगे रखा और ज्ञापन दिलवाया था। इस पर कार्रवाई भी हुई। इस दौरान भी छत्रपति डेरा प्रबंधन की नजर में थे।
  • 2001 में डेरा प्रबंधन को लेकर खबरें सामने लगीं तो प्रबंधन ने छत्रपति को डराने का काम शुरू कर दिया।
  • मई 2002 में साध्वियों की ओर से भेजी गई चिट्‌ठीसामने आई। 1998 में डेरे की ओर से पत्रकारों को डराने के बाद किसी ने इस खबर को जगह नहीं दी तो छत्रपति ने इसे प्रकाशित किया। ऐसे में अगले दिन ही छत्रपति को धमकी भरेकॉल्स आने शुरू हो गए।छत्रपति का ऑफिस रेलवे फाटक के पास दिल्ली हाईवे पर था, जहां लोगों ने बाहर आकर भी उन्हें धमकाया।
  • इसके बाद डेरे के फाॅलोअर्स ने फतेहाबाद में, सिरसा, रतिया सहित कई जगहों पर पत्रकारों को धमकाया। चिट्‌ठी बांटने का आरोप लगा कई लोगों से अन्याय किया गया तो उन लोगों की खबरों को भी लिखा गया।
  • इसके बाद डेरे की ओर से कोर्ट में सीबीआई इंक्वायरी को लेकर पटीशन दायरकी गई,जिसे कोर्ट ने रिजेक्ट कर दिया था। इस मामले को रामचंद्र छत्रपति ने अपने अखबार पूरा सच में लिखा। इसकेअगले ही दिन रामचंद्र को उनके घरसे बाहर बुलाकर गोली मार दी गई थी।इससे पहले आरोपी कृष्ण लाल ने तो कई बार उन्हें धमकाया था।

रामचंद्र ने पहलेही दी थी प्रशासन को शिकायत :
रामचंद्र को काफी समय पहले से ही धमकियां मिलने लगी थीं। उनकी ओर से सिरसा प्रशासन और पुलिस को शिकायत दी गई थी, लेकिन प्रशासन और पुलिस की ओर डेरा प्रमुख की पहुंच के कारण न तो कोई कार्रवाई की गई और न ही सिक्युरिटी दी गई।

पुलिस शुरू से ही रही प्रभाव में, बदले गए थे बयान : रामचंद्र छत्रपति के सबसे बड़े बेटेअंशुलछत्र‍पति ने बताया कि डेरा प्रमुख का इस कदर प्रभाव था कि पुलिस को रामचंद्र ने जो बयान अस्पताल में नोट करवाए थे, उसमें गुरमीत राम रहीम का नाम था, लेकिन उसे नहीं डाला गया। इसके बाद सीबीआई जांच के लिए कोर्ट में अपील दायर की गई थी। कोर्ट में पुलिस सब इंस्पेक्टर ने कहा था कि उस दौरान अस्पताल में कोई भी नहीं था, आईसीयू में भी कोई नहीं था। लेकिन डॉक्टर्स और हमारे बयानों में सामने आया था कि आईसीयू में डॉक्टर्स और हम वहीं थे। वहांतीन बैड लगे हुए थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Chhatrapati and Deshmukhi Hostility start after a accident

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/chhatrapati-and-deshmukhi-hostility-start-after-a-accident-01478780.html

जजमेंट दिखाकर वकील बोला-17 कत्ल करने वालों को फांसी नहीं हुई तो राम रहीम को क्यों


चंडीगढ़.जब सीबीआई के वकील एचपीएस वर्मा ने जजमेंट का हवाला देते हुए कहा कि गुरमीत राम रहीम पहले साध्वियों के यौन शौषण का आरोपी है, सजा काट रहा है, उसने लोगों की आस्था से खेला है, अपनी पावर दिखाते हुए उसने सच लिखने वाले पत्रकार की हत्या कर दी। ऐसे में उसे सिर्फ और सिर्फ फांसी की सजा ही दी जाए। बहस में डेरा प्रमुख के वकीलों की ओर से कई केसों की और रूलिंग का हवाला दिया।

इसमें पंजाब, छत्तीसगढ़, केरला और कर्नाटक के तीन केसों के बारे में बताया गया। कहा गया था कि ये तीन केस भी इसी केस की तर्ज पर है। इसमें साजिशकर्ता को मेन दोषियों की तर्ज पर सजा नहीं हुई थी। ये सब सुप्रीम कोर्ट की रूलिंग के तहत है। डेरे के वकीलों की ओर से ऐसे केसों में माछी सिंह स्टेट/पंजाब स्टेट का हवाला दिया गया, जिसमें अलग-अलग पांच इंसीडेंट मेंज 17 लोगों का मर्डर किया गया था, इसमें कोर्ट ने उन्हें दोषी किया। लेकिन ये सब कत्ल जिसके इशारे में हुए,उसके सामाजिक कार्यों को देखते हुए सिर्फ 120 बी यानि कत्ल की साजिश के तहत की सजा सुनाई गई थी। कोर्ट ने ये दलीलें खारिज कर दीं।

पहली बार लगी लेट तक कोर्ट :

सीबीआई कोर्ट पहली बार इतनी देर तक लगी रही। सीबीआई और डेरा प्रमुख के वकीलों की बहस पूरी होने के बाद शाम तक सभी ऑर्डर का इंतजार करते रहे। फैसला शाम 6:18 बजे आया। फैसला आने के 20 से 22 मिनट के बाद ही सीबीआई के वकील और अंशुल छत्रपति बाहर आए।

हाथ जोड़े खड़ा रहा गुरमीत सिंह:
डेरा प्रमुख की पेशी के लिए रोहतक की सुनारिया जेल में टैंपरेरी कोर्ट लगाई गई थी। जहां स्टाफ को रहने के लिए कहा गया था। डेरा प्रमुख 2 बजे से ही वीसी पर आगया था। वह पूरे समय हाथ जोड़कर खड़ा रहा। उसने कैदियों के कपड़े डाले हुए थे, जबकि सिर पर काले रंग की एक ऊन की टोपी पहनी हुई थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Court decision live on Gurmeet Ram Rahim

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/court-decision-live-on-gurmeet-ram-rahim-01478784.html

निक नेम के चक्कर में चली गई ट्रैफिक इंचार्ज की जान


डेराबस्सी (मनोज राजपूत).ओए लक्खे..! नशे में धुत नाइट मुंशी काले खान जब ऊंची आवाज में ललकारा, उसी समय बिजली गुल होने से रोशनी कम हो गई। नाम सुन पोर्च के बाहर लौट रहे एएसआई लखविंदर उर्फ लक्खा जैसे ही पीछे मुड़ा, काले खान ने बिना पहचाने ही उस पर दस फीट की दूरी से फायर दाग दिया।

गले पर लगते ही गोली पीठ के रास्ते आरपार हो गई और लखविंदर वहीं ढेर हो गया। दो मिनट बाद बिजली आई तो काले खान को पता चला कि मारा गया लक्खा हवलदार लेखराज नहीं था जिससे उसकी हाथापाई हुई थी बल्कि ट्रैफिक इंचार्ज लखविंदर था उर्फ लक्खा था जिसने महज बीच बचाव किया था। गुल हुई बिजली के बीच एक ही निक नेम लक्खा दूसरे का काल बन गया। ट्रैफिक इंचार्ज लखविंदर सिंह के शव का वीरवार दोपहर डेराबस्सी सिविल अस्पताल में पोस्टमार्टम किया गया। तीन डॉक्टर्स का पैनल बनाकर किए गए पोस्टमॉर्टम में 2 घंटे का समय लगा।

इस दौरान बॉडी से बुलेट तो रिकवर नहीं हुई तो उसके सिक्के का छोटा सा हिस्सा रिकवर हुआ है। पोस्टमॉर्टम वाले पैनल का कहना है कि गोली लखविंदर की ठोड़ी के बाइं ओर लगी जो सांस व भोजन नली समेत गले और एक फेफड़े को चीरती हुई पीठ के दाएं ऊपरी हिस्से से आरपार हो गई। इतने ज्यादा वाइटल ऑर्गंस डैमेज होने से ट्रैफिक इंचार्ज ने मौके पर दम तोड़ दिया। दोपहर करीब 1 बजे पोस्टमॉर्टम के बाद शव को पटियाला में त्रिपड़ी स्थित रवाना किया, जहां अंतिम संस्कार किया गया।

लखविंदर सिंह अपने पीछे पत्नी के अलावा दो बेटे व एक बेटी छोड़ गया है। उधर, जिला मोहाली के एसएसपी कुलदीप सिंह चाहल ने डेराबस्सी पुलिस थाने के प्रभारी इंस्पेक्टर मोहिंदर सिंह का तबादला कर उन्हें पुलिस लाइंस भेज दिया है। उनके स्थान पर मोहाली से इंस्पेक्टर लखविंदर सिंह को नया थाना प्रभारी तैनात किया गया है। मोहिंदर सिंह के तबादले को डेराबस्सी पुलिस थाने में एक नाइट मुंशी द्वारा नशे की हालत में ट्रैफिक इंचार्ज एएसआई लखविंदर सिंह की गोली मारकर हत्या करने के मामले से जोड़कर देखा जा रहा है। इस संगीन घटना का नजला उन पर गिरा है। इस घटना की जांच के लिए एक कमेटी का भी गठन किया गया है। बहरहाल, नए एसएचओ लखविंदर सिंह ने वीरवार शाम अपना पदभार संभाल लिया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
‘ओए लक्खा’ सुन मुड़े लखविंदर
अचानक चली गई लाइट
फिर मुंशी ने चला दी गोली

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/traffic-incharge-murder-case-in-chandigarh-01478777.html

वोटिंग आज, 20 साल बाद भाजपा के मेयर कैंडिडेट का बागी से मुकाबला


चंडीगढ़.मेयर पद के लिए मुख्य मुकाबला बीजेपी के बागी सतीश कैंथ और बीजेपी कैंडिडेट राजेश कालिया के बीच होगा। देर रात तक कालिया के लिए बीजेपी नेता पूरा जोर लगाते दिखे। वहीं सतीश कैंथ की स्थिति रात तक मजबूत दिखी। उन्हें कांग्रेस मौके पर समर्थन देगी।


बीजेपी के दोनों ही धड़ों में बागी कैंडिडेट की सेंध लग चुकी है, क्योंकि बीजेपी कैंडिडेट राजेश कालिया का विरोध हो रहा है। ऐसे हाल में एक बार फिर बीजेपी 20 साल पहले का इतिहास दोहरा सकती है। बीजेपी के बागी केवल कृष्ण आदिवाल ने 20 साल पहले बीजेपी कैंडिडेट राजिंद्र का हरा दिया था। अगर बागी बीजेपी कैंडिडेट हारा तो उसपर पार्टी कार्रवाई करेगी।

इलेक्शन प्रोसेस पहली बार 3 बजे होगा शुरू: मेयर इलेक्शन शुक्रवार को दोपहर 3 बजे निगम हाउस में होगा। बीजेपी के बागी मेयर सतीश कैंथ, बीजेपी कैंडिडेट राजेश कालिया का इलेक्शन प्रोसेस प्रिजाइडिंग ऑफिसर नॉमिनेटेड काउंसलर अजय दत्ता की देख-रेख में होगा। इनमें से एक के मेयर बनते ही कुर्सी संभालेगा।

कैंथ की जीत पर रहेगा इसका फैसला: सतीश कैंथ के पक्ष में चुनाव प्रक्रिया शुरू होते ही कांग्रेस की मेयर कैंडिडेट शीला फूल सिंह नामांकन वापस ले सकती हैं। अगर कैंथ मेयर चुनाव जीत गए तो कांग्रेस के सीनियर डिप्टी मेयर कैंडिडेट गुरबख्श रावत और डिप्टी मेयर कैंडिडेट रविंद्र कौर गुजराल भी नामांकन वापस ले लेंगी। ऐसे में बीजेपी-शिअद बादल के सांझे कैंडिडेट हरदीप सिंह और बीजेपी के डिप्टी मेयर कैंडिडेट कंवरजीत सिंह राणा निर्विरोध विजयी हो सकते हैं। अगर बीजेपी बागी कैंडिडेट मेयर चुनाव में हार गए तो गुरबख्श और गुजराल चुनाव लड़ेंगे।

27 वोट में से ज्यादा लेगा वही बनेगा मेयर:
काउंसलर के 26 वोट हैं, जबकि एक वोट सांसद का है। बीजेपी के 20, उसकी सहयोगी शिअद बादल काउंसलर का एक, आजाद काउंसलर का एक वोट और चार वोट कांग्रेस काउंसलर के हैं। ऐसे में मेयर चुनाव जीतने के लिए 14 वोट चाहिए।

अगर फैसला पक्ष में आया तो 9 नॉमिनेटेड काउंसलर डालेंगे वोट :

निगम में 9 नॉमिनेटेड काउंसलर के वोटिंग राइट का फैसला भी शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में आ सकता है। वोटिंग राइट खत्म करने की पैरवी के लिए पूर्व काउंसलर सतिंदर सिंह अपने वकील के साथ वीरवार शाम ही दिल्ली पहुंच गए हैं। वहीं प्रशासन की ओर से दो वकील इस मामले पर जिरह करेंगे। अगर वोटिंग राइट के पक्ष में फैसला आ गया तो सभी 9 नॉमिनेटेड काउंसलर वोट कर सकेंगे। अगर आगे डेट बढ़ गई तो वोट नहीं दे पाएंगे। हाईकोर्ट ने नॉमिनेटेड काउंसलर के वोटिंग राइट को खत्म करने का 2016 में फैसला दिया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
राजेश कालिया भाजपा
सतीश कैंथ भाजपा से बागी
शीला फूल सिंह कांग्रेस

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/voting-for-mayor-in-chandigarh-today-01478775.html

एयरपोर्ट की तरह बनेगा ‘बस पोर्ट’, मिनिस्ट्री के ऑर्डर पर काम शुरू


चंडीगढ़ (गौरव भाटिया).चंडीगढ़ के बस स्टैंड की सूरत बदलने वाली है। अब बस स्टैंड पर फ्री वाईफाई, फूड कोर्ट, लग्जरी एकोमोडेशन मिलेगी। यह सबकुछ मुमकिन होगा बस पोर्ट के तहत। मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाईवेज ने चंडीगढ़ प्रशासन को लिखा है कि वे बस पोर्ट की मॉडलिटिज पर काम करे। देखें इसे कैसे बनाया जा सकता है।

ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट, इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट और आर्किटेक्ट डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने इस पर मीटिंग की। जिस तरह की फैसेलिटीज एयरपोर्ट पर मिलती हैं, उस तरह की बस पोर्ट में मिलेंगी। यह पोर्ट आईएसबीटी सेक्टर-43 या आईएसबीटी सेक्टर-17 में ही बन सकता है। एक मॉडल तैयार किया गया है, जिसे फॉलो करने के लिए कहा गया है। अभी इसकी डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनना बाकी है। जब यह पूरी होगी तब इसे मिनिस्ट्री को भेजा जाएगा।

चंडीगढ़ को केंद्र सरकार के साथ एक स्टेट स्पोर्ट एग्रीमेंट करना होगा, इसके बाद ही प्रोजेक्ट के लिए पैसा मिलेगा। सबसे पहले चंडीगढ़ प्रशासन को एक नोडल एजेंसी नियुक्त करनी होगी, जो बस पोर्ट डेवलपमेंट पर काम करे। प्रोजेक्ट को रिव्यू करने और उसकी मॉनिटरिंग पर जो प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसलटेंट लगाया जाएगा, उस पर आने वाला खर्च मिनिस्ट्री देगी। यह प्रोजेक्ट बिल्ट ऑपरेट ट्रांसफर पर बनेगा।

समस्या एफएआर की :चंडीगढ़ प्रशासन को इसके लिए सबसे ज्यादा समस्या फ्लोर एरिया रेशो (एफएआर) की आ रही है, क्योंकि जितने बड़े स्तर पर यह बनना चाहिए, उतनी इजाजत फिलहाल आर्किटेक्चर डिपार्टमेंट नहीं देता। ऐसे में प्रशासन के अधिकारी अब एक अन्य मीटिंग करेंगे, जिसमें इन दिक्कतों के सॉल्यूशन पर बात की जाएगी।

यह सबकुछ -

  • बस पोर्ट गुजरात के वडोदरा की तर्ज पर बनाने की तैयारी
  • सभी मॉडर्न फैसेलिटीज होंगी।
  • गवर्नमेंट के साथ प्राइवेट बसों को भी आने की इजाजत देनी होगी।
  • प्राइवेट व्हीकल्स के लिए स्पेशली डिजाइनिंग पार्किंग स्लॉट होंगे।
  • वर्ल्ड क्लास एग्जीबिशन सेंटर होगा।
  • फूड कोर्ट, लग्जरी एकमोडेशन
  • शॉपिंग एरिया, माॅडर्न कैफेटेरिया
  • मल्टीप्लैक्स और बेहतरीन क्लॉक रूम होंगे।
  • पोर्ट में बसें खड़ी होंगी और वह पूरी तरह से कवर रहेगा,
  • गर्मियों में एयर कंडीशनिंग और सर्दियों में गर्म रहेगा।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
इस मॉडल पर किया जाएगा तैयार

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/bus-port-will-become-like-airport-in-chandigarh-01478773.html

कंडी क्षेत्र के विकास के लिए 100 करोड़ जारी होंगे, 24 घंटे मिलेगी बिजली : सीएम


चंडीगढ़.बजट से पहले विचार चर्चा के दूसरे दौर में सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने वीरवार को दोआबा के कांग्रेस विधायकों से मीटिंग की। इसमें कंडी क्षेत्र विकास बोर्ड के पुनरुद्धार की घोषणा के साथ ही कंडी क्षेत्र के विकास के लिए 100 करोड़ जारी करने के लिए वित्त विभाग को निर्देश दिए। ये ग्रांट पेयजल, सड़क संपर्क और बिजली जैसी बुनियादी नागरिक सुविधाओं पर खर्च की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने वित्त विभाग को कंडी क्षेत्र में गहरे नलकूप लगाने के लिए भी अतिरिक्त 10 करोड़ जारी करने को कहा। कंडी क्षेत्र में घरेलू व कृषि उपभोक्ताओं को 24 घंटे निर्बाध बिजली देना भी यकीनी बनाने के आदेश दिए। इसके लिए उन्होंने बिजली मंत्री से इस मुद्दे पर गौर करने को कहा। सीएम ने यह भी घोषणा की कि उनकी सरकार आने वाले बजट में भूमिहीन मजदूरों के ऋण माफ करने का प्रावधान भी करेगी। इस योजना को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने विधायकों से कहा, इस वित्त वर्ष के अंत तक सात लाख किसानों को 6000 करोड़ रुपये की ऋण राहत प्रदान की जाएगी जबकि शेष 10.25 लाख किसानों को अगले साल कवर किया जाएगा। गुरदासपुर से सांसद सुनील जाखड़ ने आयुर्विज्ञान संस्थान जालंधर के समझौते पर फिर से विचार करने के कहा ताकि लोगों को सस्ती दरों पर स्वास्थ्य सेवाएं मिलें और यह दोआबा क्षेत्र का प्रमुख स्वास्थ्य संस्थान भी बने।

मीटिंग में जालंधर से सांसद चौधरी संतोष सिंह ने केंद्र से पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप का 1700 करोड़ बकाया जारी करवाने की मांग की। उन्होंने फर्जी नीले कार्ड धारकों का मुद्दा उठाते हुए जांच कराने को कहा ताकि वास्तविक लाभार्थियों को योजना में शामिल किया जा सके।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/100-crores-will-be-released-for-development-of-kandi-area-01478771.html

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष राठौर की ताजपोशी पर वीरभद्र-सुक्खू के सामने ही समर्थकों में चले लात-घूंसे, इंटक नेता का सिर फोड़ा


शिमला.कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर की ताजपोशी पर वीरवार को कांग्रेस मुख्यालय जंग का मैदान बन गया। राजीव भवन में पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और पूर्व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू के समर्थक एक-दूसरे के नेताओं पर व्यक्तिगत टिप्पणियां करते हुए भिड़ गए।

यह सब कुछ वीरभद्र और सुक्खू के सामने ही हुआ। दोनों गुटों के बीच पहले कुर्सियां और बाद में जमकर लात-घूंसे चले। सुक्खू समर्थक इंटक हमीरपुर के जिलाध्यक्ष राजीव राणा का सिर फोड़ दिया गया। कुछ अन्य कार्यकर्ताओं काे भी चोटें लगी

इसलिए विवाद:पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ने पिछले दिनों कहा था कि हाईकमान ने सुक्खू को प्रदेशाध्यक्ष पद से हटाकर ठीक किया। सुक्खू ने पार्टी में व्यक्तिगत कुनबा बढ़ाया है। इस पर सुक्खू ने पलटवार किया था कि कांग्रेस मजबूत है और जीत के लिए वीरभद्र का हाेना जरूरी नहीं है।हैं। पुलिस ने राणा की शिकायत पर छह से ज्यादा लोगों पर केस भी दर्ज कर लिया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कांग्रेस भवन में वीरभद्र-सुक्खू समर्थकों में मारपीट।
घायल राजीव राणा

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/workers-fought-in-shimla-congress-office-01478770.html

वीजा को यात्रा परमिट में बदल केंद्र दे राहत : कैप्टन


चंडीगढ़.मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ऐतिहासिक करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शनों की प्रक्रिया को गैर-जरूरी तरीकों के साथ जटिल बना कर सिख भाईचारे के सपनों को नाकाम करने की कोशिश करने के लिए केंद्रीय मंत्री और पंजाब भाजपा के पूर्व प्रधान विजय सांपला की तीखी आलोचना की है।

कैप्टन ने कहा कि सिख श्रद्धालुओं को सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए तरीके ढूंढने की जगह केंद्र सरकार खासकर सांपला जैसे जिम्मेदार चुने हुए नुमाइंदे लगातार इसके रास्ते में रोड़े बिछा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह यकीनी बनाने की जरूरत है कि यह ऐतिहासिक गलियारा एक बेकार विचार की तरह खत्म न हो जाए जिससे भारत और विदेशों में बसते सिख भाईचारे में निराशा पैदा होगी।

उन्होंने कहा कि करतारपुर साहिब के दर्शनों को सपने की हकीकत में लाने के लिए केंद्र सरकार की तरफ से कुछ विशेष कोशिशें किये जाने की जरूरत है। कैप्टन ने कहा कि पासपोर्ट खत्म करना असंभव नहीं है। करतारपुर साहिब को जाने वाले श्रद्धालुओं को यात्रा परमिट पर यात्रा के दौरान वीजा जरूरतों को लाजिमी तौर पर पूरा किया जा सकता है।

कैप्टन ने कहा कि यात्रा परमिट गलियारे में दाखिल होने के लिए काफी होगा। इसके साथ आधार कार्ड (नागरिक का बायोमैट्रिक विवरण) जैसा दस्तावेज़ उन लोगों के लिए पहचान प्रूफ के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है जो गलियारे के द्वारा यात्रा करना चाहते होंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/amarinder-asked-center-to-ease-visa-process-of-kartarpur-sahib-01478768.html

सेना ने डी-फ्यूज किया फतेहपुर में मिला ग्रेनेड, धर्मशाला से भी पहुंची थी बम डिस्पोज सेल की टीम


धर्मशाला। उपमंडल फतेहपुर के तहत सिहाल में पुल के नीचे मिले जिंदा ग्रेनेड को नष्ट कर दिया है। राइजिंग स्टार सैपर्स व् हिमाचल पुलिस की बम डिस्पोजल टीम ने हैंड ग्रेनेड को नष्ट कर दिया। राइजिंग स्टार के मीडिया प्रवक्ता ने बताया कि फतेहपुर के गांव जगनोली में पौंग डैम के किनारे एक अनिक्सप्लोडिड हैंड ग्रेनेड मिला है। जिला मजिस्ट्रेट ने सेना के बम डिस्पोजल दस्ते की मांग की।

बुधवार शाम को पौंग डैम के किनारे कुछ कबाड़ियों को यह ग्रेनेड मिला था जिससे क्षेत्र में सनसनी फैल गई थी। कबाड़ इकट्‌ठाकरने वालों ने तुरंत स्थानीय लोगों की मदद से फतेहपुर पुलिस को सूचित किया। सूचना मिलते ही थाना प्रभारी सुरेश शर्मा के नेतृत्व में पुलिस टीम मौके पर पहुंची और जांच शुरू की।

थाना प्रभारी ने बताया कि पुलिस को फोन के माध्यम से सूचना मिली थी कि जगनोली क्षेत्र में पौंग डैम के किनारे कोई संदिग्ध (ग्रेनेड जैसी लगने वाली) वस्तु पड़ी है। पुलिस टीम के वहां पर पहुंचने के बाद इस संदिग्ध वस्तु की जांच के लिए धर्मशाला पुलिस और सेना को सूचित किया गया। पुलिस ने मौका पर पहुंचकर क्षेत्र में गारद लगा दी और धर्मशाला हैड क्वार्टरको सूचित किया।

बम डिस्पोजल टीम टीम व आर्मी की बम डिस्पोजल टीम ने आकर हैन्ड ग्रेनेड एच 36 जो काफी पुराना जगं लगा हुआ था, को मौका मुआयना करने के बाद राइजिंग स्टार सैपर्स बम डिस्पोज सेल की टीमों ने मौके पर पहुंचकर जांच करने पर ग्रेनेड को जिंदा पाया और इसके बाद इसे डिफ्यूज कर दिया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
hand grenade defused by the team of army

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/shimla/news/hand-grenade-defused-by-the-team-of-army-01478712.html

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई राम रहीम की पेशी, फैसला आने तक हाथ जोड़े खड़ा रहा कोर्टरूम में


पंचकूला.पत्रकार छत्रपति हत्याकांड मामले की सुनवाई में सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरुवार को राम रहीम समेत चारों दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई।दोषी राम रहीमरोहतक के सुनारियां स्थित जिला जेल में बनाए गए विशेष कोर्ट रूम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पेश किया गया। इस सुनवाई के दौरान रोहतक और पंचकूला दोनों ही जगहअदालत परिसर में किसी को भी जाने की अनुमति नहीं थी। करीब 500 मीटर पहले ही वाहनों को रोका गया और मीडिया को भी 200 मीटर दूर रखा गया।

Dainik Bhaskar विस्तार से बता रहा है कि आज दिनभर कोर्ट की कार्यवाही कैसे चली...

  • पंचकूला में धारा-144 लगाई गई है। पंचकूला सीबीआई कोर्ट के बाहर फोर्स तैनात रही।
  • पुलिस डेरे के 90 लोगों को चयनित करके उन्हें ट्रैक कर रही है, ताकि वो बाबा के समर्थकों को इकट्ठा न करें।
  • रोहतक के सुनारियां स्थित जिलाजेल में प्रिंटर का इंतजाम किया गया, ताकि सजा सुनाए जाने के बाद एक कॉपी का प्रिंट निकालाजा सके और उस पर गुरमीत राम रहीम के हस्ताक्षर करवाकर कोर्ट में सबमिट किया जा सके।
  • लगभग साढ़े 11 बजे सीबीआई के विशेष न्यायाधीश जगदीप सिंह दूहन पंचकूला कोर्ट में पहुंचे।
  • 12 बजकर 25 मिनट पर दिवंगत पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के पुत्र अंशुल और बाकी परिजन पंचकूला में सीबीआई कोर्ट पहुंचे। फांसी की सजा की मांग करते हुएबेटी श्रेयशी ने कहा कि आज उनके पिता की आत्मा को इंसाफ मिल गया। छोटे-छोटे बच्चों के साथ दर्दभरा जीवन गुजारने वाली मेरी मां की आंखों में संतुष्टि देखने को मिल रही है।
  • 2 बजकर 26 मिनट पर रोहतक की जिला जेल में बनाए गए कोर्ट रूम में राम रहीम उपस्थित हुआ।
  • साढ़े 3 बजे तक राम रहीम समेत तमाम चारों दोषी हाथ जोड़े खड़े थे। इस दौरान सीबीआई की तरफ से फांसी की सजा की मांग की गई, वहीं बचाव पक्ष ने कम से कम सजा की मांग की। बहस खत्म हो गई और कोर्ट में फैसले की कॉपी लिखी जा रही थी।
  • फिर कोर्ट की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई।करीब साढ़े 6 बजे कोर्ट ने चारों दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई। इसी बीच भी एक ही स्क्रीन पर दिखाए जा रहेचारों दोषी कोर्ट के सामने हाथ जोड़कर खड़े रहे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Updates for Decision in Chhatrapati Murder Case Panchkula and Rohtak
Updates for Decision in Chhatrapati Murder Case Panchkula and Rohtak
Updates for Decision in Chhatrapati Murder Case Panchkula and Rohtak
Updates for Decision in Chhatrapati Murder Case Panchkula and Rohtak

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/updates-for-decision-in-chhatrapati-murder-case-panchkula-and-rohtak-01478509.html

दो दिन पहले ही बना था ट्रैफिक इंचार्ज; रात में नशे में धुत मुंशी ने गोली मारी


मोहाली.मोहाली जिले के डेरा बस्सी थाने में रात की ड्यूटी पर तैनात एक मुंशी ने नशे की हालत में थाने के ट्रैफिक इंचार्ज को गोली मारकर हत्या कर दी।ट्रैफिक इंचार्ज ने दो दिन पहले ही चार्ज संभाला था। पुलिस ने आरोपी मुंशी को गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है कि दोनों में किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ था, जिसके चलते उसने यह कदम उठाया।

पटियाला के त्रिपड़ीनिवासी लखविंदर सिंह शाम करीब 7 बजे से डीएवी स्कूल के सामने पुलिसकर्मियों के साथ ड्रंकन ड्राइव कॉर्नर पर थे। इस दौरान उन्होंने ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन के चालान काटकर उन्हें जमा करने करीब रात 10 बजे डेराबस्सी थाने पहुंचे थे। इसी वक्त थाने में तैनात हवलदार लेखराज के साथ नाइट मुंशी काले खान की किसी बात पर नोक-झोंक होने लगी। बात बढ़कर हाथापाई तक पहुंच गई। तभी लखविंदर सिंह ने बीच-बचाव की कोशिश की। हवलदार लेखराज के मौके से जाने के बाद गुस्से में नाइट मुंशी काले खान ने अचानक राइफल से एएसआइ लखविंदर सिंह पर फायरिंग कर दी। इससे 48 वर्षीय लखविंदर सिंह की मौके पर ही मौत हो गई।लखविंदर सिंह त्रिपड़ी पटियाला के रहने वाले थे।पुलिस आरोपी काले खान पुत्र गुलजार मोहम्मद निवासी गांव छत से पूछताछ कर रही है। उधर, लेखराज ने बताया किझगड़े के समय काले खान नशे की हालत में था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
a MHC murdered a traffic incharge by firing while they were on duty

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/a-mhc-murdered-a-traffic-incharge-by-firing-while-they-were-on-duty-01478632.html

कांग्रेस ने अपने विधायक को पार्टी से निकाला; नशे के खिलाफ कार्रवाई न होने का लगाया था आरोप


चंडीगढ़. नशे के खिलाफ सार्वजनिक मंच से आवाज उठाने वाले जीरा (फिरोजपुर) के कांग्रेस विधायक कुलबीर जीरा को पार्टी से निलंबित कर दिया गया है। उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है। पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कहा कि अपनी बात रखना सभी का हक है, लेकिन सार्वजनिक रूप से किसी पर इस तरह के आरोप लगाना गलत है। इससे पूर्व जीरा को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। जीरा को नोटिस दिए जाने बाद पार्टी के विधायकों और विभिन्न विंगों के प्रधानों का साथ उन्हें मिल रहा था।

विधायक कुलबीर जीरा ने 12 जनवरी को नवनिर्वाचित सरपंचों एवं पंचों के नशे के खिलाफ शपथ ग्रहण समारोह का यह कहकर बहिष्कार किया था। उन्होंने कहा था किफिरोजपुर जिले में अवैध शराब की बिक्री के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।एक तरफसरकार बेहद संजीदगी से बार-बार यह प्रोजेक्ट करने की कोशिश कर रही है कि पंजाब से नशा खात्मे की कगार पर है। वहीं जीरा के रवैयेने सरकार की इमेज खराब कर दी थी। उन्होंनेबैठे-बिठाए विपक्ष को मुद्दा दे दिया।

जीरा ने खुदनोटिस के जवाब में तीखी प्रक्रिया दी थी। साथ हीपार्टी के विधायकों और विभिन्न विंगों के प्रधानों का साथ उन्हें मिल रहा था। दूसरी ओरपार्टी के दबाव के बावजूद जीरा ने फिरोजपुर के आईजी एमएस छीना पर सीधा हमला बोला था,जो आरोप जीरा ने लगाए थे, उसी तर्ज पर उन्होंने जवाब भी दिया। अब बुधवार को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने पुष्टि करते हुए बताया कि अनुशासनात्मक कार्रवाई के चलते जीरा काे पार्टी से बाहर कर दिया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
congress suspended the MLA Kulbir Singh Jira from the membership of Party

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/congress-suspended-the-mla-kulbir-singh-jira-from-the-membership-of-party-01478260.html

वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन पर गंदगी देख बोले रमेश चंद्र-अफसर अपने चैंबरों से बाहर नहीं निकलते क्या


चंडीगढ़.10 साल से वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन की लिस्ट में शामिल स्मार्ट सिटी चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर गंदगी और अव्यवस्था है। पैसेंजर सर्विस कमेटी (पीएससी) के चेयरमैन रमेश चंद्र रत्न ने बुधवार को अफसरों को फटकार लगाई।
उन्होंने दोपहर करीब 12 बजे रेलवे स्टेशन का इंस्पेक्शन किया। इस दौरान जेडआरसीसी (जोनल रेलवे कंस्लटेंसी कमेटी) के मेंबर भीमसेन अग्रवाल और रेलवे स्टेशन पर एडीआरएम करन सिंह सीनियर डीसीएम हरि मोहन भी
मौजूद थे।

अफसरों को बैठने की सैलरी नहीं देता रेलवे :
रमेश चंद्र ने एडीआरएम और सीनियर डीसीएम को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि डिवीजन के स्टेशंस का बुरा हाल है। गंदगी फैली हुई है। अधिकारी अपने चैंबरों से बाहर नहीं निकलते। रेलवे बैठने की सैलरी नहीं देता। एक तरफ पीएम ने देशभर में स्वच्छता अभियान चलाया हुआ है, दूसरी तरफ सरकार के प्रयासों की अफसर हवा निकाल रहे हैं।

सफाई न करने पर ठेकेदार पर किया 25 हजार जुर्माना :
रमेश चंद्र रेलवे स्टेशन पर गंदगी देखकर नाराज हो गए। उन्होंने सेनिटेशन कॉन्ट्रैक्टर को 25 हजार रुपए फाइन लगा दिया, साथ ही मौके पर मौजूद अफसरों को कहा कि सफाई व्यवस्था में सुधार को लेकर एक हफ्ते के भीतर रिपोर्ट सौंपें। वहीं स्नैक बार में जनता मील न मिलने पर केटरर को 5 हजार रुपए फाइन लगाया। फूड प्रोडक्ट्स की रेट लिस्ट भी नहीं लगी थी। दूसरी तरफ रेलवे स्टेशन के प्लेटफाॅर्म नंबर एक पर फैशन मैग्जीन बेचने पर कमेटी ने 5 हजार रुपए फाइन लगाया।

क्या इस वॉशरूम में पांच मिनट गुजार सकते हो: वॉशरूम की गंदगी देखकर रमेश चंद्र स्टेशन डायरेक्टर हरिदीप कुमार से पूछा कि ‘क्या आप इस वॉशरूम में पांच मिनट गुजार सकते हैं’। डायरेक्टर के पास जवाब नहीं था। रमेश चंद्र ने कहा कि अगर आप नहीं बैठ सकते तो पैसेंजर्स का क्या हाल होता होगा। हैंडीकैप्ड के वॉशरूम में गंदगी देखकर डायरेक्टर को अंदर ले गए कहा, आप अंदर पांच मिनट बिताकर दिखाओ।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Chairman of PSC to visit Chandigarh Railway Station

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/chairman-of-psc-to-visit-chandigarh-railway-station-01478381.html

हवलदार-मुंशी का झगड़ा, छुड़ाने आए ट्रैफिक इंचार्ज को मुंशी ने मारी गोली


डेराबसी.बुधवार रात डेराबस्सी पुलिस थाने में नाइट मुंशी ने डेराबस्सी के ट्रैफिक इंचार्ज की गोली मारकर हत्या कर दी। ट्रैफिक इंचार्ज एएसआई लखविंदर सिंह की मौके पर मौत हो गई। मामूली रूप से घायल आरोपी हवलदार काले खान को पुलिस ने काबू कर लिया है।


गोली चलने के पीछे असली वजह अभी सामने नहीं आई है। माना जा रहा है कि नशे में धुत काले खान का झगड़ा किसी और हवलदार से हुआ था। बीच-बचाव करने के लिए जब लखविंदर सिंह आए तो कालेखान ने गोली मार दी। फिलहाल पड़ताल जारी है। रात 9:45 बजे से लेकर 9:55 के बीच में गोली चली।

एसआई लखविंदर सिंह हाईवे पेट्रोलिंग में तैनात थे और दो दिन पहले ही उन्होंने डेराबस्सी में ट्रैफिक इंचार्ज का पदभार संभाला था। 48 साल के लखविंदर सिंह बुधवार को अपने 67 ट्रैफिक कर्मियों के साथ ड्रंकन ड्राइव के चालान करने के लिए डीएवी स्कूल के पास 7:00 बजे से नाका लगाकर तैनात थे।

चालान जमा कराने डेराबस्सी पुलिस थाने में मुंशी के पास पहुंचे। यहां पर नाइट ड्यूटी लगाए जाने से खफा हवलदार लेखराज सिंह मुंशी काले खान के साथ बहस रहा था। तैश में आकर मुंशी उसके पीछे भागा और लेखराज ने थाने के अंदर घुसकर एक कमरे में अपने आप को बंद कर लिया। लेखराज ने बताया कि वह अंदर बंद था। इस बीच से गोली चलने की आवाज आई। पता चला कि चालान जमा कराने पुलिस स्टेशन पहुंचे एएसआई लखविंदर सिंह को गोली लगी है। काले खान ने राइफल से गोली चलाई जो लखविंदर की ठोढ़ी के नीचे लगी और सिर में जा घुसी बोली।

रात 10:00 बजे लखविंदर सिंह का शव डेराबस्सी सिविल अस्पताल पहुंचाया गया। कुछ देर बाद काले खान को भी पुलिस हिरासत में लेकर घायल अवस्था में डेराबस्सी सिविल अस्पताल पहुंचाया गया। 43 वर्षीय कालेखान अपनी हरकतों को लेकर पुलिस विभाग में काफी विवादों में रहा है। बुधवार रात भी वह अपने झगड़ालू स्वभाव के कारण आपे से बाहर हो गया और अपने साथी की की हत्या कर दी। पुलिस का मानना है कि मुंशी नशे में था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
मृतक एएसआई लखविंदर सिंह
मुंशी काले खान

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/police-constable-shot-traffic-incharge-01478378.html

कॉरिडोर के पास बीएसएफ, इमीग्रेशन और कस्टम विभागों को 70 एकड़ की जरूरत


बटाला/ डेरा बाबा नानक/ अमृतसर.करतारपुर-डेरा बाबा नानक कॉरिडोर के निर्माण को लेकर भारत सरकार भी हरकत में आ गई है। बुधवार को डेरा बाबा नानक की भारत-पाकिस्तान सीमा पर बने दर्शन स्थल परमजिसमें डेरा बाबानानक के एसडीएम अशोक कुमार शर्मा और बीएसएफ के आईजी महिपाल यादव शामिल हुए। कॉरिडोर के पास बीएसएफ के दफ्तर, कस्टम हाऊस की इमारत और इमीग्रेशन के दफ्तर आदि बनने हैं जिसके लिए 70 एकड़ जमीन की जरूरत पड़ेगी। बीएसएफ के अधिकारियों को जमीन की तीन साइटें दिखाई गईं।

शर्मा ने बताया कि रेवेन्यू विभाग के पटवारियों द्वारा दर्शन स्थल तक आने वाली सड़कों की निशानदेही की जा रही है, ताकि जमीन एक्वायर की जा सके। जमीन की निशानदेही के लिए लाल झंडियां भी लगाई जा रही हैं। कलानौर से डेरा बाबा नानक दर्शनी ड्योढ़ी तक 3.50 किलोमीटर सड़क बनेगी। चिन्हित जमीनों का खसरा नंबर तय करके उनके मालिकों से इसे लिया जाएगा। फिर रिपोर्ट बनाकर सरकार को भेज दी जाएगी। मीटिंग में बीएसएफ के डीआईजी राजेश शर्मा, नायब तहसीलदार जनक राज, टूआईसी नीरज कुमार आदि उपस्थित थे।

पाकिस्तान में सड़क का काम 30 फीसदी मुकम्मल :
सरहद पार से मिली जानकारी के मुताबिक उधर सड़क का काम 30 फीसदी पूरा कर लिया गया है। मिट्टी खोद कर सड़क का बेस तैयार करने के लिए 6 डिच मशीनें रात-दिन काम कर रही हैं। बताते चलें कि रावी दरिया का सारा इलाका पाकिस्तान के हिस्से में आया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
BSF IG seen land with district officials for Kartapur corridor

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/bsf-ig-seen-land-with-district-officials-for-kartapur-corridor-01478373.html

चालान देरी से पेश कर नशा तस्करों की मदद करने वाले अफसरों पर कार्रवाई की तैयारी


चंडीगढ़.पंजाब में नशे के खात्मे के लिए बनी स्पेशल टास्क फोर्स ने अब उन पुलिस अफसरों और कर्मचारियों पर सख्त कार्रवाई की तैयारी कर ली है, जिनकी लापरवाही से नशा तस्करों का समय पर चालान पेश न होने से उन्हें जमानत मिली। इसके अलावा भगोड़े तस्करों की जायदाद भी जब्त होगी। यह दावा मिशन 2019 की रणनीति का ऐलान करते एसटीएफ चीफ डीजीपी मोहम्मद मुस्तफा ने किया। उन्होंने कहा कि नशे पर रोक के लिए हर पुलिस जिले में एंटी नारकोटिक्स यूनिट बना रहे हैं। अभी 13 पुलिस जिलों में यूनिट हैं, जिन्हें बढ़ाकर 27 करेंगे। ऐसे 42 केस सामने आए हैं, जिनमें पुलिस अफसरों ने 180 दिनों में मामले का चालान कोर्ट में पेश नहीं किया, जिससे अपराधियों को जमानत मिल गई।

ड्राइव रिव्यू के लिए स्पेशल ड्रग्स ग्रुप भी :
मुस्तफा ने कहा कि नशों के खिलाफ मुहिम के अंतर्गत गांवों, शहरों के चुने हुए नुमाइंदों के अलावा स्कूलों, कालेजों, यूनिवर्सिटियों के विद्यार्थियों को साथ लेकर लोगों को जागरूक किया जाएगा। मुस्तफा ने कहा कि इसके साथ ही मल्टीलेवल सुपरविजन एंड एक्जीक्यूशन सिस्टम लागू किया गया है, जिसमें सीएम की अध्यक्षता वाली कैबिनेट सब कमेटी, चीफ सेक्रेटरी की अध्यक्षता वाली एपैक्स कमेटी और एडिशनल चीफ सेक्रेटरी (होम) की अध्यक्षता वाली स्पेशल ड्रग्स ग्रुप का भी गठन किया गया है। जिनके द्वारा लगातार एंटी ड्रग्स ड्राइव का रिव्यू किया जा रहा है।

पैरोल पर जाकर न लौटने वालों की गिरफ्तारी के प्रयास होंगे :
डीजीपी ने बताया कि नशों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई सिरे चढ़ाने के लिए एसटीएफ का पुर्नगठन किया गया है। सभी जिलों में एंटी नारकोटिक्स सेल गठित किए गए हैं। कानूनी कार्रवाई की एक व्यापक प्रोफार्मा के जरिये मासिक स्तर पर निगरानी की जा रही है, भगोड़े अपराधियों की गिरफ्तारी और उनकी जायदाद जब्त करने के साथ-साथ धारा 174 -ए आईपीसी के अंतर्गत केस दर्ज किए जाएंगे। भगौड़े - जमानत जंप करने वाले, व पैरोल पर जाकर वापस न लौटने वाले अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं।

163 क्लीनिकों में 63000 नशा पीड़ितों का इलाज :
एसटीएफ चीफ ने कहा कि कुल 168 क्लीनिकों में 63,000 से अधिक नशा पीड़ितों का इलाज चल रहा है। इनमें से 25,000 हेरोइन के एडिक्ट हैं। 2018 दौरान लगभग 3 लाख नशे से पीडितों का इलाज सरकारी और प्राइवेट नशा मुक्ति पुनर्वास केंद्रों में किया गया है।

5 लाख डैपो रजिस्टर किए :
डीजीपी ने कहा, नशे के खिलाफ डैपो प्रोग्राम के अंतर्गत लगभग 5 लाख डैपो रजिस्टर किए गए हैं। बड्डी प्रोग्राम के अंतर्गत 329 मास्टर ट्रेनर प्रशिक्षण के लिए हैं। 3 लाख स्कूल अध्यापकों-कॅालेज लेक्चरर को ट्रेंड किया गया है, जो राज्य में लगभग 40 लाख स्कूल-कॅालेजों के विद्यार्थियों को ट्रेनिंग देंगे। 27 लाख विद्यार्थी पहले ही कवर हो चुके हैं।

पंजाब में बनेगी अलग ड्रग डिवीजन | नशा मुक्ति केंद्र, ओओएटी केन्द्रों की बेहतर निगरानी और कुशल प्रशासन के लिए सेहत विभाग में एक अलग ड्रग डिवीजन की स्थापना की जा रही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
प्रतीकात्मक

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/action-on-officers-who-helping-drug-smugglers-01478370.html

सरकारी स्कूलों में अधिक से अधिक दाखिले हों इसके लिए शिक्षा विभाग बनवा रहा तीन टॉप स्कूलों की डाक्यूमेंट्री


पटियाला.शिक्षा विभाग ने सरकारी स्कूलों में बेहतर सुविधाएं और पढ़ाई न होने की लोगों की धारणा को बदलने और सरकारी स्कूलों में दाखिले बढ़ाने को लेकर योजना तैयार की है। इसके लिए शिक्षा विभाग अब प्रदेश के अच्छे स्कूलों में पढ़ाई और वहां उपलब्ध सुविधाओं की डाक्यूमेंट्री बनवाने की तैयारी की है।

इसके लिए सबसे पहले पटियाला के कसियाणा, सिद्धूवाल और खेड़ी मानियां गांव के सरकारी स्कूलों को चुना है। यहां शूटिंग शुरू हो चुकी है। विभाग की टीम ने जिले के 59 साेल लैब वाले स्कूलों का निरीक्षण करने के बाद इन 3 स्कूलों काे डाक्यूमेंट्री बनाने के लिए चुना है।

सरकारी स्कूल हैं पर सभी सुविधाओं से हैं लैस :
इन स्कूलों काे इसलिए चुना गया है क्याेंकि इन स्कूलों में जरूरत की सभी चीजें उपलब्ध हैं और दूसरा इन गांवाें की लुक अच्छी है जैसे पुराने समय के घर आदि। विभाग की टीम ने काफी कुछ देखने के बाद यहां पर शूटिंग करने का फैसला लिया है। शिक्षा विभाग यह डाक्यूमेंट्री सिनेमा, टेलीविजन समेत अन्य जगहों पर दिखाएगा।

बदलेगी सरकारी स्कूलों के प्रति नेगेटिव साेच : बरूआ
डिप्टी डीईअाे मधू बरुअा ने बताया कि डाक्यूमेंट्री से लोगों को सरकारी स्कूलों में दाखिले के प्रति जागरूक किया जाएगा। सरकारी स्कूलों प्रति अकसर लाेगाें में नेगेटिव साेच रहती है। इस डाक्यूमेंट्री से लोगों की सरकारी स्कूलों के प्रति बनी मानसिकता को बदलने की कोशिश की जाएगी। स्कूलों में प्राइमरी लेवल से ही बच्चाें काे कंप्यूटर से जाेड़ने के लिए साेल लैब स्थापित किए गए हैं। उन्हाेंने कहा कि सरकारी स्कूलों में बच्चाें के दाखिले काे लेकर विभाग काफी गंभीर है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
शिक्षा विभाग की ओर से कराई जा रही शूटिंग का दृश्य।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/punjab-government-is-making-documentary-for-admission-in-government-schools-01478369.html

पंजाब के डीजीपी सुरेश अरोड़ा को मिला 9 माह का एक्सटेंशन, 31 जनवरी को होना था रिटायर


चंडीगढ़। पंजाब के डीजीपी सुरेश अरोड़ा के सेवाकाल में केंद्र सरकार ने नौ माह की और वृद्धि कर दी है। अरोड़ा को इसी माह 31 जनवरी को सेवानिवृत्त होना था। इससे पूर्व उन्हें 30 सितंबर को सेवानिवृत्त होना था, लेकिन सरकार ने उन्हें तीन माह का सेवा विस्तार दे दिया था। अब उन्हें नौ माह का और सेवा विस्तार दिया गया है।

अरोड़ा 1982 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद उम्मीद की जा रही थी कि डीजीपी सुरेश अरोड़ा को हटाने का फैसला सरकार के पहले फैसलों में होगा। सरकार ने मुख्य सचिव सर्वेश कौशल को हटा दिया था, लेकिन अरोड़ा नहीं हटाया था। इसके बाद सूबे में पिछली व मौजूदा सरकार के कार्यकाल में हुई धार्मिक नेताओं की हत्या के मामले हल करने को लेकर अरोड़ा की पीठ भी सरकार ने ठोकी थी। उसके बाद से अरोड़ा मुख्यमंत्री के करीब होते गए।

अलबत्ता एसटीएफ के गठन के बाद अरोड़ा व एसटीएफ चीफ हरप्रीत सिद्धू लॉबी में छिड़ी वर्चस्व की जंग में सरकार ने खुलकर अरोड़ा का साथ दिया। इतना ही नहीं ड्रग्स के मामलों और कुछ भ्रष्ट पुलिस अधिकारियों को संरक्षण देने को लेकर एस चटोपाध्याय के आरोपों के बाद भी सरकार खुलकर अरोड़ा के साथ खड़ी रही। प्रदेश की दो सरकारों में काम करने वाले पहले अरोड़ा पहले डीजीपी हैं।

केपीएस गिल के बाद मिली अरोड़ा को एक्सटेंशन: इससे पहले सुपर कॉप केपीएस गिल को आतंकवाद के दौर में सरकार ने विशेष तौर पर केंद्र सरकार से सिफारिश करके एक-एक साल की दो बार एक्सटेंशन दिलवाई थी। पंजाब से आतंकवाद के खात्मे के लिए गिल के काम को आज भी कुछ लोग सराहते हैं तो कुछ लोग उनकी कार्यप्रणाली की निंदा भी करते हैं। उनके बाद अरोड़ा दूसरे डीजीपी हैं, जिन्हें सरकार की तमाम कोशिशों के बाद एक्सटेंशन दी गई है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
DGP Punjab Suresh Arora gets extension again for 9 months

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/dgp-punjab-suresh-arora-gets-extension-again-for-9-months-01478318.html

गुरमीत राम रहीम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सुनाई जाएगी सजा, सीबीआई कोर्ट ने सुनाया फैसला


पंचकूला.पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मामले में गुरमीत राम रहीम कोवीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सजा सुनाई जाएगी, इस पर पंचकूला की सीबीआई कोर्ट ने बुधवार को फैसला सुनाया। मंगलवार को हरियाणा सरकार ने स्पेशल सीबीआई कोर्ट में याचिका दायर कर राम रहीमकी पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से कराने की मांग की थी। इस पर कोर्ट ने फैसले को सुरक्षित रख लिया था। इस मामले में 17 जनवरी को सजा सुनाई जानी है।

सरकार की ओर से कोर्ट में दलील दी गई कि 25 अगस्त 2017 को जब डेरा प्रमुख को साध्वी यौन शोषण मामले में पंचकूला की स्पेशल सीबीआई कोर्ट में लाया गया था तो डेरे के समर्थकों ने दंगा कर दिया था। ऐसे में गुरमीत सिंह और अन्य आरोपियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेश किया जाए। बीती 11 जनवरी को गुरमीत सिंह के साथ पूर्व डेरा प्रबंधक कृष्ण लाल, निर्मल सिंह और कुलदीप सिहं को दोषी करार दिया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
गुरमीत राम रहीम। (फाइल)

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/gurmeet-ram-rahim-controversy-court-to-decide-today-how-he-will-be-heard-01478132.html

कांगड़ा और जयपुर के बीच स्पाइस जेट जल्द शुरू करेगा सीधी हवाई सेवा


धर्मशाला.स्पाइस जेट कंपनी कांगड़ा एयरपोर्ट से अब जयपुर के लिए भी सीधी हवाई सेवा शुरू करने जा रही है। विमानन कंपनी स्पाइस जेट ने कई शहरों के लिए हवाई सेवा शुरू करना प्रस्तावित किया है। स्पाइस जेट कंपनी ने कांगड़ा हवाई अड्डा प्राधिकरण से इस संबंध में जानकारी मांगी है। स्पाइस जेट कंपनी द्वारा औपचारिकताएंपूरीकरने के साथ जल्दही कांगड़ा से जयपुर और जयपुर से कांगड़ा के लिएसीधी विमान सेवा शुरू होगी।

कांगड़ा एयरपोर्ट के निदेशक किशोर शर्मा ने बताया कि जयपुर से कांगड़ाके बीच सीधी विमान सेवा शुरू करने के लिए स्पाइस जेट प्रबंधन ने उनसे बातचीत की है।उन्होंने इसके लिए सहमति दे दी है। उन्होंने बताया कि अब यह कंपनी पर निर्भर करता है कि वह कब से सेवाएं शुरू करती है। विमान सेवा शुरू होने के बाद ही किराया तय किया जाएगा। उन्होंने बताया कि स्पाइस जेट कंपनी की प्रस्तावित कांगड़ा-जयपुर-कांगड़ाहवाई सेवा से जुड़ने से यात्रियों की संख्या में भी इजाफा होने के साथ कांगड़ा घाटी के पर्यटन व्यवसाय को भी बढ़ावा मिलेगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
spice-jet will start a new service for the people between Kangra and Jaipur

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/shimla/news/spice-jet-will-start-a-new-service-for-the-people-between-kangra-and-jaipur-01478164.html

पाक ने 6 घंटे में वापसी की शर्त रखी; कैप्टन ने राजनाथ सिंह को चिट्‌ठी लिख जताया विरोध


चंडीगढ़. पाकिस्तान के करतारपुर साहिब गुरुद्वारे के गलियारे को लेकर आए-दिन मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। अब पाकिस्तान सरकार की तरफ से वहां जाने वाले भारतीय श्रद्धालुओं के लिए 6 घंटे में वापस लौटने की शर्त रखी गई है।इसके विरोध मेंपंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखा है। इसमें केंद्र से करतारपुर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए पासपाेर्ट की शर्त खत्मकरने का अनुरोध भी किया है। साथ हीकॉरिडोर का निर्माण जल्‍द शुरू करवाने के लिए भूमि अधिग्रहण का कार्य शीघ्र शुरू करवाए जाने की मांग की।

26 नवंबर को भारत सरकार की तरफ से डेरा बाबा नानक में पाकिस्तान के करतारपुर स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब तक कॉरिडोर बनाने के लिए नींवपत्थर रखा गया था।इसे साढ़े 4 महीने में पूरा करने का दावा किया गया है। लेकिन दावे को डेढ़ महीने से ज्यादा वक्तबीतगया है, अभी तक कामशुरू नहीं हो सका।


वहीं, पाकिस्तान की तरफ से काम शुरू कर दिया गया है, जबकि भारत में भाजपा और कांग्रेस में सिर्फ श्रेय लेने की जंग चल रही है। इस संबंध मेंकांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुनील कुमार जाखड़ के प्रवक्ता संजीव त्रिखा ने करतारपुर गलियारे की रूपरेखा तैयार होने का दावा करते हुए जल्दकाम शुरू होना बताया था।

सिर्फ इमारत और गुंबद ही देख पाते हैं श्रद्धालु :पंजाब के गुरदासपुर जिले से सटी पाकिस्तान की सरहद में (नारोवल जिले में) यह जगह इसलिए प्रसिद्ध है, क्योंकि सिख इतिहास के मुताबिक गुरुनानक देव 1522 मेंकरतारपुरसाहिबमें आकर रहने लगे थे। इसी जगह उन्होंने अपने जीवन के आखिरी 18 साल बिताए। उनके समाधि ले लिए जाने के बाद इस जगह पर गुरुद्वारा बना दिया गया। जब भी कोई पर्व आता है तो डेरा बाबा नानक स्थित इस जगह पर अचानक सिखों की संख्या बढ़ जाती है।

एक तो दूसरे देश की सरहद, दूसरा बीच में रावी नदी पड़ने के कारण आस्था मजबूर-सी नजर आने लगी तो बीते कुछ वर्षों पहले भारतीय सेना ने यहां एक दूरबीन लगा दी, जिससे सिख श्रद्धालु गुरुद्वारे के दर्शन कर सकें। हालांकि यहां भी एक दिक्कत है कि श्रद्धालु दूरबीन के जरियेकरतारपुरसाहिबकी इमारत और गुंबद ही देख पाते हैं।

कब-कब क्या हुआ?

  • अकाली दल के नेता कुलदीप सिंह वडाला के तरफ से 13 अप्रैल 2001 को बैसाखी पर 'करतारपुररावी दर्शन अभिलाषी संस्था' का गठन कर यहां यह रास्ता खुलवाने के लिए गुरुओं से अरदास की शुरुआत की गई थी।
  • जुलाई 2012 में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के तत्कालीन प्रमुख अवतार सिंह मक्कड़ ने कॉरिडोर खोलने की वकालत करते हुए कहा था कि पाकिस्तान ने 1999 में तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पाकिस्तान यात्री के वक्त इसे खोलने की पेशकश की थी, लेकिन भारत की तरफ से बात आगे नहीं बढ़ी।
  • स्थायी कॉरिडोर की मांग करने वालों की मांग उस समय टूट गई जब 2 जुलाई 2017 को शशि थरूर की अध्यक्षता वाले विदेश मामलों की सात सदस्यीय संसदीय समिति के सदस्यों ने इस कॉरिडोर की मांग को रद्द कर दिया था, जिसमें यह कहा गया था कि मौजूदा राजनीतिक माहौल इस कॉरिडोर को बनाने के अनुकूल नहीं है।
  • बीते महीनों उस वक्त सियासत गरमाई थी, जब नवजोत सिद्धू पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए थे। इस दौरान पाक आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा से गले मिलने पर वे आरोपों से घिर गए थे। बाद में सिद्धू ने यह कहते हुए अपना बचाव किया था कि बाजवा ने जबकरतारपुरसाहिबमार्ग खोलने की बात कही तो उन्होंने उन्हें गले लगा दिया था।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Captain Amrinder Singh written a letter to Union minister of Home Affairs for Corridor

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/captain-amrinder-singh-written-a-letter-to-union-minister-of-home-affairs-for-corridor-01478099.html

हनीप्रीत अब परिजनों से कर सकेगी फोन पर बात, पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने दी मंजूरी


चंडीगढ़. पंचकूला में दंगे भड़काने की आरोपी और डेरामुखी गुरमीत राम रहीम की राजदार हनीप्रीत उर्फ प्रियंका तनेजा अब दूसरे कैदियों की तरह फोन पर परिजनों सेबात कर सकेगी। हनीप्रीत कीकॉलिंग की सुविधा दिए जाने की मांगको पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने मंजूर कर लिया है।

याचिका में हनीप्रीत ने मांग की है कि बाकी कैदियों की तरह उन्हें भी इन मेट कॉलिंग सर्विस का लाभ दिया जाए ताकि वह अपने संबंधियों व वकील से बात कर सके। उनकी इस मांग को पहले जेल अथॉरिटी और फिर एडिशनल सेशन जज की कोर्ट ने खारिज कर दिया था।ऐसे में हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई। हनीप्रीत के वकील ने कहा कि इस सुविधा के तहत जेल अथॉरिटी प्री-वेरिफाई नंबर्स पर कैदी को पांच मिनट बात करने देते हैं। इससे पहले बीते सात जून को पंचकूला कोर्ट ने हनीप्रीत की नियमित जमानत याचिका खारिज कर दी थी।

हरियाणा पुलिस की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) ने पंचकूला हिंसा को लेकर दंगों की आपराधिक साजिश रचने व देशद्रोह के आरोप लगाए थे। बीते वर्ष चार अक्टूबर को जीरकपुर पटियाला हाईवे से हनीप्रीत की गिरफ्तारी की गई थी। राम रहीम को दोषी करार देने के दौरान बीते वर्ष 25 अगस्त को पंचकूला में हुई हिंसा में 36 लोगों की मौत हो गई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
हनीप्रीत। -फाइल फोटो

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/ram-rahim-controversy-honeypreet-now-can-talk-to-her-relatives-on-phone-court-approved-01478118.html

कालिया ने उधार लिए 10 लाख रुपए वापस नहीं किए, कोर्ट ने सैलरी अटैच करने के दिए ऑर्डर


चंडीगढ़ (संजीव महाजन).राजेश कालिया को मेयर कैंडिडेट बनाने के बाद से ही पार्टी की शहर में काफी आलोचना हो रही है। अब सामने आने लगा है कि कालिया न सिर्फ पुलिस फाइल में बैड करेक्टर और सजायाफ्ता अपराधी है, बल्कि उन पर दोस्त से 10 लाख रुपए लेकर वापस न देने के आरोप भी हैं। इसमें कोर्ट ने उनकी सैलरी तक अटैच करने के आदेश निगम कमिश्नर को दिए हैं।

अब मामला और अजीब बन गया है। क्योंकि बीजेपी बहुमत में है और कालिया अगर मेयर बनते हैं तो काफी कुछ अजीब होने वाला है। 12 महीनों के मेयर के कार्यकाल के दौरान अगले 11 महीने तक कालिया पुलिस की निगरानी में रहेंगे। क्योंकि पुलिस को उनके कैरेक्टर पर अब भी शक है।

दूसरा कोर्ट ने अब नगर निगम के कमिश्नर की ही ड्यूटी लगाई है कि वह ध्यान रखे कि कालिया अपनी सैलरी का एक पैसा भी निकाल न सकें। वहीं, हाईकोर्ट में कालिया पर चेक बाउंस की याचिका अलग से चल रही है। उधार लिए पैसे वापस न देने के मामले में सिविल सूट के रिकवरी केस में जिला अदालत ने 1 दिसंबर को ही कालिया की सैलरी अटैच करने के लिए निगम के कमिश्नर को चिट्ठी लिखी है।

कोर्ट ने कहा है कि 31 जनवरी 2019 को सैलरी अटैच कर बताओ। कोर्ट ने कहा कि जब तक सैलरी से 13.57 लाख रुपए नहीं पूरे होते, तब तक उसकी सैलरी अटैच की जाए। सूत्रों की माने तो पहले तो नगर निगम के लॉ ऑफिसर ने काेर्ट के आदेशों पर लिखा कि चूंकि कालिया सैलरी नहीं लेते, वह तो बतौर काउंसलर लिए गए अपने काम का भत्ता लेते हैं। इसलिए उनकी सैलरी अटैच की ही नहीं जा सकती। जबकि बाद में कमिश्नर ने सैलरी अटैच करने के लिए कहा है।

सेक्टर-38 निवासी हरीश ने राजेश कालिया के खिलाफ आईपीसी की धारा 138 यानि चेक बाउंस का केस जिला अदालत में 2014 में लगाया था। हरीश ने आरोप लगाया कि उसने कालिया को 2014 में यूटी पुलिस के डीएसपी चरणजीत सिंह विर्क के कहने पर 10 लाख का फ्रैंडली लोन दिया था।

कालिया ने उसे वापस देने का वादा किया था और उसकी एवज में उसने 10 लाख का चेक दिया। लेकिन वह बाउंस हो गया। इस केस में पहले कालिया भगोड़ा घोषित हुए और 2016 में अपना नामांकन भरने से पहले वे जिला अदालत में सरेंडर कर गए। इस केस में कालिया को क्लीनचिट तो मिल गई। जबकि कोेर्ट के कायदे के अनुसार हरीश ने सिविल जज सलोनी गुप्ता की कोर्ट में रिकवरी सूट डाला। इस पर कालिया के खिलाफ कोर्ट ने एक्स पार्टी आर्डर सुनाया और 1 दिसंबर को कालिया की सैलरी अटैच करने के आदेश जारी किए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
राजेश कालिया

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/bjp-mayor-candidate-accused-of-fraud-01478013.html

हनीप्रीत को दूसरे कैदियों की तरह जेल में कॉलिंग की सुविधा मिलेगी


चंडीगढ़.पंचकूला में दंगे भड़काने की आरोपी अंबाला सेंट्रल जेल में बंद डेरा सच्चा सौदा मुखी गुरमीत सिंह की गोद ली बेटी हनीप्रीत को दूसरे कैदियों की तरह कॉलिंग की सुविधा मिलेगी। यह सुविधा देने की मांग वाली याचिका को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने मंजूर कर लिया है।

हनीप्रीत ने मांग की थी कि बाकी कैदियों की तरह उन्हें भी इन मेट कॉलिंग सर्विस का लाभ दिया जाए, ताकि वह अपने संबंधियों व वकील से बात कर सके। उनकी मांग को पहले जेल अथॉरिटी और फिर एडिशनल सेशंस जज की कोर्ट ने खारिज कर दिया था।

हनीप्रीत के वकील ने कहा कि इस सुविधा के तहत जेल अथॉरिटी प्री-वेरिफाई नंबर्स पर कैदी को 5 मिनट बात करने के लिए देते हैं। 7 जून 2018 को पंचकूला कोर्ट ने हनीप्रीत की नियमित जमानत याचिका खारिज कर दी थी। हरियाणा पुलिस की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) ने पंचकूला हिंसा को लेकर दंगों की आपराधिक साजिश रचने व देशद्रोह के आरोप लगाए थे। 4 अक्टूबर 2017 को जीरकपुर-पटियाला हाईवे से हनीप्रीत की गिरफ्तारी की थी। राम रहीम को दोषी करार देने के दौरान बीते 25 अगस्त 2017 को पंचकूला में हुई हिंसा में 36 लोगों की मौत हो गई थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
हनीप्रीत

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/honeypreet-get-calling-facility-in-jail-01478012.html

मेरे तो कैप्टन राहुल गांधी, जो भूमिका देंगे निभाऊंगा : सिद्धू


संगरूर/ बरनाला.लोकल बॉडीज मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने मंगलवार फिर कहा, ‘मेरे कैप्टन राहुल गांधी, जो भूमिका देंगे बिना शर्त निभाऊंगा। वह लोकसभा चुनाव में मुझे जो आदेश देंगे, मैं उसे पूरा करूंगा। राहुल गांधी के साथ उन्होंने किसी भी तरह की शर्त नहीं रखी थी।’ सिद्धू ने संगरूर और बरनाला के दौरे के दौरान प्रदेश कांग्रेस के मीत प्रधान केवल सिंह ढिल्लों को लोकसभा हलका संगरूर से प्रत्याशी बनाने के संकेत दिए।

उन्होंने कहा कि वह हाईकमान के पास ढिल्लों को टिकट का समर्थन करेंगे। सिद्धू अमृतसर से लोकसभा चुनाव लड़ने के मूड में नजर नहीं आ रहे हैं। पंजाब या केंद्र की राजनीति के लगाव पर उठे सवाल पर सिद्धू ने कहा कि पंजाब उनकी जड़ है। जड़ है तो सिद्धू है, जड़ नहीं तो सिद्धू नहीं। पंजाब के लिए उन्होंने 6 वर्ष के लिए राज्यसभा छोड़ी। लोकसभा का त्याग किया है। वह दुनिया छोड़ सकते हैं परंतु पंजाब नहीं छोड़ंगे।

सिद्धू ने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर पर जो भी राजनीति कर रहे हैं वो सभी बर्बाद हो जाएंगे। केंद्र की नालायकी के कारण अभी तक काम शुरू नहीं हुआ। जब भी केंद्र से परमिशन आएगी तब काम शुरू हो जाएगा। उन्होंने कहा कि करतारपुर गुरुद्वारा साहिब की गरिमा को बनाए रखने के लिए वह भारत व पाकिस्तान सरकार को पत्र लिखेंगे कि इसके पास इमारतों का जंगल न बनाया जाए क्योंकि इससे खूबसूरती और शांति भंग होगी। इसके लिए वह निजी तौर पर भी मिल सकते हैं।

उधर, सिद्धू ने संगरूर में लोक निर्माण मंत्री विजयइंदर सिंगला के निवास पर मीडिया से बातचीत में कहा कि पंजाब सरकार ने एशियन डवलपमेंट बैंक (एडीबी) से डेढ़ प्रतिशत ब्याज पर साढ़े 300 करोड़ का कर्ज उठाकर शहरी विकास करना शुरू कर दिया है। 1200 करोड़ रुपए और कर्ज उठाने की प्रपोजल तैयार की गई है।

एडीबी से 350 करोड़ कर्ज लिया, 1200 करोड़ और लेंगे :
सिद्धू ने संगरूर में लोक निर्माण मंत्री विजयइंदर सिंगला के निवास पर मीडिया से बातचीत में कहा कि पंजाब सरकार ने एशियन डवलपमेंट बैंक (एडीबी) से डेढ़ प्रतिशत ब्याज पर साढ़े 300 करोड़ का कर्ज उठाकर शहरी विकास करना शुरू कर दिया है। 1200 करोड़ रुपए और कर्ज उठाने की प्रपोजल तैयार की गई है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/navjot-singh-sidhu-will-support-only-dhillon-01478008.html

अबोहर-फाजिल्का में झूठे पर्चे दर्ज करवा रहे जाखड़ : सुखबीर


चंडीगढ़.शिअद प्रधान सुखबीर बादल ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस प्रधान निजी दुश्मनी निकालने के लिए अबोहर-फाजिल्का में लोगों के खिलाफ बार-बार झूठे केस दर्ज करवा कर लोगों को परेशान कर रहे हैं। यहां प्रेस कांफ्रेंस में जाखड़ की ओर से सताए गए लोगों को मीडिया के सामने पेश करते हुए सुखबीर ने यह आरोप लगाए।

उन्होंने इन धक्केशाहियों की सीबीआई से जांच करवाने की मांग की है। पीड़ितों ने मीडिया को बताया कि उनके खिलाफ सिर्फ इसीलिए झूठे मामले दर्ज किए जा रहे हैं, क्योंकि उन्होंने 2017 के विधानसभा चुनावों में अबोहर निर्वाचन क्षेत्र से जाखड़ का विरोध करते हुए भाजपा उम्मीदवार का समर्थन किया था और जाखड़ विधानसभा चुनाव हार गए थे। सुखबीर ने कहा कि पार्टी इस मामले के लिए हाईकोर्ट जाएगी।

कांग्रेसी गुंडों से करा रहे जमीन पर कब्जे :
व्यापारी महेंद्र बाठला की बेटी डाॅक्टर सलोनी ने बताया कि अब स्थिति इतनी भयानक हो चुकी है कि उनका सारा परिवार पंजाब से बाहर जाने के बारे में सोच रहा है। उन्होंने कहा कि उनके पिता को पंजाब तथा हरियाणा हाईकोर्ट द्वारा दिए एक स्टे आर्डर को जमा करवाने के झूठे बहाने से बुलाकर गिरफ्तार कर लिया गया।

जलील करने को हथकड़ियां लगा घुमाया : सुरेश सचदेवा के परिवार ने बताया कि भाजपा उम्मीदवार का समर्थन करने पर सचदेवा को अपमानित करने के लिए हथकडिय़ां लगाकर दो घंटे बाजार में घुमाया गया। सचदेवा के पुत्र अमित ने बताया कि अब भी परिवार के सदस्यों को झूठे केसों से राहत के लिए हाईकोर्ट में डाले केस वापिस न लिए तो उन्हें परिणाम भुगतने पड़ेंगे। उन्होंने कहा कि जाखड़ इतने ज्यादा अत्याचार कर रहा है कि लोहड़ी वाले दिन भी पुलिस ने उनके घर पर छापा मारा तथा त्यौहार का सारा सामान नष्ट कर दिया। एक और पीड़ित सुनील गोयल, जोकि अबोहर के काउंसलर हैं, ने बताया कि जाखड़ के इशारे पर उसके खिलाफ झूठे केस दर्ज करने के कारण उसे पांच महीने जेल में बिताने पड़े।

गैंगस्टरों के मददगारों के हक में खड़े हैं सुखबीर : जाखड़

पंजाब प्रदेश कांग्रेस के प्रधान सुनील जाखड़ ने कहा है कि शिअद प्रधान सुखबीर बादल अब गैंगस्टरों के मददगारों के हक में खड़े होकर बहुत ही निचले दर्जे की सियासत पर उतर आए हैं। सुखबीर द्वारा लगाए गए आरोपों पर उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों की पैरवी करके शिअद प्रधान अपने ओहदे की मर्यादा को घटा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि आज जिन लोगों को प्रेस कांफ्रेंस में पेश किया गया उनके खिलाफ गैंगस्टरों के साथ जेल में मिलने का परचा दर्ज है और वही गैंगस्टर अब गवाहों को धमका रहे हैं, जिसकी रिकार्डिंग पुलिस के पास है। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार की पुलिस या किसी भी कानून लागू करने वाली एजेंसी के कामकाज में कोई सियासी दखलअंदाजी नहीं है और कानून पूरी निष्पक्षता से काम कर रहा है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
शिअद प्रधान सुखबीर बादल

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/sad-president-sukhbir-badal-targeted-jakhar-01478004.html

पेरेंट्स व दादा-दादी को कनाडा बुलाने के लिए वीजा अप्लाई 28 से


चंडीगढ़.कनाडा सरकार एक बार फिर 2019 में उन सिटीजंस को माता-पिता और दादा-दादी को कनाडा बुलाने का मौका दे रही है, जो कि साल से अलग रह रहे हैं। कैनेडियन सिटीजंस 28 जनवरी से इसके लिए वीजा अप्लाई कर सकेंगे। फैमिली रीयूनियन के लिए शुरू किए इस प्रोग्राम से वहां बसे हजारों पंजाबी भी लाभांवित होंगे।

पेरेंट्स एंड ग्रैंड पेरेंट्स (पीजीपी) प्रोग्राम के तहत इच्छुक परिवारों के स्पाॅन्सर 28 जनवरी से आवेदन कर सकेंगे।इस साल ‘पहले आओ पहले पाओ’ के आधार पर पीजीपी प्रोग्राम के तहत 20 हजार आवेदन स्वीकार होंगे। कनाडा के इमिग्रेशन मंत्री का कहना है कि फैमिली रीयूनिफिकेशन, कैनेडा सरकार की इमिग्रेशन प्राथमिकता है। कैनेडा पहुंच चुके इमिग्रेंट्स के लिए मां-बाप की देखभाल करना भी उतना ही जरूरी है। इसलिए हम परिवारों को एकजुट होने का मौका दे रहे हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Visa apply to go to Canada

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/visa-apply-to-go-to-canada-01477995.html

6 दिन पहले चोरी हुई कार को मालिक ने खुद तलाशा, आरोपी भी पकड़वाए, पुलिस ले रही क्रेडिट


जीरकपुर.बलटाना की एक स्वीट्स शॉप से 8 जनवरी को चोरी हुई कार को पीड़ित परिवार ने टोल प्लाजा के फास्टैग स्टिकर की मदद से खुद ढूंढ़ निकालने और तीन चोरों को अरेस्ट कराने का दावा किया है, जबकि बलटाना पुलिस का दावा है कि दो चारों को पकड़कर कार उन्होंने बरामद की है।

कार मालिक अमित का कहना है कि उन्होंने और उनके परिवार ने 5 घंटे की कड़ी मशक्कत से कार ढूंढ़ी। पूरा परिवार जीरकपुर-बनूड़ मार्ग पर स्थित नए टोल प्लाजा अजीजपुर पर रात 3 बजे ही खड़ा हो गया था। उनको यकीन था कि उनकी गाड़ी यहां से गुजरेगी।

सोमवार सुबह 8 बजे उन्होंने अपनी गाड़ी के आते ही उसे पहचान लिया और टोल प्लाजा की जिस लेन से गाड़ी गुजर रही थी, उसके सामने खड़े हो गए। पहले तीन कार सवार उनसे लड़ने आए, लेकिन जब टोलकर्मी इकट्ठे हो गए तो कार सवार लड़कों ने कहा कि उन्होंने कार 80 हजार में खरीदी है।

जब अमित ने कागजात दिखाने को कहा तो लड़कों ने कोई जवाब नहीं दिया। फिर पुलिस भी आ गई और तीनों कार सवार युवकों को जीरकपुर पुलिस स्टेशन ले गई। कार से एक तलवार भी मिली है। पुलिस सूत्रों की मानें तो यह गैंग है, जिसने गत दिनों किसी बड़ी वारदात को अंजाम दिया है।

लोहड़ी मनाते समय रात 10.34 बजे मोबाइल पर आया पहला मैसेज :

अमित ने बताया कि उनके पड़ोस में लोहड़ी सेलिब्रेट की जा रही थी, लेकिन उनका दिमाग अपनी गाड़ी की ओर ही था। अभी कार्यक्रम चल ही रहा था कि उनको रात 10.34 बजे मैसेज आया। उसके बाद रात 1.33 बजे मोबाइल पर नीजरपुर अमृतसर के टोल प्लाजा का मैसेज आया कि गाड़ी वहां से अमृतसर की तरफ गई है। वह सोमवार सुबह अमृतसर जाने की सोच रहे थे। रात को बेड पर लेटे थे ताे 2.55 बजे फिर मैसेज आया कि उनकी गाड़ी नीजरपुर टोल प्लाजा से लाेडोवाल प्लाजा की ओर आ रही है। तब उन्हें यकीन हो गया कि चोर जीरकपुर की तरफ ही गाड़ी लेकर आ रहे हैं और जीरकपुर-बनूड़ रोड स्थित गांव अजीजपुर के टोल से गुजरेंगे।

रात 3 बजे बहन, बेटे व कजिन को लेकर पहुंचे अजीजपुर: रात करीब 3 बजे अमित अपने 16 साल के बेटे हर्ष अरोड़ा, बहन सोनिया अरोड़ा व कजिन करण अरोड़ा के साथ अजीजपुर टोल प्लाजा पर पहुंचे। वहां तैनात कर्मचारियों को गाड़ी का नंबर और पूरी बात बताई। इसके बाद पुलिस कंट्रोल को कॉल करते रहे। काफी देर बाद जब एक मुलाजिम ने फोन उठाया तो उसे सारी जानकारी दी। मुलाजिम ने आश्वासन दिया कि वह अभी जीरकपुर पुलिस को मैसेज फ्लैश कर देता है। पुलिस कुछ देर में आ जाएगी। जब एक घंटे तक कोई नहीं आया तो वो खुद बलटाना पुलिस चौकी पहुंचे। गेट बंद था। वह दरवाजा खटखटाते रहे, लेकिन किसी ने गेट नहीं खोला।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमित

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/himachal-chandigarh/chandigarh/news/owner-found-himself-stolen-car-01477642.html

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
Jobs Jobs / Opportunities / Career
Haryana Jobs / Opportunities / Career
Bank Jobs / Opportunities / Career
Delhi Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Uttar Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Himachal Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Rajasthan Jobs / Opportunities / Career
Scholorship Jobs / Opportunities / Career
Engineering Jobs / Opportunities / Career
Railway Jobs / Opportunities / Career
Defense & Police Jobs / Opportunities / Career
Gujarat Jobs / Opportunities / Career
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Bihar Jobs / Opportunities / Career
Uttarakhand Jobs / Opportunities / Career
Punjab Jobs / Opportunities / Career
Admission Jobs / Opportunities / Career
Jammu and Kashmir Jobs / Opportunities / Career
Madhya Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Bihar
State Government Schemes
Study Material
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Syllabus
Festival
Business
Wallpaper
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com