Danik Bhaskar International News #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US

Danik Bhaskar International News

https://www.bhaskar.com/rss-feed/2338/ 👁 4493

पिता ने 16 साल की बेटी से छीन लिया फोन तो गुस्से से भर गई लड़की, फोन कर पुलिस को बुला लिया घर, कहा - मेरे पापा ने मेरी प्रॉपर्टी ले ली


ओहियो. आज के दौर में स्मार्टफोन लाइफ का अहम हिस्सा बन गया है। बच्चों को भी इससे दूर रखना मुश्किल होता जा रहा है। अमेरिका में एक शख्स ने अपनी 16 साल की लड़की से फोन ले लिया तो लड़की ने 911 पर कॉल कर पुलिस बुला ली। इसके लड़की ने घर पहुंची पुलिस की टीम से अपने पिता की शिकायत की, लेकिन पुलिस पिता के खिलाफ एक्शन लेने के बजाय लड़की को जिम्मेदारी का पाठ पढ़ा गई। पुलिस डिपार्टमेंट ने फेसबुक पोस्ट कर मामले की जानकारी दी।

फोन छीनने का लगाया आरोप
- मामला ओहियो प्रांत का है। एंटनी रॉबर्टसन ने दिन भर फोन पर लगे रहने के चलते अपनी बेटी का फोन छीन लिया था। इससे नाराज बेटी ने इमरजेंसी नंबर पर फोन कर दिया।
- इमरजेंसी नंबर पर जब डिस्पैचर ने लड़की से उसकी शिकायत के बारे में पूछा तो उसने कहा कि मेरे पिता ने मेरी प्रॉपर्टी ले ली है, जो 800 डॉलर की कीमत वाला एक फोन है। ये मुझे उन्होंने खरीदकर नहीं दिया है।
- पुलिस ने लड़की के इस इमरजेंसी कॉल पर शनिवार 1.30 बजे रिस्पॉन्ड किया। पुलिस ने बताया कि लड़की बार-बार अपने पिता पर फोन चोरी करने का आरोप लगाती रही।

पिता ने सुनाई अलग ही कहानी
- पुलिस ने जब इस बारे में पिता एंटनी से बात की तो अलग ही कहानी सामने आई। उन्होंने बताया मैंने इसका फोन इसलिए लिया क्योंकि अभी मेरी बेटी नाबालिग है और मैं नहीं चाहता कि वो अभी फोन रखे, क्योंकि मैं उसे चेक नहीं कर सकता हूं।
- एंटनी ने कहा कि मैंने अनुशासन को देखते बेटी से फोन छीना। इसके बाद इस पूरे मामले पर पुलिस पिता के खिलाफ एक्शन लेने के बजाय लड़की को ही हिदायत दे डाली।
- पुलिस अफसर ने एंटनी का साथ देते हुए लड़की से कहा कि 18 साल से कम उम्र में फोन रखना आपका सौभाग्य हो सकता है, लेकिन अधिकार नहीं।
- पुलिस ने लड़की से ये भी कहा कि पापा के बनाए नियमों को आप मानो, आपके पापा फोन वापस कर देंगे। वहीं, एंटनी ने कहा कि जब तक बेटी का बर्ताव नहीं बदलता वो उसे फोन नहीं देंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/daughter-called-police-on-dad-for-taking-her-phone-in-us-6011790.html

2018 में चीन की विकास दर 6.6% रही, यह 28 साल में सबसे कम


बीजिंग. चीन की विकास दर 2018 में 6.6% रही। बीते 28 साल में यह सबसे कमहै। इससे पहले 1990में चीन की विकास दर 3.9% रही थी। साल 2017 में विकास दर 6.8% रही थी। चीन के नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टेटिसटिक्स (एनबीएस) ने इस बात की जानकारी दी। चीन पर कर्ज के बोझ और अमेरिका के साथ चल रहे ट्रेड वॉर को इसकी वजह बताया जा रहा है।

  1. एबीएस के कमिश्नर निंग जिझे ने बताया कि चीन इस वक्त वित्तीय जोखिमों को रोकने, गरीबी हटाने और प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए तीन अहम मोर्चों पर लड़ रहा है। उधर, पिछले हफ्ते चीन के प्रधानमंत्री ली केकियांग ने भी धीमी वृद्धि दर को लेकर संकेत दिया था कि सरकार अर्थव्यवस्था को 'पहाड़ से गिरने' नहीं देगी।

  2. बीते साल अमेरिका के साथ चीन का ट्रेड वॉर भी सुर्खियों में रहा। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने चीन से आयात होने वाले करीब आधे सामानों पर शुल्क लगा दिया था। इसके बाद चीन ने भी अमेरिकी सामानों पर शुल्क लगाया।

  3. बाद में चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग और ट्रम्प तीन महीने के युद्धविराम पर राजी हो गए। समस्या का समाधान निकालने के लिए इसी महीने के अंत में वॉशिंगटन में दोनों देशों के अफसरों की बैठक होनी है।

  4. वहीं, विश्लेषकों का कहना है कि गतिरोध ने आत्मविश्वास को कम किया। शेयर बाजारों को अपने हाल पर छोड़ दिया गया, जिससे युआन कमजोर हो गया। यही बढ़ते ऋण, वित्तीय जोखिम और प्रदूषण से निपटने के लिए सरकार की नीतियों में रुकावट डालता है।

  5. चीन ने मेट्रो लाइनों और मोटरवे जैसी प्रमुख परियोजनाओं पर ब्रेक लगा दिया। साथ ही पिछले साल कर्ज लेकर पहाड़ पर चढ़ने वाले प्रयासों को भी रोक दिया। बुनियादी ढांचे के निवेश में पिछले साल के मुकाबले 19% से महज 3.8% का इजाफा हुआ।

  6. अमेरिका और दुनिया के लिए चीन का निर्यात भी दिसंबर में गिर गया, जिससे अर्थव्यवस्था को ईंधन देने के लिए घरेलू उपभोक्ताओं की आवश्यकता को बल मिला।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      china economic growth at 6pc slowest in 3 decades china us trade war
      china economic growth at 6pc slowest in 3 decades china us trade war

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/china-economic-growth-at-6pc-slowest-in-3-decades-china-us-trade-war-01479795.html

पैदा होने के 8 दिन बाद ही दिल में हो गए दो छेद, डॉक्टर्स को करनी पड़ी ओपन हार्ट सर्जरी, पर कुछ ही महीनों बाद फिर बिगड़ने लगी हालत


लंदन. इंग्लैंड में 9 महीने के एक बच्चे को 24 घंटे में 25 बार हार्टअटैक आया। पर इसे चमत्कार ही कहेंगे कि इसके बाद भी बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ है। डॉक्टर भी थियो फ्राई नाम के इस बच्चे को ‘मिरेकल बेबी’ बता रहे हैं। यूके ही नहीं, ऐसा दुनिया में पहली बार हुआ है, जब किसी बच्चे को 25 बार हार्टअटैक आया हो और वह पूरी तरह सामान्य जिंदगी जी रहा हो। थियो फ्राई अब 19 महीने का हो चुका है।

पैदा होने के 8 दिन बाद करना पड़ा एडमिट
- मई 2017 में पैदा होने के 8 दिन बाद ही थियो को पहली बार हॉस्पिटल में भर्ती किया। वह ब्लड पॉइजनिंग का शिकार हो गया था और उसके बचने की कोई उम्मीद नहीं थी।
- पॉइजनिंग के चलते दिल में दो छेद हो गए थे, जिसकी वजह से खून शरीर में ठीक से पंप नहीं हो पा रहा था। डॉक्टरों की सलाह पर थियो की मां फॉव सायर्स और पिता स्टीवन फ्राई ने ओपन हार्ट सर्जरी की मंजूरी दे दी।
- ऑपरेशन के दौरान भी थियो को दो बार हार्टअटैक आया, लेकिन उसकी हालत स्थिर रही। जुलाई में उसे अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।
- हालांकि, 21 दिसंबर को ही थियो के दिल की धड़कनें फिर बढ़ गईं। उसे दोबारा अस्पताल में भर्ती किया गया। उसकी तबीयत लगातार बिगड़ने लगी। 31 जनवरी को उसे 25 हार्टअटैक आए।
- थियो की मां ने बताया कि रातभर वे हॉस्पिटल में खतरे की घंटी सुनती रहीं। आखिरकार इलाज करने वाली टीम के चीफ डॉ. रमन धन्नापुनेनी ने थियो को आने वाले अटैक के कारण का पता लगा लिया। थियो के दिल का बायां हिस्सा टिश्यू से ढका हुआ था।

मेडिकल हिस्ट्री में मिरेकल बेबी
डॉ. रमन धन्नापुनेनी ने कहा कि यह मामला बेहद चौंकाने वाला है। 24 घंटे के अंदर 25 अटैक के बाद थियो के दिल ने जिस तरह रिस्पॉन्ड किया, वह बहुत रिस्की था। कुछ भी हो सकता था लेकिन इसे हम चमत्कार के अलावा कुछ नहीं कह सकते। मेडिकल हिस्ट्री में इस बच्चे को ‘मिरेकल बेबी’ ही कहा जाएगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Miracle baby boy survived 25 heart attacks in one day in UK

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/miracle-baby-boy-survived-25-heart-attacks-in-one-day-6011713.html

तेल पाइपलाइन धमाके में मरने वालों की संख्या 85 हुई, सुरक्षाबल के सामने तेल चोरी


मैक्सिको सिटी.मैक्सिको में तेल-गैस पाइपलाइन में विस्फोट के साथ भीषण आग लगने से अब तक 85 लोगों के मारे जाने की खबर है।भारतीय समयानुसार यह हादसा शनिवार सुबह हिडाल्गो कस्बे में हुआ था।वहां के गवर्नर उमर फयाद ने बताया कि स्थानीय लोग पाइपलाइन से तेल चुराने के लिए जमा हुए थे, तभी आग लग गई। रविवार को ये भी खुलासा हुआ कि जब लोग तेल चोरी कर रहे थे, तो सशस्त्र बल भी वहां मौजूद थे। उन्होंने लोगों को नहीं रोका।

d

9 साल में सबसे बड़ी घटना

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, कुछ लोगों ने पाइपलाइन से तेल चुराने के लिए उसमें छेद कर दिया था। रिसाव बढ़ा तो लोगों में रिस रहे तेल को चुराने की होड़ लग गई,तभी धमाका हुआ और आग लग गई। अधिकारियों ने बताया कि मैक्सिको में तेल पाइपलाइन में विस्फोट की नौ साल में यह सबसेबड़ी दुर्घटना है। इससे पहले 2010 में पाइपलाइन में विस्फोट के कारण 28 लोग मारे गए थे।

ईंधन चोरी पर बन रही राष्ट्रीय नीति

हादसा ऐसे समय हुआ है, जब राष्ट्रपति लोपेज ईंधन चोरी को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर अपनी योजनाओं को अंजाम तक पहुंचाने में लगे हुए हैं। देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी पेमेक्स के मुताबिक उसकी पाइपलाइनों से बीते साल 21 हजार करोड़ रुपए के पेट्रो उत्पाद चोरी हुए। मैक्सिको में बीते साल टैंकों और पाइपलाइन से ईंधन चोरी होने के 13 हजार से ज्यादा केस दर्ज किए गए थे।

तेल सप्लाई घटी, पंपों पर कतार
ईंधन चोरी रोकने के लिए ऑइल कंपनी पेट्रोलियोस मैक्सिकंस (पेमेक्स) डिस्ट्रीब्यूशन प्रणाली में बदलाव कर रही है। उसने बताया कि ट्रांसपोर्ट सिस्टम में चोरी रोकने के लिए प्रणाली को ज्यादा सुरक्षित बनाया जा रहा है। इस बदलाव के कारण सप्लाई बाधित हुई है। इस कारण बीते दो हफ्ते देश में छह राज्यों के पंप ड्राई जैसी स्थिति में हैं। जिन पेट्रोल पंपों पर तेल-गैस ईंधन मिल रहा है, वहां सैकड़ों वाहनों की कतार लग रही है।

राष्ट्रपति ने दौरा किया

राष्ट्रपति लोपेजओब्राडोर ने शनिवार सुबह घटनास्थल का दौरा किया। स्थानीय मीडिया से बात करते हुए ओब्राडोर ने कहा, "इस अभियान को बंद करने की जगह तेल चोरी के खिलाफअभियान को तेज किया जाएगा।इस समय सबसे अहम ये है कि घायलों का इलाजकिया जाए, ताकि कुछ ज़िंदगियां बचाई जा सकें।"



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
मैक्सिको में पाइपलाइन से पेट्रोल चोरी की घटनाओं में पिछले करीब एक दशक में काफी इजाफा हुआ है।
हादसे में मृतकों की तादाद बढ़ने की आशंका है।
Explosion in oil pipeline in Mexico
Explosion in oil pipeline in Mexico
Explosion in oil pipeline in Mexico
Explosion in oil pipeline in Mexico
Explosion in oil pipeline in Mexico
हादसे के बाद 85 लोग लापता हैं।
आग पर काबू पा लिया गया है।
घटना उत्तरी मैक्सिको के हिडाल्गो कस्बे की है।
घटना से पहले की तस्वीर।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/explosion-in-oil-pipeline-in-mexico-01479451.html

9 महीने के बच्चे को 24 घंटे में 25 बार हार्ट अटैक फिर भी सकुशल, डॉक्टर बोले- यह चमत्कार


लंदन. इसे चमत्कार ही कहा जाएगा कि 9 महीने के एक बच्चे को 24 घंटे में 25 बार हार्टअटैक आया, फिर भी वह पूरी तरह स्वस्थ है। ब्रिटेन के डॉक्टर भी थियो फ्राई नाम के इस बच्चे को ‘मिरेकल बेबी’ भी बता रहे हैं। यूके ही नहीं, ऐसा दुनिया में पहली बार हुआ है, जब किसी बच्चे को 25 बार हार्टअटैक आया हो और वह पूरी तरह सामान्य जिंदगी जी रहा हो। थियो फ्राई अब 19 महीने का हो चुका है।

  1. मई 2017 में पैदा होने के 8 दिन बाद ही थियो को पहली बार उसकी मां ने अस्पताल में भर्ती किया। वह ब्लड पॉइजनिंग का शिकार हो गया था। बचने की कोई उम्मीद नहीं थी। पॉइजनिंग से दिल में दो छेद हो गए थे, जिसके कारण खून शरीर में ठीक से पंप नहीं हो पा रहा था।

  2. डॉक्टरों की सलाह पर थियो की मां फॉव सायर्स और पिता स्टीवन फ्राई ने ओपन हार्ट सर्जरी की मंजूरी दे दी। ऑपरेशन के दौरान थियो को दो बार हार्टअटैक भी आया, लेकिन उसकी हालत स्थिर रही। जुलाई में उसे अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।

  3. 21 दिसंबर को थियो के दिल की धड़कनें फिर बढ़ गईं। उसे दोबारा अस्पताल में भर्ती किया गया।उसकी तबीयत लगातार बिगड़ने लगी। 31 जनवरी को उसे 25 हार्टअटैक आए।

  4. थियो की मां फॉव ने बताया कि रातभर वे अस्पताल में खतरे की घंटी सुनती रहीं। आखिरकारइलाज करने वाली टीम के मुखिया डॉ. रमन धन्नापुनेनी ने थियो को आने वाले अटैक के कारण का पता लगा लिया। थियो के दिल का बायां हिस्सा टिश्यू से ढंका हुआ था।

  5. डॉ. रमन धन्नापुनेनी ने कहा कि यह आश्चर्यजनक है। 24 घंटे के भीतर 25 अटैक के बाद थियो के दिल ने जिस तरह रिस्पॉन्डकिया, वह बहुत रिस्की था। कुछ भी हो सकता था लेकिन इसे हम चमत्कार के अलावा कुछ नहीं कह सकते। मेडिकल हिस्ट्री में इस बच्चे को ‘मिरेकल बेबी’ ही कहा जाएगा।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      अपने माता-पिता के साथ थियो।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/9-month-old-child-has-25-heart-attacks-in-24-hours-01479750.html

वैज्ञानिकों ने ऐसा रोबोट बनाया, जो नसों में तैरते हुए तकलीफ वाली जगह पर दवा पहुंचाएगा


लंदन. वैज्ञानिकों ने छोटे आकार के ऐसे लचीले रोबोट तैयार किए हैं, जो किसी भी आकार में ढल सकते हैं। इन्हें टिनी रोबोट नाम दिया गया है। यह किसी भी तरल पदार्थ में तैरने में सक्षम हैं। यह रोबोट इंसान की नसों में तैरते हुए तकलीफ वाली जगह तक दवा पहुंचाकर एक दिन में ही रोग दूर करने में मददगार साबित होंगे।

  1. हाइड्रोजेल नैनोकम्पोजिट से बने यह स्मार्ट और जैव अनुकूल सूक्ष्म रोबोट अत्यधिक लचीले हैं। इनमें चुंबकीय नैनोपार्टिकल्स हैं, जो विद्युत को नियंत्रित करने की क्षमता प्रदान करते हैं।

  2. यह आविष्कार स्विट्जरलैंड के स्विस फेडरल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी लुसाने (ईपीएफएल) और ईटीएच ज्यूरिख में वैज्ञानिकों के एक ग्रुप ने किया। इस ग्रुप का नेतृत्व (ईपीएफएल) के सेलमन सकर और ईटीएच के ब्रेडली नेल्सन ने किया।

  3. वैज्ञानिकों ने कहा, यह सूक्ष्म रोबोट किसी भी तरल में तैरने की क्षमता रखते हैं। आवश्यकतानुसार किसी भी आकार में अपने आप को ढाल सकते हैं और गति से समझौता किए बगैर संकीर्ण और जटिल स्थान से भी गुजर सकते हैं।

  4. नेल्सन ने कहा, "प्रकृति ने भी कई ऐसे सूक्ष्मजीवों को विकसित किया है, जो पर्यावरण की स्थिति पदलने पर अपने आकार को बदल लेते हैं। प्रकृति के इसी सिद्धात ने हमें इस आविष्कार के लिए प्रेरित किया।"

  5. वैज्ञानिकों की टीम अब इस रोबोट को और भी ज्यादा विकसित करने में जुटी है। ताकि ये मानव शरीर में पाए जाने वाले जटिलपदार्थों में भी आसानी से तैरकर अपने कार्य को सफलतापूर्वक कर सके।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      सिम्बॉलिक।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/scientists-developed-tiny-elastic-robots-may-deliver-drugs-in-blood-vessels-01479689.html

ट्रम्प का प्रस्ताव- 7 लाख अवैध अप्रवासियों की सुरक्षा होगी, दीवार के लिए 40 हजार करोड़ रु. दें


वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शटडाउन खत्म करने के लिए एक प्रस्ताव दिया है। हालांकि प्रस्ताव को लेकर ट्रम्प बहुत खुश नहीं हैं। इसके तहत राष्ट्रपति ने 7 लाख अवैध अप्रवासियों की सुरक्षा की बात कही है। इसके बदले में वह चाहते हैं कि अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने के लिए 5.7 बिलियन डॉलर (करीब 40 हजार करोड़ रुपए) दिए जाएं।

  1. डेमोक्रेट्स ने ट्रम्प का प्रस्ताव यह कहकर खारिज कर दिया कि यह कामयाब हो ही नहीं सकता। साथ ही राष्ट्रपति से अपील की कि सरकार को सभी विभागों को कामकाज शुरू करना चाहिए। करीब एक महीने से सरकार आंशिक रूप से शटडाउन पर है।

  2. ट्रम्प ने व्हाइट हाउस से अपनी एक टीवी स्पीच में कहा- अमेरिका में बसने के लिए आ रहे 7 लाख लोगों को सुरक्षा प्रदान की जाएगी। इन लोगों को ड्रीमर्स (अमेरिका में सपने लेकर आने वाले) करार दिया जाता है। साथ ही 3 लाख लोगों को टेम्परेरी प्रोटेक्टेड स्टेटस दिया जाएगा। ये लोग दूसरे में देशों से हिंसा या प्राकृतिक आपदा के चलते विस्थापित होकर अमेरिका में रहने आए हैं।

  3. ट्रम्प ने स्पीच में संसद से लोगों की मदद के लिए 800 मिलियन डॉलर और बंदरगाहों पर ड्रग डिटेक्शन टेक्नोलॉजी लगाने के लिए 805 मिलियन डॉलर देने की मांग की। उन्होंने कानून सख्त करने समेत सीमा पर सुरक्षा बढ़ाए जाने का भी प्रस्ताव दिया। ट्रम्प ने कहा कि राहत दिए जाने से लोगों का सरकार पर भरोसा बढ़ेगा और इस इमिग्रेशन रिफॉर्म की शुरुआत होगी।

  4. बीते 29 दिन से अमेरिकी सरकार शटडाउन पर है। अमेरिका के इतिहास में यह सबसे लंबा शटडाउन है। दरअसल ट्रम्प की अगुआई में रिपब्लिकंस और हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव की अगुआई में डेमोक्रेट्स एकजुट हो गए हैं। डेमोक्रेट्स सरकार को दीवार के लिए फंड देने के पक्ष में नहीं हैं। इसी के चलते फेडरल सरकार के करीब 8 लाख कर्मचारी आंशिक रूप से काम नहीं कर रहे।

  5. ट्रम्प ने शटडाउन खत्म करने की अपील की। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों (रिपब्लिकंस और डेमोक्रेट्स) को साथ आना चाहिए। यह उन गंभीर आवाजों से हमारे भविष्य को पुनः हासिल करने का समय है जो समझौता करने और खुली सीमाओं की मांग करने से डरते हैं। वे मानते हैं कि इससे ड्रग्स डालना, मानव तस्करी और अपराध होंगे।

  6. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक तस्वीर शेयर की थी। इसमें वे पिज्जा डिलीवरी बॉय नजर आए। शुक्रवार को शेयर की गई इस तस्वीर में उन्होंने लिखा, "लॉरा बुश और मैं सीक्रेट सर्विस समेत हजारों संघीय कर्मचारियों के आभारी है। ये लोग बिना पैसे के काम कर रहे हैं। हम उन्हें शुक्रिया अदा करते हैं, जिन्होंने कर्मचारियों का समर्थन किया।

  7. अमेरिकी सरकार पिछले 29 दिनों से हड़ताल (शटडाउन) पर है। देश के इतिहास में यह सबसे लंबी हड़ताल है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की ओर से बजट पर हस्ताक्षर नहीं किए जाने की वजह से 8 लाख से ज्यादा कर्मचारी बिना तनख्वाह के छुट्टी पर हैं।

  8. ट्रम्प मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने के लिए संसद से फंड्स की मांग कर रहे हैं। हालांकि, विपक्षी डेमोक्रेट पार्टी के विरोध के बाद उनकी यह मांग अभी तक नहीं मानी गई है। इसके चलते कई विभागों में 22 दिसंबर से ही आंशिक रूप से कामकाज बंद है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      ट्रम्प ने कहा कि शटडाउन खत्म करने के लिए रिपब्लिकंस और डेमोक्रेट्स को साथ आना चाहिए।
      शुक्रवार को पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश कर्मचारियों के लिए पिज्जा लेकर पहुंचे थे।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/trump-launched-a-new-plan-to-end-a-prolonged-and-crippling-government-shutdown-01479699.html

संयुक्त राष्ट्र के बेस पर आतंकी हमला, शांति मिशन में लगे 10 लोगों की हत्या


बमाको. माली के उत्तरी इलाके में स्थित संयुक्त राष्ट्र के बेस पर हुए हमले में 10लोगों की मौत और 25 घायल हो गए। ये सभी वहां शांति मिशन के लिए काम कर रहे थे। अभी माली में चल रहे मिशन में संयुक्त राष्ट्र के 13 हजार लोग कार्यरत हैं। पिछले साल अप्रैल में इसी बेस पर हुए हमले में 2 संयुक्त राष्ट्र कर्मियों की मौत हो गई थी। रविवार सुबह हुए हमले में अल्जीरिया सीमा के नजदीक स्थित ओलहॉक बेस को निशाना बनाया गया। हमलावर इस्लामी आतंकी संगठन से संबद्ध बताए जा रहे हैं।

  1. उत्तरी माली में कार्यरत एक राजनयिक ने बताया कि हमले में कई हमलावर भी मारे गए हैं। एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि बंदूकधारी आतंकियों ने रविवार सुबह हमला बोला। संयुक्त राष्ट्र ने उत्तरी माली में शांति मिशन तब शुरू किया था जब इस्लामी आतंकियों ने 2012 में यहां पर कब्जा कर लिया था। 2013 में उन्हें फ्रांस की सेना ने खदेड़ दिया था।

  2. 2015 में बमाको सरकार व इस्लामी आतंकियों के बीच शांति समझौता हो गया था। इसका उद्देश्य माली में शांति बहाल करना था। लेकिन बाद में यह फेल हो गया। इस्लामी आतंकी नहीं माने और वो लगातार हिंसा करते रहे। उन्होंने बुर्किना फासोऔर नाइजर पर भी हमले किए थे। हिंसा जारी रहने पर फ्रांस के साथ अमेरिका ने माली सरकार की आलोचना की है।

  3. सीरिया की राजधानी में मिलिट्रीइंटेलिजेंस आफिस के पास हुए बम धमाके में कई लोगों की मौत हो गई। एजेंसी का कहना है कि एक आतंकी को सुरक्षाबलों ने गिरफ्तार भी कर लिया है, लेकिन यह पता नहीं चल सका है कि हमला आत्मघाती था या नहीं। अभी तक यह भी पता नहीं चल सका है कि बम धमाके में मारे गए लोगों की संख्या कितनी है?



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Attack on UN base in Mali kills 8 peacekeepers: UN source

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/attack-on-un-base-in-mali-kills-8-peacekeepers-un-source-01479694.html

दुनिया के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति की 113 साल की उम्र में मौत


टोक्यो. दुनिया के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति मासाजो नोनाको का 113 साल की उम्र में निधन हो गया। गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बुक के मुताबिक,उनका जन्म जुलाई 1905 में हुआ था। नोनाका के परिवार में 6 भाई और एक बहन थी। उनकी शादी 1931 में हुई। उनके पांच बच्चे हैं।

  1. नोनाका का जन्म राइट ब्रदर्स के पहले शक्तिशाली प्लेन लॉन्च करने के दो साल बाद हुआ था। जबकि उनके जन्म के कुछ महीने पहले ही अल्बर्ट आइंस्टीन ने रिलेटिविटी (सापेक्षता) के विशेष सिद्धांत को प्रकाशित किया था।

  2. नोनाका से पहले ये रिकॉर्ड स्पैनियार्ड फ्रांसिस्को नुनज ओलिवर के नाम था। पिछले साल उनकी मृत्यु के बाद सबसे पुराने जीवित व्यक्ति के रूप में आधिकारिक तौर पर नोनाक का नाम दर्ज हो गया।

  3. उनकी पोती युको ने कहा, हम सभीइस बड़े नुकसान से सदमेमें हैं। उन्हें कोई तकलीफ नहीं थी। मौत से पहले भी उन्होंने परिवार के किसी सदस्य को परेशान नहीं किया।

  4. सबसे ज्यादा उम्र तक जीने वाले लोगों की सूची में जिरोमोन किमुरा का नाम भी शामिल हैं। उनका निधन जून 2013 में 116वां जन्मदिवस मानने के कुछ दिनों बाद हो गया।

  5. गिनीज के अनुसार, अब तक प्रमाणित सबसे उम्रदराज व्यक्ति के तौर पर फ्रांस के जीन लुईस कैलम का नाम दर्ज है। इनका 122 साल की उम्र में 1997 में निधन हो गया था।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      मासाजो नोनाको।
      गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड प्रमाण-पत्र लेते मासाजो नोनाको।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/guinness-world-records-oldest-man-masazo-nonaka-dies-in-japan-at-113-01479698.html

4 साल के बेटे के साथ रोड क्रॉस कर रही थी महिला, फिर ऐसे खतरनाक हादसे का शिकार होने से बची


इंटरनेशलन डेस्क। रूस के मिचुरिना शहर में एक मां- बेटा खतरनाक हादसे का शिकार होते- होते बचे। दरअसल रोड पार कर रही महिला ने पहले तो इधर -उधर देखा उसके बाद आगे बढ़ी। दोनों तरफ देखकर आगे बढ़ने के बावजूद वो हादसे का शिकार हो गई। पीछे से आ रही कार ने टक्कर मार दी। टक्कर इतनी तेज थी की मां-बटा दोनों दूर जाकर गिरे। इस हादसे में गनीमत रही दोनों सुरक्षित हैं। इसमें कार सवार की भी लापरवाही सामने आई है।तेज रफ्तार कार होना भी हादसे की वजह बताया गया है।

ऊपर दिए वीडियो में देखें कैसे हुआ ये हादासा



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Woman and child are hit by a car when crossing the street

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/woman-and-child-are-hit-by-a-car-when-crossing-the-street-6011564.html

तेल चोरी करने के लिए पाइपलाइन के पास खड़े थे लोग, तभी एक ही झटके में 70 से ज्यादा लोगों की चली गई जान


न्यू मेक्सिको. मेक्सिको (Mexico fuel )में फ्यूल पाइपलाइन में ब्लास्ट के चलते अब तक 71 लोगों की मौत हो गई, जबकि 70 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं। हादसा शुक्रवार की रात हिडाल्गो राज्य में हुआ। गर्वनर उमर फयाद ने बताया कि लोकल लोग पाइपलाइन से तेल चुराने के लिए जमा हुए थे, तभी आग लग गई। हालांकि, अब आग पर काबू पा लिया गया है, लेकिन करीब 80 लोग अब भी लापता बताए जा रहे हैं।

9 साल में सबसे बड़ा हादसा
- मेक्सिको के जनरल प्रॉसीक्यूटर एलेजांद्रो गर्त्ज मानेरो के मुताबिक, शुरुआती जांच में यही माना जा रहा है कि पाइपलाइन के पास जमा लोगों के कपड़ों के चलते इसमें ब्लास्ट हुआ।
- उन्होंने कहा कि पाइप के पास तेल चोरी के लिए बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। इनमें से कुछ लोगों ने सिन्थैटिक फाइबर से बने कपड़े पहन रखे थे। इसी के चलते इलेक्ट्रिक रिएक्शन हुआ।
- घटना के एक चश्मदीद ने बताया कि धमाका इतना जोरदार था कि वहां मौजूद लोग आग का गोला बन अलग-अलग दिशा में जा गिरे और जलकर राख हो गए।

- मेक्सिकन सेक्रेटरी ऑफ पब्लिक सिक्योरिटी अल्फांसो दुराजो ने ट्वीट करते हुए कहा कि पाइपाइन में आग लगने के चलते ही वहां पर ब्लास्ट की घटना हुई।
- वहीं मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, कुछ लोगों ने पाइपलाइन से तेल चुराने के लिए उसमें छेद कर दिया था। रिसाव बढ़ा तो लोगों में रिस रहे तेल को चुराने की होड़ लग गई, तभी धमाका हुआ और आग लग गई।
- अधिकारियों ने बताया कि मैक्सिको में तेल पाइपलाइन में विस्फोट की नौ साल में यह सबसे बड़ा हादसा है। इससे पहले 2010 में पाइपलाइन में विस्फोट के कारण 28 लोग मारे गए थे।

प्रेसिडेंट ने किया घटनास्थल का दौरा
- मेक्सिको के प्रेसिडेंट एंद्रेस मैनुएल लोपेज ओब्राडोर ने शनिवार की सुबह तलाहुलिलपान शहर में घटनास्थल का दौरा भी किया और इस दौरान मीडिया से भी बातचीत की।
- ओब्राडोर ने कहा, "इस अभियान को बंद करने की जगह तेल चोरी के खिलाफ अभियान को तेज किया जाएगा। इस समय सबसे अहम ये है कि घायलों का इलाज किया जाए, ताकि कुछ ज़िंदगियां बचाई जा सकें।
- हादसा ऐसे समय हुआ, जब राष्ट्रपति लोपेज फ्यूल चोरी को लेकर नेशनल लेवल पर अपने प्लान को अंजाम तक पहुंचाने में लगे हुए हैं।
- देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी पेमेक्स के मुताबिक, उसकी पाइपलाइनों से बीते साल 21 हजार करोड़ रुपए के पेट्रो उत्पाद चोरी हुए। मेक्सिको में बीते साल टैंकों और पाइपलाइन से ईंधन चोरी होने के 13 हजार से ज्यादा केस दर्ज किए गए थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
video
Mexico fuel pipeline blast Death toll rises, witnesses describe horror
Mexico fuel pipeline blast Death toll rises, witnesses describe horror
Mexico fuel pipeline blast Death toll rises, witnesses describe horror

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/mexico-fuel-pipeline-blast-death-toll-rises-6011381.html

सलीका सिखाएगी इस्तांबुल म्यूनिसिपैलिटी, नियमों में कहा- सभ्य महिलाएं आइसक्रीम न खाएं


अंकारा. तुर्की के सबसे महत्वपूर्ण शहर इस्तांबुल की म्यूनिसिपैलिटी विवादों में आ गई है। इसने महिलाओं को सलीका सिखाने के लिए नियम बनाए हैं। इसमें कहा गया है कि सभ्य महिलाओं को आइसक्रीम चाट-चाटकर नहीं खाना चाहिए। ऐसा करना भद्दा लगता है। सोशल मीडिया पर ऐसे नियमों को लेकर खासी बहस चल रही है। लोग इसे महिलाओं की आजादी पर हमला मान रहे हैं।

  1. इस्तांबुल की बागसिलर म्यूनिसिपैलिटी ने महिलाओं को सलीका सिखाने के लिए दो महीने का कोर्स लॉन्च किया है। इससे जुड़े जानकारों काकहना है कि लेक्चर के जरिए युवतियों को बताया जाएगा कि सार्वजनिक स्थानों पर उनका बर्ताव कैसा होना चाहिए।

  2. म्यूनिसिपैलिटी का कहना है कि इस्तांबुल की सभ्य महिलाओं को पारंपरिक लोकाचार आना चाहिए। महिलाओं को विनम्र रहना, किचन में काम करना जैसी चीजें सिखाई जाएंगी। यह भी बताया जाएगा कि उन्हें पूरा मुंह खोलकर बात नहीं करना चाहिए।

  3. म्यूनिसिपैलिटी के नियमों के चलते सोशल मीडिया पर बहस भी छिड़ गई है। एक ग्रुप 'लेडीज गाइड' का कहना है- ठीक है महिलाओं को आइसक्रीम चाटना नहीं चाहिए। रिपोर्ट में यह नहीं बताया गया कि आइसक्रीम कोन का आनंद लेना खराब क्यों माना जाता है? लोगों ने यह भी लिखा कि बड़े आश्चर्य की बात है कि कुछ लोग महिलाओं के आइसक्रीम खाने पर भी नजररखते हैं।

  4. ट्विटर पर एक व्यक्ति ने पूछा- आइसक्रीम खाने का सही तरीका क्या है? एक अन्य ने कहा कि क्या पूरी आइसक्रीम को मुंह में फिट कराने की कोशिश करना चाहिए या फिर कुछ और? किसी ने लिखा- हम तो आइसक्रीम चाटकर ही खाएंगे, इस पर सलाह देने की कोशिश न करें।

  5. म्यूनिसिपैलिटी के नियमों में महिलाओं के चुइंगम चबाने को भी खराब बताया गया है। यह भी कहा गया है कि उन्हें बस में यात्रा के दौरान न तो फोन पर लंबी बात नहीं करना चाहिए और न ही भद्दे शब्दों का इस्तेमाल करना चाहिए। पुरुषों से पहली बार मिलने पर महिलाओं को यह नहीं पूछना चाहिए कि उनकी शादी हो गई या उनके कितने बच्चे हैं?

  6. महिलाओं को ट्रेनिंग देने के लिए गणित की लेक्चरर अर्जु अरदा को बुलाया गया है। अरदा कहती हैं- सलीका ही हमारे धर्म, परंपरा और संस्कृति को बढ़ाता है। शिष्टाचार और विनम्रता समाज मेंकम हो रही है। उम्मीद है कि स्थिति में बदलाव आएगा।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      सिम्बॉलिक।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/istanbul-municipality-says-in-etiquette-course-real-ladies-don-t-lick-ice-cream-01479390.html

नदी में बर्फ काटकर पवित्र कुंड बनाए, -40 डिग्री ठंडे पानी में 24 लाख लोगों ने डुबकी लगाई


मॉस्को. रूस मेंइपिफनी फेस्टिवल मनाया गया। देशभर के करीब 24 लाख लोगों ने माइनस 40 डिग्री ठंडे पवित्र पानी में डुबकी लगाई। इनमें पुरुष, महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे।

पुलिस ने बताया कि जॉर्डन नदी की बर्फ काटकर और जगह-जगह आस्था के कुंड बनाए गए थे। फेस्टिवल में भाग लेने वाले ज्यादातर लोग ईसाई समुदाय के थे। माना जाता है रात वक्त पानी पवित्र होता हैऔर उस पानी में नहाने से सारे पाप धुल जाते हैं। जानकारी के मुताबिक, यह फेस्टिवल 16वीं शताब्दी से मनाया जा रहा है।

russia



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
construct holy tank by cutting ice in river
construct holy tank by cutting ice in river
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पिछले साल बर्फीले पानी में डुबकी लगाई थी।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/construct-holy-tank-by-cutting-ice-in-river-01479471.html

ट्रम्प-किम फरवरी में करेंगे मुलाकात, 7 महीने पहले सिंगापुर में मिले थे दोनों नेता


वॉशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प फरवरी में उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन से मुलाकात करेंगे। इससे पहले दोनों नेताओं की बैठक पिछले साल जून में सिंगापुर में हुई थी। बैठक में किम जोंग उ. कोरिया के पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए राजीहो गए थे। हालांकि, इसके बाद दोनों देशों के बीच इस संबंध में कोई बातचीत नहीं हुई।

  1. व्हाइट हाउस ने ट्रम्प और उत्तर कोरिया के शीर्ष वार्ताकार किम योंग-चोल की मुलाकात के बाद यह जानकारी दी। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा, ''राष्ट्रपति ट्रम्प किम से मुलाकात के लिए उत्साहित हैं। हालांकि, दोनों नेताओं की मुलाकात कहां होगी, इसका ऐलान बाद में होगा।''

  2. सैंडर्स ने कहा, "जब तक हम पूरी तरह से निरस्त्रीकरण नहीं देख लेते, तब तक उत्तर कोरिया पर दबाव और प्रतिबंधों को जारी रखा जाएगा।'' जून में हुई मुलाकात के बाद से परमाणु वार्ता रुकी हुई है। वाशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, दोनों नेताओं की मुलाकात वियतनाम के डनांग में होने की संभावना है।

  3. रिपोर्ट्स की माने तो अभी यह साफ नहीं है कि किम योंग-चोल के साथ ट्रम्प की बैठक में परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर कोई बातचीत हुई या नहीं। हालांकि, अमेरिका के उप राष्ट्रपति माइक पेंस ने हाल ही में कहा था कि अमेरिका अभी भी परमाणु निरस्त्रीकरण के संबंध में उत्तर कोरिया द्वारा ठोस कदम उठाने का इंतजार कर रहा है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      ट्रम्प-किम ने जून में सिंगापुर में मुलाकात की थी।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/trump-kim-to-meet-for-2nd-summit-in-february-01479413.html

फिलीपींस के सबसे बड़े अमीर का निधन, एलन मस्क से 1000 करोड़ रु ज्यादा थी संपत्ति


मनीला. फिलीपींस के सबसे बड़े अमीर हेनरी सी का शनिवार को निधन हो गया। वो 94 साल के थे। फोर्ब्स के मुताबिक हेनरी सी 1.42 लाख करोड़ रुपए (2000 करोड़ डॉलर) की संपत्ति के मालिक थे। पिछले साल दुनिया के अमीरों में वो 52वें नंबर पर आ गए। उन्होंने एलन मस्क, रूपर्ट मर्डोक और जॉर्ज सोरोस जैसे अमीरों को पीछे छोड़ दिया था। फोर्ब्स की दुनिया के अमीरों की लिस्ट में मस्क का 53वां नंबर है। उनकी नेटवर्थ 1.41 लाख करोड़ रुपए है।

  1. हेनरी सी के एसएम ग्रुप का फिलीपींस में बैंकों, होटलों और रिएल एस्टेट का कारोबार है। चीन में उनके शॉपिंग सेंटर हैं। हेनरी सी ने साल 2017 में एमएम ग्रुप के चेयरमैन का पद छोड़ दिया था। इसके बाद कंपनी बोर्ड ने उन्हें मानद चेयरमैन बनाया था।

  2. हेनरी सी ने 1956 में फिलीपींस की राजधानी मनीला में जूते के स्टोर से बिजनेस शुरू किया था। बिजनेस बढ़ता गया और हेनरी ने शूमार्ट नाम से शू-स्टोर की चेन तैयार कर दी।

  3. साल 1972 में हेनरी जूतों के अलावा दूसरी चीजें भी बेचने लगे और शू-मार्ट का नाम बदलकर एमएम डिपार्टमेंटल स्टोर कर दिया गया। साल 1985 में हेनरी ने मनीला में पहला सुपरमॉल खोला। उन्होंने मनीला में मॉल कल्चर को बढ़ाया।

  4. हेनरी सी की होल्डिंग कंपनी एमएम इन्वेस्टमेंट कॉर्प ने साल 2001 में चीन में पहला मॉल खोला था। फिलहाल चीन में एमएम ग्रुप के 7 मॉल, 6 होटल और 8 ऑफिस बिल्डिंग हैं। फिलीपींस में ग्रुप के 70 मॉल हैं।

  5. हेनरी बचपन में चीन के शियामेन शहर से फिलीफींस आए थे। वहां हेनरी के पिता का वैरायटी स्टोर था जिसमें उन्होंने खुद भी काम किया था। साल 2006 में फिलीपींस स्टार अखबार से बातचीत में हेनरी ने बताया था कि उनके पिता का स्टोर काफी छोटा था। स्टोर बंद करने के बाद हम उसके काउंटर पर भी सोते थे।

  6. हेनरी ने बताया था कि दूसरे विश्व युद्ध के दौरान उनकी दुकान तोड़ दी गई। इसके बाद उनके पिता चीन लौट गए लेकिन हेनरी फिलीपींस में डटे रहे। उन्होंने मनीला यूनिवर्सिटी से कॉमर्स की डिग्री हासिल की। डिग्री पूरी करने के बाद उन्होंने जूतों की दुकान खोली।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      हेनरी सी (फाइल फोटो)।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/philippines-wealthiest-man-henry-sy-died-on-saturday-informed-his-coglomerate-01479280.html

इंडिया में 10yearChallenge चल रहा है तो चीन में ऐप के लिए अपनी चार पीढ़ियों के लोग साथ बना रहे वीडियो, आप भी आज़मा सकते हैं...!


वीडियो डेस्क. इंडिया में इस वक्त 10yearChallenge ट्रेंड कर रहा है, जिसमें सेलेब्स अपनी मौजूदा फोटो, 10 साल पहले की फोटो के साथ सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं। वहीं पड़ोसी देश चीन में 'चार पीढ़ियां एक वीडियो' चैलेंज चल रहा है। ये चैलेंज साधारण है इसमें न तो किकी चैंलेज जितना खतरा है और न ही किसी तरह दिमाग लगाने की जरुरत है। इस चैलेंज में घर की चार पीढ़ियां एक के बाद एक कैमरे के सामने आती हैं। चीन में इस तरह के वीडियो, ऐप के लिए बनाए जा रहे हैं। इतना ही नहीं, चीन से निकलकर अब ये चैलेंज म्यांमार, वियतनाम, थाईलैंड, मलेशिया और जापान तक पहुंच गया है।

आप भी इस आसान चैलेंज को ले सकते हैं, आज़माकर देखिए...



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Four generations of different Chinese families, viral in china

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/chinas-four-generations-under-one-roof-challenge-viral-6010995.html

कहीं भरे-बाज़ार बम मिले तो पाकिस्तान में ऐसे होता है डिफ्यूज, जान की परवाह किए बगैर देखिए कैसे वीडियो बनाने के लिए उतावली हो रही भीड़


वीडियो डेस्क. पाकिस्तान में हर मुश्किल काम करने का एक अलग स्टाइल है, फिर बात चाहे बम डिफ्यूज करने जैसे खतरनाक काम की ही क्यों न हो। एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है जिसमें किसी भीड़ भरे बाजार में बम-डिफ्यूज किया जा रहा है। वीडियो यूं तो पेशावर का बताया जा रहा है लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई है। वीडियो में दिखाया गया है कि एक बाइक में बम मिलता है और उसे कुछ पुलिसवालों की मौजूदगी में एक बंदा डिफ्यूज करता है। हालांकि देखने में ये बम स्क्वाड का कम, मैकेनिक ज्यादा लग रहा है। दूसरी ओर, खतरनाक जगह होते हुए भी लोग बेखौफ वीडियो बनाने में लगे हैं।

आप भी देखिए वीडियो में, बम डिस्पोज़ करने का पाकिस्तानी स्टाइल...



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Bomb defusing in Pakistani style: A sight to see how people are enjoying this dangerous activity without any fear

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/viral-video-of-bomb-defusing-in-pakistani-style-6010972.html

शटडाउन पर गए खुफिया एजेंटों के लिए पूर्व राष्ट्रपति बुश ने खरीदा पिज्जा, खुद देने भी पहुंचे


वॉशिंगटन. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक तस्वीर शेयर की। इसमें वे पिज्जा डिलीवरी बॉय नजर आ रहे हैं। शुक्रवार को शेयर की गई इस तस्वीर के उन्होंने लिखा, "लॉरा बुश और मैं सीक्रेट सर्विस समेत हजारों संघीय कर्मचारियों के आभारी है। ये लोग बिना पैसे के काम कर रहे हैं। हम उन्हें शुक्रिया अदा करतेहैं,जिन्होंने कर्मचारियों का समर्थन किया।"

  1. दरअसल, अमेरिकी सरकार पिछले 26 दिनों से हड़ताल (शटडाउन) पर है। देश के इतिहास में यह सबसे लंबी हड़ताल है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की ओर से बजट पर हस्ताक्षर नहीं किए जाने की वजह से 8 लाख से ज्यादा कर्मचारी बिना तनख्वाह के छुट्टी पर हैं।

  2. ट्रम्प मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने के लिए संसद से फंड्स की मांग कर रहे हैं। हालांकि, विपक्षी डेमोक्रेट पार्टी के विरोध के बाद उनकी यह मांग अभी तक नहीं मानी गई है। इसके चलते कई विभागों में 22 दिसंबर से ही आंशिक रूप से कामकाज बंद है।

  3. कर्मचारियों के हड़ताल के बाद बुश ने उनके खाने का प्रबंध किया। उन्होंने कर्माचारियों के गतिरोध को खत्म करने के लिए अधिकारियों से बात भी की। उन्होंने कहा, "इस समय दोनों पक्षों के नेताओं को राजनीति छोड़ एक साथ आना चाहिए और इस हड़ताल को खत्म कराना चाहिए।"

  4. बुश के प्रवक्ता फ्रेडी फोर्ड ने एक ईमेल में कहा, "बुश हड़ताल में शामिल कर्मचारियों के साथ हैं। सीक्रेट सर्विस एजेंट के लिए पिज्जा खरीदना एक छोटा सा कदम है। हम उनके साथ खड़े हैं।" कितने पिज्जा खरीदे गए,फोर्ड नेइस बात की जानकारी नहीं दी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      पिज्जा लेकर कर्मचारियों के घर पहुंचे बुश।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/george-w-bush-delivers-pizza-to-unpaid-secret-service-agents-01479234.html

मरीज को अल्कोहल पॉइजनिंग से बचाने के लिए 15 कैन बीयर चढ़ाई गई


हनोई.वियतनाम में एक व्यक्ति के लीवर ने काम करना बंद कर दिया था। उसकी हालत गंभीर थी। अल्कोहल पॉइजनिंग से उसकी मौत न हो इसलिए डॉक्टरों ने उसे 15 कैन बीयर (करीब 5 लीटर बीयर) चढ़ाई, ताकि उसे मरने से बचाया जा सके।

रिपोर्ट के मुताबिक, 48 साल के गुयेन वैन के खून में मेथेनॉल की मात्रा सामान्य से 1,119 फीसदी ज्यादा थी। दवा के जरिए उसे बचाया नहीं जा सकता था। इसलिए डॉक्टरों ने उसके पेट में बीयर पंप करने का फैसला लिया।

लीवर नेकाम करना बंद कर दिया था

डॉक्टरों ने बताया कि मेथेनॉल की मात्रा ज्यादा बढ़ने से गुयेन का लीवर लगभग काम करना बंद कर चुका था। इसे सामान्य करने के लिए उनके पेट में हर एक घंटे में एक लीटर बीयर पंप की गई। मरीज के पेट में जब 15 लीटर बीयर पंप की गई तो उसका लीवर सामान्य रूप से काम करने लगा। उधर, मेडिकल रिपोर्ट्स के मुताबिक, मरीज का लीवर साफ करने के लिए बीयर का इस्तेमाल किया गया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
15 Cane Beer Injected To Protect Patient of Alcohol Poisoning

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/15-cane-beer-injected-to-protect-patient-of-alcohol-poisoning-01479163.html

हवाई तट पर दिखी दुनिया की सबसे बड़ी सफेद शार्क मछली, इसकी लंबाई 20 फीट और वजन 25 क्विंटल


लॉस एंजिलिस.अमेरिका में हवाई तट से कुछ दूरी पर गोताखोरों को सफेद शार्क मछली दिखाई दी। इसे दुनिया की सबसे बड़ी शार्क मछली माना जा रहा है। यह मादा प्रजाति की है। इसकी लंबाई करीब 20 फीट (करीब 6 मीटर) है।

गोताखोर ओशन रामसे ने बताया कि जब मैंने उसकी तस्वीरें लीं। तब वह मरी हुई शार्क मछलियां खा रही थी। उसके आसपास और भी शार्क मछलियां थी। उसका वजन करीब 2.5 टन (25 क्विंटल) होगा। देखने में उसकी उम्र 50 साल से ज्यादा की लग रही थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
World's largest white shark fish

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/world-s-largest-white-shark-fish-01479165.html

हडसन नदी पर बना 64 साल पुराना ब्रिज विस्फोट कर 5 सेकंड में गिराया गया


न्यूयॉर्क.अमेरिका में न्यूयॉर्क स्टेट के टैरी टाउन स्थित हडसन नदी पर बने 64 साल पुराने तपान सी ब्रिज से लोग अब आ-जा नहीं सकेंगे। वजहइस ब्रिज को गिरा दिया गया है। इसे गिराने के लिए विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया। विस्फोटक ने 5 सेकंड में ही ब्रिज को ध्वस्त कर दिया। ब्रिज142 फीट की गहराई में डूब गया।

  1. तपान ब्रिज का निर्माण 1952 में शुरू हुआ था। इसे बनने में तीन साल लगे। इसकी लंबाई 4.8 किमी और ऊंचाई 672 फीट थी। यह न्यूयॉर्क स्टेट का सबसे लंबा ब्रिज था। इसे कोरियाई युद्ध के बाद 576 करोड़ रुपए में बनाया गया था। तब इसकी उम्र 50 साल तय की गई थी। ब्रिज के निर्माण के पहले दशक में ही इससे रोजाना 40 हजार लोग गुजरते थे।

  2. ब्रिज को गिराते समय दोनों ओर से यातायात रोक दिया गया। लोगों ने एक-दूसरे से ब्रिज से जुड़ी यादें बांटीं। एक महिला ने कहा कि वह इस ब्रिज को देखते-देखते बड़ी हुई थीं। यह उसके लिए दुखभरा पल है।

  3. तपान सी ब्रिज को हॉलीवुड फिल्मों में भी शूट किया गया है। इनमें 1960 की ‘बटरफील्ड-8’ और 2002 की ‘अनफेथफुल’ चर्चित हैं। ‘बटरफील्ड-8’में मशहूर अभिनेत्री एलिजाबेथ टेलर थीं। इस पुराने ब्रिज का स्थान पहले ही नया केबल ब्रिज ले चुका है।

    • न्यूयॉर्क में हडसन नदी का नया ब्रिज पुराने ब्रिज का स्थान ले चुका है। इस पर 2017 से आवागमन शुरू किया गया। इसे बनाने में चार साल लगे।
    • यह 5 किमी लंबा और 419 फीट ऊंचा है। इसे बनाने में 28476 करोड़ रुपए लगे। इस पुल का नाम न्यूयॉर्क स्टेट के पूर्व गवर्नर मारियो क्यूमो के नाम पर रखा गया है।


    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      तस्वीर न्यूयॉर्क के हडसन नदी पर बने तपान सी ब्रिज की है।
      तपान सी ब्रिज के बगल में 28476 करोड़ रु. से नया ब्रिज बनाया गया है।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/64-year-old-bridge-exploded-and-dropped-in-new-york-01479164.html

ट्रेन की देरी से परेशान महिला ने बुना रेल डिले स्कार्फ, लेट होने वाले समय को दिए अलग-अलग रंग


जर्मनी. ट्रेन में सफर करना और सफर में समय बिताने के लिए महिलाओं का बुनाई करना। इन दोनों बातों में कुछ अनोखा नहीं है। भारत में अक्सर ऐसा होता है, लेकिन जर्मनी के म्यूनिख में रहने वाली 55 साल की क्लाउडिया वेबर ने ट्रेन के सफर में रोज होने वाली पांच-सात मिनट की देरी का समय बुनाई में लगाकर एक स्कार्फ बनाया।

स्कार्फ की तस्वीर उनकी बेटी सारा ने सोशल मीडिया पर डाल दी। जब लोगों को पता चला कि यह स्कार्फ 'समय' की पहचान है तो उसकी नीलामी के लिए लोगों ने बोलियां लगानी शुरू कर दी। आखिर में यह स्कार्फ 7 हजार 500 यूरो यानी करीब 6 लाख रुपए में बिक गया। नीलामी की रकम रेलवे स्टेशन पर वेट करने वाले यात्रियों की मदद करने के लिए खर्च की जाएगी।

  1. क्लाउडिया बावेरियन कंट्रीसाइड के छोटे से कस्बे से म्यूनिख के बीच करीब दो महीने तक रोजाना सफर करती रहीं। कारण वहां उनके घर में मरम्मत का काम चल रहा था। 40 मिनट के सफर में उन्हें आने-जाने के लिए दो घंटे का वक्त लग रहा था। इसके अलावा कभी-कभी उन्हें ट्रेन की देरी का शिकार होना पड़ता था। इस देरी से उनके मन में एक विचार आया। उन्होंने देरी के इस समय का सही उपयोग करते हुए स्कार्फ बुनना शुरू कर दिया।

  2. हर रोज घर आने के बाद वह स्कार्फ में दो लाइन बुनती थीं। जिस दिन ट्रेन पांच मिनट से कम लेट होती थी, उस दिन क्लाउडिया स्लेटी रंग के ऊन का प्रयोग करती थीं। आधे घंटे तक की देरी होने पर गुलाबी और इससे ज्यादा की देर पर लाल रंग के ऊन का इस्तेमाल किया। जिस दिन ट्रेन दोनों तरफ से लेट होती थी, उस दिन भी वह लाल ऊन का इस्तेमाल करती थीं। ट्रेन समय से होने पर सफेद ऊन से बुना। इस स्कार्फ को 'रेल डिले स्कार्फ' नाम दिया गया है।

  3. क्लाउडिया ने स्कार्फ बुनने की बात अपनी बेटी सारा को बताई। उसने मां के बनाए स्कार्फ की तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट की। वहां इसे 23 हजार से ज्यादा लोगों ने लाइक किया। लोगों की इस प्रतिक्रिया से उत्साहित होकर सारा को इसे बेचने का विचार आया ताकि उससे मिलने वाली रकम का सही इस्तेमाल हो सके।

  4. सारा ने इस बारे में मां से बात की। मां ने इस नेकख्याली को मंजूरी दे दी। आखिरकार यह स्कार्फ 6 लाख रुपए में बिक गया।नीलामी की रकम स्टेशन पर वेटिंग करने वाले यात्रियों पर खर्च होगी

  5. सारा का कहना है कि लोगों को लगता है कि जर्मनी में ट्रेन कभी लेट नहीं होती। यह सच नहीं है। दरअसल, मैं खुश इसलिए हूं कि लोगों ने इस स्कार्फ को इतना पसंद किया। अब मां की इच्छा के मुताबिक इससे मिली रकम को बावेरियन के रेलवे स्टेशन पर वेटिंग करने वालों की मदद में इस्तेमाल किया जाएगा।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Rail Deal Scarves Made in Women in Germany

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/rail-deal-scarves-made-in-women-in-germany-01479167.html

अमेरिका समेत 15 देशों में विदेशी स्टाफ जरूरत से ज्यादा पढ़ा-लिखा, नौकरी छोड़ने के ज्यादा आसार


लंदन. विकसित देशों में ऐसे कर्मचारियों की संख्या बढ़ रही है जो अपने काम के लिहाज से जरूरत से ज्यादा पढ़े लिखे (ओवर क्वालिफाइड) हैं। इनमें विदेशी कर्मचारियों की संख्या और भी अधिक है। यह जानकारी ऑर्गेनाइजेशन फॉर इकोनॉमिक कोऑपरेशन एंड डेवलपमेंट (ओईसीडी) के सभी 15 सदस्य देशों की स्टडी से सामने आई है।

काम की जरूरत से ज्यादा पढ़े लिखे स्टाफ के फायदे हैं तो इसके कई नुकसान भी हैं। फायदा यह है कि कर्मचारी का बेहतर प्रदर्शन रहता है। लेकिन, ऐसे स्टाफ ज्यादा सैलरी की उम्मीद करते हैं। उनमें काम को लेकर नाखुशी रहती है और कंपनी छोड़ने की संभावना भी ज्यादा होती है।

  1. रिपोर्ट के मुताबिक 15 देशों में ओवरऑल एक तिहाई विदेशी स्टाफ ओवर क्वालिफाइड है। इन देशों में आने वाले विदेशियों ने अपनी योग्यता और क्षमता से कमतर नौकरी पकड़ी है। ओईसीडी देशों में सबसे ज्यादा ओवर क्वालिफाइड स्टाफ दक्षिण कोरिया में हैं। वहां 74.5% विदेशी वर्कफोर्स ओवर क्वालिफाइड है। वहीं, घरेलू स्टाफ में यह आंकड़ा 59.6% है।

  2. दक्षिण यूरोप के देशों में भी जरूरत से ज्यादा पढ़े-लिखा विदेशी स्टाफ ज्यादा है। ग्रीस, स्पेन और इटली इसके मुख्य उदाहरण हैं। ग्रीस में 60.7% विदेशी स्टाफ ओवर क्वालिफाइड है। स्पेन में 53.6 और इटली में 51.7 प्रतिशत स्टाफ ओवर क्वालिफाइड है।

  3. घरेलू और विदेशी ओवर क्वालिफाइड स्टाफ में सबसे कम अंतर अमेरिका में है। वहां 36.6% विदेशी और 35.6% घरेलू स्टाफ ओवर क्वालिफाइड है। यानी अंतर सिर्फ एक प्रतिशत का है।

  4. सबसे ज्यादा ओवर-क्वालिफाइड स्टाफ वाले 5 देश

    देश घरेलू विदेशी
    द. कोरिया 59.6% 74.5%
    यूनान 32% 60.7%
    स्पेन 36.9% 53.6%
    इटली 16.9% 51.7%
    अमेरिका 35.6% 36.6%
  5. अंडर-एंप्लॉयमेंट यानी शिक्षा के हिसाब से काम न मिलना भारत में भी बड़ी समस्या है। खुद नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने पिछले साल यह बात कही थी। उन्होंने कहा था कि यह समस्या बेरोजगारी से भी ज्यादा गंभीर है। आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया भी यह बात कह चुके हैं। आयोग ने 2017-18 से 2019-20 के एक्शन एजेंडा में भी अंडर-एंप्लॉयमेंट का जिक्र किया था।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Overseas staff is over qualified in more than 15 countries says oecd report

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/overseas-staff-is-over-qualified-in-more-than-15-countries-says-oecd-report-01479188.html

8 डॉलर का नाश्ता लेने के लिए लाइन में लगे बिल गेट्स, सोशल मीडिया पर वायरल हुई फोटो


वॉशिंगटन. दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति बिल गेट्स की सादगी के कई किस्सेहैं। माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के कर्मचारी भी कई बार गेट्स को दुनिया का सबसे बेहतरीन बॉस बता चुके हैं। अब सोशल मीडिया पर वायरल हुई एक फोटो गेट्स की सादगी के दावों को सच साबित करती है। इस फोटो में गेट्स सिएटल के एक फास्ट फूड रेस्त्रां के बाहर लाइन में खड़े हैं। वह भी महज 8 डॉलर (करीब 500 रुपए) के बर्गर-फ्राई और कोक के लिए।

  1. गेट्स की इस फोटो को उनकी कंपनी के पूर्व कर्मचारी माइक गेलोस ने फेसबुक पर शेयर किया है। इसमें लाल रंग की स्वेटर पहनेगेट्स टोपी पहने लड़के के पीछे खड़े हैं। इस फोटो को सिएटल के डिक्स ड्राइव-इन रेस्त्रां का बताया गया है। गेट्स बर्गर के शौकीन हैं और एक खास दुकान पर आज भी बर्गर खाने जाते हैं।

  2. पहली बार माइक्रोसॉफ्ट के पूर्व कर्मचारियों के पेज पर शेयर होते ही यह फोटो वायरल हो गई। फोटो के नीचे गेलोस लिखा था, “जब आप अरबों के मालिक हों और देश की सबसे बड़ी चैरिटी चलाने के बावजूद बर्गर, फ्राई और कोक के लिए एक रेस्त्रां के बाहर लाइन लगाए हों तो आप बिल्कुल हम आम लोगों जैसे ही हैं।

  3. गेलोस ने नीचे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ऊपर भी निशाना साधा। उन्होंने लिखा, “असल अमीर लोग इसी तरह बर्ताव करते हैं न कि व्हाइट हाउस में सोने की सीट पर बैठकर अपने को अमीर दिखाने की कोशिश करने वाले।”

  4. फेसबुक पर इस फोटो को अब तक 15 हजार से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं। फोटो को 12000 से ज्यादा बार शेयर भी किया गया है। गेलोस ने कहा कि बिल कभी भी अटेंशन के भूखे नहीं रहे और उनके अंदर कोई खास सेलिब्रिटी वाला गुण भी नहींहै।

  5. बिल गेट्स पहले भी इंटरव्यू में कह चुके हैं कि उन्हें खुद को खास आदमी के तौर पर दिखाने का शौक नहीं है। दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति के तौर पर वे किसी भी बड़े रेस्त्रां में खाना खा सकते हैं, लेकिन खुद गेट्स का कहना है कि एक समय के बादबड़ा-छोटा सब एक जैसा हो जाता है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      लाइन में लगे बिल गेट्स।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/microsoft-founder-bill-gates-forms-queue-in-local-restaurant-gets-viral-on-social-media-01478981.html

होटल में बर्तन धोने वाली को रविवार को भी काम पर बुलाया, 150 करोड़ रु. का मुआवजा देना होगा


वॉशिंगटन. यहां एक होटल में बर्तन धोने का काम करने वाली एक महिला को 21 मिलियन डॉलर (150 करोड़ रुपए) का मुआवजा देने का आदेश दिया गया है। होटल ने महिला को रविवार को चर्च जाने के बजाय काम पर बुलाया था। लिहाजा महिला ने धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया था।

  1. मैरी ज्यां पियरे ने कोनराड मियामी होटल में करीब 6 साल काम किया। 2015 में उसके किचन मैनेजर ने मैरी को रविवार को बुलाए जाने की मांग रखी, जिसे होटल प्रबंधन ने स्वीकार कर लिया। कोनराड होटल, हिल्टन ग्रुप का ही हिस्सा है।

  2. मैरी एक कैथोलिक मिशनरी ग्रुप सोल्जर्स ऑफ क्राइस्ट चर्च की सदस्य हैं। यह ग्रुप गरीबों की मदद करता है। मैरी ने दायर केस में दावा किया कि अपनी धार्मिक मान्यताओं के चलते वह रविवार को होटल में काम करने में असमर्थ थीं।

  3. पार्क होटेल्स एंड रिजॉर्ट्स (हिल्टन वर्ल्डवाइड के नाम से मशहूर) ने मियामी कोर्ट को बताया कि उन्हें ऐसी किसी बात की जानकारी नहीं है। प्रबंधन की तरफ से कहा गया कि आखिर मैरी को रविवार को छुट्टी क्यों चाहिए थी?

  4. शुरुआत में मैरी ने रविवार को छुट्टी लेने के एवज में अपने सहकर्मियों के साथ शिफ्ट बदलने की इजाजत दी गई। होटल प्रबंधन ने मैरी के पादरी का लिखा लेटर मांगा जिसमें स्थिति का जानकारी देने को कहा गया। हालांकि 2016 में मैरी को खराब काम करने का हवाला देकर नौकरी से निकाल दिया गया।

  5. 2017 में मैरी ने सिविल राइट्स एक्ट 1964 के उल्लंघन का हवाला देते हुए केस दायर कर दिया। नियम के तहत, नौकरी में जाति, धर्म, रंग, लिंग और राष्ट्रीयता के आधार पर भेदभाव को प्रतिबंधित किया गया है।

  6. कोर्ट ने मैरी के दावे को सही पाया और उन्हें 21 मिलियन डॉलर का मुआवजा देने का आदेश दिया। होटल प्रबंधन को मैरी को बकाया 35 हजार डॉलर और मानसिक पीड़ा झेलने के लिए 5 लाख डॉलर अतिरिक्त भी देने होंगे।

  7. फैसले पर हिल्टन के प्रवक्ता ने कहा- ज्यूरी के फैसले से मैं खुश नहीं हूं। मैरी की नौकरी के दौरान उन्हें कई तरह की सुविधाएं दी गई थीं, उनकी धार्मिक प्रतिबद्धताओं का भी ध्यान रखा गया था। समझ नहीं आता कि फैसला पेश किए गए तथ्यों के आधार पर हुआ या कानून के मुताबिक।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      सिम्बॉलिक।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/hotel-dishwasher-awarded-150-crore-rs-her-former-employer-violated-religious-rights-01478999.html

अमेरिकी-मैक्सिकंस को फ्लाइट के किराए में छूट मिल रही, डीएनए टेस्ट के जरिए मिलेगा डिस्काउंट


मैक्सिकोसिटी. अमेरिका और मैक्सिको के बीच सीमा विवाद चल रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति सीमा पर दीवार बनाने की बात कह चुके हैं। वहीं, एयरोमैक्सिको (मैक्सिको की राष्ट्रीय उड़ान सेवा) ने अमेरिका में रहने वाले मैक्सिको मूल के लोगों को उनके देश आने पर फ्लाइट के किराए में छूट देने की बात कही है। छूट देने की इस योजना को डीएनए डिस्काउंट नाम दिया गया है।

  1. 2017 में करीब 3.5 करोड़ अमेरिकी मैक्सिको गए थे। अब मैक्सिको इस संख्या को बढ़ाना चाहता है।फ्लाइट के किराए में छूट पाने के लिए अमेरिकी-मैक्सिकंस को डीएनए टेस्ट कराना होगा। छूट कितनी मिलेगी, यह उसके डीएनए में मैक्सिकन अंश के प्रतिशत पर निर्भर करेगा। मसलन किसी व्यक्ति के डीएनए में 20% मैक्सिकन अंश हैं तो उसे 20% छूट मिलेगी।

  2. एयरोमैक्सिको की तरफ से यह छूट पश्चिमी अमेरिका के राज्यों एरिजोना और उटाह के लिए दी जा रही है। माना जा रहा है कि इस प्रयास के जरिए मैक्सिको आने वाले लोगों की संख्या में इजाफा होगा।

  3. योजना लाने से पहले एयरोमैक्सिको के प्रतिनिधियों ने व्हार्टन और टेक्सास के लोगों से मैक्सिको को लेकर उनकी राय जानी। लोगों ने मैक्सिको जाने को लेकर खास इच्छा नहीं जताई। एक व्यक्ति ने कहा कि जब अपने घर में ही शांति से रहना चाहता हूं। इसके लिए दूसरे देश जाने की जरूरत क्या है।

  4. कई अन्य लोगों ने भी कहा- मैक्सिको की चीजें मसलन बरीटो और टकीला, अमेरिका में ही मिल जाती हैं, लिहाजा उनका वहां जाने का कोई इरादा नहीं है।

  5. अमेरिका में रह रहे मैक्सिकंस के डीएनए में मैक्सिकन अंश का कितना प्रतिशत है, इस बात पर भी लोगों में संशय है। कुछ लोग ऑन-कैमरा डीएनए में मैक्सिकन अंश का प्रतिशत बता रहे हैं। एक दंपति को इस बात पर आश्चर्य हुआ जिसमें पति के डीएनए में मैक्सिकन अंश पत्नी की तुलना में ज्यादा पाया गया।

  6. किसी भी राजनेता या राजनीतिक मुद्दे का नाम लेकर जिक्र नहीं किया गया है। माना जा रहा है कि इस तरह की योजना लाकर एयरोमैक्सिको अमेरिका के साथ चल रहे तनाव के बारे में जानना चाहता है।

  7. यह पहली बार नहीं है जब एयरोमैक्सिको ने किसी राजनीतिक मुद्दे का इस्तेमाल व्यावसायिक मकसद के लिए किया हो। 2016 में कंपनी ने फ्रंटेरास (बॉर्डर) नाम से ऐड जारी किया था। इसमें श्वेत-अश्वेत चेन से बंधे बच्चों को दीवार से बंधा दिखाया गया था।

  8. एयरोमैक्सिको के डीएनए डिस्काउंट को भी राजनीति से प्रेरित बताया जा रहा है। ट्रम्प मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाए जाने की बात कह चुके हैं। डीएनए डिस्काउंट को एयरलाइन की एडवरटाइजिंग एजेंसी ने जारी किया है। एयरोमैक्सिको ने इस पर फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      AeroMexico DNA Discounts programme goes viral

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/aeromexico-dna-discounts-programme-goes-viral-01478996.html

भारत ने पाक सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर कहा- गिलगित-बाल्टिस्तान हमारा अंग और रहेगा


नई दिल्ली. गिलगित-बाल्टिस्तान पर पाक सुप्रीम कोर्ट के आदेश को गलत ठहराते हुए भारत ने नसीहत दी है कि पड़ोसी मुल्क अपनी हद में रहे। वह गैरकानूनी तरीके से भारत के हिस्सों पर अपना हक न जताए। शुक्रवार को पाक के हाई कमिश्नर को तलब करके भारत ने अपना विरोध जताया।

पाक सुप्रीम कोर्ट ने गिलगित-बाल्टिस्तान के लोगों को संविधान के तहत मूलभूत अधिकार देते हुए गुरुवार को कहा कि यह इलाका पाकिस्तान की सीमा में आता है।

  1. भारत ने कहा है कि गिलगित-बाल्टिस्तान जम्मू-कश्मीर का अभिन्न अंग है। उच्चायुक्त के माध्यम से पाक को नसीहत दी गई कि गैरकानूनी तरीके से जिन इलाकों पर उसने कब्जा किया है, उन्हें तत्काल खाली करे।

  2. भारत ने पाक के उच्चायुक्त से कहा कि उनका सुप्रीम कोर्ट भारत के इलाकों में अतिक्रमण कर रहा है।

  3. पाकिस्तान की सरकार और न्यायपालिका को उन इलाकों पर आदेश जारी करने का हक नहीं जो उसने गैरकानूनी तरीके से कब्जे में ले रखे हैं।

  4. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हमारे अधिकार क्षेत्र की सीमाएं गिलगित-बालिटस्तान तक हैं। यहां के लोगों को संविधान द्वारा दिए गए मानवाधिकार दिए जाएं।

  5. पाकिस्तान की शीर्ष अदालत ने कहा था- गिलगित-बाल्टिस्तान की अदालतों को पाकिस्तान में संवैधानिक अधिकार नहीं हैं, लेकिन वहां की अदालतों के फैसले के खिलाफ लोग पाक की सुप्रीम कोर्ट में अपील कर सकते हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      India protests Pakistan apex court's order on Gilgit-Baltistan

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/india-protests-pakistan-apex-court-s-order-on-gilgit-baltistan-01479063.html

India vs Australia : मुश्किल हो जाती भारत की जीत, अगर कंगारू प्लेयर्स ने धोनी को लेकर ना की होती ये बड़ी गलती


इंटरनेशनल डेस्क. भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए तीसरे वनडे को टीम इंडिया ने 7 विकेट से जीत लिया है। धोनी प्लेयर ऑफ द सीरीज और ऑस्ट्रेलिया के छह खिलाड़ियों को पवेलियन भेजने वाले युजवेंद्र चहल मैन ऑफ द मैच चुने गए। धोनी ने नाबाद 87 रनों से भारत को जीत दिलाई। लेकिन मैच के दौरान एक वक्त ऐसा भी आया जब धोनी 'आउट' थे लेकिन ऑस्ट्रेलिया के प्लेयर्स द्वारा अपील न किए जाने पर आउट नहीं दिए गए। जब धोनी को मिला जीवनदान...

34 रन पर खेल रहे थे धोनी : लक्ष्य का पीछा करते हुए जब धोनी मैदान पर जमे थे। उसी वक्त एक बॉल धोनी के बल्ले से लगकर विकेट कीपर के पास गई। कीपर ने उसे कैच भी किया। लेकिन अपील न की जाने की वजह से धोनी को आउट नहीं दिया गया।
- उस वक्त इंडिया का स्कोर 2 विकेट पर 109 रन थे। धोनी ने आगे बढ़कर शॉट खेलने की कोशिश की। कैच लेने के बाद कैरी सिडल की तरफ देखने लगे। सिडल को भी लगा कि बैट से लगते-लगते रह गई। धोनी वहीं खड़े थे। सिडल अगली गेंद डालने निकल गए और धोनी आउट होने के बाद भी नॉट आउट रहे।

क्यों है ऐतिहासिक जीत :भारत ने ऑस्ट्रेलिया में पहली बार द्विपक्षीय वनडे सीरीज अपने नाम की है। टीम इंडिया मेलबर्न पर 11 साल बाद वनडे में जीत हासिल करने में सफल रही। उसने इस मैदान पर आखिरी बार 10 फरवरी 2008 को खेले गए वनडे में ऑस्ट्रेलिया को पांच विकेट से हराया था।

जिस नंबर पर टीम की जरूरत होगी, उस नंबर पर खेलूंगा : धोनी
मैच के बाद धोनी ने कहा, 'यहां (मेलबर्न) विकेट धीमा था। इस कारण लंबे शॉट खेलना आसान नहीं था। केदार ने बढ़िया प्रदर्शन किया। उसने अपने काम को पूरा किया। मैं किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी कर सकता हूं। टीम को जहां भी जरूरत होगी, वहां खेलूंगा। मैं 14 साल क्रिकेट खेलने के बाद यह नहीं कह सकता कि मैं छठे नंबर पर बल्लेबाजी नहीं करूंगा।'



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
India vs Australia when dhoni edged aussies not appeal

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/india-vs-australia-when-dhoni-edged-aussies-not-appeal-6010645.html

जापानी समुद्र के ऊपर अभ्यास के दौरान दो रूसी फाइटर जेट टकराए, पायलट सुरक्षित


मास्को. जापानी समुद्र के ऊपर अभ्यास के दौरान दो रूसी फाइटर जेट आपस में टकरा गए। सुखोई एसयू-34 लड़ाकू विमानों में गोला-बारूद नहीं था। रूसी रक्षा मंत्रालय ने बताया किदोनों पायलट हादसे से ऐन पहले बम वर्षक विमानों से इजेक्ट हो गए थे।

  1. हादसे के समय दोनों जेट तट से 35 किमी ऊपर थे। रूसी समय के अनुसार हादसा शुक्रवार सुबह लगभग सुबह 8 बजकर 7 मिनट पर हुआ।

  2. अभ्यास के दौरान फार ईस्टर्न एयर डिफेंस फोर्स के दोनों लड़ाकू विमानों सुखोई एसयू-34 का आपस में संपर्क हुआ था।

  3. एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि एक एएन-12 और दो एमआई हेलिकॉप्टर जेट मलबे को तलाश कर रहे हैं। बचाव दल उस इलाके में दोनों पायलटों को तलाश कर रहे हैं, जहां वे कूदे थे।

  4. एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि रूसी सरकार गहन जांच करके पता लगाएगी कि हादसे की वजह क्या थी?

  5. सुखोई एसयू-34 मीडियम रेंज का ऑलवेदर सुपरसोनिक लड़ाकू विमान है। पहली बार इसने 1990 में उड़ान भरी थी। रूस की वायुसेना में यह 2014 में शामिल किया गया था।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      2 Russian figher jets collide over Sea of Japan

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/2-russian-figher-jets-collide-over-sea-of-japan-01479040.html

दुनिया की सबसे बड़ी ग्रेट व्हाइट शार्क 'Deep Blue' से 6 साल बाद डाइवर्स का सामना, बिना डरे साथ की स्वीमिंग


वीडियो डेस्क. जिस ग्रेट व्हाइट शार्क से अच्छे से अच्छे गोताखोर भी कांपते हैं, अगर वो आपके सामने आ जाए तो क्या करेंगे? वो भी, दुनिया की सबसे बड़ी जिंदा ग्रेट व्हाइट शार्क? ऐसा हुआ है हवाई में, जहां 'डीप ब्लू' (Deep Blue) नाम की दुनिया की सबसे बड़ी ग्रेट व्हाइट शार्क दिखाई दी है, वो भी 6 साल बाद। इससे पहले डीप ब्लू 2013 में मेक्सिको में दिखी थी।

फोटोग्राफर जुआम ओलिफेंट (Juan Oliphant) और मरीन बायोलॉजिस्ट ओशियन रैमसे (Ocean Ramsey) ने सिर्फ इसे कैमरे में कैद किया है बल्कि उसके साथ डाइव की। दुनिया में अपनी तरह की इकलौती यह शार्क वजन में 2.5 टन की है, जबकि इसकी लंबाई एक औसतन कार की लंबाई (15 फिट) से कहीं ज्यादा 20 फिट है। देखिए खास वीडियो जो किम्बरले जेफरी (Kimberly Jeffries) ने शूट किया है...



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Divers find the world's largest ever recorded great white shark 2.5 ton Deep Blue in hawaii

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/divers-find-the-worlds-largest-great-white-shark-deep-blue-in-hawaii-6010607.html

टीम इंडिया ने रचा इतिहास, पहली बार ऑस्ट्रेलिया में जीती द्विपक्षीय सीरीज, धोनी ने बनाया ये रिकॉर्ड


इंटरनेशनल डेस्क. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न में आखिरी और फाइनल वनडे इंडिया ने जीत लिया है। इसके साथ ही उसने ऑस्ट्रेलिया में पहली बार द्विपक्षीय वनडे सीरीज अपने नाम की। टीम इंडिया मेलबर्न पर 11 साल बाद वनडे में जीत हासिल करने में सफल रही। उसने इस मैदान पर आखिरी बार 10 फरवरी 2008 को खेले गए वनडे में ऑस्ट्रेलिया को पांच विकेट से हराया था।

- इंडिया ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया। ऑस्ट्रेलिया (Australia) की शुरुआत अच्छी नहीं हुई। उनकी आधी टीम 123 रन पर पवेलियन लौट गई। ऑस्ट्रेलिया की पूरी टीम 230 रन पर सिमट गई।

धोनी ने 74 गेदों पर पूरा किया अर्धशतक :मैच में धोनी का शानदार प्रदर्शन रहा। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के दिए 231 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 74 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया। तीन मैचों की सीरीज में धोनी का ये तीसरा अर्धशतक था। पांच साल बाद धोनी ने ऐसा कारनामा किया। इससे पहले उन्होंने साल 2014 में न्यूजीलैंड के खिलाफ लगातार तीन अर्धशतक लगाए थे।

ऑस्ट्रेलिया में 1 हजार से ज्यादा रन बनाने वाले चौथे भारतीय बने धोनी : धोनी ने अर्धशतक के साथऑस्ट्रेलिया की जमीन पर एक हजार से ज्यादा रन बनाने वाले चौथे भारतीय बन गए हैं। अभी तकऐसा कमाल सिर्फ तीन भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर(1491 रन), मौजूदा कप्तान विराटकोहली(1154 रन) और रोहित शर्मा(1328 रन) ने ऐसा किया है।

अकेले चहल ने लिए 6 विकेट : मौजूदा वनडे सीरीज़ में चहल (Chahal) पहला मैच खेल रहे हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई मिडिल ऑर्डर की कमर तोड़कर दी। उन्होंने एक ओवर में दो विकेट झटक लिए। इसके बाद मार्कस स्टोइनिश को भी चहल ने रोहित शर्मा के हाथों कैच आउट करवा दिया। उन्होंने 6 विकेट लिए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
India win ODI series in Australia Dhoni make record

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/india-win-odi-series-in-australia-dhoni-make-record-6010614.html

Live Score Ind vs Aus : 50 ओवर भी नहीं टिक पाई ऑस्ट्रेलिया, 230 रन पर All out, लक्ष्य का पीछा करते हुए India ने 46 ओवर में बनाए 198 रन, 3 विकेट का नुकसान


इंटरनेशनल डेस्क,Ind vs Aus Live Cricket Score & Updates:इंडिया-ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे सीरीज कातीसराऔर आखिरी मैच खेला जा रहा है।इंडिया ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया। ऑस्ट्रेलिया (Australia) की शुरुआत अच्छी नहीं हुई। उनकी आधी टीम123 रन पर पवेलियन लौट गई। ऑस्ट्रेलिया की पूरी टीम 230 रन पर सिमट गई।लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही। रोहित शर्मा छठे ओवर की आखिरी गेंद पर आउट हो गए। उन्हें पीटर सिडल ने शॉम मार्श के हाथों कैच आउट कराया। दूसरा विकेट धवन के रूप में गिरा। मार्क्स स्टोइनिस ने 17वें ओवर की दूसरी गेंद पर खुद ही कैच कर लिया।

रन आउट होने से बाल-बाल बचे धोनी :



मार्क्स स्टोइनिस ने 17वें ओवर की दूसरी गेंद पर खुद ही धवन का कैच ले लिया :



अकेले चहल ने लिए 6 विकेट :मौजूदा वनडे सीरीज़ में चहल (Chahal) पहला मैच खेल रहे हैं। उन्होंनेऑस्ट्रेलियाई मिडिल ऑर्डर की कमर तोड़कर दी। उन्होंनेएक ओवर में दो विकेट झटक लिए। इसके बाद मार्कस स्टोइनिश को भी चहल ने रोहित शर्मा के हाथों कैच आउट करवा दिया। उन्होंने 6 विकेट लिए।


अपनी ही बॉल पर चहल ने लिया कैच :

8 रन पर गिरा पहला विकेट : ऑस्ट्रेलिया का पहला विकेट 8 रन पर गिरा। केरी को भुवनेश्वर ने विराट कोहली के हाथों कैच आउट कराया। दूसरा विकेट फिंच के रूप में भुवनेश्वर ने एलबीडब्ल्यू आउट कर लिया। तीसरा विकेट 100 रन पर शॉन मार्श का मिला। शॉन मार्श को चहल की गेंद पर धोनी ने स्टंप किया।

पीटर हैंड्सकॉब्ब ने सर्वाधिक 58 रन बनाए:

दोनों टीमों के लिए करो या मरो की स्थिति : तीन मैचों की सीरीज में इंडिया- ऑस्ट्रेलिया 1-1 मैच जीतकर बराबरी पर हैं। ऑस्ट्रेलिया ने सिडनी में पहला वनडे 34 रन से जीता। वहीं एडिलेड में छह विकेट से बाजी मारकर भारत ने शानदार पलटवार किया। ऐसे में आज दोनों टीमों के लिए करो या मरो की स्थिति है।ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के बाद टीम इंडिया को तुरंत न्यूजीलैंड रवाना होना है जहां अगले बुधवार से भारत-न्यूजीलैंड के बीच पांच वनडे मैचों की सीरीज की शुरुआत होगी।

भारत के पास इतिहास रचने का मौका :भारतीय टीम वनडे प्रारूप में ऑस्ट्रेलिया में सिर्फ दो सीरीज जीती है। 1985 में विश्व क्रिकेट चैंपियनशिप और 2008 में सीबी सीरीज अपने नाम करने में सफल रही है, लेकिन उसने ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर कभी भी कोई द्विपक्षीय सीरीज नहीं जीती है। इसलिए आज टीम के पास इतिहास रचने का मौका है।

विराट के पास लारा को पीछे छोड़ने का मौका : ODI मैच में सिर्फ 13 बल्लेबाज ऐसे हैं जिन्होंने10,000 रन बनाए हैं, विराट इस लिस्ट में 11वें नंबर पर हैं। अगर विराट आज के मैच में 67 रन बना लेते हैं तो वोवनडे क्रिकेट में रन बनाने के मामले में ब्रायन लारा को पीछे छोड़ देंगे। इस वक्त विराट के वनडे में कुल 10,339 रन हैं। वहीं ब्रायन लारा के नाम पर 10,405 रन हैं।

- भारत ने सिराज की जगह विजय शंकर, कुलदीपकी जगह चहल और रायुडू की जगह जाधव को टीम में लिया।

टीमें (प्‍लेइंग इलेवन) :
भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धोनी, युजवेंद्र चहल, रविंद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, विजय शंकर और मोहम्मद शमी

ऑस्ट्रेलिया : एरॉन फिंच (कप्तान), एलेक्स कैरी, उस्मान ख्वाजा, शान मार्श, पीटर हैंड्सकोंब, मार्कस स्टोइनिस, ग्लेन मैक्सवेल, पीटर सिडल,जे रिचर्डसन, बिली स्टानलेक, और एडम जाम्पा

यहां पढ़ें :चहलने किया कमाल, तोड़ दी ऑस्ट्रेलिया की कमर, विरोधियों को पूरे 50 ओवर भी नहीं टिकने दिया



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
India vs Australia 3rd ODI Live Score, Latest Updates in Hindi
India vs Australia 3rd ODI Live Score, Latest Updates in Hindi

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/india-vs-australia-3rd-odi-match-score-in-melbourne-6010374.html

ओलिम्पिक के लिए वैटिकन ने पहली बार टीम का ऐलान किया, पादरी और नन भी होंगे हिस्सा


रोम.दुनियाभर के कैथोलिक चर्च के मुख्यालय वैटिकन ने अंतरराष्ट्रीय इवेंट्स में हिस्सा लेने के लिए पहली बार अपनी टीम का ऐलान कियाहै। ट्रैक एंड फील्ड इवेंट्स के लिए बनी इस टीम का लक्ष्य ओलिम्पिक में क्वालिफाई करना है। 60 सदस्यीय दल में पादरियों और ननों को भी रखा गया है। वैटिकन अधिकारियों ने पिछले हफ्ते ही इटली की ओलिम्पिक कमेटी के साथ अलग से हिस्सा लेने के लिए एक समझौता किया है।

  1. पादरी और नन के अलावा दल में स्विस गार्ड, दवाखाना चलाने वाले और प्रोफेसर्स भी शामिल हैं। इनमें सबसे बुजुर्ग 62 साल केप्रोफेसर हैं, जो लाइब्रेरी चलाते हैं। यह दलपहले छोटी प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेगा। इसमें यूरोप के गेम ऑफ स्माल स्टेट्स और मेडिटेरेनियन गेम्स भी शामिल हैं, जहां 10 लाख से कम आबादी वाले देश ही हिस्सा लेते हैं।

    ss

  2. वैटिकन के खेल और सांस्कृतिक विभाग के अध्यक्ष और टीम प्रेसिडेंट मेलचोर होसे सांचेज ने कहा कि यह हमारा सपना है कि हम ओलिम्पिक खेलों में सभी देशों के साथ अपना झंडा फहराता देखें।

  3. इस टीम का हिस्सा बनने वाले रनर मिशेला सिप्रिएटी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि हम सिर्फ प्रतियोगी ही नहीं बनना चाहते, बल्कि इसके जरिए संस्कृति का प्रचार करना और नस्लवाद के खिलाफ लड़ाई छेड़ना चाहते हैं।

  4. इस टीम में दो अप्रवासियों को भी शामिल किया गया है, जो वैटिकन में काम नहीं करते, लेकिन टीम के साथ ट्रेनिंग और प्रतियोगिता में हिस्सा लेंगे। इसके अलावा कुछ दिव्यांग एथलीट्स को भी टीम में रखा गया है। वैटिकन जल्द ही इटली के साथ पैरालिम्पिक खेलों में खिलाड़ी भेजने के लिए समझौता कर सकता है।

  5. इटली की राष्ट्रीय ओलिम्पिक कमेटी के प्रेसिडेंट जियोवानी मलागो ने कहा कि वैटिकन की टीम का तैयार होना एक स्वातयोग्य कदम है, लेकिन हो सकता है इसकी वजह से एक दिन इटली को मेडल गंवाना पड़े।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      ओलिम्पिक में हिस्सा लेने वाली वैटिकन की टीम।
      Vatican launches official track team to compete in international athletic events

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/vatican-launches-official-track-team-to-compete-in-international-athletic-events-01478222.html

स्कर्ट पहनी युवती का आपत्तिजनक फोटो लेना अब अपराध, जीना ने इसके लिए 18 महीने अभियान चलाया


लंदन.अपस्कर्टिंग, यानी स्कर्ट पहनी युवती के आपत्तिजनक तरीके से फोटो लेना। ऐसी हरकतें यूके में युवा लड़कियों और कामकाजी महिलाओं के लिए अक्सर परेशानी का सबब बनती थीं। इसकी बड़ी वजह यह थी कि वहां कानून में इस हरकत को अपराध ही नहीं माना गया था। कोई लड़की अगर पुलिस से शिकायत करती भी तो कार्रवाई नहीं होती, लेकिन अब यूके सरकार ने ‘अपस्कर्टिंग’ को घिनौना अपराध मानकर दो साल तक जेल का कानून बनाया है।

  1. हाउस ऑफ लाॅर्ड्स नेमंगलवार को इससे जुड़ा बिल पारित कर दिया। इस बदलाव का श्रेय 26 साल की जीना मार्टिन को जाता है, जिन्होंने अपने साथ हुई घिनौनी हरकत नजरअंदाज नहीं की। उन्होंने इसके खिलाफ 18 महीने तक अभियान चलाकर करीब एक लाख लोगों को साथ जोड़ा। इसके दबाव में ही सरकार को कानून बनाकर सजा का प्रावधान करना पड़ा।

  2. जीना मार्टिन के साथ जब ये सब एक म्यूजिक फेस्टिवल के दौरान हुआ तो वो इस मामले को लेकर पुलिस के पास पहुंची। पुलिसवालों ने यह कहते हुए कार्रवाई करने से इनकार कर दिया कि ये कानूनन अपराध की श्रेणी में नहीं आता। फिर जीना ने इस मामले को फेसबुक पर डाला, जो चर्चा में आ गया। उन्हें बहुत सी लड़कियों ने अपनी आपबीती सुनाई, तब जीना को अहसास हुआ कि ये कोई छोटी समस्या नहीं है। और फिर शुरुआत हुई इसके खिलाफ अभियान चलाने की।

  3. ब्रिटेन में इसे लेकर महिलाओं ने आवाज उठाना शुरू कर दिया। क्योंकि वहां के लड़के बेशर्म होकर इस तरह की तस्वीरें खींचा करते हैं। बेशर्मी इसलिए क्योंकि वहां अपस्कर्टिंग को अपराध नहीं माना जाता। और जो चीज अपराध ही नहीं उसके लिए भला लोग क्यों शर्म करेंगे? फिर तस्वीर लेकर उसे देखकर हंसना और दोस्तों संग शेयर करना, किसी भी लड़की के लिए अपमान के घूंट पीने जैसा होता है। जीना ने यह तय कर लिया कि यह एक तरह का यौन शोषण है और वह इस शर्मनाक हरकत के लिए किसी को माफ नहीं करने वाली।

  4. जीना सोशल मीडिया पर लोगों से समर्थन मांगने लगी। हजारों लोग उसके अभियान में शामिल होते गए। एक लाख लोगों के दस्तखत लेकर उसने अभियान की शुरुआत की। संसद में चर्चा हुई। एक बार बिल अटका भी लेकिन जीना डटी रहीं। आखिर मंगलवार को जीना का संघर्ष मुकाम तक पहुंच ही गया।

    मैं भीड़ का हिस्सा नहीं बनीं। मैं चाहती थी कि अपस्कर्टिंग के लिए कानून बने और संघर्ष शुरू किया। मंजिल मुझे मिल गई। -जीना मार्टिन



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      जीना मार्टिन ने 18 महीने तक अभियान चलाकर यह लड़ाई जीती है।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/take-offensive-photo-of-woman-wearing-skirt-is-now-crime-01478781.html

कोलंबिया के बोगोटा पुलिस स्कूल में कार बम से हमला, मृतकों को संख्या बढ़कर 21 हुई


बोगोटा. कोलंबिया की राजधानी बोगोटा के पुलिस स्कूल पर हुए हमले में 21लोगों को मौत हो गई, जबकि कई गंभीर रूप से घायल हुए हैं। हमला कार बम से किया गया। एजेंसी ने प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से बताया कि बम धमाका इतना तेज था कि पास के भवनों की खिड़कियां तक उड़ गईं। जनरल सेंटेंडर पुलिस अकादमी के बाहर का दृश्य काफी भयावह था। धमाके का पता चलते ही एंबुलेंस और हेलिकाप्टर से राहत कार्य शुरू करा दिया गया। मेयर एनरिक पेनालोसा ने घटना पर दुख जताया है।

  1. एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से बताया कि नेशनल लिबरेशन आर्मी ने स्कूल पर हमला कराया है। विद्रोहियों ने पिछले कुछ समय से पुलिस पर हमले तेज किए हैं। हालांकि, राष्ट्रपति इवान डक के साथ उनकी बात चल रही है कि शांति वार्ता को फिर से कैसे शुरू कराया जाए। इसके बावजूद वे पुलिस और उससे जुड़े संस्थानों को निशाना बना रहे हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Huge explosion at Bogota police school in Colombia, 5 dead

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/huge-explosion-at-bogota-police-school-in-colombia-5-dead-01478730.html

व्हाइट हाउस पर हमले के लिए एंटी टैंक रॉकेट की खरीदना चाहता था आतंकी, गिरफ्तार


वॉशिंगटन. अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई ने व्हाइट हाउस पर हमले की साजिश रचने के आरोप में एक आतंकी को गिरफ्तार किया है। एजेंसी का कहना है कि आतंकी राष्ट्रपति पर गुरुवार को ही हमला करना चाहता था। वह इसके लिए विस्फोटक और एंटी टैंक रॉकेट खरीदने निकला था।

  1. सरकार की तरफ से अटॉर्नी ब्यूंग पाक ने बताया कि जॉर्जिया के रहने वाले हाशेर ताहेब को बुधवार को एफबीआई ने महीनेभर की जांच के बाद गिरफ्तार किया। ताहेब के पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी थी कि वह कट्टरपंथी हो चुका है।

  2. ताहेब पर आरोप है कि उसने व्हाइट हाउस पर हमले के लिए एक मुखबिर और अंडरकवर एफबीआई एजेंट को साथ रखने की कोशिश की थी। ताहेब व्हाइट हाउस के अलावा वॉशिंगटन मॉन्यूमेंट, लिंकन मेमोरियल और एक धार्मिक स्थल को निशाना बनाने वाला था।

  3. अदालत में दाखिल आरोपपत्र में बताया गया है कि ताहेबमध्यपूर्व में आतंकी संगठन आईएस के साथ जुड़ना चाहता था। उसने यह बात उस एफबीआई जासूस को बताई थी, जिसको वह हमले के दौरान साथ रखना चाहता था।

  4. इसके बाद अगले कुछ दिन उसने हमले को सफल बनाने के लिए हथियारों की जानकारी जुटाना शुरू कर दिया। उसने हथियार लाने की जिम्मेदारी एफबीआई एजेंट पर डाली। इनमें सेमी-ऑटोमैटिक बंदूकें, ग्रेनेड और एंटी-टैंक हथियार शामिल थे।

  5. अटॉर्नी के मुताबिक, ताहेब ने हमले के लिए 17 जनवरी की तारीख रखी थी। एंटी टैंक हथियार से वो व्हाइट हाउस में छेद करना चाहता था, ताकि तीनों लोग अंदर जाकर गोलीबारी कर सकें।

  6. हालांकि, पासपोर्ट खो जाने की वजह से उसने अमेरिका में ही हमले की साजिश रची। 7 दिसंबर 2018 को उसने अंडरकवर एजेंट को अपनी साजिश की जानकारी दी और व्हाइट हाउस की दक्षिणी इमारत का नक्शा समझाया। इसी जगह पर राष्ट्रपति बैठते हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      US jihadist sought to attack White House says FBI arrested

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/us-jihadist-sought-to-attack-white-house-says-fbi-arrested-01478919.html

भारत के साथ मिसाइल क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के लिए ट्रम्प प्रशासन ने शुरू की चर्चा


वॉशिंगटन. अमेरिका ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत को अपना अहम साझेदार बताया है। गुरुवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिका और भारत के रक्षा सहयोगों पर एक रिपोर्ट जारी की। इसमें कहा गया है कि दोनों देशों के बीच मिसाइल रक्षा क्षेत्र में सहयोग को लेकर चर्चा जारी है। अमेरिका की तरफ से यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई है, जब पहले ही भारत और रूसएस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम को लेकर एक-दूसरे के करीब आए हैं।

  1. पेंटागन की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि दक्षिण एशिया में कई देश अपनी खुद की मिसाइल तकनीक विकसित कर रहे हैं। इनमें बैलिस्टिक से लेकर क्रूज मिसाइल तकनीक तक शामिल है। ऐसे में अमेरिका ने भी भारत के साथ मिसाइल क्षेत्र में सहयोग पर चर्चा की है। यह हिंद प्रशांत क्षेत्र में अमेरिका की ओर से भारत को अहम साझेदार मानने की वजह से संभव हुआ है।

  2. रिपोर्ट में चीन और रूस के मिसाइल डेवलेपमेंट प्रोजेक्ट्स को अमेरिका के लिए बड़ा खतरा बताया गया है। हालांकि, इसमें यह नहीं बताया गया कि अमेरिका और भारत किस तरह मिसाइल क्षेत्र में सहयोग बढ़ाएंगे।

  3. इससे पहले अमेरिका लंबे समय तक भारत को अपनी मिसाइल तकनीक देने में आनाकानी करता रहा है। कुछ ही साल पहले पड़ोसी देशों से विवाद पैदा होने के बाद भारत ने अमेरिका से उसकेमिसाइल डिफेंस सिस्टम के सौदे कीबात की थी। खासकर ऊंचाई पर मिसाइल को खत्म करने वाली तकनीक ‘थाड़’ की।

  4. ओबामा प्रशासन ने तब अपनी तकनीक भारत के साथ साझा करने में खास रुचि नहीं दिखाई थी। इसके बाद ही भारत ने यह तकनीक खरीदने के लिए रूस से संपर्क साधा था। पिछले साल पुतिन और मोदी के बीच एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम (जो कि थाड़ तकनीक पर ही आधारित है) को खरीदने के लिए समझौता हुआ।

  5. ट्रम्प प्रशासन ने इसके बाद से ही अपनी हिंद-प्रशांत नीति में भारत को ज्यादा महत्व देना शुरू किया है। पेंटागन की रिपोर्ट में 2017 की राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति (एनएसएस) के सुझावों का भी जिक्र है। इसमें कहा गया है कि हिंद महासागर और उसके आसपास के इलाकों की सुरक्षा के लिए अमेरिका भारत के साथ सहयोग बढ़ाएगा। अमेरिका इस क्षेत्र में हर तरह से भारत के नेतृत्व का समर्थन करेगा।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      US discusses potential missile defence cooperation with India

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/us-discusses-potential-missile-defence-cooperation-with-india-01478871.html

सांबुका शहर में 81 रुपए में मिल रहा है घर, मरम्मत पर खर्च करने होंगे 12 लाख


रोम. इटली के सिसली में स्थित सांबुका शहर में करीब एक दर्जन घर सिर्फ एक यूरो (करीब 81 रुपए) की कीमत पर बिक्री के लिए उपलब्ध हैं। शर्त इतनी है कि हर घर खरीदार को 5 हजार यूरो (करीब 4 लाख रुपए) का सिक्योरिटी डिपॉजिट देना होगा।

3 साल में करवानी होगी मरम्मत

खरीदार को अगले तीन साल में घर की मरम्मत पर कम से कम 15 हजार यूरो (करीब 12 लाख रुपए) खर्च करने होंगे। मरम्मत पर यह रकम खर्च करने के बाद सिक्योरिटी डिपॉजिट वापस कर दिया जाएगा और घर का मालिकाना दे दिया जाएगा।

सांबुका के लोग बड़े शहरों में शिफ्ट हो रहे

सांबुका के प्रशासन ने यह स्कीम इसलिए शुरू की है ताकि लोगों में वहां रहने का आकर्षण बढ़े। पिछले कुछ सालों में सांबुका की आबादी काफी घट गई है। क्योंकि, लोग बड़े शहरों में जा रहे हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
buy house in italy for Euro 1: Italian towns put dozens of homes on market at Euro 1 for sale

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/buy-house-in-euro-1-italian-towns-put-dozens-of-homes-on-market-at-penny-rates-01478845.html

ड्राइविंग करते वक्त 97 साल के प्रिंस फिलिप बाल-बाल बचे, टक्कर के बाद उनकी कार पलटी


लंदन. क्वीन एलिजाबेथ II के पति और ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग प्रिंस फिलिप (97) हादसे में बाल-बाल बच गए। ईस्टर्न इंग्लैंड के सैंड्रिंघम एस्टेट में फिलिप की कार, एक अन्य वाहन से टकराकर पलट गई। फिलिप को कोई चोट नहीं आई जबकि दूसरी कार में सवार दो लोगों को मामूली चोटें आईं। अस्पताल में इलाज के बाद दोनों को छुट्टी दे दी गई।

  1. प्रिंस फिलिप के एक्सीडेंट की बकिंघम पैलेस ने पुष्टि की है। यह भी बताया गया कि उन्हें कोई चोट नहीं आई। फिलिप अक्सर अपनी कार खुद ड्राइव करते हैं। 2016 में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा और उनकी पत्नी मिशेल के ब्रिटेन आए थे। दोनों को लंच कराने ले जाने के लिए गाड़ी फिलिप ने ही ड्राइव की थी।

  2. बकिंघम पैलेस की प्रवक्ता ने यह भी बताया कि डॉक्टरों ने फिलिप का चैकअप जरूर किया लेकिन वह अस्पताल नहीं गए। वह सैंड्रिंघम स्थित प्राइवेट कंट्री रेसीडेंस में ही ठहरे हुए हैं।

  3. फिलिप मौखिक रूप से कई गलतियां कर चुके हैं लेकिन ब्रिटेन के लोगों के मन में काफी सम्मान है। फिलिप की एलिजाबेथ से 1947 में शादी हुई थी। एलिजाबेथ के लंबे शासनकाल में वह अपनी पत्नी के पक्ष में रहे।

  4. प्रिंस फिलिप 2017 में अपनी ड्यूटी से रिटायर से हो गए थे। फिलहाल वह एलिजाबेथ और राजपरिवार के अन्य सदस्यों के साथ कार्यक्रमों और चर्च में शामिल होते हैं। पिछले साल उनका कूल्हे का ऑपरेशन हुआ था।

  5. पूर्व नेवी अफसर प्रिंस फिलिप पिछले महीने क्रिसमस के दौरान खराब तबीयत के चलते चर्च सर्विस में शामिल नहीं हो पाए थे। ब्रिटेन में कार ड्राइविंग की उम्र तय करने के लिए कानून नहीं है लेकिन 70 साल की उम्र के बाद लोगों को हर तीन साल में लाइसेंस रीन्यू कराना पड़ता है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      प्रिंस फिलिप। (फाइल)
      सैंड्रिंघम एस्टेट में हुए हादसे में प्रिंस फिलिप की कार पलट गई।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/duke-of-edinburgh-prince-philip-involved-in-a-car-crash-while-driving-01478814.html

पर्यटक अब खतरों से बेपरवाह, घरों में ठहरते हैं; कम सुविधाओं में ही करते हैं गुजारा


काबुल. बीते 18 साल से अफगानिस्तान में तालिबान से जंग चल रही हैं। यहां से अमेरिका के 2 हजार सैनिक वापस जा चुके हैं। इसके बावजूद अफगानिस्तान में पर्यटकों का आना जारी है। अब टूरिस्ट होटल में रुकने की बजाय स्थानीय लोगों के घरों में रुकना पसंद करते हैं। कहां ठहरना है, इसके लिए टूरिस्ट वेबसाइट पर सर्चिंग करते हैं। इस सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म से दुनियाभर के लोग जुड़े हुए हैं।

  1. अफगानिस्तान घूमने आए नीदरलैंड के पर्यटक सायरन बार कहते हैं- किसी के घर में रहकर आप शहर के बारे में ज्यादा प्रामाणिक अनुभव हासिल करते हैं। इसमें आपके फंसने का खतरा नहीं होता। बार काबुल के एक सामान्य सुविधाओं वाले घर में रहे लेकिन उन्होंने यहां बेहतर महसूस किया।

  2. बार कहते हैं- अफगानों के साथ रहकर उनके जैसे रहन-सहन अपनाकर आप अफगानिस्तान में कहीं भी घूम सकते हैं। इसमें ज्यादा खतरा नहीं है। बार आम अफगानों की तरह सलवार-कमीज ही पहनते हैं।

  3. 1970 के दशक में यूरोप और दक्षिण एशिया के काफी लोग अफगानिस्तान आते थे। कई देशों की सरकारें लोगों को अफगानिस्तान में फिदायीन हमलावरों, अपहरणकर्ताओं, हथियारबंद डकैतों को लेकर चेतावनी जारी करती हैं लेकिन अब भी दुनिया के सबसे खतरनाक वॉर जोन में लोगों का आना बदस्तूर जारी है।

  4. अफगानिस्तान आने वाले ज्यादातर लोग सुरक्षित होटलों के बजाय सामान्य लोगों के साथ रहना पसंद करते हैं। इसके लिए काउचसर्फिंग (एक वेबसाइट) से जानकारी जुटाई जाती है। इसमें घर में आने वाले मेहमान को खाना और रहने की जगह मुहैया कराई जाती है।

  5. काउचसर्फिंग के जरिए किसी घर में जाना थोड़ा जोखिम भरा हो सकता है। क्योंकि वेबसाइट पर मेजबान का छोटा सा ही प्रोफाइल होता है और पर्यटक को उसके बारे में अंदाजा लगाकर फैसला लेना होता है।

  6. अफगानिस्तान में अपहरण एक सामान्य बात है। विदेशी इसके निशाने पर होते हैं। पर्यटकों के लिए यह जानना मुश्किल होता है कि वे जिस घर में जा रहे हैं उनके आतंकियों से रिश्तेहै या पर्यटकों को आतंकियों को सौंपकर वे पैसे तो नहीं कमानेवाले।

  7. अफगानिस्तान के पूर्व राजनयिक पर्यटकों के इस फैसले को लापरवाही करार देते हैं। उनके मुताबिक- इसमें जान भी जा सकती है। 2012 में अमेरिकन दंपति कैटलन कोलमैन और जोशुआ बॉयल को अगवा कर लिया गया था। इन्हें 2017 में रिहा किया गया। दंपति के तीन बच्चे बंधक रहने के दौरान ही हुए थे।

  8. अफगानिस्तान-सीरिया समेत कई देश घूम चुके 30 साल के नॉर्वेजियन पर्यटक ब्योन ऑगस्टाड कहते हैं- वहां के आम लोग काफी ध्यान रखते हैं। वे कई चीजों को लेकर सजग हैं। अगर आप अफगानिस्तान में रुकना चाहते हैं तो स्थानीय लोगों के घरों में रहना सुरक्षित रहेगा।

  9. बार और ऑगस्टाड मजार-ए-शरीफ में 27 साल के नासिर मजीदी के यहां एक हफ्ते रहे थे। मजीदी एक वॉटर यूटिलिटी कंपनी में टेक्नीकल एडवाइजर हैं। मजीदी के मुताबिक- पर्यटकों को घर में रखना एक शानदार अनुभव रहा। मुझे भी नए दोस्त और बाकी दुनिया को जानने का मौका मिला।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Reckless tourists couchsurfing in war-torn Afghanistan
      मजार-ए-शरीफ के घर में रुके नीदरलैंड और नॉर्वे के पर्यटक।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/reckless-tourists-couchsurfing-in-war-torn-afghanistan-01478798.html

कैंसर पीड़ित ने मौत से पहले गाया 30 साल पहले लिखा गाना, अब बना टॉप ट्रेंडिंग


वॉशिंगटन. अमेरिका के रहने वाले माइक जैकब को दो साल पहले डॉक्टरों ने लास्ट स्टेज कैंसर की जानकारी दी थी। माइक को जीने के लिए सिर्फ 9 महीनों का समय दिया गया था। हालांकि, जहां एक तरफ मौत के डर से लोग हताशा और अवसाद में चले जाते हैं। वहीं, जैकब ने आखिरी दिनों में अपनी 30 साल पुरानी इच्छा पूरी की। उन्होंने ‘स्टे’ नाम का एल्बम रिकॉर्ड किया, जो कि अब उनकी मौत के बाद एपल आई ट्यून्स में टॉप ट्रेंडिंग गानों में दूसरे स्थान पर पहुंच गया है।

  1. जैकब की पिछले साल 31 दिसंबर को मौत हुई है। पिछले 18 दिनों में उनके गाने की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए माना जा रहा है कि जल्द ही यह एपल के टॉप ट्रेंडिंग सॉन्ग्समें पहले स्थान पर पहुंच जाएगा।

  2. जैकब के बेटे जॉश बताते हैं कि उनके पिता को गाने लिखने का काफी शौक था। वे अपने चाहने वालों के लिए गाने लिखा करते थे। हालांकि, उन्होंने इसे कभी गंभीरता से नहीं लिया और हमेशा मजे के लिए ही गाया।

  3. जॉश के मुताबिक, कैंसर का पता चलने के बाद उन्होंने ही अपने पिता से एक गाना रिकॉर्ड करने के लिए कहा। जैकब ने 30 साल पहले अपनी गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप होने के बाद ‘स्टे’ गाना लिखा था। इसमें उन्होंने रिश्ते खत्म होने के बाद के दुख को जाहिर किया है।

  4. जॉश जो कि खुद एक फिल्ममेकर हैं ने बताया कि पहले उनके पिता ने गाना रिकॉर्ड करने में आनाकानी की, लेकिन बाद में थोड़ा मनाने पर वे इसके लिए तैयार हो गए। उन्होंने पिता की रिकॉर्डिंग का एक वीडियो भी शूट किया था। जॉश कुछ ही दिनों पहले अपने पिता का गाना रेडियो पर प्रसारित करवाने के लिए एक स्टूडियो भी गए थे। इसके अलावा उन्होंने कई और चैनलों से भी गाने को टेलीकास्ट करने की अपील की थी।

  5. जैकब को डॉक्टरों ने लास्ट स्टेज कैंसर के बाद जीने के लिए सिर्फ 9 महीने ही दिए थे। हालांकि, उन्होंने गाने की रिकॉर्डिंग सिर्फ 6 महीने में ही पूरी कर ली। जॉश के मुताबिक, इस गाने ने उनके अंदर एक नई ऊर्जा भर दी। साथ ही जीने के लिए उनकी ललक को और मजबूत भी किया।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Father who recorded Song after Cancer detection gets it on top trending list
      अपने पिता जैकब्स के साथ बैठे जॉश (बाएं)

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/father-who-recorded-song-after-cancer-detection-gets-it-on-top-trending-list-01478618.html

Shocking Video: कार में शूट कर रहे थे वीडियो, हंस-हंसकर कर कर रहे थे मौज-मस्ती लेकिन अचानक लगा तेज झटका और छा गया अंधेरा, मोबाइल में कैद हो गई मौत


वीडियो डेस्क। सोशल मीडिया पर आए दिन कुछ न कुछ वायरल होता रहता है। ऐसा ही एक वीडियो वायरल हो रहा है। ये वीडियो पाकिस्तान का बताया जा रहा है। हालांकि ये वीडियो पुराना है लेकिन होश उड़ा देने वाला है। इसमें कुछ लोग कार के अंदर वीडियो शूट कर रहे हैं। कार में गाने बज रहे हैं और सभी दोस्त एंज्वाय कर रहे हैं। अचानक आवाज होती है और तेज झटके के साथ कुछ दिखाई देना बंद हो जाता है। कुछ ही देर में वीडियो में लाश दिखाई देने लग जाती है। दरअसल ये एक्सीडेंट का वीडियेा है जो मोबाइल में कैद हो जाता है। वीडियो देखकर लग रहा है कि इसमें दो लोगों की मौत भी हो जाती है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Watch: video before death, Pakistan video viral

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/video-before-death-goes-viral-of-pakistan-6010287.html

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा एक वीडियो, भीड़भाड़ वाली सड़क पर घुटने के बल चलते दिखे लोग, आगे-आगे चल रहा था एक शख्स


बीजिंग. चीन की एक कंपनी कर्मचारियों के प्रति अपने रवैये को लेकर चर्चा में है। कंपनी ने सालाना टारगेट न पूरा करने पर कर्मचारियों को सरेआम सड़क पर घुटनों के बल चलवाया। इस सजा का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसके सोशल मीडिया पर वायरल होते ही इस मामले में पुलिस को दखल देना पड़ा। घटना के बाद से कंपनी लगातार बंद बताई जा रही है।

स्टाफ को घुटनों के बल चलाया
- स्टाफ को दी गई सजा का जो वीडियो सामने आया है, उसमें भीड़-भाड़ वाली रोड पर वर्कर्स घुटनों के बल चलते नजर आ रहे हैं। वहीं, एक शख्स झंडा लिए उनके साथ चलते दिख रहा है।
- वहीं, इस वीडियो में सड़क के किनारे चल रहे पैदल लोग ये सब देखकर हैरान नजर आ रहे हैं। इन्हीं में से किसी ने इस घटना का वीडियो बनाकर शेयर भी किया है।
- ये वीडियो ऑनलाइन शेयर होते ही वायरल हो गया। कई यूजर्स ने इस घटना के लिए कंपनी को कोसते हुए कहा, ''मुझे लगता है कि अपने वर्कर्स की गरिमा को रौंदते वाली ये कंपनी बंद हो जाएंगी।''
- वहीं, कुछ लोगों ने वीडियो देखने के बाद सजा पाने वाले स्टाफ को निशाना बनाया। लोगों का कहना है कि चुपचाप ऐसा बर्ताव मंजूर नहीं करना चाहिए। आखिर कोई पैसे के लिए अपनी गरिमा का त्याग कैसे कर सकते हैं।
- वीडियो के वायरल होने का फायदा ये हुआ कि बात पुलिस तक पहुंची और उसने इस मामले में दखल दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस घटना के बाद से कंपनी बंद बताई जा रही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
China company forces employees to crawl on road as punishment
China company forces employees to crawl on road as punishment
China company forces employees to crawl on road as punishment

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/china-company-forces-employees-to-crawl-on-road-as-punishment-6010153.html

ट्रम्प के इस्तीफे की खबर के साथ देशभर में बिकीं वॉशिंगटन पोस्ट अखबार की नकली प्रतियां


वॉशिंगटन. अमेरिका में बुधवार सुबह लोगों को वॉशिंगटन पोस्ट अखबार की नकली प्रतियां मुफ्त में बांटी गईं। इसमें डोनाल्ड ट्रम्प के इस्तीफे की खबर फ्रंट पेज पर छपी थी। हालांकि, इससे पहले कि लोग समझ पाते कि यह फेक न्यूज फैलाने वाले लोगों का प्रपोगंडा है, यह खबर आग की तरह पूरे अमेरिका में फैल गई। सोशल मीडिया में यह खबर पेपर की फोटो के साथ तेजी से सर्कुलेट होने लगी।

  1. इस खबर के वायरल होने के बाद वॉशिंगटन पोस्ट ने खुद सोशल मीडिया के जरिए जानकारी दी कि कुछ लोगों ने फर्जी खबरें फैलाने के लिए अखबार की नकली प्रतियां छापकर बांटी हैं। अखबार ने लिखा, “हमें कुछ वेबसाइटों के बारे में पता है जो हमारी नकल करती हैं, लेकिन वह हमसे नहीं जुड़ी हैं। हम इस मामले की जांच कर रहे हैं।”

  2. अखबार की खास बात यह थी कि यह हर तरह से वॉशिंगटन पोस्ट जैसा ही था। डिजाइन और साइज में भी इसे बिल्कुल कॉपी बनाया गया। इसके फ्रंट पेज की हेडलाइन 6 कॉलम में थी और इसमें बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा था- अनप्रेसिडेंटेड यानी ‘राष्ट्रपति पद से अपदस्थ।’ इसमें राष्ट्रपति ट्रम्प की गुस्से में सिर झुकाए फोटो भी लगी थी। साथ ही नीचे लिखा था- ट्रम्प के जल्दबाजी में व्हाइट हाउस छोड़ने के साथ इमरजेंसी का अंत।

  3. अखबार में बाईं तरफ लिखा था- ट्रम्प का दौर खत्म होने के साथ ही दुनियाभर में जश्न का माहौल। हालांकि, इसमें तारीफ 1 मई 2019 पड़ी थी, जिसे कुछ ने तो शुरुआत में ही पकड़ लिया, लेकिन बाकी इसे नहीं समझ पाए। चौंकाने वाली बात यह है कि अखबार की नकली प्रतियां व्हाइट हाउस के पास भी मुफ्त में बांटी जा रही थीं।

  4. सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में एक महिला को व्हाइट हाउस के बाहर अखबार की नकली प्रतियां बांटते देखा जा सकता है। वह लोगों से इसे वॉशिंगटन पोस्ट का स्पेशल एडिशन बताते हुए मुफ्त में देती है। उसके पास एक बड़े प्लास्टिक बैग में अखबार भरे थे। वह अखबार को रास्ते से गुजरने वाले हर व्यक्ति को दे रही थी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      वॉशिंगटन में बुधवार को बिकीं अखबार की नकली प्रतियां।
      Fake copies of Washington Post Newspaper distributed for free in US
      नकली प्रतियां व्हाइट हाउस के आसपास के इलाके में भी बाटी गईं।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/fake-copies-of-washington-post-newspaper-distributed-for-free-in-us-01478520.html

पाकिस्तानी रिपोर्टर की बेवकूफी कैमरे में कैद, दिखा रहा था पहाड़ी रास्ते पर ठंड का असर लेकिन पीछे से हो गया हादसा



वीडियो डेस्क। पाकिस्तान के बलूचिस्तान का वीडियो इंटरनेटर पर हो रह है वायरल। वीडियो में एक शख्स को दिखाया गया है जो पहाड़ी रास्ते पर रिपोर्टिंग कर रहा है। बाकायदा शख्स मौसम की खराबी के बारे मे बता रहा है और दिखा रहा है कि सड़क पर कितनी फिसलन है। जैसे ही कैमरा सड़क की ओर जाता है अचानक एक बाइक सवार फिसल जाता है। रिपोर्टर उस हादसे को भी कवर करते हुए बात करने लगता है। चूंकि ये रिपोर्टर बीच सड़क पर खड़ा रहता है इस वजह से ही बाइक सवार ब्रेक लगाने के चक्कर में फिसल जाते हैं। गिरने के बाद बाइक सवार इस शख्स की ओर इशारा करके कुछ बोलता भी है लेकिन कैमरा देखकर वह रुक जाता है।




Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Watch: pakistani reporter funny reporting in balochistan hill site

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/viral-video-pakistani-reporter-in-balochistan-6010002.html

होटल ने 123 रोबोट नौकरी से निकाले, लोगों को शिकायत थी- खर्राटे लेते ही जगा देते हैं


टोक्यो. जापान के हेन ना दुनिया का पहला होटल है जहां लोगों की सुविधा के लिए 243रोबोट रखे गए थे। इसका नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी दर्ज है। लेकिन लोगों को हो रही शिकायत के चलते करीब 123 रोबोट को निकाल दिया गया है। यहां आने वाले गेस्ट को शिकायत थी कि खर्राटे लेते ही रोबोट उन्हें जगा देते हैं। गेस्ट के साथ ऐसा रात में कई बार होता है। अगर रोबोट रिसेप्शन जैसी जगह बैठा हो तो वह आपके सामान्य सवालों का भी जवाब देने में नाकाम था।

  1. कर्मचारी ओवरटाइम में बिगड़े रोबोट्स को ठीक करने का काम करते थे। एक स्टाफ मेंबर ने बताया कि रोबोट के चलते हमारा काम आसान हो गया है क्योंकि गेस्ट की समस्याएं सुनने हमें नहीं जाना पड़ता।

  2. 2015 में यह होटल जापान के सासेबो में खोला गया था। इसे काफी शोहरत भी मिली थी। शुरुआत में होटल में 80 रोबोट रखे गए थे। बाद में इनकी संख्या तिगुनी हो गई।

  3. वॉल स्ट्रीट जर्नल के मुताबिक- होटल में जल्द ही समस्याएं भी शुरू हो गईं। गेस्ट ने बताया कि उनके होटल में रुकने के दौरान आधे से ज्यादा रोबोट डांसर काम नहीं कर रहे थे। वहीं, रूम में मदद के लिए तैनात किए गए रोबोट (चुरी) सामान्य बातचीत और लाइट-एसी ऑपरेट करने में नाकाम रहे।

  4. अतसुशी निशीगुची 2017 में होटल में रुके थे। उन्होंने बताया कि चुरी से परेशान होकर उन्होंने रिसेप्शन पर फोन लगाने का सोचा लेकिन उनके कमरे में फोन ही नहीं था। इसके बाद उन्होंने मोबाइल से फोन कर कर्मचारी को बुलाया।

  5. एक अन्य गेस्ट योशीहिसा इशीकावा ने बताया कि चुरी ने उन्हें कई बार नींद से जगाया और पूछा- आपने जो कहा, एक बार फिर से कहेंगे? इशीकावा को सुबह यह बात समझ आई कि खर्राटे की आवाज से रोबोट का ऑटो सेंसर काम करने लगता था।

  6. मैनेजरों ने बताया कि चुरी की खराब रिपोर्ट के चलते पूरे होटल से उन्हें हटा दिया गया है। रिसेप्शन से भी रोबोट हटा दिए गए हैं क्योंकि वे गेस्ट को फ्लाइट शेड्यूल या अन्य जानकारियां मुहैया नहीं करा पा रहे थे। सामान उठाने वाले दो रोबोट्स को भी हटा दिया गया है क्योंकि वे 100 में से 24 कमरों में ही जा पा रहे थे।

  7. होटल के मालिक हिदेओ सवादा का कहना है- रोबोट होटल बनाने का आइडिया मेरा नहीं था, हालांकि अब इसमें कुछ सुधार किए जाने की जरूरत है। जब आप रोबोट का इस्तेमाल करते हैं तो महसूस करते हैं कि इस जगह पर उसकी जरूरत नहीं थी या इससे लोगों को परेशानी होती है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      World's first robot hotel Guests complained their room assistants
      World's first robot hotel Guests complained their room assistants

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/world-s-first-robot-hotel-guests-complained-their-room-assistants-01478254.html

ब्रेग्जिट डील फेल होने के बाद संसद में थेरेसा मे अविश्वास प्रस्ताव में जीतीं, 19 वोटों से बचाई सरकार


लंदन.ब्रिटेन में ब्रेग्जिट डील गिरने के कारण संकट में आई थेरेसा मे सरकार को बुधवार देर रात बड़ी राहत मिली। सरकार के खिलाफ ब्रिटिश संसद में लाया गया अविश्वास प्रस्ताव देर रात 1:30 बजे 19 मतों से गिर गया। प्रधानमंत्री थेरेसा की ब्रेग्जिट डील खारिज होने के बाद विपक्ष ने सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था। इस पर वोटिंग हुई। अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में 306 वोट और विरोध में 325 वोट पड़े। हाउस ऑफ कॉमन्स में 650 सदस्य हैं।

  1. मंगलवार देर रात ब्रेग्जिट डील यानी यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन के अलग होने की थेरेसा की योजना को संसद ने भारी बहुमत से खारिज कर दिया था। थेरेसा ने खुद डील के समर्थन में सभी सांसदों से वोट की अपील की थी। ब्रेग्जिट डील के विरोध में 432 और पक्ष में सिर्फ 202 सांसदों ने वोट दिया था। यानी 230 मतों से सरकार की हार हुई।

  2. थेरेसा की कंजरवेटिव पार्टी के 118 सांसदों ने भी डील के खिलाफ वोट किया। ब्रिटेन की संसद में किसी बिल या मसौदे पर ये किसी भी मौजूदा सरकार की सबसे बड़ी हार थी। ब्रिटेन के 311 साल के संसदीय इतिहास में कभी भी कोई सरकार इतने बड़े अंतर से नहीं हारी।

  3. अविश्वास प्रस्ताव खारिज होने के बाद थेरेसा मे ने कहा कि ब्रिटेन की जनता सेकिए हुए वादेनिभाएंगी और विपक्षी नेताओं से इस मसले पर आगे की रणनीति तय करने के लिए बातचीत करेंगी। हालांकि लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कॉर्बिन ने थेरेसा की अपील को खारिज कर दिया।

  4. थेरेसा ने ईयू के साथ ट्रेड, कानून, सीमा आदि मसलों से जुड़े समझौतेकिए थे। इनकी मंजूरी के लिए ही उन्होंने संसद में यह मसौदा पेश किया था।

  5. हार्ड ब्रेग्जिट : थेरेसा मे सरकार अब बच गई है, ऐसे में पीएम ब्रेग्जिट को मूल स्वरूप में ही लागू कर सकती है, जिसे ‘हार्ड ब्रेग्जिट’ कहा जा रहा है। यानी 29 मार्च को ब्रिटेन ईयू से अलग हो जाएगा। फिर दोनों में कैसा संबंध रहता है, इसे लेकर एक नए समझौतेपर चर्चा शुरू करेंगे।

  6. संसद में चर्चा : सरकार संसद में ईयू के साथ नए सिरे से चर्चा का सुझाव रख सकती है। पर इसमें समय लगेगा। 29 मार्च की समयसीमा भी बढ़ानी पड़ सकती है। पर इसके लिए ब्रिटेन को ईयू के पास नए सुझाव आग्रह भेजना होगा। सरकार को एग्जिट-डे की परिभाषा बदलनी होगी।

  7. आम चुनाव : थेरेसा मे विश्वास मत हासिल करने के बाद ब्रेग्जिट पर गतिरोध खत्म करने के लिए आम चुनाव का भी फैसला ले सकती हैं। हालांकि समय से पहले चुनाव के लिए थेरेसा को हाउस ऑफ कॉमन्स में दो-तिहाई सांसदों का समर्थन हासिल करना होगा।

  8. फिर जनमत संग्रह : सरकार ब्रेग्जिट पर दोबारा जनमत संग्रह करवाने का फैसला भी कर सकती है। इसके लिए भी उन्हें संसद की अनुमति लेनी होगी। हालांकि जनमत संग्रह तत्काल नहीं हो सकता। इसके लिए जरूरी प्रक्रिया पूरा करने में जितना समय चाहिए, वह अब नहीं बचा है।

  9. 23 जून, 2016: जनमत संग्रह में 52% जनता ने ईयू से अलग होने के पक्ष में वोट किया
    जनमत संग्रह में ब्रिटेन में यूरोपीय यूनियन (ईयू) से अलग होने को लेकर वोटिंग हुई। इसमें 52% जनता ने पक्ष में वोट किया। अगले ही दिन पीएम डेविड कैमरन ने इस्तीफा दिया।

  10. कंजरवेटिव पार्टी की थेरेसा मे, डेविड कैमरन के बाद ब्रिटेन की 99वीं प्रधानमंत्री बनीं। उन्होंने दो साल में ब्रेग्जिट प्रक्रिया को पूरा करने के वादे के साथ शपथ ली।

  11. सरकार ने ईयू की सदस्यता छोड़ने के लिए आर्टिकल 50 के लागू किया। इसके तहत 2 साल के अंदर ब्रिटेन के पास समझौते के साथ या बिना समझौते के ईयू छोड़ना होगा।

  12. जून में आम चुनाव हुए, इसमें थेरेसा मे की कंजरवेटिव पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला। 26 जून 2018 को संसद में ब्रिटेन के ईयू से अलग होने का बिल पेश हुआ।

  13. 8 जुलाई को ब्रेग्जिट मंत्री डेविड डेविस ने इस्तीफा दिया। 14 नवंबर को थेरेसा सरकार ब्रेक्जिट डिवोर्स सेटलमेंट पर राजी हुई। 15 नवंबर को 4 अन्य मंत्रियों ने इस्तीफा दिया।

  14. साल प्रधानमंत्री बिल/मसौदा मत से हार
    2019 थेरेसा मे ब्रेग्जिट डील 230
    1924 मैकडोनाल्ड कैंपबेल केस 166
    1924 मैकडोनाल्ड कैंपबेल केस 161
    1924 मैकडोनाल्ड हाउसिंग बिल 140
    1979 जिम कैलाघन फायरआर्म्स 89

    (ब्रिटिश संसद हाउस ऑफ कॉमन्स में 650 सदस्य हैं। सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी के 317 सांसद हैं)





    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      after failed brexit deal british pm theresa may won no confidence motion
      मंगलवार देर रात यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन के अलग होने की थेरेसा की योजना को संसद ने भारी बहुमत से खारिज कर दिया था।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/after-failed-brexit-deal-british-pm-theresa-may-won-no-confidence-motion-01478400.html

महिला ने 110 साल पुराने पेड़ को बचाने के लिए उसके अंदर बनाई लाइब्रेरी


वॉशिंगटन. अमेरिका में लिटिल फ्री लाइब्रेरी का चलने तेजी से बढ़ता जा रहा है। इनमें लोग मुफ्त में किताब उधार लेने के साथ उसे वापस भी कर सकते हैं। हालांकि, इदाहो में एक 110 साल पुराने पेड़ के अंदर बनी लाइब्रेरी लोगों काध्यान खींच रही है। दरअसल, इसे शुरू करने वाली शराली हॉवर्ड का पहला और मुख्य लक्ष्य पेड़ को कटने से बचाना ही था। इसलिए उन्होंने अपनी डिजायनिंग स्किल्स का इस्तेमाल करते हुए पेड़ को पूरी तरह से बदल दिया।

हॉवर्ड के मुताबिक, कॉटनवुड का पेड़ आमतौर पर 50-60 साल तक हरा-भरा रहता है। हालांकि, उनके घर के पास लगा इस प्रजाति का पेड़दोगुने समय तक जिंदा रहा। कुछ समय पहले यह सूख गया और इसकीटहनियां गिरने लगीं। ये राहगीरों के लिए मुश्किल पैदा कर रही थीं।इसकी वजह से स्थानीय प्रशासन ने इसे काटने का फैसला किया था।

लाइब्रेरी में शीशे का दरवाजा भीलगाया

ऐसे में हॉवर्ड ने पेड़ को बचाने के लिए उसे अंदर से खोखला कर दिया और बीच में जगह बनाकर एक लाइब्रेरी के तौर पर तैयार किया। हॉवर्ड ने इसके अंदर ही नहीं बल्कि बाहर की डिजायनिंग पर भी काफी काम किया। जैसे उन्होंने इसकी छत को ढलान वाला रूप दिया। साथ ही इसमें शीशे का दरवाजा और रंगबिंरंगी लाइटिंग लगाकर पेड़ का रूप पूरी तरह बदल दिया। लाइब्रेरी के बाहर उन्होंने साइनबोर्ड के तौर पर लकड़ी की नक्काशी कर उन्हें किताबों का रूप दिया है।

क्या है लिटिल फ्री लाइब्रेरी स्कीम?
हॉवर्ड कहती हैं कि वह लिटिल फ्री लाइब्रेरी स्कीम से काफी प्रभावित थीं। इसके तहत कोई भी व्यक्ति लाइब्रेरी में अपनी किताबें दान दे सकता है और दूसरे किसी व्यक्ति को इन्हें पढ़ने के लिए पैसे भी नहीं चुकाने पड़ते। दुनियाभर के 100 से भी ज्यादा देशों में करीब 75 हजार ऐसी लाइब्रेरी लोगों के लिए उपलब्ध हैं। फेसबुक पर हॉवर्ड की लिटिल फ्री लाइब्रेरी की फोटो शेयर होने के बाद से इसे अब तक एक लाख से भी ज्यादा बार शेयर किया जा चुका है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Woman saves 110 year-old condemned tree, converting it into stunning library
Woman saves 110 year-old condemned tree, converting it into stunning library
Woman saves 110 year-old condemned tree, converting it into stunning library

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/woman-saves-110-year-old-condemned-tree-converting-it-into-stunning-library-01478226.html

बेटी से मिलने ब्रिटेन गए थे पिता, पोलैंड लौटने के लिए गलत फ्लाइट में बैठकर माल्टा पहुंच गए


वारसॉ. यहां रहने वाले 75 साल के पॉवेल लॉरेनुक अपनी बेटी से मिलने ब्रिटेन पहुंचे थे। पोलैंड लौटने के लिए उनका लीड्स-ब्रेडफोर्ड एयरपोर्ट से जीडांस्क (1668 किमी) का टिकट बुक था। लेकिन गलती से वह माल्टा (लंदन से दूरी करीब 2900 किमी) पहुंच गए।

  1. पॉवेल रिटायर्ड इंजीनियर हैं और उन्हें पोलिश के अलावा कोई भाषा नहीं आती। गलती से वे लीड्स-ब्रेडफोर्ड एयरपोर्ट से माल्टा जाने वाले विमान में सवार हो गए।

  2. माल्टा पहुंचने पर पॉवेल सकते में आ गए। उन्होंने एक टैक्सी वाले को टूरिस्ट इन्फॉर्मेशन सेंटर पर चलने को कहा। टैक्सी वाले ने यह कहते हुए माफी मांगी कि उसे पोलिश नहीं आती।

  3. पॉवेल की परेशानी तब और बढ़ गई जब उन्हें पता लगा कि उनके पास पैसे कम बचे हैं, उनका फोन काम नहीं कर रहा और वहां की भाषा नहीं समझ सकते। तभी एक पोलिश समझने वाली महिला उनके पास आई और परेशानी पूछी। महिला ने पॉवेल की बात उनकी बेटी से कराई और पोलैंड की फ्लाइट में टिकट बुक कराया।

  4. पोलैंड की फ्लाइट में बैठने से पहले पॉवेल ने टिकट फ्लाइट स्टाफ को टिकट दिखाया और तस्दीक की कि विमान पोलैंड ही जा रहा है। पॉवेल की बेटी लुसाइना ने बताया- उस वक्त मेरे पास फोन आया था। मैंने देखा कि कॉल माल्टा से था। मुझे उसी वक्त लगा कि कहीं कुछ गलत हुआ है। फिर मैंने देखा कि कोई वॉट्सऐप पर मैसेज लिख रहा है। मैं रोने लगी और डर गई। पापा एक दूसरे देश में थे। मैं समझ ही नहीं पा रही थी कि वो वहां कैसे पहुंचे।

  5. लुसाइना ने यह भी कहा- मैं उन्हें लेकर चिंतित थी। मुझे यही चिंता थी कि अगर कोई उनकी मदद नहीं करेगा तो उनका वापस लौटना मुश्किल होगा। क्योंकि उनके पास पैसे नहीं थे, फोन काम नहीं कर रहा था। सही मायने में वह अकेले थे। लेकिन सबकुछ ठीक हो गया।

  6. लुसाइना के मुताबिक- पापा ने कहा कि वह अगले साल मेरे पास लंदन नहीं आना चाहते। अब उनकी फ्लाइट में बैठने की इच्छा नहीं है। माल्टा में पॉवेल की मदद करने वाली कैमिला निकोलस ने बताया- वह काफी नर्वस थे। उनसे बातचीत करना मुश्किल हो रहा था क्योंकि उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      माल्टा। -प्रतीकात्मक चित्र।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/a-man-visiting-his-family-in-the-uk-was-put-on-the-wrong-plane-to-fly-back-home-to-poland-01478264.html

शटडाउन से प्रभावित कर्मचारियों को मुफ्त भोजन खिला रहा सिख समुदाय


हस्टन. अमेरिका में टेक्सास के सैन एंटोनियो में सिख समुदाय ने सरकारी कर्मचारियों के लिए मुफ्त भोजन की पेशकश की है। ये कर्मचारी अमेरिकी सरकार के शटडाउन के चलते बगैर वेतन के घर बैठे हुए हैं। सभी कर्मचारियों को सिख समुदाय ने 11 जनवरी से तीन दिनों तक शाकाहारी भोजन कराया है। सिख समुदाय के कार्यकर्ताओं ने गुरुद्वारे में मेनू तैयार किया, जिसमें दाल, सब्जियां, चावल और मैक्सिकन ब्रेड शामिल रहे। सरकारी शटडाउन चौथे सप्ताह में प्रवेश कर चुका है। इसके चलते अब तक 8 लाख से ज्यादा कर्मचारी बगैर वेतन के काम से बाहर कर दिए गए।

  1. शुक्रवार को एक फेसबुक पोस्ट कर शटडाउन से प्रभावित कर्मचारी और उनके परिवार को छुट्टी के दौरान भोजन के लिए सिख सेंटर में आमंत्रित किया गया।सिख समुदाय की इस मुहिम ने कई स्वयंसेवकों को भी आकर्षित किया। कई लोगों ने गुरुद्वारे में आने वाले लोगों को खाना खिलानेऔर खाना पकाने की पेशकश की।

  2. सैन एंटोनियो सिख सेंटर के अध्यक्ष बलविंदर ढिल्लन ने कहा, 'सिख समुदाय उन सभी कर्मचारियों का समर्थन करने के लिए है, जिनको अब तक वेतन नहीं मिला। सिख समुदाय उनकी राष्ट्रभक्ति और सेवाओं की सराहना करता है। साथ ही उन पुरुषों और महिलाओं के प्रति आभार व्यक्त करता है।'ये सिख सेंटर सैन एंटोनियो का सबसे पुराना गुरुद्वारा है। इसे 2001 में स्थापित किया गया था।

  3. ये शटडाउन 22 दिसंबर को उस वक्त शुरू हुआ जब राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मैक्सिको से लगी सीमा पर दीवार बनाने के लिए करीब 40 हजार करोड़ रुपए का बजट मांगा। लेकिन, विपक्षी दल डेमोक्रेटिक पार्टी ने इसका विरोध किया। इसके बाद करीब 4 लाख कर्मचारियों को जबरन छुट्‌टी पर भेज दिया गया। साथ ही आपात सेवा से जुड़े इतने ही लोगों को बिना वेतन काम करना पड़ रहा है। यह शटडाउन अमेरिका के इतिहास का सबसे बड़ा है। इससे पहले 1995 में भी 16 दिसंबर से 6 जनवरी 1996 के बीच 21 दिन तक सरकारी काम ठप रहा था।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      सैन एंटोनियो का सबसे पुराना गुरुद्वारा।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/texas-sikh-community-feeds-federal-employees-affected-by-america-govt-shutdown-01478328.html

SHARE THIS


Subscribe via Email


Explore Jobs/Opportunities
Jobs Jobs / Opportunities / Career
Haryana Jobs / Opportunities / Career
Bank Jobs / Opportunities / Career
Delhi Jobs / Opportunities / Career
Sarkari Naukri Jobs / Opportunities / Career
Uttar Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Himachal Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Rajasthan Jobs / Opportunities / Career
Scholorship Jobs / Opportunities / Career
Engineering Jobs / Opportunities / Career
Railway Jobs / Opportunities / Career
Defense & Police Jobs / Opportunities / Career
Gujarat Jobs / Opportunities / Career
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Bihar Jobs / Opportunities / Career
Uttarakhand Jobs / Opportunities / Career
Punjab Jobs / Opportunities / Career
Admission Jobs / Opportunities / Career
Jammu and Kashmir Jobs / Opportunities / Career
Madhya Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Education
Government Schemes
News
Career
Admit Card
Bihar
State Government Schemes
Study Material
Technology
DATA
Public Utility Forms
Travel
Sample Question Paper
Exam Result
Employment News
Scholorship
Syllabus
Festival
Business
Wallpaper
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com