Patrika : Leading Hindi News Portal - Varanasi #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Patrika : Leading Hindi News Portal - Varanasi

http://api.patrika.com/rss/varanasi-news 👁 2480

Pravasi Bharatiya Sammelan का दमदार आगाज, बोलीं विदेश मंत्री, दुनिया भर में फैले 03 करोड़ भारतीय, सभी की भारतीयता एक समान


वाराणसी. काशी आज साक्षी बनी 15वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन की। दुल्हन की तरह सज-धज कर तैयार ट्रेड फेसिलिटी सेंटर में 21 जनवरी की सुबह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर विदेश मंत्री जनरल वीके सिंह जी विशिष्ट अतिथि हिमांशु गुलाटी जी नार्वे से सांसद न्यूजीलैंड के सांसद कमलजीत सिंह बक्शी आदि ने युवा संवाद कार्यक्रम के मार्फत इस तीन दिवसीय प्रवासी महाकुंभ का आजाग किया। इसके साथ ही एक नए युग की शुरुआत हुई। अब यहां से जो रिश्ते जुड़े वो एक नए युग की इमारत खड़ी करेंगे। एक नई इबारत लिखेंगे। प्रवासी भारतीयों से खचाखच भरा टीएफसी सभागार में उद्घाटन के साथ ही तालियों से गूंज उठा। इस मौके पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि तीन करोड़ 10 लाख भारतीय विदेशों में रहते हैं और सभी में भारतीयता समान है। आज भारत के लोग देशों के प्रमुख भी हैं और बड़ी बड़ी कंपनियों के प्रमुख भी, जिनकी वजह से देश का नाम हो रहा है। गूगल और माइक्रोसॉफ्ट जैसी बड़ी मल्टीनेशनल के प्रमुख आज भारतीय हैं।

उन्होंने कहा कि युवा भारतीय दिवस का आयोजन न सिर्फ आपको जड़ों से जोड़े रखना है बल्कि ये सीखने का मौका देना भी है कि कैसे आप देश के विकास के भागीदार बनते हैं। आज हम देश की शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ कर रहे हैं और हमने कई ऐसे कार्यक्रम शुरू किए हैं, जो शोध को बढ़ावा देने का काम कर रहा है। आज हमारे पास युवाओं की बड़ी संख्या है। सुरक्षित जाओ, प्रशिक्षित जाओ योजना चलाकर दूसरे देशों में काम करने वाले लोगों की मदद का काम किया। हम फर्जीवाड़ा करके विदेश भेजने वाली एजेंसियों पर भी लगाम लगाने का काम कर रहे हैं। हम आज लगभग हर प्रभावी सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं, ताक़ि लोगों को सोशल मीडिया के ज़रिए मदद की जा सके। आज भारतीयों का पासपोर्ट उनका सुरक्षा कवच बन गया है। हमने 24 घंटों में लोगों को एक ट्वीट पर मदद पहुंचाने का काम किया है। हमने पीएम मोदी की फलम्पर भारत को जानिये क्विज़ शुरू किया है, जिसमें बड़ी संख्या में लोग हिस्सा ले रहे हैं। 2022 में हम दुनिया के सबसे युवा देश होंगे जिसकी 64 फीसदी आबादी का औसत 29 साल होगा। मैं आप सबका स्वागत करती हूं। उन्होंने कहा कि जहां तक इस प्रवासी भारतीय सम्मेलन का सवाल है तो ये अपने आप में अनोखा है। 21 से 23 तक चलेगा यह सम्मेलन। लेकिन 24 को हम सब प्रयागराज, 25 को दिल्ली और 26 को गणतंत्र दिवस में शामिल होंगे। ये सिर्फ 03 ही नही 06 दिवसीय होगा।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने युवा प्रवासी भारतीय दिवस के मौके पर दुनिया के विभिन्न देशों से पधारे सभी अतिथियों का उत्तर प्रदेश की जनता और सरकार की ओर से स्वागत किया। कहा कि दुनिया के अंदर तमाम देशों में आप सब ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया अपनी प्रतिभा के माध्यम से लोगों को एक नई दिशा दी है। आपका पुरुषार्थ, आपका परिश्रम, आपकी प्रतिभा ने पूरी दुनिया में भारत का लोहा मनवाया। आप सभी से भारत का सम्मान भी जुड़ जाता है। भारत के प्रति सम्मान का भाव, हमारे रहन-सहन, खान-पान वेशभूषा से सकता हैं। उपासना विधियों में हो सकती है। पूरब से पश्चिम, उत्तर से दक्षिण भारत एक है। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की पंक्तियां खूब महत्वपूर्ण लगती है जननी और जन्मभूमि का कोई विकल्प नहीं हो सकता यह भाव हम सभी को प्रस्तुत करना होगा।

उन्होने बताया कि काशी को पहले गलियों का शहर कहा जाता था। काशी में गंगा जी का प्रवाह, काशी में मंदिर, काशी के घाट आपको देखने का अवसर प्राप्त होगा। 1916 में काशी हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना पंडित मदन मोहन मालवीय ने की थी, आज काशी हिंदू विश्वविद्यालय पूरे विश्व में आगे बढ़ने काशी विकास की नई ऊंचाइयों को छू रहा है। वर्क रोल मॉडल है। आप सब के स्वागत के लिए काशी उतावली है। काशी दर्शन का आनंद आपको 03 दिनों में प्राप्त होगा। इसके साथ ही प्रयागराज कुंभ भी आपके स्वागत के लिए पूरी तरह तैयार है। 15वां प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन है इस अवसर पर प्रयागराज का कुंभ अभी चल रहा है, आज भी पौष पूर्णिमा का पवित्र स्नान है। संगम के तट पर स्नान चल रहा है। 450वर्षों के बाद अक्षय वट और मां सरस्वती का दर्शन प्राप्त हो रहा है। बहुत पहले आपके पूर्वजों ने वह दर्शन किए होंगे लेकिन आप अपने आप को सौभाग्यशाली मान सकते हैं कि इस बार अक्षय वट और अन्य प्रतीकों का दर्शन प्राप्त करने का सौभाग्य प्राप्त होगा। कुंभ का एक नया कॉन्सेप्ट अस्थाई बस्ती डेढ़ महीने के लिए कैसे बनती है देखने को मिलेगा। 15 करोड़ लोग प्रयागराज कुंभ में आएंगे। खेल गांव का प्रतिनिधित्व खेल गांव का होता है। 22 फरवरी को 122 देशों का एक-एक प्रतिनिधि कम से कम कुंभ में उपलब्ध हो वैश्विक स्वरूप बन सके कैसे गंगा यमुना सरस्वती की त्रिवेणी में पूरी दुनिया तेरी दिखाई देती है आनंद जरूर लें।

कहा कि दुनिया के विभिन्न देशों में रह रहे अपने प्रवासी भारतीयों को जोड़ने के लिए इन कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है इस मामले में किए गए सरकार के प्रयास अत्यंत महत्वपूर्ण है उत्तर प्रदेश को यह पहला अवसर प्राप्त हुआ है जब हम प्रवासी भारतीय दिवस के अवसर पर आयोजन हो रहा है इस बार खास इसलिए कि प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन 2003 में एकदिवसीय था केंद्र में पीएम मोदी की सरकार बनने के बाद इसे 2 दिन से किया गया और इस बार का कार्यक्रम तीन दिवसीय दिया गया प्रवासी युवा भारतीयों को इस कार्यक्रम से जोड़ने का मुख्य मकसद है प्रवासी भारतीय सम्मेलन के उपलक्ष पर दुनिया के सबसे प्राचीन आध्यात्मिक सांस्कृतिक राजधानी से जुड़ने का सौभाग्य प्राप्त हो रहा है प्राप्त होगा अनेक कार्यक्रमों को एक साथ जोड़ने वहीं दुनिया के अंदर भारत की प्रतिभा किस रूप में है सभी को देखने को मिलेगा भारत के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है दुनिया का सबसे युवा देश है भारत भारत में सबसे युवा राज्य उत्तर प्रदेश 23 करोड़ की हमारी आबादी है सबसे अधिक युवा यूपी में है

 

 

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/superb-inaugaration-of-15th-pravasi-bharatiya-sammelan-in-kashi-4011382/

युवा संवाद संग 15वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन का शानदार आगाज


वाराणसी. रिश्तों की नई इबारत लिखने के लिए धर्म, शिक्षा, साहित्य व संस्कृति की राजधानी काशी, तीनों लोकों से न्यारी काशी, सर्व विद्या की राजधानी काशी में युवा संवाद के साथ 15वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन का शानदार आगज सोमवारी 21 जनवरी को हुई। बता दें कि इस युवा संवाद में कुल 700 युवा प्रवासी शिरकत कर रहे हैं। इसमें बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ और संस्कृत विश्वविद्यालय के युवा छात्र भी शामिल है।

सोमवार सुबह नौ बजे बड़ालालपुर स्थित ट्रेड फेसिलिटी सेंटर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 15वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन का औपचारिक शुभारंभ किया। पहले दिन के मुख्य कार्यक्रम 'युवा संवाद' के उद्गाटन के मौके पर राज्यपाल रामनाईक, युवा एवं खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर, नार्वे के विशिष्ट अतिथि सांसद एचई हिमांशु गुलाटी, न्यूजीलैंड के सांसद कंवलजीत सिंह बख्शी, विदेश मंत्रालय के सचिव व ओवरसीज इंडियन अफेयर्स के ध्यानेश्वर मुले आदी मौजूद रहे।

बता दें कि बनारस में पहली बार आयोजित हो रहे प्रवासी भारतीय सम्मेलन में दुनिया के 75 देशों के करीब तीन हजार प्रवासी मेहमान शामिल हो रहे हैं। इनमें मॉरीशस, त्रिनिडाड, फिजी, सऊदी अरब, कनाडा, यूएसए, यूके, मलेशिया, जर्मनी, फ्रांस समेत कई देशों के ज्यादातर प्रवासी मेहमान काशी पहुंच चुके हैं। इस बार सम्मेलन की थीम ‘नए भारत के निर्माण में प्रवासी भारतीयों की भूमिका’ है।
काशी में आयोजित 15वां प्रवासी भारतीय दिवस कई मायनों में बेहद खास है। इस सम्मेलन में नए भारत के निर्माण में प्रवासियों के योगदान की भूमिका तय होगी। साथ ही दुनिया के विभिन्न देशों में रह रहे प्रवासियों के साथ रिश्तों की नई इबारत भी लिखी जाएगी। यह रिश्ता बनारस समेत यूपी एवं देश में औद्योगिक निवेश, भारतीय संस्कृति के दुनिया में प्रचार-प्रसार, पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ ही गांवों में शैक्षणिक विकास का भी रास्ता खोलेगा। इसके लिए ज्यादातर मेहमान काशी पहुंच चुके हैं। सम्मेलन में शामिल होने के लिए रविवार देर रात विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर, केंद्रीय खेल एवं युवा कल्याण राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर, विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह आदि मंत्री बनारस पहुंच चुके थे।

तीन दिनों तक चलने वाले सम्मेलन की सुरक्षा एवं स्वागत की तैयारी पूरी हो चुकी है। कार्यक्रम स्थल के आसपास सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। अर्द्धसैनिक बलों के साथ ही 13 हजार जवानों की तैनाती की गई है। प्रवासियों के ठहरने के लिए अत्याधुनिक स्विस कॉटेज बनाये गये हैं। टेंट सिटी से कार्यक्रम स्थल तक आने-जाने में दिक्कत न हो इसके लिए रिंग रोड एवं सिंधोरा मार्ग पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है। सम्मेलन स्थल के आसपास सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। 400 सीसीटीवी कैमरे से कार्यक्रम स्थल पर निगरानी की जा रही है। अर्द्धसैनिक बलों के साथ 13 हजार जवानों की तैनाती की गई है। प्रवासियों के ठहरने के लिए अत्याधुनिक स्विस काटेज बनाये गये हैं। टेंट सिटी से कार्यक्रम स्थल तक प्रवासियों के आवागमन की सुविधा को देखते हुए रिंग रोड एवं सिंधोरा मार्ग आम लोगों के लिए पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है। प्रवासियों को टेंट सिटी में बने अत्याधुनिक स्विस काटेज, होटलों एवं निजी घरों में ठहराया गया है। प्रवासियों के स्वागत में पूरी काशी सजी हुई है। घाटों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हैं। प्रवासी मेहमान गंगाघाटों के साथ ही गंगा आरती एवं श्रीकाशी विश्वनाथ का दर्शन करेंगे। 22 जनवरी को फिल्म अभिनेत्री एवं सांसद हेमा मालिनी नृत्य नाटिका प्रस्तुत करेंगी।

 

15th  <a href=Pravasi Bharatiya Sammelan grand launch with youth dialogue" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/01/21/pravasi_bharatiya_sammelan-1_4010576-m.png">

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/15th-pravasi-bharatiya-sammelan-grand-launch-with-youth-dialogue-4010576/

प्रवासी भारतीय सम्मेलन के लिए काशी सज कर तैयार, जानें तीन दिनों के मिनट टू मिनट प्रोग्राम


वाराणसी. प्रवासी भारतीय सम्मलेन के लिए काशी सजधज कर तैयार हो गई है। तीन दिवसीय सम्मलेन के पहले दिन सोमवार (21 जनवरी) को ट्रेड फेसिलिटी सेंटर (टीएफसी) में सीएम योगी आदित्यनाथ, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और राज्यवर्धन सिंह राठौर युवा प्रवासी संवाद का उद्घाटन सुबह नौ बजे करेंगे। प्रवासी दिवस का उद्घाटन 22 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। तीसरे दिन (23 जनवरी) होगा समपन समारोह जिसके मुख्य अतिथि होंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद। इस तीन दिवसीय सम्मेलन के लिए केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर, मलयेशिया के स्वास्थ्य मंत्री शिव नेशन, राज्य मंत्री डॉ सुमुग़म रगास्वामी और पोलिटिकल सेक्रेट्री रमेश कुमार बनारस पहुंच चुके हैं।


एयरपोर्ट पर स्वागत के तौर तरीके से प्रवासी गदगद
बतपुर एयरपोर्ट के आगमन हॉल में पहुंच रहे प्रवासी भारतीयों का स्वागत कुमकुम, पुष्प माला और आरती से किया जा रहा है। स्कूली बच्चों का दल एक-एक कर सभी को पहले गुलाब के फूल देकर वेलकम कर रहा है, फिर रोली-चंदन लगाया जा रहै अतिथियों का। उसके बाद उतारी जा रही है आरती और माला पहनाई जा रही है। साथ ही हर प्रवासी को रुद्राक्ष की माला भेंट की जा रही है। एयरपोर्ट पर स्वागत के इस अंदाज से सभी गदगद दिखे। बता दें कि

चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था
एयरपोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद रही। विमानयात्री पांच स्तरीय सुरक्षा जांच के बाद ही विमान तक पहुंच पा रहे थे। सभी प्रकार के वाहनों को पार्किंग एरिया में रोका जा रहा है। सीआईएसएफ की क्यूआरटी वाहन चक्रमण करती रही।

दुल्हन की तरह सजा शहर
प्रवासी सम्मेलन में आ रहे मेहमानों के खैरमकदम के लिए शहर दुल्हन की तरह सज कर तैयार हो गया है। चौराहे, तिराहे रोशनी से जगमग हैं तो डिवाइडर भी चमचमा रहे हैं। इनकी शोभा बढ़ाने को 20 हजार से अधिक रंग-बिरंगे और सुगंधित फूलों के गमले लगाए जा रहे हैं। मेहमानों के स्वागत के लिये हर जगह होर्डिंग लगाई गई हैं। बाबतपुर से लेकर ऐढ़े गांव और बड़ालालपुर स्टेडियम के अलावा गंगा के घाट लेजर शो और फसाड लाइटों से निखर उठे हैं। बचा खुचा काम युद्ध स्तर पर रविवार रात तक पूरा करने के लिए काम जारी है। रेलवे स्टेशन, सार्वजनिक स्थलों और कार्यक्रम स्थल को रंगबिरंगे झालरों से सजाया गया है। डिवाइडरों को नीले व काले रंग से रंगने के बाद डेलीनेटर लगाये गए हैं। मेहमान जिन मार्गों से जाएंगे, उन पर डिवाडरों पर गमले रखे जा रहे हैं। चौराहों को झालर और फूलमालाओं से सजाने की तैयारी चल रही है।

घाटों का सौंदर्य निखरा फसाड लाइट से
मेहमान गंगा घाट देखने भी पहुंचेंगे। इसके मद्देनजर प्रशासन ने सभी घाटों पर फसाड और लेजर लाइटें लगवाई है। इससे घाटों का सौंदर्य बढ़ गया है। घाटों पर जगमगाती रोशनी बनारस के लोगों के लिये भी आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। स्थानीय लोगों के लिए घाट सेल्फी पॉइंट बन गए हैं।

टेंट सिटी का नाम हुआ श्री बालेश्वर अग्रवाल नगर
ऐढ़े में प्रवासी मेहमानों के लिए बसाए गए अस्थायी शहर (टेंट सिटी) का नाम ‘श्री बालेश्वर अग्रवाल नगर' कर दिया गया है। उड़ीसा के बालासोर नगर में जन्मे हिन्दी पत्रकारिता के पुरोधा बालेश्वर अग्रवाल का बनारस से भी जुड़ाव रहा है। डॉ. बालेश्वर अग्रवाल ने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की थी। प्रवासी भारतीय दिवस मनाए जाने की शुरुआत करने का श्रेय डॉ. अग्रवाल को जाता है। डॉ. अग्रवाल के अनुनय पर ही पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इसकी शुरुआत की थी। पहला प्रवासी भारतीय दिवस वर्ष 2003 में मनाया गया था। उस समय अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे। डॉ. बालेश्वर अग्रवाल एक समाचार पत्र एजेंसी के संपादक भी रहे। इसके बाद अंतर्राष्ट्रीय सहयोग परिषद का काम संभाला। आजीवन हिंदी पत्रकारिता से जुड़े रहे। प्रवासी भारतीयों की सुविधा के लिए नई दिल्ली में प्रवासी भवन का निर्माण कराया।

टेंट सिटी में दी जा रही वेलकम बुक
टेंट सिटी में बने कॉटेजों में मेहमानों को ‘वेलकम बुक दी जा रही है। इस बुक में बनारस के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल से लेकर टेंट सिटी के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। प्रशासन की ओर से लगभग पांच हजार वेलकम बुक मंगवाई गई हैं। इसके साथ ही अंग्रेजी की पत्रिकाएं भी मेहमानों को दी गई हैं।ऐढ़े स्थित टेंट सिटी में मेहमानों को कोई समस्या न हो इसके लिये खास इंतजाम किये गये हैं। कॉटेज में पहुंचते ही मेहमानों को एक किट दी जा रही है। इसमें वेलकम बुक, अंग्रेजी पत्रिकाएं, वेलकम पेज और प्रवासी सम्मेलन के महत्व के बारे में बताया गया है। वहीं टेंट सिटी, बड़ालालपुर स्थित कार्यक्रम स्थल और टीएफसी (ट्रेड फैसिलिटी सेंटर) का एक नक्शा दिया गया है। इससे किस स्थान पर क्या है असानी से जानकारी मिल सकेगी।इन स्थानों का किया जिक्रवेलकम बुक में एक पेज पर टेंट सिटी व बड़ालालपुर में मेहमानों को मिलने वाली सुविधाओं को साइन के माध्यम से बताया गया है। इसमें ई रिक्शा, हॉस्पीटल, एंबुलेंस से लेकर अन्य कई सामान्य सुविधाओं की जानकारी दी है। इसके अलावा वेलकम पेज पर विश्वनाथ मंदिर, गंगा आरती, सारनाथ स्थित बौद्ध स्थल, घाट, रामनगर का किला, संकट मोचन मंदिर और आसपास के जिले के प्राकृतिक स्थल की जानकारी दी गई है।

प्रवासी भारतीय दिवस के कार्यक्रम

21 जनवरी, सोमवार
सुबह 9:00 बजे - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में दीप प्रज्ज्वलन।
सुबह 9:15 से 9:40 - विदेश सचिव डी मुलय की ओर से स्वागत।
सुबह 9:40 से 9:55 - केंद्रीय युवा कल्याण एवं खेल मंत्री स्वतंत्र प्रभार राज्यवर्धन सिंह राठौर का संबोधन
सुबह 9:55 से 10:10 - मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का संबोधन।
सुबह 10:10 से 10:30 - नार्वे में संसद के सदस्य हिमांशु गुलाटी का संबोधन।
सुबह 10:30 से 10:40 - न्यूजीलैंड में संसद के सदस्य कंवलजीत सिंह बख्शी का संबोधन।
सुबह 10:40 से 11:05 - विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का उद्घाटन भाषण।
दोपहर 11:05 से 11:10 - युवा कल्याण एवं खेल मंत्रालय के सचिव की ओर से धन्यवाद ज्ञापन।
दोपहर 11:30 से 01:00 - पहला अधिवेशन। युवा भारतीय प्रवासियों के साथ परिचय। कार्यक्रम के कोआर्डिनेटर मिनिस्ट्री ऑफ एक्सटर्नल अफेयर्स के संयुक्त सचिव रवीश कुमार। केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर से संवाद।
दोपहर 1:00 से 02:30 - राज्यवर्धन सिंह राठौर के साथ लंच ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में।
शाम 5:30 बजे तक - क्रीड़ा संकुल में उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस कार्यक्रम।
शाम 6:00 से 7:00 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में उत्तर प्रदेश के पांरपरिक नृत्य व संगीत का कार्यक्रम।
शाम 7:00 बजे के बाद - मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ रात का खाना।
रात नौ बजे तक सुविधानुसार - बीएचयू में छात्र-छात्राओं के साथ युवा भारतीय प्रवासियों का संवाद।

22 जनवरी, मंगलवार
सुबह 10:20 - क्रीड़ा संकुल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचेंगे।
सुबह 10:25 से 12:10 - सांस्कृतिक कार्यक्रम स्थल पर आल इंडिया रेडियो के कलाकारों की ओर से थीम सांग। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का संबोधन। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का संबोधन। मॉरीशस प्रो. रेशमी रामदोनी की किताब ‘एंसिएंट इंडियन कल्चर एंड सिविलाइजेशन’ का विमोचन। ‘भारत को जानिये क्विज’ की अवार्ड सेरेमनी व ग्रुप फोटो। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण। केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह का धन्यवाद ज्ञापन।
दोपहर 12:10 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में प्रधानमंत्री पहुंचेंगे।
दोपहर 12:15 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में मुख्य अतिथि मॉरीशस प्रवींद जगन्नाथ का आगमन।
दोपहर 12:20 से 12:50 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर के हाल में सभा।
दोपहर 12:50 से 01:20 - फ्री टाइम या प्रमुख प्रवासी मेहमानों के साथ बैठक।
दोपहर 1:30 से 02:30 - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ लंच। इसमें 30 प्रमुख लोग शामिल होंगे।
दोपहर 12:00 से 2:00 - क्रीड़ा संकुल में डेलीगेट्स का लंच।
दोपहर 3:00 से शाम 4:30 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में दूसरा अधिवेशन। भारत में साइबर क्षमता पर चर्चा। कार्यक्रम के कोआर्डिनेटर केंद्रीय संयुक्त सचिव उपेंद्र सिंह रावत। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से संवाद।
शाम 4:45 से 6:15 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में तीसरा अधिवेशन। भारत में अवसर और चुनौतियों पर चर्चा। कार्यक्रम के कोआर्डिनेटर संयुक्त सचिव विनोद के जैकब। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ संवाद।
शाम 7:00 से रात 08:30 - क्रीड़ा संकुल में सांस्कृतिक कार्यक्रम।
रात 08:30 - विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ क्रीड़ा संकुल में रात का भोजन।

23 जनवरी, बुधवार
सुबह 9:00 से 10:15 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में चौथा अधिवेशन। कमजोर वर्ग भारतीय नागरिकों के लिए काम करने वाले भारतीय संगठनों पर चर्चा। संयुक्त सचिव अमृत लुगुन का संबोधन।
सुबह 10:15 से 11:45 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में पांचवा अधिवेशन। आधुनिक भारत के निर्माण में प्रवासी भारतीयों की भूमिका पर चर्चा। कार्यक्रम के कोआर्डिनेटर अतिरिक्ति सचिव संजय कुमार वर्मा। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के साथ संवाद।
दोपहर 12:00 से 01:15 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में छठा अधिवेशन। सस्ते अपशिष्ट प्रबंधन में प्रवासी भारतीयों की भूमिका पर चर्चा। कार्यक्रम के कोआर्डिनेटर संयुक्त सचिव विनोद के जैकब। केंद्रीय मंत्री उमा भारती के साथ संवाद।
दोपहर 01:30 से 02:45 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में राज्यपाल राम नाईक के साथ दोपहर का भोजन।
दोपहर 03:00 से 04:15 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में सातवां अधिवेशन। कीफायती सौर ऊर्जा उत्पादन में भारतीय प्रवासियों की क्षमता व योगदान पर चर्चा। संयुक्त सचिव के नागराज नायङ्मू का संबोधन।
शाम 04:15 से 05:00 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर के अटल विहारी वाजपेयी सभागार में सभी प्रवासी मेहमानों का कार्यक्रम।
दोपहर 05:00 से 06:30 - क्रीड़ संकुल में समापन कार्यक्रम और प्रवासी भारतीय सम्मेलन अवार्ड समारोह। इसमें पहले डेलीगेट्स पहुंच जाएंगे। इसके बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पहुंचेंगे। राष्ट्रगान होगा। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज स्वागत भाषण देंगे। योगी आदित्यनाथ संबोधित करेंगे। राष्ट्रपति के हाथों प्रवासी भारतीय सम्मेलन अवार्ड दिया जायेगा। समारोह को राष्ट्रपति संबोधित करेंगे। विदेश सचिव डी मुलय धन्यवाद ज्ञापित करेंगे।
रात 08:00 - ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर में इंडियन काउंसिल फार कल्चरल रिलेशन के प्रेसिडेंट डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे के साथ रात का भोजन।

Kashi ready for pravasi bharatiya sammelanKashi ready for pravasi bharatiya sammelanKashi ready for pravasi bharatiya sammelan

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/kashi-ready-for-15th-pravasi-bharatiya-sammelan-4009346/

Pravasi Bharatiya Sammelan-करोड़पति प्रवासी भारतीयों ने खाया सबसे सस्ता खाना


वाराणसी. प्रवासी भारतीय काशी पहुंचे और पुरबिया लोक संस्कृति का मजा न लूटें भला ऐसा भी हो सकता है क्या? पूरब की माटी के लोग आएं और बाटी चोखा का स्वाद न चखें ऐसा भी संभव नहीं है। ऐसे में बनारस में ऐसे सभी लोगों के लिए भी खास इंतजाम किया गया है, वह भी सरकारी नहीं बल्कि निजी तौर पर। ऐसे प्रवासी भारतीयों के स्वागत-सत्कार और उनकी पंसद का खयाल रखते हुए सारे इंतजाम किए गए है पूर्वांचल के मशहूर बाटी चोखा रेस्टोरेंट में। बता दें कि बाटी चोखा को पूरब में सबसे सस्ता खाना माना जाता है। आमजन यानी दिहाड़ी मजदूर, किसान और श्रमिकों का यह प्रतिदिन का भोजन है। यह दीगर है कि रेस्टोरेंट में इसका मजा कुछ और ही हो जाता है जहां सब कुछ पुरबिया अंदाज में सुलभ है।

रेस्टोरेंट के संचालक दिवाकर ने पत्रिका को बताया कि प्रवासी भारतीय सम्मलेन के लिए काशी पहुंचने वाले मेहमानों के लिए तेलियाबाग मुख्यालय पर खास इंतजाम किया गया है। यहां प्रवासी भारतीयों के आने का सिलसिला सुबह से ही जो शुरू हुआ वह थमने का नाम नहीं ले रहा है। सैकड़ों की तादाद में अलग-अलग जत्थों में पूरबिया माटी से जुटे लोग यहां पहुंचे और बाटी चोखा, खीर आदि का लुत्फ पुरबिया अंदाज में उठाया।


उन्होंने बताया कि बाटी छोख रेस्टोरेट में प्रवासी भारतीयों के स्वागत और उन्हें पुरबिया संस्कृति से परिचित कराने के लिए लोक कला धोबिया नृत्य का आयोजन किया गया। सुबह से ही आ रहे प्रवासी और विदेशी मेहमानों ने न केवल यहां पुरबिया खाने का स्वाद लिया बल्कि यहां की विशिष्ट लोक संस्कृति से भी परिचित हुए।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/non-resident-indian-enjoyed-purbiya-folk-culture-take-bati-chokha-4009127/

मलयेशिया और भारत के केंद्रीय मंत्रियो संग प्रवासी भारतीयों ने गंगा आरती का उठाया लुत्फ


वाराणसी. दुनिया की प्राचीनतम नगर काशी, काशी का वैभव, काशी के घाट, उत्तर वाहिनी गंगा का सुरम्य तट। ये कहां मिलेगा एक साथ। यह आकर्षण ही है कि दुनिया भर के विशिष्ट जन यहां पहुंच रहे हैं या पहुंच चुके हैं। उनके लिए प्रवासी भारतीय सम्मेलन सुनहरा मौका है। फिर इसे भला कौन गवाएंगा। ऐसे मौके बार-बार नहीं मिलते। लिहाजा दुनिया भर में फैले प्रवासी भारतीयों का जमघट काशी में अब लग गया है। यहां आने वाले विश्व प्रसिद्ध गंगा आरती का लुत्फ लेने घाटों पर पहुंचने लगे हैं। इसी कड़ी में मलयेशिया की टीम ने रविवार को दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती का लुत्फ लिया।

दशाश्वमेध घाट पर गंगा सेवा निधि द्वारा आयोजित होने वाली दैनिक गंगा आरती में रविवार को पहुंचे मलयेशिया के स्वास्थ्य मंत्री शिव नेशन और भारतके केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर। इनके अलावा मलयेशिया पॉलिटिकल सेक्रेट्री रमेश कुमार तथा राज्य मंत्री डॉ सुमुग़म रगा स्वामी भी थे। साथ ही सैकड़ों की तादाद में प्रवासी भारतीय भी पहुंचे।

भारत सरकार में मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर, मलयेशिया के स्वास्थ्य मंत्री व राज्य मंत्री ने किया मां गंगा का वैदिक रीति से पूजन किया। गंगा आरती देख हुए भाव विभोर। गंगा सेवा निधि अध्यक्ष सुशांत मिश्र, कोषाध्यक्ष आशीष तिवारी, सचिव हनुमान यादव, इंदु शेखर शर्मा ने अतिथियों को प्रसाद, ब्रोशर दे कर स्वागत किया। इन विशिष्ठ अतिथियों ने आरती खत्म होने के बाद कहा ऐसा दुर्लभ दर्शन तो कभी न किया।


तीन दिवसीय 15वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन 21, 22, 23 जनवरी के मौके पर दशाश्वमेध घाट पर गंगा सेवा निधि द्वारा आरती अब 09 ब्राह्मणों द्वारा कराई जाएगी। बता दें कि प्रतिदिन होने वाली मां गंगा की आरती 07 ब्राह्मणों द्वारा कराई जाती है। दुनिया भर से आए प्रवासी भारतीय को देखते हुए गंगा सेवा निधि द्वारा दिनोदिन मां गंगा की महा आरती कराई जाएगी। बता दें कि इससे पूर्व जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे व भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गंगा आरती में शिरकत किए थे, तब भी ऐसी ही आरती कराई गई थी। आरती देखने आए प्रवासी भारतीयों को गंगा सेवा निधि द्वारा प्रसाद मोमेंटो ब्रोशर अंगवस्त्रम से स्वागत किया जाएगा।

Malaysian and Indian Minister Migrant watched ganga AartiMalaysian and Indian Minister Migrant watched ganga AartiMalaysian and Indian Minister Migrant watched ganga Aarti

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/malaysian-and-indian-ministers-migrant-watched-ganga-aarti-4008973/

घर बैठे कराये काशी विश्वनाथ मंदिर में अभिषेक, प्रवासी भारतीय करायेंगे अनोखा दर्शन


वाराणसी. दुनिया के किसी कोने में बैठ कर बाबा काशी विश्वनाथ मंदिर में अभिषेक करा सकेंगे। पिक्चर इतनी सटीक होगी कि लगेगा कि आप खुद ही मंदिर में बैठे हैं। 26 साल से अमेरिका में रह रहे प्रवासी भारतीय रूपेश श्रीवास्तव लोगों के इस सपने को सकार कर रहे हैं। यंग साफ्ट कंपनी वर्चुअल दर्शन एप के माध्यम से लोगों को दो माह में यह सुविधा उपलब्ध करा देगी। प्रवासी भारतीय सम्मेलन में 22 जनवरी को पीएम नरेन्द्र मोदी खुद इस योजना का उद्घाटन कर सकते हैं।
यह भी पढ़े:-Pravasi Bharatiya Divas 2019-प्रवासी सम्मेलन के लिए दिन में नहीं चलेंगे मालवाहक वाहन, आटो रिक्शा व ई-रिक्शा के लिए बनाया गया नियम

 

प्रवासी भारतीय सम्मेलन में भाग लेने आये रूपेश श्रीवास्तव ने इस कार्यक्रम की जानकारी रविवार को सिगरा स्थित एक होटल में मीडिया को दी। उन्होंने कहा कि वह बनारस के रहने वाले हैं और क्वींस कॉलेज में पढ़ाई भी की है। इसके बाद भारत में ही उच्च शिक्षा ग्रहण करने के बाद 1993में अमेरिका चले गये थे। वहां पर तीन साल बाद अपनी पहली कंपनी बनायी थी। समय के साथ करोबार बढ़ता गया और बंगलुरु व हैदराबाद में भी कंपनी स्थापित कर भारतीय लोगों को रोजगार दिया है। बनारस में काशी विश्वनाथ मंदिर की वर्चुअल दर्शन कराने की इच्छा थी लेकिन वर्ष 2005 से 2010 के बीच यहां पर बिजली व्यवस्था इतनी खराब थी कि मेरा सपना पूरा नहीं हो पाया। अब स्थिति बदल गयी है इसलिए दुनिया के किसी भी कोने में बैठे बाबा विश्वनाथ के भक्तों को बाबा के दर्शन कराने की योजना को मूर्तरुप दिया गया। रुपेश श्रीवास्तव ने बताया कि काशी विश्वनाथ मंदिर के सीईओ विशाल सिंह से मिल कर इस योजना की जानकारी दी गयी थी तो वह तैयार हो गये। लगभग दो माह तक काम करने के बाद प्रवासी सम्मेलन में इस योजना का उद्घाटन किया जायेगा। संभावना है कि इस योजना को पीएम नरेन्द्र मोदी या फिर सीएम योगी आदित्यनाथ उद्घाटन कर सकते हैं। साथ ही सम्मेलन में इस तकनीक को भी एनआरआई को दिखाया जायेगा।
यह भी पढ़े:-गंगा में चरखा चलाते महात्मा गांधी से लेकर इसरो की उपलब्धियों तक का नजारा

प्रयागराज के कुंभ मेला को भी दिखाया जायेगा
रूपेश श्रीवास्वत ने कहा कि प्रयागराज का कुंभ मेला भी इसी तकनीक से लोगों को दिखाया जायेगा। इस तकनीक का प्रयोग अमेरिक सहित कुछ ही विकसित देश कर रहे हैं। यह तकनीक इतनी सटीक है कि आप घर जिस तरफ देखेंगे वहां का तस्वीर सामने आ जायेगी। काशी विश्वनाथ मंदिर के आस-पास की जमीन का रिकॉर्ड भी डिजिटल किया जा रहा है बाद में प्रदेश भर की जमीन को भी इसी तकनीक से डिजटलीकरण किया जायेगा। बीएचयू से भी वार्ता हो रही है और वहां पर बन रहे अस्पतालों की जानकारी व रिकॉर्ड भी डिजीटल करने पर वार्ता चल रही है। रूपेश श्रीवास्तव ने कहा कि काशी विश्वनाथ मंदिर में वर्चुअल दर्शन कराने के लिए प्रवासियों को कुछ फीस देनी होगी। भारत सरकार चाहेगी तो देश के लोगों को यह सुविधा फ्री में मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसी तर्ज पर उत्तराखंड में बद्रीनाथ व केदारनाथ के दर्शन कराने की योजना पर भी काम चल रहा है।
यह भी पढ़े:-प्रवासियों की आगवानी के लिए पीएम मोदी के बाद आयेंगे राष्ट्रपति


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/nri-rupesh-provide-virtual-viewing-app-for-kashi-vishwanath-darshan-4008598/

जानिये कौन हैं बीजेपी विधायक साधना सिंह, मायावती पर अभद्र टिप्पणी कर चर्चा में आई


वाराणसी. यूपी के मुगलसराय से बीजेपी की विधायक साधना सिंह बसपा सुप्रीमो मायावती के खिलाफ अभद्र टिप्पणी कर चर्चा में है । बीजेपी विधायक को राष्ट्रीय महिला आयोग ने नोटिस भेजने जा रही है, वहीं सपा- बसपा के नेता भी उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं । साधना सिंह इससे पहले भी वह कई विवादों में घिर चुकी है ।

कौन हैं साधना सिंह
चंदौली की रहने वाली साधना सिंह 1992 में रामजन्म भूमि आन्दोलन से भाजपा के साथ जुडी थी । साधना सिंह इस दौरान बहुत सक्रिय भी रही थी । 1995 में उन्हें वाराणसी भारतीय जनता पार्टी का कार्यकारिणी सदस्य बनाया गया । साधना सिंह 2000 में जिला पंचायत सदस्य के तौर पर सकलडीहा के सेक्टर नंबर 2 से निर्वाचित हुई थी । साधना सिंह 2000 में भाजपा की जिलामंत्री और 2002- 2008 तक महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष भी रह चुकी हैं । साधना सिंह को 2007 में जिला उद्योग व्यापार मंडल की जिलाध्यक्ष के तौर पर चुना गया। साधना सिंह को 2011 से 2014 तक दोबारा भाजपा का जिला उपाध्यक्ष बनाया गया । 2014 में यूपी बीजेपी ने उन्हें प्रदेश कार्यसमिति सदस्य के तौर पर भी चुना , साधना सिंह को 2016 में दोबारा प्रदेश कार्यसमिती सदस्य के तौर पर चुना गया। 2017 में पहली बार मुगलसराय से बीजेपी की विधायक चुनीं गई ।

 

विवादों से रहा है पुराना नाता:

यूपी में 2017 के विधानसभा चुनाव के समय एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें साधना सिंह सपाइयों को कथित रूप से गालियां देती नजर आ रही हैं। वीडियो को लेकर चर्चा थी कि यह वोटिंग वाले दिन का था।


साधना सिंह ने विधायक बनने के छह महीने बाद ही मुगलसराय रेलवे कॉलोनी का निरीक्षण किया। इस दौरान गंदगी देखकर वह बिफर पड़ी और सफाई रखने को लेकर डीआरएम को चेतावनी दे डाली। वहीं उनके समर्थक डीआरएम से भिड़ गए।


समीक्षा बैठक के दौरान विधायक साधना सिंह यूपी सरकार में राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) जयप्रकाश निषाद पर भड़कते हुए कह दिया था कि प्रभारी मंत्री जी, आज के बाद आपकी बैठक में नहीं आऊंगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/know-about-sadhana-singh-who-give-controversial-statement-on-mayawati-4007995/

Lunar Eclipse 2019: चंद्र ग्रहण पर करे ये टोटके, बन जाएंगे करोड़पति


वाराणसी. 2019 का पहला चंद्र ग्रहण 21 जनवरी को लगेगा। जिसका सूतक 20 जनवरी यानि आज से लग चुका है। मान्यता है कि चंद्र ग्रहण के दौरान टोटके करने पर धन लाभ होता है। तो आइए जानते हैं ऐसा कौन टोटका आपके लिए असरदार साबित होगा।

चंद्र ग्रहण पर करें ये टोटके


1. ग्रहण के बाद काली गाय के घी का दीपक बनाकर अखंड ज्योत जलानी चाहिए।
2. चंद्र ग्रहण की रात में एक पीला नींबू लें। अगर बिना किसी दाग धब्बे का नींबू मिल जाए तो और भी बेहतर होगा। नींबू लेकर अपने पूजाघर के सामने बैठ जाएं और शुद्ध देसी घी का दीपक जलाएं। अगर घर में देसी घी ना हो तो आप तेल का उपयोग भी कर सकते हैं। दीपक जलाने के बाद नींबू को पूजाघर में मां लक्ष्मी के पास रख दीजिए और फिर आंखें बंद करके “ॐ श्रीं श्रियै नम:” मंत्र का 21 बार जाप करना है। इस मंत्र के जाप के बाद पूजाघर में रखे नींबू को दाएं हाथ से उठाएं और फिर ‘ह्यीं’ अक्षर को नींबू पर लाल कुमकुम या सिंदूर से लिखें। ऐसा लिखने के बाद अपनी सारी परेशानियां नींबू को हाथ में रखकर बोल दें। इसके बाद छत या आंगन में जाकर इस नींबू को रख दें और फिर अगली सुबह नींबू को उठाकर किसी बहते पानी में प्रवाहित कर दें। यदि बहता पानी ना मिले तो किसी पीपल के पेड़ के नीचे इसे दबा दें। इस उपाय को करने के बाद आपके घर से सारी नकारात्मक चीजें बाहर चली जाएंगी।

3. जिस दिन चंद्र ग्रहण लगना है उसी दिन बाजार से एक बंद ताला ले आएं। याद रखें दुकानदार भी ताला खोलकर ना दिखाए। बंद ताला ही घर लाएं। एक सफेद कागज में एक चम्मच काला तिल, एक चम्मच काली उड़द की दाल और एक गुलाब का फूल डालकर अलग-अलग तीन पुड़ियां बना लें। तीनों पुड़ियों को ताले के साथ बांध दें। चंद्र ग्रहण की रात इस ताले को छत पर रखें। ग्रहण खत्म होने के बाद अगले दिन स्नान और पूजा कर तीनों पुड़ियों और ताले को पूजाघर में रख दें और भगवान से प्रार्थना करें। इसके बाद शनिवार से पहले तीनों पुड़ियों को अपने और घर के बाकी सदस्यों के तकिए के नीचे रखकर सोएं। बंद ताले को घर के कमाने वाले सदस्य के तकिए के नीचे रखें। बिना किसी को बताए शनिवार के दिन शनि मंदिर जाकर ताला वहां रख दें और पुड़ियों को वीरान जमीन में दबा दें। जिस दिन मंदिर में कोई ताला खोलने का प्रयास करेगा उस दिन से आपकी किस्मत चमक जाएगी।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/do-totke-during-chandra-grahan-2019-4007500/

प्रवासी शहर जगमग पर सिटी की प्रमुख सड़कें वैसे ही बदहाल, मुख्य सचिव का आदेश भी दरकिनार


वाराणसी. यह सही है कि 15वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन के लिए ट्रेड फेसिलिटी सेंटर और प्रवासी शहर चमचमा गया है। दोनों ही स्थल दर्शनीय हो गए हैं। एक-एक चीज दुरुस्त है। सड़कें भले ही अस्थाई हों पर हैं दुरुस्त। प्रवासी शहर जिसे टेंट सिटी कहा जा रहा उसका तो पूछना ही क्या। पर शहर की कुछ सड़कें आज भी बदहाल हैं। उनके सूरतेहाल में तनिक भी तब्दीली नहीं आई है। ये हाल तब है जब लगभग एक पखवारा पहले प्रवासी भारतीय सम्मेलन की तैयारी की समीक्षा करने आए मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय ने स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों और कार्यदायी संस्थाओं को ताकीद किया था कि 21 जनवरी से पहले सारी सड़कें दुरुस्त हो जानी चाहिए। लेकिन कार्यदायी संस्थाओं पर उसका रत्ती भर भी असर नहीं हुआ।

काम जरूर हुए हैं, इस दौरान इस शहर में। सड़कों को दुरुस्त भी किया गया है। टूटी-फूटी सड़कों के गड्ढों को पाट कर पेंटिंग की गई है। रोड डिवाइडरों की रंगाई पोताई का काम बदस्तूर जारी है। इसके लिए दिन रात एक कर युद्ध स्तर पर काम चल रहा है। कैंट से लंका तक की सड़क को नीट एंड क्लीन कर दिया गया है। शहर के बीच की सड़कें भी चमचमा रही हैं। खिड़किया घाट से जुड़ी जीटी रोड भी लकदक हो गई है। तेलियाबाग वाली सड़कें भी चकाचक हो गई हैं। सारनाथ इलाके में भी सब कुछ दुरुस्त हैं। हुकुलगंज मार्ग हो या चौकाघाट इलाका हो वहां से गुजरने पर दिल बाग-बाग हो जाएगा।

लेकिन इसी शहर में मखमल में टाट का पैबंद टाइप की दो-तीन सड़कें जिनमें एक मंडुवाडीह से रथयात्रा और महमूरगंज से सिगरा मार्ग है तो दूसरा लहुराबीर से गिरिजाघर चौराहा तक की सड़क है। गिरिजाघर से भेलूपुर की सड़क का भी कमोबेश यही हाल है। बता दें कि सिगरा से महमूरगंज की सड़क पर पिछले पांच साल से बन रही है। जाने कितनी बार इसकी खोदाई हो चुकी है। सड़क के नीचे गंगा एक्शन प्लान के तहत सीवर लाइन की पाइप लाइन बिछाई जा रही है। ये इस स्मार्ट काशी का सबसे बदनुमा धब्बा है। इस सड़क को दुरुस्त करने के लिए स्थानीय स्तर पर कमिश्रर दीपक अग्रवाल ही नहीं उनके पूर्ववर्ती नितिन रमेश गोकर्ण, डीएम सुरेंद्र सिंह से लेकर पूर्ववर्ती योगेश्वर राम मिश्र तक कई बार चेतावनी दे चुके हैं। अब तो प्रदेश के मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय तक चेता गए, लेकिन कार्यदायी संस्था की सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ा। बीती रात तक 12 बजे तक इस सड़क का हाल यह था कि सिगरा से डब्ल्यूएच स्मिथ स्कूल से निकलने वाले संपर्क मार्ग तक समतलीकरण का काम चल रहा था। लेकिन उसके आगे गहरा गड्ढा नजर आया। वहां से गुजरना यानी जान जोखिम में डालना है। तनिक भी असावधानी हुई कि दुर्घटना तय है। उसके आगे आकाशवाणी तक की सड़क का भी वही हाल है।

ठीक इसी तरह से रथयात्रा से मंडुवाडीह तक की सड़क का हाल है। आकाशवाणी से मंडुवाडीह तक के रास्ते में जगह-जगह कई गड्ढे हैं तो रथयात्रा से आकाशवाणी के बीच भी एक लेन में चलना मुश्किल भरा है। यही वो मार्ग है जिससे मंडुवाडीह स्टेशन से यात्री शहर में आएंगे। गंगा घाट जाने का भी यही रास्ता है। लेकिन इस राह पर हिचकोले खाते ही गुजर सकेंगे यात्री। वो चाहे जो यात्री हों।

उधर लहुराबीर से गिरिजाघर के बीच का हाल भी बुरा है। यहां शाही नाले को दुरुस्त किया जा रहा है। यह काम भी पांच साल से चल रहा है। जलनिग के अधीन चल रहा है यहां काम। शाही नाले की सफाई और मरम्मत का काम चल रहा है, जिसके लिए मोटी-मोटी पाइप लाइन सड़क के ऊपर ही बिछा दी गई हैं। ऐन गिरिजाघर चौराहे को घेर कर काम चल रहा है। ये ऐसे कुछ प्वाइंट्स हैं जो मखमल में टाट का पैबंद सरीखा अंदाज बता रहे हैं।

 

राहगीर और क्षेत्रीय नागरिक अनिल चौरसिया, सतीश मुखरेजा, कनक तुलस्यान आदि ने पत्रिका से बातचीत में कहा कि इससे बड़ा मौका और कब आएगा, देश दुनिया के लोगों का जुटान हो रहा है इस काशी में तब भी ये सड़कें नहीं बन पाईं। अरे ये जो लोग आ रहे हैं क्या सिर्फ टेंट सिटी और ट्रेड फेसिलिटी सेंटर में ही रहेंगे। कुछ तो होंगे जो शहर घूमने जाएंगे। कुछ ने तो कहा भी है कि वो गलियों को जानने भी निकलेंगे। उन्हें क्या दिखाएंगे। वो क्या सोचेंगे। हद है इस व्यवस्था की।

बदहाल सड़कबदहाल सड़कबदहाल सड़क

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/migrant-city-flaming-but-major-roads-in-city-are-bad-4006818/

Pravasi Bharatiya Divas 2019-प्रवासी सम्मेलन के लिए दिन में नहीं चलेंगे मालवाहक वाहन, आटो रिक्शा व ई-रिक्शा के लिए बनाया गया नियम


वाराणसी. तीन दिवसीय प्रवासी सम्मेलन व पौष पूर्णिमा के दौरान दिन में मालवाहक वाहन नहीं चल पायेंगे। आटो रिक्शा व ई-रिक्शा के रजिस्ट्रेशन नम्बर के आधार पर उन्हें दो शिफ्ट में चलाने की अनुमति दी गयी है। एसपी ट्रैफिक सुरेश चन्द्र रावत ने सड़क को जाम से मुक्त करने के लिए नया निर्देश जारी किया है। रविवार से ही निर्देश का अनुपालन शुरू हो गया है।
यह भी पढ़े:-गंगा में चरखा चलाते महात्मा गांधी से लेकर इसरो की उपलब्धियों तक का नजारा

तीन दिवसीय प्रवासी सम्मेलन में सड़क जाम बड़ी समस्या बन सकती है जिसको देखते हुए यातायात विभाग ने सभी संभव उपाय करने शुरू कर दिये हैं। एसपी ट्रैफिक सुरेश चन्द्र रावत के नये निर्देश के अनुसार 20 जनवरी से सुबह 8 से रात्रि 9 बजे तक समस्त प्रकार के मालवाहक वाहन नहीं चलेंगे। निर्धारित समय के बाद रात्रि में ही मालवाहक वाहन लोडिंग व अनलोडिंग कर सकेंगे। एसपी ट्रैफिक का निर्देश छोटे से लेकर बड़े सभी मालवाहक वाहन पर लागू होगा। सड़क पर आटो रिक्शा व ई-रिक्शा को नियंत्रित करने के लिए उन्हें दो शिफ्ट में चलाया जायेगा। पहली शिफ्ट के आटो व ई-रिक्शा सुबह आठ से रात्रि में 9 बजे तक चलेंगे। इसके बाद दूसरी शिफ्ट आरंभ होगी। पहली शिफ्ट में सिटी परमिट के डीटी, ईटी, एफटी व जीटी रजिस्ट्रेशन नम्बर वाले आटो रिक्शा को चलाने की छूट दी गयी है जबकि दूसरी शिफ्ट में बची हुई अन्य सीरीज के आटो रिक्शा चलेंगे। पहली शिफ्ट में ई-रिक्शा के रजिस्ट्रेशन नम्बर एचटी व जीटी को चलाने की अनुमति है अन्य सीरीज के ई-रिक्शा दूसरी शिफ्ट में चलाये जायेंगे।
यह भी पढ़े:-प्रवासियों की आगवानी के लिए पीएम मोदी के बाद आयेंगे राष्ट्रपति

कुंभ का पलट प्रवाह व शादी की भीड़ बन सकती है बड़ी समस्या
जिला प्रशासन चाहता है कि प्रवासी सम्मेलन को दौरान शहर को सड़क जाम से मुक्त रखा जाये। शहर में लगन का जोर है और बारात के चलते भी सड़क जाम होता है इसके अतिरिक्त प्रयागराज में कुंभ स्नान करके श्रद्धालुओं को काशी में गंगा स्नान करने आने का सिलसिला शुरू हो गया है, जिससे भी सड़क पर भीड़ बढ़ गयी है ऐसे में यातायात विभाग तीन दिनों के लिए सड़क को जाम मुक्त करने की योजना को लागू करने में जुट गया है।
यह भी पढ़े:-प्रवासियों को मिली त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था, बदल जायेगा थानो व पुलिस चौकी का कलेवर


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/traffic-rule-in-pravasi-bharatiya-divas-2019-in-banaras-4006640/

Pravasi Bharatiya Sammelan- मेहमानों की खातिरदारी को काशी तैयार, पूरा शहर फसाड और हेरिटेज लाइट से जगमग


वाराणसी. प्रवासी भारतीय सम्मेलन शुरू होने में महज कुछ घंटे रह गए हैं। पूरा शहर चमचमा रहा है। खास तौर पर रात में। घाट हों या सड़कें हर तरफ लाइटिंग का मनोरम दृश्य हृदय को गुदगुदाने लगा है। चप्पे-चप्पे पर पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ की होर्डिंग्स लगी हैं। खास तौर पर डिवाइडर्स पर। वो भी हेरिटेज लाइट्स के नीचे। चौराहों पर ग्लोसाइन से स्वागत किया जा रहा है। पर्यटन विभाग ने मेहमानों की खातिरदारी में कोई कोर कसर नहीं रख छोड़ी है। एक तरह से पूरी काशी को इस प्रवासी भारतीय सम्मेलन के लिए दुल्हन की तरह सजा दिया गया है।

हर-हर सड़क लकदक, हर चौराहा जगमग। फसाड लाइटों से गंगा घाट भी दमदमा रहे हैं। गंगा की इठलाती लहरों पर पड़ रही फसाड लाइट सकी रोशनी तो धरती पर सचमुच में स्वर्ग की अनुभूति करा रही है। इठलाती बलखाती लहरें जगमग रोशनी में पूरी तरह से नहाई हुई नजर आ रही हैं। वहीं सड़कों की बात करें तो कैंट से लंका, राजघाट से डीएलडब्ल्यू तक पूरा शहर दुधिया रोशनी में नहाया हुआ है।
उधर ऐड़े में प्रवासी शहर पूरी तरह से तैयार हो चुका है। इस शहर की सड़कें हो यां कॉटेज सभी जगमग कर रहे हैं। अब तक 261 मेहमान आ चुके हैं। उन्हें प्रवासी शहर या उनके मेजबानों तक पहुंचा दिया गया है। प्रवासी शहर के हर कॉटेज में पंच सितारा होटल सरीखी सुविधाएं मुहैया करा दी गई हैं। टेंट सिटी में बने कॉटेजों में मेहमानों को ‘वेलकम बुक दी जा रही है। इस बुक में बनारस के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल से लेकर टेंट सिटी के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। प्रशासन की ओर से लगभग पांच हजार वेलकम बुक मंगवाई गई हैं। इसके साथ ही अंग्रेजी की पत्रिकाएं भी मेहमानों को दी गई हैं।ऐढ़े स्थित टेंट सिटी में मेहमानों को कोई समस्या न हो इसके लिये खास इंतजाम किये गये हैं।

कॉटेज में पहुंचते ही मेहमानों को एक किट दी जा रही है। इसमें वेलकम बुक, अंग्रेजी पत्रिकाएं, वेलकम पेज और प्रवासी सम्मेलन के महत्व के बारे में बताया गया है। वहीं टेंट सिटी, बड़ालालपुर स्थित कार्यक्रम स्थल और टीएफसी (ट्रेड फैसिलिटी सेंटर) का एक नक्शा दिया गया है। इससे किस स्थान पर क्या है असानी से जानकारी मिल सकेगी। वेलकम बुक में एक पेज पर टेंट सिटी व बड़ालालपुर में मेहमानों को मिलने वाली सुविधाओं को माध्यम से बताया गया है। इसमें ई रिक्शा, हॉस्पिटल, एंबुलेंस से लेकर अन्य कई सामान्य सुविधाओं की जानकारी दी है। इसके अलावा वेलकम पेज पर श्री काशी विश्वनाथ मंदिर, गंगा आरती, सारनाथ स्थित बौद्ध स्थल, घाट, रामनगर का किला, संकट मोचन मंदिर और आसपास के जिले के प्राकृतिक स्थल की जानकारी दी गई है।


अब तक 261 मेहमान आ चुके हैं। इनमें मलयेशिया से 70 और दुबई से 52 प्रवासी हैं। इनके अलावा यूएसए, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका और ओमान से 143 मेहमान पहुंच चुके हैं। रविवार की शाम 4.30 बजे तक हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पहुंच जाएंगे। इस दौरान वे विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सहित विदेशों में रहने वाले भारतीय मूल के उद्योगपतियों से भी मुलाकात करेंगे।

हरियाणा के मुख्यमंत्री के बनारस दौरे के बारे में जानकारी देते हुए सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल 20 जनवरी को दोपहर बाद दो दिवसीय दौरे पर बनारस आ रहे हैं। वे शाम को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात कर विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेंगे। इसके बाद मुख्यमंत्री इंग्लैंड में रहने वाले भारतीय मूल के राज लुंबा व वीणा लुंबा, पोलैंड में रहने वाले जे राव मधुकरी, कुवैत में रहने वाले राजपाल त्यागी, कनाडा में रहने वाले मुकुंद भिखूभाई पुरोहित व ओमान में रहने वाले राजमल परख से भी मिलेंगे।

उन्होंने बताया कि 21 जनवरी को हरियाणा के मुख्यमंत्री प्रातः 9:30 बजे दीनदयाल हस्तकला संकुल परिसर में युवा प्रवासी भारतीय दिवस का शुभारंभ करेंगे और नॉर्वे के सांसद हिमांशु गुलाटी व न्यूजीलैंड के सांसद कंवलजीत सिंह बक्शी इस अवसर पर विशेष अतिथि के तौर पर उपस्थित रहेंगे। श्री मनोहर लाल भारतीय प्रवासी दिवस परिसर में बनाए गए हरियाणा स्टेट पवेलियन में प्रदर्शनी का अवलोकन भी करेंगे और उसके बाद विभिन्न देशों से आए भारतीय मूल के उद्योगपतियों से भी प्रवासी भारतीय दिवस परिसर में ही मुलाकात करेंगे। उन्होंने बताया कि 21 जनवरी को शाम के समय हरियाणा के मुख्यमंत्री दुबई के लुलु ग्रुप के चेयरमैन युसूफ अली, कैनेडा के नेपोलितांट पिज्जा लिमिटेड के चेयरमैन मुकुंद भिखूभाई पुरोहित और अमेरिका से नंदनी टंडन से भी मुलाकात करेंगे।सूचना प्रसारण मंत्री के भी रविवार को काशी पहुंचने की सूचना है।

 

Pravasi Bharatiya Sammelan-Pravasi Bharatiya Sammelan-Pravasi Bharatiya Sammelan-

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/kashi-ready-to-welcome-pravasi-bharatiya-guests-4006485/

Lunar Eclipse 2019: 21 जनवरी को लगेगा चंद्र ग्रहण, जानिए इन राशियों पर क्या होगा असर


वाराणसी. 21 जनवरी को यानि कल 2019 का पहला चंद्र ग्रहण लगेगा। इस खग्रास चंद्र ग्रहण पौष शुक्ल पक्ष पूर्णिमा 1 जनवरी की रात को लगेगा और सुबह तक रहेगा। यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। इसलिए इसका कोई धार्मिक महत्व नहीं होगा। भारतीय वैदिक ज्योतिष में ग्रहण का बहुत ज्यादा महत्व है। इसका सीधा असर राशियों पर भी पड़ेगा। जानें विभिन्न राशियों पर क्या होगा इसका प्रभाव।

जानिए क्या होगा इन राशियों का असर

मेष राशि- भाग्य वृद्धि, पराक्रम, वृद्धि, खर्च वृद्धि, पेशाब की समस्या, वाहन की क्षति।
वृष राशि- पेट की समस्या, परिश्रम में अवरोध, पराक्रम व धन वृद्धि, भाई से कष्ट।
मिथुन राशि- वाणी में तीव्रता, आन्तरिक शत्रु एवं रोग, सीने की तकलीफ, दाम्पत्य से कष्ट।
कर्क राशि- कन्धे एवं कमर का दर्द, विद्या वृद्धि, मनोबल कमजोर भाग्य वृद्धि, मन अशांत।
सिंह राशि- गृह एवं वाहन सुख वृद्धि,बुद्धि एवं धन वृद्धि, वाणी में तीव्रता, पैर में चोट या दर्द।
कन्या राशि- सीने की तकलीफ, आंतरिक डर, अध्ययन में अवरोध, दाम्पत्य में तनाव
आय में वृद्धि।
तुला राशि - धन, पराक्रम और सीने की तकलीफ में वृद्धि, शत्रु विजय परिश्रम में अवरोध।
वृश्चिक राशि- धन, बुद्धि एवं विद्या वृद्धि , वाणी में तीव्रता,पराक्रम में वृद्धि, भाग्य वृद्धि।
धनु राशि- दाम्पत्य में तनाव या अवरोध, पेट व पैर की समस्या, क्रोध में वृद्धि, मानसिक पीड़ा, आंतरिक शत्रुओं में वृद्धि।
मकर राशि - दाम्पत्य में तनाव, खर्च वृद्धि, मन अशान्त, पैर में कष्ट, कन्धे या कमर के दर्द।
कुम्भ राशि - आय में वृद्धि, सम्मान में वृद्धि, विद्याध्ययन में अवरोध, वाणी तीव्र, रोग एवं शत्रु का समन।
मीन राशि - क्रोध में वृद्धि, सम्मान एवं परिश्रम में अवरोध, आय में वृद्धि, मन अशांत।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/lunar-eclipse-2019-impact-according-to-zodiac-signs-4006202/

काशी में संपूर्ण एम्स की मांग को लेकर BHU के डॉक्टर आमरण अनशन पर, आम आदमी पार्टी ने दिया समर्थन


वाराणसी. एक तरफ जहां बनारस हिंदू विश्वविद्यलाय के सरसुदर लाल अस्पताल को एम्स का दर्जा देने के अनुबंध के बाद केंद्र सरकार ने 616 करोड़ रुपये की धनराशि अवमुक्त कर दी है। आईएमएस बीएचयू के निदेशक व रेक्टर प्रो वीके शुक्ला तथा सरसुदर लाल चिकित्सालय के एमएस प्रो वीएन मिश्रा मौजूदा अस्पताल में ही एम्स जैसी सुविधा प्रदान करने में जुटे हैं, वहीं इसी अस्पताल के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ ओमशंकर अपनी पांच साल पुरानी मांग की पूर्ति के लिए पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत रविवार को बीएचयू के सिंह द्वार पर आमरण अनशन पर बैठ गए। उनकी मांग बीएचयू से अलग स्वतंत्र व संपूर्ण एम्स की है।

देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया की निगाह इस वक्त सोमवार से काशी में शुरू हो रहे 15वें प्रवासी भारीय सम्मेलन पर है। केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस सपने को साकार करने में जुटा है। वहीं इस खास मौके की पूर्व संध्या पर एक डॉक्टर उत्तर भारत के लाखों-करोड़ों मरीजों के लिए काशी में एम्स की मांग को लेकर अनशन पर बैठ गया। ऐसा नहीं कि डॉ शंकर अकेले हैं इस मुद्दे पर बल्कि उनके साथ पूर्वांचल के तमाम लोग है जो उनकी इस माग से पूरी तरह से सहमत है।
अगर ये कहें कि पूर्वांचल के स्वास्थ्य मुद्दों को लेकर एक बार फिर वाराणसी व पूर्वांचल के नागरिक सरकार के लिए चुनौती बनकर सामने आ रहे है तो गलत नहीं होगा। प्रवासी सम्मेलन से ठीक एक दिन पहले प्रख्यात कार्डियोलॉजिस्ट डॉ ओम शंकर के नेतृत्व में वाराणसी में एम्स की मांग को लेकर काशीवासी आमरण अनशन पर बैठ गए हैं।

इस मामले पर डॉ ओमशंकर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य और शिक्षा दो मूलभूत मसले है जिसको जो भी सरकारें आईं नजर अंदाज करती गईं ।सम्पूर्ण पूर्वांचल में स्वास्थ्य और शिक्षा की हालत खस्ताहाल है। उसके बावजूद भी सरकारें वादे करती है लेकिन निभाती नही है। बनारस की जनता के स्वास्थ्य मसलो को ध्यान में रखते हुए है कि यहां स्वास्थ्य सुविधा के लिए एम्स की जरूरत है। लेकिन सरकार एम्स नही बल्कि एम्स जैसा कहकर पल्ला झाड़ लेती है। यह बनारस की जनता के साथ नाइंसाफी है। यहां सम्पूर्ण एम्स की जरूरत है,ताकि यहां कि जनता स्वास्थ्य लाभ ले सके।

जनहित के मुद्दे सबसे ऊपर :
बीएचयू के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ ओमशंकर ने कहा कि कुछ लोग यह आरोप लगा रहे है कि एम्स जैसा तो मिल गया अब एम्स क्यों ? आप राजनीतिकरण कर रहे है, तो मेरा जवाब है कि जनता सर्वोपरी है मेरा किसी राजनीतिक दल से कोई लेना देना नही है। यहां की स्वास्थ्य व्यवस्था सुनिश्चित कराना हर व्यक्ति की नैतिक जिम्मेदारी है और इसी कड़ी में मेरा यह अगला कदम है जिसका समर्थन गांव गिराव सहित सम्पूर्ण शहरी क्षेत्रों जनप्रतिनिधियों का भी है और यह अनशन तब तक चलता रहेगा जबतक सम्पूर्ण एम्स बनारस को मिल नही जाता।

बता दें कि इससे पहले भी डॉ शंकर इस मुद्दे पर आंदोलन चला चुके हैं। तब बीएचयू के कई डॉक्टरों का उन्हें समर्थन भी मिला था। लेकिन तत्कालीन कुलपति डॉ लालजी सिंह ने उन्हें इसी मसले पर निलंबित भी किया था। निलंबन अवधि में भी वह झुके नहीं। उस दौरान उन पर दबाव भी डाला गया। प्रलोभन भी दिया गया। डराया-धमकाया भी गया। पर वह समूचे उत्तर भारत के लोगों के स्वास्थ्य के लिए वचनबद्ध हैं।

 

डॉ ओमशंकर के अभियान को आम आदमी पार्टी का समर्थन

वाराणसी में पूर्वांचल समेत आस- पड़ोस के लगभग चार राज्यों के भी आम मरीजों के बढ़ते दबाव को देखते हुए पूर्व की भांति आज भी "एम्स" की मांग का समर्थन करते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार प्रति हजार पर एक डॉक्टर होना चाहिये, परंतु भारत में 11082 व्यक्ति पर एक डॉक्टर हैं, वहीं उत्तर-प्रदेश, बिहार में लगभग 27000 लोगों पर एक डॉक्टर हैं, यह आंकड़ा बेहद चिंतनीय हैं।
बीएचयू के सरसुन्दर लाल या ट्रामा सेंटर पर चाहे जितना सुविधा या धन खर्च कर दिया जाये, वह एम्स नहीं बन सकता जिसके अनेक कारण हैं , एम्स होने पर गरीबों, आम आदमी को भी रियायती दर पर कैंसर, किडनी, लिवर, हृदय ट्रांसप्लांट इत्यादि रोगों का इलाज किया जा सकता हैं।


वाराणसी भगवान धन्वंतरि की धरती रही हैं, जिन्होंने भगवान शंकर का भी इलाज किया था। वाराणसी प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र हैं। जब गोरखपुर, पटना में एम्स हो सकता हैं तो वाराणसी में क्यों नहीं।

आज "एम्स" के मांग को लेकर डॉ. ओमशंकर जी के आमरण अनशन के समर्थन में बीएचयू के सिंह द्वार पर आम आदमी पार्टी के पूर्वांचल प्रान्त अध्यक्ष संजीव सिंह जी नेतृत्व में समर्थन पत्र देकर धरना दिया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष मुकेश सिंह,मनीष गुप्ता, राहुल सिंह,अर्चना श्रीवास्तव, प्रेमशीला पटेल,सरोज शर्मा,अखिलेश पांडेय,प्रमोद श्रीवास्तव, मधु भारती, सागर यादव, जयप्रकाश सिंह आदि सम्मिलित थें।

 


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/bhu-doctor-om-shankar-fast-unto-death-on-demand-of-full-aiims-in-kashi-4006164/

बसपा सुप्रीमो मायावती ने इसलिए 38 सीटों पर खेला है दांव, ममता बनर्जी के लिए बजी खतरे की घंटी


वाराणसी. लोकसभा चुनाव 2019 में बसपा सुप्रीमो मायावती ने खास रणनीति के तहत ही 38 सीटों पर दांव खेला है। बसपा की चुनावी चाल से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को तगड़ा झटका लग सकता है। दोनों ही दल जानते हैं कि यदि उन्हें अधिक सीट मिलती है तो वह नयी सरकार में किंग मेकर हो सकते हैं।
यह भी पढ़े:-मुलायम सिंह यादव का टूट सकता है सबसे बड़ा सपना, मायावती ने पलटी बाजी


पीएम नरेन्द्र मोदी व अमित शाह की जोड़ी को चुनावी पटखनी देने के लिए विपक्ष के बड़े दल एकजुट हो चुके हैं। यूपी की बात की जाये तो यहां पर मायावती व अखिलेश यादव में गठबंधन हो गया है जबकि राहुल गांधी की कांग्रेस को इससे अलग रखा गया है। पश्चिम बंगाल की स्थिति थोड़ी अलग है वहां पर गठबंधन को लेकर खुलासा नहीं हुआ है फिर भी यह तय हो चुका है कि वहां पर भी बीजेपी के विरोधी दलों के बीच गठबंधन होगा। बीजेपी के विरोधी दलों ने अभी तक पीएम प्रत्याशी के नाम पर सहमति नहीं बनायी है ऐसे में सभी दल चाहते हैं कि उनकी पार्टी को अधिक से अधिक सीट मिले। लोकसभा चुनाव २०१९ में महागठबंधन जीतता है या फिर किसी भी गठबंधन को पूर्ण बहुमत नहीं मिलता है तो जिस क्षेत्रीय पार्टी के पास सबसे अधिक सीट होगी। वही किंग मेकर होगा। ऐसा में सभी दलों ने खुद को किंग मेकर बनाने की खास रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है।
यह भी पढ़े:-शिवपाल ने मुलायम सिंह यादव को दिया बड़ा गिफ्ट, कर दी यह घोषणा

बसपा सुप्रीमो मायावती के पीएम पद की रेस में बाधा बन सकती है ममता बनर्जी
बसपा सुप्रीमो मायावती ने यूपी की 80 में से 38 सीटों पर सपा के समर्थन के साथ अपने प्रत्याशी उतराने का ऐलान कर दिया है। बसपा सुप्रीमो जानती है कि उनका चुनावी दांव सही साबित हुआ और बसपा को 30 से अधिक सीट मिल जाती है तो वह ममता बनर्जी से आगे निकल जायेगी। मायावती व ममता बनर्जी दो ऐसी नेता है, जिन्हें विपक्ष आसानी से पीएम बना सकता है यह तभी संभव होगा जब बसपा या फिर तुणमुल कांग्रेस को अधिक से अधिक सीट मिले। यूपी में कमजोर हो चुकी बसपा ने सपा से गठबंधन करके अपने लिए बड़ा वोट बैंक तैयार कर लिया है जबकि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की स्थिति पहले से कमजोर हुई है।
यह भी पढ़े:-बीजेपी के इतने सांसद व विधायक ने की पाला बदलने की तैयारी, सपा के टिकट से लड़ सकते हैं चुनाव

ममता बनर्जी के लिए आसान नहीं होगा 30 से अधिक लोकसभा सीट जीतना
ममता बनर्जी ने लोकसभा चुनाव2014 में पीएम नरेन्द्र मोदी की लहर को खत्म करते हुए कुल 42 में से 34 सीटों पर चुनाव जीता था जबकि लेफ्ट पार्टी व बीजेपी को 2-2 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा था। कांग्रेस ने चार लोकसभा सीट जीती थी। इस बार ममता बनर्जी के सामने पुराना जादू दोहराने की बड़ी चुनौती है यदि ममता बनर्जी की सीट बसपा से कम हो जाती है तो मायावती के लिए पीएम रेस में आगे निकलना आसान हो जायेगा। बसपा ने इसी समीकरण को देखते हुए 38 सीटों पर चुनाव लडऩे की तैयारी की है। साथ ही कोलकाता में सीएम ममता बनर्जी के सम्मेलन में मायावती ने खुद भाग नहीं लिया था लेकिन उनके खास सतीश मिश्रा इस सम्मेलन में गये थे। मायावती ने खुद नहीं जाकर अपने को भीड़ से अलग किया था और सतीश मिश्रा को भेज कर भविष्य में जरुरत पडऩे पर समर्थन लेने की उम्मीदों को जिंदा रखा है।
यह भी पढ़े:-शिवपाल ने मुलायम सिंह यादव को दिया बड़ा गिफ्ट, कर दी यह घोषणा


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/mayawati-can-take-lead-against-mamata-banerjee-in-election-2019-4006143/

गंगा में चरखा चलाते महात्मा गांधी से लेकर इसरो की उपलब्धियों तक का नजारा


वाराणसी. प्रवासी सम्मेलन के लिए काशी के गंगा घाट सज कर तैयार हो गये हैं। गंगा में बनाये गये प्लेटफार्म पर चरखा चलाते महात्मा गांधी से लेकर इसरो की उपलब्धियों का नजारा देखने को मिल जायेगा। जो प्रवासियों के मन में अपने देश की यादों को और ताजा कर देगा। तीन दिवसीय प्रवासी सम्मेलन के लिए एनआरआई का आगमन होने लगा है। बीती देर रात 300 प्रवासी काशी में पहुंचे हैं।
यह भी पढ़े:-प्रवासियों की आगवानी के लिए पीएम मोदी के बाद आयेंगे राष्ट्रपति

पीएम नरेन्द्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट प्रवासी भारतीय सम्मेलन के लिए शहर तैयार हो चुका है। रविवार से ही सम्मेलन की गतिविधिया शुरू हो जायेगी। भारत सरकार ने प्रवासियों को देश की उपलब्धियों से भी अवगत कराने की तैयारी की है। दशाश्वमेध घाट पर पानी में बनाये गये स्थिर प्लेटफार्म पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी चरखा चलाते हुए दिख रहे हैं जबकि उसके बगल में विकसित होते भारत की तस्वीर दिखायी गयी है। यातायात के अत्याधुनिक संसाधान के साथ इसरो का मंगल यान का भी मॉडल दिखाया गया है जिसे देखने के बाद हर प्रवासी को देश की उपलब्धियों पर गर्व होगा।
यह भी पढ़े:-बसपा से गठबंधन होते ही इस बाहुबली को मिला अखिलेश यादव का साथ

गंगा घाट को लेकर प्रवासियों में सबसे अधिक क्रेज
प्रवासियों में गंगा घाट को लेकर सबसे अधिक क्रेज है। प्रवासियों को तीन मुख्य जगह पर सुरक्षा व्यवस्था के बीच भ्रमण कराया जायेगा। गंगा घाट, सारनाथ व बीएचयू इस सूची में शामिल है इसके चलते गंगा घाट व सारनाथ में प्रवासियों के लिए खास व्यवस्था की गयी है। बीएचयू में पहले से ही सारे संसाधन है इसलिए वहां की व्यवस्था में अधिक बदलाव नहीं करना पड़ा है।
यह भी पढ़े:-गठबंधन करके भी अखिलेश नहीं निकल पाये मुलायम से आगे, मायावती ने कांशीराम से बड़ी लकीर खींची


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/ganga-ghat-show-gandhi-and-mangal-yaan-in-pravasi-bharatiya-divas-4005695/

BANK CLOSE: जल्द निपटा लें अपना सारा काम, इतने दिन तक बंद रहेगा बैंक


वाराणसी. जनवरी में अभी तक वैसे ही कई दिन तक बैंक बंद रह चुका है अब फिर एक नहीं दो दिन के लिए बैंक बंद रहेगा। जिससे आपको एक बार फिर दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। तो ऐसा न हो इसके लिए आपके पास अभी पांच दिन हैं अपने बैंक से रिलेटेड काम पूरे कर लें। ताकि आपको किसी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े। आइए जानते हैं किस-किस दिन और क्यों बंद रहेगा बैंक।


26 और 27 जनवरी को बंद रहेगा बैंक
26 जनवरी को गणतंत्र दिवस की छुट्टी होने के कारण पूरे देश में बैंक बंद रहेंगे। इस दिन चौंथा शनिवार भी है। गणतंत्र दिवस भारत के तीन महत्वपूर्ण राष्ट्रीय पर्वों में से एक है। इस दिन को पूरे देश भर में काफी जोश और सम्मान के साथ मनाया जाता है। यह वह दिन है जब भारत में गणतंत्र और संविधान की स्थापना हुई थी। यही कारण है कि इस दिन को हमारे देश के आत्मगौरव तथा सम्मान से भी जोड़ा जाता है और इसी सम्मान में भारत में सभी बैंक बंद रहेंगे। 27 जनवरी 2019 को रविवार है और हर रविवार की तरह इस दिन भी बैंक की छुट्टी रहेगी। इस कारण लगातार दो दिनों तक बैंक बंद रहेंगे।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/bank-closed-for-two-days-26-and-27-january-2019-in-india-4005522/

पूर्वांचल के कई जिलों में छा सकते हैं बादल, जानिए कहां बढ़ेगी ठंड और गलन


वाराणसी. पहाड़ी इलाकों में हो रही बर्फबारी के चलते यूपी के कई जगहों पर गलन की समस्या बढ़ गई है। कई जिलों का तापमान 9 डिग्री तक नीचे पहुंच गया है। मौसम विभाग के अनुसार, आने वाले दो-तीन दिनों तक कई जगह बादल छाए रह सकते हैं वहीं ठंड और गलन भी अधिक हो सकती है।

 


आजकर दिन में धूप निकलने के बाद भी गलन की समस्या खत्म नहीं हो रही है। दिन-भर लोग अलाव का सहारा ले रहे हैं। घरों में दुबके लोग बाहर जाने से डर रहे हैं। सूरज ढलने के साथ ही ठंड का असर और गहरा जाता है। वहीं मौसम विभाग की तरफ से जारी रिपोर्ट के अनुसार, आने वाले दो-तीन दिनों में कुछ जगहों पर बादल छाए रहेंगे जिसके चलते तापमान में गिरावट हो सकती है।


बता दें कि पूर्वांचल के गोरखपुर, वाराणसी समेत इलाहाबाद के तापमान में गिरावट आई है जिससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। कुछ जगहों पर घने कोहरे के चलते लोगों को वाहन चलाने में दिक्कत हो रही है। मौसम के इस बदले रुख की वजह से लोग शाम होते ही घरों में दुबक जाते हैं। सड़कों पर सन्नाटा पसर जाता है। मौसम विभाग का कहना है कि आने वाले सप्ताह में ठंड और गहरा सकती है।
जानिए आज आलग-अलग जिलों में क्या है तापमान

जिला न्यूनतम तापमान (डिग्री सेल्सियस) अधिकतम तापमान(डिग्री सेल्सियस)
वाराणसी 10.0 25.0
गोरखपुर 09.0 25.0
प्रयागराज 10.0 26.0

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/temperature-goes-down-in-up-on-20-january-4005394/

चीफ प्रॉक्टर को हटाने के लिए BHU VC से मिलने जा रहे छात्रों को रोका गया, हंगामे के बाद हुई मुलाकात


वाराणसी. काशी हिंदू विश्वविद्यालय की चीफ प्रॉक्टर प्रो रोयाना सिंह को पद से हटाने की मांग को लेकर 17 दिन तक धरना देने वाले छात्र शनिवार को फिर मिले कुलपति प्रो राकेश भटनागर से। हालांकि वीसी तक पहुंचने के लिए उन्हें काफी जहमत उठानी पड़ी। जैसे वो केंद्रीय कार्यालय की ओर निकले, इसकी भनक चीफ प्रॉक्टर को लगी तो उन्होंने केंद्रीय कार्यालय के सभी गेट बंद करवा दिए। सुरक्षाकर्मियों की तैनाती कर दी ताकि किसी भी सूरत में छात्र कुलपति से नहीं मिल सकें। लेकिन छात्र भी कुलपति से मिलने के लिए अडिग रहे। ऐसे में पहले उन्होने गेट खुलवाने की कोशिश की लेकिन जब बात नहीं बनी तो वहीं धरने पर बैठ गए फिर किसी तरह चैनल गेट खुलवाकर वीसी तक पहुंचे।

बता दें कि गत दिसंबर में जब समाजवादी छात्रसभा की बीएचयू इकाई के अध्यक्ष आशुतोष सिंह के नेतृत्व में तमाम छात्र संगठनों के नेता 17 दिन तक धरने पर बैठे थे चीफ प्रॉक्टर को हटाने के लिए तभी वीसी प्रो भटनागर ने नर्सिंग छात्रों और विधि संकाय के छात्रों के उपद्रव के मामले की जांच के लिए फैक्ट फाइंडिंग कमेटी गठित की थी। वीसी ने छात्रों से एक महीने की मोहलत मांगी थी और आश्वस्त किया था कि जांच रिपोर्ट आते ही उचित कार्रवाई की जाएगी। उनके आश्वासन पर ही छात्रों ने धरना स्थगित किया था। अब वह एक महीने की मियाद भी बीत गई लेकिन न फैक्ट फाइंडिंग कमेटी की रिपोर्ट आई न चीफ प्रॉक्टर के खिलाफ कोई कार्रवाई हुई।

ऐसे में छात्रों का समूह शनिवार को कुलपति से मिलने के लिए निकला था। लेकिन उन्हें वीसी से मिलने से रोकने की कोशिश की गई। हालांकि छात्रों के धरने पर बैठने की सूचना पर जिला व पुलिस प्रशासन के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और ताला खुलवा कर उन्हें कुलपति से मिलवाया। छात्र नेता आशुतोष ने पत्रिका को बताया कि कुलपति ने जांच अधिकारी के अवकाश पर होने का हवाला देते हुए और एक महीने की मोहलत मांगी लेकिन छात्रों ने उन्हें एक सप्ताह की मोहलत दी। साथ ही चेताया कि हफ्ते भर में कार्रवाई नहीं हुई तो वो फिर से आंदोलन छेड़ेंगे जिसकी जिम्मेदारी खुद कुलपति की होगी।

यहां यह भी बता दें कि ये छात्र चीफ प्रॉक्टर को हटाने के मुद्दे पर सपा सांसद धर्मेंद्र यादव और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से भी मिल चुके हैं। धर्मेंद्र यादव ने जहां मानव संसाधन विकास मंत्री को पत्र लिखा है वहीं गृहमंत्री फोन पर कुलपति से वार्ता कर विश्वविद्यालय का माहौल दुरुस्त करने को कह चुके हैं।

 

BHU  <a href=students protest" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/01/19/bhu-001_4004085-m.jpg">

Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/students-again-met-bhu-vc-to-remove-chief-proctor-4004085/

IIT BHU-अभय को मिस्टर और आयुषि को मिस काशीयात्रा का खिताब


वाराणसी. आईआईटी बीएचयू के युवा महोत्वस काशी यात्रा का दूसरा दिन भी उमंग और उल्लास भरा रहा। छात्र-छात्रा पूरे दिन झूमते नाचते-गाते नजर आए। मशहूर रैपर डिवाइन व डीजे सा के पिछली रात भरे गए जोश का असर दूसरे दिन भी देखने को मिला। सुबह से ही राजपूताना ग्राउंड में नृत्य व स्वतंत्रता भवन में गायन के कार्यक्रमों से पूरा कैम्पस झूम रहा था। इस बीच मिस्टर एंड मिस काशी यात्रा प्रतियोगिता की घोषणा भी की गई।

मिस्टर एंड मिस काशीयात्रा
हैप्पी मौडल स्कूल के अभय सिंह मिस्टर काशीयात्रा बने तो मिस काशीयात्रा का ख़िताब सनबीम की आयुषि खरे ने हासिल किया। डिज़ाइन एलीगेंटे में आईएनएफ़आईडी वाराणसी ने बाज़ी मारी।

रंगमंच
स्टेज प्ले (नाटक) की इस प्रतियोगिता से दूसरे दिन की शुरुआत हुई। सुबह 08 बजे से G11 में चल रही इस प्रतियोगिता के निर्णायकों में मशहूर अभिनेता शिशिर शर्मा शामिल थे। समाज की समस्याओं को उजागर करने के मक़सद से तैयार किए गए नाटकों ने दर्शकों का दिल जीता। भावुक कर देने वाले कुछ नाटकों को लोगों ने बहुत सराहा।

रैपिड फ़ायर (आर्ट मैरथॉन)
समय की सीमाओं में बंधे कलाकारों ने अपनी कल्पना का इस्तेमाल कर बनाए गए डिज़ाइन भौचक्का कर देने वाले थे। आईआईटी रुड़की, इज़ाबेला थौबेर्न जैसे विख्यात कोलेंजो से आइ 39 टीमों के 120 छात्रों ने इस प्रतियोगिता में अपनी कला का प्रदर्शन किया। संध्या स्वामिनाथन और गौरव जुयाल निर्णायक रहे।

सुर
स्वतंत्रता भवन में आयोजित सोलो सिंगिंग के प्रिलिम्स में बाज़ी मारने वाले छात्र-छात्रा रविवार को फ़ाइनल में सुरों का जलवा बिखेरेंगे। सैकड़ों में आइ प्रतिभागिता के चलते इस प्रतियोगिता को तीन राउंड में कराना पड़ा। शनिवार को इसका दूसरा राउंड था जिसमें 61 प्रतिभागियों ने सुर से सुर मिलाए। कल इसका अंतिम राउंड शताब्दी भवन में होगा।

बेटल औफ़ बैंड्ज़
इंग्लिश रॉक बैंड के इस कार्यक्रम का आयोजन दोपहर को एडीवी ग्राउंड्ज़ में किया गया। पांच टीमों ने रॉक म्यूज़िक से स्टेज पर आग लगाई।

कूट ए रग (सोलो डान्स), एक्सटेसी (डूएट डान्स)
राजपूताना ग्राउंड्ज़ में सुबह सोलो डांस के प्रिलिमस में तो शाम को फ़ाइनल का आयोजन करा डान्स के नायकों का फ़ैसला किया गया। पूरे दिन राजपूताना ग्राउंड में ठुमके लगते रहे। दोपहर को डूएट डांस हुआ, जिसमें दो की टीम हिस्सा लेती है। नीरज यादव और साहिल खान निर्णायक रहे।

संवाद
संवाद के अंतर्गत तीन इवेंट आयोजित किए गए। शिपरेक कोव (इंग्लिश इक्स्टेम्परी), आशुभाषण (हिंदी इक्स्टेम्परी) तथा स्टैंड अप कोमेडी का आयोजन LT 3 में सुबह 10 बजे से शुरू हुआ। बेनेट्ट यूनिवर्सिटी, दिलली यूनिवर्सिटी, एचबीटीयू आदि बड़े कॉलेज इसमें शुमार हुए। संवाद में कुल मिलकर 50 से भी अधिकत टीमों ने शिरकत की। स्टैंड अप कोमेडी में प्रतिभाशाली छात्रों ने लोगों को ख़ूब हँसाया तो दूसरी ओर इक्स्टेम्परी में रखे गए विचारों ने श्रोताओं को सोचने पर मजबूर कर दिया।

इंडिया क्विज़
स्वतंत्रता भवन में आयोजित इंडिया क्विज़ में सैकड़ों प्रतिभागियों ने अपने दिमाग़ के घोड़े दौड़ाए। दोपहर को आयोजित इस कार्यक्रम में प्रतिभागिता ने नई ऊंचाइयां छुईं।

फ़्यूज़न एंड कौमेडी नाइट
दिन का अंत बेहद शानदार रहा। प्रसिद्ध कौमेडियन आकाश गुप्ता की लाजवाब कॉमेडी ने सबको हंसा-हंसा कर लोट-पोट कर दिया। ट्रैप बैंड की बीट पर सब दिल खोल कर नाचे व पूरे दिन चली मनोरंजक-प्रतियोगिताओं की थकान को भुला सब मगन हो गए।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/miss-kashyasatra-title-to-ayushi-and-abhay-got-mr-award-4003626/

BHU के गार्ड संग मारपीट व गाली गलौज करने वाले BJP विधायक के विरुद्ध लंका थाने में दी तहरीर


वाराणसी. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में बीते देर रात गेट खोलने के मुद्दे पर सुरक्षा गार्ड के साथ मारपीट करने वाले बीजेपी के क्षेत्रीय विधायक का मामला तूल पकडता जा रहा है। अब इस मामले में यूथ कांग्रेस भी कूद पड़ी है। युवा कांग्रेसियों ने इस मामले में लंका थाना प्रभारी को तहरीर सौंपते हुए अविलंब कार्रवाई की मांग की है। युवा कांग्रेसियों का कहना है कि BHU परिसर की मर्यादा को सुरक्षित रखना सभी के लिए अनिवार्य है।


इस संबंध में युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव राघवेंद्र चौबे ने बताया कि बीएचयू में शुक्रवार को देर रात घटी घटना के बाबत महानगर युवा कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल सीओ भेलूपुर से मिलने गया लेकिन उनके प्रवासी भारतीय सम्मेलन में व्यस्त होने के कारण उनके निर्देश पर लंका एसएचओ भारत भूषण तिवारी को तहरीर सौंपी। उन्होने बताया कि 18 जनवरी की देर रात भाजपा विधायक और उनके समर्थकों को जब बीएचयू के बंद गेट को खोलने से सुरक्षा कर्मियों ने इंकार कर दिया तो भाजपा विधायक व समर्थकों ने पहले तो बीएचयू गेट में बंद ताला तोड़ दिया, वह इतने से भी नहीं माने और द्वारा सुरक्षाकर्मियों के साथ मारपीट भी की। चीफ प्रॉक्टर के मौके पर पहुंचने की भनक लगते ही वो समर्थकों संग वहा से निकल लिए।

चौबे ने बताया कि जब गाड़ी नंबर की एप के जरिये जांच की गई तो गाड़ी स्थानीय कैंट विधायक सौरभ श्रीवास्तव निकली, जिसका नंबर UP65AS 2811 है। इस सफेद रंग की इंनोवा कार से विधायक सौरभ श्रीवास्तव को लगातार चलते देखा भी गया है। उससे यह स्पष्ट होता है की बीती रात बीएचयू परिसर में मारपीट व वहां का माहौल खराब करने का कार्य कैंट विधायक सौरभ श्रीवास्तव ने ही समर्थकों संग किया।

राघवेंद्र ने कहा कि एक जनप्रतिनिधि का यह कृत्य अति निंदनीय है। एक तरफ सरकार काशी में प्रवासी सम्मेलन आयोजित कर भाजपा विश्व पटल पर काशी को दिखाना चाहती है तो वही दूसरी तरह भाजपा का एक चुना हुआ जनप्रतिनिधि विधायक ऐसी हरकत करेंगे तो समाज मे कैसा संदेश जाएगा। उन्होने लंका एसएचओ से सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से घटना की पूरी जाच करा कर दोषी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की है। साथ ही चेतावनी दी कि सोमवार तक प्रशासनिक कार्रवाई नही हुई तो हम युवा कांग्रेसजन आंदोलन के जरिये कैंट विधायक का आवस घेरेंगे।

प्रतिनिधि मंडल में प्रदेश सचिव युवा कांग्रेस चंचल शर्मा, महानगर अध्यक्ष युवा कांग्रेस ओमशंकर शुक्ला, अविनाश मिश्रा, महानगर अध्यक्ष एनएसयूआई रंजीत तिवारी, विजय उपाध्याय, किशन यादव, आशुतोष उपाध्याय, मंगला मिश्रा, सियाराम पाठक राजू, लालजी यादव, धीरज सोनकर, अभिषेक चौरासिया, राजीव आर्य, सौरभ मिश्रा, रंजीत सोनकर आदि शामिल थे।


Click here to Read full Details Sources @ https://www.patrika.com/varanasi-news/complain-against-bjp-mla-who-broke-lock-of-bhu-gate-and-beaten-guard-4003317/

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
Jobs Jobs / Opportunities / Career
Haryana Jobs / Opportunities / Career
Bank Jobs / Opportunities / Career
Delhi Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Uttar Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Himachal Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Rajasthan Jobs / Opportunities / Career
Scholorship Jobs / Opportunities / Career
Engineering Jobs / Opportunities / Career
Railway Jobs / Opportunities / Career
Defense & Police Jobs / Opportunities / Career
Gujarat Jobs / Opportunities / Career
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Bihar Jobs / Opportunities / Career
Uttarakhand Jobs / Opportunities / Career
Punjab Jobs / Opportunities / Career
Admission Jobs / Opportunities / Career
Jammu and Kashmir Jobs / Opportunities / Career
Madhya Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Bihar
State Government Schemes
Study Material
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Syllabus
Festival
Business
Wallpaper
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com