Danik Bhaskar International News #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Danik Bhaskar International News

https://www.bhaskar.com/rss-feed/2338/ 👁 10937

नवाज को मेडिकल ग्राउंड पर छह सप्ताह के लिए सुप्रीम कोर्ट से जमानत


इस्लामाबाद. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को मेडिकल ग्राउंड पर छह सप्ताह की जमानत पर रिहा किया गया है। पाक सुप्रीम कोर्ट ने अपने संक्षिप्त फैसले में मंगलवार को कहा कि उन्हें विदेश जाने की अनुमति नहीं है। पाकिस्तान के अस्पताल में ही उपचार कराना होगा। तीन जजों की बेंच की अध्यक्षता चीफ जस्टिस आसिफ सईद खोसा कर रहे थे।

  1. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि नवाज शरीफ को एक करोड़ रुपये के बेल बांड जमा कराने होंगे। नवाज ने पिछले माह मेडिकल ग्राउंड पर ही इस्लामाबाद हाईकोर्ट में जमानत याचिका लगाई थी, लेकिन कोर्ट ने यह कहकर इसे खारिज कर दिया कि लगातार जेल में रहने से उनके जीवन पर कोई खतरा नहीं है।

  2. पाकिस्तान की एंटी करप्शन कोर्ट ने बर्खास्त प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को भ्रष्टाचार के एक और मामले में सात साल कैद की सजा सुनाई थी। उन पर 25 लाख डॉलर (करीब 175 करोड़ रुपए) का जुर्माना भी लगाया गया। यह सजा अल अजीजिया स्टील मिल्स मामले में सुनाई गई। फ्लैगशिप इन्वेस्टमेंट्स से जुड़े एक और मामले में उन्हें बरी कर दिया गया।

  3. पिछले साल जुलाई में लंदन के अवेनफील्ड स्थित 4 फ्लैट से जुड़े मामले में नवाज को 10 साल कैद की सजा सुनाई थी। इस मामले में इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने उन्हें सितंबर में ही जमानत दे दी थी और सजा को सस्पेंड कर दिया था।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      नवाज शरीफ (फाइल फोटो)

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/nawaz-sharif-granted-bail-on-medical-grounds-01505861.html

चीन ने 30 हजार नक्शे नष्ट किए, इनमें अरुणाचल-ताइवान शामिल नहीं थे


  • चीन के कस्टम विभाग ने उन 30 हजार मानचित्रों को नष्ट कर दिया, जिनमें अरुणाचल प्रदेश और ताइवान को उनके कब्जे में नहीं दिखाया गया था। इन वैश्विक मानचित्रों की छपाई चीन में हुई थी।
  • चीनी के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि सारे नक्शे किसी अज्ञात देश में भेजे जाने थे। चीन अरुणाचल पर अपना कब्जा बताता रहा है। उसका कहना है कि यह राज्य तिब्बत का हिस्सा है।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
China destroys 30,000 'incorrect' world maps

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/china-destroys-30-000-incorrect-world-maps-01505819.html

उबर 21390 करोड़ रु. में कंपीटीटर फर्म करीम को खरीदेगी, मिडिल-ईस्ट में पकड़ मजबूत होगी


  1. करीम के अधिग्रहण के लिए उबर 1.4 अरब डॉलर नकद भुगतान करेगी और 1.7 अरब डॉलर के कन्वर्टिबल नोट्स जारी करेगी। डील 2020 की पहली तिमाही में पूरी होने की उम्मीद है। इसके लिए रेग्युलेटर्स की मंजूरी जरूरी होगी।

  2. उबर के सीईओ दारा खोसरोशाही का कहना है कि मिडिल ईस्ट के शहरी परिवहन का भविष्य तय करने में करीम ने अहम भूमिका निभाई है। यह क्षेत्र का सबसे सफल स्टार्टअप है। दोनों कंपनियों के एक होने से ग्राहकों, ड्राइवरों और शहरों को फायदा होगा।

  3. उबर से डील के बाद भी करीम के को-फाउंडर और सीईओ मुदस्सिर शेख पहले की तरह बिजनेस देखते रहेंगे। दोनों ब्रांड स्वतंत्र रूप से काम करेंगे।

  4. उबर की मिडिल-ईस्ट में पकड़ मजबूत होगी। उबर के बड़े निवेशकों में शामिल सऊदी अरब के सॉवरेज वेल्थ फंड का बेस भी मिडिल-ईस्ट ही है। 2016 में उसने उबर में 3.5 अरब डॉलर का निवेश किया था।

  5. उबर इस साल आईपीओ लाने की तैयारी कर रही है। इसकी वैल्यू 120 अरब डॉलर होने का अनुमान लगाया जा रहा है। माना जा रहा है कि यह किसी टेक्नोलॉजी कंपनी का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ होगा।

  6. आईपीओ से पहले उबर घाटे वाले बिजनेस बेचकर और नए अधिग्रहण कर अपनी साख बढ़ाना चाहती है। पिछले साल इसे 1.8 अरब डॉलर का घाटा हुआ था। इसका पिछला बड़ा सौदा अमेरिका की बाइक शेयरिंग फर्म जम्प को खरीदने का था।

  7. उबर को चीन और साउथ-ईस्ट एशिया जैसे बड़े बाजारों से बाहर होना पड़ा था। उबर की सेवाएं वहां के स्थानीय कैब सर्विस प्रोवाइडर के मुकाबले बेहद महंगी थीं। इसलिए, उबर उनका मुकाबला नहीं कर पाई।

  8. उबर ने 2016 में चीन का बिजनेस वहां की लोकल फर्म दीदी चूजिंग को बेच दिया था। साउथ-ईस्ट एशिया का कारोबार पिछले साल सिंगापुर की कंपनी ग्रैब को बेच दिया।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Uber announces usd3.1 billion deal to buy Middle East rival Careem

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/uber-announces-usd-3-billion-deal-to-buy-middle-east-rival-careem-01505775.html

महाभियोग का खतरा टलते ही कहा- रूसी साजिश का आरोप लगाने वालों की जांच हो


न्यूयार्क. 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रूसी मदद लेने के आरोप से बरी हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने विरोधियों पर पलटवार किया है। उनका कहना है कि यह आरोप लगाने वाले लोगों की जांच होनी चाहिए। ट्रम्प ने ने अपने विरोधियों को विश्वासघाती बताया। उधर, राष्ट्रपति के चुनाव में रूसी साजिश का मुद्दा उठाने वाले डेमोक्रेट अब न्याय प्रक्रिया में बाधा डालने के मुद्दे को अपना हथियार बना रहे हैं।

  1. डेमोक्रेट्स ने अटार्नी जनरल विलियम बर से मांग की है कि दो अप्रैल तक मुलर की पूरी रिपोर्ट सार्वजनिक की जाए। दोनों पक्षों ने यह भी मांग की है कि रॉबर्ट मुलर और बर संसद (कांग्रेस) की कमेटी के समक्ष अपनी बात रखें। संसद की न्यायिक समिति के प्रमुख लिंडसे ग्राहम ने कहा- वह किसी दूसरे विशेष वकील से ट्रम्प के प्रचार अभियान की जांच कराना चाहते हैं।

  2. उधर, ट्रम्प इस बात से बेहद उत्साहित हैं कि जिस वकील माइकल एवेनाट्टी ने उनके और एडल्ट फिल्म स्टार स्टार्मी डेनियल के बीच के संबंधों को उजागर किया था, वह गिरफ्तार हो चुका है। वकील ने याचिका दायर करके इस बात को सार्वजनिक किया था।

  3. एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि महाभियोग का खतरा टलने के बाद ट्रम्प ने जिस तरह से गोलन हाइट्स पर इजरायल के कब्जे को मान्यता दी है, उससे उनका आत्मविश्वास झलक रहा है। बावजूद इसके कि संयुक्त राष्ट्र और बहुत से देश इसे इजरायल का अतिक्रमण मान रहे हैं।

  4. इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहु के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता में ट्रम्प ने बेबाक लहजे में कहा कि अमेरिका में बहुत से लोग हैं, जिन्होंने गलत काम किए हैं। उनका कहना है- इन लोगों ने देश के साथ विश्वासघात किया। किसी का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा कि इन लोगों ने संसद में भी झूठ बोला।

  5. उधर, डेमोक्रेट्स 20 माह बाद होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को लेकर अपनी तैयारी में जुटे हैं। ट्रम्प और उनके परिवार के खिलाफ संसद की समितियां जांच कर रही हैं। रूस और अन्य देशों के साथ ट्रम्प के वित्तीय लेनदेन की जांच अधर में है। ओवरसाइट कमेटी ट्रम्प की बेटी इवांका और दामाद जेरेड कुशनर के मामले को देख रही है।

  6. एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि ट्रम्प को रूसी मदद लेने के मामले में क्लीन चिट मिलने से डेमोक्रेट्स को फिर से अपनी रणनीति तय करनी होगी। अभी तक विपक्ष मानकर चल रहा था कि चुनाव में रूसी मदद लेने का मसला उनका ट्रंप कार्ड बन सकता है।

  7. विशेष अधिवक्ता रॉबर्ट मुलर की जांच रिपोर्ट का हवाला देते हुए बर ने कहा था कि ट्रम्प के चुनाव में रूसी दखल के प्रमाण नहीं मिले हैं। हालांकि, रिपोर्ट उन्हें पूरी तरह से दोषमुक्त भी नहीं कर रही है। बर का कहना था कि साक्ष्य दोनों तरफ इशारा कर रहे हैं।

  8. मुलर की रिपोर्ट के सार्वजनिक होने के बाद ट्रम्प ने फ्लोरिडा में मीडिया से कहा कि यह सबसे शर्मनाक घटना थी। उनका कहना था कि शर्मनाक है कि आपके देश और राष्ट्रपति को यह सब झेलना पड़ा। एक लंबी जांच और कई लोगों को परेशान करने के बाद केवल यह घोषणा कर दी गई कि चुनाव में रूस का दखल नहीं था।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      डोनाल्ड ट्रम्प

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/trump-now-calls-for-investigation-against-foes-01505767.html

पाकिस्तान में गर्माया दो नाबालिग हिंदू बहनों के अपहरण का मुद्दा, लोग पूछ रहे 'धर्मपरिवर्तन के बाद लड़कियां केवल पत्नी ही क्यों बनती है, बेटी या बहन क्यों नहीं?


इंटरनेशनल डेस्क (इस्लामाबाद). पाकिस्तान में दो नाबालिग हिंदू बहनों के अपहरण के बाद उनके जबरन धर्मांतरण और निकाह कराने का मुद्दा इन दिनों गर्माया हुआ है। दुनिया के सामने ये मामला आने के बाद ना केवल प्रधानमंत्री इमरान खान को आगे आकर मामले की जांच के आदेश और लड़कियों की तलाश करने के आदेश देने पड़े, बल्कि इस बात को लेकर भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पाकिस्तान के सूचना मंत्री चौधरी फवाद हुसैन के बीच भी ट्विटर पर बहस हो गई। अब इस मुद्दे को लेकर पाकिस्तान का हिंदू समुदाय एक सवाल पूछ रहा है कि सिर्फ कम उम्र की बच्चियां ही क्यों इस्लाम से प्रभावित होती हैं, और धर्मांतरण के बाद वे हमेशा बीवी ही क्यों बनती हैं, बहन या बेटी क्यों नहीं?

ट्वीट में पूछा- नाबालिग लड़कियां ही क्यों इस्लाम से प्रभावित होती हैं...

- पाकिस्तान के अल्पसंख्यक सिंधी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले पत्रकार कपिल देव ने ट्वीट करते हुए एक सवाल पूछा है। उनके मुताबिक सिर्फ कम उम्र की लड़कियां या बच्चियां ही इस्लाम से क्यों प्रभावित होती हैं, कभी कोई बड़ी उम्र का मर्द या औरत इस्लाम से प्रभावित क्यों नहीं होता।
- इसके अलावा उन्होंने पूछा है कि धर्म परिवर्तन के बाद लड़कियां बीवी ही क्यों बनती हैं, उन्हें कभी बहन या बेटी क्यों नहीं बनाया जाता। ये ट्वीट भले ही एक सामाजिक कार्यकर्ता ने पूछा हो, लेकिन ये सवाल सालों से पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू अल्पसंख्यक समुदाय के लोग पूछ रहे हैं।
- कपिल देव ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'सिर्फ नाबालिग हिंदू लड़कियां ही इस्लाम की शिक्षा से क्यों प्रभावित होती हैं, क्यों कभी कोई उम्रदराज महिला या पुरुष उनकी शिक्षा से प्रभावित नहीं होते।'
- आगे उन्होंने लिखा, 'धर्म परिवर्तन करने वाली लड़कियां कभी बेटी या बहन क्यों नहीं बनतीं, वो सिर्फ पत्नियां ही क्यों बनती हैं? मैं अब तक इस सवाल का कोई तार्किक जवाब पाने में विफल रहा हूं।'
- बता दें कि कपिल देव ने अपने ट्विटर अकाउंट पर खुद को मानवाधिकार कार्यकर्ता बताया है। उनके मुताबिक वे सिंधी, हिंदू और सेक्यूलर होने के बाद सबसे पहले गर्व से पाकिस्तानी हैं। कपिल कई अखबारों के लिए स्वतंत्र रूप से लेख भी लिखते हैं।
- एक अन्य पाकिस्तानी हिंदू ब्लॉगर मुकेश मेघवार ने भी ट्वीट करते हुए पूछा कि, 'मलाला 16 साल की उम्र में किताब नहीं लिख सकती हैं। लेकिन 12 और 14 साल की हिंदू लड़कियां इस उम्र में इस्लाम कुबूल करते हुए निकाह कर सकती हैं? (प्योर नेशनल लॉजिक)'

ये है पूरा मामला

- 20 मार्च को होली वाले दिन पाकिस्तान के सिंध प्रांत के घोटकी जिले में कुछ लोगों ने अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय की दो नाबालिग बहनों का अपहरण कर लिया था। इसके बाद ना सिर्फ रीना (15) और रवीना (13) नाम की इन लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन कर दिया गया, बल्कि अधेड़ उम्र के लोगों से उनका निकाह भी कर दिया गया।
- घटना के बाद पीड़ित लड़कियों के पिता का एक वीडियो भी सामने आया था, जिसमें वे थाने के बाहर बैठकर अपनी बेटियों को वापस लाने की गुहार लगा रहे थे। वो रोते हुए खुद को थप्पड़ मार रहे थे और बेटियों की सुरक्षित वापसी की मांग कर रहे थे साथ ही ऐसा नहीं करने पर खुद को गोली मार देने की बात कह रहे थे।

- इस घटना के विरोध में हिंदू अल्पसंख्यकों ने विरोध-प्रदर्शन भी किए। जिसके बाद बढ़ते विरोध को देखते हुए पुलिस को एफआईआर दर्ज करना पड़ी। रिपोर्ट के मुताबिक अभियुक्तों ने पीड़ितों के घर से चार तोला सोना और 75 हजार रुपए भी चुरा लिए थे।

सुषमा और पाकिस्तानी मंत्री के बीच हुई थी बहस

- भारतीय विदेश मंत्री ने रविवार को एक ट्वीट करते हुए लिखा था, 'मैंने भारतीय उच्चायोग से इस बारे में रिपोर्ट भेजने के लिए कहा है। होली की शाम सिंध की दो बहनों का अपहरण हुआ, जिनमें से एक की उम्र 15 और दूसरी की 13 साल बताई जा रही है।'
- सुषमा स्वराज के ट्वीट को देख पाकिस्तानी सूचना मंत्री फवाद हुसैन ने उन्हें जवाब देते हुए लिखा था, 'ये पाकिस्तान का आंतरिक मामला है और भरोसा रखें ये मोदी का इंडिया का नहीं है जहां अल्पसंख्यकों को दबाकर रखा जाता है। उम्मीद करता हूं कि जब भारतीय अल्पसंख्यकों के अधिकारों की बात आएगी तो आप भी उतनी ही तत्परता से कार्रवाई करेंगी।'
- जबाव में सुषमा ने ट्वीट किया था, 'श्रीमान फवाद, मैंने इस्लामाबाद के भारतीय उच्चायोग से दो हिंदू बच्चियों के अगवा करने और जबरन उन्हें इस्लाम कबूल करवाने के मामले में सिर्फ रिपोर्ट भर मांगी थी। लेकिन आप इतनी सी बात पर बेचैन हो उठे, ये आपके अपराधबोध को दिखा रहा है।'



##
##



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पाकिस्तान में धर्मांतरण के बाद दो नाबालिग बहनों का निकाह करा दिया गया।
अपहृत हुईं पाकिस्तानी हिंदू नाबालिक लड़कियां रवीना और रीना। जिनकी उम्र 13 और 15 साल है।
नाबालिग लड़कियां और उनका पिता।
Two minor Girls named Raveena & Reena were abducted in broad daylight by Moslems from Pakistan,& the poor father of Girls is left protesting at Police station.

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/controversy-on-adbucted-hindu-girls-in-pakistan-hindus-asking-questions-6038995.html

स्वस्थ रहें इसलिए बॉक्सिंग खेलती हैं 80 साल की महिलाएं, जिम भी जाती हैं


जोहानेसबर्ग. यहां 80 साल की बुजुर्ग महिलाएं स्वस्थ रहने के लिए बॉक्सिंग करती हैं। इतना ही नहीं वे डांस और गाना भी गाती हैं और हफ्ते में दो बार जिम भी जाती हैं। इन महिलाओं को बॉक्सिंग ग्रेनी कहा जाता है।

  1. कॉन्सटेंस नगुबेन कहती हैं कि मेरी जिंदगी चलते-चलते अचानक रुक सी जाती है। कभी अच्छा होता है तो कभी बुरा भी होता है। जब से मैंने बॉक्सिंग शुरू की, मैं 16 साल की लड़की जैसा महसूस करने लगी हूं। लेकिन सच यह है कि मैं 16 नहीं 80 साल की हूं। मुझे अपनी हमउम्र महिलाओं के साथ मिलना-जुलना अच्छा लगता है। वे परिवार की तरह हैं।

  2. महिलाओं के लिए 2014 में बॉक्सिंग गोगोज कार्यक्रम शुरू किया गया था। दक्षिण अफ्रीका में बुजुर्ग महिलाओं को गोगोज भी कहा जाता है। इन बुजुर्ग महिलाओं के लिए बॉक्सिंग खेलना शारीरिक कसरत से ज्यादा सामाजिक गतिविधि है। मेयो क्लीनिक के एक शोध में पाया गया है कि लोगों के साथ मिलने-जुलने के साथ कसरत करना उम्र को बढ़ाता है।

  3. 70 साल की मेबल मखोशी कहती हैं कि चार साल पहले मैंने बॉक्सिंग और जिम करना शुरू किया था। इसके चलते स्वास्थ्य में काफी सकारात्मक बदलाव महसूस किया है। ब्लड प्रेशर और डायबिटीज भी नियंत्रित है। जब चैकअप कराया तो डॉक्टर ने पूछा कि आप क्या कर रही हैं। मैंने उन्हें एक्सरसाइज के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि मैं बेहतर कर रही हूं।

  4. बॉक्सिंग गोगोज प्रोजेक्ट से जुड़े क्लॉड मफोसा बताते हैं कि एक्सरसाइज-बॉक्सिंग से जुड़ने के बाद महिलाओं का आत्मविश्वास बेहतर हुआ है। यह सुकून देने वाली बात है कि जो महिलाएं उम्मीद खो चुकी थीं, आज वे मजबूत नजर आती हैं।

  5. ऑक्सफोर्ड इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन एजिंग में प्रो. सारा हार्पर के मुताबिक- किसी भी व्यक्ति के जीवन में भोजन और एक्सरसाइज ही जरूरी नहीं होते, सामाजिक होना भी स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है। कई शोधों से साबित हो चुका है कि सोशल नेटवर्किंग से व्यक्ति लंबा जीता है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      South Africa's boxing grannies they come to a gym for healthier lives
      South Africa's boxing grannies they come to a gym for healthier lives
      South Africa's boxing grannies they come to a gym for healthier lives

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/south-africa-s-boxing-grannies-they-come-to-a-gym-for-healthier-lives-01501089.html

स्पेससूट का सही साइज नहीं मिलने पर नासा ने महिलाओं की स्पेसवॉक रद्द की


वॉशिंगटन. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का पहली बार दो महिलाओं को स्पेसवॉक कराने का मिशन फिलहाल रद्द करदिया गया है। नासा का कहना है कि उसके पास महिला एस्ट्रोनॉट्स की फिटिंग के पर्याप्त स्पेससूट मौजूद नहीं हैं। ऐसे में आउटरवियर की कमी के चलते यह मिशन बदला जा रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, स्पेसवॉक की योजना को आगे बढ़ाया जाएगा।

एक महीने पहले ही नासा ने ऐलान किया था कि 29 मार्च को उसकी दो महिला एस्ट्रोनॉट्स इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (आईएसएस) से अंतरिक्ष में स्पेसवॉक के लिए जाएंगी। यह पहली बार होगा जब किसी स्पेसवॉक में सिर्फ महिलाओं को ही भेजा जाना है। इससे पहले के मिशनों में स्पेसवॉक के लिए महिलाओं के साथ किसी पुरुष एस्ट्रोनॉट को भी भेजा जाता था।

आईएसएस में बैट्री लगाने के लिए जारी है स्पेसवॉक
स्पेसवॉक कई वजहों से किया जाता है, जिसमें स्पेसक्राफ्ट की मरम्मत, वैज्ञानिक प्रयोग और फिर नए उपकरणों का परीक्षण होता है। अंतरिक्ष में मौजूद बिगड़े सैटेलाइट या स्पेसक्राफ्ट को वहीं ठीक करने के लिए स्पेसवॉक की जाती है। जिन दो एस्ट्रोनॉट्स को स्पेसवॉक में हिस्सा लेना है, उनमें से एक ऐन मैकक्लेन(59) और क्रिस्टीना कोश हैं। मैकक्लेन 22 मार्च को निक हेग के साथ आईएसएस में एक लिथियम आयन बैट्री लगाने के लिए स्पेसवॉक में हिस्सा ले चुकी हैं।

सात घंटे स्पेसवॉक का रखा गया था मिशन
मैकक्लेन और कोश का स्पेसवॉक सात घंटे रखी गई थी। दोनों 2013 के एस्ट्रोनॉट क्लास का हिस्सा थीं। इसमें आधे से ज्यादा महिलाएं थीं। इस दौरान नासा को एस्ट्रोनॉट्स के लिए दूसरी बार सबसे ज्यादा आवेदन (6100) मिले थे। नासा में 50% फ्लाइट डायरेक्टर्स महिलाएं हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ऐन मैकक्लेन (बाएं) और क्रिस्टीना कोश (दाएं)।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/nasa-cancels-all-female-spacewalk-cites-lack-of-spacesuit-in-right-size-for-woman-01505659.html

चीन ने नष्ट किए अरुणाचल और ताइवान को अपनी सीमा से बाहर दर्शाने वाले 30 हजार मानचित्र


बीजिंग. चीन केकस्टम विभाग ने उन 30 हजार मानचित्रों को नष्ट करदिया, जिनमें अरुणाचल प्रदेश और ताइवान को उनके कब्जे में नहीं दिखाया गया था। इन वैश्विक मानचित्रों की छपाई चीन में ही हुई थी। चीनी के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि सारे नक्शे किसी अज्ञात देश में भेजे जाने थे।

  1. भारत के पूर्वोत्तर में स्थित अरुणाचल प्रदेश को चीन अपने कब्जे में बताता रहा है। उसका कहना है कि यह राज्य दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा है। यहां तक कि उसे भारतीय राजनेताओं के इस प्रदेश में आने पर भी आपत्ति है। चीन ने दलाई लामा के अरुणाचल दौरे का विरोध किया था। दलाई के वहां जाने पर नौ जगहों के नाम बदल दिए थे।

  2. अरुणाचल से सटी 3488 किमी लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) को लेकर भारत-चीन के बीच लंबे अर्से से विवाद चल रहा है। दोनों देशइस मसले पर 21 दौर की वार्ता कर चुके हैं, लेकिन अब तक कोई समाधान नहीं निकला।

  3. ताइवान को भी चीन अलग देश के तौर पर मान्यता नहीं देता। चीन, ताइवान को अपना हिस्सा मानताहै। हालांकि, वैश्विक मंचों पर अपनी स्वायत्ता को लेकर ताइवान लगातार आवाज उठा रहा है।

  4. चाइना फॉरेन अफेयर्स यूनिवर्सिटी में इंटरनेशल लॉके प्रोफेसर ली वेनजांग का कहना है कि नक्शे नष्ट करना सही कदम है। अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक ताइवान और दक्षिणी तिब्बत चीन के ही अभिन्न अंग हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      इसी नक्शे में अरुणाचल को चीन से अलग दिखाया गया।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/china-destroys-30-000-incorrect-world-maps-01505667.html

विदेश मंत्रालय ने कहा- तिब्बत तक पहुंच में चीन जानबूझकर रोड़ा अटकाता है


वॉशिंगटन. अमेरिका के विदेश मंत्रालय का कहना है कि तिब्बत तक पहुंच में चीन जानबूझकर रोड़ा अटकाता है। कांग्रेस (अमेरिकी संसद) को दी रिपोर्ट में कहा गया कि चीन की हरकत से अमेरिकी राजनयिक, पत्रकार और टूरिस्ट तिब्बत नहीं पहुंच पाते। चीनी सरकार के लोग राजनयिकों और अफसरों का पीछा करके उन्हें आम लोगों से बात करने से रोकते हैं।

  1. विदेश मंत्रालय ने कहा है कि 2018 में चीन ने कई बार अमेरिकी राजनयिकों, पत्रकारों और टूरिस्टों की तिब्बत यात्रा में बाधा उत्पन्न की। यहां तक कि तिब्बत जाने वाले राजनयिकों पर भी कड़ी नजर रखी गई।

  2. दिसंबर में पारित रेसिप्रोकल एक्सेस टू तिब्बत एक्ट का चीन पालन नहीं कर रहा। रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका भी चीनी अफसरों को वीजा देने से इनकार करे। तभी इस एक्ट को प्रभावी तरीके से लागू कराया जा सकता है।

  3. कांग्रेस से कहा गया है कि तिब्बत ही अकेला क्षेत्र है, जहां जाने के लिए राजनयिकों और पत्रकारों को चीनी सरकार से विशेष तौर पर अनुमति लेनी होती है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि तिब्बत जाने के लिए अमेरिका से पिछले साल नौ आवेदन चीन भेजे गए थे, इनमें से पांच मामलों में अनुमति देने से इनकार कर दिया गया।

  4. अमेरिका के राजदूत टेरी ब्रेनस्टड को भी तिब्बत जाने की अनुमति नहीं दी गई। विदेशी पत्रकारों के संघ क्लब ऑफचाइना के पत्राचार काहवाला देकर कांग्रेस को बताया गया कि पिछले साल केवल सात अंतरराष्ट्रीय पत्रकारों ने तिब्बत जाने की अनुमति मांगी। जबकि इससे पहले बड़ी तादाद में पत्रकार तिब्बत यात्रा के लिए आवेदन करते रहे हैं।

  5. चीन के रवैये को देखते हुए कहा जा सकता है कि अंतरराष्ट्रीय पत्रकार समझते हैं कि जब तिब्बत यात्रा की अनुमति मिलनी ही नहीं है तो क्यों बेवजह इसके लिए आवेदन किया जाए। कांग्रेस को बताया गया कि टूरिस्टों को तिब्बत का वीजा देने से इनकार करने का कदम राजनीतिक रूप से बेहद संवेदनशील है। अमेरिका के तिब्बती मूल के लोगों के साथ भेदभाव भी किया जा रहा है।

  6. इंटरनेशनल कैंपेन फॉरतिब्बत के प्रमुख मेटियो मेकाक्की ने विदेश मंत्रालय की रिपोर्ट पर संतुष्टि जताते हुए कहा है कि इससे लगता है कि रेसिप्रोकल एक्सेस टू तिब्बत एक्ट को लेकर अमेरिका गंभीर है।

  7. इटली की संसद के सदस्य रहे मेकाक्की का कहना है कि इससे साफ है कि चीन के साथ अमेरिका के पारस्परिक संबंध केवल कारोबार और आर्थिक मामलों को लेकर ही नहीं हैं, बल्कि तिब्बत भी इसमें शामिल है।

  8. मेकाक्की का कहना है कि चीन के अफसरों को वीजा देने से इनकार किया जाएगा तभी उन्हें सबक मिलेगा। हालांकि, उनका यह भी कहना है कि हमारा उद्देश्य चीन के अमेरिका आने से रोकने के बजाए तिब्बत में चले आ रहे गतिरोध को दूर करना है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      तिब्बत (फाइल फोटो)

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/us-blames-china-for-systematically-impeding-tibet-access-with-restrictions-01505607.html

इजरायल ने गाजा में हमास के ठिकानों पर दागे रॉकेट, ट्रम्प ने किया समर्थन


येरुशलम. इजरायल ने गाजा में हमास (फिलिस्तीन आतंकी संगठन) के ठिकानों पर हमला किया। इजरायल ने 5 सेकंड में 2 धमाके किए लेकिन अभी मृतकों की संख्या सामने नहीं आई है।

बताया जा रहा है कि हमला उसी वक्त हुआ जब वॉशिंगटन में इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बीच मुलाकात हुई। इजरायली हमले को लेकर ट्रम्प ने कहा कि उन्हें आत्मरक्षा का हक है। इससे पहले सोमवार को फिलिस्तीन की तरफ से तेल अवीव में रॉकेट से हमला किया गया था, जिसमें 7 लोग जख्मी हो गए थे।

  1. जवाबी कार्रवाई के बाद व्हाइट हाउस ने कहा कि इजरायल ने फिलिस्तीन के हमले का माकूल और बलपूर्वक जवाब दिया। वहीं ट्रम्प ने कहा कि इजरायल को खुद की सुरक्षा करने का हक है। नेतन्याहू ने कहा कि वह ट्रम्प से मुलाकात के बाद देश लौटेंगे। उन्होंने प्रो-इजरायल लॉबी एआईपीएसी की सालाना कॉन्फ्रेंस को संबोधित करने का कार्यक्रम रद्द कर दिया है।

  2. गाजा के सुरक्षा बलों के मुताबिक- इजरायल की तरफ से हमला कई जगहों पर हुआ। गाजा शहर में एक बिल्डिंग पूरी तरह से तबाह हो गई। इजरायल का आरोप है कि वह हमास का सिक्योरिटी और इंटेलिजेंस का खुफिया मुख्यालय था। गाजा के लोगों का कहना है कि बिल्डिंग हमास से जुड़ी मुल्तसिम इंश्योरेंस कंपनी की थी

  3. हमास के सरगना इस्माइल हानिया के मुताबिक- अगर इजरायल की तरफ से किसी भी तरह का उल्लंघन किया, हमारे ठिकानों पर हमला किया तो हमारे लोग सरेंडर नहीं करेंगे और इसका मजबूती से जवाब दिया जाएगा

  4. फिलिस्तीन की तरफ से हमला सोमवार को स्थानीय समयानुसार सुबह 5:20 पर हुआ था। रॉकेट सीधे लोगों के घरों पर गिरे। यह पहली बार है जब गाजा पट्टी पर स्थित आतंकियों ने इजरायल के मध्य में स्थित किसी शहर को निशाना बनाया है। नेतन्याहू ने हमले का बलपूर्वक जवाब देने की बात कही थी।

  5. एक हफ्ते पहले भी गाजा से तेल अवीव पर दो रॉकेट दागे गए थे। तब गाजा के बड़े हिस्से पर नियंत्रण रखने वाले हमास आतंकी गुट ने गलती से रॉकेट लॉन्च होने की बात कही थी। हालांकि, हमले में कोई भी घायल नहीं हुआ था। इसके बाद इजरायल की तरफ से गाजा पर एक दर्जन से ज्यादा रॉकेट बरसाए गए थे। इसमें चार लोग जख्मी हुए थे।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Israel strikes Gaza trump says netanyahu has right of self defence

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/israel-strikes-gaza-trump-says-netanyahu-has-right-of-self-defence-01505425.html

आजादी के बाद पहली बार हिंदुओं के लिए पाकिस्तान ने खोले इस मंदिर के द्वार, 18 महाशक्ति पीठों में से एक शारदा पीठ


वीडियो डेस्क. पाकिस्तान ने करतारपुर साहिब कॉरीडोर के बाद अब हिंदुओं के पवित्र धर्मस्थल शारदा पीठ पर कॉरिडोर बनाने को मंजूरी दे दी है। शारदा पीठ मंदिर पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में स्थित है। यह पीठ हिंदुओं का 5 हजार साल पुराना धर्मस्थल है, इसे महाराज अशोक ने 237 ईसा पूर्व में बनवाया था।


कश्मीर में रहने वाला हिंदू समुदाय लंबे समय से इस कॉरिडोर को बनाने की मांग कर रहा था। यही नहीं, जम्मू-कश्मीर की मुख्यधारा में रहे राजनीतिक दल जैसे पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) भी इसे लेकर अपनी आवाज उठाती रही है। लाइन ऑफ कंट्रोल से इस पीठ की दूरी 10 किलोमीटर है।

वीडियो में : खंडहर हो चुका है देवी के 18 महाशक्ति पीठों में से एक शारदा पीठ



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Sharda Corridor news and videos in Hindi: Pakistan government has given a green signal to opening Sharda Peeth: Dainik Bhaskar:

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/world-news/news/pakistan-to-open-sharada-peeth-for-indian-pilgrims-6038965.html

ब्रिटिश एयरवेज की फ्लाइट गलती से 1200 किमी दूर एडिनबर्ग पहुंची


  • ब्रिटिश एयरवेज की एक फ्लाइट ने लंदन के सिटी एयरपोर्ट से जर्मनी के डसेलडर्फ एयरपोर्ट के लिए उड़ान भरी। लेकिन, गलती से फ्लाइट स्कॉटलैंड की राजधानी एडिनबर्ग पहुंच गई।
  • अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि कागजी कार्यवाही में हुई गलती की वजह से यह घटना हुई। यात्रियों को तो इसका पता तब चला, जब एयरपोर्ट पर "वेलकम टू एडिनबर्ग' की घोषणा की गई।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
British Airways flight lands in Edinburgh instead of Dusseldorf by mistake

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/british-airways-flight-lands-in-edinburgh-instead-of-dusseldorf-by-mistake-01505493.html

इजरायल का गाजा में हमास के ठिकाने पर हमला


  • इजरायल ने हमला उस वक्त किया, जब वॉशिंगटन में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के बीच मुलाकात हो रही थी। गाजा में हमास के इंटेलिजेंस मुख्यालय को निशाना बनाया।
  • इजरायली हमले को लेकर ट्रम्प ने कहा कि नेतन्याहू को आत्मरक्षा का हक है। सोमवार को फिलिस्तीन ने तेल अवीव में रॉकेट से हमला किया गया था, जिसमें 7 लोग जख्मी हो गए थे।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Israel, Gaza

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/israel-gaza-01505453.html

कैदियों की मदद: मरे चूहों में ड्रग्स-मोबाइल भरकर जेल में फेंक रहे अपराधी


  • ब्रिटेन में अपराधियों ने जेल में बंद कैदियों तक मदद पहुंचाने का नया तरीका निकाला है। वे मरे हुए चूहों में नशीले पदार्थ, मोबाइल फोन और नकदी भरकर जेल की दीवारों पर फेंक रहे हैं।
  • पिछले दिनों अधिकारियों को तीन चूहे मिले थे, जिनके पेट सिले हुए थे। पिछले साल मार्च में जेल में बंद 20% कैदियों की ड्रग रिपोर्ट पॉजिटिव थी। इस साल नशेड़ी कैदियों की संख्या 23% बढ़ी।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
UK, Mice, drugs, Jails

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/uk-mice-drugs-jails-01505419.html

ब्रिटिश एयरवेज की फ्लाइट को डसेलडर्फ जाना था, 1200 किमी दूर एडिनबर्ग पहुंच गई


लंदन. ब्रिटिश एयरवेज की एक फ्लाइट ने लंदन के सिटी एयरपोर्ट से जर्मनी के डसेलडर्फ एयरपोर्ट के लिए उड़ान भरी। लेकिन, गलती से फ्लाइट 1200 किलोमीटर दूर स्कॉटलैंड की राजधानी एडिनबर्ग पहुंच गई। अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि कागजी कार्यवाही में हुई गलती की वजह से यह घटना हुई। यात्रियों को तो इसका पता तब चला, जब एयरपोर्ट पर "वेलकम टू एडिनबर्ग' की घोषणा की गई।

  1. ब्रिटिश एयरवेज के अधिकारियों ने बताया कि फ्लाइट को वापस डसेलडर्फ के लिए रवाना कर दिया गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, जर्मनी की फर्म डब्ल्यूडीए एक समझौते के तहत यहां ब्रिटिश एयरवेज की फ्लाइट का संचालन करती है।

  2. ब्रिटिश एयरवेज ने कहा कि हमने यात्रियों से माफी मांगी है। हम हर यात्री से व्यक्तिगत तौर पर संपर्क कर रहे हैं, जिन्हें गलती की वजह से परेशानी हुई।

  3. एयरवेज ने कहा कि पायलट किसी भी जगह पर भ्रमित नहीं हुआ, लेकिन एडिनबर्ग में कागजी कार्यवाही में हुई गलती की वजह से एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने उसे उस रूट पर जाने की इजाजत दे दी।

  4. लंदन से डसेलडर्फ के लिए उड़ान भरने वाली 24 वर्षीय मैनेजमेंट सलाहकार सोफी कुक ने कहा- जब पायलट ने एडिनबर्ग में उतरने की घोषणा की, तो हमें लगा कि यह कोई मजाक है। मैंने केबिन क्रू से भी पूछा कि क्या आप मजाक कर रहे हैं।

  5. पायलट ने सबसे पूछा कि क्या आप सभी एडिनबर्ग जाना चाहते हैं, अगर ऐसा है तो आप अपना हाथ उठा दीजिए। पायलट ने बताया कि उसे कोई आइडिया नहीं था कि यह कैसे हुआ। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। क्रू पूरी कोशिश कर रहा था कि यात्रियों की मदद की जा सके।

  6. सोफी ने बताया- डसेलडर्फ के लिए उड़ान भरने से पहले प्लेन एडिनबर्ग पर ही रुका रहा। मैं बहुत हताशहो गई थी। टॉयलेट ब्लॉक हो गए थे और फ्लाइट स्टाफ के पास स्नैक्स भी नहीं थे।

  7. यात्रियों ने ट्विटर पर इस गलती की शिकायत की। सन ट्रान नाम के एक यात्री ने ट्विटर पर लिखा- ये एक ईमानदार गलती लगती है। हालांकि, उस वक्तएयरवेज ने जवाब दिया था कि इस बारे में हमें अभी कोई जानकारी नहीं है कि फ्लाइट गलत जगह कैसे पहुंच गई।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      British Airways flight lands in Edinburgh instead of Dusseldorf by mistake

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/british-airways-flight-lands-in-edinburgh-instead-of-dusseldorf-by-mistake-01505237.html

कैदियों की मदद : मरे चूहों में ड्रग्स-मोबाइल भरकर जेल में फेंक रहे अपराधी


लंदन. ब्रिटेन में अपराधियों ने जेल में बंद कैदियों तक मदद पहुंचाने का नया तरीका निकाला है। वे मरे हुए चूहों में नशीले पदार्थ, मोबाइल फोन, नकदी और कई गैरकानूनी चीजें भरकर जेल की दीवारों में फेंक रहे हैं। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, आपराधिक संगठन यह काम काफी लंबे समय से कर रहे हैं।

अधिकारियों को इसकी पहली भनक हाल ही में तब पड़ी जब दक्षिण-पश्चिम इंग्लैंड के डोरसेट में स्थित एक जेल में तीन चूहों की पेट से सिले हुए शव मिले। इसके बाद चूहों की सर्जरी में पांच मोबाइल फोन, चार्जर, सिम कार्ड और सिगरेट के पेपर भी मिले। पुलिस ने गांजे और तंबाकू समेत भारी मात्रा में सिंथेटिक ड्रग्स भी बरामद किए।

जेलों के सुरक्षा बढ़ाना जरूरी

ब्रिटेन के जेल मंत्री रोरी स्टीवर्ट के मुताबिक, यह दिखाता है कि अपराधी जेल में अपने साथियों को ड्रग्स पहुंचाने के लिए किस हद तक जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन की जेल में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाना अब और जरूरी हो गया है। हालांकि, मंत्री ने यह नहीं बताया कि चूहे जेल के अंदरकैसे पहुंच गए।

नशे में पाए जा रहे जेल के कैदी
अधिकारियों के मुताबिक, इससे पहले भी अपराधियों ने गैरकानूनी चीजें जेल में पहुंचाने के लिए अलग-अलग तरीके आजमाए हैं। इनमें टेनिस बॉल, कबूतर और ड्रोन्स का इस्तेमाल शामिल है। हालांकि, अब नए तरीकों की वजह से जेल में नशेड़ियों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। जहां पिछले साल मार्च में जहां करीब 20% कैदियों की ड्रग रिपोर्ट्स पॉजिटिव थीं। वहीं पिछले 12 महीनों में यह संख्या 23% तक बढ़ गई। इसमें कैदियों के नए-नए तरीके के नशीले पदार्थ लेने की बात सामने आई है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Drugs filled Mice thrown in UK's Jails as drug infected inmates increase
Drugs filled Mice thrown in UK's Jails as drug infected inmates increase
Drugs filled Mice thrown in UK's Jails as drug infected inmates increase

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/drugs-filled-mice-thrown-in-uk-s-jails-as-drug-infected-inmates-increase-01505251.html

शारदा पीठ कॉरिडोर को पाक की मंजूरी, पीओके में 5000 साल पुराने मंदिर के दर्शन कर सकेंगे श्रद्धालु


नई दिल्ली. पाकिस्तान ने हिंदुओं के पवित्र धर्मस्थल शारदा पीठ पर कॉरिडोर बनाने को मंजूरी दे दी है। शारदा पीठ मंदिर पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में स्थित है। यह कश्मीर के कुपवाड़ा से करीब 22 किलोमीटर दूर है। पाक मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस बारे में जल्द ही ऐलान किया जा सकता है। शारदा पीठ हिंदुओं का 5 हजार साल पुराना धर्मस्थल है। इसे महाराज अशोक ने 237 ईसा पूर्व में बनवायाथा।

कश्मीर में रहने वाला हिंदू समुदाय लंबे समय से इस कॉरिडोर को बनाने की मांग कर रहा था। यही नहीं, जम्मू-कश्मीर की मुख्यधारा में रहे राजनीतिक दल जैसे पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) भी इसे लेकर अपनी आवाज उठाती रही है। लाइन ऑफ कंट्रोल से इस पीठ की दूरी 10 किलोमीटर है।

देवी के 18 महाशक्ति पीठों में से एक शारदा पीठ
श्रीनगर से 130 किलोमीटर की दूरी पर स्थित शारदा पीठ देवी के 18महाशक्ति पीठों में से एक है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार यहां देवी सती का दायां हाथ गिरा था। इस मंदिर को ऋषि कश्यप के नाम पर कश्यपपुर के नाम से भी जाना जाता था। शारदा पीठ में देवी सरस्वती की आराधना की जाती है। वैदिक काल में इसे शिक्षा का केंद्र भी कहा जाता था। मान्यता है कि ऋषि पाणीनि ने यहां अपने अष्टाध्यायी की रचना की थी।यह श्री विद्या साधना का महत्वपूर्ण केन्द्र था। शैव संप्रदाय की शुरुआत करने वाले आदि शंकराचार्य और वैष्णव संप्रदाय के प्रवर्तक रामानुजाचार्य दोनों ने ही यहां महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की। शंकराचार्य यहीं सर्वज्ञपीठम पर बैठे तो रामानुजाचार्य ने यहां ब्रह्म सूत्रों पर अपनी समीक्षा लिखी।

कैसे उठी शारदा पीठ कॉरिडोर की मांग?
1947 में भारत और पाक के अलग होने के बाद हिंदू श्रद्धालुओं को मंदिर के दर्शन में परेशानी आने लगी। 2007 में कश्मीरी अध्येता और भारतीय संस्कृति संबंध परिषद के क्षेत्रीय निदेशक प्रोफेसर अयाज रसूल नज्की ने इस मंदिर का दौरा किया था। इसके बाद से ही भारतीय श्रद्धालुओं को दर्शन की अनुमति की मांग उठने लगी। कश्मीरी पंडितों को मंदिर के दर्शन की इजाजत दिलवाने के लिए बनी शारदा बचाओ कमेटी ने इसके लिए भारत सरकार के साथ-साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को भी पत्र लिखा। इसमें मांग की गई थी कि श्रद्धालुओं को मुजफ्फराबाद के रास्ते मंदिर के दर्शन की अनुमति दी जाए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Pakistan gives green signal for opening of Sharda Peeth Corridor

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/pakistan-gives-green-signal-for-opening-of-sharda-peeth-corridor-01505041.html

2995 करोड़ रु. की लागत से बने डेजर्ट रोज म्यूजियम का उद्घाटन 27 मार्च को होगा


दोहा. 43.4 करोड़ डॉलर (2995 करोड़ रुपए) की लागत से बना कतर का डेजर्ट रोज म्यूजियम गुरुवार को आम जनता के लिए खुल जाएगा। इससे एक दिन पहले बुधवार को भव्य उद्घाटन समारोह होगा। जिसमें कतर के शासक शेख तामीन बिन हमद अल थानी और फ्रांस के प्रधानमंत्री एडुअर्ड फिलिप शामिल हो सकते हैं।

  1. डेजर्ट रोज की आकृति के इस म्यूजियम को तैयार करने में करीब 10 साल लगे हैं, जबकि 7 साल में बनाने का लक्ष्य था। 52,000 स्क्वायर मीटर में फैला यह म्यूजियम दोहा के वाटरफ्रंड कॉरनिक पर स्थित है। एयरपोर्ट से सिटी सेंटर के रास्ते में यह पहली देखने लायक इमारत होगी।

  2. डेजर्ट रोज नेशनल म्यूजियम में प्रवेश करते ही 900 मीटर के एरिया में 114 फव्वारे लगे हैं। इसकी घुमावदार छत में 3,600 अलग-अलग आकृति और आकार की 76,000 पट्टियां लगाई गई हैं। अंदर 1,500 मीटर का गैलरी स्पेस है।

  3. म्यूजियम के डायरेक्टर शेख अमना बिन अबदुल्लाजीज बिन जासीम अल-थानी का कहना है कि डेजर्ट रोज म्यूजियम कतर के लोगों की कहानी बताता है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      qatar national museum desert rose worth usd 434 million finally blooms
      qatar national museum desert rose worth usd 434 million finally blooms
      qatar national museum desert rose worth usd 434 million finally blooms

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/qatar-national-museum-desert-rose-worth-usd-434-million-finally-blooms-01504765.html

वैज्ञानिकों ने प्रयोगशाला में बनाया मिनी ब्रेन, मोटर न्यूरॉन बीमारी से निपटने में कारगर साबित होगा


लंदन.वैज्ञानिकों ने प्रयोगशाला में मिनी ब्रेन बनाया है। मांसपेशियों पर नियंत्रण रखने के अलावा इसे रीढ़ की हड्डी (स्पाइनल कॉर्ड) से जोड़ा जा सकेगा। इस खोज को स्ट्रोक और मोटर न्यूरॉन बीमारी से पीड़ित लोगों के इलाज में कारगर माना जा रहा है। इस आर्टिफिशियल ब्रेन का आकार मसूर की दाल जितना बताया जा रहा है। मोटर न्यूरॉन बीमारी से मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग पीड़ित थे।

  1. इस मिनी ब्रेन को जानवरों में जोड़कर देखकर इसका असर देखा गया। कैंब्रिज में शोधकर्ता मैडलीन लंकास्टर का कहना है कि अभी तक इसके अच्छे परिणाम रहे हैं। फिलहाल इस पर रिसर्च जारी है।

  2. मिनी ब्रेन को इंसान से ली गई स्टेम सेल से ही तैयार किया गया। शोधकर्ताओं ने ऐसी तकनीक ईजाद की जिसमें ऑर्गेनॉइड्स को लंबे समय तक जीवित रखा जा सके।

  3. एक शोधकर्ता ने एक झिल्ली (जिससे हवा और तरल आ-जा सके) पर सेरेब्रल ऑर्गेनॉइड्स पैदा करने का तरीका विकसित किया। इससे मांसपेशियों में पोषक तत्वों से युक्त तरल और ऑक्सीजन जा सकेगी। मिनी ब्रेन का यह मॉडल लंबे समय तक काम करेगा। मिनी ब्रेन कुछ वैसा ही स्ट्रक्चर है जैसा 12-16 हफ्ते की गर्भावस्था के दौरान बच्चे में तैयार होता है।

  4. डॉ. लंकास्टर के मुताबिक- हम लोग कई बार एक चरण आगे जाने की बात करते हैं। यह एक अच्छा विचार है। लेकिन हम अभी भी अपने लक्ष्य से काफी दूर हैं। अभी भी स्किजोफ्रेनिया (सिजोफ्रेनिया), ऑटिज्म और अवसाद जैसी बीमारियों का इलाज खोजा जाना बाकी है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      स्टेम सेल से प्रयोगशाल में बनाया गया मिनी ब्रेन।
      Scientists developed mini brain which controls muscles and connect to the spinal cord

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/scientists-developed-mini-brain-which-controls-muscles-and-connect-to-the-spinal-cord-01501942.html

कतर में 27 मार्च को खुलेगा डेजर्ट रोज म्यूजियम


  • डेजर्ट रोज म्यूजियम गुरुवार को 10 साल में तैयार किया गया है। इसमें43.4 करोड़ डॉलर (2995 करोड़ रुपए) की लागत आई।
  • रेगिस्तानी गुलाब की आकृति का यह म्यूजियम 52000 स्क्वायर मीटर में फैला है। इसके 900 मीटर के एरिया में 114 फव्वारे लगे हैं। इसकी घुमावदार छत में 3,600 अलग-अलग आकृति हैं।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Desert, Rose Museum

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/desert-rose-museum-01504861.html

हिंदू बहनों ने कोर्ट से मांगी सुरक्षा, जबरन शादी कराने वाला गिरफ्तार


लाहौर. सिंध प्रांत के घोटकी जिले में होली के दिन अगवा की गई दो बहनों ने बहावलपुर की कोर्ट से अपील की है कि उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जाए। उधर, पुलिस ने उनकी शादी कराने वाले व्यक्ति को खानपुर से गिरफ्तार कर लिया है। एक टीवी चैनल का कहना है कि यह पता नहीं लग सका है कि गिरफ्तार किया गया व्यक्ति कोई मौलवी है। हालांकि, उसे दोनों बहनों का धर्मांतरण और शादी करवाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

  1. सिंध प्रांत के घोटकी जिले में होली के दिन दो बहनों का अपरहण किया गया था। उनका धर्म परिवर्तन कराकर निकाह करवा दिया गया था। घटना के विरोध के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की थी।

  2. लोग तब भड़के जब दोनों बहनों की शादी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। घटना के विरोध में किए गए प्रदर्शन में दोनों बहनों के पिता भी शामिल हुए थे। पाकिस्तान की हिंदू कम्युनिटी अपहर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रही है।

  3. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाक स्थित भारतीय उच्चायोग से मामले की जानकारी मांगी थी। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी इस मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं।

  4. स्वराज के ट्वीट पर पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने ऐतराज जताया। उन्होंने कहा कि यह हमारे देश का आतंरिक मामला है। इस पर सुषमा ने कहा- मैंने केवल रिपोर्ट मांगी है। आप इतने में ही परेशान हो गए।चौधरी ने बताया, ''प्रधानमंत्री ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं।''

  5. पिछले साल चुनाव प्रचार के दौरान इमरान खान ने कहा था कि वह सत्ता में आए तो हिंदु लड़कियों की जबरन शादी को रोकने के लिए कड़े कानून बनाएंगे। उनका कहना था कि वह सभी धर्मों के उत्थान के हक में हैं।

  6. सत्तारूढ़ तहरीक-ए-इंसाफ के नेता और पाक हिंदु काउंसिल के प्रमुख रमेश कुमार वंकवानी ने मांग की कि जबरन शादी के खिलाफ कानून बनना चाहिए। 2016 में इस आशय का एक कानून सिंध असेंबली में पारित हुआ था, लेकिन कट्टरपंथियों के विरोध के चलते सरकार को इसे वापस लेना पड़ा।

  7. पाक में हिंदु सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय हैं। इनकी आबादी लगभग 75 लाख है। सिंध प्रांत में हिंदु बहुतायत से रहते हैं। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि सिंध के उमरकोट जिले में हर माह लगभग 25 विवाह जबरन कराए जाते हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Pakistan News: 2 Hindu Minors Abducted, Married and Forcefully Converted to Islam, Asks for Police Protection

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/pakistan-news-2-hindu-minors-abducted-married-and-forcefully-converted-to-islam-asks-for-01504757.html

पाकिस्तान में दो हिंदू बहनों के अपहरण और धर्मांतरण पर विदेश मंत्री ने रिपोर्ट मांगी तो पाक के मंत्री घबराए, सुषमा का जवाब-आप इतने क्यों परेशान?


वीडियो डेस्क. पाकिस्तान के सिंध प्रांत में दो नाबालिग हिंदू बहनों का मामला गरमा गया है। दोनों लड़कियों रीना और रवीना के पिता का वीडियो वायरल हुआ, तो विदेश मंत्री सुषमा स्वराज एक्टिव हो गईं और उन्होंने पाकिस्तान में भारतीय दूतावास से पूरे मामले की रिपोर्ट मांग ली, जिसके बाद ट्वीट वॉर छिड़ गया। सुषमा के ट्वीट पर पाक के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने कहा कि ये उनके मुल्क का अंदरूनी मामला है। जिसका जवाब देते हुए सुषमा ने लिखा कि 'उन्होंने सिर्फ रिपोर्ट मांगी है, इतना परेशान क्यों हो रहे हैं।'

बता दें, मामला सिंध के घोटकी जिले के हाफिज सलमान गांव का है जहां होली के दिन दोनों बहनों को अगवा कर लिया गया था। पिता ने आरोप लगाया है कि उनकी बेटियों का धर्मांतरण करा दिया गया है। पिता का वीडियो वायरल होने के बाद मामला गरमाया तो प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी जांच के आदेश दे दिए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Two Hindu girls abducted in Pakistans Sindh, Sushma and pak minister war of words

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/world-news/news/sushma-slams-pakistan-minister-over-two-hindu-girls-abduction-issue-6038551.html

गोलीबारी में बची छात्रा की मौत, अवसाद में खुदकुशी का शक


  • फ्लोरिडा के पार्कलैंड में स्थित स्टोनमैन डगलस हाईस्कूल की एक स्टूडेंट सिडनी आइलो (19) की मौत हो गई। उसके सिर में गोली लगने का निशान मिला। घटना पिछले हफ्ते की है।
  • पुलिस इसे शुरुआती तौर पर आत्महत्या मान रही है। आइलो की मां ने बताया कि पिछले साल स्कूल में हुए हमले में बचने के बावजूद आइलो अवसाद का शिकार रहीं।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
2nd survivor of US school shooting has died US, school shooting

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/2nd-survivor-of-us-school-shooting-has-died-us-school-shooting-01504693.html

भारतीय अरबपति ने लंदन पुलिस यार्ड को फाइव स्टार होटल में बदला, 685 करोड़ रु खर्च किए


एडिनबर्ग (ब्रिटेन). भारतीय अरबपति यूसुफ अली कादेर ने स्कॉटलैंड स्थित लंदन पुलिस यार्ड को अलीशान होटल में बदल दिया है। इसे साल के अंत में खोला जाएगा। यूसुफ ने 'ग्रेट स्कॉटलैंड यार्ड' नाम की इस इमारत को 2015 में एक हजार करोड़ रुपए में खरीदा था। इसे फाइव स्टार होटल बनाने में करीब 685 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं।

इस होटल में 153 कमरे हैं। यहां ठहरने वालों को एक रात के करीब 9 लाख रुपए चुकाने होंगे। इस ऐतिहासिक इमारत का पट्टा दिसंबर 2013 में गेलियार्ड होम्स को बेच दिया गया था। रक्षा मंत्रालय ने इसे धन जुटाने के उद्देश्य से बेचा था। इस इमारत का निर्माण 1829 में हुआ था। केरल निवासी यूसुफ अली कादेर अबू धाबी स्थित लुलु समूह के प्रमुख हैं।

yard

इस यार्ड में अपराधियों को रखा जाता था
रिपोर्ट के मुताबिक, यहां अपराधियों को रखे जाने वाले कमरों को भी किराए से लिया जा सकेगा। होटल में बार, चाय पार्लर, बालरूम और रेस्तरां भी है। यहां मेहमानों को लंदन के चर्चित अपराधियों की याद दिलाई जाएगी। उन्हें कैदियों द्वारा तैयार की गई कलाकृतियां भी दिखाई जाएंगी।ग्रेट स्कॉटलैंड यार्ड में लंदन पुलिस अपराधियों को रखती थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
लंदन पुलिस यार्ड अब आलीशन होटल है।
यूसुफ अली कादेर ने 2015 में खरीदकर इसे कुछ इस तरह रेनोवेट करवाया है।
ग्रेट स्कॉटलैंड यार्ड में लंदन पुलिस अपराधियों को रखती थी।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/scotland-yard-opens-its-doors-become-boutique-hotel-01504685.html

जेनेटिक जीनोलॉजी से 40 साल बाद महिला के कत्ल की गुत्थी सुलझी


  • अमेरिका के सैन डिएगो की एक महिला की हत्या का मामला जेनेटिक जीनोलॉजी के जरिए सुलझा। जांच में पुलिस को पता लगा कि हत्या के आरोपी की 20 साल पहले मौत हो चुकी है।
  • पुलिस ने बताया कि 21 मार्च 1979 को बारबरा बेकर (37) अपने घर में मृत पाई गई थीं। उनके शरीर पर गहरे जख्म के निशान थे। उन्होंने हत्यारे से खुद को बचाने के लिए संघर्ष किया था।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
genetic genealogy identify women's murderer after 40 years

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/genetic-genealogy-identify-women-s-murderer-after-40-years-01504663.html

महिला स्टाफर को पार्टनर बनाने के लिए दुनिया की चौथी बड़ी वेंचर फर्म ने नियम बदल डाले


कैलिफोर्निया. एंड्रेसीन होरोविट्ज की गिनती दुनिया की बड़ी वेंचर कैपिटल फर्मों में होती है। इसने शुरुआत से एक अनोखा नियम बना रखा था। यह फर्म तभी किसी को अपना पार्टनर बनाती थी, जब वह किसी बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनी का संस्थापक या सीईओ हो। उसके किसी स्टाफ को पार्टनर बनने का मौका नहीं मिलता था। लेकिन, चाइनीज मूल की कोनी चान ने फर्म को यह नियम बदलने पर मजबूर कर दिया। चान 2011 में एंड्रेसीन होरोविट्ज में बतौर एनालिस्ट नियुक्त की गई थीं। लेकिन आज वह इसकी पार्टनर हैं।

  1. यह पहला मौका है जब 50,000 करोड़ रुपए का फंड मैनेज करने वाली एंड्रेसीन होरोविट्ज ने किसी स्टाफ को पार्टनर बनाया है। एंड्रेसीन होरोविट्ज दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वेंचर कैपिटल फर्म है। ये कंपनियां नई कंपनियों में पैसे लगाती हैं। इसमें जोखिम होता है, इसलिए इन्हें वेंचर फर्म कहा जाता है।

  2. फर्म के सीईओ बेन होरोविट्ज कहते हैं, 'कोनी चान में मैंने वह बात देखी जो मैंने अपने पूरे करिअर के दौरान किसी और में नहीं देखी थी। इंटरव्यू के दौरान उन्होंने जिस तरह मेरे सभी सवालों के जवाब दिए और फर्म के बारे में उनका जो नजरिया था, उससे स्पष्ट था कि यह लड़की अपने काम में सर्वश्रेष्ठ होना चाहती है। उनकी क्षमता को देखकर बाद में हमने अपना नियम बदला और उन्हें पार्टनर बनाया।'

  3. कंज्यूमर टेक्नोलॉजी में उभरते ट्रेंड को पहचानना कोनी चान की सबसे बड़ी खासियत है। एंड्रेसीन होरोविट्ज ने पिंटेरेस्ट और लाइम जैसी कंपनियों में उन्हीं की सलाह पर निवेश किया। चीन की टेक्नोलॉजी कंपनियों और वहां के बाजार के बारे में उनकी समझ इतनी अच्छी है कि उन्हें सिलिकॉन वैली की चाइनीज एक्सपर्ट भी कहा जाने लगा है।

  4. कोनी चान की एक और खासियत है। वह कभी अपनी बात और अपना मत रखने से पीछे नहीं हटती हैं। चान कहती हैं, 'मैं यह परवाह नहीं करती कि फर्म के सीनियर मुझसे सहमत होते हैं या नहीं। चाहे वो फर्म के फाउंडर मार्क एंड्रेसीन हों या बेन होरोविट्ज। मेरा काम ही है विश्लेषण के जरिए सलाह देना और फैसले लेना। इसलिए सहमति या असहमति की परवाह करना मेरे लिए संभव नहीं है।'

  5. चान हमेशा से इतनी स्पष्टवादी और मुखर नहीं थीं। स्कूल के दिनों में दोस्त उन्हें शर्मीली और अंतर्मुखी लड़की कहते थे। उन्हें गंभीरता से नहीं लिया जाता था। इस कमी को दूर करने के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान उन्होंने पब्लिक स्पीकिंग क्लास में दाखिला भी लिया। यहां उन्होंने लोगों के सामने बोलना और अपनी बात दमदार तरीके से रखना सीखा।

  6. स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से निकलने के बाद चान ने कंप्यूटर कंपनी एचपी ज्वाइन की। 2011 में वह चीन में नया ऑपरेटिंग सिस्टम लॉन्च करने के प्रोजेक्ट पर काम कर रही थीं। एक दिन उन्होंने देखा कि किसी ने लिंक्डइन पर उनके प्रोफाइल को लाइक किया है और उनसे मिलने की इच्छा जताई है। वह लाइक और मैसेज एंड्रेसीन होरोविट्ज फर्म की ओर से आया था। इसके बाद फर्म के संस्थापक बेन होरोविट्ज ने उनका इंटरव्यू लिया और वे बतौर एनालिस्ट चुन ली गईं। सात साल बाद 2018 में फर्म ने चान को पार्टनर बनाया।

  7. वे अब भी फर्म में एशिया नेटवर्क की हेड हैं। वे चीन सहित एशिया के सभी देशों में उभरते हुए ट्रेंड और अनोखे स्टार्टअप पर नजर रखती हैं। यहां की किन कंपनियों में फर्म निवेश करेगा इसका फैसला भी खुद लेती हैं। एंड्रेसीन होरोविट्ज में आने वाले समय में उनके कार्यक्षेत्र में और भी विस्तार हो सकता है।

  8. कोनी चान की उपलब्धि इस मायने में भी खास है कि दुनिया के टॉप 100 वेंचर कैपिटल फर्म में सिर्फ 8% महिला पार्टनर हैं। वहीं, अमेरिका के 74% कैपिटल वेंचर फर्म में एक भी महिला पार्टनर नहीं है। हार्वर्ड बिजनेस स्कूल की 2018 की एक स्टडी के मुताबिक जिन फर्मों ने महिला पार्टनर की संख्या 10% भी बढ़ाई है, उनके रिटर्न में बढ़ोतरी हुई है। इन फर्मों का मुनाफा भी कम से कम 10% बढ़ा है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      कोनी चान।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/venture-capital-firm-andreessen-horowitz-changed-rules-to-partner-with-connie-chan-01504647.html

10 दिन में अफ्रीकी देशों में 750 से ज्यादा की मौत, हैजा-मलेरिया जैसी बीमारियां नई चुनौती


बैरा (मोजाम्बिक). तीन अफ्रीकी देशों में इदाई तूफान से मरने वालों की तादाद 10 दिनों में 750 तक पहुंच चुकी है। मोजाम्बिक, जिम्बाब्वे और मालावी में बिजली और पानी की व्यवस्थाएं दुरुस्त करने का काम चल रहा है। अधिकारियों का कहना है कि हैजा-मलेरिया जैसी बीमारियां अब हमारे सामने नई चुनौती हैं।

  1. मोजाम्बिक में 446, जिम्बाब्वे में 259 और मालावी में 56 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। मोजाम्बिक के पर्यावरण मंत्री सेल्सो कोरेया ने कहा कि मौतों का आंकड़ा शुरुआती है।जलस्तर घटेगा तो औरशव बरामद होंगे। तब यह आंकड़ा 1000 तक पहुंच सकता है।

  2. सेल्सो ने बताया कि अभी 1.10 लाख लोग कैंपों में रह रहे हैं। बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने का काम धीमा पड़ा हैक्योंकि राहतकर्मी संक्रामक बीमारियों को फैलने से रोकने के उपाय कर रहे हैं।हैजा और मलेरिया फैल रहा है। इसेरोक पाने में मुश्किलें आ रही हैं।

  3. मोजाम्बिकके बैरा और डोंडो शहरों में पानी की व्यवस्था बहाल हो गई है और लोगों को पीने के लिए साफ पानी मुहैया कराया जा रहा है। बैरा के इलाकों और कुछ दूसरी जगहों पर रेलवे लाइनें दोबारा खोली गई हैं।

  4. उन्होंने बताया कि कुछ इलाकों में सड़क व्यवस्था में भी सुधार हुआ है। इसके चलते दवाएं और दूसरी जरूरी चीजें प्रभावित लोगों तक पहुंचाई जा रही हैं। सेल्सों ने कहा किहमारा फोकस अभी लोगों की जान बचाने पर है।

  5. संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार अभियान केडिप्टी डायरेक्टर रोड्स स्टैम्पा ने कहा- दो बड़े फील्ड हॉस्पिटल और वाॅटर प्यूरीफिकेशन सिस्टम लगातार काम कर रहे हैं। ड्रोन से भी प्रभावित इलाकों पर नजर रखी जा रही है। प्रभावितों तक मदद पहुंचाने के प्रयास जारी हैं।

  6. स्टैम्पा ने बताया कि यह आपदा असाधारण है। ये केवल बाढ़ की वजह से नहीं है। पहले हुई बारिश की वजह से भी यहां समस्याएं थीं। ऐसे हालात में कोई भी सरकार अकेले सबकुछ ठीक नहीं कर सकती।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Cyclone death toll above 750; fighting disease new challenge

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/cyclone-hit-southern-african-countries-death-toll-risen-above-750-disease-new-challenge-ne-01504479.html

टेस्ला के सॉफ्टवेयर की खामी का पता लगाने वाले हैकर्स ने जीती टेस्ला कार


वैंकूवर. इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी टेस्ला ने अपने सिस्टम में खामी का पता लगाने के लिए इस साल भी हैकिंग कॉम्पटीशन रखा, जिसमें एक हैकर्स ग्रुप नेमॉडल थ्री कार और 35 हजार डॉलर (करीब 24 लाख 21 हजार रुपए) इनाम जीता।

फ्लूरोसेटेट हैकर्स ग्रुप के सदस्यएमट कामा और रिचर्ड झू टेस्ला के व्हीकल सिस्टम को भेदने में कामयाब रहे। इन्होंनेमॉडल-3 कार के इंफोटेनमेंट सिस्टम को टारगेट किया और इसे नियंत्रण में ले लिया।

2014 में लॉन्च हुआ बग बाउंटी प्रोग्राम
टेस्ला केव्हीकल सॉफ्टवेयर केवाइस प्रेसीडेंट डेविड लाउ ने बताया कि हमने 2014 में बग बाउंटी प्रोग्राम लॉन्च किया था। तभी से हम लगातारछात्रों के साथ मिलकर सॉफ्टवेयर की खामियों का पता लगा रहे हैं।हमारा मकसद उपभोक्ताओं को बेहतरीन आइडियाज का लाभ देना है।टेस्ला अपने बग बाउंटी प्रोग्राम के तहत कईहैकर्स को लाखों डॉलरबतौर इनाम दे चुकी है, जिन्होंने कंपनी के सिस्टम में गड़बड़ी को पकड़ा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
After exposing system error hackers win Tesla car
प्रतीकात्मक फोटो।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/after-exposing-system-error-hackers-win-tesla-car-01504087.html

स्कूल में एक साल पहले हुई गोलीबारी में बची लड़की की मौत, पुलिस को खुदकुशी का शक


न्यूयॉर्क. फ्लोरिडा के पार्कलैंड में स्थित स्टोनमैन डगलस हाईस्कूल की एक स्टूडेंटसिडनी आइलो (19)की मौत हो गई। उसके सिर में गोली लगने का निशान मिला।पुलिस इसे शुरुआती तौर परआत्महत्या मान रही है। घटना पिछले हफ्ते की है। आइलो का अंतिम संस्कार शुक्रवारको किया गया, लेकिन पुलिस ने इसकी जानकारी रविवार को दी।

कोरल स्प्रिंग पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि इस मामले की जांच जारी है। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि छात्रा की मौत किन परिस्थितियों में हुई? अगर इस बात का कोई कनेक्शन है तो वह पिछले साल हाईस्कूल में हुई गोलीबारी से हो सकता है।आइलो की मां ने बताया कि स्कूल में हुए हमले में बच जाने के बावजूद आइलो अवसाद का शिकार रहीं। लंबे समय तक उसका इलाज भी चला।

हमले मेंआइलो समेत 2 विद्यार्थी ही बचे थे
14 फरवरी 2018 को बंदूकधारी ने हाईस्कूल में गोलीबारी की थी। इस हमले में 14 विद्यार्थी और तीन स्टाफ मेंबर मारे गए थे, जबकि 17 लोग घायल हुए थे। इस दौरान दो बच्चे बच गए थे, जिनमें से एक आइलो थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
2nd survivor of US school shooting has died

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/2nd-survivor-of-us-school-shooting-has-died-01504543.html

अमेरिकी अटार्नी जनरल ने कहा- ट्रम्प के चुनाव अभियान में नहीं था रूसी दखल


वॉशिंगटन. अमेरिका के अटार्नी जनरल विलियम बर ने कहा है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के चुनाव में रूसी दखल के प्रमाण नहीं मिले हैं। विशेष अधिवक्ता रॉबर्ट मुलर की जांच रिपोर्ट का हवाला देते हुए बर ने कहा कि ट्रम्प ने अपराध नहीं किया। हालांकि,रिपोर्ट उन्हें पूरी तरह से दोषमुक्त भी नहीं कर रही है। साक्ष्य दोनों तरफ इशारा कर रहे हैं।

  1. मुलर की रिपोर्ट के सार्वजनिक होने के बाद ट्रम्प ने फ्लोरिडा में मीडिया से कहा कि यह सबसे शर्मनाक घटना थी। उनका कहना था कि शर्मनाक है कि आपके देश और राष्ट्रपति को यह सब झेलना पड़ा। एक लंबी जांच और कई लोगों को परेशान करने के बाद केवल यह घोषणा कर दी गई कि चुनाव में रूस का दखल नहीं था। उन्होंने यह भी कहा कि यह एक पूर्ण रिहाई है।

  2. अमेरिका के विशेष अधिवक्ता रॉबर्ट मुलर ने 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रूस के दखल दिए जाने के मामले की गोपनीय जांच पूरी करके एक दिन पहले अटॉर्नी जनरल विलियम बर को सौंप दी थी। मुलर करीब दो साल से अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूस के दखल मामले की जांच कर रहे थे।

  3. एफबीआई के पूर्व निदेशक मुलर ने 22 माह की जांच के दौरान तीन कंपनियों और 34 व्यक्तियों पर आपराधिक आरोप लगाए थे। इनमें से सात पर आरोप तय किए और एक को दोषी ठहराया। मुलर ने ट्रम्प से भी सवाल किए थे, जिनका उन्होंने लिखित में जवाब दिया था। राष्ट्रपति चुनावों में ट्रम्प पर रूस से मिलीभगत कर चुनाव नतीजों को प्रभावित करने का आरोप लगा था।

  4. जांच की वजह से ट्रम्प पर पिछले दो सालों से खतरा मंडरा रहा था। डेमोक्रेट सांसद लगातार कह रहे थे कि रूसी साजिश के चलते ही 2016 के चुनाव में ट्रम्प को जीत मिली थी। डेमोक्रेट्स मुलर की जांच रिपोर्ट के आधार पर संसद में महाभियोग प्रस्ताव लाने की तैयारी भी कर रहे थे। 2020 के चुनाव की रणनीति भी मुलर की रिपोर्ट के आधार पर तय की जा रही थी।

  5. कांग्रेस को भेजे गए चार पेज के पत्र में बर ने कहा कि कुछ रूसी लोगों ने ट्रम्प को चुनाव के दौरान मदद की पेशकश की थी, लेकिन जांच के दौरान कोई साक्ष्य नहीं मिला जिससे चुनाव में रूसी साजिश पर मुहर लगती हो।

  6. बर ने संसद को बताया कि मुलर की जांच रिपोर्ट किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी। इसमें कई सवालों के जवाब नहीं दिए जा सके हैं। उनका कहना है कि यह एक कठिन मसला है कि ट्रम्प के एक्शन और इरादे को न्याय प्रक्रिया में बाधा माना जाए या नहीं। हालांकि, उनका कहना है कि न्याय विभाग मान रहा है कि इस बात को साबित करने के लिए पर्याप्त साक्ष्य नहीं हैं।

  7. ट्रम्प के मैनेजर ब्रेड प्रेस्कले ने कहा कि मुलर ने अपनी जांच के दौरान 28 सौ लोगों को समन भेजे और पांच सौ सर्च वारंट जारी किए। पांच सौ लोगों को गवाही के लिए बुलाया गया तो जांच पूरी करने के लिए एफबीआई के 40 एजेंटों के साथ 19 वकीलों की सेवाएं ली गईं। करोड़ों रुपये भी जांच पर खर्च हुए हैं। प्रेस्कले का कहना है कि डेमोक्रेट्स की वजह से यह सब परेशानी झेलनी पड़ी है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      डोनाल्ड ट्रम्प

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/us-presidential-election-issue-attorney-general-william-barr-said-no-russian-conspiracy-fo-01504569.html

इदाई से 10 दिन में अफ्रीकी देशों में 750 से ज्यादा की मौत


  • इदाई तूफान के बाद तीन अफ्रीकी देशों मोजाम्बिक, जिम्बाब्वे और मालावी में बिजली-पानी की व्यवस्थाएं दुरुस्त करने का काम चल रहा है।
  • अधिकारियों का कहना है कि हैजा-मलेरिया जैसी बीमारियां अब हमारे सामने नई चुनौती हैं। मोजाम्बिक में 446, जिम्बाब्वे में 259 और मालावी में 56 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Cyclone Ida, Idai, Mozambique, Zimbabwe, Malawi

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/cyclone-ida-idai-mozambique-zimbabwe-malawi-01504553.html

इन्वेस्टमेंट एसोसिएशन ने कंपनियों से कहा- शीर्ष अधिकारियों का पेंशन पैकेज घटाएं


लंदन. हाल ही में ब्रिटेन की इन्वेस्टमेंट एसोसिएशन ने वहां की बड़ी कंपनियों से बोर्ड में महिलाओं की संख्या 33% करने को कहा है। ऐसा नहीं करने पर उनकी रेटिंग घटाने की चेतावनी दी है, जिससे उनके लिए पैसे जुटाना मुश्किल हो जाएगा। अब इस एसोसिएशन ने कंपनियों के सीईओ का पेंशन पैकेज घटाने की नई पहल की है।

  1. ब्रिटेन की सरकार भी करीब एक दशक से इस कोशिश में लगी है, लेकिन उसे अब तक खास सफलता नहीं मिली। इन्वेस्टमेंट एसोसिएशन ने कंपनियों से पूछा है कि वे शीर्ष अधिकारियों के पैकेज कैसे तय करती हैं और उसकी वजह क्या है। एसोसिएशन का मानना है कि कंपनी के दूसरे कर्मचारियों की पेंशन में जितनी रकम जमा होती है, शीर्ष अधिकारियों की पेंशन में भी उसी अनुपात में रकम जमा होनी चाहिए।

  2. शीर्ष एक्जीक्यूटिव्स के पिछले पैकेज को देखते हुए एसोसिएशन की यह पहल काफी महत्वपूर्ण लगती है। एक अनुमान के मुताबिक ब्रिटेन की जो कंपनियां 2008 की मंदी की चपेट में आईं, उनमें ज्यादातर ने एक्जीक्यूटिव की आखिरी सैलरी के दो-तिहाई के बराबर पेंशन का एग्रीमेंट किया था।

  3. रॉयल बैंक ऑफ स्कॉटलैंड के पूर्व सीईओ फ्रेड गुडविन का अच्छा उदाहरण है। बैंक ने उन्हें सालाना 6.5 करोड़ रुपए रिटायरमेंट इनकम देने का एग्रीमेंट किया था। इसके लिए करीब 250 करोड़ रुपए अलग रखे गए थे। मंदी के समय बैंक की हालत खराब हुई तो पहले इसे घटाकर 5 करोड़ और फिर 3 करोड़ रुपए किया गया।

  4. आर्थिक संकट के बाद बाकी दुनिया के साथ ब्रिटेन में भी कंपनी के शीर्ष अधिकारियों और कर्मचारियों के बीच पैकेज का अंतर कम करने की मुहिम चली। वहां की सरकार ने एक बड़ा कदम यह उठाया है कि शीर्ष अधिकारियों के लिए अधिक से अधिक 31 लाख रुपए पेंशन की सीमा तय कर दी है। लेकिन कंपनियों ने इससे बचने के तरीके भी निकाल लिए। अब इन्वेस्टमेंट एसोसिएशन की मुहिम से इस पर अंकुश लगने की संभावना व्यक्त की जा रही है। एसोसिएशन ने ब्रिटेन की करीब 250 कंपनियों में निवेश कर रखा है। इसके पास करीब 700 लाख करोड़ रुपए की संपत्ति है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      प्रतीकात्मक तस्वीर।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/britain-investment-association-asked-companies-to-reduce-pension-packages-of-top-executive-01504519.html

इलेक्ट्रिक कार से 3 साल में की 90 हजार किमी यात्रा, क्राउड फंडिंग से जुटाया पैसा


हॉलैंड. एक इलेक्ट्रिक कार ड्राइवर ने लोगों के सहयोग से तीन सालों में 90 हजार किमी की यात्राएं की। जीरो कार्बन उत्सर्जन का संदेश लिए वीब वेकर मार्च 2016 में घर से बिना पैसों के निकल गए। उन्होंने यात्रा के दौरान कार की रिपेयरिंग में 20 हजार यूरो (करीब 15 लाख 62 हजार रुपए) खर्च किए। दिलचस्प बात यह है कि वेकर ने यह पैसा लोगों की मदद और काम करके कमाया।

  1. वेकर ने अपनी इलेक्ट्रिक कार फॉक्सवैगन (द ब्लू बैंडिट) से नार्वे से ईरान और म्यांमार से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) तक की यात्रा की। इस सफर का आखिरी पड़ाव सिडनी था। वेकर ने कहा कि इस दौरान हुए खर्च का आकलन करना मुश्किल है। हालांकि, यात्रा में भोजन और रहने के लिए जगह मुझे मुफ्त में ही मिल गई।

  2. वेकर ने बताया कि यात्रा के दौरान बहुत लोगों ने मेरी मदद की। मैंने मिडिल ईस्ट और भारत के असुरक्षित इलाकों की यात्राएं भी की। हर जगह स्थानीय लोगों ने मानवता का परिचय दिया। वेकर का 'प्लग मी इन' प्रोजेक्ट लोगों को मदद के तीन तरीकों की पेशकश करता है। पहला भोजन, दूसरा रहने के लिए जगह और तीसरा उनके वाहन को चार्ज करने की व्यवस्था।

  3. वेकर ने 10 साल पहले एक साहसी बैकपैकर के रूप में इसकी योजना बनाई। उन्होंने बताया, "जब मैंने यात्रा की शुरुआत की तो रूट को लेकर कुछ भी पता नहीं था। कभी नहीं सोचा था कि यह इतना लंबा हो जाएगा। लेकिन, यात्रा के दौरान बहुत लोगों ने मुझे रहने के लिए जगह दी और मदद की। आनंद लेने के लिए जीवन में पहला मौका मिला।''

  4. वेकर ने बताया कि कार का फ्यूज लगभग एक महीना पहले खराब होगया था। ऑस्ट्रेलिया में तापमान 49 डिग्री सेल्सियस से अधिक था। कार में मुझे गंध को हटाने के लिए कॉफी बीन्स रखने पड़े। जहां भी संभव था मैंने ड्राइविंगकी। तीन बार कार को जहाज से भेजा। इतना ही नहीं पैसे जुटाने के लिए कई जॉब भी किए।

  5. वेकर ने कहा कि भारत में कार के पीछे के टायर खराब हो गए। शॉर्ट सर्किट से चार्जर में भी विस्फोट हो गया। इंडोनेशिया में कार में पानी घुस गया, जिसे हॉलैंड के मैकेनिक ही ठीक कर सकते थे। फिर मैंने क्राउड फंडिंग के जरिए पांच हजार यूरो (करीब 4 लाख रुपए)जुटाए। हैरानी यह थी कि मैं इस काम में सफल रहा।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      वीब वेकर (फाइल फोटो)।
      वीब वेकर।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/electric-car-driver-travels-90000-km-in-three-years-as-strangers-pay-his-way-01503787.html

40 साल बाद सुलझी महिला के कत्ल की गुत्थी, परिवार का सदस्य आरोपी निकला


कैलिफोर्निया. सैन डिएगो की एक महिला की हत्या का मामला चार दशकों बाद सुलझा। पुलिस के मुताबिक जेनेटिक जीनोलॉजी के जरिए इस केस को हल किया गया। हालांकि, जांच में पता लगा कि हत्या के आरोपी की भी 20 साल पहले मौत हो चुकी है।

  1. पुलिस ने बताया कि 21 मार्च 1979 को बारबरा बेकर (37) अपने घर में मृत पाई गई थीं। उनके शरीर पर गहरे जख्म के निशान थे, जो इस बात का संकेत थे कि उन्होंने हत्यारे से खुद को बचाने के लिए संघर्ष किया था। वहां मौजूद खून की बूंदें यह दर्शाती हैं कि हत्यारा भी इस हमले में घायल हुआ था।

  2. पुलिस ने कहा कि घटनास्थल पर जो भी मिला, उसे कंबाइंड डीएनए इंडेक्स सिस्टम पर अपलोड किया गया। मगर कुछ हाथ नहीं लगा। इस मामले में पहली सफलता अक्टूबर 2018 में मिली, जब सैन डिएगो के जांचकर्ता एफबीआई की जेनिलॉजी जांच टीम से मिले। जांच टीम ने पाया कि जीनोलॉजिकल डाटाबेस के बूते इस गुत्थी को सुलझाया जा सकता है।

  3. मुख्य जेनेटिक जीनोलॉजिस्ट सीसी मूरे ने बताया कि पब्लिक जीनोलॉजिकल डेटाबेस के जरिए बारबरा के परिवार और उनसे जुड़े लोगों के डीएनए का पूरा चार्ट बनाया ताकि संदिग्ध व्यक्ति के डीएनए की पहचान हो सके।

  4. जांचकर्ताओं ने पाया कि बेकर के परिवार का सदस्य पॉल जीन चॉर्ट्रेंड हत्या का आरोपी हो सकता है। उसके परिजनों के डीएनए सैंपल भी लिए गए, जो कि घटनास्थल पर मिली खून की बूंदों के सैंपल से मैच हो गए। इससे स्पष्ट हो गया कि चॉर्ट्रेंड ही हत्या का आरोपी है। हालांकि उसकी मौत 1995 में हो चुकी है।

  5. सैन डिएगो पुलिस का कहना था कि इस मामले को सुलझाकर पूरी टीम बेहद खुश है। हालांकि बेकर के परिवार को सच जानने के लिए चार दशक का इंतजार करना पड़ा।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      बारबरा बेकर।
      बारबरा बेकर।
      genetic genealogy identify women's murderer after 40 years

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/genetic-genealogy-identify-women-s-murderer-after-40-years-01503633.html

पाक में हिंदू बहनों के धर्मांतरण के मामले में सुषमा ने भारतीय उच्चायोग से रिपोर्ट मांगी


  • पाकिस्तान के सिंध प्रांत में दो नाबालिग हिंदू बहनों के धर्मांतरण और शादी करवाने के मामले मेंसुषमा स्वराज ने जानकारी मांगी है।
  • पाक प्रधानमंत्री इमरान खान ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं। हालांकि, सुषमा के ट्वीट पर पाक मंत्री फवाद चौधरी ने कहा, यह हमारे देश का आतंरिक मामला है।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Pakistan Prime Minister Imran Khan has ordered a probe into Hindu girls abduction

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/pakistan-prime-minister-imran-khan-has-ordered-a-probe-into-hindu-girls-abduction-01504347.html

हिंदू बहनों के धर्मांतरण को मंत्री ने आंतरिक मामला बताया, सुषमा ने कहा- रिपोर्ट मांगते ही घबरा गए


नई दिल्ली/ इस्लामाबाद. पाकिस्तान के सिंध प्रांत में दो नाबालिग हिंदू बहनों के धर्मांतरण और शादी करवाने के मामले की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने जानकारी मांगी है। सुषमा ने पाक स्थित भारतीय उच्चायोग से इसकी रिपोर्ट मांगी है। इस बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी इस मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। हालांकि, सुषमा स्वराज के ट्वीट पर पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरीने ऐतराज जताया। उन्होंने कहा कि यह हमारे देश का आतंरिक मामला है। इस पर सुषमा ने कहा- मैंने केवल रिपोर्ट मांगी है। आप इतने में ही परेशान हो गए।

पाक के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने बताया, ''पाकिस्तान प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं। वे चाहते हैं कि इस तरह की घटना आगे से न हो, इसके लिए ठोस कदम उठाए जाएं।''

होली की शाम हुआ अपहरण
सुषमा नेट्वीट किया, ''मैंने भारतीय उच्चायोग से इस बारे में रिपोर्ट भेजने के लिए कहा है।'' होली की शाम सिंध की दो बहनों का अपहरण हुआ, जिनमें से एक की उम्र 15 और दूसरी की 13 साल बताई जा रही है। फवाद खान के ट्वीट पर सुषमा ने कहा कि मैंने केवल रिपोर्ट ही मांगी है और इसमें ही घबरा जाना आपके अपराधभाव को दिखाता है।

सिंध प्रांत में हुई घटना

सिंध प्रांत के घोटकी जिले में होली के दिन दो बहनों का अपरहण किया गया और उनका धर्म परिवर्तन कराकर निकाह करवा दिया गया था। घटना के विरोध के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। इस घटना के विरोध में किए गए प्रदर्शन में दोनों बहनों के पिता भी शामिल हुए थे।पाकिस्तान में मौजूद हिंदू कम्युनिटी अपहरणकर्ताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर रही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज।
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/pakistan-prime-minister-imran-khan-has-ordered-a-probe-into-hindu-girls-abduction-01504191.html

सिस्टम में खामी का पता लगाकर हैकर्स ग्रुप ने जीती टेस्ला कार


  • अमेरिका की इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी टेस्ला ने अपने सिस्टम में खामी का पता लगाने के लिए इस साल भी हैकिंग कॉम्पटीशन रखा था।
  • इसमें एक हैकर्स ग्रुप ने मॉडल थ्री कार और 35 हजार डॉलर (करीब 24 लाख 21 हजार रुपए) इनाम जीता। कंपनी 2014 से ऐसी प्रतियोगिताओं में अब तक लाखों डॉलर के इनाम दे चुकी है।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Electric Cars tesla

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/electric-cars-tesla-01504135.html

ब्रिटेन में चोरों ने उड़ाई भारतीय मूल के लोगों की नींद, पांच साल में चोरी कर लिया एक हजार करोड़ से ज्यादा का सोना


लंदन. ब्रिटेन में रहने वाले भारतीय मूल के लोगों की नींद पिछले कुछ सालों से उड़ी हुई है क्योंकि वहां के चोरों के निशाने पर भारतीय परिवार ही हैं। पुलिस द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक साल 2013 से 2018 के बीच पिछले 5 सालों के दौरान करीब 28,000 चोरी के मामले दर्ज हुए। इनमें पीड़ित ज्यादातर भारतीय मूल के थे। इस दौरान उनका करीब 1,300 करोड़ रुपए का सोना चोरी चला गया। पुलिस के मुताबिक भारतीय लोग सोना ज्यादा खरीदते हैं और उसे घर पर ही रखते हैं इसलिए चोर भारतीयों को निशाना बना रहे हैं।

- ब्रिटिश पुलिस (स्कॉटलैंड यार्ड) केआंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा चोरियां ग्रेटर लंदन (958 करोड़ रु.) में हुईं, इसके बाद ग्रेटर मैनचेस्टर (871 करोड़ रु.) का नंबर आता है।पुलिस के अनुसार साल 2017-18 के बीच 192 करोड़ रुपए की 3,300 चोरियां हुईं। केन्ट पुलिस ने इस दौरान 145 करोड़ रुपए की 89 चोरी और ग्रेटर मैनचैस्टर पुलिस ने 136 करोड़ रुपए की 238 चोरियों के मामले दर्ज किए।
- जांच करने वाले पुलिसकर्मियों का कहा है कि कुछ पीड़ितों के पास से बड़ी मात्रा में सोने आभूषण मिले थे। चेशायर पुलिस ने एशियाई लोगों के घर सोने संबंधी चोरियां बढ़ने के बाद विशेष दस्ते का गठन किया।
- इस बारे में क्राइम ब्रांच प्रमुख एरॉन डुग्गन का कहना है कि सोना इसलिए चोरों की पसंद बना हुआ है, क्योंकि सोने का निपटारा आसानी से हो जाता है और उन्हें तुरंत इसके बदले में पैसा भी मिल जाता है।
- पुलिस हर साल दिवाली, नवरात्रि और बड़े त्योहारों के मौकों पर ब्रिटेन में रहने वाले भारतीयों को अलर्ट करती है। 2018 में दिवाली से पहले मेट्रोपोलिटन पुलिस डिटेक्टव लीसा ने भी भारतीय परिवारों से अलर्ट रहने की अपील करते हुए कहा था, 'आसानी से निपटारा होने की वजह से सोना चोरों की पहली पसंद बना हुआ है। कृपया भारतीय परिवार सतर्क रहें।'

सोना घर पर ही रखते हैं, इसलिए चोरी के लिए भारतीय ही पसंद

- पश्चिमी लंदन के साउथहॉल में एशियाई सोने के कारोबारी संजय कुमार का कहना है कि भारतीय अपनी बचत का निवेश सोने में भी करते हैं। इसका सांस्कृतिक महत्व भी है। लोगों को उनके अभिभावकों द्वारा कहा जाता है कि सोना जरूर खरीदना चाहिए क्योंकि यह एक निवेश है और यह शुभ होता है। हम एशियाई लोग इस परम्परा और संस्कृति का पालन करते हैं। चोरों को भी यह अच्छी तरह समझ में आ चुका है। इसलिए उनके निशाने पर बड़ी संख्या में भारतीय मूल के परिवार ही होते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
A report indicates that Indian-origin homes targeted for gold robberies in UK
A report indicates that Indian-origin homes targeted for gold robberies in UK
A report indicates that Indian-origin homes targeted for gold robberies in UK

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/report-says-indian-origin-homes-targeted-for-gold-robberies-in-uk-6038167.html

हिंदुजा फैमिली एशिया में सबसे अमीर, मित्तल दूसरे स्थान पर


  • लंदन में रहने वाले एनआरआई उद्योगपति हिंदुजा फैमिली ‘एशियन रिच लिस्ट 2019’ में लगातार छठी बार शीर्ष पर काबिज हैं। इनकी कुल संपत्ति 25.2 अरब पाउंड है।
  • एशियन बिजनस अवार्ड्स के दौरान जारी रिच लिस्ट के मुताबिक, 11.2 अरब पाउंड की संपत्ति के साथ स्टील किंग लक्ष्मी मित्तल और उनके बेटे आदित्य मित्तल दूसरे पायदान पर हैं।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Hinduja family richest in top Asian Rich List 2019

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/hinduja-family-richest-in-top-asian-rich-list-2019-01504031.html

माली: जिहादी हिंसा में एक गांव के 115 लोगों की हत्या



अफ्रीकी देश माली के पियूल समुदाय के ओगोसागू गांव में स्थानीय शिकारी समुदाय डोगोन ने शनिवार को हमला कर अंधाधुंध गोलियां बरसाईं। मारने वालों में गर्भवती महिलाएं और बुजुर्ग भी शामिल हैं।
गांव के मुखिया इगोस्सागो को भी नाती-पोते के साथ मार दिया गया। गांव के नजदीक शहर बंकास के मेयर ने इसे जिहादी हिंसा की वजह से होने वाला अब तक का सबसे बड़ा हमला करार दिया है।
villages



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
officials says, Death toll in Mali village attack hits 115

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/officials-says-death-toll-in-mali-village-attack-hits-115-01503959.html

गांव के 115 लोगों की हत्या, जिहादी हिंसा की वजह से हुआ देश का सबसे बड़ा हमला


बमाको. मध्य माली के पियूल समुदाय के ओगोसागू गांव में स्थानीय शिकारी समुदाय डोगोन ने हमला करके 115 लोगों की हत्या कर दी। गांव के मुखिया इगोस्सागो को भी उसके नाती-पोते के साथ मार दिया गया। घटना शनिवार की है सैन्य सूत्रों ने रविवार को इसकी जानकारी दी। गांव के नजदीक शहर बंकास के मेयर मोलाएगुइंदो ने इलाके में इसे जिहादी हिंसा की वजह से होने वाला अब तक का सबसे बड़ा हमला बताया है।

मेयर ने कहा कि दोंजो शिकारी की वेशभूषा में पहुंचे लोगों ने तड़के करीब 4 बजे गोलियां बरसाईं। मारे गए लोगों में गर्भवती महिलाएं और बुजुर्ग भी शामिल हैं।

स्थानीय लोगों ने कहा- यह अलकायदा के हमले का बदला था

ओगोसागू में रहने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि यह हमला अलकायदा से जुड़े उस संगठन के खिलाफ बदले की कार्रवाई था जिसने पिछले शुक्रवार को 23 सैनिकों को मारने की जिम्मेदारी ली थी।

संयुक्त राष्ट्र का दखल भी हो सकती है हमले की वजह

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद माली में चल रही हिंसा का हल तलाशने में जुटी है। बीते दिनोंउसके प्रतिनिध यहां आए थे। ऐसे में यह भी माना जा रहा है कि शनिवार को हुआ हमला संयुक्त राष्ट्र के दखल के विरोध में था।

यहां करीब एक दशक से जारी है विद्रोह

तुआरेग विद्रोही लीबिया में गद्दाफी के लिए लड़ते थे। 2011-12 में ये माली में प्रवेश करने में कामयाब हुए। इसके बाद से ही यहां अराजकता फैली है। फ्रांस ने इन जिहादियों को खदेड़ने की कोशिश की थी, लेकिन कामयाब नहीं हुआ। सरकार और विद्रोहियों के बीच 2015 में शांति समझौता हुआ, लेकिन उत्तर-पूर्वी माली का ज्यादातर हिस्सा इन विद्रोहियों के कब्जे में ही है। पिछले साल भी यहां विद्रोहियों ने 100 से ज्यादा लोगों को मार दिया था, तब से हिंसा और बढ़ी है।माली सेना और नागरिक सेना के सदस्यआतंक को खत्म करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं। दूसरी तरफ आतंकी समूह क्षेत्र में नस्लीय हिंसा को बढ़ावा देने में लगे हैं। माली को 1960 में फ्रांस से आजादी मिली थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
माली नागरिक सेना के सदस्य।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/officials-says-death-toll-in-mali-village-attack-hits-115-01503921.html

बिजली आपूर्ति दुरुस्त करने 8 हजार फीट की ऊंचाई से कराई गई कृत्रिम बारिश


कोलंबो. गर्मी के सीजन में आम जन को बिजली संकट न झेलना पड़े, इसलिए श्रीलंका की सरकार ने शुक्रवार को कृत्रिम बारिश का सहारा लिया। वायुसेना के विमान ने 8 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित बादलों में केमिकल का छिड़काव किया। ये बादल उस जलस्रोत के ठीक ऊपर थे, जिसका इस्तेमाल हाइड्रोइलेक्ट्रिक ऊर्जा के उत्पादन में किया जाता है।

  1. ऊर्जा मंत्रालय के प्रवक्ता उशांथा वर्नाकुमारा ने कहा कि वायुसेना के विमान से 45 मिनट तक कृत्रिम बारिश की गई। जलस्रोत का स्तर गर्मी की वजह से लगातार घट रहा है। इसे ऊंचा उठाने के लिए कृत्रिम बारिश का सहारा लिया गया।

  2. श्रीलंका में हाइड्रोइलेक्ट्रिक ऊर्जा के उत्पादन का संयंत्र एक पहाड़ी क्षेत्र में स्थापित किया गया है। इस पहाड़ी इलाके को चाय उत्पादन क्षेत्र के तौर पर भी जाना जाता है।

  3. श्रीलंका में गर्मी के मौसम में बिजली के कट लगातार बढ़ते जा रहे हैं। पिछले सप्ताह के दौरान देश के कई हिस्सों में एक से दो घंटे तक बिजली आपूर्ति बाधित रही है। वर्नाकुमारा का कहना है कि गर्मी में बिजली की मांग बढ़ेगी। इस वजह से उत्पादन क्षमता को दुरुस्त किया जा रहा है।

  4. कृत्रिम बारिश की शुरुआत पहली बार अमेरिका से हुई। 1902 में हेटफील्ड नाम के युवक ने दावा किया था कि वह कृत्रिम बारिश करा सकता है। इसके लिए उसने 23 केमिकल्स का मिश्रण तैयार किया। 1904 में हेटफील्ड और उसके भाई पॉल ने ला क्रेसेंटा में एक टॉवर तैयार किया।

  5. टॉवर पर चढ़कर केमिकल्स के मिश्रण का हवा में छिड़काव किया। उसका प्रयोग सफल रहा। हालांकि, मौसम विभाग ने कृत्रिम बारिश की इस थ्योरी को खारिज कर दिया। महकमे का कहना था कि जिस बारिश को कृत्रिम बताया जा रहा है, वह पास में आए तूफान की वजह से हुई थी। लेकिन उसके बाद भी हेटफील्ड ने अपने प्रयोग से कई बार कृत्रिम बारिश कराई थी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Sri Lanka tests artificial rains to avoid power cuts
      श्रीलंका में कृत्रिम बारिश

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/sri-lanka-tests-artificial-rains-to-avoid-power-cuts-01503385.html

हिंदुजा फैमिली सबसे अमीर, मित्तल दूसरे स्थान पर


लंदन.लंदन में रहने वाले दिग्गज एनआरआई उद्योगपति हिंदुजा फैमिली ‘एशियन रिच लिस्ट’ में इस साल लगातार छठी बार शीर्ष पर काबिज हैं। इनकी कुल संपत्ति 25.2 अरब पाउंड है और इसमें पिछले साल की तुलना में 3 अरब पाउंड से अधिक का इजाफा हुआ है। लंदन में शुक्रवार रात एशियन बिजनस अवार्ड्स के दौरान जारी ‘एशियन रिच लिस्ट 2019’ के मुताबिक, स्टील किंग लक्ष्मी मित्तल और उनके बेटे आदित्य मित्तल दूसरे पायदान पर हैं। इनकी कुल संपत्ति 11.2 अरब पाउंड की है, जिसमें पिछले साल की तुलना में 2.8 अरब पाउंड की गिरावट आई है।


ब्रिटेन में भारत के उच्चायुक्त यूके रुचि घनश्याम ने सूची को जारी किया, जिसमें ब्रिटेन में रहने वाले एशिया के कुल 101 अरबपतियों की रैंकिंग और पिछले 12 महीने में कारोबार के क्षेत्र में उनकी उपलब्धियों पर प्रकाश डाला गया है। इस सूची में एस. पी. लोहिया 5.8 अरब पाउंड की संपत्ति के साथ तीसरे पायदान पर हैं। एशियन रिच लिस्ट 2019 में जिन कारोबारियों को शामिल किया गया है, उनकी कुल संपत्ति 85.2 अरब पाउंड से अधिक है। इन अरबपतियों की कुल संपत्ति में हर साल बढ़ोतरी हो रही है और इस साल इसमें 5 अरब पाउंड की बढ़ोतरी हुई है।

सूची में सात नए अरबपति भी शामिल हुए हैं, जिनमें होटल कारोबारी जोगिंदर सेंगर और उनके बेटे गिरीश सेंगर भी हैं, जो 40वें पायदान पर हैं। इनकी कुल संपत्ति लगभग 30 करोड़ पाउंड से अधिक है। सूची में दिग्गज एनआरआई उद्यमी लॉर्ड स्वराज पॉल ऐंड फैमिली 17वें पायदान पर हैं, जिनकी कुल संपत्ति 90 करोड़ पाउंड की है। उनकी संपत्ति में पिछले साल की तुलना में 10 करोड़ पाउंड की बढ़ोतरी हुई है। रिच लिस्ट के प्रकाशक एशियन मार्केटिंग ग्रुप (एएमजी) के कार्यकारी निदेशक शैलेश सोलंकी ने कहा,एशियन रिच लिस्ट को विशेषज्ञों की टीम द्वारा बेहद सावधानी पूर्वक तैयार किया गया है।

बैंकिंग, फाइनेंस पर फोकस : हिंदुजा
हिंदुजा ग्रुप के को-चेयरमैन गोपी चंद हिंदुजा के अनुसार हमारा फोकस बैंकिंग और फाइनेंशियल सेक्टर्स, हैल्थकेयर और समाज सेवा पर है। भारत में अशोक लीलैंड में हमारे निवेश का मूल्य 1,000 करोड़ रुपए यानी 108 मिलियन पाउंड के बराबर हो चुका है। इस कंपनी के चेयरमैन धीरज हिंदुजा हैं। हाल ही चेन्नई में अत्याधुनिक इलेक्ट्रिक व्हीकल सुविधा शुरू की गई है। हिंदुजा ग्लोबल सॉल्यूशंस कंपनी अमेरिका में जून 2019 तक 600 और लोगों की भर्ती करने जा रही है। यह कंपनी 12 देशों में काम कर रही है। हिंदुजा नेशनल पावर कॉर्प ने हाल ही किरण एनर्जी सोलर पावर का अधिग्रहण 1000 करोड़ रुपए में किया है। इसके जरिये ग्रुप रिन्यूएबल और अल्टरनेटिव एनर्जी सेक्टर में बड़े पैमाने पर शुरुआत की जा रही है।

  • 1. हिंदुजा फैमिली (25.2 अरब पाउंड)
  • 2. लक्ष्मी मित्तल, आदित्य मित्तल (11.2 अरब पाउंड)
  • 3. एसपी लोहिया (5.8 अरब पाउंड)


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ग्रुप चेयरमैन एसपी हिंदुजा, को-चेयरमैन गोपीचंद हिंदुजा, हिंदुजा ग्रुप यूरोप चेयरमैन प्रकाश हिंदुजा और हिंदुजा ग्रुप इंडिया चेयरमैन अशोक हिंदुजा।
स्टील किंग लक्ष्मी मित्तल और उनके बेटे आदित्य मित्तल दूसरे पायदान पर हैं। पिछले साल की तुलना में 2.8 अरब पाउंड की गिरावट आई है।
इंडोरामा कॉर्प के सीएमडी। दूसरे नंबर पर रहे लक्ष्मी मित्तल के बहनोई।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/hinduja-family-richest-in-top-asian-rich-list-2019-01503901.html

ट्रम्प ने उत्तर कोरिया से प्रतिबंध हटाने की बात कही, भ्रम में प्रशासन


वॉशिंगटन. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के उस ट्वीट को लेकर अमेरिकी प्रशासनसकते में आ गया है, जिसमें उन्होंने शुक्रवार को कहा था कि वह उत्तर कोरिया पर लगाए प्रतिबंधों को वापस ले रहे हैं। व्हाइट हाउस ने ट्वीट पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है, लेकिन वहां के एक अधिकारी का कहना है कि ट्रम्प प्रतिबंध वापस ले रहे, क्योंकि वे उत्तर कोरिया के नेता किम-जांग-उन को पसंद करते हैं।

  1. ट्रम्प ने जो ट्वीट किया, उसमें कहा गया है- ‘अमेरिकी ट्रेजरी ने बड़े पैमाने पर उत्तर कोरिया पर नए प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है। मैने आज आदेश दे दिया है कि नए प्रतिबंध लागू नहीं होंगे’।

  2. सीएनएन ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि ट्रम्प प्रशासन के अधिकारी इस बात को नहीं समझ पा रहे हैं कि राष्ट्रपति किन प्रतिबंधों का जिक्र अपने ट्वीट में कर रहे हैं और अब नीतियों को किस तरह से क्रियान्वित किया जाएगा। उत्तर कोरिया मामले से जुड़े अधिकारी व्हाइट हाउस के नए निर्देश का इंतजार कर रहे हैं।

  3. कुछ अधिकारियों का कहना है कि ट्रम्प चीन की दो शिपिंग कंपनियों पर लगाए गए प्रतिबंधों की बात कर रहे हैं। दोनों कंपनियों पर उत्तर कोरिया की मदद का आरोप है। प्रतिबंध लगाने की घोषणा संयुक्त राष्ट्र संघ ने की थी।

  4. राष्ट्रपतिके नजदीकी सूत्रों का कहना है कि उनके ट्वीट का चीन की शिपिंग कंपनियों पर लगे प्रतिबंध से कोई लेनादेना नहीं है। उनका ट्वीट उत्तर कोरिया पर नए प्रतिबंध न लगाने को लेकर है।

  5. ट्रम्प प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा- इस समय उत्तर कोरिया पर नए प्रतिबंध नहीं लगाए जा रहे हैं, लेकिन चीन की शिपिंग कंपनियों पर लगी रोक पहले की तरह से कायम रहेगी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      डोनाल्ड ट्रम्प

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/us-north-korea-relations-donald-trump-tweet-on-withdrawal-of-sanctions-on-north-korea-spar-01503457.html

पाकिस्तान में कम नहीं हो रहे अल्पसंख्यकों पर अत्याचार, होली वाले दिन दो हिंदू नाबालिग लड़कियों का हुआ अपहरण


इंटरनेशनल डेस्क (इस्लामाबाद). पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान नया पाकिस्तान बनाने का दावा करते हुए सत्ता में आए थे। लेकिन उनका ये दावा पूरी तरह से खोखला साबित हो रहा है। ना तो वे अपने देश में आतंकवाद पर लगाम कस पाए हैं और ना ही अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचारों में कोई कमी आई है। हाल ही में वहां दो नाबालिग हिंदू लड़कियों के अपहरण के बाद उनका जबरन धर्म परिवर्तन करते हुए उनकी शादी कर दी गई। ये घटना सिंध प्रांत के घोटकी जिले के दहारकी शहर में होली वाले दिन हुई। घटना के विरोध में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के लोगों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए इमरान खान सरकार से दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। तब जाकर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की।

कम नहीं हो रहा हिंदुओं पर अत्याचार

- इस मामले में कराची में रहने वाले पाकिस्तान हिंदू सेवा वेल्फेयर ट्रस्ट के अध्यक्ष संजेश धंजा एक अंग्रेजी वेबसाइट से बात करते हुए बताया कि होली के दिन रीना (15) और रवीना (13) नाम की दो नाबालिग लड़कियों का अपहरण हुआ था। जिसके बाद उनका जबरन धर्म परिवर्तन करते हुए उनकी शादी कर दी गई।
- धंजा के मुताबिक इस मामले में पुलिस ने FIR भी तब जाकर दर्ज की जब अल्पसंख्यक समुदाय के लोग सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करने लगे। धंजा ने बताया कि रवीना और रीना से पहले दो अन्य हिंदू लड़कियों कोमल और सोनिया का भी अपहरण करने के बाद धर्म परिवर्तन कर दिया गया था।
- इस मामले के सामने आने के बाद समुंदरी के गवर्नमेंट पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज के पॉलिटिकल साइंस डिपार्टमेंट के असिस्टेंट प्रोफेसर अंजुम जेम्स पॉल ने अपने फेसबुक पेज पर इमरान खान का एक फोटो पोस्ट करते हुए लिखा, 'और अब रीना, रवीना और सदफ खान जैसी हिंदू और ईसाई पाकिस्तानी नाबालिग लड़कियों के लिए कौन-कौन आवाज उठाएगा। जिन्हें अपहरण के बाद उनके परिजनों से छीन लिया गया और फरवरी-मार्च में उनका धर्म परिवर्तन कर दिया गया।'
- अपनी पोस्ट में उन्होंने बताया कि 20 मार्च को दोनों हिंदू लड़कियां जब होली सेलिब्रेट कर रही थीं, तभी उनका अपहरण कर लिया गया और उनका धर्म परिवर्तन कर दिया गया। जबकि 13 साल की ईसाई लड़की सदफ खान को 6 फरवरी को अपहरण करने के बाद उसका धर्म परिवर्तन करते हुए उसका निकाह करा दिया गया।

खोखला साबित हुआ इमरान का वादा

- पाकिस्तान हिंदू सेवा वेल्फेयर ट्रस्ट के अध्यक्ष संजेश धंजा ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री को 2018 में हुए आम चुनाव में किया गया उनका वादा याद दिलाया। उन्होंने कहा कि इमरान ने चुनावों में धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा करने की बात कहते हुए नया पाकिस्तान बनाने की बात कही थी। लेकिन हालात अब भी जस के तस ही हैं। धार्मिक अल्पसंख्यक अब भी पहले की तरह ही भेदभाव और उत्पीड़न झेल रही है।
- पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने हाल ही में एक ट्वीट करते हुए लिखा था कि 'नया पाकिस्तान कायदे आजम (जिन्ना) का पाकिस्तान होगा और हम भरोसा दिलाते हैं कि हमारे अल्पसंख्यकों के साथ बराबर के नागरिकों जैसा व्यवहार होगा। जैसा भारत में नहीं होता।'



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Hindu minor real sisters in Sindh Pakistan were forcibly converted to Islam
Hindu minor real sisters in Sindh Pakistan were forcibly converted to Islam
Hindu minor real sisters in Sindh Pakistan were forcibly converted to Islam
Hindu minor real sisters in Sindh Pakistan were forcibly converted to Islam

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/hindu-minor-sisters-in-pakistan-forcibly-converted-to-islam-6037855.html

मुस्लिम देशों की मांग- 15 मार्च इस्लामोफोबिया विरोध दिवस घोषित किया जाए


इस्तांबुल. न्यूजीलैंड की दो मस्जिदों में हुई गोलीबारी के बाद मुस्लिम देशों ने शुक्रवार को इस्लाम को लेकर फैलाए जा रहे डर के खिलाफ वास्तविक कदम उठाने की अपील की। ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक को-आपरेशन (ओआईसी) ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) से 15 मार्च को इस्लामोफोबिया दिवस घोषित करने की मांग की है, ताकि लोगों को इस समस्या के प्रति जागरूक किया जा सके।

  1. इस्तांबुल में हुई बैठक के बाद ओआईसी के मंत्रियों ने कहा कि इस्लामोफोबिया (इस्लाम को लेकर डर) की वजह से हो रही हिंसा के खिलाफ वास्तविक, व्यापक और व्यवस्थित उपाय की जरूरत है ताकि इस समस्या से निपटा जा सके।

  2. ओआईसी ने कहा कि मस्जिदों पर हमले और मुस्लिमों की हत्याएं इस्लाम के खिलाफ नफरत के क्रूर और भयावह नतीजे दिखाती हैं। संगठन का कहना है कि मुस्लिम समुदायों, अल्पसंख्यकों या प्रवासियों वाले देशों को ऐसे बयानों से बचना चाहिए जो इस्लाम को आतंक, उग्रवाद और खतरे से जोड़ते हैं।

  3. तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तैयब एर्दोआन ने बैठक के बाद कहा, ‘‘इंसानियत ने जिस तरह यहूदियों के नरसंहार के बाद यहूदी विरोधी भावना के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी, ठीक ऐसे ही इस्लाम के खिलाफ पैदा हो रहे डर के खिलाफ भी प्रतिबद्धता से लड़ना चाहिए। अभी हम इस्लामोफोबिया और मुसलमानों के खिलाफ नफरत का सामना कर रहे हैं।’’

  4. न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में 15 मार्च को दो मस्जिदों में जुमे की नमाज के दौरान ऑस्ट्रेलियाई मूल के ब्रेन्टन टैरंट ने गोलीबारी कर दी। इसमें महिलाओं और बच्चों सहित 50 लोगों की जान चली गई थी और कई जख्मी हुए थे।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Islamic organisations suggest March 15 as Anti Islamophobia Day

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/islamic-organisations-suggest-march-15-as-anti-islamophobia-day-01503179.html

टॉयलेट सीट दिल की बीमारी का संकेत देगी, यह भी बताएगी कि इलाज की जरूरत है या नहीं


न्यूयॉर्क.दिल की बीमारी का पता लगाने के लिए हो सकता है आपको अस्पताल जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अमेरिका के रोचेस्टर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की एक टीम ने ऐसी टॉयलेट सीट बनाई है जो दिल की बीमारी का संकेत दे देगी। सीट में ईसीजी, बीसीजी और पीपीजी मशीनें लगी हैं। यह इस पर बैठने वाले के दिल के धड़कन की गति, ब्लड प्रेशर, खून में ऑक्सीजन का स्तर आदि की जानकारी दे देगी।

सभी आंकड़ों का विश्लेषण करने के बाद यह मशीन बता देगी कि इलाज की जरूरत है या नही। अब यूनिवर्सिटी की अगला चैलेंज इस तकनीक को आम लोगों को बीच ले जाने का है। इसके लिए यूनिवर्सिटी की एक टीम उन कंपनियों से संपर्क कर रही है जो इस प्रोजेक्ट में पैसे लगा सकती हैं।

150 लोगों को सीटें दी गईं :फिलहाल टेस्टिंग के तौर पर 150 लोगों को इस तरह की सीटें उपलब्ध कराई गईं हैं। इन पर2 लाख डॉलर यानी13 करोड़ रुपए काखर्च आया है।एक हॉस्पिटल ने भी इन सीटों को लगाया है।हॉस्पिटल कामानना है किइस इनवेस्टमेंट से उसे साल भर में इससे दोगुना फायदा होगा।इससे मरीजों के स्वास्थ्यको बेहतर तरीके से मॉनिटर किया जा सकेगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सीट में ईसीजी, बीसीजी और पीपीजी मशीनें लगाई गई हैं

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/toilet-seat-will-indicate-heart-disease-01503131.html

हंगामा करने के मामले में पुलिस को थी एक आरोपी की तलाश, पुलिस ने शहर में लगवा दिए उसके पोस्टर


बीजिंग. चीन में झेनझियोंग प्रांत की पुलिस ने एक क्रिमिनल को ढूंढने के लिए उसकी ऐसी तस्वीर इस्तेमाल की, कि उसे माफी मांगना पड़ गई। दरअसल पुलिस ने 18 साल के वांटेड को पकड़ने के लिए उसके बचपन की तस्वीर लगा दी थी। पुलिस ने उसकी 100 तस्वीरें जारी की थीं, जिसमें से चार उसके बचपन की थी। इनमें से एक इंटरनेट पर वायरल हो गई। तस्वीर की सच्चाई पता चलने के बाद लोगों ने पुलिस का जमकर मजाक उड़ाया, जिसके बाद पुलिस को माफी मांगना पड़ गई। हालांकि पुलिस ने अपनी सफाई में ये भी कहा कि आरोपी का चेहरा बिल्कुल नहीं बदला है।

पुलिस ने आरोपी के बचपन की फोटो लगा दी

- पुलिस ने आरोपी के बचपन की जो तस्वीर जारी की थी, वो उसके प्रायमरी स्कूल लेवल की थी। उस फोटो में वो नीली शर्ट पहने नजर आ रहा है और बेहद मासूम दिख रहा है।
- आरोपी का जो पोस्टर जारी किया गया उसमें पुलिस ने लिखा था, 'जी किंघेई नाम का शख्स, जिसकी जाति हान है, एक सार्वजनिक उपद्रव मामले में पुलिस को उसकी तलाश है।' इसके साथ ही पुलिस ने उसका आईडी कार्ड नंबर भी लिखा था।
- जब लोगों को इस पोस्टर की सच्चाई पता चली और पुलिस का मजाक उड़ने लगा तो पुलिस ने सारे पोस्टर हटा लिए। साथ ही लोगों से माफी भी मांग ली। पुलिस ने भीड़ में उपद्रव मचाने के आरोप में उसके खिलाफ वांटेड पोस्टर लगाए गए थे।

पुलिस ने सफाई देते हुए मांगी माफी

- पुलिस ने बताया कि वारदात वाली जगह से आरोपी का जो फोटो मिला था वो काफी ज्यादा धुंधला था, इसी वजह से हमने उसका बचपन वाला फोटो इस्तेमाल कर लिया। पुलिस के मुताबिक उसके फीचर्स जरा भी नहीं बदले हैं।
- इसे लेकर पुलिस अधिकारी लुई ने बयान भी जारी किया है। उन्होंने कहा, 'पोस्टर के लिए आरोपी की हालिया तस्वीर नहीं मिली थी। इस कारण उसके बचपन की फोटो लगानी पड़ी। आरोपी के फीचर बिल्कुल नहीं बदले हैं। उसकी नाक, आंख, कान, मुंह और आईब्रोज सब बचपन जैसे ही हैं। वो आज भी वैसा ही दिखता है।'
- विवाद होने के बाद झेनझियोंग पुलिस ने चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म 'वीबो' पर एक लेटर पोस्ट करते हुए लोगों से माफी मांगी। पुलिस ने लिखा, 'आरोपी के बचपन की तस्वीर (जिसे अब हटा दिया गया है) के इस्तेमाल ने कई इंटरनेट यूजर्स का ध्यान आकर्षित किया और एक नकारात्मक प्रभाव पैदा किया। काम में हुई इस लापरवाही के लिए हम पूरी ईमानदारी से माफी मांगते हैं।'



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Chinese police use criminal’s childhood photo on ‘wanted’ poster, defend saying features never change

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/chinese-police-use-childhood-photo-of-criminal-on-wanted-poster-6037748.html

भारतीय ड्राइवर को 8 साल जेल की सजा; बस से टकरा गया था उसका ट्रक, 16 की मौत हो गई थी


ओटावा (कनाडा). यहां एक भारतीय ट्रक ड्राइवर जसकीरत सिंह सिद्धू को आठ साल जेल की सजा सुनाई गई है। उसको एक बस दुर्घटना का दोषी पाया गया है। कनाडा सरकार उसे भारत भेज सकती है।

  1. पिछले साल 6 अप्रैल को जसकीरत सिंह सिद्धू का ट्रक हाईवे पर एक बस से टकरा गया था। उस दुर्घटना में 16 लोगों की मौत हो गई थी।

  2. मृतकों में ज्यादातर जूनियर हॉकी टीम के खिलाड़ी थे। जांच रिपोर्ट में सामने आया था कि हाईवे पर मोड़ होने के बावजूद सिद्धू ने ब्रेक नहीं लगाए थे।

  3. सिद्धू कनाडा का कानूनी स्थायी निवासी हैं। हालांकि, उसके पास संयुक्त नागरिकता नहीं है। ऐसे में सजा पूरी होने के बाद उसको भारत भेजा जा सकता है।

  4. सिद्धू को 22 मार्च को मेलफोर्ट कोर्ट में पेश किया गया, जहां जज इनेज कार्डिनल ने उसे सजा सुनाई। फैसला सुनाते हुए जज कार्डिनल ने पीड़ित परिवारों के साथ सहानुभूति जाहिर की।

  5. उन्होंने कहा, ‘इस दुर्घटना के जो भी पीड़ित हैं उनका दर्द असहनीय है। इससे परिवार टूट गए हैं। कनाडा में अब तक ऐसी दुर्घटना नहीं हुई है।’

  6. जज कार्डिनल ने इसे काफी गंभीर और अब तक की सड़क दुर्घटनाओं में सबसे बड़ी त्रासदी करार दिया।जांच रिपोर्ट के मुताबिक, हाईवे पर मोड़ होने के बावजूद सिद्धू ने ट्रक में ब्रेक नहीं लगाए।

  7. जज ने कहा कि सिद्धू के पास ट्रक रोकने का मौका था। ऐसा कोई कारण समझ नहीं आता कि सिद्धू को बड़े-बड़े सड़क चिह्न क्यों नहीं दिखे।

  8. अभियोजन पक्ष ने सिद्धू के लिए 10 साल की सजा की मांग की थी, लेकिन जज कार्डिनल से 8 साल की सजा सुनाई।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      जसकीरत सिंह सिद्धू।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/canada-indian-truck-driver-sentenced-8-years-prison-causing-bus-crash-killed-16-people-01503267.html

सड़क किनारे बॉक्स में रखी किताबें, पूर्व प्रधानमंत्री ने की स्ट्रीट लाइब्रेरी की तारीफ


  • ऑस्ट्रेलिया में कुछ लोगों ने सड़क के किनारे छोटे-छोटे बॉक्स बनाकर उसमें किताबें रखी गई हैं। इन्हें लोग पढ़ने के लिए ले जा सकते हैं। इन्हें स्ट्रीट लाइब्रेरी नाम दिया गया है।
  • पूर्व प्रधानमंत्री टोनी एबट भी इन स्ट्रीट लाइब्रेरी की तारीफ कर रहे हैं। हालांक, कई लोग टोनी की आलोचना भी कर रहे हैं कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में ऐसा कुछ नया नहीं खोजा, जिसका वे प्रचार कर रहे हैं।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Australia Former PM

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/australia-former-pm-01503255.html

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Assam Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Study Material
Bihar
State Government Schemes
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Business
Astrology
Syllabus
Festival
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com