Patrika : Leading Hindi News Portal - Bhopal #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Patrika : Leading Hindi News Portal - Bhopal

http://api.patrika.com/rss/bhopal-news 👁 14110

मंत्री बोले - बदले की भावना से हम राजनीति नहीं करते, लेकिन चोरों ने पैसा खाया है तो सजा मिलनी चाहिए


भोपाल. खेल और युवा कल्याण, उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने ट्वीट करते हुए कहा कि "कांग्रेस सरकार कभी भी बदले की भावना से काम नहीं करती है लेकिन सिहंस्थ में वो लोग जिन्होंने भगवान महाकाल के नाम पर घोटाला किया है, पैसा खाया है उन्हें सजा मिलेगी..।" उन्होंने ये भी कहा कि भष्ट्राचार चाहे सिंहस्थ के हो या अन्य, कांग्रेस की सरकार अलर्ट और चिंतित है।

मंत्री जीतू ने कहा ऐसे किसी दुर्भावना या बदले की भावना से हम राजनीति नहीं करते है। लेकिन यह जरूर है चोरों ने पैसा खाया है। तो उन्हें सजा जरूर मिलनी चाहिए। वृक्षारोपण मामला हो या सिंहस्थ मामला हो या फिर सरकारी खर्च पर सभाएं करने का भष्ट्राचार हुआ है। संबंधित विभाग अलर्ट पर है जल्द ही रिपोर्ट पटल पर रखे जाने के साथ ही सार्वजनिक होगी।

इसके पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा सरकार के समय के घोटालों और भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाया था। कमलनाथ ने कहा कि गड़बडिय़ों की जांच कराएंगे। मंत्री प्रकरणों की समीक्षा करेंगे। प्रशासन में सख्ती बरती जाएगी। लापरवाही और गड़बड़ी नहीं चलने देंगे। अमृत मिशन व स्मार्ट सिटी को लेकर मंत्री को रिव्यू करने के लिए कहा। इसके अलावा सभी नगर निगमों का ऑडिट कराने के लिए भी कहा।

- जानिए किसने क्या कहा

मोहम्मद सगीर, भोपाल- भारी भ्रष्टाचार हुआ है। भाजपा नेताओं के संबंधियों को गुपचुप तरीके से महापौर परिषद ने नियुक्तियों की तारीखों में हेर-फेर करके नियमित किया है। नियुक्तियां रद्द और दोषियों पर कार्रवाई हो। अपर आयुक्त मृगेंद्र प्रताप सिंह भाजपा के एजेंट हैं, उनको भोपाल से बाहर भेजा जाए।

राजेंद्र वशिष्ठ, उज्जैन- सिंहस्थ घोटाले की जांच की जाए। इसमें कांग्रेस ने जिन बिंदुओं पर चार्जशीट बनाई थी, उन बिंदुओं पर जांच होनी चाहिए।

अजय मिश्रा, रीवा- भाजपा के एजेंट के रूप में काम करने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए। भ्रष्टाचार के लिए आरोपी अफसरों को नगर-निगम से बाहर भेजा जाए।

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/minister-jitu-patwari-said-the-corruption-of-the-bjp-will-be-investi-4011551/

कल से 26 जनवरी तक रहेगा सर्वार्थ सिद्धि योग, 3 राशियों की कुंडली में शुरू होगा राजयोग


भोपाल। हिंदू धर्म में ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक समय-समय पर ग्रह अपनी दिशा का परिवर्तन करते रहते हैं। शहर के ज्योतिषाचार्य पंडित जगदीश शर्मा बताते है कि शास्त्रों में सूर्य को आत्मा का और चंद्रमा को मन का कारक माना जाता है। साथ ही मंगल को युद्ध, शौर्य व नेतृत्व का कारक है और गुरु को शिक्षा, अध्यात्म व धर्म का प्रतिनिधि माना गया है। आने वाले दिनों में कुछ राशियों की कुंडली में सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा हैं। जिससे कुछ भाग्यशाली राशियों के जातको की सोयी किस्मत जागने वाली हैं। महालक्ष्मी कुछ राशियों में अपनी कृपा दिखाने वाली हैं। जानिए कौन सी हैं वे राशि.....

pandit ji

तुला राशि

तुला राशियों के जातकों को मंगलवार से इनको अपने जीवन में बहुत से नए परिवर्तन देखने को प्राप्त होंगे। इस राशि वाले व्यक्तियों के ऊपर महाबली हनुमान जी की कृपा दृष्टि बनी रहने वाली है जिसकी वजह से इनके जो भी कार्य लंबे समय से रुके हुए हैं। वह सफलतापूर्वक पूरे होंगे इस राशि वाले व्यक्तियों के लिए मंगलवार के दिन से बहुत ही शुभ समय आरंभ हो रहा है जिसकी वजह से यह अपने कार्य क्षेत्र में तेजी से प्रगति करेंगे। परिवार का पूरा सहयोग मिलेगा।

pandit ji

धनु राशि

धनु राशियों के जातकों को महालक्ष्मी की कृपा से इनके धन में वृद्धि होगी। आप अपने जीवन में बहुत से परिवर्तन देखेंगे। यदि आप कोशिश करेंगे तो सभी समस्याओं का हल कर लेंगे। आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत बनेगी। बजरंगबली की कृपा से आपके सभी कष्ट दूर होंगे परंतु आपको किसी भी प्रकार के धन से संबंधित लेन-देन में सावधानी बरतने की जरूरत है।

कन्या राशि

कन्या राशि के जातकों को के ऊपर महालक्ष्मी की कृपा दृष्टि बनी हुई है जो व्यक्ति व्यापारी है उनको व्यापार में भारी धन लाभ होने की संभावना बन रही है। परिवार में बड़े बुजुर्गों का पूरा सहयोग प्राप्त होगा आपकी आर्थिक स्थिति पहले से बेहतर बनेगी जीवनसाथी का पूरा सहयोग मिलेगा आय में वृद्धि होगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/26-january-2019-ka-rashifal-scorpio-aaj-ka-rashifal-in-hindi-4011531/

मंगल भवन अमंगलहारी, सब समस्याओं की एक ही दवा, हनुमान जी


श्रीराम चरित्र मानस ही यह चौपाई- मंगल भवन अमंगलहारी अर्थात सभी का मंगल ही मंगल हो । रामायण के अनुसार स्वयं राम जी को भी संकटों से बचाने वाले श्री हनुमान जी मनुष्य के भी कठिन से कठिन संकटों को पल भर में दूर कर देते हैं । अगर आपके जीवन में किसी भी तरह के दुख या समस्याएं हो तो मंगलवार के दिन इन उपायों को जरूर करें । इन्हें लगातार 3 मंगलावारों को करने से हमेशा के लिए सारे कष्ट हनुमान जी दूर कर देते हैं ।

 

मंगलवार के दिन इन उपायों को करने से शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं ।


1- मंगलवार के दिन किसी भी हनुमान मंदिर में एक नींबू और 4 लौंग लेकर जाएं, इसके बाद हनुमानजी के सामने नींबू के ऊपर चारों लौंग अर्पित करें । फिर हनुमानजी के इस बीज मंत्र- ।। ॐ ऐं भ्रीम हनुमते, श्री राम दूताय नम: ।। का 108 बार जप करें । मंत्र जप के बाद हनुमानजी से मनोकामना पूर्ति की कामना करते हुए नींबू को अपने साथ ही रख लें । कुछ ही दिनों में कठिन से कठिन समस्या भी दूर हो जायेगी ।

 

2- किसी पुराने हनुमान मंदिर में एक गीला नारियल लेकर जाएं, मंदिर में हनुमानजी के सामने खड़े होकर नारियल को अपने सिर से पैर तक 7 बार उतार कर जोर से फोड़ दे । इसके बाद 7 बार श्री हनुमान चालीसा का पाठ वहीं बैठकर करें । ऐसा करने से सभी बाधाएं दूर हो जाएंगी । ध्यान रहे कोई भी यह उपाय करते हुए आपको रोके टोके नहीं । इस उपाय के लाभ 7 दिनों में दिखाई देने लगते हैं ।

 

3- यदि परेशानियों से हमेशा के लिए मुक्ति चाहते हैं तो मंगलवार को हनुमानजी के मंदिर में जाकर एक नारियल पर सिंदूर से स्वस्तिक बनाएं और हनुमानजी को भेट कर दें । फिर हनुमान चालीसा का पाठ करें । इस उपाय से जल्दी ही शुभ फल प्राप्त होते हैं ।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/dharma-karma/mangalwar-hanuman-ji-puja-vidhi-in-hindi-4011486/

तीन देशों में साथ मिलकर बनाया अनोखा रिकॉर्ड


भोपाल. शुद्ध हवा व हरियाली के लिए "दिव्यजीवन" ने भारत सहित तीन देशों में एक साथ पौधरोपण किया। प्लांट फॉर दि प्लानेटे कैंपेन में दुबई और अमेरिका सहित भारत के नौ राज्यों में अभियान चलाकर एक ही समय में पौधरोपण किया गया। इस कैंपेन में दुनियाभर के डॉक्टर और समाजसेवी जुड़े हुए हैं।

शुद्ध हवा और हरियाली लक्ष्य
कहते हैं ठान लो तो क्या कुछ नहीं हो सकता। ये दिव्यजीवन हेल्थ एण्ड एजुकेशन सोसायटी ने सम्पूर्ण भारत में शुद्ध हवा व हरियाली के लिए प्लांट फॉर दि प्लानेट कैंपेन चलाकर साबित कर दिया। संस्था द्वारा भारत के 9 राज्यों के 36 से भी ज़्यादा गांवों व शहरों में रविवार को पौधरोपण किया गया। दिव्यजीवन के संस्थापक डॉ. संस्कार सोनी व डॉ. दिव्या भरथरे ने बताया की देशभर में लगातार कट रहे पेड़ों व कृषि भूमि पर मकान व फैक्ट्रियां बनने की वजह से हवा में लगातार ऑक्सिजन की कमी हो रही हैं। इसी कारण से देश ओर दुनिया मे हाइपोक्सिया की वजह से काफी बीमारियाँ हो रही हैं, जिसका सबसे बड़ा इलाज शुद्ध ऑक्सिजन ही है।

बन सकता है रेकॉर्ड
रविवार को दुबई, अमेरिका और भारत के 9 राज्यों के 36 से ज़्यादा गांवों ओर शहरों में एक साथ किया गया पौधरोपण एक रेकॉर्ड है। संस्था इसे रेकार्ड में बुक कराने के प्रयास भी कर रही है। संस्था अध्यक्ष डॉ. दिव्या भरथरे ने बताया गांवों और शहरों में किए गए इस पौधरोपण का गवाह स्थानीय स्तर पर सरकारी अफसरों को रखा गया है।

इन इन गांवों शहरों में हुआ पौधरोपण
डॉ संस्कार सोनी ने बताया की भारत में एक साथ एक ही दिन ओर एक ही समय मध्य प्रदेश के भोपाल, इंदौर, उज्जैन, विदिशा, राजस्थान के बिजोलिया, श्यामपुरा, उदयपुर, माडलगढ, माल का खेड़ा, बिगोद। गुजरात के अहमदाबाद व सूरत। उत्तरप्रदेश के कानपुर व लखनऊ। बिहार के पटना व दरभंगा। दिल्ली, बेंगलुरु, कोलकाता के साथ ही 30 अन्य शहरों में सरकारी अधिकारियों की उपस्थिति में पौधरोपण हुआ।

17 डॉक्टर्स ने की शुरू की थी संस्था
डॉ संस्कार व डॉ दिव्या ने बताया की संस्था की शुरुआत मात्र 17 डॉक्टरों ने की थी। फिर इसमें अन्य लोग भी जुडऩे लगे ओर डॉक्टरों की ये संख्या 500 से ज़्यादा हो गई हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/unique-records-made-in-three-countries-together-4011430/

Kumbh mela 2019: माघ मास में प्रयाग की पावन भूमि पर करें इन चीजों का दान, मिलेगा अक्षय फल


प्रयागराज कुंभ शुरु हो चुका है, कुंभ माघ माह में लगता है और इस माह में दान, स्नान का बहुत अधिक महत्व माना जाता है। प्रयाग पवित्र स्थान माना जाता है, क्योंकि प्रयाग की पावन धरती पर भगवान ब्रह्मा नें विशाल यज्ञ करवाया था और इसी स्थान पर श्री राम, सीता और लक्ष्मण ने स्नान कर पूजा की थी। आज भी प्रयाग नगरी में स्नान और दान का विशेष महत्व माना जाता है। लेकिन जब यहां कुंभ मेला लगता है तो इस पावन स्थान का महत्व अधिक बढ़ जाता है। तो आइए जानते हैं प्रयाग में किन चीज़ों का दान करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है...

prayagraj kumbh 2019

1. प्रयाग में गोदान का महत्व
प्रयागराज को तीर्थों का राजा माना जाता है। इसलिए प्रयाग में किये हुए दान का अक्षय फल प्राप्त होता है। इन्हीं दानों में से एक प्रमुख दान गोदान माना जाता है, गोदान का विशेष महत्व होता है। ऋग्वेद के अनुसार जो जातक गाय का दान करता है, उसे बैकुंठ में स्थान प्राप्त होता है।

2. प्रयाग में दीपदान का विशेष महत्व
पुराणों में त्रिवेणी संगम यानी प्रयाग पर स्नान-दान का वर्णन मिलता है। पुराणों के अनुसार माना जाता है की गंगा-यमुना और सरस्वती के संगम स्थान पर माघ महीने में दान करना बहुत पुण्यदायी माना जाता है, इस जगह दीपदान देने से व्यक्ति के पापों का नाश हो जाता है। इसके साथ ही उसे अक्षय पुण्य की प्रप्ति होती है। इसके अलावा यह भी कहा जाता है की दीपदान से बीत चुकी दस पीढ़ियों और आने वाली दस पीढ़ियों का उद्धार होता है।

3. प्रयाग में फल दान का महत्व
कुंभ में फलदान का विशेष महत्व होता है यह विशेष फलदायी भी माना जाता है। फलदान करने से पुत्र प्राप्त होता है। फलदान करने के लिए नारियल, नारंगी, खजूर, अनार, सुपारी, तरबूज, कोल्हा, ककड़ी, जायफल, केला, आम, जामुन, नींबू, बेल और दूसरे मीठे फल का प्रयोग किया जा सकता है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/festivals/kumbh-mela-2019-shahi-snan-dates-and-do-this-faldan-4011422/

चोरी रोकने के टॉप सीक्रेट को रखें ध्यान नहीं होगी चोरी


भोपाल. अगर आप कुछ दिनों के लिए घर छोड़कर कहीं बाहर जा रहे हैं तो सावधान! हो जाइए। आपकी छोटी सी गलती आपको परेशानी में डाल सकती है। पिछले कुछ समय में चोरों ने चोरी के तरीकों में बदलाव किया है। पहले चोर बंद पड़े मकानों में चोरी किया करते थे अब चोरों के हौंसले इस कदर बुलंद हो गए है कि वह उन घरों में भी चोरी करते है जिस घर में लोग रह रहे है। चोर इन घरों की भी रेकी करते हैं और उन कमरों को भी निशाना बनाते है जो खाली पड़े है। चोरों की रेकी कराने में आपके मकान के आसपास पान, चाय की दुकान करने वाले, दूधिया, माली, नौकर, ड्राइवर, कबाड़ी, भीख मागने वाले और काम वाली भी शामिल हो सकते है।

सोमवार की घटना - रिटायर्ड कर्नल घर में चोरी

राजधानी भोपाल में बीते सोमवार की रात रिटायर्ड कर्नल के घर में चोरों ने धावा बोल दिया। नीलबड़ की पूजा कॉलोनी निवासी रिटायर्ड कर्नल एसएन पाण्डे ने बताया कि घर की रात करीब 02 बजे के बीच 3-4 बदमाश ग्रील तोड़कर घर मे घुस कर चोरी कर रहे थे, इसी बीच परिवार की नींद खुल गई, तभी उन्होंने व गार्ड ने शोर मचा दिया, जिससे चोर तुरंत भाग गए। घर में चेक करने पर बैग से 30 हजार रुपये चोरी होना बताया गया है जिस पर धारा 457, 380 ipc का अपराध पंजीबद्ध कर अज्ञात आरोपियों की पुलिस द्वारा तलाश की जा रही हैं।

Top secret - कैसे रोकी जा सकती है चोरी की घटना

- जितने दिन के लिए बाहर जाना है उतने दिन के लिए अखबार बंद करा दें

- टेलीफोन का रिसीवर उठाकर रख दें ताकि किसी का फोन आए तो नंबर व्यस्त रहे

- बाहर जाते समय ताला हमेशा भीतर की तरफ से लगाए और हो सके तो इंटर लॉकिंग का इस्तेमाल करे

- कीमती सामान व ज्वेलरी घर में न रखकर बैंक के लॉकर में रखें

- हो सके तो बाहर जाते समय एक ऐसे कमरे की बत्ती जरूर जला दें जिससे घर के बाहर रोशनी दिखाई दे और किसी को शक न हो कि आप घर से बाहर है

- काम वाली को अपने बाहर जाने की योजना के बारे में न बताएं

- नौकर, ड्राइवर व अन्य कर्मचारियों का पुलिस से सत्यापन जरूर कराएं

- बाहर जाने से पहले पड़ोसियों को जानकारी जरूर दे और पड़ोसियों से तालमेल बनाए

- अगर घर में है तो उस कमरे की बलती अवश्य जला दें जिसमें कीमती समान रखा है बत्ती जली देखकर चोर घर में प्रवेश नही करेंगे

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/top-secret-to-stop-theft-4011341/

लोकसभा चुनाव 2019: तो क्या करीना कपूर तोड़ देंगी भाजपा का ये गढ़?


भोपाल। लोकसभा चुनाव 2019 अब नजदीक ही हैं, ऐसे में पार्टियां जहां एक ओर एक दूसरे को चुनाव में हराने के लिए नेताओं को घेरने की प्लानिंग कर रही हैं। वहीं सत्ता पर काबिज होने के लिए एक दूसरे के गढ़ में सेंध मारी का प्लान भी जारी है।

इसी क्रम में कांग्रेस ने भाजपा के गढ़ भोपाल में सेंध लगाने का एक नया फॉर्मूला तय किया है। जिसके चलते भाजपा सकते में आ गई है।

दरअसल कांग्रेस मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में मिली जीत को लोकसभा चुनाव में भी भुनाना चाहती है। इसलिए पार्टी ने अभी से उसकी तैयारी भी शुरू कर दी है। अपने नए फार्मूले के तहत कांग्रेस के कुछ पार्षदों ने भोपाल लोकसभा सीट जीत के लिए भोपाल संसदीय सीट से किसी नेता को नहीं बल्कि बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर खान को टिकट दिए जाने की मांग की है।

दरअसल, कांग्रेस पार्षदों के अनुसार भोपाल संसदीय सीट पर कई साल से बीजेपी का एक छत्र राज चल रहा है और भोपाल भाजपा का मजबूत किला बनता जा रहा है। जिसे ढहाने के लिए करीना कपूर खान सही उम्मीदवार रहेंगी।

इस संबंध में कांग्रेस पार्षद गुडडू चौहान और अनीस खान का मानना है कि युवाओं में करीना कपूर की अच्छी फैन फॉलोइंग है और करीना युवाओं का वोट हासिल कर पाएंगी।

दिलचस्प होगा मुकाबला!...
जैसा की लगातार खबर आ रही है कि ग्वालियर के संसद व केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर इस बार भोपाल से चुनाव लड़ सकते हैं। ऐसे में उनके सामने यदि भोपाल की बहु व बालीवुड स्टार करीना कपूर चुनाव में उतरती हैं। तो चुनाव गजब का दिलचस्प होगा।

जानकारों की माने तो भाजपा के लिए भोपाल एक सेफ सीट है, ऐसे में नरेंद्र सिंह तोमर के यहां आने से जहां एक ओर लोग उन्हें वोट देते दिखेंगे, वहीं सामने करीना कपूर के उतरने से मुकाबला और रोचक बन जाएगा। ऐसे में जीत का दावा किसी भी पार्टी के लिए करना मुश्किल हो सकता है।


भले ही करीना कपूर के ससूर नवाब पटौदी भोपाल से चुनाव में हार का मुंह देख चुके हों, लेकिन राजनीति के जानकार डीके शर्मा का कहना है कि करीना की फैन फॉलोइंग व स्टारडम उनको मजबूत स्थिति में खड़ा करता है।

जहां एक ओर भोपाल भाजपा की मजबूत सीट होने के बावजूद नरेंद्र सिंह को बाहर का होने के चलते परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। वहीं मंत्री होने का लाभ भी उन्हें अवश्य मिलेगा। इसके अलावा भाजपा का मजबूत होल्ड वाला क्षेत्र होने का फायदा भी इन्हें साफ तौर से होगा।

जबकि करीना के साथ भोपाल का रिश्ता और स्टार डम उनकी मजबूती का मुख्य कारण बनेगा। ऐसे में भाजपा के हाथ में ये सीट कब तक सुरक्षित रहेगी ये देखना दिलचस्प रहेगा। दूसरा आज के दौर में युवा फिल्म स्टारों को अपना आइकॉन बना लेते हैं, ऐसी स्थिति में भी इसका फायदा सीधे करीना को ही मिलेगा।


जहां तक करीना की कमजोरी की बात है तो इससे पहले नवाब पटौदी भी यहां चुनाव हार चुके हैं, वहीं करीना का समय मुम्बई में ज्यादा बीता है ये फैक्टर उन्हें चुनाव में प्रभावित कर सकते हैं।

ज्ञात हो कि करीना के पति सैफ अली खान का भोपाल से पुशतैनी संबंध है। पटौदी परिवार बरसों से भोपाल में रह रहा है और सैफ, करीना, शर्मिला टैगोर और सोहा अली खान कई बार भोपाल आ भी चुके हैं। ऐसे में कांग्रेसी पार्षद पटौदी परिवार की लोकप्रियता को लोकसभा चुनाव में भुनाने की बात कर रहे हैं।

पार्षदों ने कहा है कि इस मांग को लेकर वो जल्द ही मुख्यमंत्री कमलनाथ से भी मुलाकात करेंगे।

जानिये कौन क्या बोला...
वहीं, अनीस का कहना है कि करीना क्योंकि पटौदी खानदान की बहू हैं इसलिए कांग्रेस को पुराने भोपाल में भी इसका फायदा मिलेगा। इसके अलावा महिला होने के नाते करीना महिलाओं के भी अच्छे खासे वोट लेने में कामयाब हो सकती हैं।

ये बोली भाजपा...
वहीं दूसरी ओर कांग्रेस पार्षदों की मांग पर बीजेपी ने तंज कसते हुए कहा है कि कांग्रेस के पास अब नेता नहीं बचे इसलिए अभिनेता के सहारे चुनाव लड़ना चाह रहे हैं।

भोपाल से बीजेपी सांसद आलोक संजर ने कहा कि 'कांग्रेस के पास स्थानीय नेता नहीं बचे इसलिए मुम्बई से उम्मीदवार इंपोर्ट करने की जरूरत पड़ रही है। मुझे पूरा भरोसा है इस बार भी भोपाल की जनता बीजेपी को ही चुनेगी।'

कुल मिला कर यदि कांग्रेस करीना कपूर को मैदान में उतारती है और वहीं उनके सामने भाजपा नरेंद्र सिंह तोमर को चुनाव में लाती है।

तो यह कहना गलत न होगा की तब उंट किस करवट बैठेगा कहा नहीं जा सकता। वहीं कांग्रेस की ओर से निकाला गया ये फॉर्मूला भाजपा के इस किले पर भारी भी पड़ सकता है। जिसके चलते उसे लोकसभा 2019 में नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। वहीं सूत्रों के अनुसार भाजपा ने भी भोपाल से कांग्रेस की ओर से करीना कपूर को खड़े किए जाने पर उसकी तोड़ का फॉर्मूला इजाद करना शुरू कर दिया है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/kareena-kapoor-fight-with-minister-narendra-s-tomar-in-loksabha-2019-4011222/

Loksabha election 2019: इस तरह जीत दर्ज करेगी कांग्रेस, भाजपा का सूपड़ा साफ करने की तैयारी


भोपालः मध्य प्रदेश समेत तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों भाजपा से कुर्सी छीनने में कामयाब हुई कांग्रेस काफी उत्साह में है। इस जीत ने पार्टी का मनोबल तो बढ़ाया ही है, जिसके तहत अब कांग्रेस अब लोकसभा चुनाव में भाजपा का किला भेदने की रणनीति तैयार कर रही है। बता दें कि, मध्य प्रदेश में 29 लोकसभा सीटों में से 26 सीटों पर भाजपा का कब्ज़ा है, बाकि, तीन सीटें कांग्रेस के खाते में हैं। पिछली बार के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर का देश-प्रदेश पर काफी प्रभाव था, जिसका लाभ भाजपा को लोकसभा के साथ साथ विधानसभा में भी मिला था। लेकिन, इस बार देश में अब तक मोदी लहर का भी खास प्रभाव नहीं है, साथ ही प्रदेश में भाजपा की सत्ता भी छिन चुकी है, जिसके तहत कांग्रेस का मानना है कि, इस बार मेहनत का फल मिल सकता है।

रिपोर्ट में इन मुद्दों पर होगा फोकस

मध्य प्रदेश में काग्रेस के सत्ता में होने से पार्टी को जीत के लिए काफी बल मिला है। इसी वजह से आलाकमान भी मध्य प्रदेश पर अपनी पैनी नज़र बनाए हुआ है। इसी के तहत कांग्रेस अब लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश के कई अहम मुद्दों को अपने घोषणा पत्र में जगह देने की तैयारी कर रहा है। लोकसभा चुनाव के घोषणा पत्र में मध्य प्रदेश से जुड़े मुद्दों को शामिल करने के लिए कांग्रेस हाईकमान ने विधानसभा चुनाव के लिए बनाई घोषणा पत्र समिति से इसपर रिपोर्ट तलब की है। इस रिपोर्ट में मध्यप्रदेश से जुड़े मुद्दों को लोकसभा चुनाव के घोषणा पत्र में शामिल करने की मांग की गई है। रिपोर्ट में रेल मार्ग, हवाई उड़ान से लेकर सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों, स्वास्थ्य सेवाओं और सिंचाई योजनाओं में प्रदेश को लाभ पहुंचाने वाले बिंदुओं पर खास ध्यान देने को कहा गया है। समिति को ये रिपोर्ट इसी महीने बनाकर ऊपर भेजनी है।

गहन विचार करके तैयार होगा घोषणा पत्र

फिलहाल, केंद्रीय कांग्रेस लोकसभा चुनाव के लिहाज़ से घोषणा पत्र तैयार करे में जुटी हुई है। इसके लिए हर सीट का प्रभारी बनाने के साथ पार्टी घोषणा पत्र पर ज्यादा फोकस करेगी। क्यूंकि, कांग्रेस को ये बात ठीक तरह से मालूम है कि, तीनो राज्यों में मिली जीत का श्रय पार्टी के वचन पत्र को जाता है। इसलिए सभी मुद्दों पर गहनता से विचार करने के बाद पार्टी घोषणा पत्र जारी करेगी। पार्टी सूत्रों की माने तो, कुछ दिनों पहले इस संबंध में कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया ने घोषणा पत्र समिति के अध्यक्ष डॉ. राजेंद्र सिंह को पीसीसी में बुलाकर इस संबंध में चर्चा भी की थी।

चर्चा के बाद इन मुद्दों को मिल सकती है घोषणा पत्र में जगह

-रेल मार्ग में प्रदेश के कुछ हिस्सों में अभी भी मीटरगेज लाइन हैं, जिन्हें ब्रॉडगेज में बदला जाना है।

-सिंचाई योजनाओं को केंद्र के अधीन ले जाने का वादा किया जाएगा। इसमें बरगी और पंेच जैसी परियोजनाओं को शामिल करने का वादा मप्र के मतदाताओं के लिए किया जा सकता है। इससे योजनाओं के संचालन के लिए केंद्र से अनुदान और ऋण मिलेगा।

-भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर से हवाई उड़ानें कम हैं, जिन्हें बढ़ाए जाने की मांग होगी।

-रेल कोच फैक्टरी भोपाल को पूर्ण क्षमता से काम करने की योजना बनाना।

-सार्वजनिक क्षेत्र की बीएचईएल, बैंक नोट प्रेस, सिक्युरिटी पेपर मिल (एसपीएम) होशंगाबाद, पेपर मिल नेपानगर जैसी कंपनियों से मप्र के फायदों के बिंदुओं को शामिल किया जाएगा। बीएचईएल के विस्तार की योजना को अमलीजामा पहनाना।

-Bhopal AIIMS में गंभीर ऑपरेशन कराना हुआ आसान, अब जल्द होगी MRI जांच

-भोपाल मेमोरियल हास्पिटल और अनुसंधान अस्पताल को एम्स में मर्ज करने की योजना पर अमल कराना। एम्स संचालन में आ रही परेशानियों को दूर कराना।

-हज यात्रियों के लिए भोपाल से सीधी उड़ान चालू की जाए।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/congress-strategy-to-win-loksabha-election-2019-4011121/

गणतंत्र दिवस की तैयारी जोरों पर, राजधानी के स्टेशन पर फहराया जाएगा 100 फीट ऊंचा तिरंगा


भोपाल. 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर भोपाल रेलवे स्टेशन पर 100 फीट ऊंचा झंडा फहराया जाएगा। रेलवे ने इसके लिए तैयारी कर ली है। शनिवार देर शाम प्लेटफार्म नंबर एक की तरफ इसका स्ट्रक्चर (पोल) खड़ा किया गया। जानकारी के अनुसार 26 जनवरी को इस पोल पर 25 बाय 18 फीट का तिरंगा झंडा फहराया जाएगा। उल्लेखनीय है कि राजधानी में इसके पहले देश का पांचवां सबसे ऊंचा (235 फीट) झंडा वल्लभ भवन के सामने बने पार्क में 27 मई 2015 को फहराया जा चुका है। राजाभोज एयरपोर्ट पर भी 100 फीट ऊंचा झंडा फहराया जा चुका है।

 

देशभक्ति की भावना जगाना है उद्देश्य

रेलवे अधिकारियों के अनुसार लोगों में देशभक्ति की भावना जगाने के लिए ये झंडे देश में ए-1 कैटेगिरी के 75 रेलवे स्टेशनों पर लगाए जा रहे हैं। 26 जनवरी तक सभी स्टेशनों पर ये झंडे फहरा दिए जाएंगे। चूंकि रेलवे स्टेशन ऐसी जगह होते हंै,जहां पर देशभर से लोग आते-जाते हैं। ऐसे में बड़ी संख्या में लोग झंडे को देख सकेंगे।

70वें गणतंत्र दिवस 2019 में घोड़ों में ग्लैंडर्स नाम की बीमारी फैल जाने से इन्हे परेड में शामिल नहीं किया जा रहा है। पशुओं से मनुष्य में संक्रमण न फैले, इससे पहले ही सरकार ने अलर्ट जारी कर दिया है।

परेड में घोड़ों को नहीं किया जाएगा शामिल

मध्यप्रदेश में इस बार गणतंत्र दिवस के परेड में घोडों को शामिल नहीं किया जाएगा। 70वें गणतंत्र दिवस में परेड की तैयारी शुरू कर दी गयी है। मिली जानकारी के अनुसार प्रशासन का कहना है कि घोड़ों में ग्लैंडर्स नाम की खतरनाक बीमारी होने से मनुष्य में संक्रमण न फैले इस कारण ये कदम उठाया गया है। लोगों की सुरक्षा को देखते हुए इसकी जानकारी संभागायुक्त को भेज दी गई है। गौरतलब है कि ग्लैंडर्स पशुओं की एक बीमारी है जो पशुओं से मनुष्य में संक्रमण के जरिए प्रवेश करती है। राजधानी के क़ाज़ी केम्प इलाके में बीते मई में एक घोडा बीमारी से संक्रमित मिला था।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/republic-day-2019-in-madhya-pradesh-preparation-4011096/

'जिनके नेतृत्व में 15 सालों तक प्रदेश में हावी रहा अपराध, वो हमारी 1 माह की सरकार पर राजनीति कर रहे हैं'


भोपाल. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सिंह चौहान और भाजपा पर पलटवार किया है। मध्यप्रदेश में बढ़ती आपराधिक घटनाओं को लेकर भाजपा लगातार कमलनाथ सरकार पर हमला कर रही है। भाजपा के सवाल पर सीएम कमलनाथ ने पलटवार करते हुए पूर्व की भाजपा सरकार पर हमला बोला है। कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए कहा, बेहद शर्मनाक है कि जिन्होंने अपने 15वर्ष के कार्यकाल में प्रदेश को अपराध प्रदेश बनाये रखा,जो अपनी सरकार में अपराध रोकने में पूरी तरह से नाकाम रहे,जिनके कार्यकाल में अपराधों में,प्रदेश देश में शीर्ष पर रहा,वो हमारी 1 माह की सरकार को अपराध को लेकर कोस रहे है,राजनीति कर रहे हैं।

 


हर नागरिक को सुरक्षा देने के लिए हमारी सरकार प्रतिबद्ध
भाजपा पर हमला के साथ-साथ कमलनाथ ने प्रदेश की जनता को भरोसा भी दिया है। कमलनाथ ने ट्वीट के माध्यम से कहा, प्रदेश के हर नागरिक को सुरक्षा देने के लिये हमारी सरकार प्रतिबद्ध है। वो हमारा कर्तव्य है। चाहे भाजपा के आपसी अंतर्कलह के विवाद हो या अन्य कारण से सामने आये विवाद हो, हमारी सरकार अपने कर्तव्यों का पूरा पालन करेगी। बता दें कि सीएम कमलनाथ इन दिनों दावोस दौरे पर हैं। सीएम बनने के बाद कमलनाथ की यह पहली विदेश यात्रा है।

 


शिवराज ने सरकार स किया था सवाल
पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार पर हमला करते हुए कहा था, प्रदेश में अपराधियों के हौसले बुलंद है। प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बिलकुल ध्वस्त हो गई है। यह हमारे लिए बहुत चिंता का विषय है। तत्काल अपराधी पकड़े जाने चाहिए। सरकार ने इसको गंभीरता से नहीं लिया, तो भाजपा को सड़कों पर उतरना पड़ेगा।

 

भाजपा नेताओं की हो चुकी है हत्या
मध्यप्रदेश में बीते एक सप्ताह में दो भाजपा नेताओं की हत्या का मामला सामने आया है। मंदसौर की घटना के बाद रविवार को बड़वानी जिले के मंडल अध्यक्ष मनोज ठाकरे की हत्या कर दी गई थी।


वर्ल्ड इकॉनामिक फोरम पर करेंगे चर्चा
मुख्यमंत्री कमलनाथ वर्ल्ड इकॉनामिक फोरम के विशेष आमंत्रण पर दावोस गए गए हैं। 22 से 25 जनवरी के बीच फोरम की 49वीं वार्षिक बैठक में मुख्यमंत्री कमलनाथ हिस्सा लेंगे। सीएम कमलनाथ यहां मध्यप्रदेश के विकास पर चर्चा करेंगे और निवेश के संभावनाओं की भी तलाश करेंगे।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/kamal-nath-said-bjp-made-state-of-crime-in-15-years-4011035/

100 साल बाद 22 जनवरी को बन रहा है राजयोग, खुल जाएगी इन 3 राशियों की किस्मत


भोपाल। आने वाले दिनों में ग्रहों की चाल बदलने वाली है। ग्रहों की चाल बदलने से कई राशियों पर भी इसका प्रभाव बढ़ता है। ये प्रभाव कभी सकारात्मक होता है तो कभी नकारात्मक भी हो सकता है। शहर के ज्योतिषाचार्य पंडित जगदीश शर्मा बताते है कि शनिदेव को न्याय के देवता कहा जाता है। यदि वे किसी पर मेहरबान हो जाएं तो व्यक्ति को राजा बना देता है। ऐसा ही होने वाला हैं इन तीन राशियों के साथ। जानिए कौन सी हैं वो राशियां....

pandit ji

वृषभ राशि

इस राशि के लोगों की आय में वृद्धी होगी, लेकिन काम बहुत ज्यादा करना पड़ेगा। दक्षिण क्षेत्र यात्रा का योग भी बनेगा। कई जगहों पर स्वयं को कमजोर महसूस करेंगे। परिवार के लोग साथ देंगे। इस समयावधि के दौरान आपकी किस्मत आसमान की बुलंदियों तक आपको पहुंचा सकती है। पुराने अटके हुए काम पूरे होंगे, साथ ही हर कार्य में सफलता मिलेगी। नए कार्यों की शुरुआत कर सकते हैं, आपके लिए यह गोल्डन टाइम हैं।

pandit ji

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए समय बहुत अच्छा साबित होगा। खुद की मेहनत से परेशानियां दूर कर पाएंगे। आर्थिक उन्नति मिलेगी और समाज में उच्च पद-प्रतिष्ठा हासिल होगी। लोग आपका और आपके परिवार का सम्मान करेंगे। इस राशी के जातकों पर शनिदेव की कृपा से घर में धन की वर्षा होगी वहीं जिन लोगों की आर्थिक स्थिति में समस्याएं आ रही थी वो सभी जल्द ही खत्म हो जाएगी।

मकर राशि

ये समय परेशानियों से भरा हो सकता है। खर्च की अधिकता और असहयोग रहेगा। कुछ दिनों बाद समय सुधरेगा। कार्यों में गति आएगी। यात्रा का योग है। धनलाभ होगा। कोई भी कार्य बिना सोचे-समझे कर सकते हैं। ये समय आपके लिए उत्तम रहने वाला हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/22-january-2019-ka-rashifal-capricornus-aaj-ka-rashifal-in-hindi-4010998/

आज का पंचांग 21 जनवरी 2018


ज्योतिष पं. गुलशन अग्रवाल

राष्ट्रीय मिति माघ 01, शक संवत् 1940 पौष शुक्ला पूर्णिमा सोमवार विक्रम संवत् 2075। सौर माघ मास प्रविष्टे 08, जमादि उल्लावल 14, हिजरी 1440 तदनुसार अंग्रेजी तारीख 21 जनवरी सन् 2019 ई०। सूर्य उत्तरायण, दक्षिण गोल, शिशिर ऋतु। राहुकाल प्रातः 7 बजकर 30 मिनट से 9 बजे तक।

पूर्णिमा तिथि पूर्वाह्न 10 बजकर 46 मिनट तक उपरांत प्रतिपदा तिथि का आरंभ। पुष्य नक्षत्र अर्धरात्रोत्तर 2 बजकर 27 मिनट तक उपरांत आश्लेषा नक्षत्र का आरंभ। विष्कुंभ योग पूर्वाह्न 10 बजकर 33 मिनट तक उपरांत प्रीति योग का आरंभ, बव करण पूर्वाह्न 10 बजकर 46 मिनट तक उपरांत तैतिल करण का आरंभ।

आज के मुहर्त- अनुकूल समय में माघ माह के पावन पर्व में स्नान प्रारंभ करने के लिए शुभ मुहूर्त है।

चन्द्रमा दिन रात कर्क राशि पर संचार करेगा। आज ही पौष पूर्णिमा, माघस्नान प्रारंभ, शक माघ प्रारंभ, गण्डमूल अर्धरात्रोत्तर 2 बजकर 27 मिनट से, माघ कृष्णा प्रतिपदा का क्षय।

आज के विचार- आज जन्म लिए बच्चों के नाम (हू, हे, हो, डा, डी) अक्षरों पर रख सकते है। आज जन्म लिये बच्चे शरीर से बलीष्ठ होंगे। ऐसे जातक मन से उदार व सद्गुणी होंगे। इनकी दिनचर्या अनियमित रहेगी। प्रायः वंशानुगत संपदा का उपभोग करेंगे। संघर्षशील भी होंगे।

पंचांग क्या है
पंचांग या पंचागम् हिन्दू कैलेंडर है जो भारतीय वैदिक ज्योतिष में दर्शाया गया है। पंचांग मुख्य रूप से 5 अव्यवों का गठन होता है, अर्थात् तिथि, वार, नक्षत्र, योग एवं करण। पंचांग मुख्य रूप से सूर्य और चन्द्रमा की गति को दर्शाता है। हिन्दू धर्म में हिन्दी पंचांग के परामर्श के बिना शुभ कार्य जैसे शादी, नागरिक सम्बन्ध, महत्वपूर्ण कार्यक्रम, उद्घाटन समारोह, परीक्षा, साक्षात्कार, नया व्यवसाय या अन्य किसी तरह के शुभ कार्य नहीं किये जाते। जैसा कि प्राचीन समय से बताया गया है कि हर क्रिया के विपरीत प्रतिक्रिया होती है। इसी तरह जब कोई व्यक्ति पर्यावरण के अनुरूप कार्य करता है तो पर्यावरण प्रत्येक व्यक्ति के साथ समान तरीके से कार्य करता है। एक शुभ कार्य प्रारम्भ करने से पहले महत्वपूर्ण तिथि का चयन करने में हिन्दू पंचांग मुख्य भूमिका निभाता है। पंचांग एक निश्चित स्थान और समय के लिये सूर्य, चन्द्रमा और अन्य ग्रहों की स्थिति को दर्शाता है। संक्षेप में पंचांग एक शुभ दिन, तारीख और समय पे शुभ कार्य आरंभ करने और किसी भी तरह के नकारात्मक प्रभाव को नष्ट करने का विचार प्रदान करता है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/todays-panchang-21-january-2018-4010925/

एमपी में कुछ अजीब हुआ, यह मत समझना कि 'मामा' कमजोर हो गया है; पूर्ण बहुमत से बनेगी भाजपा सरकार


भोपाल. मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान को लोग 'मामा' के नाम से जानते हैं। मध्यप्रदेश में भाजपा की हार के बाद भी शिवराज सिंह चौहान लगातार सक्रिय हैं। शिवराज सिंह चौहान प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर लगातार हमले कर रहे हैं तो पार्टी का उपाध्यक्ष बनाए जाने के बाद शिवराज सिंह चौहान ने केन्द्रीय राजनीति में भी विपक्ष पर लगातार हमले कर रहे हैं। रविवार को दिल्ली में शिवराज सिंह चौहान ने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, 'यह मत समझना कि मामा कमजोर हो गया है। 2014 की तरह हम दोबारा मध्यप्रदेश की 29 सीटों में से 27 जीतेंगे।'


कमलनाथ सरकार को फिर चेताया
रैली को संबोधित करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार को एक बार फिर से चेताया। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में कुछ अजीब हुआ। वोट शेयर भाजपा का ज्यादा रहा, हालांकि कांग्रेस की कुछ सीटें ज्यादा आईं और फिर एक मजबूर सरकार बना ली गई। सरकार हम भी बना सकते थे, लेकिन हमने फैसला किया कि शानदार बहुमत से सरकार बनाएंगे, ऐसी मजबूर सरकार नहीं।

 

shivraj singh


विपक्ष पर भी साधा निशाना
शिवराज ने रैली को संबोधित करते हुए विपक्ष पर भी निशाना साधा। शिवराज सिंह ने कहा, महागठबंधन में प्रधानमंत्री उम्मीदवार कौन है? सामने वाली सेना में सेनापति का पता नहीं, बाराती तैयार हैं, लेकिन घोड़ी पर बैठे कौन, इसका कोई ठिकाना नहीं। बिना दूल्हे की घोड़ी कितना आगे जाएगी? अगर 4-6 बैठ गए तो घोड़ी दुल्हन के पास पहुंचेगी भी या नहीं, कोई ठिकाना नहीं।


मोदी के नेतृत्व में देश सुरक्षित
शिवराज सिंह चौहान ने कहा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश सुरक्षित है और सभी योजनाएं भारत को आगे ले जाने के लिए हैं। आज भारत सर्जिकल स्ट्राइक कर जवाब देता है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी देश का मान बढ़ा है। इससे घबराकर 22 दल भी कल एक साथ आ गए, जो इससे पहले कभी साथ नहीं रहे।

 


विजय संकल्प रैली में हुए थे शामिल
शिवराज सिंह रविवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित युवा विजय संकल्प महारैली-2019 में शामिल हुए थे। दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी की अध्यक्षता में भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने नमो अगेन-2019 का शंखनाद करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को पुन: देश का प्रधानमंत्री बनाने का संकल्प लिया।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/shivraj-singh-said-bjp-will-win-27-seats-in-mp-4010847/

एक ही दिन में करते समस्या समाधान


 

भोपाल. संस्कृत विश्व की सभी भाषाओं की आत्मा ही नहीं, उनकी संजीवनी भी है। विश्व का अधिक से अधिक दर्शन और ज्ञान संस्कृत से प्राप्त हुआ है। वैज्ञानिक चमत्कारों के मूल में कहीं न कहीं संस्कृत का समृद्ध दर्शन निहित है। इसे वर्तमान समय के परिप्रेक्ष्य में तैयार कर अधिक से अधिक ज्ञानोपयोगी और जनोपयोगी बनाए जाने की जरूरत है। केन्द्र और राज्य सरकार संस्कृत को बढ़ावा देने के लिए कई स्तरों पर प्रयास कर रही है।

सवाल: संस्कृत विद्यार्थियों के लिए सरकारी या गैर-सरकारी नौकरी में स्कोप कम है, ऐसे में वे क्या कर सकते हैं?
जवाब: संस्कृत विद्यार्थियों के लिए धार्मिक विभागों और धार्मिक संगठनों, अनुष्ठानों आदि में अच्छा स्कोप है। संस्कृत संस्थान के तहत परीक्षाएं व मान्यताएं देने के अलावा योग प्रशिक्षण केन्द्र व ज्योतिष डिप्लोमा कोर्स भी चलाया जा रहा है। नौकरी न मिलने की दशा में विद्यार्थी स्वरोजगार कर सकता है।

 

सवाल: अंगे्रजी के जमाने में संस्कृत भाषा की प्रासंगिकता क्या है?
जवाब: संस्कृत भाषा भारत की ही आत्मा नहीं, बल्कि विश्व भाषाओं की संजीवनी है। संस्कृत के बारे में जानने की ललक विदेशों में भी खूब है। संस्कृत से विज्ञान की महत्वपूर्ण आविष्कारों के रास्ते खुले हैं।

सवाल: संस्थान में कितने रेगुलर और प्राइवेट विद्यार्थी इस सत्र में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं?
जवाब: वर्तमान में संस्थान के 200 विद्यालयों में लगभग छह हजार विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। परीक्षाओं की शुचिता और पवित्रता को बनाए रखने के लिए वर्ष 2012 के बाद स्वाध्यायी (प्राइवेट) परीक्षाएं बंद कर दी गई हैं।

 

सवाल: विद्यार्थी समस्याओं के समाधान के लिए परेशान होते रहते हैं, त्वरित निराकरण के उपाय क्या हैं?
जवाब: ऐसा नहीं है। यह प्रदेश का एकमात्र ऐसा संस्थान है, जिसमें आवेदनकर्ता के डुप्लीकेट अंकसूची, अंकसूची संशोधन, माइग्रेशन सर्टिफिकेट आदि प्रकरण उसी दिन निस्तारित कर दिए जाते हैं। संस्कृत संस्थान विद्यार्थियों की समस्याओं का त्वरित निराकरण करता है।

सवाल: संस्कृत के विद्यार्थियों के लिए बाहर कितना एक्सपोजर संभव है?
जवाब: संस्थान के विद्यार्थियों को विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए बाहर भेजा जाता है। उन्हें वर्तमान चुनौतियों के हिसाब से तैयार किया जाता है, जिससे वे प्रतियोगिताओं में सफल हो सकें। वर्ष 2016-17 में केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान के अंतर्गत 20 शिक्षकों का अनुदान दिया।

सवाल: इस संस्थान से अभी तक कितने विद्यार्थी पास आउट हुए हैं और कितनों को जॉब मिला?
जवाब: वर्ष 2008 के बाद संस्कृत संस्थान से दो लाख से अधिक विद्यार्थी पास हो चुके हैं। इनमें केन्द्र व राज्य सरकारों की विभिन्न सेवाओं में सेवारत हैं। कई विद्यार्थी विदेश भी जा चुके हैं।

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/opportunities-galore-in-sanskrit-4010839/

निकायों ने बनाए डेढ़ लाख अर्फोडेबल हाउस, नहीं आ रहे खरीददार


भोपाल। शहरों में बनाए जा रहे सबकी भागीदारी में किफायती आवास (अर्फोडेबल हाउस) के लिए खरीददार नहीं मिल रहे हैं। पूरे प्रदेश में करीब डेढ़ लाख आवास बनाए जा रहे हैं, जिसमें अकेले भोपाल और इंदौर में ही 72 हजार आवास हैं। इसकी मुख्य वजह यह है कि यह आवास या तो शहरों से दूर हैं यह फिर शहरों की गंदीबस्ती में ये आवास बनाए जा रहे हैं, जिसके चलते यहां लोग आवास लेने में कतरा रहे हैं।

सरकार ने पुराने शहरों, गंदीबस्ती क्षेत्रों का पुर्नघनत्वीकरण कर रही हैं। ये कार्य पीपीपी मोड पर निजी बिल्डरों से कराए जा रहे हैं।

यही पर सबकी भागीदारी में किफायती आवास बनाने के लिए बिल्डरों को जमीन दी गई है। बिल्डरों ने भोपाल, इंदौर जबलपुर, ग्वालियर में सहित करीब दस शहरों में डेढ़ लाख आवास बनाए हैं।

इन आवासों को बेंचने के लिए निकायों ने दो बार विज्ञापन जारी किए, लेकिन अभी तक एक भी मकान बुक नहीं हुए। इन आवासों की लागत 4 से 6 लाख रुपए निर्धारित की गई हैं, जिसमें दो लाख रुपए ही हितग्राही को देना पड़ता है।

बांकी की राशि सरकार और नगरीय निकाय मिलकर देते हैं। बताया जाता है कि इस माकान का कार्पेट एरिया कापी छोटा और फ्लैट है, जिसके चलते उपभोक्ता मकान खरीदने में रुचि नहीं ले रहे हैं। मकान की बुकिंग नहीं होने बिल्डरों ने आधे अधूरे में ही काम बंद कर दिया है। जबकि प्रदेश में इस तरह के कुल तीन लाख आवास बनाने के लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं।
------------
दस प्रतिशत बुकिंग के बाद शुरू होंगे नए प्रोजेक्ट
सरकार ने कई नगरीय निकायों में सबकी भागीदारी में किफायती आवासों के निर्माण पर रोक लगा दी है। निकायों को यह कहा गया है कि वे पहले इन आवासों के लिए विज्ञापन जारी करें।

दस फीसदी आवासों की बुकिंग होने के बाद ही प्रोजेक्ट शुरू करें। दस फीसदी से नीचे बुकिंग होने पर 6 माह तक उक्त प्रोजेक्ट को रोक दें और इसके बाद दोबारा विज्ञापन जारी करें। जिन निकायों में यह आवास बनाए जा रहे है वहां वार्ड स्तर पर स्टाल लगाकर उसे बेंचने का प्रयास करें तथा प्रचार प्रसार भी करें।
------------
बैंक नहीं दे रहे हैं लोन
इन प्रोजेक्टों के लिए बिल्डरों को बैंक लोन भी नहीं दे रहे हैं। बैंकों को लग रहा है कि रियल स्टेट में वैसे ही मंदी है और सबकी भागीदारी में किफायती आवासों की बुकिंग नहीं हो रही है। जब तक आवास नहीं बिकेंगे तब तक उनकी राशि फंस जाएगी। वहीं बिल्डर भी इन आवासों को बनाने में थोड़ा पीछे हट रहे हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/1-5-million-irrespective-of-the-bodies-made-by-the-bodies-the-buyers-4010701/

बिना अनुमति खेल मैदान में लगा रहे टॉवर, विरोध के बाद काम हुआ बंद


भोपाल। अयोध्या नगर जी सेक्टर में सेंट थॉमस स्कूल के पास खेल मैदान में एक निजी मोबाइल कंपनी टॉवर लगा रही है। इसके लिए न तो कंपनी ने किसी की अनुमति लीे और न ही रहवासियों से कोई चर्चा की। कंपनी के कर्मचारी काम की शुरूआत करने पहुंचे तो लोगों ने विरोध करना शुरू कर दिया। कंपनी ने काम बंद कर दिया, एक दिन अचानक कंपनी के कर्मचारी आए और गड्ढा खोदने लगे। लोगों को पता चला तो उन्होंने अलग-अलग जगह शिकायतें कीं तब कहीं जाकर काम रुक गया। लेकिन कंपनी के कर्मचारियों का आवागमन लगा रहता है। जी सेक्टर के कई लोगों ने इस मामले में कलेक्टर से शिकायत की है।

जी सेक्टर निवासी जगदंबा, ओपी झा, एमएल शर्मा, टीएन तिवारी, एससी वर्मा, संतोष सिंह सहित अन्य लोगों ने कलेक्टर के यहां दिए आवेदन में बताया कि निजी कंपनी जबरन खेल मैदान में मोबाइल टॉवर लगाना चाह रही है। इससे लोगों के स्वास्थ्य को खतरा हो सकता है। इस शिकायत के बाद कुछ दिन तो काम बंद रहा, लेकिन एक दिन कंपनी के कर्मचारी आए और गड्ढा खोदने लगे। विरोध करने पर काम बंद किया, लेकिन कर्मचारी आए दिन वहां आ रहे हैं। जनता की शिकायत के बाद एडीएम ने हाउसिंग बोर्ड के कार्यपालन यंत्री को जांच के निर्देश दिए हैं।

बिना अनुमति लगा रहे टॉवर
हाउसिंग बोर्ड की जमीन मोबाइल टॉवर लगाने से पहले अनुमति ली जाना अनिवार्य है, लेकिन कंपनी ने अनुमति नहीं ली है। इस बात का खुलासा खुद विभाग के अधिकारी ने किया है। इसके बाद भी निजी कंपनी के कर्मचारी मौका देखकर टॉवर लगाने की जुगाड़ में लगे हैं। इधर जनता भी अड़ी है कि टॉवर किसी हाल में नहीं लगने देंगे।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/mobile-tower-1-4010669/

राजधानी में बढ़ गई गिट्टी में रॉयल्टी की चोरी, रात में पास होते हैं डंपर


भोपाल। राजधानी में पिछले तीन माह में गिट्टी, मुरम और कोपरा के डंपरों में रॉयल्टी की चोरी बढ़ गई है। पिछले तीन महीने में खनिज विभाग ने ७० डंपर बिना रॉयल्टी के पकड़े हैं इसमें सबसे ज्यादा ३१ डंपर गिट्टी के हैं। बाकी मुरम और कोपरा के। विभाग ने इनमें से कइयों से राजस्व की वसूली की है तो कुछ केस कलेक्टर कोर्ट में भेजे हैं। इन कार्रवाइयों में एक खास बात ये है कि डंपर रात १२ से तीन बजे के बीच में जांच के दौरान पकड़े गए हैं। इसके अलावा बड़ी मात्रा में डंपर पास भी हुए हैं, जिनको पकडऩे में विभाग नाकाम रहा है।

रेत परिवहन पर कार्रवाई के अधिकार छिनने के बाद से खनिज विभाग का फोकस गिट्टी, मुरम और कोपरा के डंपर पर है। लेकिन चुनाव की आड़ में रॉयल्टी चोरी बढ़ गई थी, जो अभी तक जारी है। खुद खनिज विभाग ने नवंबर, दिसंबर और जनवरी में ७० डंपर बिना रॉयल्टी के पकड़े हैं। इनमें से कुछ डंपरों को ड्राइवर हाइवे पर छोड़कर भाग गए जिन्हें खनिज इंस्पेक्टर खुद चलाकर थाने तक लाए। इन डंपरों के प्रकरण बनाने के बाद मालिकों से रॉयल्टी वसूली गई है। जानकार बताते हैं कि पहले चुनावों की आड़ में और अब सरकार बदलने के बाद से भी रॉयल्टी चोरी बढ़ गई है। राजधानी में गिट्टी, मुरम और कोपरा की १८० खदानें हैं जो हर साल सिया और डिया की अनुमति से दी जाती हैं। इस बार मार्च में फिर से ठेके दिए जाएंगे। एेसे में जो ठेके पांच साल के लिए पहले हो चुके हैं उन्हें छोड़कर बाकी नए में बदलाव की स्थिति बनेगी। इस वजह से ठेका बदलने के डर से लूट सको तो लूट लो की स्थिति बनी हुई है।


पिछले तीन महीने में ७० डंपर बिना रॉयल्टी के पकड़े हैं, रात को टीमें अलग-अलग क्षेत्रों में गश्त करती हैं। कई बार डंपरों को ड्राइवर छोड़कर भाग जाते हैं, उन्हें थाने तक लाना पड़ता है।

राजेंद्र सिंह परमार, जिला खनिज अधिकारी, भोपाल


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/khanij-royalti-4010658/

चुनाव के पहले गोकुल ग्राम की नींव रखने की तैयारी, एक गाय पर खर्च होंगे डेढ़ लाख


भोपाल : लोकसभा चुनाव के पहले गाय एक बार फिर राजनीति के केंद्र में आ गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीन साल पुरानी घोषणा चुनाव के ऐन पहले आकार लेने जा रही है। गायों के लिए प्रदेश का पहला गोकुल ग्राम सागर जिले के रतौना में बनने जा रहा है। पांच सौ एकड़ का ये गोकुल ग्राम छह सौ गायों का आशियाना बनेगा। गायों के इस सुविधायुक्त घर में उनकी उनकी पूरी तीमारदारी की जाएगी।

एक गाय पर डेढ़ लाख से ज्यादा रुपए खर्च होंगे, जिसमें उनके खान-पान, रहन-सहन और स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखा जाएगा। केंद्र सरकार ने अपनी इस महत्वाकांक्षी योजना के लिए प्रदेश को दस करोड़ रुपए आवंटित कर दिए हैं। इसके निर्माण की नोडल एजेंसी मप्र राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम को बनाया गया है। पशुपालन विभाग ने निगम को पांच सौ एकड़ जमीन हैंडओवर कर दी है। गोकुल ग्राम का शिलान्यास ३० जनवरी को संभावित है। अगले एक साल में गोकुल ग्राम बनकर तैयार हो जाएगा।

- इस नस्ल की गाय रहेंगी :

गोकुल ग्राम में गिर,साहिवाल और थारपारकर जैसी दुर्लभ और दुधारु नस्ल की गायों का संरक्षण और संवर्धन किया जाएगा। गुजरात से गिर, पंजाब से साहिवाल और राजस्थान से थारपारकर नस्ल की गाय खरीदी जाएंगी। इन गायों की कीमत ३० से ८० हजार रुपए तक होती है। केंद्र सरकार के इस पूरे प्रोजेक्ट का मकसद गाय की लुप्त होती जा रही दुर्लभ नस्लों का संरक्षण करना है।

- गौ उत्पाद केंद्र बनेगा गोकुल ग्राम :

गोकुल ग्राम को गाय उत्पाद का केंद्र बनाया जाएगा। यहां बायोगैस प्लांट से बिजली उत्पादन किया जाएगा। वर्मी कंपोस्ट यानी अच्छी गुणवत्ता की खाद तैयार की जाएगी। गौमूत्र से फिनायल और दवाएं बनाई जाएंगी। गोकुल ग्राम को गौ उत्पाद केंद्र के साथ-साथ गाय अनुसंधान केंद्र के रुप में भी विकसित किया जाएगा।

गाय बनी सियासी मुद्दा :

देश और प्रदेश में गाय एक सियासी मुद्दा बन कर राजनीति के केंद्र में आ गई है। गाय की चिंता राज्य सरकारों के साथ केंद्र सरकार भी कर रही है। चुनाव आते ही मोदी की तीन साल पुरानी घोषणा आनन-फानन में पूरी कर दी गई। साफ्ट हिंदुत्व के रास्ते पर आगे बढ़ रही कांग्रेस ने भी प्रदेश में गौशाला को अहम मुद्दा बना दिया है।

कमलनाथ सरकार ने वचन पत्र में हर पंचायत में गौशाला खोलने की बात कही है और प्रदेश में उस पर काम भी शुरु हो गया है। लोकसभा चुनाव के पहले मोदी के फंड को गाय पर कमलनाथ लुटाएंगे। सवाल ये है कि इसका सियासी फायदा आखिर किसके हिस्से में आएगा।


सागर में बनने वाले गोकुल ग्राम का जल्द ही शिलान्यास किया जाएगा। यह गोकुल ग्राम गायों की देखभाल और गाय उत्पाद के मॉडल के रुप में अपनी पहचान बनाएगा। हम गायों की पूरी चिंता कर रहे हैं। - लाखन सिंह यादव पशुपालन मंत्री,मप्र -

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/preparation-to-lay-foundation-of-gokul-village-before-the-election-4010653/

बंद होगी भावंतर भुगतान योजना, किसानों की विदेश यात्रा पर भी लगेगी रोक


भोपाल : प्रदेश सरकार के निशाने पर पिछली भाजपा सरकार की वे योजनाएं हैं जिनका कांग्रेस विरोध करती रही है। सरकार अब किसानों से जुड़ी भावांतर भुगतान योजना और उनको प्रशिक्षण के लिए विदेश भेजने की योजना बंद करने जा रही है। कृषि मंत्री सचिन यादव ने अधिकारियों को इसकी समीक्षा करने के निर्देश दे दिए हैं। भावांतर योजना शुरु होने से ही विवादित रही है। इस योजना को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर विधानसभा में खूब सवाल उठाए हैं। तत्कालीन शिवराज सरकार ने किसानों को फसल का उचित मूल्य दिलाने के लिए ये योजना शुरु की थी,जिसमें फसल के बाजार भाव और समर्थन मूल्य का अंतर उसके खाते में डाला जाता था। विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार की वजह ये भी मानी गई थी कि किसानों को इस योजना का फायदा दिलाने में सरकार नाकाम साबित हुई।

किसानों को विदेश भेजने के नाम पर अपनों को भेजा :
शिवराज सरकार की किसानों को विदेश भेजकर उन्नत कृषि का प्रशिक्षण दिलाने की योजना भी प्रदेश सरकार बंद कर रही है। ये योजना भी कई बार विवादों में आ चुकी है। सचिन यादव का कहना है कि ये योजना किसानों के नाम पर भाजपा नेताओं को विदेश में सैर सपाटा कराने का जरिया बन गई थी। किसानों को उन्नत कृषि का प्रशिक्षण दिया जाएगा लेकिन इसका तरीका बदल दिया जाएगा। विदेशी विशेषज्ञों को प्रदेश में बुलाकर विकास केंद्र तक किसानों को प्रशिक्षण देने की व्यवस्था की जाएगी।


भावांतर और किसानों को विदेश भेजने की योजना सरकार बंद करने जा रही है। इन योजनाओं के नाम पर किसानों के साथ सिर्फ छलावा किया गया है। भावांतर से व्यापारियों को फायदा पहुंचाया गया है और किसान बनाकर भाजपा और संघ नेताओं को विदेशों में सैर कराई गई है। इन योजनाओं के बदले में किसानों को फायदा पहुंचाने के अन्य तरीकों पर विचार किया जा रहा है।
- सचिन यादव कृषि मंत्री,मप्र -


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/the-bhavantar-bhugtan-yojna-will-stop-4010638/

हाईटेक होगी पंचायतें, सरपंच, सचिव करेंगे डिजिटल हस्ताक्षर


भोपाल। प्रदेश की ग्राम पंचायतें अब हाईटेक होंगी। ग्राम पंचायतों की योजना बनाने से लेकर बिलों के भुगतान सहित कार्य ऑन लाइन होंगे। इसके लिए सरपंचों और सचिवों के हस्ताक्षर भी डिजिटल किए जा रहे हैं।

पंचायतें विकास कार्यों के प्रस्ताव जनपद और जिला पंचायतों को भेज कर उसकी मंजूरी ले सकेंगे। इसके लिए उन्हें न तो लंबा इतजार करना पड़ेगा और न ही इन कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ेंगे।

जनपद और जिला पंचायतें भी ग्राम पंचायतों से भेजे गए प्रस्तावों पर विचार करने में देरी नहीं कर सकेंगे, क्योंकि ऑन लाइन से विभाग को भी यह पता चल सकेगा कि कौन सा प्रस्ताव किस स्तर पर कितनी देरी तक रोका गया है।
सरपंच और सचिव निवास प्रमाण पत्र, राशन कार्ड सहित अन्य दस्तावेजों में भी इस हस्तक्षर का उपयोग कर सकें, इसके लिए पंचायत के पोर्टल में एक साफ्टवेयर तैयार किया जा रहा है।

इस साफ्टवेयर के माध्यम से ग्रामीण आवेदन ऑन लाइन सरपंच और सचिव के पास भेज सकेंगे। डिजिटल हस्ताक्षर होने से सरपंच और सचिव अगर ग्राम पंचायत में नहीं हैं तो भी किसी तरह से कार्य नहीं रुकेगा। इस हस्ताक्षर का सबसे ज्यादा ई-भुगतान में उपयोग किया जाएगा। क्योंकि पंचायतों में सारे भुगतान अब ऑन लाइन ही किए जा रहे हैं।

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग ने सभी ग्राम पंचायतों को निर्देश दिए हैं कि वे दो माह के अंदर डिजिटल हस्ताक्षर तैयार करा लें। हस्ताक्षर तैयार करने के लिए हर पंचायतों को दो हजार रुपए दिए गए हैं। इसके अलावा जिला पंचायतों को कहा गया है कि वे उन्हें हस्ताक्षर करने और ऑन लाइन काम-काज को समझने के लिए जनपद पंचायत स्तर पर प्रशिक्षण दें, जिससे इसका दुरूपयोग न हो।
----------------
दो साल के लिए वैध होंगे हस्ताक्षर
डिजिटल हस्ताक्षर सिर्फ दो साल के लिए ही वैध होंगे। दो साल बाद इसकी वैधता बढ़ाने के लिए डिजिटल हस्ताक्षर तैयार करने वाली कंपनी को दोबारा ठेका दिया जाएगा और आईडी कोड तैयार किए जाएंगे। जिन ग्राम पंचायतों में सचिव नहीं हैं वहां रोजगार सहायकों के डिजिटल हस्ताक्षर


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bhopal-news/panchayats-sarpanch-secretary-will-sign-digital-signature-4010616/

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
Jobs Jobs / Opportunities / Career
Haryana Jobs / Opportunities / Career
Bank Jobs / Opportunities / Career
Delhi Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Uttar Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Himachal Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Rajasthan Jobs / Opportunities / Career
Scholorship Jobs / Opportunities / Career
Engineering Jobs / Opportunities / Career
Railway Jobs / Opportunities / Career
Defense & Police Jobs / Opportunities / Career
Gujarat Jobs / Opportunities / Career
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Bihar Jobs / Opportunities / Career
Uttarakhand Jobs / Opportunities / Career
Punjab Jobs / Opportunities / Career
Admission Jobs / Opportunities / Career
Jammu and Kashmir Jobs / Opportunities / Career
Madhya Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Bihar
State Government Schemes
Study Material
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Syllabus
Festival
Business
Wallpaper
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com