Patrika : Leading Hindi News Portal - Jaipur #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Patrika : Leading Hindi News Portal - Jaipur

http://api.patrika.com/rss/jaipur-news 👁 12999

पश्चिमी राजस्थान में चक्रवाती तूफान की आशंका! मौसम विभाग ने दिए संकेत, कई जगहों पर पलटा मौसम


जयपुर।

प्रदेश में बीते 48 घंटे में दिन और रात के तापमान में हुई बेतहाशा बढ़ोतरी ने भले ही गर्मी के आगमन का अहसास करा दिया हो, लेकिन दूसरी तरफ उत्तरी राज्यों से होकर प्रदेश के उत्तर पश्चिमी इलाकों में सक्रिय हो रहे चक्रवाती तंत्र से आगामी एक-दो दिन में फिर से सर्दी का जबरदस्त पलटवार हो सकता है। मौसम विभाग के मुताबिक 21 से 23 जनवरी के बीच उत्तरी राजस्थान, उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा में कई स्थानों पर बारिश हो सकती है। 60 किमी/ घंटे की रफ्तार से हवा चल सकती है। जम्मू-कश्मीर सहित उत्तर भारत में जारी सर्दी के बीच जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश बारिश और बर्फबारी की चेतावनी जारी की गई है। मौसम विभाग के मुताबिक उत्तर भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो गया है। उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में हल्के चक्रवाती तूफान की भी संभावना है। पश्चिमी राजस्थान के कुछ हिस्से में चक्रवाती तूफान की आशंका भी है।


दिखने लगा असर
मौसम विभाग की आशंका का असर प्रदेश में दिखाई देने लगा है। जैसलमेर जिले के सरहदी क्षेत्र खुईयाला सहित कई रेगिस्तानी इलाकों में रविवार देर रात अचानक तेज़ सर्द हवाओं के साथ मौसम में आये बदलाव से बारिश शुरू हुई। कई इलाकों में बारिश के साथ ओले भी बरसे तो कहीं झमाझम बारिश होती रही। सोमवार सुबह तक बारिश लगातार बरसती रही। मोहनगढ़ क्षेत्र में रविवार की रात्रि में तेज हवाओं का दौर जारी रहा। वहीं सोमवार की सुबह साढ़े पांच बजे से ही आसमान में घने बादलों के छाने के साथ ही तेज बिजली कडक़ती नजर आई। लगातार बरसात साढ़े दस बजे तक जारी रही। बरसात व सर्दी को देखते हुए कुछ निजी विद्यालयों द्वारा बच्चों की छुट्टी कर दी।


बीकानेर में भी पश्चिमी विक्षोभ के कारण सोमवार को अलसुबह से ही बादलों की आवाजाही लगातार जारी है। इसी के साथ ही सर्द हवाओं का दौर चल गया है। सर्द हवाओं के चलने से ठिठुरन भी बढ़ गई है। सुबह से ही सूरज की तपिश भी कम रही। मौसम विभाग के अनुसार जिले में आगामी 22 जनवरी को बादलों की गर्जन के साथ मावठ होने की संभावना है।

राजधानी जयपुर में भी आज सुबह शहर में छितराए बादलों की आवाजाही नजर आई। स्थानीय मौसम केंद्र के पूर्वानुमान के अनुसार शहर में आज बादलों की आवाजाही रहने व दिन में तेज रफ्तार से सतही हवाएं चलने की संभावना है।

जोधपुर के लोहावट कस्बे सहित आस-पास क्षेत्र में आज सुबह एक बार फिर मौसम के मिजाज में बदलाव आया है। दो दिनों तक राहत मिलने के बाद सर्दी के तेवर फिर से तीखे होने लगे है। यहां पर अलसुबह से ही ठंडी हवाएं चल रही है। वहीं आसमान में हल्के बादलों के छाने के साथ हल्का कोहरा भी नजर आया। सर्दी से बचाव के लिए लोग जगह-जगह अलाव तापते नजर आएं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/weather-changed-in-rajasthan-due-to-cyclonic-system-4011577/

Exclusive : जब बेटियां नहीं बचेगी तो बहू कहां से लाओगे, सोचना जरूर


सविता व्यास

जयपुर। बेटों की चाह ने समाज के सामने एक ऐसी विकराल स्थिति पैदा कर दी है कि विवाह के लिए लड़कों को लड़कियां नहीं मिल रही हैं। कुुंवारे लड़कों का ग्राफ दिनों—दिन बढ़ता जा रहा है। इस चिंता को देखते हुए विभिन्न समाज की ओर से युवक—युवती परिचय सम्मेेलनों का आयोजन किया जा रहा है, लेकिन यहां भी चौंकाने वाले आकड़े हैं। विभिन्न समाजों के परिचय सम्मेलन में लड़कों की अपेक्षा लड़कियों की संख्या बीस फीसदी से भी कम है। राज्य के कई हिस्सों में महिला-पुरुष अनुपात चिंताजनक स्तर पर पहुंच गया है और लोग विवाहयोग्य लड़कियां ढूंढने के लिए दूसरे राज्यों का रुख करने लगे हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि बेटियां ही नहीं बचेगी तो फिर बेटे के लिए बहू कहां से लाओगे।

 

लड़कियां हर क्षेत्र में आगे
आज के इस आधुनिक युग में लड़कियां हर क्षेत्र में लड़कों के समान हैं। चाहें वह शिक्षा हो या सरहद पर डटी हुई सेना की लड़कियां हों। हर क्षेत्र में अपना कदम बढ़ा चुकी हैं। आज कल्पना चावला जैसी महिलाएं पृथ्वी से बाहर जाकर लोगों को अंतरिक्ष का ज्ञान बांट चुकी हैं। इसके बाद भी बेटों के जन्म पर घरों में जश्न मनाया जाता है और बेटियों को कोख में ही मार दिया जाता है। भारत में कन्या भ्रूण हत्या एक बड़ी समस्या है, जिससे ***** अनुपात का फर्क बढ़ता जा रहा है। ऐसा नहीं है कि सिर्फ कन्या भ्रूण हत्या ही दिक्कत है, बल्कि कई जगहों में बेटी के जन्म लेने पर ही उन्हें सड़कों, नालियों, कूड़ेदानों या जंगलों में फेंक दिया जाता है। ऐसी कई बेटियां सही उपचार न मिलने पर दम तोड़ देती हैं, जबकि कुछ मासूम जानवरों का शिकार बन जाती हैं।

प्रधानमंत्री ने की बेटी बचाओ की अपील

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद देश में ***** आधारित असमानता खत्म करने की अपील कर चुके हैं, जिससे भेदभाव को खत्म किया जा सके। मोदी का कहना है कन्याभ्रूण हत्या शर्म की बात है और एक गंभीर चिंता का विषय है। इसे खत्म करने की दिशा में कार्य करना सभी की सामूहिक जिम्मेदारी है, वरना हम ना केवल वर्तमान पीढ़ी को नुकसान पहुंचा रहे हैं बल्कि भावी पीढ़ियों के लिए खतरनाक संकट को निमंत्रण दे रहे हैं।

लड़कियों की संख्या कम होना चिंताजनक
पाराशर समाज जयपुर के अध्यक्ष संजीव पाराशर ने बताया कि हाल ही में युवक—युवती परिचय सम्मेलन का आयोजन किया गया। इसमें लड़कों के बॉयोडेटा 500 के करीब मिले, वहीं लड़कियों के करीबन 70—80 के करीब होंगे। समाज के युवकों को शादी के लिए लड़कियां नहीं मिल रही हैंं। हालात यह है कि कुंवारे लड़कों की संख्या दिनों—दिन बढ़ती जा रही है।

 

कन्या भ्रूण हत्या है कानूनन अपराध
कन्या भ्रूण हत्या सन 1961 से बहुत बड़ा कानूनन अपराध है, जिसे करने वाले व्यक्ति को बहुत बड़ी सजा मिलने का प्रावधान है। यहां तक की बच्चे की ***** जाँच करवाने वाले माता पिता या करने वाले डॉक्टर को भी कड़ी सजा का प्रावधान है। लांसेट की स्टडी में खुलासा हुआ है कि माता-पिता दूसरी कन्या-भ्रूण का गर्भपात इसलिए कराते हैं ताकि उनके परिवार में कम से कम एक बेटा तो हो।
पिछले दशकों में यह प्रवृत्ति बढ़ी है। इससे लिंगानुपात असंतुलन उत्तर भारत से खिसककर पूर्व व दक्षिण भारत की ओर हो रहा है।


यह कहते हैं आंकड़े—
जनगणना 2011 के आंकड़ों के अनुसार
देश में अनुपात के मामले में राजस्थान का नंबर 24वां
राजस्थान का ***** अनुपात प्रति 1,000 पुरुषों पर 982 महिलाएं
बच्चों में अनुपात 1000 की तुलना में महज 888

 


एक पत्रिका लांसेट की स्टडी के अनुसार —
तीन दशक में 42 लाख से लेकर 1.21 करोड़ कन्या भ्रूण का गर्भपात जानबूझकर कराया गया

शोध पर आधारित यह अध्ययन प्रतिष्ठित पत्रिका 'लांसेट' एक अध्ययन में किया गया दावा, धनी और शिक्षित परिवारों में गर्भपात की घटनाए हुईं अधिक

72 प्रतिशत जिलों में लिंगानुपात घटा

कन्या भ्रूण गर्भपात 80 के दशक में 2 लाख, 90 के दशक में 12 से 40 लाख और 2000 के दशक में 31 से 60 लाख हुए

पहली संतान बेटी है तो लिंगानुपात में गिरावट शहरों में ग्रामीण क्षेत्रों से ज्यादा रही

भारत में बेटे की चाह में असामान्य लिंगानुपात को बढ़ावा मिलता है, जबकि यह तो अफ्र ीकी देशों में भी नहीं है

वर्ष 2001 से 2011 के बीच देश के 563 जिलों में से 72 प्रश में लिंगानुपात घटा। 28 प्रतिशत जिलों में कोई बदलाव नहीं हुआ या बढ़ा है


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/lack-of-girls-problem-is-a-horrible-for-society-4011370/

नहीं करना पड़ेगा गर्मी का इंतजार, स​ब्जीमंडियों में कच्चे आम की आवक शुरू


जयपुर. शहर की मंडियों में आंध्रप्रदेश से कच्चे आम (केरी) की आवक शुरू हो गई है। हालांकि पहली खेप होने से भाव में तेजी देखने को मिल रही है। जिससे हर कोई इसे खरीदने की हि मत नहीं जुटा पा रहा। व्यापारियों के मुताबिक केरी का शुरुआती दौर है। अगले महीने तक भाव में कमी दर्ज होगी। इसके अलावा करेला, अदरक, शिमला मिर्च, भिंडी, खीरा, हरी मिर्च के भाव में भी इजाफा हुआ है। इसमें लगभग 20से 30 फीसदी तक बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है। सब्जी व्यापारी राजकुमार ने बताया कि इस बार मुहाना मंडी में सब्जियों की आवक अच्छी हुई है। इससे भाव में स्थिरता रही। कुछेक सब्जियों में ही उतार चढ़ाव रहा। वहीं मुहाना मंडी थोक व्यापारी विक्की का कहना हैं कि शादियों का सीजन शुरू होने वाला है। इससे डिमांड बढ़ेगी। जिससे कुछेक महंगाई का असर देखा जा सकता है।

कमल ककड़ी 100
केरी 70-80
अदरक 90-100
नींबू 50-70
फूलगोभी 15-20
शिमला मिर्च 40-50
मटर 20-25
गाजर 10-15
भिंडी 60
बैंगन 20
खीरा 30-40
टमाटर 15-20
आंवला 20-30
लौकी 20
(फुटकर भाव रुपए प्रति किलो में)


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/in-winter-season-mango-is-reached-in-subzi-market-4011197/

वाट्सऐप पर हाय-हैलो करना पड़ा भारी, लगी 3.19 लाख की चपत


जयपुर. मानसरोवर इलाके में रहने वाली एक महिला व्हाट्स ऐप पर विदेशी महिला के झांसे में आकर 3.19 लाख रुपए की ठगी का शिकार हो गई। थानाधिकारी सुनील कुमार ने बताया कि मांग्यावास निवासी कृष्णा कुमारी ने मामला दर्ज करवाया है। पीडि़ता का कहना है कि गत दिसंबर में उसके व्हाट्स ऐप नंबर पर अज्ञात नंबर से हाय-हैलो के मैसेज आए। रिप्लाई करने पर मैसेज करने वाली ने खुद को यूके निवासी बेटी बताया। चैटिंग के दौरान दोस्ती हो गई और उसने कहा कि कभी कोई समस्या हो तो बताएं। 8 जनवरी के उसने मैसेज किया कि आपको एक पार्सल भेज रही हूं। 10 जनवरी को फोन आया और उसने अपना नाम रेणु पॉल और खुद को मुंबई एयरपोर्ट से बताया और कहा कि आपका पार्सल आया है, उसका कस्टम टैक्स जमा करवाए।

पीडि़ता झांसे में आ गई और आरोपी के बताए अकाउंट नंबर में तीन बार में 31 हजार रुपए जमा करवा दिए। अगले दिन फिर उसने फोन कर बताया कि आपके पार्सल में पौंड है और इनकम टैक्स का पेमेंट एडवांस करवाने की एवज में 99 हजार रुपए अकाउंट में ट्रांसफर करवा लिए। 16 जनवरी को फिर से फोन कर पार्सल इंश्योरेंस के नाम पर 1.89 लाख रुपए जमा करवा लिए, लेकिन आज तक पार्सल नहीं पाया।

 

ज्यादा मुनाफे के फेर में पड़कर गंवाए 20 लाख
उधर विद्याधर नगर में निवेश में अच्छे मुनाफे का झांसा देकर ठगी का मामला सामने आया है। धोद निवासी मनोज कुमार ने इस्तगासे से रिपोर्ट दर्ज कराई है। इसमें डेली डायमण्ड मार्केटिंग प्रालि के बृजमोहन सैनी, राममोहन सैनी, दिनेश सैनी, अशोक सैनी, परिचित सोहनलाल जाखड़ के विरुद्ध धोखाधड़ी कर 20 लाख रुपए ठगने का आरोप लगाया है। रिपोर्ट के अनुसार मनोज को सोहनलाल ने बताया कि विद्याधर नगर स्थित कम्पनी में 1.05 लाख रुपए निवेश पर कम्पनी इतनी ही कीमत का गोल्ड, डायमंड देती है। 10 माह तक 10500 रुपए प्रतिमाह देगी। इस पर मई 2018 में पीडि़त ने राशि जमा कराके कम्पनी में ज्वॉइन कर लिया। आरोपियों ने कहा कि और निवेश करो, अधिक लाभ होगा। पीडि़त ने मई से जुलाई तक 20 लाख रुपए और निवेश कर दिए। 1.06 लाख रुपए कम्पनी ने प्रतिफल के रूप में दिए लेकिन शेष राशि नहीं मिली। रुपयों के लिए पूछा तो आरोपी आश्वासन देते रहे। पुलिस ने रिपोर्ट के आधार पर जांच शुरू कर दी है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/whatsapp-chat-create-problems-for-jaipur-based-women-lost-3-19-lakh-4010929/

दुबई से जयपुर आया था ‘लश्कर ए तैयबा‘ का आतंकी, प्रदेश में दहशत, NIA टीम जयपुर से दिल्ली लेकर रवाना


जयपुर।

जयपुर एयरपोर्ट पर बीती रात एनआईए की टीम और जयपुर पुलिस ने दुबई से जयपुर आए एक संदिग्ध को अरेस्ट किया है। नागौर निवासी इस आतंकी संदिग्ध मोहम्मद हुसैन की तलाश एनआईए के साथ ही आईबी की टीम को भी थी। बताया जा रहा है कि उसके खिलाफ लुक आउट नोटिस भी जारी किया गया था। वह दुबई रहता था और उसके जयपुर आने की सूचना के बाद बीती रात जयपुर पुलिस के साथ मिलकर इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया है। बताया जा रहा है कि देर रात ही एनआईए की टीम उसे जयपुर से दिल्ली लेकर रवाना हो गई है। इस बारे में प्रदेश पुलिस के चुनिंदा अफसरों को ही जानकारी दी गई है।

 

नागौर का रहने वाला है हुसैन, फडिंग का शक
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मोहम्मद हुसैन आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा के लिए फंड जुटाता था। वह कई सालों से दुबई रह रहा था और नागौर का मूल निवासी था। आतंकी संगठन से जुडक़र उसने कई लोगों से फंड लिया था। उसके बादे में कुछ साल पहले ही एनआईए को जानकारी मिली थी। तभी उसकी तलाश थी। अफसरों की मानें तो वह दुबई में काम करता था और नागौर परिजनों से मिलने तक नहीं आता था। लेकिन कुछ दिन पहले उसके नागौर आने की सूचना के बाद एनआईए की टीम हरकत में आ गई और देर रात सांगानेर पुलिस की मदद से दुबई से आने वाली फ्लाइट से उतरने के बाद उसे हिरासत में ले लिया गया। कुछ देर उसे सांगानेर थाने पर रखा गया और बाद में देर रात ही उसे दिल्ली ले जाया गया। इससे पहले पिछले साल दिवाली से पहले भी नागौर से तीन लोगों को हिरासत में लिया गया था। उनको एनआईए की टीम दिल्ली ले गई थी। इन तीनों पर भी लश्कर ए तैयबा संगठन के लिए फंडिंग करने का शक था। बताया जा रहा है कि इनसे पूछताछ के बाद ही मोहम्मद हुसैन के राजस्थान आने की सूचना एनआईए को मिली और इस पर कार्रवाई करते हुए हुसैन को दबोचा गया।


जयपुर और शेखावटी में आतंक की दहशत
13 मई 2008 के बाद से प्रदेश मे आतंकी संगठनों की दखल बढ़ गई। या फिर उनके बारे में जानकारी मिलना शुरू हुई। जयपुर बम धमाकों के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने जयपुर, जोधपुर चुरू, नागौर, जैसलमेर एवं अन्य जिलों में आतंक की भाषा सीख रहे आतंकी संदिग्धों को दबोचना शुरू किया। जयपुर बम धमाकों के बाद जब सिमी का कनेक्शन सामने आया तो साल 2009 और 2010 में जयपुर समेत अन्य जिलों की पुलिस ने सात जिलों से सिमी की स्लीपर सैल में काम कर रहे 70 से ज्यादा संदिग्धों को दबोचा। उसके बाद तो आईएम और लश्कर के लिए काम करने वाले संदिग्धों की गिरफ्तारी शुरू हो गई। साल 2014 में जयपुर से फिर से चार इंजीनियरों को हिरासत में लिया गया। ये लश्कर से जुड़े थे। उसके एक साल बाद ही जयपुर के मोती डूंगरी इलाके से तेल कंपनी में काम करने वाले एक इंजीनियर को भी अरेस्ट किया गया। उस पर आईएम के लिए फंडिग के आरोप लगे थे। जयपुर बम धमाकों में भी चार आतंकियों को दबोचा गया था। वे जयपुर सेंट्रल जेल में बंद हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/terrorist-arrested-at-jaipur-airport-before-republic-day-4010837/

कनोता थाने से महज 2 किमी दूर चल रहा वसूली का खेल, पुलिस बेपरवाह


धीरेन्द्र भट्टाचार्य/रघुवीर सिंह

जयपुर. राजधानी में पुलिस की नाक के नीचे सरेआम हफ्तावसूली हो रही है। हफ्ता वसूलने वाला गिरोह न सिर्फ पनपा बल्कि फल-फूल रहा है। अजमेरीगेट से 18 और कानोता पुलिस थाने से महज 2 किलोमीटर दूर इस गिरोह ने 3 नाके लगा रखे हैं। तीनों जगह गिरोह के लोग बैठते हैं और पत्थर भरकर लाने वाले हर ट्रैक्टर ट्रॉली चालक से 225 रुपए वसूलते हैं। राजस्थान पत्रिका ने रविवार को कानोता पुलिस थाना क्षेत्र के हरध्यानपुरा में पड़ताल की तो हफ्तावसूली का चल रहा यह खेल सामने आया।

 

jaipur illegal vasuli

खाट का मतलब नाका
गिरोह ने खाट को ही नाका बनाया हुआ है। तीनों जगह गिरोह के लोग खाट पर बैठते हैं और पत्थर भरकर लाने वाले ट्रैक्टर ट्रॉली चालकों से 225-225 रुपए वसूलते हैं। कानोता और नायला रोड के नाके से गिरोह के लोग ट्रॉलियां गिनते हैं, आने-जाने वालों पर निगाह रखते हैं।

सरगना का नाम जगमोहन
पत्रिका ने खाट पर बैठे युवक से पर्ची के बारे में पूछा गया तो एकबारगी वह हड़बड़ा गया। फिर बोला, सामने दुकान में बैठे युवक से पूछो। उस युवक से पूछा तो बोला, हम जगमोहन ठेकेदार के लिए काम करते हैं।

इन 3 जगह हैं हफ्तावसूली के नाके
पहला नाका: कानोता तिराहे पर
दूसरा नाका : नायला रोड पर
तीसरा नाका : हरध्यानपुरा गांव में चौक के बीचों-बीच

 

पर्ची तो दी मगर नाम और तारीख की, पैसे लिखे ही नहीं
राजस्थान पत्रिका की टीम रविवार दोपहर 12.43 बजे हरध्यानपुरा में मौके पर पहुंची तो माजरा चौंकाने वाला था। गिरोह के लोग खाट पर बैठकर ट्रैक्टर ट्रॉलियों का इन्तजार कर रहे थे और चालकों से प्रति ट्रॉली 225 रुपए वसूलने में जुटे थे। इस दौरान पत्थर भरकर एक ट्रैक्टर ट्रॉली चालक हरध्यानपुरा की पहाड़ी से गांव की ओर जा रहा था। दस मिनट बाद उसने जैसे ही गांव में प्रेवश किया, वहां गिरोह के लोगों ने उसे रोक लिया। गिरोह का गुर्गा वहां खाट लगाकर बैठा था। उसने ट्रैक्टर ट्रॉली चालक से 225 रुपए लिए और बदले में एक पर्ची हाथ में थमा दी। पर्ची पर ट्रैक्टर ट्रॉली चालक का नाम, दिनांक और समय ही लिखा था। उससे वसूली गई राशि का पर्ची पर कोई जिक्र नहीं किया गया था। गिरोह ने इस हफ्तावसूली के लिए गांव के चौक में एक दुकान बाकायदा किराए पर ले रखी है। उसके सामने ही सड़क पर खाट डालकर गिरोह के लोग वसूली के लिए जमे रहते हैं। ट्रैक्टर ट्रॉली चालक इसे 'हफ्तावसूली का नाका' कहते हैं।

illegal

खौफ ऐसा ट्रैक्टर चालक बोला: फोटो मत लो, नाम भी मत छापना
पत्रिका टीम ने एक ट्रैक्टर ट्रॉली चालक से पर्ची के बारे में पूछा तो वह सहम गया। फोटो लेने से मना कर दिया। बोला, यह तो रोजाना का काम है साहब, पेट पालें या इनसे पंगा लें। उसने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि रोजाना पत्थर भरकर 70 से अधिक ट्रैक्टर ट्रॉलियां गुजरती हैं। प्रत्येक से यह गिरोह 225 रुपए वसूलता है। यानी हर महीने लगभग 5 लाख रुपए। मारपीट के डर से कोई भी चालक विरोध नहीं करता।

 

खनन भी अवैध, जिम्मेदार मौन
स्थानीय लोगों का कहना था कि हफ्तावसूली के साथ यहां लम्बे समय से अवैध खनन भी हो रहा है लेकिन रोकने वाला कोई नहीं है। हरध्यानपुरा के पहाड़ से दिन-रात अवैध खनन कर पत्थर ले जाया जा रहा है। पहाड़ का एक हिस्सा तो खत्म हो चुका है।

 

शाम को ले जाता है पैसे
दुकान पर बैठे युवक का कहरा था कि जगमोहन ठेकेदार रोजाना शाम को आता है और हमसे पैसे इक_े कर ले जाता है। जगमोहन के बारे में ज्यादा पूछा तो दोनों युवक भड़क गए। ज्यादा कुछ नहीं बताया।

 

गिरोह कर रहा इतनी वसूली
70 से ज्यादा ट्रैक्टर ट्रॉली निकलती हैं रोजाना पत्थर भरकर
225 रुपए वसूले जा रहे हैं हर ट्रैक्टर ट्रॉली से
15 हजार रुपए से ज्यादा वसूले जा रहे हैं रोजाना
05 लाख रुपए हर माह वसूल रहा है गिरोह


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/illegal-procurement-in-jaipur-near-kanota-thana-4010834/

रोड सेफ्टी पर हर साल 90 करोड़ खर्च, मात्र एक फीसदी ही घटीं मौतें


विजय शर्मा/जयपुर. परिवहन-पुलिस सहित कई विभागों के साझा प्रयास के बाद भी प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं में कमी नहीं आ रही है। 2018 में सड़क दुर्घटनाओं के शर्मनाक आंकड़े सामने आए हैं। प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं में मौतों में महज एक फीसदी और घायलों में दो प्रतिशत की ही कमी आई है। ये हालात तब हैं, जब परिवहन विभाग को सड़क दुर्घटना रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर नोडल विभाग बनाया गया है।

साथ ही तीन साल पहले परिवहन मुख्यालय में इस संबंध में रोड सेफ्टी विंग भी बनाई गई। 90 करोड़ सालाना बजट पाने वाली रोड सेफ्टी विंग सड़क दुर्घटनाओंं को रोकने में नाकाम साबित हो रही है। प्रदेश में मौतों के आंकड़ों पर गौर करें तो 13 जिलों में महज 10 प्रतिशत की ही कमी आई है। वहीं 16 ऐसे जिले हैं, जहां पिछले साल के मुकाबले मौतों का आंकड़ा बढ़ गया है। पुलिस, परिवहन सहित अन्य विभागों में परस्पर सामजस्य नहीं होने के कारण यह नतीजे सामने आ रहे हैं।

 

आखिर क्या हैं सेल की खामियां
- कार्यों और नियमों के क्रियान्वयन के लिए रीजनल और जिला स्तर पर रोड सेफ्टी की अलग से विंग नहीं
- आरटीओ—डीटीओ को प्रभारी बनाकर कई विभागों के अधिकारियों को सेल का अतिरिक्त काम दिया
- जिला और रीजनल स्तर पर रोड सेफ्टी को लेकर काम नहीं किया जा रहा हर माह होने वाली बैठकें दो से तीन महीने में की जा रही हैं
- प्रदेश स्तर पर संचालित विंग के लिए उपयुक्त जगह नहीं एक केबिन में ही इस सेल को संचालित हो रही
- सेल में एक दर्जन अफसर और कर्मचारियों को छोटी जगह में ही काम करना पड़ रहा

 

आंकड़े बता रहे स्थिति
- 41 प्रतिशत मौत प्रतापगढ़ में सबसे ज्यादा बढ़ोत्तरी हुई
- 14 जिलों में 10 प्रतिशत से कम कमी आई है घायलों में
- 13 जिलों में 10 प्रतिशत से कम कमी आई है मौतों में
- 16 जिलों में बढ़ोत्तरी हुई है सड़क दुर्घटनाओं में मौतों में
- 16 जिलों में बढ़ोत्तरी हुई है सड़क दुर्घटनाओं में
- 16 जिलों में 10 फीसदी से भी कम कमी आई है सड़क दुर्घटनाओं में
- 15 जिलों मेें बढ़ोतरी हुई है घायलों की संख्या में
- 26 प्रतिशत मौतों में कमी आई है जयपुर उत्तर में
- 24 प्रतिशत मौतों में कमी आई है जयपुर पूर्व में

 

रोड सेफ्टी सेल पर एक नजर
3 साल पहले बनाई गई थी रोड सेफ्टी सेल
10 अधिकारी-कर्मचारियों को शामिल कर बनाई है अलग विंग
25 फीसदी चालान का पैसा सेल के बजट में जाता है
90 करोड़ रुपए 2017 का बजट था विंग के पास
(यह स्थिति राज्य में सड़क दुर्घटनाएं रोकने के लिए हो रहे प्रयासों पर सवाल खड़े करती है)


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/govt-spent-more-then-9-million-of-rupees-per-year-on-road-sefty-cell-4010760/

जयपुर एयरपोर्ट पर बड़ी कार्रवाई, आतंकी संगठन का सदस्य पकड़ा


जयपुर. शहर के सांगानेर स्थित एयरपोर्ट पर आतंकवादी संगठन का एक सदस्य पकड़े जाने की सूचना मिली है। प्राप्त जानकारी के अनुसार आतंकी संगठन के सदस्य को एनआईए अपने साथ दिल्ली ले गई है। बताया जा रहा है कि यह शख्स बीती रातदुबई से जयपुर आया था। आरोपी का नाम मोहम्मद हुसैन बताया जा रहा है। आरोपी के खिलाफ लुकआउट नोटिस भी जारी किया हुआ है।


इससे पहले पुलिस कमिश्नरेट की सीआईयू टीम और सांगानेर थाना पुलिस ने मिलकर रविवार रात एक ज्वाइंट ऑपरेशन में राष्ट्रीय स्तर के दो बदमाशों को पकडऩे में कामयाबी हासिल की है। बताया जा रहा है कि बदमाशों के पास हथियार और कारतूस भी बरामद हुए है। वहीं उनके बताए ठिकाने से भी एक अन्य सहयोगी को पकड़ा। पुलिस सोमवार को इसका खुलासा करेगी।

 

मुखबिर की सूचना पर कार्रवाई
जानकारी के अनुसार सीआईयू की टीम को भनक लगी कि सांगानेर थाना इलाके में आतंकी सरीखे बदमाश छिपे हुए है। टीम ने स्थानीय थाने की मदद लेकर मुखबिर के जरिए जानकारी वाली जगह पर छापा मारा। छापे के दौरान पकड़े गए दो बदमाशों को पुलिस थाने लाई तो उनके पास जांच के दौरान चार पिस्टल और 45 कारतूस बरामद हुए।


पुलिस ने छानबीन की तो दोनों बदमाश राष्ट्रीय स्तर पर वांछित है। इसके बाद पुलिस हरकत में आई और पूछताछ के बाद उनके बताए ठिकाने पर देर रात को दबिश दी। वहां से उसका एक और सहयोगी पकड़ा गया। पुलिस इसे आतंकी बता रही है। हालांकि देर रात तक कुछ ठिकानों पर पुलिस की टीमें दबिश दे रही थी।

 

पूरे मामले में पुलिस की टीमें देर रात तक दबिश दे रही थी । इसका खुलासा डीसीपी या एडिश्नल कमिश्नर क्राइम प्रेसवार्ता आयोजित कर करेंगे। उससे पहले केस से जुड़े तमाम लोगों पर पुलिस की कई टीमें शिकंजा कसने की तैयारी में थी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/terrerist-arrested-at-jaipur-airport-4010698/

जहां शराबबंदी का आंदोलन, वहीं शराब फैक्ट्री को मंजूरी


शादाब अहमद/जयपुर. आदिवासी इलाकों में गरीबी और परिवारों में बिखराव का बड़ा कारण शराब को माना जाता रहा है। इसके चलते बांसवाड़ा में शराबबंदी को लेकर आदिवासी महिलाएं करीब एक साल से आंदोलन चला रही हैं। सरकार ने इनकी तो सुनी नहीं, बल्कि बांसवाड़ा और बारां जिले में शराब की फैक्ट्री खोलने की मंजूरी देने के साथ उन पर रियायतों की बौछार कर दी। प्रदेश में शराबबंदी को लेकर लगातार विरोध बढ़ रहा है। खासतौर पर आदिवासी बहुल बांसवाड़ा जिले में शराब से बर्बाद हुए परिवारों के चलते पिछले एक साल से महिलाएं आंदोलन कर रही है। भाजपा ने सत्ता में रहते हुए आदिवासी बहुल बांसवाड़ा जिले के गनोड़ा और बारां जिले के शाहबाद क्षेत्र के गुवाड़ी-माजहरी में अनाज आधारित शराब बनाने की फैक्ट्री को मंजूरी दे दी। विधानसभा चुनाव की अधिसूचना से करीब तीन महीने पहले 23 जुलाई 2018 को दोनों ही फर्मों को विशेष पैकेज भी दे दिए।



पैदा होता है भरपूर मात्रा में अनाज
बांसवाड़ा और बारां दोनों ही जिले कृषि प्रधान हैं। दोनों में ही भरपूर मात्रा में अनाज की पैदावार होती है। वहीं इनकी प्रोसेसिंग या स्टोरेज के माकूल इंतजाम नहीं होने के चलते किसानों को उनकी उपज को औने-पौने दाम में बेचना मजबूरी है। सरकार ने फसलों की प्रोसेसिंग या स्टोरेज बढ़ाने के लिए कोई काम नहीं किया। इसके उलट शराब फैक्ट्री को मंजूरी दे दी।

 

आदिवासी इलाका ही क्यों?
बांसवाड़ा जिले में अधिकांश आबादी आदिवासियों की है। जहां शराब का उपयोग बड़ी मात्रा में किया जाता है। इसमें वैध शराब बिक्री के अलावा हथकढ़ शराब का भरपूर उपयोग होता है। हरियाणा, पंजाब, मध्यप्रदेश से प्रतिबंधित शराब लाकर बेची जाती है। वैध शराब की ब्रिकी में बांसवाड़ा जिला सबसे आगे रहता आया है। वित्तीय वर्ष 2017-18 में 127 करोड़ रुपए की आय अर्जित कर बांसवाड़ा शराब बिक्री में दूसरे स्थान पर था। वहीं इस साल भी सरकार को इस जिले से 140 करोड़ रुपए मिलने की उम्मीद है। इसके साथ ही अनाज उत्पादन के साथ पानी की कमी नहीं है। इन सभी तथ्यों को ध्यान में रखकर आदिवासी इलाकों को शराब उत्पादन के लिए मुफीद माना जा रहा है।

 

रोजाना 170 किलोलीटर तक उत्पादन क्षमता
बारां की फैक्ट्री में 170 किलोलीटर और बांसवाड़ा में 90 किलोलीटर प्रतिदिन शराब उत्पादन की क्षमता तय की गई है। दोनों की लागत करीब डेढ़ सौ करोड़ रुपए से अधिक बताई जा रही है। दोनों ही फैक्ट्री में स्किल्ड और नॉन स्किल्ड 100-100 लोगों को रोजगार देने का दावा किया जा रहा है।

 

स्थानीय निवासी का कहना है
हम क्षेत्र की महिलाएं पिछले कई माह से शराब के अड्डे बंद करवाने के लिए संघर्षरत हैं, लेकिन अभी तक सफलता नहीं मिल रही है। हमने अपने स्तर पर कई अड्डे बंद भी करवाए हैं। पुलिस प्रशासन को सहयोग करना होगा तभी शराब से उजड़ते परिवारों की स्थिति में सुधार आएगा। - कमला देवी


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/bjp-govt-approved-alcohol-factory-special-package-in-baran-ans-banswar-4010639/

प्रदेश के किसानों को आधा भी नहीं बांटा लोन, किसानों की बढ़ी परेशानियां


जयपुर।

कर्जमाफी की घोषणा लागू करने में सरकार पात्रता तय करने में जुटी है, वहीं किसान ऋण नहीं मिलने से परेशान हैं। रबी सीजन के लिए ऋण वितरण का जो लक्ष्य तय किया था उसमें से कई जिलों में अभी तीस प्रतिशत ऋ ण भी नहीं बंटा। अभी चार हजार करोड़ रुपए के ऋण वितरित होना बाकी हैं। डूंगरपुर में मात्र छह प्रतिशत ही लोन वितरित हुए हैं। जोधपुर खंड की हालत भी ठीक नहीं है।


खरीफ व रबी सीजन में 16 हजार करोड़ रुपए के ऋण वितरण का लक्ष्य रखा गया था। खरीफ में यह लक्ष्य लगभग पूरा कर लिया गया। इस सीजन के दौरान कर्जमाफी योजना 2018 लागू हो गई। इसके बाद रबी सीजन में ऋण वितरण पर सम्बंधित केंद्रीय सहकारी बैंकों और अपेक्स बैंक ने लक्ष्य पर ध्यान नहीं दिया।


पहले नागौर में ऋ ण ज्यादा बंटा तो चुनाव के दौरान टोंक रहा अव्वल
नागौर जिले में रबी सीजन का मात्र बीस प्रतिशत का लक्ष्य पूरा किया गया है। भाजपा सरकार में सहकारिता मंत्री अजयसिंह किलक इसी जिले से थे। यहां खरीफ में 340 करोड़ के लक्ष्य को पूरा किया गया। अब सरकार बदलते ही स्थिति पलट गई। इसी कारण रबी में लक्ष्य बीस प्रतिशत भी पूरा नहीं हुआ। इसी तरह टोंक में खरीफ के 100 करोड़ के लक्ष्य के विपरीत 45 करोड़ के ही लोन बंटे थे। वर्तमान में चल रहे रबी सीजन में स्थिति पलट गई। यहां रबी सीजन के लिए 20 करोड़ रुपए का लक्ष्य तय किया गया था। इस बीच यहां से कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट चुनाव मैदान में उतर गए। बैंक अधिकारियों ने स्थिति को भांपते हुए ऋ ण वितरण पर पूरा ध्यान रखा और यहां आंकड़ा 60 करोड़ रुपए से अधिक पहुंच गया। यहां दोनों सीजन में 120 करोड़ के लोन बांटने थे, जिसमें से 110 करोड़ से अधिक के लोन बांटे जा चुके हैं। सीसीबी के एमडी इंद्रसिंह का कहना है कि पूर्व में बजट नहींं होने से लोन बंट नहीं सका था।

 

इन जिलों में ऋ ण वितरण रहा कमजोर
जिला---- लक्ष्य---- लोन----- वितरण प्रतिशत
डूंगरपुर--7000--479 6.8-----
पाली--36000--5101-----14.17
नागौर--9000--1802 20.02-----
सिरोही--13500--3021-----22.38
बाड़मेर--35000--6264 -----17.89
जालौर--32000--9914-----30.98
हनुमानगढ--54000--20293-----35.57
सीकर--27000--9596-----35.43
उदयपुर--14000--3752-----26.79
बांसवाड़ा--9000--2101-----23.24
(रुपए लाख में)

 

बचे हुए लक्ष्य को पूरा करने का प्रयास
16 हजार करोड़ के लक्ष्य के विपरीत करीब 12 हजार करोड़ के लोन बांटे हैं। बचे हुए लक्ष्य को पूरा करने का प्रयास कर रहे हैं।
- विद्याधर गोदारा, एमडी अपेक्स बैंक


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/farm-loan-waiver-problems-increased-of-farmers-in-rajasthan-4010550/

समस्‍या बन गया शौचालय का धीमा निर्माण


गंदगी के कारण वाहन पार्किंग भी करना मुश्किल हो रहा

जयपुर/बूंदी
बूंदी शहर के मुख्य बाजार में सार्वजनिक शौचालय का धीमा निर्माण कार्य समस्‍या बन गया है, शौचालय के नीचे वाहनों की पार्किंग के लिए जगह छोड़ी गई है, लेकिन सफाई नहीं करवाने से यहां पर गंदगी का आलम देखने को मिल रहा है। गंदगी के कारण वाहन पार्किंग भी करना मुश्किल हो रहा है। मुख्य बाजार में वाहन पार्किंग की जगह पर सफाई होनी चाहिए, ताकि बाजार में लोगों को राहत मिल सके।

एक वर्ष से इंद्राबाजार में सार्वजनिक शौचालय का निर्माण कार्य चल रहा

जानकारी के अनुसार लगभग एक वर्ष से इंद्राबाजार में सार्वजनिक शौचालय का निर्माण कार्य चल रहा है, लेकिन धीमी गति से चल रहे कार्य से बाजार के लोग नाखुश हैं। बाजार के चेतन अग्रवाल, छोटू राठौर, प्रशांत मोदी व माधवप्रसाद विजयवर्गीय ने बताया कि काम बहुत धीमी गति से चल रहा है। इस कारण बाजार के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि शौचालय निर्माण कार्य कभी शुरू होता है, फिर बंद हो जाता है। इसी तरह से यहां पर रुक-रुककर काम करवाया जा रहा है। इस मामले में कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

बजरी के कारण आ रही दिक्कत
ठेकेदार के अनुसार शौचालय निर्माण का कार्य बजरी के कारण अटका हुआ है। फ्लोर टाइल व ग्रेनाइट लगाना बाकी है। इसके अलावा समूचा कार्य पूरा हो चुका है। वर्तमान में पेंट का काम चल रहा है। इंद्रामार्केट में धीमी गति से बन रहे सार्वजनिक शौचालय को लेकर बाजार के लोगों में खासी नाराजगी है। बाजार में लोगों को सुविधाओं के लिए परेशान होना पड़ रहा है। इसके बावजूद जिम्मेदार अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे।
-----
इंद्राबाजार में शौचालय का कार्य जल्द पूरा हो जाएगा। निर्माण कार्य लगभग पूरा हो चुका है।
अरुणेश शर्मा, कार्यवाहक आयुक्त नगर परिषद, बूंदी


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/slow-construction-work-of-public-toilets-in-the-main-market-of-bundi-4010517/

मिशन-25 में जुटी कांग्रेस, अगले माह Rahul Gandhi का दौरा, अब यहां आएंगे


जयपुर।

प्रदेश की सभी 25 लोकसभा सीट जीतने के मिशन को लेकर कांग्रेस जुट गई है। प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में रविवार को प्रदेश अध्यक्ष व उपमुख्यमंत्री Sachin Pilot की अध्यक्षता में आयोजित प्रदेश स्तरीय बैठक में इसकी रणनीति बनाई गई। बैठक में मुख्यमंत्री Ashok Gehlot , प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे समेत प्रदेश के सभी मंत्री, प्रदेश पदाधिकारी और जिलाध्यक्ष शामिल हुए। बैठक में अगले दो माह के कार्यक्रम तय करने के साथ ही विधानसभा चुनाव में बागियों से पहुंचे नुकसान पर चिंता जाहिर कर लोकसभा चुनाव में इस तरह के दोहराव से बचने की रणनीति बनाने पर चर्चा की गई। फरवरी माह में अजमेर में सेवादल कांग्रेस का राष्ट्रीय अधिवशेन होगा। इसमें कांग्रेस अध्यक्ष Rahul Gandhi आएंगे। मार्च में उदयपुर में युवा कांग्रेस का अधिवेशन होगा। इसके बाद सभी विभागों व प्रकोष्ठों तथा अन्य अग्रिम संगठनों का एक अधिवेशन में कांग्रेस अध्यक्ष को बुलाया जाएगा।

जनहित का कार्य करने वाली सरकार की पहचान बनाई
पायलट ने कहा कि पिछले दिनों लोकसभावार ली गई बैठकों में किसानों, बिजली, पानी तथा रोजगार से संबंधित महत्वपूर्ण सुझावों पर त्वरित निर्णय कर जनहित के कार्य करने वाली सरकार के रूप में हमने पहचान बनाई है। विधानसभा चुनाव में रही कमियों की समीक्षा की जा रही है। अब बागियों की स्थिति नहीं आने दी जाएगी। जो सच्चे कांग्रेसी हंै, वे राहुल गांधी के सभी निर्णयों की पालना करेंगे। पायलट ने कहा कि सत्र पूर्ण होने के बाद सभी प्रभारी मंत्री स्वयं के जिले के अलावा अपने प्रभार क्षेत्र में जाकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर समस्याओं का समाधान करेंगे।

फासीवादी ताकतों के खिलाफ बदलनी होगी कार्यशैली
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि कांग्रेस का मुकाबला फासीवादी ताकतों से है, जिस कारण से हमें अपनी कार्यशैली में बदलाव लाते हुए संगठन को और मजबूत करना होगा। सरकार संगठन के साथ समन्वय बनाकर सभी निर्णय लेगी। उन्होंने नेताओं को क्षेत्रीय समस्याओं का प्रस्ताव सरकार को सौंपने के लिए कहा। कहा, राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद पेंशन का लाभ 14 लाख से बढकऱ 64 लाख लोगों तक पहुंच गया है।

5 सदस्यीय इलेक्शन कमेटी बनेगी
पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और प्रदेश प्रभारी अविनाश पाण्डे ने कहा कि पार्टी की मंशा है कि जो कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी पार्टी के लिए अच्छा कार्य करेंगे, उन्हें प्रोत्साहित किया जाएगा। लोकसभा चुनावों के मद्देनजर पांच सदस्यीय इलेक्शन कमेटी का गठन प्रदेश और जिला स्तर पर किया जाएगा।

उठी मांग, पार्टी से बाहर करो
बैठक में कुछ विधायकों ने विधानसभा चुनाव में पार्टी उम्मीदवारों के खिलाफ काम करने वाले नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने की मांग की। इन विधायकों का तर्क था कि ऐसे लोग पार्टी के कार्यक्रमों में बैठते हैं तो संदेश ठीक नहीं जाता है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/rahul-gandhi-ajmer-visit-for-lok-sabha-election-2019-4010484/

बड़ी खबर: राजस्थान पुलिस का जयपुर में देर रात जॉइंट ऑपरेशन, 'तबाही' मचाने से पहले हत्थे चढ़े हथियारों से लैस आतंकी सरीखे बदमाश!


जयपुर।

पुलिस कमिश्नरेट की सीआईयू टीम और सांगानेर थाना पुलिस ने मिलकर रविवार रात एक ज्वाइंट ऑपरेशन में राष्ट्रीय स्तर के दो बदमाशों को पकडऩे में कामयाबी हासिल की है। बताया जा रहा है कि बदमाशों के पास हथियार और कारतूस भी बरामद हुए है। वहीं उनके बताए ठिकाने से भी एक अन्य सहयोगी को पकड़ा। पुलिस सोमवार सुबह इसका खुलासा करेगी।

 

मुखबिर की सूचना पर कार्रवाई
जानकारी के अनुसार सीआईयू की टीम को भनक लगी कि सांगानेर थाना इलाके में आतंकी सरीखे बदमाश छिपे हुए है। टीम ने स्थानीय थाने की मदद लेकर मुखबिर के जरिए जानकारी वाली जगह पर छापा मारा। छापे के दौरान पकड़े गए दो बदमाशों को पुलिस थाने लाई तो उनके पास जांच के दौरान चार पिस्टल और 45 कारतूस बरामद हुए।

 

देर रात तक जारी थी दबिश की कार्रवाई
पुलिस ने छानबीन की तो दोनों बदमाश राष्ट्रीय स्तर पर वांछित है। इसके बाद पुलिस हरकत में आई और पूछताछ के बाद उनके बताए ठिकाने पर देर रात को दबिश दी। वहां से उसका एक और सहयोगी पकड़ा गया। पुलिस इसे आतंकी बता रही है। हालांकि देर रात तक कुछ ठिकानों पर पुलिस की टीमें दबिश दे रही थी।

 

पुलिस आज करेगी खुलासा
पूरे मामले में पुलिस की टीमें देर रात तक दबिश दे रही थी । इसका खुलासा डीसीपी या एडिश्नल कमिश्नर क्राइम प्रेसवार्ता आयोजित कर करेंगे। उससे पहले केस से जुड़े तमाम लोगों पर पुलिस की कई टीमें शिकंजा कसने की तैयारी में थी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/rajasthan-police-joint-operation-suspects-held-with-arms-in-jaipur-4010431/

एक कंबल, एक जोड़ी कपड़े, एक बिस्किट का पैकेट..बस यही पूंजी है उस मासूम की


जयपुर/नागौर
एक कंबल, एक जोड़ी कपड़े, एक बिस्किट का पैकेट..बस इसी पूंजी के साथ एक ढाई माह की मासूम को न जाने कौन लावारिस छोड़ गया। मेड़ता सिटी रेलवे स्टेशन के विश्राम गृह में मिली इस बच्‍ची को फिलहाल शिशु गृह भेज दिया गया है।

बेकार गए परिजनों की तलाशी के प्रयास
दरअसल, शनिवार रात कोई अज्ञात व्‍यक्ति ढाई वर्षीय मासूम को एक थैले में रखे कपड़ों के साथ छोड़कर चला गए। तड़के करीब 4 बजे मासूम के रोने की आवाज सुनकर नागरिक उसके पास पहुंचे। रोती हुई बच्ची के पास घंटों तक किसी परिजन के नहीं पहुंचने पर नागरिकों ने रेलवे स्टेशन मास्टर, मेड़ता सिटी थाना और रेलवे पुलिस को सूचना दी। मेड़ता सिटी थाना पुलिस ने लावारिस बच्ची को कब्जे में लिया। जीआरपी पुलिस के पहुंचने पर लावारिस बच्ची के परिजनों की तलाशी के प्रयास किए गए। बच्ची को देखने सुबह 7 बजे बाद मेड़ता सिटी रेलवे स्टेशन पर बड़ी संख्या में नागरिक पहुंचने लगे। बच्ची के पास एक बैग रखा हुआ था, जिसमें एक कंबल, एक जोड़ी कपड़े, एक बिस्किट का पैकेट, एक बोतल, तेल की शीशी-कंघी मिली है।

सोशल मीडिया पर भी बालिका की फोटो पोस्ट की गई
जीआरपी मेड़ता रोड थानाधिकारी हरिराम ने बताया कि रविवार दोपहर रेल प्रशासन व यात्रियों की सूचना पर जीआरपी मेड़ता सिटी रेलवे स्टेशन पहुंची, तब तक बालिका यात्रियों के पास थी। उसे मेड़ता रोड लाया गया। सोशल मीडिया पर भी बालिका की फोटो पोस्ट की गई, लेकिन परिजनों का सुराग नहीं लग सका।

शिशु गृह भेज दी गई बच्‍ची

आखिर नागौर बाल कल्याण समिति को सूचना दी गई, जिस पर नागौर से ग्रीनवेल चिल्ड्रन सोसायटी के सदस्य धर्मेन्द्र, हेमसिंह व परामर्शदाता सपना टाक मेड़ता रोड पहुंचे, जहां से बच्ची को अपनी देखरेख व संरक्षण में लेकर नागौर आए और यहां जिला बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष कुंदनसिंह आचीणा के निवास पर पेश किया। समिति अध्यक्ष ने उसे शिशु गृह भेजने के आदेश दिए।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/the-girl-found-in-the-rest-house-of-railway-station-4010334/

जानिए, बच्चों में मोटापे से जुड़े हर सवाल का जवाब


बच्चों की खाने की गलत आदतों से मोटापा बढ़ता है। भूख लगने से पहले खाना, स्नैक्स, जंकफूड, फास्टफूड, अधिक मीठा खाने से तेजी से वजन बढ़ता है। इसके अलावा अक्सर बच्चे नियमित शारीरिक गतिविधियां नहीं करते हैं। वीडियो गेम, टीवी, मोबाइल देखते हैं। कैलोरी खर्च नहीं हो पाती है। 90 फीसदी मोटापा गलत खानपान से होता है। इसके अलाव आनुवांशिक कारणों से भी मोटापा बढ़ता है, हालांकि यह 3 से 5 प्रतिशत बच्चों में ही होता है। यदि माता-पिता मोटापे से ग्रस्त हैं तो बच्चे में भी मोटापे की आशंका बढ़ जाती है। 7-10 प्रतिशत बच्चों में इस वजह से मोटापा बढ़ता है। ये हैं विशेषज्ञ से अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

प्र. मेरा बच्चा मोटापे से ग्रस्त है। क्या वो आगे भी मोटा ही रहेगा?

ऐसा जरूरी नहीं है। संतुलित खानपान व आउटडोर एक्टिविटी से वजन कम होता है। हालांकि कभी-कभी मोटापाग्रस्त माता-पिता के बच्चे में ऐसी दिक्कत हो सकती है।

प्र. बच्चे का वजन घटाने के लिए क्या करूं?

जंकफूड-फास्टफूड खिलाने से बचें। उसके खाने में 40 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 30 प्रतिशत फैट व 30 प्रतिशत प्रोटीन का अनुपान जरूरी है। इसके अलावा प्रतिदिन एक घंटा खेलने के लिए बाहर ले जाएं।

प्र. बच्चे में हैल्दी खानपान की आदत कैसे डालें?

बड़ों की आदतों को देखकर बच्चे ज्यादा सीखते हैं। जो आदत उसमें चाहते हैं पहले वह खुद करें। बच्चा वह सबकुछ खाना शुरू कर देगा। कभी वह खुद को अलग नहीं समझेगा।

प्र. बच्चे में खेलने व व्यायाम की आदत कैसे डालें?

उसके सोने-जागने, खाने-पीने व पढऩे-खेलने का समय तय कर दें। मोबाइल-टीवी के लिए एक घंटे से ज्यादा समय न दें। दोस्तों के साथ मैदानी खेलों व व्यायाम की आदत डालें। खुद भी साथ जाएं।

प्र. क्या वजन घटाने वाली दवाएं दे सकते हैं?

बच्चों का वजन घटाने के लिए दवा या स्टेरॉयड का सहारा न लें। ये सेहत के लिए ठीक नहीं है। क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट या हैल्थ कोच से डाइट प्लान कर वजन कम कराएं।

सेहतमंद रखने के लिए जरूरी हैं ये कदम

  • खानपान की आदतों को बदलें
  • जंकफूड, फास्ट फूड खाने से बचें
  • सपरिवार बच्चे के साथ भोजन करें।
  • टीवी देखते हुए कुछ भी न खाएं।
  • कभी भी खाने की आदत बदलें।
  • खाने से आधे घंटे पहले सलाद दें।
  • खाने से तीन घंटे से पहले, बिना भूख लगे जबरदस्ती न खिलाएं।

- डॉ. विष्णु अग्रवाल शिशु रोग विशेषज्ञ, जेके लोन, शिशु चिकित्सालय, जयपुर


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/kids-news/know-answer-every-question-related-to-obesity-in-children-4008232/

जयपुर: देर शाम महिला की गला घोटकर हत्या, इलाके में फैली सनसनी


शाहपुरा/जयपुर.
जयपुर दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर बजाज धर्म कांटा स्थित एक शोरूम के ऊपर शाहपुरा में देर शाम को 52 वर्षीय सुशीला देवी की गला घोटकर हत्या कर दी गई। सूचना पर पहुंचे डीएसपी कमल सिंह चौहान, थाना प्रभारी विक्रांत शर्मा ने पीड़ित परिवार से घटना की जानकारी ली।

जानकारी के मुताबिक वारदात के दौरान महिला सुशीला देवी घर पर अकेली थी, पुलिस महिला की हत्या के पीछे लूटपाट की संभावना जाहिर कर रही है। घटना के दौरान महिला के पति ओमप्रकाश बजाज कुचामन गए हुए थे। शाम को अन्य परिवार के लोग कमरे में आए तो बैड पर सुशीला मृत अवस्था में पडी मिली और सामान बिखरा पडा मिला। हालांकि पुलिस ने मामले में अभी कुछ भी बताने से इनकार किया है।

थाना प्रभारी विक्रांत शर्मा ने बताया कि डॉग स्क्वायड और एफएसएल टीम को जयपुर से बुलाया गया है। घटना से इलाके में सनसनी फैल गई। शाहपुरा पुलिस मामले में जांच कर रही है साथ ही सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। जयपुर ग्रामीण एसपी हरेंद्र कुमार महावर, एफएसएल की टीम और डॉग स्क्वायर की टीम भी जांच में सहयोग कर रही है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/woman-murder-in-shahpura-4010089/

स्वाइन फ्लू स्क्रीनिंग के लिए तीन दिन चलेगा सघन निरीक्षण अभियान


जयपुर। चिकित्सा विभाग की ओर से स्वाइन फ्लू स्क्रीनिंग के लिए तीन दिन चलेगा सघन निरीक्षण अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान डॉक्टरों के अवकाश रद्द रहंगे। वहीं अनुपस्थित कर्मचारियों के विरूद्ध होगी सख्त कार्रवाई की जाएगी। यह अभियान 30 जनवरी तक चलाया जाएगा। चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने चिकित्साकर्मियों को समय से स्वास्थ्य केन्द्रों पर उपस्थित होने के निर्देश दिए हैं।
स्वाइन फ्लू ने फुलाई सांस, स्टाफ कंो भी लगेंगे टीके
उदयपुर। स्वाइन फ्लू अब तक जिले के तीन चिकित्सकों को चपेट में ले चुका है, जिससे हॉस्पिटल के सभी चिकित्सक घबराए हुए हैं। शहर में एक दिन पहले दो चिकित्सकों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि होने पर शनिवार को करीब 60 हजार रुपए की वेक्सिग्रिप खुराक मंगवाकर सभी चिकित्सकों को टीके लगवाने शुरू कर दिए गए हैं।
आरएनटी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. डीपी सिंह, अधीक्षक डॉ. लाखन पोसवाल व अन्य कई चिकित्सकों ने वेक्सिग्रिप खुराक के टीके लगवाए। अन्य चिकित्सकों, नर्सिंग स्टाफ व कार्मिकों को भी क्रमवार टीके लगाने के निर्देश जारी किए गए, ताकि कोई स्टाफकर्मी इसकी गिरफ्त में न आए।
सरकार की ओर से कोई सुविधा नहीं
फिलहाल सरकार ने चिकित्सकों के टीकाकरण की शुरुआत नहीं की है, लेकिन स्वाइन फ्लू के लगातार बढऩे और डॉक्टर्स के भी चपेट में लेने के कारण इसकी शुरुआत कर दी गई है। मानव सेवा समिति ने सभी चिकित्सकों को टीके लगवाने का प्रस्ताव अधीक्षक को भेजा था, जिस पर हाथों-हाथ मुहर लग गई।
अब एक सीनियर 24 घंटे बैठेंगे
अब तक अपराह्न तीन बजे तक सीनियर चिकित्सक स्वाइन फ्लू वार्ड में बैठते थे, लेकिन अब 24 घंटे सीनियर चिकित्सक इस वार्ड में सेवा देंगे। यानी शेष समय वार्ड रेजिडेंट्स के भरोसे नहीं रहेगा। एक के बाद एक मौत से विभाग अतिरिक्त सतर्कता बरत रहा है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/swine-flu-screening-will-run-for-three-days-4009970/

रात आठ बजे बाद शराब की दुकान खुली मिली तो लाइसेंस होगा रद्द


जयपुर।
आठ बजे बाद यदि कोई शराब की दुकान खुली पाई गई तो पेनल्टी लगाने, दुकान सील करने अथवा अनुज्ञा-पत्र निरस्त करने जैसी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस संबंध में पुलिस व आबकारी विभाग के अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए। गहलोत शनिवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे।


गहलोत ने कहा कि वर्ष 2008 में 'मद्य संयमÓ को प्रोत्साहित करने के लिए रात्रि आठ बजे बाद शराब की बिक्री पर रोक लगाई थी। गहलोत ने कहा कि पूर्व विधायक स्व. गुरुशरण छाबड़ा के शराब के सेवन को हतोत्साहित करने के प्रयासों का समर्थन किया था। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि स्व. छाबड़ा के साथ हुए समझौते की पालना सुनिश्चित की जाए। इसके लिए अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त के स्तर पर विशेष बैठक रखने के भी निर्देश दिए। बैठक में बताया गया कि अंग्रेजी शराब पर अंकित मूल्य से अधिक वसूलने की शिकायतें मिली हैं। इस पर गहलोत ने निर्देश दिए कि विभाग विशेष दल गठित कर ऐसी शिकायतों पर कार्रवाई करें। बैठक में मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता, पुलिस महानिदेशक कपिल गर्ग, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह राजीव स्वरूप, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य, शासन सचिव वित्त (राजस्व) डॉ. पृथ्वीराज, आबकारी आयुक्त सोमनाथ मिश्रा आदि उपस्थित थे।

जनजागरण अभियान चलाएं
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि शराब के सेवन से होने वाले सामाजिक दुष्परिणामों को लेकर योजनाबद्ध रूप से जनजागरण अभियान चलाया जाए। उन्होंने शराब के अधिक सेवन से पीडि़त परिवारों के छोटे बच्चों तथा उनके आश्रितों के पुनर्वास, उन्हें शिक्षा से जोडऩे आदि सुविधाएं उपलब्ध कराने को लेकर विशेष योजना तैयार करने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी पूर्व सरकार ने मद्य के अवैध व्यवसाय से मुक्त कराकर लोगों को मुख्यधारा से जोडऩे के लिए नवजीवन योजना लागू की थी। इस योजना को प्रभावी तरीके से चलाया जाए।

बाहर से आ रही अवैध शराब की तस्करी रोकें
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में बाहरी राज्यों से अवैध शराब के परिवहन पर सख्ती से रोक लगाने के निर्देश देते हुए कहा कि सीमावर्ती जिलों के पुलिस अधीक्षक, जिला आबकारी अधिकारी तथा निरोधक दस्ते इन पर अंकुश लगाए। उन्होंने शराब का अवैध परिवहन करने वाले लोगों से कड़ाई से निपटने के निर्देश दिए।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/if-the-liquor-shop-is-open-after-8-o-clock-the-license-will-be-cancel-4009880/

बहुमत होने के बावजूद घबराई भाजपा, रिसोर्ट में पार्षदों की बाड़ाबंदी, फिर भी 64 में से 34 ही पहुंचे


भवनेश गुप्ता
जयपुर। महापौर पद के लिए अपने ही दावेदारों के बीच घमासान से परेशान भाजपा ने पार्षदों की बाड़ाबंदी कर दी। भाजपा के पार्षदों को रविवार शाम को आबादी क्षेत्र से बाहर अजमेर रोड स्थित पिंक पर्ल रिसोर्ट में बुला लिया। पार्षद कपड़ों से भरे बैग—अटैची लेकर रात तक पहुंचते रहे। संगठन ने सभी के मोबाइल फोन से बात करने से मना कर दिया, जिससे किसी तरह के भीतरघात की आशंका नहीं पनपे। हालांकि, रात तक 64 में से 34 ही पार्षद पहुंचे। संगठन के तमाम प्रयास के बावजूद बड़ी संख्या में पार्षद नदारद रहे। सभी पार्षदों को 22 जनवरी को नामांकन प्रक्रिया तक इसी रिसोर्ट में रहना होगा। इस बीच प्रभारी व संगठन पदाधिकारियों ने बैठक बुलाई, लेकिन पार्षदों ने सभी के आने के बाद ही मंथन करने के लिए कहा, जिस पर संगठन ने सोमवार तक बैठक टाल दी। सूत्रों के मुताबिक संगठन ब्राहृमण चेहरे को ही महापौर पद प्रत्याशी के रूप में सामने तय कर रहा है। ऐसे में मनोज भारद्वाज ही सबसे प्रबल दावेदार हैं। अभी कार्यवाहक महापौर की जिम्मेदारी भारद्वाज के पास ही है।
खास यह है कि यह स्थिति तब पनपी है, जब नगर निगम बोर्ड में भाजपा के 64 पार्षद हैं। कांग्रेस भी बहुमत संख्या से काफी दूर है, इस आंकड़े को पाटना उसके लिए नामुमकिन ही है। ऐसी स्थिति के बावजूद भाजपा पार्षदों को इस तरह रिसोर्ट-होटल में ठहराने से साफ है कि संगठन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। बताया जा रहा है कि भाजपा शहर अध्यक्ष संजय जैन, महामंत्री राजकुमार रोहिल्ला ने ही ज्यादातार पार्षदों को फोन करके होटल में पहुंचने के लिए कहा। हालांकि, कुछ पार्षद पारिवारिक कारणों से नहीं गए।

राय पूछी जाएगी, लेकिन संगठन उस पर राजी हो यह जरूरी नहीं
- संगठन सभी पार्षदों की राय जानेगा। इसके लिए पार्षद दल की बैठक भी यहीं होगी। इसमें सीधे राय जानने की बजाय पर्ची में नाम लिखकर लेने का तरीका अपनाया जा सकता है, जिससे की एक-दूसरे के प्रति मनमुटाव की स्थिति नहीं बने।
- अशोक लाहोटी को महापौर चुनने की प्रक्रिया के दौरान भी ऐसा ही किया गया। हालांकि, संगठन यह साफ नहीं कर पाया था कि किसने किस के पक्ष में राय रखी। इसी कारण पार्षदों को आशंका है कि केवल राय जानने की औपचारिकता निभाई जाएगी। संगठन अपने स्तर पर सहमत नाम को ही आगे बढ़ाएगा।

इन पर दारोमदार
सभी को एक प्रत्याशी पर रजामंद करने और घमासान स्थिति को दूर करने के लिए भाजपा विधायक सतीश पूनिया व जयपुर के पूर्व प्रभारी राजेन्द्र गहलोत को प्रभारी की जिम्मेदारी सौंपी चुकी है। इसके अलावा भाजपा शहर अध्यक्ष संजय जैन को अपनी भूमिका दिखानी होगी।


ये दावेदार
1. मनोज भारद्वाज - संगठन किसी भी तरह की विवाद की स्थिति से बचना चाह रहा है, इसलिए मनोज भारद्वाज को ही बतौर महापौर प्रत्याशी तय करने पर मंथन कर रहा है। कारण, जितने भी अन्य दावेदार हैं उनमें से एक नाम पर सहमति बनाना फिलहाल कम ही संभावना लग रही है। इसी कारण मौजूदा कार्यवाहक माहपौर का नाम आगे बढ़ाने में सहुलियत समझ रहा है।
2. सत्यनारायण धामाणी - भाजपा के वरिष्ठ सदस्य हैं और इसी बोर्ड में पहले भी महापौर पद के प्रमुख दावेदारों में से एक रहे। कुछ दिन पहले ही संगठन के बड़े पदाधिकारियों से मिलकर इच्छा जाहिर कर चुके हैं।
3. विष्णु लाटा - सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से विधायक के प्रमुख दावेदारों से एक रहे। प्रत्याशी घोषणा से ठीक पहले संगठन ने बुलाया। फिर मुख्यमंत्री से मिली, जिसके बाद चर्चा चली की उन्हें महापौर पद का आश्वासन दिया गया।
4. अनिल शर्मा - ब्राहृमण समाज से पार्षदों में से दावेदारों के बीच इनका नाम भी आगे बढ़ाया गया। पिछले दिनों दावेदारों के बीच बैठक भी हुई, जिसमें भी दो नाम में से एक नाम अनिल शर्मा का रखा गया। हालांकि, एक नाम पर सहमति नहीं बन पाई।
5. अशोक गर्ग - वैश्य समाज से प्रमुख दावेदार में से एक हैं। मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र अच्छी पकड़ है। हालांकि, इस विधानसभा क्षेत्र के विधायक से दूरी इतनी बढ़ गई कि वे इनके नाम पर सहमत नहीं रहे। लेकिन संगठन विधायक की राय से सहमति हो ही, यह भी जरूरी नहीं।

 

ये भी दौड़ में
निर्मल नाहटा, भगवत सिंह देवल, मान पंडित, प्रकाश गुप्ता, मुकेश लख्यानी सहित अन्य पार्षद भी दावेदारों में से हैं। सभी दावेदार संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर, वी. सतीश, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी, विधायक कालीचरण सराफ सहित अन्य पदाधिकारियों से मिले हैं। दावेदारों ने साफ कर दिया है कि पार्षद दल की एकमत राय से ही प्रत्याशी चुना जाए।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/jaipur-news/jaipur-nagar-nigam-mayor-election-4009843/

नीम की पत्तियों का पानी चेहरा, बाल व त्वचा निखारे


चेहरे पर बार-बार मुहांसे या ब्लैकहेड्स निकल रहे हैं तो इसका प्रयोग करने से आराम मिलता है। सप्ताह में तीन-चार दिन नीम के पानी से चेहरा धोएं। मुहांसे के दाग को हटाने में कारगर है।

पसीने की दुर्गन्ध : शरीर के नमी वाले हिस्सों में बैक्टीरिया पनपने के कारण दुर्गन्ध होती है। नीम के पानी से धोने से आराम मिलता है।

रूसी : जिन लोगों के बालों में रूसी की समस्या है उन्हें नीम के पानी से सप्ताह में 1-2 दिन बाल धोने से समस्या में राहत मिल सकती है।

ऐसे करें तैयार

नीम पत्तियों को पानी से साफ कर लें। एक बड़े बर्तन में पानी उबालें, जब उबलने लगे तो इसमें नीम की पत्तियां डालकर पांच मिनट तक उबालें। जब पानी हल्का पीले रंग को हो जाए तो इसे नहाने के पानी में मिला लें। नीम के पत्तों और बेर के पत्तों को पानी में उबालकर ठंडा कर बालों को धो लें। बालों का झडऩा भी कम होता है।

जलने पर पत्तियों को पीसकर लगाएं

यदि किसी कारण से अपना हाथ जला बैठे हैं तो उस जगह पर नीम की पत्तियों को पीसकर लगा लें। इसमें एंटीसेप्टिक गुण घाव को ज्यादा बढऩे नहीं देता है।
फोड़े-फुंसी में फायदेमंद
खून साफ न होने से फोड़े-फुंसी हो जाते हैं। नीम की पत्ती को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाने से फायदा होगा। इसके पानी से चेहरा साफ करने पर मुंहासे नहीं होते हैं।
दूर होता कान दर्द
कान में दर्द रहता है तो नीम का तेल इस्तेमाल करना काफी फायदेमंद रहता है। जिसे कान बहने की बीमारी है, वह नीम का तेल एक कारगर उपाय है।
पायरिया में कारगर
नीम की दातुन, ब्रश की तुलना कई गुना बेहतर है। दांतों और मसूड़ों को स्वस्थ रखती है। नीम की दातुन पायरिया की रोकथाम में भी कारगर है।

त्वचा से तेल कम करे
नीम आपके चेहरे से अधिक तेल को कम कर कील एवं मुहासों से बचाव करता है। एक चम्मच नीम पाउडर और एक चम्मच चंदन पाउडर में 4-5 बूंद गुलाब जल मिलाकर पेस्ट बनाएं। पेस्ट को चेहरे पर लगाएं और 20 बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें।

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/health-news/neem-leaves-water-face-hair-and-skin-4009218/

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
Jobs Jobs / Opportunities / Career
Haryana Jobs / Opportunities / Career
Bank Jobs / Opportunities / Career
Delhi Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Uttar Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Himachal Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Rajasthan Jobs / Opportunities / Career
Scholorship Jobs / Opportunities / Career
Engineering Jobs / Opportunities / Career
Railway Jobs / Opportunities / Career
Defense & Police Jobs / Opportunities / Career
Gujarat Jobs / Opportunities / Career
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Bihar Jobs / Opportunities / Career
Uttarakhand Jobs / Opportunities / Career
Punjab Jobs / Opportunities / Career
Admission Jobs / Opportunities / Career
Jammu and Kashmir Jobs / Opportunities / Career
Madhya Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Bihar
State Government Schemes
Study Material
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Syllabus
Festival
Business
Wallpaper
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com