Patrika : Leading Hindi News Portal - Bangalore #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US
Redirect to http://bharatpages.in/feedviewer.php?id=258&qq=&utm_source=educratsweb

Patrika : Leading Hindi News Portal - Bangalore

http://api.patrika.com/rss/bangalore-news 👁 13193

नौ करोड़ की लागत से बनेगा नवग्रह मंदिर


बेंगलूरु. टुमकुर रोड पर माकली के निकट पाश्र्व लब्धि तीर्थ धाम के २५वें रजत जयंति महोत्सव के उपलक्ष्य में रविवार को चौथे दिन सिद्धचक्र पूजन एवं अंगरचना का कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम के लाभार्थी शांतिबाई गंभीरमल बाफणा परिवार रहा। इस अवसर पर आचार्य चन्द्रयश सूरि ने पाश्र्व लब्धि तीर्थ धाम ट्रस्ट की ओर से बनवाए जाने वाले नवग्रह मंदिर के निर्माण की घोषणा की। उन्होंने बताया कि नवग्रह मंदिर के निर्माण पर करीब नौ करोड़ रुपए खर्च होंगे।
सुबह सवा ११ बजे आचार्य चन्द्रयश सूरि के सान्निध्य में पाश्र्वनाथ भगवान का केसर चंदन से अभिषेक किया गया। इसके बाद आचार्य बैंडबाजों के साथ नवनिर्मित पांडिया भवन पहुंचे। आचार्य के सान्निध्य में शांतिदेवी, तेजपाल पांडिया ने भवन का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उनके पुत्र व पुत्र वधु भी उपस्थित थे। नवनिर्मित भवन में आचार्य ने धर्मसभा को सम्बोधित किया। इस दौरान भक्ति संगीत का कार्यक्रम भी हुआ। ट्रस्ट की ओर से शंकरलाल (चेन्नइ), मदनलाल (बेंगलूरु), पाश्र्व लब्धि तीर्थ धाम ट्रस्ट तेजपाल पांडिया व शांतिदेवी का बहुमान किया गया। नवकारशी के बाद मुख्य मंदिर में दोपहर डेढ़ बजे से शाम चार बजे तक बड़ी पूजा का आयोजन हुआ। इस अवसर पर जैन समाज के सैकड़ों परिवारों ने शिरकत की।
पाश्र्व लब्धि तीर्थ धाम ट्रस्ट के सचिव कांतिलाल बाफणा ने बताया कि तीर्थ क्षेत्र में करीब नौ करोड़ रुपए की लागत से नवग्रह मंदिर का निर्माण होगा। इसकी घोषणा रविवार को आचार्य चन्द्रयश सूरि ने की। मंदिर का निर्माण कार्य आचार्य के पर्यवेक्षण में ही होगा। उन्होंन बताया कि सोमवार को मंदिर का स्थापना दिवस है। इस दिन सुबह मंदिर के शिखर पर ध्वजा रोहण होगा। बाफणा ने बताया कि तीर्थ क्षेत्र में एक भवन बनाया है जिसमें ४० कमरे, ८ हजार वर्ग फीट की भोजनशाला व सामुदायिक भवन का निर्माण कराया गया है। इसका उद्घाटन पाश्र्व लब्धि तीर्थ धाम ट्रस्ट के अध्यक्ष तेजपाल पांडिया ने किया। उन्होंने बताया कि सोमवार को मंदिर की १८वीं वर्षगांठ है। प्रति वर्ष मंदिर की वर्षगांठ पर ध्वजा बदली जाती है और नया ध्वज चढ़ाया जाता है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/navagrah-temple-will-be-built-at-a-cost-of-nine-crores-4592474/

अंतरराष्ट्रीय चंदन तस्कर गिरोह का भंडाफोड़ , चार टन लाल चंदन जब्त


बेंगलूरु. केन्द्रीय अपराध जांच शाखा (सीसीबी) अधिकारियों ने लाल चन्दन तस्करी के आरोप में 13 कुख्यात अंतरराष्ट्रीय तस्करों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से 3.50 करोड़ रुपए कीमत की 4000 किलो ग्राम लाल चंदन जब्त किया।

पुलिस के अनुसार तस्करों के गिरोह ने अवैध रूप से चंदन पेडो को काट कर इसे बेंगलूरु के सुबमण्यपुर, इलेक्ट्रानिक सिटी, विनायक नगर और अन्य क्षेत्रों में स्थित गोदामों रखा था। इन लोग अन्य राज्यों से लाल चंदन को विदेश में तस्करी करने की योजना बनाई थी, लेकिन पुलिस ने इन्हें माल सहित दबोच लिया।

पुलिस ने मैसूरु रोड के विनायक नगर के एक गोदाम पर छापा मार कर एक आरोपी को गिरफ्तार किया और वाहन की तलाशी ली गई तो उसमें सात बाक्सो में 500 किलो ग्रााम लाल चंदन रखी थी। गिरफ्त आरोपी की सूचना पर विशेष पुलिस दलों ने इलेक्ट्रॉनिक सिटी के दोड्डा नागमंगला स्थित एक गोदाम पर छापा मार कर १३ तस्करों को गिरफ्तार किया और 4000 किलोग्राम लाल चंदन बरामद किया जिसकी कीमत 3.50 करोड़ रुपए है। तस्करों के मुख्य सरगना अब्दुल रशीद (48) को दक्षिण कन्न (25) एम.एस.बाशा (40) दक्षिण कन्नड़ के बंटवाल का शफी (30), मोहम्मद शब्बीर (25), केरल का नौशाद (27), सिद्दकी (40), बंटवाल का इब्राहिम (28), मोहम्मद अनवर (23), मुबारक (26) और विजय नगर बेंगलूरु का अली खान (40) हैं।

पुलिस ने बताया कि ये न सिर्फ कर्नाटक बल्कि आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, केरल, महाराष्ट्र और अन्य राज्यों में व्यवस्थित रूप से लाल चंदन पेड़ों को काटते थे।

बाद में विशेष किस्म के पार्सल बक्सों में भरकर उसका जाली बिल तैयार करके चेन्नई और मुंबई जैसे बंदरगाह शहरों में भेजते थे। वहां से हांग कांग, चीन, वियतनाम और खाड़ी दशों में तस्करी की जाती है।

अब्दुल रशीद और इसके गिरोह ने कई सालों से यह धंधा कर करोडों रुपए कमाया है। इसके अतिरिक्त सभी आरोपी विभिन्न अपराधिक मामलों मे लिप्त हैंं। पुलिस आयुक्त टी.सुनील कुमार ने इस सफलता के लिए पुलिस दल को नकद पुरस्कार देने की घोषणा की।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/international-chandan-smuggler-gang-busted-seized-four-tons-of-red-sa-4592082/

साध्वियों का आध्यात्मिक मिलन


बेंगलूरु. विजयनगर स्थित अर्हम भवन में साध्वी कीर्तिलता एवं साध्वी मधुस्मिता का आध्यात्मिक मिलन का कार्यक्रम हुआ। साध्वी ने नमस्कार महामंत्र से कार्यक्रम का शुभारंभ किया। साध्वी कीर्तिलता ने कहा की गुरुदेव की कृपा से पेटलावद (मध्यप्रदेश ) का चातुर्मास संपन्न कर लगभग 1700 किलोमीटर का विहार कर अपनी जन्म स्थली बेंगलूरु पहुंचे हैं और आज विजयनगर में साध्वी वृंद से मिल कर अपार खुशी मिल रही है। इस अवसर पर सभाध्यक्ष बंशीलाल पितलिया ने सभी का स्वागत किया। साध्वी कीर्तिलता के विजयनगर में आने पर स्वागत किया। साध्वी शांतिलता एवं साध्वी स्वस्थ प्रभा ने विचार व्यक्त किए। साध्वीवृंद ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया। तेयुप अध्यक्ष दिनेश मरोठी, महिला मंडल की मंत्री महिमा पटावरी, छत्रसिंह मालू ने विचार रखे। महिला मंडल द्वारा स्वागत गीत का प्रस्तुत किया गया। विजयनगर सभा के मंत्री कमल तातेड़ ने आभार व्यक्त किया। संचालन महिला मंडल की उपाध्यक्ष प्रेम भंसाली ने किया।
दुख तो आपके आमंत्रित मेहमान हैं
मैसूरु. हमारे जीवन में सुख या दु:ख जो भी आते हैं, वे हमारे द्वारा बुलाए गए हमारे आमंत्रित मेहमान ही हंै। आचार्य मुक्तिसागरसूरी ने महावीर भवन में अपने अंतिम प्रवचन में यह बात कही।
उन्होंने कहा कि इंसान ने पूर्व जन्म में शुभ या अशुभ जो भी कर्म किए हैं वे ही पुण्य और पाप का बंध करवा कर सुख या दुख के रूप में सामने आते हैं। सुमतिनाथ जैन श्वेेतांबर मूर्ति पूजक संघ के अध्यक्ष अशोक दातेवाडिय़ा ने आचार्य से मैसूरु पुन: पधारने की विनती की। ट्रस्टी बाबूलाल मुणोत, विमल भैसवाड़ा, नगराज राठोड़, कांति लाल पटवारी, दलिचंद श्रीश्रीमाल, मदनलाल जैन मौजूद रहे।
वार्षिकोत्सव मनाया
मंड्या. सातनुर गांव में नरसीम स्वामी देवस्थान का वार्षिक उत्सव शनिवार को मनाया गया। श्रद्धालुओं ने देव दर्शन कर महामंगल आरती में भाग लिया। उधर केआरपेट तहसील में भी चामुंडेश्वरी देवी मंदिर का तीसरा वार्षिक उत्सव धूमधाम से मनाया। दोपहर में शोभायात्रा निकाली गई।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/dharm-karma-4592056/

कन्नड़ नहीं शिक्षा में अंग्रेजी को बढ़ावा देगी कर्नाटक सरकार, इस साल से पहली कक्षा की पढ़ाई अंग्रेजी माध्यम में


बेंगलूरु. राज्य सरकार ने पहली कक्षा के छात्रों को अंग्रेजी माध्यम में पढ़ाई को मंजूरी दे दी है। शनिवार को सरकार ने एक हजार राजकीय विद्यालयों को अधिसूचित कर दिया जहां कक्षा-एक में अंग्रेजी पाठ्यक्रम चलाए जाएंगे।

हालांकि, राज्य सरकार ने इसकी घोषणा काफी पहले कर दी थी लेकिन औपचारिक रूप से अधिसूचना जारी नहीं होने के कारण स्कूलों और अभिभावकों में भ्रम की स्थिति थी। जारी अधिसूचना में कहा गया है कि इस शैक्षणिक वर्ष में केवल कक्षा - एक में ही अंग्रेजी माध्यम में
कक्षाएं होंगी।

राज्य पाठ्यपुस्तक सोसायटी को राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीइआरटी) से गणित विषय के लिए कॉपीराइट प्राप्त करने को कहा गया है। इसके अलावा गणित एवं पर्यावरण विषय के पाठ्यपुस्तकों का अंग्रेजी एवं कन्नड़ भाषा में प्रकाशन सुनिश्चित करने को कहा गया है। शिक्षकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित करने को कहा गया है। उनका प्रशिक्षण क्षेत्रीय अंंग्रेजी संस्थानों और अजीम हसन प्रेमजी विश्वविद्यालय में होगा।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/karnataka-government-will-promote-english-in-education-this-year-the-4592037/

कर्नाटक में महंगा हुआ चुनाव, लोकसभा चुनाव पर 500 करोड़ रुपए खर्च


बेंगलूरु. चुनाव आयोग के अनुमानों के मुताबिक सभी 28 सीटों पर 17वीं लोकसभा के चुनाव में करीब 500 करोड़ रुपए हुए हैं। पिछले 16वीं लोकसभा चुनाव के दौरान राज्य में 320.16 करोड़ रुपए खर्च हुए थे। यानी, प्रति लोकसभा क्षेत्र में औसतन पिछली बार 11 करोड़ रुपए खर्च है जबकि इस बार औसतन प्रति लोकसभा 17 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं।

राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी संजीव कुमार ने बताया कि महंगाई बढऩे के कारण चुनावी साजो सामान आदि पर खर्च बढ़े हैं। कुल मिलाकर अनुमानत: 500 करोड़ रुपए राज्य चुनाव आयोग ने खर्च किए हैं। इनमें से बड़ी राशि इवीएम की बैटरी और वीवीपेट मशीनों के लिए कागज रोल खरीदने पर व्यय हुए हंै। इसके अलावा मतदान कर्मियों और चुनाव पर्यवेक्षकों को दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि, परिवहन व्यवस्था, तैयारियों आदि पर खर्च हुए हैं।

वहीं, जागरुकता अभियान, मतदाता पर्ची आदि पर भी काफी रुपए खर्च हुए हैं। मतदान केंद्रों पर विविध प्रकार मतदाता सुविधाओं की व्यवस्था करने सहित सुरक्षा आदि पर भी धनराशि व्यय हुई। चूंकि इस बार मतदाताओं की संख्या 4.3 करोड़ से बढक़र 5.1 करोड़ हो गई और मतदान केंद्रों की संख्या 54264 से बढक़र 58186 हो गई, इसलिए भी चुनावी लागत में इजाफा हुआ है।

उन्होंने कहा, शांतिपूर्ण चुनाव कराने में गृह मंत्रालय के ६६ विभाग शामिल हुए जिन पर काफी खर्च आया। केंद्रीय अद्र्धसैनिक बलों और अन्य सुरक्षाबलों के खर्चे भी इसी में शामिल हैं। चुनाव पर होने वाले सभी खर्च केंद्र सरकार उठाती है लेकिन जो कानून एवं व्यवस्था पर खर्च होता है वह राज्य सरकार उठाती है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/expenditure-incurred-in-karnataka-500-crores-spent-on-lok-sabha-elect-4591986/

इबादत के माह में बेंगलूरु के बाजार खजूर से गुलजार


बेंगलूरु. रमजान के महीने में रोजेदारों के लिए खजूर सबसे पसंदीदा सूखा मेवा माना जाता है। शिवाजी नगर के प्रसिद्ध रसल मार्केट खजूर मेला आरंभ हो चुका है और दुनिया की कई प्रजाति के खजूरों की लोग जमकर खरीददारी कर रहे हैं। रमजान का ध्यान में रखकर यहां खजूर मेले की शुरूआत हुई।

यूं तो रमजान के शुरू से ही बाजार भांति भांति के मेवे, फल, शरबत आदि से गुलजार हो जाते हैं लेकिन सामान्यत: दस रोजों के बाद बाजारों मे रौनक बढ़ जाती है। इस बार भी बेंगलूरु के बाजारों में यह देखने को मिल रहा है। विशेषकर रसल मार्केट में मुस्लिम समुदाय के लोग रमजान के दिनों में बड़ी संख्या में अपनी पसंदीदा सामग्री की खरीदी के लिए जाते हैं।

रमजान के कारण रसल मार्कट की सभी दुकानें दुल्हन की तरह सजीं है। खरीदी में खजूर को पहली प्रमुखता दी जाती है। यहां एक ही छत के नीचे सउदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, ईरान, जार्डन, आस्ट्रेलिया समते ५० से अधिक देशों के खजूर, सूखे मेवे, चाकलेट और बिस्कुट मौजूद हैं।

दुकान मालिक मोहम्मद इदरीस छौदरी ने बताया कि रमजान में खजूरबहुत अहमियत रखता है। ऐसी मान्यता है कि इसका जिक्र कुरान में भी आया है। खजूर खाने से भूख भी कम लगती है और इससे अलग-अलग बीमारियों का इलाज मुमकिन है।

कई चिकित्सक भी रोगियों को खजूर का इस्तेमाल करने का सुझाव देते हैं। खजूर में कैलशियम, आयरन जैसे पोषक तत्व सहित कई प्रकार के विटामिन पाए जाते हैं। दुकानों में मबरूम, अशवादी, अजवा, सुक्करे, कल्मी, सुगाय, फार्ड सफाई, थेमर समेत ५० से अधिक प्रकार के खजूर
उपलब्ध हैं।

इसमें अजवा खजूर को कैंसर प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाने में सहायक माना जाता है तो मेडजुल को मधुमेह में उपयोगी कहा गया है। उन्होंने कहा कि दक्षिण भारत के कई शहरों से लोग रमजान के दौरान खूजर खरीदने रसल मार्केट आते हैं। यहां कई देशों का सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता वाला खजूर आयात किया जाता है।

खजूर में किसी तरह का मिलावट नहीं किया जाता। न सिर्फ आम लोग बल्कि कई राजनीतिक दलों के नेता, कलाकार और कई खिलाडिय़ों को आर्डर पर खजूर भेजते हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/gulzar-from-the-market-dates-of-bangalore-in-the-month-of-eidad-4591911/

दीक्षा से रुकते हैं पाप


बेंगलूरु. राजराजेश्वरी नगर में विराजित साध्वी यशोमती ने कहा आज आचार्य महाश्रमण का दीक्षा दिवस है, दीक्षा गुरु द्वारा दी जाती है, आगम ज्ञान की रोशनी दी जाती है, जिसके द्वारा वे कर्म क्षीण करते हैं।
दीक्षा दिवस पर आयोजित रात्रिकालीन कार्यक्रम में साध्वी ने दीक्षा का सरल अर्थ सुन्दर बताया। दीक्षा से पाप रुकते हैं, भव परंपरा सीमित होकर समाप्त होती है। दीक्षा के अनेक लाभ हैं। साध्वी ने अपने वैराग्य की घटना सुनाई। साध्वी रचनाश्री ने कहा कि आज के दिन महाश्रमण ने संयम जीवन स्वीकार किया था। आचार्य महाश्रमण संयम चेतना जागृति में सतत प्रवर्धमान हैं। रजनी नेहा बैद ने मंगलाचरण से कार्यक्रम का शुभारंभ किया। अरुण कोठारी ने विचार व्यक्त किए। साध्वी किरणमाला ने कविता प्रस्तुत की। सभा अध्यक्ष कमल दुगड़ ने कहा कि आचार्य महाश्रमण में स्वात्मानुशासन सहज है। संचालन साध्वी रचनाश्री ने किया।
 मंड्या  के तेरापंथ सभा भवन में शनिवार को आचार्य महाश्रमण का 58वां जन्म दिवस, 10वां पटोत्सव एवं 46वां दीक्षा दिवस मनाया गया। प्राची भंसाली ने महाश्रमण अष्टकम से मंगलाचरण किया। महिला मंडल ने सामूहिक गीतिका की प्रस्तुति दी। सभा अध्यक्ष प्रकाश भंसाली ने स्वागत किया। अणुव्रत समिति अध्यक्ष विनोद भंसाली, चंदनमल बोहरा ने भी आचार्य महाश्रमण का गुणगान किया। महिला मंडल की मंत्री पूनम बोहरा व यशोदा भंसाली ने गुरुदेव की दीक्षा पर विचार व्यक्त किए। युवक परिषद उपाध्यक्ष कमलेश गोखरू, विकास भंसाली ने गीतिका की प्रस्तुति दी। संचालन तेरापंथ सभा मंत्री भंवरलाल गोखरू ने किया।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/dharmik-news-2-4591895/

सूखाग्रस्त कर्नाटक में 2019-20 को ‘जलवर्ष’ के रूप में मनाएगी सरकार


बेंगलूरु. आनेवाले दिनों में नए सरकारी भवनों की छत पर बारिश के पानी का संग्रहण करना तथा कार्यालय परिसरों में पौधरोपण अनिवार्य किया जाएगा। यह जानकारी ग्रामीण विकास एवं पंचायत राज मंत्री कृष्ण बैरेगौड़ा ने दी है।

यहां शनिवार को उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर शीघ्र ही मौजूदा कानून में संशोधन लाया जाएगा। पहले चरण में ग्रामीण विकास तथा पंचायत राज विभाग के सभी भवनों के लिए यह संशोधित कानून लागू होगा। ऐसे भवनों के नक्शे तभी स्वीकृत होंगे जबकि वर्षा जल संग्रहण का उल्लेख होगा।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने वर्ष 2019-20 को जल वर्ष के रूप में मनाने का फैसला किया है। इस फैसले के तहत 11 जून को राज्य की सभी जिला पंचायतों में एक ही दिन पौधरोपण किया जाएगा।

पौधों की सिंचाई तथा देखभाल करना स्थानीय पंचायत के कर्मचारियों का दायित्व होगा। वर्ष के दौरान राज्य में एक करोड़ पौधे रोपने करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। प्राथमिक तथा माध्यमिक शिक्षा विभाग की ओर से भी सभी प्राथमिक तथा माध्यमिक शालाओं के परिसर में पौधरोपण किया जाएगा। इसके लिए शिक्षा विभाग को 30 लाख पौधे आवंटित किए जाएंगे। सभी जिलों के सरकारी कार्यालय, सरकारी अस्पताल तथा स्कूल मैदान में पौधरोपण अनिवार्य होगा। साथ में सडक़ों के दोनों तरफ पौधरोपण करना होगा।

उन्होंने कहा कि राज्य की बढ़ती आबादी की प्यास बुझाना मुश्किल होता जा रहा है। मांग तथा आपूर्ति के बीच खाई कम करने के लिए लोगों को पानी का विवेकपूर्ण उपयोग कर प्रशासन के साथ सहयोग करना चाहिए। विकास की आंधी से वन क्षेत्र को भारी नुकसान पहुंचा है। वन क्षेत्र घटने से अब पहले जैसी बारिश नहीं हो रही है। हमेशा हरे-भरे तटीय कर्नाटक तथा मलनाडु कर्नाटक में भी अब पेयजल आपूर्ति का संकट हमारे लिए खतरे की निशानी है। इसलिए वन क्षेत्र का विस्तार करना हमारा सामाजिक दायित्व है।

बैरेगौड़ा ने कहा कि बारिश का पानी व्यर्थ ना बहे इसलिए जगह-जगह पर चेक डैम का निर्माण किया जा रहा है। इससे भूजलस्तर बढ़ता है। सभी जिलों में 20 हजार चैक डैम के निर्माण के लिए 500 करोड़ रुपए का अनुदान जारी किया गया है।

इसके अलावा वन क्षेत्रों में भी 14 हजार से अधिक जलकुंडों का निर्माण कर वन्य जीवों के लिए पेयजल की व्यवस्था की जाएगी। अब वन क्षेत्र में पहले जैसा आहार तथा पानी नहीं मिलने से वन्य जीव आगादी वाले क्षेत्रों में प्रवेश कर फसलों, मानवों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। हालांकि यह समस्या भी मानव निर्मित है, इसलिए इसे गंभीरता से लेने की जरुरत है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/government-will-celebrate-2019-20-as-a-water-year-in-drought-affecte-4591852/

नेत्रावती नदी सूखने से धर्मस्थल में हुआ जल संकट विकराल


धर्मस्थल. दक्षिण कन्नड़ जिले के बेलतंगडी तहसील में स्थित श्रीक्षेत्र धर्मस्थल में यहां की नेत्रावती नदी का प्रवाह क्षेत्र सूखने से पानी की आपूर्ति बाधित हुई है। इस परिप्रेक्ष्य में ही धर्माधिकारी वीरेंद्र हेगड़े ने श्रद्धालुओं को कुछ दिन तक यात्रा टालने की अपील की है। गर्मियों के अवकाश के कारण गत कुछ दिनों से यात्रियों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही थी।

प्रति दिन यहां पहुंचने वाले हजारों श्रद्धालुओं के लिए नेत्रावती नदीं में पर्याप्त पानी नहीं होने से यह अपील जारी करने की नौबत आ गई है। यहां आने वाले श्रद्धालु मंजुनाथ स्वामी का दर्शन करने से पहले नेत्रावती नदी में स्नान करते हैं। लेकिन नदी में अब पानी नहीं होने से स्नान करना संभव नहीं हो रहा है।

श्रद्धालु अब यहां की धर्मशालाओं में स्नान कर रहे हैं। ऐसे में धर्मशालाओं में पानी की मांग बढ़ रही है। मंदिर के प्रशासन के लिए इस मांग को पूर्र्ण करना संभव नहीं हो रहा है। जलसंकट की वजह से इससे श्रद्धालुओं को धर्मस्थल की यात्रा कुछ दिनों के लिए टालने के लिए कहा जा रहा है।
अधिकतर धर्मशालाओं को भी नेत्रावती नदी से ही पेयजल की आपूर्ति की जाती है। बताया जा रहा है कि श्रीक्षेत्र धर्मस्थल में पहली बार ऐसे हालात पैदा हुए हैं।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/water-crisis-worsens-in-dharmasthal-due-to-drying-of-river-nethawati-4591787/

कर्नाटक की गठबंधन सरकार में बढ़ रही खटास, राहुल गाँधी तक पहुंची बात


बेंगलूरु. सत्तारूढ़ गठबंधन दल के नेताओं के बीच जारी जुबानी जंग के बीच कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रदेश के नेताओं से फोन पर बात की है। सूत्रों के मुताबिक प्रदेश कांग्रेस प्रभारी और महासचिव केसी वेणुगोपाल की मौजूदगी में पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडूराव और वरिष्ठ कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खरगे के साथ राहुल गांधी रविवार को बैठक करेंगे। माना जा रहा है कि इस बैठक में राहुल गांधी प्रदेश के नेताओं से गठबंधन में आई खटास के बारे में पूछ सकते हैं। इसके अलावा देवगौड़ा द्वारा की गई शिकायत पर भी बात करेंगे।

जद-एस के कुछ नेताओं तथा पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने राहुल गांधी से प्रदेश कांग्रेस के नेताओं की शिकायत की थी और लोकसभा चुनावों में सहयोग नहीं करने का आरोप लगाया था। देवगौड़ा की यह शिकायत कांग्रेस नेताओं द्वारा बार-बार सिद्धरामय्या को मुख्यमंत्री बनाए जाने की मांग के संदर्भ में थी। पिछले कुछ दिनों के दौरान कांग्रेस और जद -एस नेताओं ने कई ऐसे बयान दिए हैं जिससे सत्तारूढ़ गठबंधन सरकार मुश्किल में फंसती दिख रही है।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/increasing-sour-in-karnataka-coalition-government-talk-to-rahul-gandh-4591752/

'हिन्दी के विकास के लिए अनवरत प्रयास हों'


बेंगलूरु. यलहंका न्यू टाउन स्थित शेषाद्रीपुरम फस्र्ट ग्रेड महाविद्यालय के तत्वावधान में अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी के तहत शनिवार को हिन्दी विभाग की ओर से पत्रवाचन कार्यशाला एवं स्पद्र्धा हुई। इसमेंं विभिन्न प्रांतों से आए शिक्षाविदों ने हिन्दी साहित्य में महिलाएं, यात्रा वृत्तांत, किसान का जीवन, वैज्ञानिक प्रगति, हिन्दी सिनेमा के सौ साल आदि विषयों पर पत्रवाचन किया। संगोष्ठी में दस शिक्षाविदों ने विचार व्यक्त किए और प्रोजेक्टर के जरिए जानकारी दी। पेे्रसीडेन्सी महाविद्यालय की हिन्दी प्राध्यापिका डॉ. इन्दिरा वी. और आन्ध्रप्रदेश की डॉ. सी. कामेश्वरी संयुक्त विजेता रहीं। इस सत्र मुख्य अतिथि राजस्थान पत्रिका बेंगलूरु के स्थानीय सम्पादक राजेन्द्रशेखर व्यास थे। उन्होंने कहा कि हिन्दी आज विश्व के कई देशों में बोली और समझाी जाती है। अहिन्दी भाषी क्षेत्र में ऐसे आयोजन होते रहने चाहिए। ऐसे अनवरत प्रयास से हिन्दी के विकास को बल मिलेगा। उन्होंने सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित किए।
ट्रांसेंड डिग्री कॉलेज की प्राचार्य डॉ. उमा शर्मा, सिलीकॉन सिटी कॉलेज की डॉ. वी. तारा नायर ने 'हिन्दी साहित्य में किसान का जीवन' विषय पर महान साहित्यकार मुंशी प्रेमचंद के साहित्य का उल्लेख करते हुए कहा कि हमारा अन्नदाता पहले भी गरीब था और आज भी गरीब है। इसी कारण दो दशक में देश में बड़ी संख्या में किसान आत्महत्या कर चुके हैं। जब तक किसान का जीवन स्तर ऊंचा नहीं होगा हम विकसित देश की श्रेणी मेंं नहीं आ सकते। भगवान महावीर जैन कॉलेज की प्रो. रेखा पी. मेनन ने 'महान संगीतकार नौशादÓ विषय पर प्रोजेक्टर के माध्यम से नौशाद के जीवन पर प्रकाश डाला। रेवा विश्वविद्यालय की डॉ. माया ने हिन्दी साहित्य में गीतकार, गायक और गायिकाओं की भूमिका पर प्रकाश डाला। प्रेसीडेन्सी कॉलेज की डॉ. इन्दिरा वी ने हिन्दी साहित्य में आधुनिक महिला विषय पर कहा कि आज की महिला अपने अधिकारों के प्रति सजग है और सेना, पुलिस सहित विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रही है। अल-अमीन कॉलेज की प्रो. सविता राय, शेषाद्रीपुरम कॉलेज की प्रो. डॉ. मंगलगी सुरेखा ने हिन्दी साहित्य और यात्रा वर्णन पर देश में प्रचलित अनेक भाषा साहित्य पर चर्चा की। शेषाद्रीपुरम कॉलेज की डॉ. उर्मिला पोरवाल ने हिन्दी साहित्य के पुरोधा राहुल सांकृत्यायन तो आन्ध्रप्रदेश की डॉ. सी. कामेश्वरी ने तापस चटर्जी की रचनाओं पर विचार व्यक्त किए। अंत में डीआरडीओ के एलआरडीई डॉ. रंजीत कुमार ने हिन्दी साहित्य में विज्ञान का योगदान विषय पर पत्रवाचन किया। संचालन सुप्रिया ने किया। धन्यवाद हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. शर्मिला बिस्वास ने दिया। सहयोग शिवम, त्रिशा व परि ने किया।
इससे पूर्व सुबह संगोष्ठी के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि इसरो के वैज्ञानिक सचिव डॉ. पी.जी. दिवाकर थे। समारोह में शेषाद्रिपुरम एजुकेशनल ट्रस्ट के अध्यक्ष एनआर पंडितराध्या, मानद महासचिव डॉ. वूडी पी. कृष्णा, ट्रस्टी वीडी अशोक, डॉ. एम मुनिराजू, डॉ. आर सर्वमंगला भी अतिथि के रूप में मौजूद थे। प्राचार्य एवं कान्फ्रेंस के चेयरमैन डॉ. एस.एन. वैंकटेश ने सभी का स्वागत किया। अतिथियों ने दीप प्रज्वलन कर संगोष्ठी की शुरुआत की।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/endeavors-to-develop-hindi-4591645/

राहुल गांधी की महत्वाकांक्षी न्याय योजना की कुंदगोल से ही करेंगे शुरुआत


हुब्बल्ली. मंत्री डीके शिवकुमार ने कहा है कि एआईसीसी अध्यक्ष राहुल गांधी की महत्वाकांक्षी न्याय योजना का कुंदगोल से ही शुभारम्भ किया जाएगा। यहां शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत में डीके शिवकुमार ने कहा कि गरीब परिवारों को प्रतिमाह 6 हजार रुपए अर्थात वार्षिक 72 हजार रुपए देने वाली न्याय योजना की इसी क्षेत्र से शुरुआत की जाएगी। महादयी जल परियोजना जारी करने को लेकर उन्होंने कहा कि महादायी योजना जारी करने में भाजपा ने सौतेला रवैया अपनाया है।

शिवकुमार ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में वीरशैव लिंगायत कई नेता हैं। वीरशैव लिंगायत सिर्फ एक पार्टी तक सीमित नहीं है। पूर्व मुख्यमंत्री येड्डियूरप्पा को फूट डालकर शासन करने की नीति छोडऩा चाहिए। मानवता के आधार पर कुसुमा शिवल्ली को टिकट देकर उनके पीछे हम सभी खड़े हैं।

कुंदगोल क्षेत्र को गोद लेकर समग्र विकास करेंगे। धारवाड़ पेड़ा जितना मीठा है उतना ही इस क्षेत्र को कनकपुर की तर्ज पर विकसित किया जाएगा। बार-बार सरकार बनाने के बयान देने वाले येड्डियूरप्पा को उन्होंने आम चर्चा के लिए आने की चुनौती दी। इस अवसर पर पूर्व मंत्री विनय कुलकर्णी, संतोष लाड, डी.के. सुरेश, आर.बी. तिम्मापुर आदि उपस्थित थे।

ब्रेन डेड किसान के अंगों ने दी पांच को जिंदगी
बेंगलूरु. एक ब्रेन डेड किसान की पत्नी ने उसके अंगों को दान कर पांच मरीजों को नई जिंदगी दी है। ३५ वर्षीय मृतक सुरेश (परिवर्तित नाम) रविवार शाम जब सडक़ पार कर रहा था तो तेज गति से आ रहे एक दोपहिया से उसकी टक्कर हो गई।


घटना रामनगर के केंपय्यनपाल्या गांव की है। आरआर अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद उसे बीजीएस अस्पताल में भर्ती करवाया गया। लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। चिकित्सकों ने मंगलवार को उसे ब्रेन डेड प्रमाणित किया।
प्रदेश में हजारों ऐसे मरीज हैं जो अंगदान के इंतजार में जिंदगी और मौत के बीच हैं। अंगदान से इन मरीजों को बचाया जा सकता है। यह समझाने पर सुरेश की पत्नी ने उसके हृदय, यकृत, दोनों गुर्दा और कॉर्निया दान कर दिए।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/rahul-gandhi-s-ambitious-judicial-scheme-will-start-with-shuddering-4589383/

बनने के बाद भी पुलिस कर्मियों को नहीं मिले आवास



फैज मुंशी
धारवाड़. जिला पुलिस विभाग के नए आवास गृह का निर्माण हुए डेढ़ साल बीतने के बावजूद पुलिस कर्मियों को अब तक हस्तांतरित नहीं हुए हैं। इससे अंग्रेजों के दौर में निर्मित जर्जर मकानों में ही पुलिस कर्मियों के परिवारों को दिन गुजारने पड़ रहे हैं।


कर्नाटक राज्य पुलिस गृह निर्माण निगम की ओर से शहर के पुलिस हैडक्वार्टर परिसर में निर्मित अपार्टमेंट में निचली तथा उसके ऊपर तीन मंजिला अपार्टमेंट तैयार हुए सालों गुजर चुके हैं। हर अपार्टमेंट में 12 मकान हैं। मकानों में विशाल कमरे, हवा और प्रकाश के लिए काफी जगह के साथ सुसज्जित है, परंतु निर्माण के समय से इसमें रहती आई तकनीकी समस्याएं आज भी ऐसी ही बनी हुई हैं। उनको समय पर सही नहीं करने के कारण अभी तक मकानों का हस्तांतरण नहीं हो पाया है।


इस समस्या के कारण अंग्रेजों के दौर में निर्मित छोटे मकानों में ही पुलिस को रहना पड़ रहा है। इन मकानों की छत पर दीमक लगने के कारण जर्जर अवस्था में हैं। पुराने मकानों के दरवाजे टूटे हुए हैं। रहने वालों को उसमें मरम्मत करानी पड़ रही है। मिट्टी की दीवारों में दरारें पडी हुई हैं। पुलिस कर्मियों ने ही सीमेंट लगाकर काम चला रहे हैं। इलेक्ट्रिक स्विच शोचनीय हालत में है। बारिश के मौसम में इन मकानों में पानी घुसता है। इसके कारण पुराने बैनरों व प्लास्टिक से छत को ढंका गया है।


अपनी दुर्दशा को लेकर वहां पर रहने वाले पुलिस कर्मियों के परिवार वालों का कहना है कि घर की हालत देखने पर ऐसा लगता है कि पता नहीं कब गिर जाए? भय में जीवन गुजारना पड़ रहा है। सप्ताह में एक बार पानी आता है। मेंढक़, चूहे आदि घर में घुस आते हैं। घर पर बिल्ली या बंदरों के भागने पर कम से कम 5-6 कवेली टूट जाते हैं। उनको तुरंत सही करवाना पड़ता है। तुरंत नहीं करने पर और समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे मकानों के लिए हम से प्रतिमाह 6 हजार रुपए किराया वसूला जा रहा है।


अपना नाम बताने से इनकार करते हुए एक पुलिसकर्मी ने कहा कि मकानों का आवंटन करने के लिए डेढ़ साल पहले ही हम लोगों ने मांग की थी। घर देना तो दूर हमारे द्वारा लिखे पत्र का जवाब भी नहीं दिया। ऐसा है तो हम उन मकानों के योग्य नहीं हैं क्या? निर्माण किए गए मकानों को खाली रख कर उन्हें जर्जर होने देने के बजाए खस्ताहाल मकानों में रहने वालों को तो देना चाहिए। शीघ्र ही हम लोगों को इस नरक से पार करना चाहिए।

 

इनका कहना है
मकान निर्माण हो गए हैं। वहां पर आने-जाने के लिए सही मार्ग नहीं है। सीवरेज का पानी जाने के लिए व्यवस्था नहीं है। दरवाजे के किनारे लगाए गए टाइल्स में से कुछ उखड़ गए हैं। हमारे बताए अनुसार मकानों का निर्माण नहीं किया गया है। इसके चलते सभी खामियों को सही कर देने के लिएनिगम को पत्र लिखा गया है। सब कुछ सही होने के पश्चात ही हमारे कब्जे में लेकर आवेदनकर्ता पुलिस कर्मियों को मकानों को आवंटन किया जाएगा। संगीता जी., जिला पुलिस अधीक्षक, धारवाड़।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/police-personnel-did-not-get-shelter-after-building-4589376/

प्रति व्यक्ति 120 लीटर पानी देने का लक्ष्य


धारवाड़. जिला पंचायत के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) डॉ. बी.सी. सतीश ने कहा है कि ग्रामीण इलाकों में 120 लीटर तक जलापूर्ति करने की योजना तैयार की जा रही है। वे धारवाड़ में जर्नलिस्ट गिल्ड की ओर से आयोजित संवाददाता सम्मेलन में बोल रहे थे।


उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष के दस्तावेजों के अनुसार जिले में लगभग 55 लीटर के 25 प्रतिशत मात्र जलापूर्ति होने वाले 9 गांव थे। इनमें स्थाई समाधान करने की योजना प्रगति में है। साथ पानी की मात्रा बढ़ाने की दिशा में आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि जिले में कुल 38 8 रिहायशी क्षेत्र हैं। इनमें मलप्रभा दायीं छोर की नहर से धारवाड़, हुब्बल्ली तथा कुंदगोल के 72 रिहायशी इलाकों में जलापूर्ति की जा रही है। भूमिगत जलस्रोत से भूमि के ऊपर वाले पानी के मूलों पर आधारित योजना है। मलप्रभा पानी को ही जिले के सभी गांवों को विस्तार करने पर विचार किया जा रहा है।


सरकार को सौंपा था प्रस्ताव
डॉ. सतीश ने कहा कि जलधारे योजना के तहत 1 हजार 43 करोड़ रुपए की लागत का प्रस्ताव सरकार को सौंपा गया था। प्राथमिक रिपोर्ट भी सौंपी गई है, परंतु योजना थोड़ी सी महंगी है कहने वाली उच्च स्तरीय समिति ने बेकार खर्च कम करने के निर्देश दिए हैं। यह योजना क्रियान्वयन होने पर जिले की पानी की समस्या का समाधान होजाएगा।


उन्होंने कहा कि इस बार के गर्मी के मौसम में पानी की समस्या का समधान अच्छे से किया जा रहा है। नए बोरवेलों की खुदाई करने के बजाए पुराने बोरवेलों को ही जीवित किया जा रहा है। ग्रामीण रोजगार गारंटी से किसानों के खेतों में कृषि तालाब निर्माण पर जोर दिया गया है। ऐसे ही पानी का रिसाव होने से बचाने के लिए टैंक भर कर बहने वाले क्षेत्र में पानी की टंकी के निर्माण को अनिवार्य किया गया है।


पानी की हो जांच
उन्होंने कहा कि किसी भी स्रोत से पानी उपलब्ध होने के बावजूद उसको प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजना हमारी जिम्मेदारी है। प्रयोगशाला में सुधार किया गया है। इसमें और जल विशेषज्ञों को नियुक्त करना है। फिलहाल जिले में 46 8 शुद्ध पेयजल इकाइयों में से 402 कार्य कर रही हैं परंतु कुछ जगहों में इन इकाइयों को लेकर लोगों में उदासीनता है और जगहों पर इनको ध्वस्त किया गया है। लोगों में पानी से संबंधित जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है।


उन्होंने कहा कि आगामी मानसून में भूजल स्तर बढ़ाने के लिए जिला पंचायत इंजीनियरिंग विभाग की ओर से 175 एवं मनरेगा से 109 चेकडेम का निर्माण किया जा रहा है। दो कमानों के चेकडेम को 4.12 लाख रुपए के तहत खर्च किएजा रहे हैं। अधिकतर किसानों ने इसका समर्थन किया है।

किसानों ने अपनी जमीन छोड़ दी है। वन विभाग भी हमें सहयोग दे रहा है। कुछ चेकडेम वन क्षेत्र में निर्माण हो रहे हैं। यह सहज रूप से भू जल स्तर वृद्धि करने में सहायक होगा। साथ में 5 जून को एक लाख पौधरोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया है। इन अवसर पर अधिकारी आर.बी. मुनवल्ली, ए.एम. पाटील, षण्मुख, अब्दुल रहीम आदि उपस्थित थे।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/the-goal-of-providing-120-liters-of-water-per-person-4589364/

ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा तोडऩे के विरोध में प्रदर्शन


धारवाड़. भाजपा की समाज विरोधी नीति के विरोध में अखिल भारतीय महिला सांस्कृतिक संगठन (एआईएमएसएस) की ओर से प्रदर्शन किया गया। संगठन ने आरोप लगाया कि कोलकाता में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान भाजपा तथा टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को तोड़ दिया। भाजपा कार्यकर्ताओं के इस कृत्य के विरोध में एआईएएमएस के सदस्यों ने शहर के विवेकानंद चौराहे पर प्रदर्शन किया।


इस अवसर पर एआईएमएसएस की जिलाध्यक्ष मधुलता गौडर ने कहा कि ईश्वरचंद्र विद्यासागर ही वह समाज सुधारक थे जिन्होंने सभी को विशेषकर बेटियों की शिक्षा के लिए लड़ाई लड़ी। उन्होंने बाल विवाह तथा बहु विवाह जैसी सामाजिक कुप्रथा के खिलाफ आवाज बुलंद की। मधुलता गौडर ने कहा कि ईश्वरचंद्र के सिद्धांतों को भाजपा/आरएसएस नहीं मानती। भाजपा/आरएसएस की तोडऩे वाली मानसिकता के कारण ही आज प्रतिमा को ढहाया गया है।

मधुलता गौडर ने ईश्वरचंद्र की प्रतिमा को तोडऩे वालों के खिलाफ ठोस कदम उठाने की मांग की। इस मौके पर एआईडीएसओ के जिला संगठक रणजीत धूपद ने कहा कि यह पहली बार नहीं है, जब किसी महापुरुष की प्रतिमा को भाजपा/आरएसएस ने तोड़ा हो। इससे पहले परियार, अंबेडकर, लेनिन एवं टैगोर की प्रतिमाओं को भी इन्हीं लोगों ने ढहाया था। भारत को विश्व का सबसे बड़ी लोकतांकिक देश कहने वाले भाजपा के नेता अपनी पार्टी के अलावा अन्य व्यक्तियों के सिद्धांतों को नहीं मानते।


उन्होंने कहा कि विद्यासागर की हजारों प्रतिमाओं को ढहाया जा सकता है, परंतु वे एक प्रतिमा तक सीमित नहीं हैं। विद्यासागर के विचार इस देश के लोगों के दिलों में काफी गहराई तक पहुंचे हुए हैं। उन्होंने कहा कि ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा तोडऩे वालों को शीघ्र गिरफ्तार कर कड़ी सजा दी जाए। विरोध प्रदर्शन में दोनों संगठन के नेता विजयलक्ष्मी देवत्कल, गंगा कोकरे, निंगम्मा हुडेद सहित कई उपस्थित थे।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/demonstrate-protests-against-breaking-statue-of-ishwar-chandra-4589353/

आचार्य महाश्रमण का आत्मसंयम अनुकरणीय


हासन. मुनि प्रशांत कुमार एवं जवेनहल्ली मठ के संगमेश्वरा स्वामी के सान्निध्य में आचार्य महाश्रमण का 46 वां दीक्षा दिवस मनाया गया। सभा को संबोधित करते हुए मुनि प्रशांत कुमार ने कहा कि आचार्य महाश्रमण ने लघुवय में संयम को स्वीकार कर साधुत्व की साधना में स्वयं को नियोजित किया। बचपन मे मिले संस्कारों के कारण भीतर में धर्म की चेतना जागृत हुई। वैराग्य का भाव साधु-साध्वी का सान्निध्य पाकर पुष्ट होते गए।

जवेनहल्ली मठ के संगमेश्वरा स्वामी ने कहा कि मानव जीवन मिला है। आपको जैन धर्म एवं तेरापंथ धर्मसंघ मिला है। हम भी संत हैं लेकिन जैन संत में और हममें अंतर है। वे पैदल यात्रा करते हैं और अपने पास कुछ भी नहीं रखते। त्यागमय जीवन से जीवन का शृंृंगार बढ़ाते हुए जनमानस में नई चेतना और सही रास्ता दिखाते हैं। हम सौभाग्यशाली हैं कि ऐसे आचार्य के दीक्षा दिवस के कार्यक्रम मे शरीक होकर कृतार्थ हुए हैं।


मुनि कुमुदकुमार ने कहा महाश्रमणजी का इंद्रिय संयम और आत्मसंयम अनुकरणीय है। कार्यक्रम का शुभारंभ कन्या मंडल के मंगलाचरण से हुआ। सभाध्यक्ष जयंतीलाल कोठारी, तेरापंथ युवक परिषद के मंत्री जयंत गुलगुलिया, विमल पितलिया, मदनलाल गादिया, मूर्तिपूजक समाज के देवराज पालरेचा ने विचार व्यक्त किए। महिला मण्डल ने गीतिका प्रस्तुत की। धन्यवाद सभा मंत्री सोहनलाल तातेड़ ने दिया। कार्यक्रम का संचालन सभा उपाध्यक्ष महावीर भंसाली ने किया।


आचार्य महाश्रमण का दीक्षा दिवस मनाया
बेंगलूरु. विजयनगर स्थित अर्हम भवन में आचार्य महाश्रमण का 46वां दीक्षा दिवस साध्वी मधुस्मिता के सान्निध्य में मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ साध्वी सहजयशा के मंगला चरण से हुआ।

साध्वी मधुस्मिता ने दीक्षा दिवस पर अपनी भावनाएं व्यक्त कीं। साध्वी ने कहा कि गुरुदेव में पूर्ववर्ती दसों आचार्यों के विशेष गुण आपमें समाहित हैं। इस अवसर पर सभाध्यक्ष बंशीलाल पितलिया ने स्वागत किया। छत्रसिंह मालू ने भी शुभकामना गीत एवं विचार रखे। बिमल सामसुखा ने श्रावक निष्ठा पत्र का वाचन किया। विजयनगर सभा के मंत्री कमल तातेड़ ने संचालन किया।

संघ को शोभायमान कर रहे आचार्य महाश्रमण
मैसूरु. आचार्य महाश्रमण का 46वांं दीक्षा दिवस सिद्धार्थनगर स्थित जीतो कार्यालय परिसर में डॉ. मुनि अमृत कुमार, मुनि नरेश कुमार के सान्निध्य में मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुनि द्वारा मंत्रोच्चार से हुआ। उपासक अशोक बुरड़ ने महाश्रमण अष्टकम का संगान किया।

जीतो महिला विंग की ओर से मंगलाचरण किया गया। जीतो मैसूरु के उपाध्यक्ष एवं तेरापंथ ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रकाश दक ने स्वागत भाषण दिया। तेरापंथ सभा मैसूरु के मंत्री, तेयुप मैसूरु के अध्यक्ष एवं महिला मंडल मंत्री खामोश मेहर ने विचार व्यक्त किए। विक्रम पितलिया और संदीप सामरा ने गीतिका का संगान किया।

डॉ. मुनि अमृत कुमार ने अपने प्रवचन में कहा कि आचार्य महाश्रमण ने तुलसी की अनुशासना में पूर्ण समर्पण के साथ ज्ञान, दर्शन, चरित्र की आराधना कर अपने जीवन को उन्नत बनाया। उसी समर्पण और निष्ठा से आप मुनि मुदित से महाश्रमण पद, युवाचार्य महाश्रमण तथा वर्तमान में आचार्य महाश्रमण के रूप में संघ को शोभायमान कर रहे हैं। संयोजन पंकज कावडिय़ा ने किया।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/acharya-mahasaman-s-self-restraint-exemplary-4589346/

पंचान्हिका महोत्सव: पार्श्व लब्धि तीर्थ धाम के रजत जयंती में उमड़ रहे श्रद्धालु


बेंगलूरु. तुमकूरु रोड स्थित पार्श्व लब्धि तीर्थ धाम के २५वें रजत जयंती महोत्सव के उपलक्ष्य में जिनेन्द्र शक्ति स्वरूप पंचान्हिका महोत्सव गुरुवार को शुरू हुआ। महोत्सव में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। दूसरे दिन दीपक स्थापना, नवग्रह पाटला पूजन, दश दिगपाल पूजन एवं अंगरचना के कार्यक्रम हुए। कार्यक्रम के लाभार्थी दिनेश कुमार, सुशीलकुमार सोनेगरा (जालोर वाले) रहे। पाश्र्व पद्मावती महापूजन के लाभार्थी शांतिदेवी, तेजपाल पांडिया, मिलन, दीक्षा मानित (रणकपुर) रहे।


इससे पूर्व आचार्य अशोकरत्न सूरीश्वर, आचार्य अमरसेन सूरीश्वर, आचार्य चन्द्रयश सूरीश्वर के सान्निध्य में प्रथम दिन मणिभद्रवीर पूजन एवं अंगरचना अशोक कुमार, रमेश कमार, नरेश कुमार पोरवाल परिवार द्वारा किया गया। नवकारशी लाभार्थी सायरदेवी, शांतिलाल, प्रवीण कुमार मरलेचा परिवार रहा।

संचालन सुरेन्द्र गुरु ने किया। शनिवार को आचार्य चन्द्रयशसूरीश्वर व प्रवर्तक कलापूर्ण विजयी के सान्निध्य में अट्ठारह अभिषेक पूजन एवं अंगरचना होगी। रविवार को शांतिदेवी तेजपाल पांडिया धर्म भवन धर्मशाला, भोजन शाला तथा आयंबिल भवन का उद्घाटन होगा। सोमवार को जिनालय ध्वजारोहण होगा।

भक्ति भाव से वर्षगांठ एवं ध्वजारोहण
बेंगलूरु. आदिनाथ जैन श्वेतांबर संघ के तत्वावधान में संभवनाथ जिन मंदिर वी.वी. पुरम (दादावाड़ी) की 41वीं वर्षगांठ एवं 42वां ध्वजारोहण आचार्य कीर्तिप्रभ सूरिश्वरज की निश्रा में हुआ। अमर ध्वजा के लाभार्थी हस्तीमल जरीवाला परिवार थे। विधान विक्रम गुरु ने करवाया। संभवनाथ सेवा मंडल ने व्यवस्था संभाली।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/panchanehika-festival-4589337/

आचार्य शिवमुनि का आगामी चातुर्मास बेंगलूरु में करवाने की विनती लेकर जाएगा संघ


बेंगलूरु. आचार्य शिवमुनि का वर्ष 2020 का चातुर्मास बेंगलूरु में करने की विनती के लिए श्वेतांबर स्थानकवासी बावीस संप्रदाय जैन संघ ट्रस्ट (गणेश बाग) के तत्वावधान एवं लालचंद मांडोत के अध्यक्षता में समस्त बेंगलूर स्थानकवासी जैन समाज की बैठक शुक्रवार को गुरु गणेश जैन स्थानक, गणेश बाग में हुई।


बाबूलाल रांका, सुनील सांखला, संपतराज मांडोत, किशनलाल कोठारी, केसरीमल बुरड़, पुखराज मेहता, सुदर्शन मांडोत, जम्बु दुगड़, सुरेश छल्लाणी, महावीरचंद रुणवाल, पुखराज आंचलिया ने विचार रखे। सर्वसम्मति से निर्णय किया गया कि समस्त बेंगलरु स्थानकवासी समाज की ओर से आचार्य शिवमुनि आदि ठाणा का आगामी चातुर्मास बेंगलूरु में करने की विनती आचार्य के पुणे चातुर्मास के लिए पदार्पण पर रखी जाएगी।


विनती के लिए गणेश बाग संघ के अध्यक्ष लालचंद मांडोत संयोजक रहेंगे। रमेश बोहरा, ज्ञानचंद लोढा, अशोकचंद रांका, शांतिलाल लोढ़ा, रंजितमल कानूंगा, लादुलाल ओस्तवाल, गौतमचंद कांकरिया, शांतिलाल शांड, मिठालाल मकाना, तिलोक कटारिया, शांतिलाल पोखरना, अशोक छाजेड़, शांतिलाल खिंवसरा, संपतराज कोठारी, हस्तिमल सिसोदिया, दीपचंद भंसाली, धर्मेन्द्र मर्लेचा, भंवरलाल पगारिया, किशोर दलाल, जसवंत गन्ना, चंद्रप्रकाश मुथा, उत्तमचंद चुत्तर, सुवालाल दक आदि विभिन्न संघ के पदाधिकारीगण एवं स्थानकवासी समाज के सदस्य उपस्थित थे। बैठक का संचालन सुनील सांखला ने किया।

सुनील सांखला ने आचार्य शिव मुनि के 48 वां दीक्षा दिवस पर सभी की ओर से आचार्य को वंदन अभिवंदन प्रेषित किया। संघ मंत्री संपतराज मांडोत ने आभार व्यक्त किया।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/acharya-shivmuni-will-the-upcoming-chaturmas-begged-to-get-in-bangalor-4589327/

युवा विज्ञानी कार्यक्रम: अंतरिक्ष युद्ध की संभावना नहीं: के. शिवन


बेंगलूरु. युवा विज्ञानी कार्यक्रम ‘युविका’ के तहत शुक्रवार को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के.शिवन ने श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में युवा छात्रों के साथ संवाद किया। इस कार्यक्रम में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से तीन-तीन छात्र चुनकर आए हैं। कुल 110 छात्र इस कार्यक्रम से लाभान्वित हो रहे हैं।


संवाद कार्यक्रम के दौरान छात्रों ने वैश्विक परिदृश्य और इसरो के वर्तमान और भविष्य के कार्यक्रमों पर सवाल किए। शिवन ने हर सवाल का विस्तार से और हर पहलू पर गौर करते हुए सरल शब्दों में जवाब दिया। उन्होंने छात्रों से कहा कि जिज्ञासू बने रहें और सवाल करें। अगर वे अर्थपूर्ण सवाल पूछते हैं और उनका तार्किक समाधान भी दे सकते हैं तो वे एक सफल इंजीनियर अथवा वैज्ञानिक बन सकते हैं।


सुरक्षा, बचाव अथवा गुणवत्तापूर्ण जीवन यह सब विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की देन है। यह तकनीक यहां या कहीं और विकसित हुई और आज दैनिक जीवन में हर आदमी के काम आ रही है। इसरो अध्यक्ष से छात्रों से अंतरिक्ष युद्ध की संभावना और आने वाले दशकों में इसरो की योजनाओं आदि पर भी सवाल पूछे।

अंतरिक्ष युद्ध के सवाल पर उन्होंने कहा कि अंतरिक्ष किसी एक देशका नहीं है। अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक अंतरिक्ष युद्ध की कोई संभावना नहीं है। देश केवल खुद की रक्षा प्रणाली तैयार कर रहे हैं ताकि स्वंय को बचा सकें। उन्होंने इसरो की खूबियों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि यहां योजना बद्ध तरीके से और पारदर्शिता के साथ टीम वर्क होता है जबकि समीक्षा प्रणाली भी काफी अनूठी है।

यहां कॉलेज से आया हुआ नया सदस्य भी इसरो अध्यक्ष से सवाल पूछ सकता है। आइआइटी की ओर से कराए गए एक अध्ययन का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इसरो पर एक रुपए खर्च होता है तो उसका दस गुणा आय होती है। इस दौरान साउंडिंग रॉकेट का प्रक्षेपण हुआ जिसे देखने का मौका छात्रों को मिला।

लांच देखने के लिए पंजीकरण शुरू
उधर, इसरो ने कहा है कि पीएसएलवी सी-46 / रिसैट-2बी मिशन के लांच के समय श्रीहरिकोटा में आम लोगों को प्रक्षेपण देखने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण शुरू हो गया है। यहां आकर कोई भी दर्शक दीर्घा से लांच देख सकता है। ‘रिसैट-2बी’ का प्रक्षेपण पीएसएलवी सी-46 से 22 मई की सुबह 5.27 बजे किया जाएगा।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/youth-science-program-the-possibility-of-space-war-k-shivan-4589319/

पानी की दरें दुगुनी करने का विरोध, किया प्रदर्शन


मंड्या. जय कर्नाटक संगठन के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को घर में पानी आपूर्ति की (नीर दर) दर बढ़ाने के विरोध में नगरसभा कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर नगरसभा अधिकारियों को समस्या का शीघ्र समाधान करने की मांग को लेकर ज्ञापन भी सौंपा। प्रदर्शन में संगठन के जिला अध्यक्ष योगान्ना ने बताया कि एकाकी नीर की दर में बढ़ोतरी करने से लोगों को परेशानी होगी। पहले नीर की दर प्रतिमा माह 120 रुपये थी। लेकिन अब बढ़ाकर 282 कर दिए गए हैं। प्रदर्शन में शिवकुमार, उमेश, कुमार स्वामी, बोरेगौड़ा सहित संगठन के कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

प्रज्ञा के बयान के विरोध में कांग्रेस का प्रदर्शन
मंड्या. भोपाल से भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर द्वारा महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने संबंधी विवादित टिप्पणी के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शनिवार को कावेरी उद्यान में स्थापित सर विश्वेश्वरैया प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने कहा अहिंसा के पुजारी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर विवादित बोल उनको शोभा नहीं देते हैं। प्रदर्शन में सीडी गंगाधर, एम एस आंत्मनंदा, रामलिंगे गौडा, गुरुराज, शिवराजु सहित कई कार्यकर्ता ने भाग लिया।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/bangalore-news/opposed-to-doubling-water-rates-performed-4588112/

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
Jobs Jobs / Opportunities / Career
Uttar Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Medical & Pharma Jobs / Opportunities / Career
Uttarakhand Jobs / Opportunities / Career
Defense & Police Jobs / Opportunities / Career
Assam Jobs / Opportunities / Career
SSC Jobs / Opportunities / Career
Engineering Jobs / Opportunities / Career
UPSC Jobs / Opportunities / Career
Delhi Jobs / Opportunities / Career
Faculty & Teaching Jobs / Opportunities / Career
Maharashtra Jobs / Opportunities / Career
Jammu and Kashmir Jobs / Opportunities / Career
Himachal Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Chhattisgarh Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Study Material
Bihar
State Government Schemes
Technology
Exam Result
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Employment News
Scholorship
Business
Astrology
Syllabus
Festival
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com